जेम्स

जेम्स का सामान्य पत्र

 

अध्याय 1

हमें क्रूस के नीचे आनन्दित होना है, धैर्य रखना है - ईश्वर से ज्ञान माँगना - स्वतंत्रता का नियम।

1 याकूब, जो परमेश्वर और प्रभु यीशु मसीह का दास है, उन बारह गोत्रों को जो तितर-बितर हो गए हैं, नमस्कार।

2 हे मेरे भाइयो, जब तुम बहुत क्लेशोंमें पड़ो, तो इसे पूरे आनन्द की बात समझो;

3 यह जानकर, कि तुम्हारे विश्वास के परखे जाने से धीरज उत्पन्न होता है।

4 परन्तु सब्र का काम सिद्ध हो, कि तुम सिद्ध और संपूर्ण हो जाओ, और तुम्हें किसी बात की घटी न हो।

5 यदि तुम में से किसी को बुद्धि की घटी हो, तो परमेश्वर से मांगे, जो सब मनुष्यों को उदारता से देता है, और उलाहना नहीं देता; और उसे दिया जाएगा।

6 परन्तु वह विश्वास से मांगे, और कोई बात डगमगाने न पाए; क्योंकि जो डगमगाता है वह समुद्र की लहर के समान है, जो आँधी से चलती और उछाली जाती है।

7 क्‍योंकि वह पुरूष यह न समझे कि उसे यहोवा से कुछ मिलेगा।

8 दुराग्रही मनुष्य सब प्रकार से अस्थिर होता है।

9 नीच का भाई इस बात से आनन्दित हो कि वह महान है;

10 परन्तु धनवान, जिस में वह नीचा किया जाता है; क्योंकि वह घास के फूल की नाईं मर जाएगा।

11 क्‍योंकि सूर्य जलती हुई धूप के साथ फिर नहीं उगता, वरन घास सूख जाती है, और उसका फूल गिर जाता है, और उसकी रीति का अनुग्रह नष्ट हो जाता है; उसी प्रकार धनवान भी अपक्की चालचलन में नाश हो जाएगा।

12 क्या ही धन्य है वह मनुष्य, जो परीक्षा का विरोध करता है; क्योंकि जब उसकी परीक्षा ली जाएगी, तो वह जीवन का वह मुकुट पाएगा, जिसकी प्रतिज्ञा यहोवा ने अपने प्रेम रखनेवालों से की है।

13 जब कोई परीक्षा में पड़े, तो यह न कहे, कि मैं बुराई से परीक्षा में पड़ता हूं, और न वह किसी की परीक्षा करता है;

14 परन्तु हर एक मनुष्य की परीक्षा तब होती है, जब वह अपक्की ही अभिलाषा से खींचकर, और बहककर फंस जाता है।

15 तब काम के गर्भवती होने से पाप उत्पन्न होता है; और पाप जब पूरा हो जाता है, तब मृत्यु उत्पन्न करता है।

16 हे मेरे प्रिय भाइयो, भूल न करना।

17 हर एक अच्छा दान और हर एक उत्तम दान ऊपर ही से है, और ज्योतियों के पिता की ओर से आता है, जिस में न तो कोई परिवर्तन है, और न मोड़ की छाया।

18 उसी ने हमें सच्चाई के वचन से उत्‍पन्न किया, कि हम उसकी सृष्‍टि में से पहिली उपज ठहरें।

19 इसलिए, मेरे प्रिय भाइयों, हर एक सुनने में फुर्ती से, बोलने में धीरा, और कोप में धीरा हो;

20 क्योंकि मनुष्य का क्रोध परमेश्वर की धार्मिकता का काम नहीं करता।

21 इस कारण सब गन्दगी और मूढ़ता की व्यर्थता को दूर रखो, और नम्रता के साथ ग्रहण किया हुआ वचन ग्रहण करो, जो तुम्हारे प्राणों का उद्धार कर सकता है।

22 परन्तु अपने आप को धोखा देनेवाले, और केवल सुननेवाले ही नहीं, परन्तु वचन पर चलने वाले बनो।

23 क्योंकि यदि कोई वचन का सुनने वाला हो, और उस पर चलने वाला न हो, तो वह उस मनुष्य के समान है, जो अपना स्वाभाविक मुख शीशे में देखता है;

24 क्योंकि वह अपने आप को देखता है, और चला जाता है, और तुरन्त भूल जाता है कि वह कैसा मनुष्य था।

