अल्माई की किताब

अल्माई की किताब
अलमाई का पुत्र
अध्याय 1

अलमा का वृत्तांत, जो अलमा का पुत्र था, नफी के लोगों का प्रथम और मुख्य न्यायाधीश था, और गिरजे का महायाजक भी था। न्यायियों के शासन का लेखा, और लोगों के बीच युद्धों और झगड़ों का विवरण। और अलमा प्रथम, और मुख्य न्यायी के अभिलेख के अनुसार, नफाइयों और लमनाइयों के बीच युद्ध का विवरण भी। 1 अब ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के पहले वर्ष में, तब से लेकर अब तक राजा मुसायाह सारी पृय्वी की चाल चला गया; अच्छी लड़ाई लड़ी, और परमेश्वर के साम्हने सीधी चाल चली, और उसके स्यान पर राज्य करने के लिथे किसी को न छोड़ा;
2 तौभी उस ने व्यवस्या स्थिर की, और प्रजा ने उन को मान लिया; इसलिए वे उसके द्वारा बनाए गए कानूनों का पालन करने के लिए बाध्य थे।
3 और ऐसा हुआ कि अलमा के न्याय आसन में राज्य के पहले वर्ष में, एक व्यक्ति को उसके सामने न्याय के लिए लाया गया था; एक आदमी जो बड़ा था, और उसकी बहुत ताकत के लिए जाना जाता था;
4 और वह लोगों के बीच में फिरकर उन को प्रचार करता या, जिसे वह परमेश्वर का वचन कहता या, कलीसिया पर उतारता या;
5 प्रजा को यह घोषणा करना, कि सब याजक और शिक्षक प्रसिद्ध हों; और उन्हें अपने हाथों से परिश्रम न करना चाहिए, पर लोगों के द्वारा उनकी सहायता की जानी चाहिए;
6 और उसने लोगों को यह भी गवाही दी कि अंतिम दिन में सारी मानवजाति का उद्धार होना चाहिए, और यह कि उन्हें न तो डरना चाहिए और न ही कांपना चाहिए, बल्कि इसलिए कि वे अपना सिर उठाकर आनन्दित हों;
7 क्योंकि यहोवा ने सब मनुष्योंकी सृष्टि की, और सब मनुष्योंको छुड़ा भी लिया; और अंत में, सभी मनुष्यों को अनन्त जीवन मिलना चाहिए।
8 और ऐसा हुआ कि उसने इन बातों को इतना अधिक सिखाया, कि बहुतों ने उसकी बातों पर विश्वास किया, यहां तक कि बहुतों ने उसका समर्थन करना और उसे पैसे देना शुरू कर दिया;
9 और वह अपके मन के घमण्ड से घमण्ड करने लगा, और अति बहुमूल्य वस्त्र पहिने हुए; हां, और यहां तक कि उसने अपने प्रचार के तरीके के अनुसार एक गिरजाघर की स्थापना भी शुरू कर दी थी ।
10 और ऐसा हुआ कि जब वह उसके वचन पर विश्वास करने वालों को प्रचार करने जा रहा था, तो उसकी भेंट एक ऐसे व्यक्ति से हुई जो परमेश्वर के गिरजे से संबंधित था, हां, यहां तक कि उनके शिक्षकों में से एक;
11 और वह उस से घोर वाद-विवाद करने लगा, कि वह कलीसिया के लोगोंको दूर ले जाए; परन्तु वह मनुष्य उसका साम्हना करता रहा, और परमेश्वर के वचनों से उसे समझाता रहा।
12 उस पुरूष का नाम गिदोन था; और यह वही था जो लिमही के लोगों को बंधन से छुड़ाने में परमेश्वर के हाथों में एक उपकरण था।
13 अब क्योंकि गिदोन परमेश्वर के वचनों से उसका साम्हना करता या, वह गिदोन पर क्रोधित हुआ, और अपनी तलवार खींचकर उसे मारने लगा।
14 गिदोन बहुत वर्ष तक पीड़ित रहा, इस कारण वह अपने प्रहारों का सामना न कर सका, इस कारण वह तलवार से मारा गया;
15 और जिस व्यक्ति ने उसे मारा था, उसे गिरजे के लोगों ने पकड़ लिया, और अलमा के सामने लाया गया, ताकि उसके द्वारा किए गए अपराध के अनुसार उसका न्याय किया जा सके ।
16 और ऐसा हुआ कि वह अलमा के सामने खड़ा हुआ, और बहुत साहस के साथ अपने लिए याचना की ।
17 परन्तु अलमा ने उस से कहा, देखो, यह पहली बार है जब इन लोगों के बीच पुरोहिती का परिचय दिया गया है ।
18 और देखो, तू न केवल पुरोहिती का दोषी है, वरन तलवार से उसको वश में करने का यत्न किया है; और इन लोगों के बीच पुरोहिती लागू करने के लिए, यह उनका संपूर्ण विनाश साबित होगा।
19 और तू ने धर्मी का लोहू बहाया, वरन वह मनुष्य जिस ने इन लोगोंके बीच बहुत भलाई की है; और यदि हम तुझे छोड़ देते, तो उसका लोहू पलटा लेने के लिथे हम पर चढ़ जाता;
20 इसलिथे उस व्यवस्या के अनुसार जो हमारे अन्तिम राजा मुसायाह के द्वारा हमें दी गई है, मरने के लिथे तू दोषी ठहराया गया है;
21 और वे इन लोगों के द्वारा पहचाने गए हैं; इसलिए इन लोगों को कानून का पालन करना चाहिए।
22 और ऐसा हुआ कि उन्होंने उसे पकड़ लिया; और उसका नाम नेहोर था; और वे उसे मन्ती पहाड़ी की चोटी पर ले गए,
23 और वहां उस ने आकाश और पृय्वी के बीच में यह ठहराया, या यों कहें कि यह मान लिया, कि जो कुछ उस ने लोगोंको सिखाया वह परमेश्वर के वचन के विपरीत था; और वहाँ उसे एक अपमानजनक मृत्यु का सामना करना पड़ा।
24 तौभी इस से पूरे देश में याजकोंका काम फैलना बन्द न हुआ; क्योंकि बहुत से थे जो जगत की व्यर्थ वस्तुओं से प्रीति रखते थे, और मिथ्या उपदेश का प्रचार करते थे, और धन और प्रतिष्ठा के लिथे ऐसा किया करते थे।
25 तौभी व्यवस्था के भय से यदि मालूम होता, तो झूठ बोलने का साहस नहीं करते, क्योंकि झूठ बोलनेवालोंको दण्ड दिया जाता था; इसलिए उन्होंने अपने विश्वास के अनुसार प्रचार करने का नाटक किया:
26 और अब व्यवस्था का किसी मनुष्य पर विश्वास करने का अधिकार नहीं हो सकता था।
27 और व्‍यवस्‍था के भय के कारण वे चोरी करने का साहस नहीं करते; ऐसे के लिए दंडित किया गया; न तो लूटने का, और न हत्या करने का साहस किया; क्योंकि हत्या करने वाले को मृत्यु दण्ड दिया गया।
28 लेकिन ऐसा हुआ कि जो कोई भी परमेश्वर के गिरजे से संबंधित नहीं था, उसने उन्हें सताना शुरू कर दिया जो परमेश्वर के गिरजे के थे, और उन पर मसीह का नाम ले लिया था;
29 हां, उन्होंने उन्हें सताया, और हर तरह की बातों से उन्हें सताया, और यह उनकी नम्रता के कारण हुआ;
30 क्योंकि वे अपक्की दृष्टि में घमण्ड नहीं करते थे, और परमेश्वर का वचन बिना रुपयोंऔर बिना दाम के एक दूसरे से सुनाते थे।
31 अब गिरजे के लोगों के बीच एक सख्त कानून था, कि कोई भी व्यक्ति जो चर्च से संबंधित नहीं है, उठकर उन्हें सताना नहीं चाहिए जो चर्च के नहीं थे, और उनके बीच कोई उत्पीड़न नहीं होना चाहिए।
32 तौभी, उनमें से बहुत से ऐसे थे, जो घमण्ड करने लगे, और अपके विरोधियोंसे यहां तक कि मारपीट करने लगे; हाँ, वे एक दूसरे को मुट्ठियों से मारते थे।
33 अब यह अलमा के शासन के दूसरे वर्ष में था, और यह गिरजे के लिए बहुत कष्ट का कारण था; हाँ, यह चर्च के साथ बहुत परीक्षण का कारण था;
34 क्योंकि बहुतों के मन कठोर हो गए थे, और उनके नाम मिटा दिए गए थे, कि वे परमेश्वर के लोगों के बीच फिर स्मरण न किए गए।
35 और बहुत से लोग उन में से अलग हो गए।
36 अब यह उन लोगों के लिए एक बड़ी परीक्षा थी जो विश्वास में दृढ़ रहे; फिर भी, वे परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने में दृढ़ और अचल थे, और उन्होंने उस उत्पीड़न को सहन किया जो उन पर भारी पड़ा था।
37 और जब याजकोंने परमेश्वर का वचन लोगों को सुनाने के लिथे परिश्रम करना छोड़ दिया, तब प्रजा ने भी परमेश्वर का वचन सुनने के लिथे अपके परिश्रम को छोड़ दिया।
38 और जब याजक ने उन्हें परमेश्वर का वचन सुनाया, तब वे सब परिश्रम से अपने कामोंमें फिर से लौट गए;
39 और याजक अपने को अपके सुननेवालोंसे बड़ा न समझे; क्योंकि उपदेशक सुनने वाले से अच्छा नहीं था, और न ही शिक्षक सीखने वाले से बेहतर था: और वे सब एक समान थे, और वे सब अपने-अपने बल के अनुसार परिश्रम करते थे;
40 और उन्होंने अपके अपके धन में से जो कुछ उसका था, उसके अनुसार कंगालों, और दरिद्रों, और बीमारों, और दीन लोगोंको दिया;
41 और वे महंगे वस्त्र न पहिने थे, तौभी वे सुन्दर और सुहावने थे;
42 और इस प्रकार उन्होंने गिरजे के मामलों को स्थापित किया; और इस प्रकार वे अपने सभी सतावों के बावजूद फिर से निरंतर शांति प्राप्त करने लगे।
43 और अब गिरजे की स्थिरता के कारण, वे बहुत अधिक धनी होने लगे; जिस वस्तु की उन्हें आवश्यकता हो, वह सब वस्तुओं से भरपूर हो;
44 भेड़-बकरी, और गाय-बैल, और सब प्रकार के मोटे पशु, और अन्न, सोना, चान्दी, और बहुमूल्य वस्तुओं की बहुतायत; और बहुत रेशमी और सुतली का मलमल, और सब प्रकार के उत्तम घरेलू वस्त्र।
45 और इस प्रकार अपनी समृद्ध परिस्थितियों में उन्होंने किसी को भी नहीं भेजा जो नग्न थे, या जो भूखे थे, या जो प्यासे थे, या जो बीमार थे, या जो पोषित नहीं थे;
46 और उन्होंने धन पर मन न लगाया; इसलिए वे सभी के लिए उदार थे, दोनों बूढ़े और युवा, दोनों बंधन और स्वतंत्र, दोनों पुरुष और महिला, चाहे चर्च से बाहर हों या चर्च में, उन लोगों के लिए कोई सम्मान नहीं था जो जरूरतमंदों के लिए खड़े थे;
47 और इस प्रकार वे समृद्ध हुए और उनकी तुलना में कहीं अधिक धनी हो गए जो उनके गिरजे से संबंधित नहीं थे ।
48 क्‍योंकि जो उनकी कलीसिया के नहीं थे वे टोना-टोटका, और मूर्तिपूजा या आलस्य, और बकबक, और डाह और झगड़ों में लिप्त थे;
49 और बहुमूल्य वस्त्र पहिने हुए; अपनों की आंखों के गर्व में ऊंचा किया जा रहा है; सताना, झूठ बोलना, चोरी करना, लूटना, व्यभिचार करना, और हत्या करना, और सब प्रकार की दुष्टता करना;
50 तौभी व्यवस्था उन सब पर लागू की गई, जिन्होंने उसका उल्लंघन किया, जितना हो सकता था।
51 और ऐसा हुआ कि इस प्रकार उन पर व्यवस्था का प्रयोग करने से, हर एक व्यक्ति जो उस ने किया था उसके अनुसार दु:ख भोगते हैं, वे और भी शांत हो जाते हैं, और किसी भी प्रकार की दुष्टता करने का साहस नहीं करते, यदि यह ज्ञात हो:
52 इसलिए न्यायियों के राज्य के पांचवें वर्ष तक नफी के लोगों में बहुत शांति थी ।
53 और ऐसा हुआ कि उनके राज्य के पांचवें वर्ष के आरम्भ में, लोगों के बीच एक विवाद होने लगा, क्योंकि एक मनुष्य का नाम अमलिसी था; वह एक बहुत चालाक आदमी है, हां, एक बुद्धिमान व्यक्ति, दुनिया के ज्ञान के रूप में; जिस ने गिदोन को व्यवस्था के अनुसार मार डाला, उस ने तलवार से घात करनेवाले की आज्ञा के अनुसार किया।
54 अब इस अमलिसी ने अपनी चतुराई से बहुत से लोगों को अपने पीछे खींच लिया था; यहाँ तक कि वे बहुत शक्तिशाली होने लगे; और वे अमलिसी को प्रजा पर एक राजा के रूप में स्थापित करने का प्रयास करने लगे।
55 अब यह कलीसिया के लोगों के लिए, और उन सभी के लिए भी चिंता का विषय था, जो अमलिसी के समझाने के बाद दूर नहीं गए थे:
56 क्‍योंकि वे जानते थे, कि अपक्की व्‍यवस्‍था के अनुसार ऐसी बातें प्रजा की बात से स्थिर होंगी;
57 इसलिए, यदि यह संभव होता कि अमलिसी लोगों की आवाज प्राप्त करे, तो वह एक दुष्ट व्यक्ति होने के कारण, उन्हें उनके अधिकारों और चर्च के विशेषाधिकारों से वंचित कर देगा, आदि; क्योंकि उसका इरादा परमेश्वर की कलीसिया को नष्ट करने का था।
58 और ऐसा हुआ कि अमलिसी के पक्ष में हो या विरोध में, सभी लोगों ने अपने मन के अनुसार, चाहे वह अमलिसी के पक्ष में हो या विरोध में, पूरे प्रदेश में एक दूसरे के साथ बहुत अधिक विवाद और अद्भुत विवाद के साथ इकट्ठे हुए;
59 और इस प्रकार वे इस मामले के विषय में अपनी आवाज उठाने के लिए एक साथ इकट्ठे हुए: और उन्हें न्यायियों के सामने रखा गया।
60 और ऐसा हुआ कि लोगों ने अमलिसी के विरुद्ध आवाज उठाई, कि उसे लोगों का राजा नहीं बनाया गया ।
61 अब इससे उन लोगों के मन में बहुत आनन्द हुआ जो उसके विरोधी थे; परन्तु अमलिसी ने जो उसके पक्ष में थे, उनको भड़काया, कि जो उसके पक्ष में नहीं थे उन पर क्रोध करें।
62 और ऐसा हुआ कि उन्होंने स्वयं को एकत्र किया, और अमलिसी को उनका राजा बनने के लिए पवित्र किया ।
63 अब जब अमलिसी उनका राजा बना, तब उस ने उन्हें आज्ञा दी, कि वे अपके भाइयोंके विरुद्ध हथियार उठाएं; और यह उस ने किया, कि वह उन्हें अपने वश में कर ले।
64 अब अमलिसी के लोग अमलिसी के नाम से प्रतिष्ठित थे, जो अमलिसी कहलाते थे; और शेष नफाई, या परमेश्वर के लोग कहलाते थे:
65 इसलिए नफाइयों के लोग अमलिसियों की मंशा से अवगत थे, और इसलिए उन्होंने उनसे मिलने की तैयारी की;
