हाग्गै

हाग्गै

 

अध्याय 1

हाग्गै लोगों को घर बनाने के लिए उकसाता है।

1 राजा दारा के दूसरे वर्ष के छठे महीने के पहिले दिन को; हाग्गै भविष्यद्वक्ता के द्वारा यहूदा के हाकिम शालतीएल के पुत्र जरूब्बाबेल और महायाजक योसेदक के पुत्र यहोशू के पास यहोवा का यह वचन पहुंचा।

2 सेनाओं का यहोवा यों कहता है, ये लोग कहते हैं, वह समय नहीं, जब यहोवा का भवन बनाया जाए।

3 तब हाग्गै भविष्यद्वक्ता के द्वारा यहोवा का यह वचन पहुंचा, कि,

4 क्या यह समय आ गया है, कि हे अपने छत वाले घरों में रहना, और यह घर उजाड़ पड़ा है?

5 इसलिथे अब सेनाओं का यहोवा योंकहता है; अपने तरीकों पर विचार करें।

6 तुम ने बहुत बोया, और थोड़ा ही लाओ; तुम खाते हो, परन्तु तुम्हारे पास पर्याप्त नहीं है; तुम पीते हो, परन्तु पीते नहीं हो; तुम तो पहिनते हो, परन्तु कोई गरमी नहीं; और जो मजदूरी कमाता है, वह मजदूरी कमाता है, कि उसको छेदोंवाले बोरे में भर दे।

7 सेनाओं का यहोवा यों कहता है; अपने तरीकों पर विचार करें।

8 और पहाड़ पर चढ़कर लकड़ी ले आ, और भवन बना; और मैं उस से प्रसन्न रहूंगा, और मेरी महिमा होगी, यहोवा की यही वाणी है।

9 तुम ने बहुत ढूंढ़ा, और देखो, वह बहुत कम हो गया; और जब तुम उसे घर ले आए, तो मैं ने उस पर वार किया। क्यों? सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है। मेरे घर के कारण जो उजाड़ है, और तुम अपके अपके घर को दौड़ते हो।

10 इसलिथे तेरे ऊपर का आकाश ओस से ठहर गया है, और पृय्वी उसके फल से ठहर गई है।

11 और मैं ने भूमि पर, और पहाड़ोंपर, और अनाज पर, और नए दाखमधु, और तेल पर, और जो कुछ भूमि पर उत्पन्न होता है, और मनुष्यों, और पशुओं पर, और हाथों के सभी श्रम पर।

12 तब शालतीएल का पुत्र जरुब्बाबेल, और यहोसेदक का पुत्र यहोशू महायाजक, और सब बचे हुए लोगोंके संग, अपके परमेश्वर यहोवा की बात मानी, और हाग्गै भविष्यद्वक्ता की बातें मान लीं, जैसा कि उनके परमेश्वर यहोवा ने किया या। उसे भेजा, और लोग यहोवा के साम्हने डर गए।

13 तब यहोवा के दूत हाग्गै ने लोगों से यहोवा के सन्देश में कहा, मैं तुम्हारे संग हूं, यहोवा की यही वाणी है।

14 और यहोवा ने शालतीएल के पुत्र यहूदा के हाकिम जरुब्बाबेल को, और यहोसेदक के पुत्र यहोशू महायाजक को, और सब बचे हुओं के मन को उभारा; और उन्होंने आकर अपने परमेश्वर सेनाओं के यहोवा के भवन में काम किया,

15 दारा राजा के दूसरे वर्ष के छठे महीने के चौबीसवें दिन को।


अध्याय 2

वह पहले मंदिर की तुलना में दूसरे मंदिर के लिए अधिक महिमा का वादा करता है - जरुब्बाबेल के लिए भगवान का वादा।

1 सातवें महीने के एक बीसवें दिन को हाग्गै भविष्यद्वक्ता के द्वारा यहोवा का यह वचन पहुंचा,

2 अब शालतीएल के पुत्र यहूदा के अधिपति जरुब्बाबेल, और यहोसेदेक के पुत्र यहोशू, महायाजक, और बचे हुए लोगोंसे कहो,

3 तुम में से कौन बचा है, जिसने इस भवन को उसके पहिले तेज से देखा? और अब आप इसे कैसे देखते हैं? क्या यह तुम्हारी दृष्टि में कुछ भी नहीं की तुलना में नहीं है?