25 परन्तु जो कोई स्वतन्त्रता की सिद्ध व्यवस्था पर दृष्टि करके उस में बना रहता है, वह भूलने वाला नहीं, वरन काम करने वाला होता है, वह अपने कामों में आशीष पाएगा।

26 यदि तुम में से कोई धर्मी लगे, और अपनी जीभ पर लगाम न लगाए, वरन अपके ही मन को धोखा दे, तो उस का धर्म व्यर्थ है।

27 परमेश्वर और पिता के साम्हने शुद्ध और निर्मल धर्म यह है, कि अनाथों और विधवाओं के क्लेश में उनकी सुधि लें, और अपने आप को संसार के दोषों से निष्कलंक रखें।


अध्याय 2

व्यक्तियों के सम्मान के बिना विश्वास रखना - विश्वास और कार्यों का।

1 हे मेरे भाइयो, तुम हमारे प्रभु यीशु मसीह, जो महिमा का प्रभु है, पर विश्वास नहीं कर सकते, तौभी मनुष्यों का आदर नहीं कर सकते।

2 अब यदि कोई पुरूष सुहावने वस्त्र पहिने सोने का अँगूठा लिए, और कंगाल भी घटिया वस्त्र पहिने हुए, तेरी सभा में आए;

3 और जो समलैंगिक वस्त्र पहिने हुए है, उसका आदर करना, और उस से कहना, कि तू यहां किसी अच्छे स्थान पर बैठा हो; और कंगालों से कह, कि तू वहीं खड़ा रह, वा मेरे पांवोंके नीचे बैठ;

4 तो क्या तुम अपने आप में पक्षपाती न्यायी नहीं हो जाते, और अपने विचार बुरे नहीं बनते?

5 हे मेरे प्रिय भाइयो, सुन, क्या परमेश्वर ने इस संसार के कंगालों को विश्वास में धनी, और उस राज्य के वारिसों को नहीं चुना जिसकी प्रतिज्ञा उस ने अपने प्रेम रखने वालों से की है?

6 परन्तु तुम ने कंगालों को तुच्छ जाना है। क्या धनवान तुम पर अन्धेर नहीं करते, और न्याय के आसनों के साम्हने तुम्हें नहीं खींचते?

7 क्या वे उस योग्य नाम की निन्दा नहीं करते, जिसके द्वारा तुम कहलाते हो?

8 यदि तुम पवित्र शास्त्र के अनुसार राजव्यवस्था को पूरा करो, कि अपके पड़ोसी से अपने समान प्रेम रखना, तो भला करना;

9 परन्तु यदि तुम मनुष्योंका आदर करते हो, तो पाप करते हो, और व्यवस्या का उल्लंघन करनेवालोंके लिथे विश्‍वास करते हो।

10 क्‍योंकि जो कोई एक ही बात को छोड़ सारी व्‍यवस्‍था का पालन करेगा, वह सब का दोषी है।

11 क्‍योंकि जिस ने कहा, कि व्यभिचार न करना, उस ने यह भी कहा, कि घात न करना। अब यदि तू व्यभिचार न करे, तौभी मार डाले, तो तू व्यवस्था का उल्लंघन करनेवाला ठहरेगा।

12 जैसा स्वतन्त्रता की व्यवस्था के अनुसार न्याय किया जाएगा, वैसे ही तुम भी बोलो, और वैसा ही करो।

13 क्‍योंकि जिस ने दया नहीं की, उसका न्याय उस पर बिना दया का होगा; और दया न्याय के विरुद्ध आनन्दित होती है।

14 हे मेरे भाइयो, इस से क्या लाभ कि मनुष्य कहे कि उस में विश्वास है, पर कर्म नहीं? क्या विश्वास उसे बचा सकता है?

15 हां, कोई कह सकता है, कि मैं तुझ को दिखाऊंगा, कि मुझे कर्म बिना विश्वास है; परन्तु मैं कहता हूं, अपना विश्वास मुझे कर्महीन दिखा, और मैं अपना विश्वास अपके कामोंके द्वारा तुझे दिखाऊंगा।

16 क्‍योंकि यदि कोई भाई वा बहिन नंगा और निराश्रित हो, और तुम में से कोई कहे, कुशल से चला, और तृप्त हो; तौभी वह उन वस्तुओं को नहीं देता जो शरीर के लिए आवश्यक हैं; ऐसे से तुम्हारा विश्वास क्या लाभ?