66 हां, उन्होंने तलवारों, और परिधियों, और धनुषों, और तीरों, और पत्थरों, और गोफनों, और हर प्रकार के युद्ध के सभी प्रकार के हथियारों से अपने आप को सुसज्जित किया;
67 और इस प्रकार अमलिसियों के आने के समय वे उनसे मिलने के लिए तैयार थे ।
68 और अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अप से अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अप न ह य न हए िकए गए।
69 और ऐसा हुआ कि अमलिसी ने अपने लोगों को युद्ध के सभी प्रकार के हथियारों से लैस किया; और उस ने अपक्की प्रजा पर हाकिमोंऔर हाकिमोंको ठहराया, कि वे उनके भाइयोंसे युद्ध करने के लिथे उनकी अगुवाई करें।
70 और ऐसा हुआ कि अमलिसी अम्निहू की पहाड़ी पर चढ़ गए, जो सीदोन नदी के पूर्व में थी, जो जराहेमला प्रदेश से होकर गुजरती थी, और वहां उन्होंने नफाइयों से युद्ध करना शुरू कर दिया ।
71 अब अलमा, मुख्य न्यायी और नफी के लोगों का राज्यपाल होने के नाते, इसलिए वह अपने लोगों के साथ गया, हां, अपने सेनापतियों और मुख्य सेनापतियों के साथ, हां, अपनी सेना के मुखिया के रूप में, अमलिसियों के खिलाफ युद्ध करने के लिए गया ; और वे सीदोन के पूर्व की पहाड़ी पर अमलिसियोंको घात करने लगे।
72 और अमलिसियों ने नफाइयों से इतना अधिक संघर्ष किया, कि बहुत से नफाई अमलिसियों के सामने गिर पड़े;
73 तौभी प्रभु ने नफाइयों का हाथ मजबूत किया, कि उन्होंने अमलिसियों को एक बड़े वध से मार डाला, कि वे उनके सामने से भागने लगे ।
74 और ऐसा हुआ कि नफाइयों ने पूरे दिन अमलिसियों का पीछा किया, और उन्हें इतना अधिक मार डाला कि अमलिसियों में बारह हजार पांच सौ बत्तीस लोग मारे गए;
75 और नफाइयों में से छह हजार पांच सौ बासठ लोग मारे गए ।
76 और ऐसा हुआ कि जब अलमा अमलिसियों का पीछा नहीं कर सका, तो उसने अपने लोगों को गिदोन की घाटी में अपने तंबू लगाने के लिए कहा, उस घाटी का नाम गिदोन के नाम पर रखा गया जो तलवार से निहोर के हाथ से मारा गया था। ; और इस घाटी में रात के लिए नफाइयों ने अपने तंबू गाड़े ।
77 और अलमा ने जासूसों को अमलिसियों के बचे हुए लोगों का पीछा करने के लिए भेजा, ताकि वह उनकी योजनाओं और उनके षडयंत्रों के बारे में जान सके, जिससे वह उनके विरुद्ध अपनी रक्षा कर सके, ताकि वह अपने लोगों को नष्ट होने से बचा सके ।
78 और जिन्हें उस ने अमलिसियोंकी छावनी की चौकसी करने को भेजा था, वे जेरम, अम्नोर, मन्ती, और लिम्हेर कहलाए; ये वे ही थे, जो अपके जनोंके संग अमलिसियोंकी छावनी का निरीक्षण करने को निकले थे।
79 और ऐसा हुआ कि अगले दिन वे नफाइयों की छावनी में लौट आए, बड़ी जल्दबाजी में, बहुत चकित होकर, और बहुत डर से कहा,
80 देखो, हमने अमलिसियों की छावनी का पीछा किया, और मिनोन के प्रदेश में, जराहेमला के प्रदेश के ऊपर, नफी के प्रदेश के मार्ग में, हमारे बड़े आश्चर्य के साथ, हमने लमनाइयों की एक बड़ी सेना को देखा;
81 और देखो, अमलिसी उन से मिल गए हैं, और वे उस देश में हमारे भाइयोंके साय हैं; और वे अपक्की भेड़-बकरियां, और अपक्की पत्नियां, और बाल-बच्चे, उनके साम्हने से हमारे नगर की ओर भागे जा रहे हैं।
82 और जब तक हम फुर्ती न करें, वे हमारे नगर पर अधिकार कर लेंगे; और हमारे पिता, और हमारी पत्नियां, और हमारे बच्चे मारे जाएं।
83 और ऐसा हुआ कि नफी के लोग अपने तंबू ले गए, और गिदोन की घाटी से अपने शहर की ओर निकल गए, जो जराहेमला का नगर था ।
84 और देखो, जब वे सीदोन नदी को पार कर रहे थे, तो लमनाइयों और अमलिसी, समुद्र के बालू के समान, लगभग असंख्य होने के कारण, उन्हें नष्ट करने के लिए उन पर चढ़ आए;
85 तौभी नफाइयों ने, यहोवा के हाथ से बलवन्त होकर, उस से प्रबल प्रार्थना की कि वह उन्हें उनके शत्रुओं के हाथ से छुड़ाएगा;
86 इसलिए प्रभु ने उनकी पुकार सुनी, और उन्हें बल दिया, और लमनाइयों और अमलिसियों ने उनका सामना किया ।
87 और ऐसा हुआ कि अलमा अमलिसी से तलवार से आमने-सामने लड़ा; और वे आपस में पराक्रम से लड़े।
88 और ऐसा हुआ कि अलमा, परमेश्वर का एक व्यक्ति होने के नाते, बहुत विश्वास के साथ, यह कहते हुए रोया, हे प्रभु, दया करो और मेरे जीवन को छोड़ दो, ताकि मैं तुम्हारे हाथों में एक साधन बन सकूं, इन लोगों को बचाने और उनकी रक्षा करने के लिए .
89 अब जब अलमा ने ये बातें कह लीं, तो उसने अमलिसी के साथ फिर से विवाद किया; और वह इतना दृढ़ हो गया कि उसने अमलिसी को तलवार से मार डाला।
90 और उसने लमनाइयों के राजा से भी लड़ाई की: परन्तु लमनाइयों का राजा अलमा के सामने से भाग गया, और अलमा से लड़ने के लिए अपने रक्षकों को भेजा ।
91 परन्तु अलमा, अपने रक्षकों के साथ, लमनाइयों के राजा के रक्षकों से तब तक लड़ता रहा, जब तक कि वह उन्हें मारकर वापस नहीं ले गया;
92 और इस प्रकार उसने जमीन को साफ किया, या यों कहें कि किनारे को, जो सीदोन नदी के पश्चिम में था, मारे गए लमनाइयों के शवों को सीदोन के जल में फेंक दिया, ताकि उसके लोगों को पार करने के लिए जगह मिल सके और सीदोन नदी के पश्चिम की ओर लमनाइयों और अमलिसियों के साथ संघर्ष।
93 और ऐसा हुआ कि जब वे सभी सिदोन नदी पार कर चुके थे कि लमनाइयों और अमलिसियों ने उनके सामने से भागना शुरू कर दिया, भले ही उनकी संख्या इतनी अधिक थी कि उनकी गिनती नहीं की जा सकती थी;
94 और वे नफाइयों के साम्हने से भागे, उस जंगल की ओर जो पश्चिम और उत्तर में था, जो देश की सीमाओं से परे था;
95 और नफाइयों ने अपनी शक्ति से उनका पीछा किया, और उन्हें मार डाला; हां, वे चारों ओर से मिले, और मारे गए, और भगाए गए, जब तक कि वे पश्चिम और उत्तर की ओर तितर-बितर नहीं हो गए, जब तक कि वे जंगल तक नहीं पहुंच गए, जिसे हर्माउंट कहा जाता था;
96 और यह जंगल का वह भाग था जो जंगली और हिंसक पशुओं से ग्रस्त था।
97 और ऐसा हुआ कि बहुत से लोग अपने घावों के कारण निर्जन प्रदेश में मर गए, और उन जानवरों, और हवा के गिद्धों द्वारा भी खाए गए: और उनकी हड्डियां पाई गई हैं, और वे पृथ्वी पर ढेर हो गई हैं ।
98 और ऐसा हुआ कि नफाइयों ने, जो युद्ध के हथियारों से नहीं मारे गए थे, मारे गए लोगों को दफनाने के बाद: अब उनकी संख्या अधिक होने के कारण मारे गए लोगों की संख्या की गणना नहीं की गई; अपके मुर्दों को गाड़ने के बाद वे सब अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके घर, और अपक्की पत्नियों, और अपके अपके बालको को लौट गए।
99 अब बहुत सी स्त्रियां और बच्चे तलवार से मारे गए थे, और उनके बहुत से भेड़-बकरियां और गाय-बैल भी;
100 और उनके बहुत से अन्न के खेत भी नाश हो गए, क्योंकि उन्हें मनुष्योंकी सेना ने रौंदा था।
101 और अब जितने लमनाइयों और अमलिसियों को सीदोन नदी के तट पर मारा गया था, वे सीदोन के जल में फेंके गए थे; और देखो, उनकी हडि्डयां समुद्र की गहराइयोंमें हैं, और वे बहुत हैं।
102 और अमलिसी नफाइयों से अलग थे; क्योंकि उन्होंने लमनाइयों की तरह अपने आप को अपने माथे पर लाल रंग से चिह्नित किया था; फिर भी उन्होंने लमनाइयों की तरह अपने सिर नहीं काटे थे ।
103 अब लमनाइयों के सिर काट दिए गए; और वे नंगे थे, केवल खाल, जो उनकी कमर पर बन्धी हुई थी, और उनके हथियार भी, जो उनके चारों ओर बँधे हुए थे, और उनके धनुष, और उनके तीर, और उनके पत्थर, और उनके गोफन, आदि।
104 और लमनाइयों की खाल काली थी, उस निशान के अनुसार जो उनके पूर्वजों पर लगाया गया था, जो उनके अपराध और उनके भाइयों के खिलाफ उनके विद्रोह के कारण उनके लिए एक अभिशाप था, जिसमें नफी, याकूब, और यूसुफ, और सैम शामिल थे। , जो न्यायी और पवित्र पुरुष थे।
105 और उनके भाइयोंने उन्हें नाश करने का यत्न किया; इसलिए वे शापित थे; और प्रभु परमेश्वर ने उन पर, हां, लमान और लमूएल, और इश्माएल के पुत्रों, और इश्माएली महिलाओं पर एक चिन्ह लगाया;
106 और ऐसा इसलिए किया गया, कि उनके वंश को उनके भाइयों के वंश से अलग किया जाए, जिससे यहोवा परमेश्वर अपने लोगों की रक्षा करे, कि वे उन गलत परंपराओं में मिश्रण न करें और उन पर विश्वास न करें जो उनके विनाश को साबित करेंगी।
107 और ऐसा हुआ कि जिसने भी उसके वंश को लमनाइयों के वंश के साथ मिलाया, उसने वही श्राप अपने वंश पर लाया ।
108 इसलिए जो कोई भी लमनाइयों के बहकावे में आने के लिए खुद को सहता था, उसे उस सिर के नीचे बुलाया जाता था, और उस पर एक निशान लगा होता था ।
109 और ऐसा हुआ कि जो कोई भी लमनाइयों की परंपरा में विश्वास नहीं करेगा, लेकिन उन अभिलेखों पर विश्वास करेगा जो यरूशलेम के प्रदेश से लाए गए थे, और उनके पूर्वजों की परंपरा में भी, जो सही थे, जो आज्ञाओं में विश्वास करते थे परमेश्वर की, और उनकी रक्षा की, उस समय से नफाई, या नफी के लोग कहलाए;
110 और उन्होंने ही उन अभिलेखों को रखा है जो उनके लोगों के बारे में सत्य हैं, और लमनाइयों के लोगों के भी हैं ।
111 अब हम अमलिसियों के पास फिर लौटेंगे, क्योंकि उन पर भी एक चिन्ह लगाया गया था; हां, उन्होंने अपने ऊपर छाप लगाई, हां, यहां तक कि उनके माथे पर लाल रंग का भी निशान था ।
112 इस प्रकार परमेश्वर का वचन पूरा हुआ, क्योंकि ये वे शब्द हैं जो उसने नफी से कहे थे:
113 देखो, मैंने लमनाइयों को श्राप दिया है; और मैं उन पर चिन्ह लगाऊंगा, कि वे और उनका वंश तुझ से और तेरे वंश में से अब से और युगानुयुग अलग रहें, जब तक कि वे अपनी दुष्टता से मन फिराएं और मेरी ओर फिरें, कि मैं उन पर दया करूं।
114 और फिर जो कोई अपके वंश को तेरे भाइयोंसे मिलाएगा उस पर मैं एक चिन्ह लगाऊंगा, कि वे भी शापित हों।
115 और फिर मैं उस पर चिन्ह लगाऊंगा जो तुझ से और तेरे वंश से लड़ेगा।
116 और मैं फिर कहता हूं, कि जो कोई तेरे पास से चला जाए, वह फिर तेरा वंश न कहलाएगा; और मैं तुम्हें, आदि को आशीर्वाद दूंगा, और जिसे तुम्हारा वंश कहा जाएगा, अब से और हमेशा के लिए: और नफी और उसके वंश के लिए प्रभु की ये प्रतिज्ञाएं थीं ।
117 जब अमलिसियों ने अपने माथे पर अपना चिन्ह लगाना आरम्भ किया, तब वे नहीं जानते थे कि वे परमेश्वर के वचनों को पूरा कर रहे हैं;
118 तौभी वे परमेश्वर के विरुद्ध खुल कर विद्रोह करने निकले थे; इसलिए यह समीचीन था कि शाप उन पर पड़े।
119 अब मैं चाहता हूं कि तुम देखो कि वे शाप अपने ऊपर ले आए;
120 और ऐसा ही हर एक शापित पुरूष भी अपके अपके अपके अपके दण्ड का कारण बनता है।
121 अब ऐसा हुआ कि जराहेमला प्रदेश में लमनाइयों और अमलिसियों द्वारा लड़े गए युद्ध के कुछ ही दिनों बाद, उसी स्थान पर नफी के लोगों पर लमनाइयों की एक और सेना आ गई, जहां पहली सेना अमलिसियों से मिली।
122 और ऐसा हुआ कि उन्हें उनके प्रदेश से खदेड़ने के लिए एक सेना भेजी गई ।
123 अब अलमा स्वयं एक घाव से पीड़ित होने के कारण, इस समय लमनाइयों के विरुद्ध युद्ध करने नहीं गया; परन्तु उस ने उनके विरुद्ध बहुत सी सेना भेजी;
124 और उन्होंने चढ़ाई की और बहुत से लमनाइयों को मार डाला, और उनमें से शेष को उनके प्रदेश की सीमाओं से बाहर निकाल दिया;
125 और फिर वे फिर लौट आए, और देश में मेल मिलाप करने लगे, और अपने शत्रुओं के साथ कुछ समय के लिए परेशान नहीं हुए।
126 अब ये सब काम हो चुके थे, हां, ये सब युद्ध और विवाद न्यायियों के राज्य के पांचवें वर्ष में शुरू और समाप्त हो गए थे;
127 और एक वर्ष में हज़ारों-हजारों जीव अनन्त जगत में भेजे गए,
128 कि वे भले हों या बुरे, चाहे अच्छे हों या बुरे, अपने कर्मों के अनुसार अपना फल प्राप्त करें, कि जिस आत्मा की आज्ञा मानने के लिए उन्होंने सूचीबद्ध किया है, उसके अनुसार अनन्त सुख या अनन्त दुख प्राप्त करें, चाहे वह अच्छी आत्मा हो या बुरी ;
129 क्‍योंकि जिस की आज्ञा मानने को वह सुनता है, उस से हर एक को मजदूरी मिलती है, और यह भविष्‍यद्वक्‍ता की आत्मा के वचनोंके अनुसार मिलता है; इसलिए इसे सत्य के अनुसार होने दो।
130 और इस प्रकार न्यायियों के राज्य का पांचवां वर्ष समाप्त हुआ।