4 तौभी हे जरूब्बाबेल, अब बलवन्त हो, यहोवा की यही वाणी है; और हे महायाजक योसेदक के पुत्र यहोशू, बलवन्त हो; और हे देश के सब लोगों, दृढ़ बनो, और काम करो, यहोवा की यही वाणी है; क्योंकि मैं तुम्हारे साथ हूं, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है;

5 उस वचन के अनुसार जो मैं ने तुम्हारे मिस्र से निकलते समय तुम से वाचा बान्धी थी, वैसे ही मेरा आत्मा तुम्हारे बीच बना रहेगा; तुम डरो मत।

6 क्योंकि सेनाओं का यहोवा यों कहता है; तौभी एक बार, थोड़ा ही समय है, और मैं आकाश, और पृय्वी, और समुद्र, और सूखी भूमि को कंपकंपा दूंगा;

7 और मैं सब जातियोंको हिलाऊंगा, और सब जातियोंकी अभिलाषाएं पूरी होंगी; और मैं इस भवन को महिमा से भर दूंगा, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।

8 चाँदी तो मेरी है, और सोना भी मेरा है, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।

9 इस बाद के भवन की महिमा पहिली से बड़ी होगी, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है; और इस स्यान में मैं शान्ति दूंगा, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।

10 दारा के दूसरे वर्ष के नौवें महीने के चौबीसवें दिन को हाग्गै भविष्यद्वक्ता के द्वारा यहोवा का यह वचन पहुंचा,

11 सेनाओं का यहोवा यों कहता है; अब व्यवस्था के विषय में याजकों से पूछो,

12 यदि कोई अपके वस्त्र के आंचल में पवित्र मांस धारण करे, और उसके कुरते से रोटी, वा कुप्पी, वा दाखमधु, वा तेल, वा मांस छूए, तो क्या वह पवित्र ठहरे? और याजकों ने उत्तर दिया और कहा, नहीं।

13 तब हाग्गै ने कहा, यदि कोई मनुष्य लोय से अशुद्ध है, इन में से किसी को छूए, तो क्या वह अशुद्ध ठहरे? और याजकों ने उत्तर देकर कहा, वह अशुद्ध होगा।

14 तब हाग्गै ने उत्तर देकर कहा, यह लोग हैं, और यह जाति भी मेरे साम्हने है, यहोवा की यही वाणी है; और उनके हाथ का सब काम वैसा ही है; और जो कुछ वे वहां चढ़ाते हैं वह अशुद्ध है।

15 और अब, मैं तुम से बिनती करता हूं, कि आज के दिन से लेकर आगे तक यहोवा के भवन में पत्यर पर पत्यर के रखे जाने के पहिले से ध्यान रखना;

16 वे दिन थे, जब कोई बीस साया के ढेर के पास पहुंचा, तो दस ही थे; जब कोई कुण्ड में से पचास पात्र निकालने को आया, तो केवल बीस थे।

17 मैं ने तेरे सब कामोंमें तुझे फूंक मारकर, और फफूंदी और ओलोंसे मारा है; तौभी तुम ने मेरी ओर न फिरा, यहोवा की यही वाणी है।

18 आज के दिन से लेकर उस दिन तक के नौवें महीने के चौबीसवें दिन से लेकर जिस दिन से यहोवा के भवन की नेव डाली गई है, उस पर विचार करना।

19 क्या बीज अभी तक खलिहान में है? वरन दाखलता, अंजीर, और अनार, और जलपाई अब तक नहीं निकले; मैं आज के दिन से तुझे आशीष दूंगा।

20 और महीने के चौबीसवें दिन को फिर हाग्गै के पास यहोवा का यह वचन पहुंचा,

21 यहूदा के हाकिम जरुब्बाबेल से कह, कि मैं आकाश और पृय्वी को कंपकंपा दूंगा;

22 और मैं राज्यों के सिंहासन को उलट दूंगा, और अन्यजातियों के राज्यों की शक्ति को नष्ट कर दूंगा; और मैं रथों और उन पर सवारोंको उलट दूंगा; और घोड़े और उनके सवार अपके भाई की तलवार से उतरेंगे।

23 उस समय, सेनाओं के यहोवा की यह वाणी है, हे शालतीएल के पुत्र अपके दास जरूब्बाबेल, यहोवा की यह वाणी है, मैं तुझे ले जाऊंगा, और तुझे एक चिन्ह ठहराऊंगा; क्योंकि मैं ने तुझे चुन लिया है, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

The Remnant Church Headquarters in Historic District Independence, MO. Church Seal 1830 Joseph Smith - Church History - Zionic Endeavors - Center Place

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।