17 वैसे ही विश्वास, यदि कर्म न हों, तो वह अकेला रहकर मरा हुआ है।

18 इसलिथे हे निकम्मे मनुष्य क्या तू जानता है, कि विश्वास कर्म बिना मरा हुआ है, और तुझे छुड़ा नहीं सकता?

19 तू विश्वास करता है कि परमेश्वर एक है; तुम अच्छा करते हो; दुष्टात्मा भी विश्वास करते और कांपते हैं; तू ने धर्मी न ठहरकर अपने आप को उनके समान बनाया है।

20 क्या हमारा पिता इब्राहीम अपने पुत्र इसहाक को वेदी पर चढ़ाकर कर्मोंके द्वारा धर्मी न ठहरा?

21 क्या तू ने देखा, कि उसके विश्वास से कैसे काम हुए, और कामोंसे विश्वास सिद्ध हुआ?

22 और वह वचन पूरा हुआ, जो कहता है, कि इब्राहीम ने परमेश्वर की प्रतीति की, और वह उस पर धर्म के लिथे ठहराया गया; और वह परमेश्वर का मित्र कहलाया।

23 तो तुम देखते हो, कि मनुष्य केवल विश्वास से नहीं, परन्तु कर्मों से ही धर्मी ठहरता है।

24 इसी प्रकार राहाब वेश्‍या भी कामोंसे धर्मी ठहरी, जब उस ने दूतोंको ग्रहण करके दूसरे मार्ग से भेज दिया।

25 क्योंकि जैसे देह आत्मा के बिना मरी है, वैसे ही विश्वास कर्म बिना मरा हुआ है।


अध्याय 3

वाणी में सावधानी - जीभ पर लगाम - वास्तव में बुद्धिमान शुद्ध, शांतिप्रिय और कोमल होते हैं।

1 हे मेरे भाइयो, प्रभुता के लिथे यत्न न करो, यह जानते हुए कि ऐसा करने से हम और भी बड़ी दण्ड पाएंगे।

2 क्‍योंकि हम बहुत बातों में सब को ठेस पहुंचाते हैं। यदि कोई मनुष्य वचन से ठेस न पहुँचाए, तो वही सिद्ध पुरुष है, और सारे शरीर पर लगाम लगाने में भी समर्थ है।

3 देखो, हम घोड़ोंके मुंह में डंडे डालते हैं, कि वे हमारी बात मानें; और हम उनके पूरे शरीर को घुमाते हैं।

4 जहाजों को भी देखो, जो इतने बड़े हैं, और प्रचंड आँधी से चलाए जाते हैं, तौभी जहाँ कहीं हाकिम की सुधि ली जाती है, वे बहुत ही छोटे पतवार से घुमाए जाते हैं।

5 वैसे ही जीभ एक छोटी सी बात है, और बड़ी बातों पर घमण्ड करती है। निहारना, कितनी बड़ी बात है कि एक छोटी सी आग जलती है!

6 और जीभ आग है, अधर्म का जगत है; हमारे अंगों में जीभ ऐसी है, कि वह सारी देह को अशुद्ध करती है, और कुदरत के मार्ग में आग लगा देती है; और उसे नर्क की आग में झोंक दिया जाता है।

7 क्‍योंकि सब प्रकार के पशु, और पक्षी, और सांप, और समुद्र की जन्‍तुएं वश में हैं, और मनुष्यजाति के द्वारा वश में की गई हैं;

8 परन्तु जीभ को कोई वश में नहीं कर सकता; यह एक अनियंत्रित बुराई है, जो घातक जहर से भरी हुई है।

9 इसलिथे हम परमेश्वर को, हे पिता को भी धन्य कहो; और इसके साथ हम मनुष्यों को शाप देते हैं, जो परमेश्वर की समानता के अनुसार बनाए गए हैं।

10 आशीर्वाद और शाप एक ही मुंह से निकलते हैं। मेरे भाइयों, ऐसी बातें नहीं होनी चाहिए।

11 क्या कोई सोता एक ही स्थान पर मीठा और कड़वा जल भेजता है?