 

अल्मा, अध्याय 2

1 अब ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के छठे वर्ष में, जराहेमला प्रदेश में कोई विवाद या युद्ध नहीं हुआ;
2 लेकिन लोग पीड़ित थे, हां, अपने भाइयों की हानि के लिए, और उनके भेड़-बकरियों और गाय-बैलों के नुकसान के लिए, और उनके अनाज के खेतों के नुकसान के लिए भी, जिन्हें लमनाइयों ने पैरों तले रौंदा और नष्ट कर दिया था ,
3 और उनके दु:ख इतने अधिक थे, कि हर एक प्राणी को शोक हुआ; और उन्होंने विश्वास किया कि यह उनकी दुष्टता और घिनौने कामों के कारण परमेश्वर की ओर से उन पर भेजे गए न्यायदण्ड थे; इसलिए उन्हें अपने कर्तव्य की याद के लिए जगाया गया।

4 और वे कलीसिया को और अधिक पूर्ण रूप से स्थापित करने लगे; हां, और बहुतों ने सीदोन के जल में बपतिस्मा लिया, और परमेश्वर के गिरजे से जुड़ गए;
5 हां, उन्होंने अलमा के हाथों बपतिस्मा लिया था, जिसे उसके पिता अलमा के द्वारा गिरजे के लोगों के ऊपर महायाजक नियुक्त किया गया था ।
6 और ऐसा हुआ कि न्यायियों के राज्य के सातवें वर्ष में, कोई तीन हजार पांच सौ प्राणी थे जो परमेश्वर के गिरजे में एक हो गए, और उन्होंने बपतिस्मा लिया ।
7 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन का सातवां वर्ष समाप्त हुआ; और उस पूरे समय में नित्य शान्ति थी।
8 और न्यायियों के राज्य के आठवें वर्ष में ऐसा हुआ, कि गिरजे के लोग अपके अत्याधिक धन, और उत्तम रेशमी रेशम, और सुतली के मलमल के कारण घमण्ड करने लगे,
9 और उनकी बहुत सी भेड़-बकरियां, गाय-बैल, और उनका सोना, और चान्दी, और सब प्रकार की बहुमूल्य वस्तुएं, जो उन्होंने अपके उद्योग से प्राप्त की थीं;
10 और इन सब बातोंमें उनका घमण्ड बड़ा हुआ, क्योंकि वे अति बहुमूल्य वस्त्र पहिने हुए थे।
11 अब यही अलमा के लिए बहुत कष्ट का कारण था, हां, और उन बहुत से लोगों के लिए जिन्हें अलमा ने शिक्षक होने के लिए पवित्र किया था, और याजक, और प्राचीन, गिरजे के ऊपर थे;
12 हां, उनमें से कई उस दुष्टता के लिए बहुत दुखी थे जिसे उन्होंने देखा था कि उनके लोगों के बीच होना शुरू हो गया था ।
13 क्‍योंकि उन्‍होंने बड़े दु:ख के साथ देखा और देखा, कि कलीसिया के लोग अपनी आंखोंके घमण्ड से, और धन और जगत की फालतू वस्तुओं पर अपना मन लगाने लगे हैं;
14 कि वे एक दूसरे के प्रति ठट्ठा करने लगे, और अपनी इच्छा और इच्छा के अनुसार विश्वास न करनेवालों को सताने लगे।
15 और इस प्रकार न्यायियों के राज्य के इस आठवें वर्ष में, गिरजे के लोगों के बीच बड़े विवाद होने लगे;
16 हां, ईर्ष्या, और कलह, और द्वेष, और उत्पीड़न, और घमण्ड थे, यहां तक कि उन लोगों के घमण्ड से भी अधिक जो परमेश्वर के गिरजे के नहीं थे ।
17 और इस प्रकार न्यायियों के राज्य का आठवां वर्ष समाप्त हुआ; और कलीसिया की दुष्टता उन लोगों के लिए बड़ी ठोकर थी जो गिरजे के नहीं थे; और इस प्रकार चर्च अपनी प्रगति में असफल होने लगा।
18 और ऐसा हुआ कि नौवें वर्ष के प्रारंभ में, अलमा ने गिरजे की दुष्टता को देखा, और उसने यह भी देखा कि गिरजे का उदाहरण अविश्वासियों को अधर्म के एक टुकड़े से दूसरे की ओर ले जाने लगा, इस प्रकार लोगों के विनाश पर लाना;
19 हां, उसने लोगों के बीच बड़ी असमानता देखी, कुछ ने अपने आप को घमंड के साथ उठाया, दूसरों को तुच्छ जाना, जरूरतमंदों, और नग्नों, और भूखे लोगों, और जो प्यासे थे, और जो बीमार थे, उनकी पीठ थपथपाई। और पीड़ित।
20 अब यह लोगों के बीच विलाप का एक बड़ा कारण था, जबकि अन्य स्वयं को अपमानित कर रहे थे, उन लोगों की सहायता कर रहे थे जिन्हें उनकी सहायता की आवश्यकता थी, जैसे कि गरीबों और जरूरतमंदों को अपनी सामग्री प्रदान करना; भूखे को खाना खिलाना; और मसीह के निमित्त सब प्रकार के क्लेश सहे, जो भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार उस दिन की बाट जोहते हुए आएंगे, और इस प्रकार अपने पापों की क्षमा को बनाए रखेंगे;
21 मरे हुओं के जी उठने, इच्छा और सामर्थ के अनुसार, और यीशु मसीह को मृत्यु के बंधन से छुड़ाने के कारण, मैं बड़े आनन्द से भर गया हूं।
22 और अब ऐसा हुआ कि अलमा, परमेश्वर के विनम्र अनुयायियों के कष्टों, और उसके शेष लोगों द्वारा उन पर किए गए अत्याचारों को देखकर, और उनकी सारी असमानता को देखकर, बहुत दुखी होने लगा; तौभी यहोवा की आत्मा ने उसे निराश नहीं किया।
23 और उस ने एक बुद्धिमान पुरूष को चुन लिया, जो कलीसिया के पुरनियों में से था, और उसे लोगों की आवाज के अनुसार अधिकार दिया, कि जो व्यवस्था दी गई थी, उसके अनुसार नियम बनाने और उन्हें लागू करने का अधिकार उसे मिले। बल, दुष्टता और लोगों के अपराधों के अनुसार।
24 अब इस व्यक्ति का नाम नफीहा था, और उसे मुख्य न्यायी नियुक्त किया गया; और वह न्याय आसन पर बैठ गया, कि न्याय करे, और लोगों पर शासन करे।
25 अब अलमा ने उसे गिरजे का महायाजक होने का पद नहीं दिया, लेकिन उसने महायाजक का पद अपने पास ही बनाए रखा; परन्तु उसने न्याय आसन को नफीहा को सौंप दिया:
26 और उसने ऐसा इसलिए किया, ताकि वह स्वयं अपने लोगों के बीच, या नफी के लोगों के बीच जा सके, ताकि वह उन्हें परमेश्वर के वचन का प्रचार कर सके, ताकि उन्हें उनके कर्तव्य के बारे में याद दिला सके,
27 और वह परमेश्वर के वचन के द्वारा, सब घमण्ड और धूर्तता, और सब विवादों को जो उसके लोगों के बीच में थे, नीचे गिरा सकता है, यह देखते हुए कि वह उन्हें वापस लेने का कोई रास्ता नहीं देख सकता है, सिवाय इसके कि वह उनके खिलाफ शुद्ध गवाही में था। ,
28 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के नौवें वर्ष के प्रारंभ में, अलमा ने न्याय आसन को नफीहा को सौंप दिया, और स्वयं को पूर्ण रूप से परमेश्वर की पवित्र व्यवस्था के महायाजक पद तक सीमित कर दिया, इस बात की गवाही देने के लिए शब्द, रहस्योद्घाटन और भविष्यवाणी की भावना के अनुसार।

 