12 हे मेरे भाइयो, क्या अंजीर के पेड़ में जैतून के फल लग सकते हैं? या तो एक बेल, अंजीर? इसलिए कोई भी फव्वारा खारा पानी और ताजा दोनों नहीं दे सकता।

13 कौन बुद्धिमान है और तुम्हारे बीच में ज्ञान के साथ संपन्न हुआ है? वह अपने कामों को अच्छी बातचीत से बुद्धि की नम्रता के साथ प्रगट करे।

14 परन्तु यदि तुम्हारे मन में कटु डाह और कलह हो, तो घमण्ड न करना, और सत्य के विरोध में झूठ न बोलना।

15 यह बुद्धि ऊपर से नहीं उतरती, वरन पार्थिव, कामुक, और शैतानी है।

16 क्योंकि जहां डाह और झगडा होता है, वहां भ्रम और सब प्रकार के बुरे काम होते हैं।

17 परन्तु जो बुद्धि ऊपर से आती है, वह पहिले पवित्र, फिर मेल करनेवाली, नम्र, और बिनती करने में सहज, दया और अच्छे फलों से भरपूर, पक्षपात रहित और कपट रहित होती है।

18 और मेल मिलाप करनेवालोंके लिथे धर्म का फल बोया जाता है।


अध्याय 4

लोभ, अकर्मण्यता, अभिमान, तिरस्कार और दूसरों के उतावले निर्णय के विरुद्ध — हमें स्वयं को और अपने सभी मामलों को परमेश्वर के विधान के प्रति समर्पित करना है।

1 तुम में युद्ध और झगडे कहाँ से आते हैं? क्या वे इसलिये नहीं आते, कि तेरी उन अभिलाषाओंके कारण जो तेरे सदस्योंमें युद्ध करती हैं?

2 तुम वासना करते हो, और नहीं करते; तुम मारते हो, और पाने की इच्छा रखते हो, और प्राप्त नहीं कर सकते; तुम लड़ो और युद्ध करो; तौभी तुम ने नहीं मांगा, क्योंकि तुम नहीं मांगते।

3 तुम मांगो, और न पाओ, क्योंकि तुम गलत मांगते हो, कि उसे अपक्की अभिलाषाओं के अनुसार भस्म कर दो।

4 हे व्यभिचारियों और व्यभिचारियों, क्या तुम नहीं जानतीं कि जगत की मित्रता परमेश्वर से बैर करना है? इसलिए जो कोई संसार का मित्र होगा वह परमेश्वर का शत्रु है।

5 क्या तुम समझते हो, कि पवित्र शास्त्र में व्यर्थ कहा गया है, कि जो आत्मा हम में वास करता है, वह डाह करने की लालसा करता है?

6 परन्तु वह और भी अनुग्रह देता है। इसलिए वह कहता है, परमेश्वर अभिमानियों का विरोध करता है, परन्तु दीनों पर अनुग्रह करता है।

7 इसलिए अपने आप को परमेश्वर के अधीन कर दो। शैतान का विरोध करें, और वह आप से दूर भाग जाएगा।

8 परमेश्वर के निकट आओ, तो वह तुम्हारे निकट आएगा। हे पापियों, अपने हाथ शुद्ध करो; और अपने दिलों को शुद्ध करो, तुम दोगले हो।

9 दु:खित होकर विलाप करो, और रोओ; तेरी हंसी शोक में, और तेरा आनन्द भारी हो जाए।

10 यहोवा के साम्हने अपने आप को दीन करो, और वह तुम्हें ऊपर उठाएगा।

11 हे भाइयो, एक दूसरे की बुराई मत करो। जो अपके भाई की बुराई करता, और अपके भाई का न्याय करता, वह व्यवस्या की बुराई बोलता, और व्यवस्या का न्याय करता; परन्तु यदि तू व्यवस्था का न्याय करे, तो व्यवस्था पर चलने वाला नहीं, परन्तु न्यायी हो।

12 व्यवस्था देनेवाला एक ही है, जो उद्धार और नाश कर सकता है; तू कौन है जो दूसरे का न्याय करता है?

13 अब तुम जो कहते हो, जा, कि आज या कल हम ऐसे नगर में जाकर एक वर्ष तक वहीं रहेंगे, और मोल-तोल करके लाभ प्राप्त करेंगे;

14 जबकि तुम नहीं जानते कि कल क्या होगा। आपका जीवन किसके लिए है? यह एक वाष्प भी है, जो थोड़ी देर के लिए प्रकट होती है, और फिर गायब हो जाती है।

15 इसलिये कि तुम यह कहना, कि यदि यहोवा चाहे, तो हम जीवित रहेंगे, और यह करो, वा वह करो।

16 परन्तु अब तुम अपके घमण्डों से आनन्दित होते हो; ऐसा सब आनन्द बुरा है।

17 इस कारण जो भलाई करना जानता है, और नहीं करता, उसके लिये पाप है।


अध्याय 5

धनवानों को परमेश्वर के प्रतिशोध से डरना चाहिए - क्लेशों में धैर्य।

1 हे धनवानों, अब जाकर अपने उस क्लेश के लिये जो तुम पर आनेवाला है, रोओ और विलाप करो।

2 तेरा धन भ्रष्ट हो गया है, और तेरा वस्त्र कीड़ा खा गया है।

3 तेरा सोना-चांदी रंगा हुआ है; और उन में से काई तेरे साम्हने साक्षी बनेगी, और आग की नाईं तेरा मांस खा जाएगी। तुमने अंत के दिनों में एक साथ खजाना जमा किया है।

4 देखो, जो मजदूर तुम्हारे खेत काट चुके हैं, जो तुम में से छल से बचाए गए हैं, वे चिल्लाते हैं; और काटनेवालोंकी दोहाई सबोत के यहोवा के कानोंमें पड़ गई है।

5 तुम पृय्वी पर सुख से रहते हो, और निर्बल रहते हो; तुम ने अपने हृदयों को ऐसे पाला है, जैसे वध के दिन।

6 तुम ने धर्मी को दण्ड दिया और मार डाला; और वह तुम्हारा विरोध नहीं करता।

7 इसलिथे हे भाइयों, प्रभु के आने के लिथे सब्र करो। देखो, किसान पृथ्वी के अनमोल फल की बाट जोहता है, और उस पर बहुत देर तक धीरज धरता है, जब तक कि वह पहिले और बाद की वर्षा न कर ले।

8 तुम भी सब्र रखो; अपने दिलों को स्थिर करो; क्योंकि यहोवा का आना निकट है।

9 हे भाइयो, एक दूसरे से मत कुढ़ना, कहीं ऐसा न हो कि तुम दोषी ठहरो; देखो, न्यायी द्वार के साम्हने खड़ा है।

10 हे मेरे भाइयो, भविष्यद्वक्ताओं, जिन ने यहोवा के नाम से बातें की हैं, उन्हें दु:ख उठाने और धीरज धरने की मिसाल ले लो।

11 देख, हम धीरज धरने वालों को धन्य समझते हैं। तुम ने अय्यूब के सब्र के विषय में सुना, और यहोवा का अन्त देखा है; कि यहोवा अति दयनीय और करूणामय है।

12 परन्तु सब बातों से बढ़कर, हे मेरे भाइयो, न तो आकाश की, और न पृथ्वी की, और न किसी दूसरी शपय की शपथ खाओ; परन्तु तेरा हां हो; और तुम्हारा नहीं, नहीं; कहीं ऐसा न हो कि तुम दण्ड में पड़ो।

13 क्या तुम में से कोई पीड़ित है? उसे प्रार्थना करने दो। कोई ख़ुश है? उसे भजन गाने दो।

14 क्या तुम में कोई रोगी है? वह कलीसिया के पुरनियों को बुलाए; और वे यहोवा के नाम से उस का तेल से अभिषेक करके उसके लिथे प्रार्यना करें;

15 और विश्वास की प्रार्थना से रोगी का उद्धार होगा, और यहोवा उसको जिलाएगा; और यदि उस ने पाप किए हों, तो वे क्षमा की जाएंगी।

16 एक दूसरे से अपके दोष मानो, और एक दूसरे के लिथे प्रार्थना करो, कि तुम चंगे हो जाओ। एक धर्मी व्यक्ति की प्रभावशाली उत्कट प्रार्थना से बहुत लाभ होता है।

17 एलिय्याह हम ही की नाईं वासनाओं में लिप्त या, और उस ने मन से बिनती की, कि मेंह न बरसे; और तीन वर्ष छ: महीने के अन्तराल तक पृय्वी पर मेंह न बरसा।

18 और उस ने फिर प्रार्यना की, और आकाश में मेंह बरसा, और पृय्वी ने अपना फल उत्पन्न किया।

19 हे भाइयो, यदि तुम में से कोई सच्चाई से भटके, और कोई उसे अपना ले;

20 वह जान ले, कि जो पापी को उसके मार्ग की भूल से छुड़ा ले, वह एक प्राण को मृत्यु से बचाएगा, और बहुत से पापोंको छिपाएगा।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

The Remnant Church Headquarters in Historic District Independence, MO. Church Seal 1830 Joseph Smith - Church History - Zionic Endeavors - Center Place

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।