अल्मा, अध्याय 3

परमेश्वर के पवित्र आदेश के अनुसार, महायाजक अलमा ने पूरे प्रदेश में लोगों को उनके शहरों और गांवों में पहुंचाया। 1 अब ऐसा हुआ कि अलमा ने लोगों को परमेश्वर का वचन सुनाना शुरू किया, पहले जराहेमला देश में, और वहां से सारे देश में।
2 और जो वचन उस ने उस गिरजे में जो जराहेमला नगर में स्थापित किया गया था, अपने ही अभिलेख के अनुसार लोगोंसे कहे थे, ये हैं:
3 मैं, अलमा, मेरे पिता अलमा द्वारा, परमेश्वर के गिरजे का महायाजक बनने के लिए, उसके पास इन कामों को करने के लिए परमेश्वर की ओर से शक्ति और अधिकार होने के कारण, देखो, मैं तुमसे कहता हूं, कि उसने एक गिरजाघर स्थापित करना शुरू किया उस देश में जो नफी की सीमा में था;
4 हां, वह प्रदेश जिसे मॉरमन का प्रदेश कहा जाता था; हां, और उसने अपने भाइयों को मॉरमन के जल में बपतिस्मा दिया ।
5 और देखो, मैं तुम से कहता हूं, वे परमेश्वर की दया और सामर्थ के कारण राजा नूह की प्रजा के हाथ से छुड़ाए गए थे।
6 और देखो, उसके बाद, उन्हें निर्जन प्रदेश में लमनाइयों के हाथों गुलामी में लाया गया; हां, मैं तुमसे कहता हूं, वे बंधुआई में थे, और फिर प्रभु ने अपने वचन के बल पर उन्हें दासता से छुड़ाया;
7 और हम इस देश में लाए गए, और यहां हम ने इस देश में भी परमेश्वर की कलीसिया की स्थापना की।
8 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, हे मेरे भाइयों, तुम जो इस गिरजे के हो, क्या तुम अपने पूर्वजों की बंधुआई को पर्याप्त रूप से याद रखते हो ?
9 हां, और क्या आपने उनके प्रति उसकी दया और दीर्घकालीन पीड़ा को पर्याप्त रूप से याद रखा है ?
10 और इसके अलावा, क्या तुमने पर्याप्त रूप से स्मरण रखा है कि उसने उनके प्राणों को नरक से बचाया है ?
11 देखो, उस ने उनका मन बदल दिया; हां, उसने उन्हें गहरी नींद से जगाया, और वे परमेश्वर के पास जागे ।
12 देखो वे अन्धकार में थे; फिर भी, उनकी आत्माएं अनन्त वचन के प्रकाश से प्रकाशित हुई थीं;
13 हां, वे मृत्यु के बंधनों, और नरक की जंजीरों से घिरे हुए थे, और एक अनन्त विनाश उनका इंतजार कर रहा था ।
14 और अब मैं तुम से अपने भाइयों से पूछता हूं, क्या वे नष्ट हो गए थे?
15 देखो, मैं तुम से कहता हूं, नहीं, वे नहीं थे ।
16 और मैं फिर पूछता हूं, कि क्या मृत्यु के बन्धन, और अधोलोक की जंजीरें, जो उन्हें घेरे रहती थीं, टूट गईं, क्या वे खुल गईं?
17 मैं तुम से कहता हूं, हां, वे छूट गए थे, और उनके प्राण बढ़ते गए, और उन्होंने छुड़ाने वाले प्रेम का गीत गाया ।
18 और मैं तुम से कहता हूं कि वे बचाए गए हैं ।
19 और अब मैं तुम से पूछता हूं कि वे किन शर्तों पर बचाए गए हैं? हां, उनके पास उद्धार की आशा करने के लिए कौन से आधार थे?
20 उनके मृत्यु के बंधन से छूटने का क्या कारण है? हाँ, और नरक की जंजीरें भी?
21 देखो, मैं तुमसे कह सकता हूं: क्या मेरे पिता अलमा ने उन बातों पर विश्वास नहीं किया जो अबिनादी के मुंह से निकली थीं ? और क्या वह एक पवित्र नबी नहीं था?
22 क्या उसने परमेश्वर के वचन नहीं कहे, और मेरे पिता अलमा ने उन पर विश्वास किया?
23 और उसके विश्वास के अनुसार उसके मन में एक बड़ा परिवर्तन हुआ।
24 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यह सब सच है ।
25 और देखो, उस ने तुम्हारे पुरखाओं को वचन का प्रचार किया, और उनके मन में भी बड़ा परिवर्तन हुआ; और उन्होंने अपने आप को दीन किया, और सच्चे और जीवित परमेश्वर पर भरोसा रखा।
26 और देखो, वे अन्त तक विश्वासयोग्य रहे; इसलिए वे बच गए।
27 और अब देखो, गिरजे के मेरे भाइयों, मैं तुम से पूछता हूं, क्या तुम आत्मिक रूप से परमेश्वर से पैदा हुए हो?
28 क्या तुम ने उसका स्वरूप अपके मुंहोंसे ग्रहण किया है?
29 क्या तुमने अपने हृदयों में इस शक्तिशाली परिवर्तन का अनुभव किया है?
30 क्या तुम उसके छुटकारे पर विश्वास करते हो जिस ने तुम्हें बनाया है?
31 क्या तुम विश्वास की आंख से देखते हो, और इस नश्वर शरीर को अमरता में जी उठे हुए, और इस भ्रष्टता को अविनाशी रूप से उठा कर देखते हो, कि परमेश्वर के साम्हने खड़े हो जाओ, और नश्वर शरीर में किए गए कर्मों के अनुसार न्याय किया जाए?
32 मैं तुम से कहता हूं, क्या तुम कल्पना कर सकते हो, कि उस दिन तुम से यह कहते हुए यहोवा का शब्द सुनते हो, कि हे धन्य हो मेरे पास आओ, क्योंकि देखो, तुम्हारे काम उस समय धर्म के काम हुए हैं, धरती?
33 या क्या तुम अपने मन में सोचते हो, कि उस दिन तुम यहोवा से झूठ बोलकर कह सकते हो, कि हे प्रभु, हमारे काम पृथ्वी पर धर्म के काम हुए हैं, और वह तुम्हारा उद्धार करेगा?
34 या अन्यथा, क्या तुम अपने आप को परमेश्वर के न्यायाधिकरण के सामने लाए जाने की कल्पना कर सकते हो, तुम्हारी आत्मा अपराध और पश्चाताप से भरी हुई है; अपने सारे अपराध बोध को याद रखना;
35 हां, अपनी सारी दुष्टता का पूर्ण स्मरण; हां, एक स्मरण है कि तुमने परमेश्वर की आज्ञाओं का उल्लंघन किया है?
36 मैं तुम से कहता हूं, क्या तुम उस दिन शुद्ध मन और शुद्ध हाथों से परमेश्वर की ओर देख सकते हो?
37 मैं तुम से कहता हूं, कि क्या तुम अपके मुंहोंपर परमेश्वर की मूरत खुदी हुई आंखें उठाकर देख सकते हो?
38 मैं तुम से कहता हूं, जब तुम शैतान के आधीन होने के लिये अपने आप को समर्पित कर देते हो, तो क्या तुम उद्धार पाने के विषय में सोच सकते हो?
39 मैं तुम से कहता हूं, कि उस दिन तुम जान लोगे, कि तुम्हारा उद्धार नहीं हो सकता; क्योंकि जब तक कि उसके वस्त्र सफेद न किए जाएं, तब तक कोई नहीं बच सकता।
40 हां, उसके वस्त्र तब तक शुद्ध किए जाएं, जब तक कि वे उसके लहू के द्वारा, जिसके विषय में हमारे पुरखाओं ने कहा है, जो अपके लोगोंको उनके पापोंसे छुड़ाने आएगा, सब दाग से शुद्ध हो जाएं।
41 और अब हे मेरे भाइयो, मैं तुम से पूछता हूं, कि यदि तुम अपके वस्त्र लोहू और सब प्रकार की मलिनता से सने हुए हो, तो परमेश्वर के बेड़े के साम्हने खड़े रहोगे, और तुम में से कोई कैसा अनुभव करेगा?
42 देखो, ये बातें तुम्हारे विरुद्ध क्या गवाही देंगी?
43 देखो, क्या वे गवाही नहीं देंगे कि तुम हत्यारे हो, हां, और यह भी कि तुम हर प्रकार की दुष्टता के दोषी हो ?
44 देखो, मेरे भाइयों, क्या तुम समझते हो कि ऐसा कोई इब्राहीम, इसहाक, और याकूब, और उन सब पवित्र भविष्यद्वक्ताओं के साथ, जिनके वस्त्र शुद्ध किए गए हैं, परमेश्वर के राज्य में बैठने का स्थान पा सकते हैं, और बेदाग, शुद्ध और सफेद?
45 मैं तुम से कहता हूं, नहीं, जब तक कि तुम हमारे सृष्टिकर्ता को आरम्भ से झूठा न ठहराओ, वा यह समझो कि वह आरम्भ से झूठा है, तुम यह नहीं समझ सकते कि ऐसे लोगों को स्वर्ग के राज्य में स्थान मिल सकता है, परन्तु वे फेंक दिए जाएंगे। क्योंकि वे शैतान के राज्य की सन्तान हैं।
46 और अब देखो, मैं तुम से अपने भाइयों से कहता हूं, कि यदि तुम्हारा मन बदल गया होता, और तुम्हारा प्रेम छुड़ाने का गीत गाने का मन करता, तो मैं पूछता, क्या तुम अब ऐसा महसूस कर सकते हो?
47 क्या तुम परमेश्वर के साम्हने अपने आप को निर्दोष रखकर चले हो?
48 क्या तुम कह सकते हो, कि यदि तुम इसी समय अपने भीतर मरने के लिये बुलाए जाते, कि तुम काफ़ी दीन होते?
49 कि तुम्हारे वस्त्र मसीह के लोहू के द्वारा शुद्ध और श्वेत हो गए हैं, जो अपनी प्रजा को उनके पापों से छुड़ाने को आएगा?
50 देखो, क्या तुम्हारा घमण्ड छीन लिया गया है ? मैं तुम से कहता हूं, यदि तुम नहीं हो, तो परमेश्वर से मिलने को तैयार नहीं हो।
51 देखो, तुम्हें शीघ्र तैयारी करनी है, क्योंकि स्वर्ग का राज्य शीघ्र ही निकट है, और ऐसे मनुष्य का अनन्त जीवन नहीं है ।
52 देख, मैं कहता हूं, क्या तुम में से कोई ऐसा है जिस की डाह दूर न हुई हो?
53 मैं तुम से कहता हूं, कि ऐसा तैयार नहीं, और मैं चाहता हूं, कि वह फुर्ती से तैयार करे, क्योंकि वह घड़ी निकट है, और वह नहीं जानता कि समय कब आएगा; क्‍योंकि ऐसा कोई निर्दोष नहीं पाया जाता।
54 और मैं तुम से फिर कहता हूं, क्या तुम में से कोई ऐसा है जो अपके भाई का ठट्ठा करे, वा उस पर ज़ुल्म करे?
55 धिक्कार है ऐसे पर, क्योंकि वह तैयार नहीं है, और समय आ गया है कि मन फिराए, नहीं तो उसका उद्धार नहीं हो सकता;
56 हां, तुम सब अधर्म के काम करनेवालों पर हाय; मन फिराओ, मन फिराओ, क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने यह कहा है।
57 देखो, वह सब मनुष्योंके लिथे न्यौता भेजता है; क्योंकि उन पर दया की बाहें फैली हुई हैं, और वह कहता है, मन फिरा, तो मैं तुझे ग्रहण करूंगा;
58 हां, वह कहता है, मेरे पास आओ और तुम जीवन के वृक्ष का फल खाओगे; हां, तुम रोटी और जीवन के जल में से स्वतंत्र खाओगे;
59 हां, मेरे पास आओ, और धर्म के काम करो, और तुम को काटा और आग में न झोंकोगे;
60 क्योंकि देखो, समय आ गया है कि जो कोई अच्छा फल नहीं लाता, या जो कोई धर्म के काम नहीं करता, उसके लिए विलाप और शोक का कारण होगा।
61 हे अधर्म के काम करनेवालों; तुम जो जगत की व्यर्थ वस्तुओं से फूले हुए हो; तुम जिन्होंने धर्म के मार्गों को जान लेने का दावा किया है; तौभी उन भेड़ों की नाईं जिनका कोई चरवाहा नहीं है, भटक गए हैं, तौभी चरवाहे ने तुझे पुकारा है, और तू अब भी तुझे पुकारता है, तौभी तुम उसकी बात न मानोगे।
62 सुन, मैं तुझ से कहता हूं, कि अच्छा चरवाहा तुझे बुलाता है; हां, और वह तुम्हें अपने नाम से पुकारता है, जो कि मसीह का नाम है;
63 और यदि तुम उस अच्छे चरवाहे की बात नहीं मानते, जिसके द्वारा तुम बुलाए जाते हो, तो देखो, तुम अच्छे चरवाहे की भेड़ नहीं हो।
64 और अब यदि तुम अच्छे चरवाहे की भेड़ नहीं हो, तो किस भेड़शाला के हो?
65 देख, मैं तुम से कहता हूं, कि शैतान तुम्हारा चरवाहा है, और तुम उसके झुंड के हो; और अब इससे कौन इनकार कर सकता है?
66 देख, मैं तुम से कहता हूं, कि जो कोई इस से इन्कार करे, वह झूठा और शैतान की सन्तान है;
67 क्योंकि मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ अच्छा है, वह परमेश्वर की ओर से है, और जो कुछ बुरा है, वह शैतान की ओर से है;
68 इस कारण यदि कोई भले काम करता है, तो वह भले चरवाहे की बात सुनता है; और वह उसका अनुसरण करता है;
69 परन्तु जो कोई बुरे काम करता है, वह शैतान की सन्तान ठहरता है; क्योंकि वह उसकी सुनता है, और उसके पीछे हो लेता है।
70 और जो कोई ऐसा करे, उसे उसकी मजदूरी मिलनी चाहिए; इसलिए, उसकी मजदूरी के लिए वह मृत्यु को प्राप्त करता है, जैसा कि धार्मिकता से संबंधित है, सभी अच्छे कामों के लिए मरा हुआ है ।
71 और अब हे मेरे भाइयो, मैं चाहता हूं कि तुम मेरी सुन लो, क्योंकि मैं अपने प्राण की शक्ति से बोलता हूं;
72 क्योंकि देखो, मैं ने तुम से सीधी बात कही है, कि तुम भूल नहीं कर सकते, या परमेश्वर की आज्ञाओं के अनुसार बात नहीं कर सकते ।
73 क्योंकि परमेश्वर की उस पवित्र व्यवस्था के अनुसार जो मसीह यीशु में है, मैं इसी रीति से बोलने के लिथे बुलाया गया हूं:
74 हां, मुझे आज्ञा दी गई है कि मैं खड़ा होकर इन लोगों को उन बातों की गवाही दूं जो हमारे पूर्वजों ने आने वाली बातों के संबंध में कही हैं ।
75 और यह सब कुछ नहीं है। क्या तुम नहीं समझते कि मैं इन बातों को स्वयं जानता हूं?
76 देखो, मैं तुम से गवाही देता हूं, कि मैं जानता हूं कि जो बातें मैं ने कही हैं वे सच हैं ।
77 और तुम कैसे समझते हो कि मैं उनके ज़मानत के बारे में जानता हूँ?
78 देखो, मैं तुम से कहता हूं, वे परमेश्वर के पवित्र आत्मा के द्वारा मुझ पर प्रगट हुए हैं ।
79 देख, मैं बहुत दिन से उपवास और प्रार्थना करता आया हूं, कि मैं अपक्की इन बातोंको जानूं।
80 और अब मैं स्वयं को जानता हूं कि वे सत्य हैं; क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने उन्हें अपके पवित्र आत्मा के द्वारा मुझ पर प्रगट किया है; और यह रहस्योद्घाटन की आत्मा है जो मुझ में है।
81 और इसके अतिरिक्त, मैं तुम से कहता हूं, कि जैसा मुझ पर इस प्रकार प्रगट किया गया है, कि जो बातें हमारे पुरखाओं ने कही हैं, वे सच्ची हैं,
82 वैसे ही भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार, जो मुझ में है, और जो परमेश्वर के आत्मा के प्रकट होने से भी है, मैं तुम से कहता हूं, कि जो कुछ आने वाला है उसके विषय में जो कुछ मैं तुम से कहूं, वह मैं अपने आप से जानता हूं। , सच हैं,
83 और मैं तुम से कहता हूं, कि मैं जानता हूं, कि यीशु मसीह आएगा; हां, पुत्र, पिता का इकलौता भिखारी, अनुग्रह, और दया, और सच्चाई से परिपूर्ण ।
84 और देखो, वही जगत के पापों को हर लेने आता है; हां, प्रत्येक मनुष्य के पाप जो उसके नाम पर अटल विश्वास रखते हैं ।
85 और अब मैं तुम से कहता हूं, कि जिस रीति से मुझे बुलाया गया है वह यह है; हां, अपने प्रिय भाइयों को प्रचार करने के लिए; हां, और हर एक जो उस प्रदेश में रहता है;
86 हां, बंधुआ और स्वतंत्र, क्या बूढ़े क्या जवान, क्या सब को प्रचार करना; हां, मैं तुम से कहता हूं, वृद्ध, और अधेड़, और उदीयमान पीढ़ी भी; हां, उन्हें पुकारने के लिए कि उन्हें पश्चाताप करना चाहिए और नया जन्म लेना चाहिए;
87 हां, आत्मा योंकहती है, पृथ्वी के छोर तक मन फिराओ, क्योंकि स्वर्ग का राज्य शीघ्र ही निकट है; हां, परमेश्वर का पुत्र अपनी महिमा में, अपनी पराक्रम, प्रताप, शक्ति और प्रभुत्व में आता है ।
88 हां, मेरे प्रिय भाइयों, मैं तुम से कहता हूं, कि आत्मा कहता है, देखो, सारी पृय्वी के राजा का तेज है; और स्वर्ग का राजा सब मनुष्योंके बीच शीघ्र ही चमकेगा;
89 और आत्मा ने भी मुझ से कहा, हां, बड़े शब्‍द से मेरी दोहाई देता है, कि निकलकर इन लोगों से कहो, मन फिराओ, क्‍योंकि जब तक तुम मन फिराओ, तब तक तुम स्‍वर्ग के राज्‍य के वारिस नहीं हो सकते।
90 और मैं तुम से फिर कहता हूं, कि आत्मा कहता है, देखो, कुल्हाड़ा वृझ की जड़ में रखा गया है; इस कारण जो पेड़ अच्छा फल नहीं लाता, वह काटा और आग में झोंका जाएगा; हां, ऐसी आग जिसे भस्म नहीं किया जा सकता; यहां तक कि एक अजेय आग भी।
91 देख, और स्मरण रखना, कि पवित्र ने यह कहा है।
92 और अब मेरे प्रिय भाइयो, मैं तुम से कहता हूं, कि क्या तुम इन बातोंका साम्हना कर सकते हो; हां, क्या तुम इन बातों को अलग रख सकते हो, और पवित्र को अपने पांवों तले रौंद सकते हो;
93 हां, क्या तुम अपने हृदय के घमण्ड से फूले नहीं समा सकते; हां, क्या तुम अब भी महँगे वस्त्र पहिनकर, और संसार की व्यर्थ वस्तुओं पर, अपनी दौलत पर अपना मन लगाते रहोगे;
94 हां, क्या आप यह मानने में लगे रहेंगे कि आप एक दूसरे से बेहतर हैं;
95 हां, क्या तुम अपने उन भाइयों के उत्पीड़न में लगे रहोगे, जो अपने आप को दीन करते हैं, और परमेश्वर की उस पवित्र व्यवस्था के अनुसार चलते हैं, जिसके द्वारा वे पवित्र आत्मा के द्वारा पवित्र किए गए, इस गिरजे में लाए गए हैं; और वे ऐसे काम करते हैं जो पश्‍चाताप के योग्य हैं;
96 हां, और क्या तुम कंगालों, और दरिद्रों की ओर से मुंह फेरने में, और उन से अपना धन रोके रखने में लगे रहोगे?
97 और अन्त में, तुम सब जो अपनी दुष्टता में लगे रहते हो, मैं तुम से कहता हूं, कि ये वे हैं जिन्हें काटकर आग में झोंक दिया जाएगा, यदि वे शीघ्र पश्चाताप न करें।
98 और अब मैं तुम से कहता हूं, कि तुम सब जो अच्छे चरवाहे की बात पर चलने की इच्छा रखते हो, दुष्टों में से निकल आओ, और अलग रहो, और उनकी अशुद्ध वस्तुओं को मत छूओ;
99 और देखो, उनके नाम मिटा दिए जाएंगे, कि दुष्टोंके नाम धर्मियोंके नाम में गिने न जाएं, कि परमेश्वर का वह वचन पूरा हो, जो कहता है, कि दुष्टोंके नाम किसी से न मिलाए जाएं। मेरे लोगों के नाम।
100 क्योंकि धर्मियों के नाम जीवन की पुस्तक में लिखे जाएंगे; और मैं अपके दहिने हाथ उनको भाग दूंगा।
101 और अब हे मेरे भाइयो, तुम को इसके विरोध में क्या कहना?
102 मैं तुम से कहता हूं, कि यदि तुम उसके विरोध में बोलो तो कोई बात नहीं, क्योंकि परमेश्वर का वचन अवश्य पूरा होगा।
103 क्‍योंकि तुम में ऐसा कौन चरवाहा है जिसके पास बहुत सारी भेड़-बकरियां हों, क्या उन की चौकसी न करता, कि भेड़िये घुसकर उसकी भेड़-बकरियोंको न फाड़ें?
104 और देखो, यदि कोई भेड़-बकरी उसके झुण्ड में जाए, तो क्या वह उसे बाहर नहीं निकालता? हाँ, और अंत में, यदि वह कर सकता है, तो वह उसे नष्ट कर देगा।
105 और अब मैं तुम से कहता हूं, कि अच्छा चरवाहा तुम्हारे पीछे पीछे बुलाता है; और यदि तुम उसकी बात मानोगे, तो वह तुम्हें अपनी भेड़शाला में पहुंचाएगा, और तुम उसकी भेड़ें हो जाओगे;
106 और वह तुम्हें आज्ञा देता है, कि किसी हिंसक भेड़िये को अपने बीच में आने न पाओ, ऐसा न हो कि तुम नष्ट हो जाओ।
107 और अब, मैं, अलमा, जिस ने मुझे आज्ञा दी है उसी की भाषा में तुम्हें आज्ञा देता हूं, कि तुम उन बातों का पालन करना जो मैं ने तुम से कही हैं ।
108 मैं तुम से जो कलीसिया के हैं, आज्ञा ही से बातें करता हूं; और जो कलीसिया के नहीं हैं, उन से मैं न्यौता देकर कहता हूं, कि आओ, और मन फिराव का बपतिस्मा लो, कि तुम भी जीवन के वृक्ष के फल के भागी हो सको।

 

अल्मा, अध्याय 4

1 और अब ऐसा हुआ कि जब अलमा ने गिरजे के लोगों से बात करना समाप्त कर दिया, जो कि जराहेमला शहर में स्थापित था, उसने परमेश्वर के आदेश के अनुसार अपने हाथों पर हाथ रखकर याजकों और बुजुर्गों को नियुक्त किया, चर्च की अध्यक्षता करना और उसकी निगरानी करना।
2 और ऐसा हुआ कि जो कोई भी गिरजे से संबंधित नहीं था, जिन्होंने अपने पापों से पश्चाताप किया, उन्होंने पश्चाताप के लिए बपतिस्मा लिया, और उन्हें गिरजे में ग्रहण किया गया ।
3 और ऐसा भी हुआ कि जो कोई गिरजे का था, उसने अपनी दुष्टता से पश्चाताप नहीं किया, और परमेश्वर के सामने अपने आप को दीन नहीं किया;
4 मेरा तात्पर्य उन लोगों से है जो अपने मन के घमण्ड से ऊंचे उठे थे; वही थे
ठुकरा दिए गए, और उनके नाम मिटा दिए गए, कि उनके नाम धर्मियों में गिने न गए; और इस प्रकार उन्होंने जराहेमला शहर में चर्च की व्यवस्था स्थापित करना शुरू कर दिया।
5 अब मैं चाहता हूं कि तुम समझो कि परमेश्वर का वचन सभी के लिए उदार था; कि कोई भी परमेश्वर का वचन सुनने के लिए एक साथ इकट्ठा होने के विशेषाधिकार से वंचित नहीं था;
6 तौभी परमेश्वर की सन्तानों को आज्ञा दी गई थी कि जो लोग परमेश्वर को नहीं जानते उनके प्राणों की भलाई के लिथे वे बार-बार इकट्ठे हों, और उपवास और बड़ी प्रार्थना में सम्मिलित हों।
7 और अब ऐसा हुआ कि जब अलमा ने इन नियमों को बना लिया, तो वह उनसे दूर हो गया, हां, उस गिरजे से जो जराहेमला शहर में था,
8 और सीदोन नदी के पूर्व में गिदोन की घाटी में चला गया, वहाँ एक शहर बनाया गया था जो गिदोन का शहर कहलाता था, जो कि गिदोन नामक घाटी में था, जो मारे गए व्यक्ति के नाम पर बुलाया गया था नेहोर के हाथ से तलवार लिए हुए।
9 और अलमा गया और उस गिरजे को परमेश्वर का वचन सुनाना शुरू किया जो गिदोन की घाटी में स्थापित किया गया था, उस वचन की सच्चाई के प्रकटीकरण के अनुसार जो उसके पिताओं द्वारा कहा गया था,
10 और उस भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार जो उस में थी, परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह की गवाही के अनुसार, जो अपके लोगोंको उनके पापोंसे छुड़ाने, और उस पवित्र व्यवस्था के द्वारा जिसके द्वारा वह बुलाया गया था, आने को आया। और इस प्रकार लिखा है। तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 5

अलमा के वे शब्द जो उसने गिदोन के लोगों को अपने स्वयं के अभिलेख के अनुसार दिए थे। 1 मेरे प्यारे भाइयों को देखो, यह देखते हुए कि मुझे तुम्हारे पास आने की अनुमति दी गई है, इसलिए मैं तुम्हें अपनी भाषा में संबोधित करने का प्रयास करता हूं;
2 हां, अपने ही मुंह से, यह देखते हुए कि यह पहली बार है कि मैंने अपने मुंह के शब्दों के द्वारा आप से बात की है, मैं पूरी तरह से न्याय आसन तक सीमित हो गया था, और बहुत काम था कि मैं तुम्हारे पास नहीं आ सका;
3 और मैं भी इस समय नहीं आ सकता था, यदि न्याय आसन किसी दूसरे को मेरे स्थान पर राज्य करने के लिए नहीं दिया जाता था; और यहोवा ने बड़ी दया करके मुझे तुम्हारे पास आने की आज्ञा दी है।
4 और देखो, मैं बड़ी आशा और बहुत इच्छा के साथ आया हूं कि मैं पाऊं कि तुम परमेश्वर के सामने अपने आप को दीन कर रहे थे, और कि तुम उसके अनुग्रह की याचना करते रहे, कि मैं पाऊं कि तुम उसके सामने निर्दोष थे;
5 कि मैं यह जानूं कि जराहेमला में हमारे भाई जिस भयानक दुविधा में थे, उसमें तुम नहीं थे:
6 परन्तु परमेश्वर का नाम धन्य है, कि उस ने मुझे यह जानने दिया है, हां, मुझे यह जानकर बहुत बड़ा आनन्द दिया है कि वे उसकी धार्मिकता के मार्ग में फिर से स्थापित हो गए हैं ।
7 और परमेश्वर के उस आत्मा के अनुसार जो मुझ में है, मुझे भरोसा है, कि मैं भी तुम्हारे कारण आनन्दित रहूंगा;
8 तौभी मैं नहीं चाहता, कि जराहेमला के भाइयोंके लिथे इतने क्लेशों और दुखोंके कारण मेरा आनन्द तुझ पर आए;
9 क्योंकि देखो, बहुत क्लेशों और दुखों से उबरने के बाद मेरा आनन्द उन पर आता है।
10 परन्तु देखो, मुझे भरोसा है कि तुम इतने अविश्वास की स्थिति में नहीं हो जितने कि तुम्हारे भाई थे:
11 मुझे भरोसा है, कि तुम अपके मन के घमण्ड से नहीं बढ़े हो; हां, मुझे भरोसा है कि तुमने अपना मन धन, और संसार की व्यर्थ वस्तुओं पर नहीं लगाया है;
12 हां, मुझे भरोसा है कि तुम मूर्तियों की पूजा नहीं करते, परन्तु यह कि तुम सच्चे और जीवित परमेश्वर की उपासना करते हो, और यह कि तुम अपने पापों की क्षमा के लिए एक अनंत विश्वास के साथ तत्पर रहते हो जो आने वाला है ।
13 क्योंकि देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि बहुत सी बातें आने वाली हैं; और देखो, एक बात उन सब से अधिक महत्वपूर्ण है:
14 क्योंकि देखो, वह समय दूर नहीं, जब छुड़ानेवाला जीवित होकर अपके लोगोंके बीच आएगा।
15 देखो, मैं यह नहीं कहता कि वह अपके नश्वर निवास में निवास के समय हमारे बीच आएगा; क्योंकि देखो, आत्मा ने मुझ से यह नहीं कहा है कि ऐसा होना चाहिए ।
16 अब इस बात के विषय में मैं नहीं जानता; परन्तु मैं इतना ही जानता हूं, कि यहोवा परमेश्वर को वह सब काम करने का सामर्थ है जो उसके वचन के अनुसार है।
17 परन्तु देखो, आत्मा ने मुझ से यह कहते हुए बहुत कुछ कहा है: इन लोगों से यह कहते हुए दोहाई दो, पश्चाताप करो, पश्चाताप करो और प्रभु का मार्ग तैयार करो, और उसके पथों पर चलो, जो सीधे हैं:
18 क्योंकि देखो, स्वर्ग का राज्य निकट है, और परमेश्वर का पुत्र पृथ्वी पर आनेवाला है।
19 और देखो, वह यरूशलेम में मरियम से उत्पन्न होगा, जो हमारे पूर्वजों की भूमि है, वह एक कुंवारी, एक अनमोल और चुना हुआ पात्र है, जो छाया में रहेगा, और पवित्र आत्मा की शक्ति से गर्भ धारण करेगा, और आगे लाएगा। एक पुत्र, हां, यहां तक कि परमेश्वर का पुत्र भी;
20 और वह पीड़ा, और क्लेश, और सब प्रकार की परीक्षाओं को सहता हुआ निकलेगा;
21 और यह इसलिये हुआ कि वह वचन पूरा हो, जो कहता है, कि वह अपक्की प्रजा की पीड़ा और व्याधि उस पर ले लेगा; और वह उसे मृत्यु पर ले जाएगा, कि वह मृत्यु के बंधनों को खोल देगा जो उसके लोगों को बांधते हैं:
22 और वह उनकी दुर्बलताओं को उस पर ले लेगा, कि उसके पेट मांस के अनुसार दया से भर जाएं, कि वह शरीर के अनुसार जान सके कि अपनी प्रजा की दुर्बलताओं के अनुसार किस प्रकार उनकी सहायता की जाए।
23 अब आत्मा सब कुछ जानता है; तौभी परमेश्वर का पुत्र शरीर के अनुसार दु:ख उठाता है, कि अपक्की प्रजा के पापों को अपने ऊपर ले ले, और अपने छुटकारे की शक्ति के अनुसार उनके अपराध मिटाए; और अब देखो, जो साक्षी मुझ में है वह यह है।
24 अब मैं तुम से कहता हूं, कि मन फिराओ, और नया जन्म पाओ: आत्मा के लिए
कहते हैं, यदि तुम नया जन्म नहीं लेते, तो स्वर्ग के राज्य के वारिस नहीं हो सकते;
25 सो आओ और मन फिराव का बपतिस्मा पाओ, कि तुम अपने पापों से धुल जाओ, कि तुम परमेश्वर के मेम्ने पर विश्वास करो, जो जगत के पापों को उठा ले जाता है, जो बचाने और सब अधर्म से शुद्ध करने में सामर्थी है;
26 हां, मैं तुम से कहता हूं, आओ और मत डरो, और सब पापों को जो तुम को सहजता से घेर लेते हैं, और जो तुम्हें विनाश के लिये बांधते हैं, अलग कर दे;
27 हां, आओ और निकलो, और अपने परमेश्वर को दिखाओ कि तुम अपने पापों का पश्चाताप करने को तैयार हो, और उसकी आज्ञाओं को मानने के लिए उसके साथ एक वाचा में प्रवेश करो, और आज के दिन बपतिस्मा के जल में जाकर उसकी गवाही दो। ;
28 और जो कोई ऐसा करेगा, और अब से परमेश्वर की आज्ञाओं को मानता रहेगा, वही स्मरण रखेगा, कि मैं उस से कहता हूं, हां, वह स्मरण रखेगा कि मैं ने उस से कहा है, कि पवित्र की गवाही के अनुसार उसका अनन्त जीवन होगा आत्मा, जो मुझ में गवाही देती है।
29 और अब मेरे प्रिय भाइयों, क्या तुम इन बातों पर विश्वास करते हो?
30 देखो, मैं तुम से कहता हूं, हां, मैं जानता हूं कि तुम उन पर विश्वास करते हो; और जिस रीति से मैं जानता हूं, कि तुम उन पर विश्वास करते हो, वह उस आत्मा के प्रगट होने से है जो मुझ में है।
31 और अब क्योंकि तुम्हारा विश्वास उसके विषय में दृढ़ है, हां, जो बातें मैं ने कही हैं, वह मेरा आनन्द है ।
32 क्योंकि जैसा मैं ने तुम से आरम्भ से कहा था, कि मेरी बहुत इच्छा थी कि तुम अपने भाइयों के समान दुविधा में न पड़ो, वैसे ही मैंने पाया है कि मेरी इच्छाएं पूरी हुई हैं।
33 क्योंकि मैं ने जान लिया है, कि तुम धर्म के मार्ग में हो; मैं ने जान लिया है, कि तुम उस मार्ग में हो, जो परमेश्वर के राज्य की ओर ले जाता है;
34 हां, मैं समझता हूं कि तुम उसके मार्ग सीधे कर रहे हो, मैं ने देखा है कि उसके वचन की गवाही से तुम्हें यह प्रगट हुआ है, कि वह टेढ़े मार्गों पर नहीं चल सकता;
35 जो कुछ उस ने कहा है, उससे न तो वह अलग है, और न दाहिनी ओर से बाईं ओर मुड़ने की छाया है, और न उस से जो गलत है की ओर है; इसलिए, उसका पाठ्यक्रम एक शाश्वत दौर है।
36 और वह अपवित्र मन्दिरों में नहीं रहता; न तो गन्दगी, और न कोई अशुद्ध वस्तु परमेश्वर के राज्य में ग्रहण की जा सकती है;
37 इस कारण मैं तुम से कहता हूं, वह समय आएगा, वरन अन्तिम दिन होगा, कि जो मलिन है, वह अपक्की मलिनता में बना रहेगा।
38 और अब मेरे प्रिय भाइयो, मैं ने तुम से ये बातें कहीं, कि मैं तुम्हें परमेश्वर के प्रति तुम्हारे कर्तव्य का बोध कराऊं, कि तुम उसके साम्हने निर्दोष चल सको; कि तुम परमेश्वर की उस पवित्र व्यवस्था के अनुसार चलो, जिसके अनुसार तुम्हें ग्रहण किया गया है।
39 और अब मैं चाहता हूं कि तुम विनम्र, और आज्ञाकारी, और नम्र बनो; आसानी से समझा जा सकता है; धैर्य और लंबी पीड़ा से भरा हुआ; सभी चीजों में संयमी होना; हर समय परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने में परिश्रमी होना;
40 जो कुछ तुम्हें चाहिए, वह मांगना, चाहे आत्मिक और लौकिक हो; जो कुछ तुम प्राप्त करते हो उसके लिए सदा परमेश्वर का धन्यवाद करते रहो,
41 और देखो, कि तुम में विश्वास, आशा और उदारता है, तब तुम सदा भले कामोंमें बढ़ते जाओ;
42 और यहोवा तुझे आशीष दे, और तेरे वस्त्र निष्कलंक रखे, कि अन्त में तुझे इब्राहीम, इसहाक, और याकूब, और उन पवित्र भविष्यद्वक्ताओंके संग बैठने के लिथे लाया जाए जो जगत के आरम्भ से हैं, और तेरे वस्त्र निष्कलंक हैं। जैसे स्वर्ग के राज्य में उनके वस्त्र निष्कलंक हैं, वैसा ही फिर कभी बाहर न जाना।
43 और अब मेरे प्रिय भाइयों, मैं ने ये बातें तुम से उस आत्मा के अनुसार कही हैं जो मुझ में गवाही देती है; और जो अत्याधिक परिश्रम और ध्यान तुम ने मेरे वचन को दिया है, उसके कारण मेरा मन अति आनन्दित होता है।
44 और अब, परमेश्वर की शांति तुम पर, और तुम्हारे घरों और भूमि पर, और तुम्हारे भेड़-बकरियों और गाय-बैलों पर, और जो कुछ तुम्हारा है, उस पर बनी रहे; तेरी स्त्रियाँ और बाल-बच्चे, तेरे विश्वास और भले कामों के अनुसार, इस समय से लेकर युगानुयुग तक। और इस प्रकार मैंने बात की है। तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 6

1 और अब ऐसा हुआ कि अलमा गिदोन के प्रदेश से लौट आया, गिदोन के लोगों को बहुत सी ऐसी बातें सिखाने के बाद जिन्हें लिखा नहीं जा सकता, गिरजे की व्यवस्था को स्थापित करने के बाद, जैसा कि उसने जराहेमला प्रदेश में पहले किया था ;
2 हां, वह जराहेमला में अपने घर को लौट गया ताकि वह अपने द्वारा किए गए परिश्रम से आराम कर सके ।
3 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के नौवें वर्ष का अंत हुआ ।
4 और ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के दसवें वर्ष के प्रारंभ में, अलमा वहां से चला गया, और सीदोन नदी के पश्चिम में मेलेक प्रदेश में अपनी यात्रा की, पश्चिम में जंगल की सीमाओं से लगे;
5 और वह मेलेक देश में लोगोंको परमेश्वर की उस पवित्र व्यवस्था के अनुसार, जिसके द्वारा वह बुलाया गया था, उपदेश देने लगा; और वह मेलेक के सारे देश में लोगोंको उपदेश देने लगा।
6 और ऐसा हुआ कि लोग उसके पास उस प्रदेश की सारी सीमाओं के पार आए जो जंगल की ओर था ।
7 और उन्होंने सारे देश में बपतिस्मा लिया, और जब वह मेलेक में अपना काम पूरा कर चुका, तब वहां से चला गया, और मेलेक देश के उत्तर में तीन दिन की यात्रा की; और वह अम्मोनिहा नामक एक नगर में आया।
8 अब नफी के लोगों का यह रिवाज था कि वे अपने प्रदेशों, और अपने नगरों, और अपने गांवों को, हां, यहां तक कि अपने सभी छोटे गांवों को भी उसी के नाम पर बुलाएं, जिसके वे पहले अधिकारी थे; और ऐसा ही अम्मोनिहा के प्रदेश के साथ हुआ।
9 और ऐसा हुआ कि जब अलमा अम्मोनिहा शहर आया, तो उसने उन्हें परमेश्वर के वचन का प्रचार करना शुरू किया ।
10 अब शैतान ने अम्मोनिहा शहर के लोगों के दिलों पर अपनी पकड़ मजबूत कर ली थी; इसलिए उन्होंने अलमा के शब्दों को नहीं माना ।
11 तौभी अलमा ने आत्मा में बहुत परिश्रम किया, परमेश्वर के साथ शक्तिशाली प्रार्थना में कुश्ती की, ताकि वह अपनी आत्मा उन लोगों पर उंडेल दे जो शहर में थे: कि वह यह भी अनुदान दे कि वह उन्हें पश्चाताप के लिए बपतिस्मा दे;
12 फिर भी, उन्होंने उससे यह कहते हुए अपने हृदय कठोर कर लिए, देखो, हम जानते हैं कि आप अलमा हैं; और हम जानते हैं, कि उस कलीसिया का जिसे तू ने देश के बहुत से भागों में अपक्की रीति के अनुसार स्थिर किया है, तू महायाजक है;
13 और हम तेरी कलीसिया के नहीं हैं, और हम ऐसी मूर्खतापूर्ण परंपराओं में विश्वास नहीं करते।
14 और अब हम जानते हैं कि क्योंकि हम तेरी कलीसिया के नहीं हैं, हम जानते हैं कि हमारा हम पर कोई अधिकार नहीं;
15 और तू ने न्याय आसन को नफीहा को सौंप दिया है; इस कारण तू हमारा प्रधान न्यायी नहीं है।
16 जब लोगों ने यह कहा, और उसकी सब बातों का विरोध किया, और उसकी निन्दा की, और उस पर थूका, और उसे उनके नगर से निकाल दिया गया, तब वह वहां से चला, और उस नगर की ओर चला जो कहलाता था हारून।
17 और ऐसा हुआ कि अम्मोनिहा के नगर में रहने वाले लोगों की दुष्टता के कारण, जब वह बहुत क्लेश और आत्मा की पीड़ा से जूझते हुए, दुःख से तौला जा रहा था, वहां यात्रा कर रहा था,
18 ऐसा हुआ कि जब अलमा इस प्रकार दुखी था, देखो प्रभु का एक दूत उसे दिखाई दिया, जो कह रहा था, धन्य है तुम, अलमा; इसलिथे अपना सिर उठाकर आनन्द करो, क्योंकि तुम्हारे पास आनन्द करने का बड़ा कारण है।
19 क्योंकि जब से तू ने उस से पहिला सन्देश प्राप्त किया, तब से तू परमेश्वर की आज्ञाओं को मानने में विश्वासयोग्य रहा है।
20 देखो, मैं वही हूं, जिस ने उसे तुम को सौंपा; और देखो, मैं तुझे यह आज्ञा देने के लिथे भेजा गया हूं कि तू अम्मोनिहा के नगर को लौट जा, और उस नगर के लोगोंको फिर प्रचार कर; हाँ, उन्हें प्रचार करो।
21 हां, उन से कहो, जब तक वे पश्चाताप न करें, प्रभु परमेश्वर उन्हें नष्ट कर देगा ।
22 क्योंकि देखो, वे इस समय अध्ययन कर रहे हैं ताकि वे तुम्हारे लोगों की स्वतंत्रता को नष्ट कर सकें, (क्योंकि प्रभु ऐसा कहता है), जो उन विधियों, नियमों, और आज्ञाओं के विपरीत है जो उसने अपने लोगों को दी हैं ।
23 अब ऐसा हुआ कि अलमा को प्रभु के दूत से अपना संदेश प्राप्त करने के बाद, वह शीघ्रता से अम्मोनिहा के प्रदेश में लौट आया ।
24 और वह दूसरे मार्ग से नगर में गया, हां, उस मार्ग से जो अम्मोनिहा नगर के दक्षिण की ओर है ।
25 और नगर में प्रवेश करते ही उसे भूख लगी, और उस ने एक पुरूष से कहा, क्या तुम परमेश्वर के दीन दास को खाने को कुछ दोगे?
26 और उस मनुष्य ने उस से कहा, मैं नफाई हूं, और मैं जानता हूं कि तू परमेश्वर का पवित्र भविष्यद्वक्ता है, क्योंकि तू वह मनुष्य है जिसे स्वर्गदूत ने दर्शन में कहा, तू ग्रहण करेगा;
27 इसलिथे मेरे संग मेरे घर को चलो, और मैं अपके भोजन में से तुझे दूंगा; और मैं जानता हूं, कि तू मेरे और मेरे घराने के लिथे आशीष ठहरेगा।
28 और ऐसा हुआ कि उस व्यक्ति ने उसे अपने घर ले लिया; और उस पुरूष का नाम अमूलेक रखा गया; और वह रोटी और मांस लाया, और अलमा के सामने बैठ गया ।
29 और ऐसा हुआ कि अलमा ने रोटी खाई और तृप्त हो गया; और उस ने अमूलेक और उसके घराने को आशीर्वाद दिया, और परमेश्वर का धन्यवाद किया।
30 और खाने और तृप्त होने के बाद, उसने अमूलेक से कहा, मैं अलमा हूं, और पूरे प्रदेश में परमेश्वर के गिरजे का महायाजक हूं ।
31 और देखो, मुझे इन सब लोगोंमें परमेश्वर के वचन का प्रचार करने के लिथे, प्रकाशन और भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार बुलाया गया है;
32 और मैं इस देश में था, और उन्होंने मुझे ग्रहण न किया, वरन उन्होंने मुझे निकाल दिया, और मैं इस देश की ओर सदा के लिथे अपनी पीठ फेरने ही वाला था।
33 लेकिन देखो, मुझे आज्ञा दी गई है कि मैं फिर से मुड़ूं और इन लोगों को भविष्यवाणी करूं, हां, और उनके अधर्म के विषय में उनके विरुद्ध गवाही दूं ।
34 और अब अमूलेक, क्योंकि तू ने मुझे खिलाया, और मुझे भीतर ले गया, तू धन्य है; क्योंकि मैं भूखा था, क्योंकि मैं ने बहुत दिन तक उपवास किया था।
35 और लोगों को प्रचार करने से पहले अलमा अमूलेक के साथ बहुत दिन तक रहा ।
36 और ऐसा हुआ कि लोगों ने अपने अधर्म के कामों में अधिक घोर लापरवाही की ।
37 और अलमा के पास यह सन्देश पहुंचा, कि जा; और अपके दास अमूलेक से यह भी कहना, कि निकल कर इन लोगोंसे यह भविष्यद्वाणी कर, कि मन फिराओ, क्योंकि यहोवा योंकहता है, कि यदि तुम मन न फिराओ, तो मैं अपके कोप में इन लोगोंसे भेंट करूंगा; हां, और मैं अपने उग्र क्रोध को दूर नहीं करूंगा।
38 और अलमा, और अमूलेक भी, लोगों के बीच परमेश्वर के वचनों को उन्हें सुनाने के लिए निकले; और वे पवित्र आत्मा से भर गए;
39 और उन्हें इतना अधिकार दिया गया था कि वे कोठरियोंमें बंद न किए जा सकते थे; न ही यह संभव था कि कोई मनुष्य उन्हें मार डाले;
40 तौभी उन्होंने अपनी शक्ति का प्रयोग तब तक नहीं किया जब तक कि वे बन्धनों में बँधे हुए और बन्दीगृह में नहीं डाले गए।
41 अब ऐसा इसलिए किया गया कि यहोवा उन पर अपनी शक्ति प्रगट करे।
42 और ऐसा हुआ कि प्रभु ने उन्हें जो आत्मा और शक्ति दी थी, उसके अनुसार वे आगे बढ़े और लोगों को प्रचार और भविष्यवाणी करने लगे ।

 

अल्मा, अध्याय 7

अलमा के शब्द, और अमूलेक के भी शब्द जो उन लोगों के लिए घोषित किए गए थे जो अम्मोनिहा के प्रदेश में थे । और अलमा के अभिलेख के अनुसार, उन्हें जेल में डाल दिया जाता है, और परमेश्वर की चमत्कारी शक्ति के द्वारा उन्हें छुड़ाया जाता है। इन लोगों को, या अम्मोनिहा के नगर में रहने वाले लोगों को फिर से प्रचार करो, ऐसा हुआ कि जब मैं उन्हें प्रचार करने लगा, तो वे मुझ से यह कहते हुए झगड़ने लगे, कि तू कौन है?
2 क्या तुम मानो कि हम एक मनुष्य की गवाही की प्रतीति करें, तौभी वह हमें यह प्रचार करे, कि पृथ्वी टल जाएगी?
3 जो बातें उन्होंने कहीं, वे समझ न पाए, क्योंकि वे नहीं जानते थे, कि पृथ्वी टल जाएगी।
4 और उन्होंने यह भी कहा, यदि तू भविष्यद्वाणी करे, कि यह बड़ा नगर एक ही दिन में नाश हो जाएगा, तो हम तेरी बातोंकी प्रतीति न करेंगे।
5 अब वे नहीं जानते थे कि परमेश्वर ऐसे अद्भुत काम कर सकता है, क्योंकि वे कठोर और हठीले लोग थे।
6 और उन्होंने कहा, परमेश्वर कौन है, जो इन लोगोंमें से एक मनुष्य को छोड़ और कोई अधिकार नहीं भेजता, कि उन्हें ऐसी बड़ी और अद्भुत बातोंका सच बताएं?
7 और वे मुझ पर हाथ रखने को उठ खड़े हुए; परन्तु देखो, उन्होंने ऐसा नहीं किया।
8 और मैं साहस के साथ उनके सामने यह घोषणा करने के लिए खड़ा हुआ, हां, मैंने उन्हें यह कहते हुए निडर होकर गवाही दी: देखो, हे दुष्ट और विकृत पीढ़ी, तुम अपने पूर्वजों की परंपरा को कैसे भूल गए हो; हां, तुम कितनी जल्दी परमेश्वर की आज्ञाओं को भूल गए हो ।
9 क्या तुम्हें स्मरण नहीं कि हमारा पिता लेही परमेश्वर के हाथ से यरूशलेम से निकाला गया था?
10 क्या तुम को स्मरण नहीं, कि वे सब जंगल में उसके द्वारा चलाए गए थे?
11 और क्या तुम इतनी जल्दी भूल गए हो कि कितनी बार उसने हमारे पुरखाओं को उनके शत्रुओं के हाथ से छुड़ाया, और उन्हें उनके ही भाइयों के हाथों नष्ट होने से बचाया?
12 हां, और अगर यह उसकी अतुलनीय शक्ति, और उसकी दया, और हमारे प्रति उसके लंबे कष्ट के कारण नहीं होता, तो हम अपरिहार्य रूप से इस अवधि से बहुत पहले, पृथ्वी के चेहरे से अलग हो गए होते, और शायद सौंप दिए जाते। अंतहीन दुख और wo की स्थिति के लिए।
13 देखो, अब मैं तुम से कहता हूं, कि वह तुम्हें मन फिराने की आज्ञा देता है; और जब तक तुम पश्चाताप न करो, तब तक तुम परमेश्वर के राज्य के वारिस नहीं हो सकते।
14 परन्तु देखो, यह सब कुछ नहीं है: उसने तुम्हें पश्चाताप करने की आज्ञा दी है, या वह तुम्हें पृथ्वी पर से सत्यानाश कर देगा; वरन वह अपके क्रोध में तुझ से भेंट करेगा, और अपने प्रचण्ड कोप में न हटेगा।
15 देखो, क्या तुम्हें वे बातें याद नहीं हैं जो उसने लेही से कही थीं, कि जब तक तुम मेरी आज्ञाओं को मानोगे तब तक प्रदेश में समृद्ध हो जाओगे ?
16 और फिर कहा गया है, कि यदि तुम मेरी आज्ञाओं को न मानोगे, तो प्रभु के साम्हने से नाश किए जाओगे ।
17 अब मैं चाहता हूं कि तुम याद रखो, कि चूंकि लमनाइयों ने परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन नहीं किया है, इसलिए उन्हें प्रभु की उपस्थिति से काट दिया गया है ।
18 अब हम देखते हैं कि इस बात में प्रभु के वचन की पुष्टि की गई है, और लमनाइयों को उसके सामने से हटा दिया गया है, प्रदेश में उनके अपराधों की शुरुआत से ।
19 तौभी मैं तुम से कहता हूं, कि यदि तुम अपके पापोंमें बने रहो, तो न्याय के दिन उन की दशा तुम्हारी दशा से अधिक सहने योग्य होगी;
20 हां, और इस जीवन में उनके लिए और भी अधिक सहनीय है, सिवाय इसके कि आप पश्चाताप न करें, क्योंकि लमनाइयों से कई वादे किए गए हैं:
21 क्योंकि उनके पुरखाओं की परम्पराओं के कारण वे अज्ञानता में बने रहते हैं; इस कारण यहोवा उन पर दया करेगा, और देश में उनका अस्तित्व लम्बा करेगा।
22 और किसी समय वे उसके वचन पर विश्वास करने, और अपके पुरखाओं की रीतियों की अशुद्धता का ज्ञान कराएंगे;
23 और उन में से बहुतों का उद्धार होगा, क्योंकि यहोवा उन सभों पर दया करेगा जो उसका नाम लेते हैं।
24 लेकिन देखो, मैं तुमसे कहता हूं, कि यदि तुम अपनी दुष्टता में बने रहते हो, तो प्रदेश में तुम्हारे दिन लंबे नहीं होंगे, क्योंकि लमनाइयों को तुम पर भेजा जाएगा;
25 और यदि तुम मन न फिराओ, तो वे ऐसे समय में आएंगे, जब तुम नहीं जानते, और तुम पर सर्वनाश हो जाएगा;
26 और वह यहोवा के भयंकर कोप के अनुसार होगा; क्‍योंकि वह तुझे दु:ख न देगा, कि तू अपके अधर्म के कामोंमें उसकी प्रजा को नाश करने के लिथे जीवित रहे।
27 मैं तुम से कहता हूं, नहीं; वह चाहता था कि लमनाइयों ने उन सभी लोगों को नष्ट कर दिया जो नफी के लोग कहलाते हैं, यदि यह संभव होता कि वे प्रभु के बारे में इतना अधिक प्रकाश और इतना ज्ञान प्राप्त करने के बाद पापों और अपराधों में पड़ सकते थे। भगवान;
28 हां, प्रभु की ऐसी अत्यधिक कृपालु प्रजा होने के बाद भी; हां, हर दूसरे राष्ट्र, जाति, भाषा या लोगों के ऊपर अनुग्रह किए जाने के बाद;
29 उसके बाद जो कुछ हुआ है, और जो है, और जो आने वाला है, उनकी अभिलाषाओं, और उनके विश्वास, और प्रार्थनाओं के अनुसार उन्हें सब कुछ बता दिया गया है;
30 परमेश्वर के आत्मा द्वारा दौरा किया गया; स्वर्गदूतों से बातें करके, और यहोवा की वाणी से बातें करके;
31 और भविष्यद्वाणी की आत्मा, और प्रकाशन की आत्मा, और बहुत से वरदानों से युक्त हों; अन्य भाषा बोलने का उपहार, और उपदेश का उपहार, और पवित्र आत्मा का उपहार, और अनुवाद का उपहार:
32 हां, और प्रभु के हाथ से यरूशलेम प्रदेश से परमेश्वर के हाथ से छुड़ाए जाने के बाद;
33 अकाल, और बीमारी, और सब प्रकार के रोगों से उद्धार पाकर
हर प्रकार का;
34 और वे युद्ध में दृढ़ किए गए, कि वे नाश न हों; समय-समय पर बंधन से बाहर लाया गया, और अब तक रखा और संरक्षित किया गया है; और वे तब तक समृद्ध हुए हैं जब तक कि वे सब प्रकार की वस्तुओं के धनी न हो जाएं।
35 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यदि ये लोग, जिन्हें प्रभु के हाथ से इतनी आशीषें मिली हैं, वे उस प्रकाश और ज्ञान के विपरीत अपराध करें जो उनके पास है;
36 मैं तुम से कहता हूं, कि यदि ऐसा ही हो; कि यदि वे अपराध में पड़ें, तो लमनाइयों के लिए यह उनके मुकाबले कहीं अधिक सहने योग्य होगा ।
37 क्योंकि देखो, प्रभु की प्रतिज्ञाएं लमनाइयों तक फैली हुई हैं, लेकिन यदि तुम उल्लंघन करते हो तो वे तुम्हारे लिए नहीं हैं;
38 क्‍योंकि क्‍योंकि यहोवा ने स्‍पष्‍ट रूप से यह प्रतिज्ञा और दृढ़ निश्‍चय नहीं किया है, कि यदि तुम उस से बलवा करो, तो पृय्‍वी पर से सत्यानाश हो जाओगे?
39 और अब इस कारण से, कि तुम नष्ट न हो जाओ, प्रभु ने अपने बहुत से लोगों से मिलने के लिए अपना दूत भेजा है, उन्हें यह घोषणा करते हुए कि उन्हें आगे जाकर इन लोगों को जोर से पुकारना चाहिए, यह कहते हुए, पश्चाताप करो, तुम पश्चाताप करो, क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट है;
40 और अब बहुत दिन न होंगे, कि परमेश्वर का पुत्र अपक्की महिमा के साथ आएगा; और उसकी महिमा पिता के एकलौते की महिमा होगी, अनुग्रह, समानता और सच्चाई से भरपूर, धैर्य, दया, और लंबे समय तक पीड़ा से भरी, अपने लोगों की पुकार सुनने के लिए, और उनकी प्रार्थनाओं का उत्तर देने के लिए।
41 और देखो, जो उसके नाम पर विश्वास करने के द्वारा मन फिराव का बपतिस्मा लेंगे, उन्हें छुड़ाने के लिए वह आता है;
42 इसलिथे तुम यहोवा के मार्ग को तैयार करो, क्योंकि समय आ गया है कि सब मनुष्य अपके कामोंका प्रतिफल पाएं, जैसा वे करते आए हैं।
43 यदि वे धर्मी हैं, तो यीशु मसीह की सामर्थ्य और छुटकारे के अनुसार अपने प्राणों के उद्धार का फल पाएंगे;
44 और यदि वे दुष्ट हों, तो शैतान की शक्ति और बन्धुआई के अनुसार अपके प्राणोंकी दण्ड की कटनी काटेंगे।
45 अब देखो, यह स्वर्गदूत का शब्द है, जो लोगों से दोहाई देता है।
46 और अब मेरे प्यारे भाइयों, क्योंकि तुम मेरे भाई हो, और तुम्हें प्रिय होना चाहिए था, और तुम्हें ऐसे काम करने चाहिए थे जो पश्चाताप के योग्य हों, यह देखते हुए कि तुम्हारे हृदय परमेश्वर के वचन के विरुद्ध बहुत कठोर हो गए हैं, और यह देखते हुए कि तुम खोए हुए और पतित लोग हो।
47 अब ऐसा हुआ कि जब मैं, अलमा ने, इन शब्दों को कहा, देखो, लोग मुझ पर क्रोधित थे, क्योंकि मैंने उनसे कहा था कि वे कठोर हृदय और हठीले लोग हैं;
48 और यह भी कि क्योंकि मैंने उनसे कहा था कि वे खोए हुए और पतित लोग हैं, वे मुझ पर क्रोधित हुए, और मुझ पर हाथ रखना चाहा, ताकि वे मुझे बंदीगृह में डाल सकें;
49 लेकिन ऐसा हुआ कि प्रभु ने उन्हें कष्ट नहीं दिया कि वे उस समय मुझे पकड़कर बंदीगृह में डाल दें ।
50 और ऐसा हुआ कि अमूलेक जाकर खड़ा हुआ, और उन्हें भी प्रचार करने लगा ।
51 और अब अमूलेक की सारी बातें लिखी नहीं गई हैं; फिर भी उनके शब्दों का एक अंश इस पुस्तक में लिखा गया है।

 

अल्मा, अध्याय 8

1 अब जो बातें अमूलेक ने अम्मोनिहा के प्रदेश की प्रजा को यह कहकर सुनाया, कि मैं अमूलेक हूं, ये हैं; मैं गिदोना का पुत्र हूं, जो इश्माएल का पुत्र था, जो अमीनदी का वंशज था:
2 और यह वही अमीनदी था जिसने उस लेख की व्याख्या की जो मंदिर की दीवार पर था, जिसे परमेश्वर की उंगली से लिखा गया था।
3 और अमीनदी नफी का वंशज था, जो लेही का पुत्र था, जो यरूशलेम के प्रदेश से निकला था, जो मनश्शे का वंशज था, जो यूसुफ का पुत्र था, जिसे उसके भाइयों के हाथों मिस्र में बेच दिया गया था। .
4 और देखो, जितने मुझ को जानते हैं, उन सभोंमें मैं भी छोटा नाम का मनुष्य नहीं हूं;
5 हां, और देखो, मेरे बहुत से कुटुंब और मित्र हैं, और मैं ने अपके उद्योग के द्वारा बहुत धन भी अर्जित किया है;
6 तौभी, इन सब के बाद भी, मैं ने यहोवा के मार्गों, और उसके भेदों और अद्भुत सामर्थ के विषय में बहुत कुछ नहीं जाना।
7 मैं ने कहा था, कि मैं इन बातोंके विषय में अधिक कुछ नहीं जानता; परन्तु देखो मैं भूल गया, क्योंकि मैं ने उसके बहुत से भेदों और उसकी चमत्कारी शक्ति को देखा है; हां, यहां तक कि इन लोगों के जीवन की रक्षा में भी;
8 तौभी मैं ने अपके मन को कठोर किया, क्‍योंकि मुझे बहुत बार बुलाया गया, और मैं ने न सुनी; इसलिए मैं इन बातों के विषय में जानता था, तौभी नहीं जानता था;
9 इस कारण मैं इस सातवें महीने के चौथे दिन तक जो न्यायियों के राज्य के दसवें वर्ष में है, अपके मन की दुष्टता के कारण परमेश्वर से बलवा करता रहा।
10 जब मैं एक अति निकट के भाई को देखने को जा रहा या, तो यहोवा का एक दूत मुझे दिखाई दिया, और कहा, अमूलेक अपके घर लौट जा, क्योंकि तू यहोवा के किसी भविष्यद्वक्ता को खिलाएगा; हाँ, पवित्र मनुष्य, जो परमेश्वर का चुना हुआ जन है;
11 क्योंकि उस ने इन लोगोंके पापोंके कारण बहुत दिन तक उपवास किया है, और वह भूखा है, और तू उसे अपके घर में ले जाकर खिलाना, और वह तुझे और तेरे घराने को आशीष दे; और यहोवा की आशीष तुझ पर और तेरे घराने पर बनी रहेगी।
12 और ऐसा हुआ कि मैंने स्वर्गदूत की बात मानी, और अपने घर की ओर लौट आया ।
13 और जब मैं वहां जा रहा या, तब मुझे वह पुरूष मिला, जिस से दूत ने मुझ से कहा या, कि तू अपके घर में ग्रहण करेगा; और देखो यह वही मनुष्य था जो तुम से परमेश्वर की बातों के विषय में बातें कर रहा था ।
14 तब स्वर्गदूत ने मुझ से कहा, वह पवित्र मनुष्य है; इस कारण मैं जानता हूं कि वह पवित्र मनुष्य है, क्योंकि यह परमेश्वर के दूत ने कहा था।
15 और फिर से, मैं जानता हूं कि जिन बातों की उस ने गवाही दी है, वे सच हैं; क्योंकि देखो, मैं तुम से कहता हूं कि यहोवा के जीवन की शपथ, उसने अपने दूत को इन बातों को मुझ पर प्रगट करने के लिए भेजा है; और यह उसने तब तक किया है जब तक यह अलमा मेरे घर में रहता है;

16 क्योंकि देखो, उस ने मेरे घर को आशीष दी है, और मुझे, और मेरी स्त्रियों, और मेरे लड़केबालों, और मेरे पिता, और मेरे कुटुम्बियोंको भी आशीष दी है;
17 हां, उसने मेरे सारे कुटुम्ब को आशीष दी है, और जो बातें उसने कही हैं उनके अनुसार यहोवा की आशीष हम पर बनी है ।
18 और अब जब अमूलेक ने ये बातें कहीं, तो लोग चकित हुए, क्योंकि एक से अधिक साक्षी थे, जिन्होंने उन बातों की गवाही दी जिन पर उन पर आरोप लगाया गया था, और भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार आने वाली बातों की भी गवाही दी थी। जो उनमें था;
19 तौभी उन में से कुछ ऐसे भी थे, जो उन से प्रश्न करना चाहते थे, कि वे अपनी चतुराई से उन को पकड़ लें, कि वे उनके विरुद्ध साक्षी पाएं, और उन्हें न्यायियोंके हाथ छुड़ाएं,
20 कि व्यवस्था के अनुसार उनका न्याय किया जाए, और जिस अपराध को वे प्रकट कर सकें, या उनके विरुद्ध गवाही दे सकें, उसी के अनुसार वे मारे जाएं या बंदीगृह में डाले जाएं।
21 अब वे लोग ही थे जिन्होंने उन्हें नष्ट करने की कोशिश की, जो वकील थे, जिन्हें लोगों ने अपने परीक्षणों के समय, या लोगों के अपराधों के परीक्षण के समय, न्यायियों के सामने कानून का संचालन करने के लिए किराए पर लिया या नियुक्त किया था ।
22 ये वकील प्रजा के सब कामों और धूर्तता में निपुण थे; और यह उन्हें सक्षम करने के लिए था ताकि वे अपने पेशे में कुशल हो सकें।
23 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अमूलेक से प्रश्न करना शुरू कर दिया, ताकि वे उससे उसकी बातें पार करा सकें, या उन बातों का खंडन कर सकें जो उसे बोलना चाहिए ।
24 अब वे नहीं जानते थे कि अमूलेक उनकी योजनाओं के बारे में जान सकता है।
25 परन्तु ऐसा हुआ कि जब वे उस से प्रश्न करने लगे, तो उस ने उनके विचार समझे, और उस ने उन से कहा, हे दुष्ट और विकृत पीढ़ी के लोगों; हे वकीलों और पाखंडियों; क्योंकि तुम शैतान की नेव डाल रहे हो;
26 क्योंकि तुम परमेश्वर के पवित्र लोगों को पकड़ने के लिये फन्दे और फन्दे लगाते हो; तुम नेकियों की चाल बिगाड़ने, और परमेश्वर के कोप को अपके सिर पर गिराने की, यहां तक कि इन लोगोंका सत्यानाश करने की युक्ति करते हो;
27 हां, मुसायाह ने ठीक ही कहा था, जो हमारा अंतिम राजा था, जब वह राज्य को सौंपने वाला था, उसके पास उसे देने वाला कोई नहीं था, जिससे कि ये लोग अपनी ही आवाज से शासित हों;
28 हां, उसने ठीक ही कहा था, कि यदि समय आए तो इन लोगों की आवाज अधर्म को उठाएगी; अर्थात्, यदि समय आ गया कि यह लोग अपराध में पड़ें, तो वे विनाश के लिए पके होंगे।
29 और अब मैं तुम से कहता हूं, कि यहोवा तुम्हारे अधर्म के कामोंका न्याय करता है; वह अपके दूतोंके शब्द से इन लोगोंसे दोहाई देता है, कि मन फिराओ, मन फिराओ, क्योंकि स्वर्ग का राज्य निकट है।
30 वरन अपके दूतोंके शब्द से वह यह भी पुकारता है, कि मैं अपक्की प्रजा के बीच में उतरूंगा, और न्याय और न्याय अपके हाथ में होगा।
31 हां, और मैं तुम से कहता हूं, कि यदि धर्मियों की प्रार्थना न होती, जो इस समय प्रदेश में हैं, तो तुम पर अब भी नाश होता;
32 तौभी जैसे नूह के दिनों में प्रजा के लोग जल-प्रलय से नहीं होते, परन्तु अकाल, और मरी, और तलवार से होते।
33 परन्तु धर्मियों की प्रार्यना से तुम बच गए; अब यदि तुम अपने बीच में से धर्मी को निकालोगे, तो यहोवा अपना हाथ न रोकेगा, वरन अपने प्रचण्ड कोप में तुम पर चढ़ाई करेगा;
34 तब तुम अकाल, और मरी, और तलवार से मारे जाओगे; और समय निकट आ गया है, सिवाय तुम पश्‍चाताप करने के।
35 और अब ऐसा हुआ कि लोग अमूलेक पर अधिक क्रोधित हुए, और वे यह कहते हुए चिल्ला उठे: यह व्यक्ति हमारे धर्मी नियमों और हमारे द्वारा चुने गए बुद्धिमान वकीलों की निन्दा करता है ।
36 परन्तु अमूलेक ने हाथ बढ़ाकर उन से बलवानोंको पुकारा, हे दुष्ट और कुटिल पीढ़ी के लोगों; शैतान ने तुम्हारे दिलों पर इतनी बड़ी पकड़ क्यों बना ली है?
37 तुम अपने आप को उसके आगे क्यों सौंपोगे, कि वह तुम पर अधिकार करे, कि तुम्हारी आंखें मूंद ले, कि जो बातें कही गई हैं, उनकी सच्चाई के अनुसार तुम न समझोगे?
38 क्योंकि देखो, क्या मैं ने तेरी व्यवस्था के विरुद्ध गवाही दी है?
39 तुम नहीं समझते; तुम कहते हो, कि मैं ने तेरी व्यवस्या के विरोध में बातें की हैं; लेकिन मेरे पास नहीं है; परन्‍तु मैं ने तेरी व्‍यवस्‍था के पक्ष में, और तेरे दण्ड के विषय में कहा है।
40 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि इन लोगों के विनाश की नींव तुम्हारे वकीलों और तुम्हारे न्यायियों के अधर्म से डाली गई है ।
41 और अब ऐसा हुआ कि जब अमूलेक ने ये बातें कह लीं, तो लोगों ने उसके विरुद्ध चिल्लाकर कहा, अब हम जानते हैं कि यह मनुष्य शैतान की संतान है, क्योंकि उसने हम से झूठ बोला है; क्‍योंकि उस ने हमारी व्‍यवस्‍था के विरुद्ध बात की है।
42 और अब वह कहता है कि उस ने उसके विरोध में कुछ नहीं कहा।
43 और फिर; उसने हमारे वकीलों, और हमारे न्यायाधीशों, आदि के खिलाफ निंदा की है।
44 और ऐसा हुआ कि वकीलों ने अपने हृदय में यह डाल लिया कि वे उसके विरुद्ध इन बातों को याद रखें ।
45 और उन में से एक था जिसका नाम जीजरोम था।
46 अब वह अमूलेक और अलमा पर दोष लगाने में सबसे आगे था, वह उनमें से सबसे अधिक निपुण था, और लोगों के बीच बहुत काम करता था ।
47 अब इन वकीलों का उद्देश्य लाभ प्राप्त करना था; और उन्हें उनके काम के अनुसार लाभ मिला।
48 अब मुसायाह की व्यवस्था में यह था कि जितने मनुष्य व्यवस्या के न्यायी हों, या जो न्यायी नियुक्त किए गए हों, उन्हें उस समय के अनुसार मजदूरी मिले, जब वे उन का न्याय करने के लिए परिश्रम करते थे जिन्हें उनके सामने न्याय के लिए लाया गया था।
49 अब यदि किसी मनुष्य पर दूसरे का कर्ज़ हो, और वह अपना कर्ज़ न चुकाए, तो उसकी शिकायत न्यायी से की गई;
50 और न्यायी ने अधिकार दिया, और हाकिमोंको भेजा, कि उस मनुष्य को उसके साम्हने लाया जाए;
51 और उस ने व्यवस्या और उन साक्ष्योंके अनुसार जो उसके विरुद्ध लाए गए थे, उस का न्याय किया, और इस प्रकार उस मनुष्य को जो कुछ उसका उधार था चुकाने के लिए विवश किया गया, या उसे लूटा गया, या लोगोंके बीच से निकाल दिया गया, जैसे चोर और एक लूटेरा।
52 और न्यायी को उसके समय के अनुसार मजदूरी दी गई, अर्थात एक दिन के लिये सोने की एक परी, वा चाँदी का एक सिक्का, जो सोने की एक परी के तुल्य हो; और यह उस व्यवस्था के अनुसार है जो दी गई थी।
53 अब उनके सोने और चान्दी के अलग-अलग टुकड़ों के नाम उनके मूल्य के अनुसार ये हैं।
54 और नाम नफाइयों द्वारा दिए गए हैं; क्‍योंकि वे यरूशलेम में रहनेवाले यहूदियोंकी रीति पर नहीं गिनते थे; न उन्होंने यहूदियों के अनुसार नाप लिया,
55 परन्तु उन्होंने न्यायियों के राज्य तक हर पीढ़ी के लोगों की बुद्धि और परिस्थितियों के अनुसार अपना-अपना हिसाब और नाप बदल लिया; वे राजा मुसायाह द्वारा स्थापित किए गए थे।
56 अब हिसाब इस प्रकार है: सोने की एक सीन, सोने की एक सीन, सोने का एक शम, और सोने का एक लिम्ना।
57 चाँदी का एक सेन, चाँदी का एक अम्नोर, चाँदी का एक एज्रोम, और चाँदी का एक ओनती।
58 चाँदी का एक सिक्का सोने की एक परी के तुल्य था; और या तो एक नाप जव, और एक नाप सब प्रकार के अन्न के लिथे।
59 एक सीन सोने का मोल एक सीन के मोल का दुगना या; और सोने का एक चमचा एक सीन से दुगना था; और उन सबका मूल्‍य एक लिम्‍ना सोना था;
60 और चाँदी का एक मोहर दो सेम के बराबर बड़ा हुआ; और चाँदी का एक एज्रोम चार सेनम के बराबर बड़ा था; और एक ओंटी उन सभी की तरह महान था।
61 और उनके गिने हुए गिने हुए लोगों का मूल्य यह है, अर्यात् एक शिबलोन एक सेनम का आधा है; और शिब्लम शिबलोन का आधा है; और लिआ शिब्लम का आधा भाग है।
62 अब सोने का एक दाना तीन शिबलों के बराबर है।
63 अब उनकी गिनती उनके हिसाब से यह है।
64 अब तो केवल लाभ प्राप्त करना ही था, क्योंकि उन्हें अपनी मजदूरी अपके काम के अनुसार मिलती थी;
65 इसलिथे उन्होंने लोगोंको बलवा करने, और सब प्रकार के उपद्रव और दुष्टता करनेके लिथे उभारा, कि उन्हें और काम मिल जाए;
66 कि वे उन वादों के अनुसार जो उनके साम्हने लाए गए थे, रुपए पाएं; इसलिए उन्होंने अलमा और अमूलेक के विरुद्ध लोगों को उकसाया ।
67 और यह जीजरोम अमूलेक से पूछने लगा, कि क्या तुम मुझे कुछ प्रश्नों के उत्तर दोगे जो मैं तुम से पूछूंगा?
68 जीजरोम एक ऐसा मनुष्य था जो शैतान की युक्‍तियों में निपुण था, कि जो भलाई है उसे नष्ट कर दे; इसलिथे उस ने अमूलेक से कहा, जो प्रश्न मैं तुझ से पूछूंगा, क्या तुम उनका उत्तर दोगे?
69 तब अमूलेक ने उस से कहा, हां, यदि यहोवा के आत्मा के अनुसार जो मुझ में है, तो मैं करूंगा; क्योंकि मैं कुछ भी ऐसा नहीं कहूँगा जो यहोवा के आत्मा के विरुद्ध हो।
70 जीजरोम ने उस से कहा, देख, यहां छ: सिक्के चान्दी हैं, और ये सब मैं तुझे दूंगा, यदि तू किसी परम पुरुष के अस्तित्व को नकारेगा।
71 अमूलेक ने कहा, हे नरक की सन्तान, तुम मेरी परीक्षा क्यों लेते हो?
72 क्या तू जानता है, कि धर्मी ऐसी किसी परीक्षा में नहीं पड़ते?
73 क्या तू विश्वास करता है कि परमेश्वर नहीं है?
74 मैं तुम से कहता हूं, नहीं; तू तो जानता है कि एक परमेश्वर है, परन्तु तू उस लुहार को उससे अधिक प्रिय जानता है।
75 और अब तू ने मुझ से परमेश्वर के साम्हने झूठ बोला है।
76 तू ने मुझ से कहा, ये छ: सिक्के जो बड़े मूल्यवान हैं, उन्हें मैं तुझे दे दूंगा, जब तेरे मन में उन्हें अपने पास से रख लेने का मन होगा;
77 और तेरी ही इच्छा थी, कि मैं सच्चे और जीवित परमेश्वर का इन्कार करूं, कि तू मुझे नाश करने का कारण दे।
78 और अब देखो, इस बड़ी विपत्ति का बदला तुझे मिलेगा।
79 जीजरोम ने उस से कहा, तू कहता है, कि सच्चा और जीवित परमेश्वर है?
80 अमूलेक ने कहा, हां, एक सच्चा और जीवित परमेश्वर है।
81 जीजरोम ने कहा, क्या एक से अधिक परमेश्वर हैं?
82 और उस ने उत्तर दिया, नहीं।
83 जीजरोम ने उस से फिर कहा, तू इन बातों को कैसे जानता है?
84 उस ने कहा, एक दूत ने उन को मुझ पर प्रगट किया है।
85 जीजरोम ने फिर कहा, आने वाला कौन है? क्या यह परमेश्वर का पुत्र है?
86 और उस ने उस से कहा, हां ।
87 जीजरोम ने फिर कहा, क्या वह अपक्की प्रजा को उनके पापोंमें छुड़ाएगा?
88 तब अमूलेक ने उस से कहा, मैं तुझ से कहता हूं कि ऐसा न करने पाएगा, क्योंकि उसके वचन का इन्कार करना अनहोना है।
89 जीजरोम ने लोगों से कहा, देखो, ये बातें तुम्हें स्मरण रहे; क्योंकि उस ने कहा है, कि केवल एक ही परमेश्वर है; तौभी वह कहता है, कि परमेश्वर का पुत्र आएगा, परन्तु अपक्की प्रजा का उद्धार न करेगा, मानो उसे परमेश्वर को आज्ञा देने का अधिकार मिला हो।
90 अमूलेक ने उस से फिर कहा, देख तू ने झूठ बोला है, क्योंकि तू ने कहा है, कि मैं ने ऐसा कहा, मानो मुझे परमेश्वर को आज्ञा देने का अधिकार है, क्योंकि मैं ने कहा था, कि वह अपक्की प्रजा को उनके पापोंके द्वारा न बचाएगा।
91 और मैं तुम से फिर कहता हूं, कि वह उनका उन के पापोंमें उद्धार न कर सकेगा; क्योंकि मैं उसके वचन का इन्कार नहीं कर सकता, और उस ने कहा है, कि कोई अशुद्ध वस्तु स्वर्ग के राज्य का अधिकारी नहीं हो सकती;
92 इसलिथे जब तक कि तुम स्वर्ग के राज्य के वारिस न हो जाओगे, तब तक तुम किस रीति से उद्धार पाओगे? इसलिए तुम अपने पापों से नहीं बच सकते।
93 जीजरोम ने फिर उस से कहा, क्या परमेश्वर का पुत्र अनन्तकाल का पिता है?
94 और अमूलेक ने उस से कहा, हां, वह स्वर्ग और पृथ्वी का, और उन सब वस्तुओं का जो उन में है, अनन्तकाल का पिता है;
95 वही आदि और अन्त है, पहला और अन्त है;
96 और वह जगत में अपनी प्रजा को छुड़ाने को आएगा; और जो उसके नाम पर विश्वास करते हैं, उनके अपराध वह उस पर ले लेगा; और ये वे हैं जिनके पास अनन्त जीवन होगा, और उद्धार किसी को नहीं मिलेगा;
97 इस कारण दुष्ट ऐसे रहते हैं मानो कोई छुटकारा न हुआ हो, सिवाय मृत्यु के बंधनों के टूटने के;
98 क्योंकि देखो, वह दिन आता है, कि सब मरे हुओं में से जी उठेंगे, और परमेश्वर के साम्हने खड़े होंगे, और उनके कामोंके अनुसार उनका न्याय किया जाएगा।
99 अब एक मृत्यु है, जो लौकिक मृत्यु कहलाती है; और मसीह की मृत्यु इस लौकिक मृत्यु के बंधनों को ढीली कर देगी, कि सब इस अस्थायी मृत्यु से जी उठेंगे;
100 आत्मा और शरीर फिर से अपने सिद्ध रूप में फिर से मिल जाएंगे; अंग और जोड़ दोनों को उसके उचित फ्रेम में बहाल किया जाएगा, वैसे ही जैसे हम इस समय हैं;
101 और जैसा हम अभी जानते हैं, वैसा ही जानते हुए भी हम परमेश्वर के साम्हने खड़े किए जाएंगे, और अपके सब अधर्म का स्मरण करेंगे।
102 अब यह पुनर्स्थापन, क्या बूढ़े क्या जवान, क्या बन्धुआ, क्या स्वतंत्र, क्या दुष्ट क्या क्या धर्मी, क्या सब को मिलेगा;
103 और उनके सिर का एक बाल भी न टूटेगा; परन्तु सब वस्तुएँ अपनी पूर्ण ढाँचे में, जैसा अभी है, वा देह में फिर से फिर से मिल जाएँगी,
104 और लाकर पुत्र मसीह, और पिता परमेश्वर, और पवित्र आत्मा, जो एक अनन्त परमेश्वर है, के सामने उनके कामों के अनुसार न्याय किया जाएगा, चाहे वे भले हों या बुरे।
105 अब देखो मैंने तुमसे नश्वर शरीर की मृत्यु के बारे में, और नश्वर शरीर के पुनरुत्थान के बारे में भी बात की है ।
106 मैं तुम से कहता हूं, कि यह नश्वर शरीर अमर हो गया है; वह मृत्यु से है; पहिली मृत्यु से लेकर जीवन तक, कि वे फिर न मर सकें; उनकी आत्माएं उनके शरीर के साथ मिलती हैं, कभी विभाजित नहीं होतीं;
107 इस प्रकार सभी आध्यात्मिक और अमर होते जा रहे हैं, कि वे भ्रष्टाचार को और नहीं देख सकते हैं।
108 जब अमूलेक ने ये बातें पूरी कर लीं, तब लोग फिर चकित हुए, और जीजरोम भी कांपने लगा।
109 और इस प्रकार अमूलेक की बातें समाप्त हुईं, वा जो कुछ मैं ने लिखा है वह यही है।

 

अल्मा, अध्याय 9

1 अब अलमा, यह देखते हुए कि अमूलेक के शब्दों ने जीजरोम को चुप करा दिया था, क्योंकि उसने देखा कि अमूलेक ने उसे नष्ट करने के लिए उसके झूठ और छल में पकड़ा था, और यह देखकर कि वह अपने अपराध की चेतना के तहत कांपने लगा था, उसने अपना मुंह खोला और उस से बातें करने लगे, और अमूलेक के वचनों को सिद्ध करने, और आगे की बातें समझाने, या अमूलेक ने जो कुछ किया था, उसके आगे शास्त्रों को प्रकट करने लगा।
2 अब अलमा ने जीजरोम से जो बातें कही, उन्हें आसपास के लोगों ने सुना; क्योंकि भीड़ बड़ी थी, और वह इस बुद्धिमान से बातें करता था:
3 अब जीजरोम, यह देखकर कि तू अपने झूठ और धूर्तता में पकड़ा गया है, क्योंकि तू ने केवल मनुष्यों से झूठ नहीं बोला, परन्तु परमेश्वर से झूठ बोला है;
4 क्योंकि देखो, वह तुम्हारे सब विचार जानता है; और तू देखता है, कि तेरे विचार उसके आत्मा के द्वारा हम पर प्रगट हुए हैं;
5 और तुम देखते हो, कि हम जानते हैं, कि तुम्हारी योजना शैतान की धूर्तता के अनुसार बहुत ही सूक्ष्म योजना थी, कि तुम झूठ बोलो और इन लोगों को धोखा दो, कि तू उन्हें हमारे विरुद्ध खड़ा करे, और हमारी निन्दा करे और हमें निकाल दे।
6 तेरे विरोधी की युक्ति यह थी, और उस ने तुझ पर अपनी शक्ति का प्रयोग किया है।
7 अब मैं चाहता हूं कि जो कुछ मैं तुझ से कहता हूं, वही सब से कहता हूं, उसे स्मरण रखना।
8 और देखो, मैं तुम सब से कहता हूं, कि यह उस विरोधी का फंदा था, जिसे उस ने इन लोगोंको पकड़ने के लिथे रखा है,
9 जिस से वह तुझे अपने वश में कर ले, और अपक्की जंजीरोंसे तुझे घेर ले, और अपक्की बन्धुआई की शक्ति के अनुसार तुझे सदा के नाश में जकड़ ले।
10 अब जब अलमा ने ये बातें कह लीं, जीजरोम और भी अधिक कांपने लगा, क्योंकि उसे परमेश्वर की शक्ति का अधिकाधिक विश्वास हो गया था;
11 और वह यह भी आश्वस्त था कि अलमा और अमूलेक को उसके बारे में पता था, क्योंकि वह आश्वस्त था कि वे उसके हृदय के विचारों और इरादों को जानते थे:
12 क्योंकि उन्हें शक्ति दी गई थी कि वे भविष्यद्वाणी की आत्मा के अनुसार इन बातों को जान सकें।
13 और जीजरोम उन से यत्न से पूछने लगा, कि वह परमेश्वर के राज्य के विषय में और जाने।
14 और उसने अलमा से कहा, इसका क्या अर्थ है जो अमूलेक ने मरे हुओं के पुनरुत्थान के बारे में कहा है, कि सभी न्यायी और अन्यायी, दोनों मृतकों में से जी उठेंगे, और परमेश्वर के सामने खड़े होंगे, ताकि उनके अनुसार न्याय किया जा सके। उनके काम?
15 और अब अलमा ने उसे ये बातें समझाना शुरू किया, यह कहते हुए, कि यह बहुतों को परमेश्वर के रहस्यों को जानने के लिए दिया गया है;
16 तौभी उन्हें कड़ी आज्ञा दी गई है, कि वे केवल उसके वचन के उस भाग के अनुसार न दें, जो वह मनुष्योंको देता है; वे उस की चौकसी और परिश्रम के अनुसार उसको देते हैं;
17 और इसलिए जो अपने मन को कठोर करेगा, उसे वचन का छोटा भाग प्राप्त होगा;
18 और जो अपने मन को कठोर न करेगा, उसे वचन का बड़ा भाग तब तक दिया जाता है, जब तक कि उसे परमेश्वर के भेदों को जानने का अवसर न दिया जाए, जब तक कि वे उन्हें पूरी तरह न जान लें;
19 और जो अपने मन को कठोर करेंगे, उन्हें वचन का छोटा भाग तब तक दिया जाएगा, जब तक कि वे उसके भेदों के विषय में कुछ न जान लें;
20 और तब वे शैतान के द्वारा बन्धुआई में ले लिए जाते हैं, और उसकी इच्छा से नाश किए जाते हैं।
21 अब नरक की जंजीरों का अर्थ यह है; और अमूलेक ने मृत्यु के विषय में, और इस नश्वरता से उठाकर अमरत्व की दशा में, और परमेश्वर के दंड के सामने लाए जाने के विषय में स्पष्ट रूप से कहा है, कि हमारे कामों के अनुसार न्याय किया जाए।
22 तब यदि हमारे हृदय कठोर हो गए हैं, हां, यदि हमने वचन के प्रति अपने हृदयों को इतना कठोर कर दिया है कि यह हम में नहीं पाया गया है, तो हमारी स्थिति भयानक होगी, क्योंकि तब हम दोषी ठहराए जाएंगे;
23 क्योंकि हमारे वचन हमें दोषी ठहराएंगे, हां, हमारे सब काम हमें दोषी ठहराएंगे; हमें बेदाग नहीं पाया जाएगा:
24 और हमारे विचार भी हमें दोषी ठहराएंगे; और इस भयानक स्थिति में, हम अपने परमेश्वर की ओर देखने की हिम्मत नहीं करेंगे;
25 और यदि हम चट्टानों और पहाड़ों को हम पर गिरने की आज्ञा दें, और हमें उसके साम्हने से छिपाने की आज्ञा दें, तो हम आनन्दित होंगे।
26 परन्तु ऐसा नहीं हो सकता: हम निकलकर उसके साम्हने उसकी महिमा, और उसकी सामर्थ, और उसके पराक्रम, प्रताप, और प्रभुत्व में खड़े हों, और अपनी सदा की लज्जा को स्वीकार करें, कि उसके सब निर्णय धर्मी हैं।
27 कि वह अपके सब कामोंमें धर्मी है, और मनुष्योंपर दया करता है, और उसके पास हर एक मनुष्य का जो उसके नाम पर विश्‍वास करता है, बचाने का और मन फिराव के लिथे फल लाने का पूरा अधिकार रखता है।
28 और अब मैं तुम से कहता हूं, कि एक मृत्यु आती है, दूसरी मृत्यु, जो आत्मिक मृत्यु है;
29 फिर ऐसा समय है कि जो कोई अपके पापोंके कारण मरे, वह अस्थाई मृत्यु के समान आत्मिक मृत्यु भी मरे; वरन वह धर्म की बातोंके अनुसार मरेगा;
30 तब वह समय होगा जब उनकी पीड़ा आग और गंधक की झील के समान होगी, जिसकी लपटें युगानुयुग ऊपर उठती रहेंगी;
31 और फिर वह समय है जब वे शैतान की शक्ति और बन्धुवाई के अनुसार सदा के लिए नाश हो जाएंगे: उसने अपनी इच्छा के अनुसार उन्हें अपने अधीन कर लिया।
32 तब मैं तुम से कहता हूं, कि वे ऐसे ठहरेंगे मानो कोई छुटकारा न हुआ हो; क्योंकि वे परमेश्वर के न्याय के अनुसार छुड़ाए नहीं जा सकते; और वे मर नहीं सकते, यह देखते हुए कि कोई और भ्रष्टाचार नहीं है।
33 अब ऐसा हुआ कि जब अलमा ने इन शब्दों को बोलना समाप्त किया, तो लोग अधिक चकित होने लगे;
34 परन्‍तु एक अन्‍ताना जो उन में प्रधान या, निकलकर उस से कहने लगा, कि तू ने यह क्‍या कहा है, कि मनुष्य मरे हुओं में से जी उठे, और इस नश्वर से अमर हो जाए, कि आत्मा कभी नहीं मर सकती?
35 पवित्र शास्त्र का क्या अर्थ है, जो कहता है कि परमेश्वर ने करूबों और एक धधकती तलवार को अदन की बारी के पूर्व की ओर रखा, कहीं ऐसा न हो कि हमारे पहिले माता-पिता प्रवेश करके जीवन के वृक्ष का फल खाकर सदा जीवित रहें?
36 और इस प्रकार हम देखते हैं कि उनके सर्वदा जीवित रहने की कोई संभावना नहीं थी ।
37 अब अलमा ने उससे कहा, यह वह बात है जिसे मैं समझाने वाला था ।
38 अब हम देखते हैं कि परमेश्वर के वचन के अनुसार निषिद्ध फल खाने से आदम गिर पड़ा; और इस प्रकार हम देखते हैं, कि उसके गिरने से, सारी मानवजाति खोई हुई और पतित हो गई।
39 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यदि उस समय आदम के लिए जीवन के वृक्ष का फल लेना संभव होता, तो कोई मृत्यु न होती, और परमेश्वर को बनाते हुए वचन व्यर्थ होता झूठा है, क्योंकि उस ने कहा था, कि यदि तू खाएगा, तो निश्चय मर जाएगा।
40 और हम देखते हैं कि मृत्यु मानवजाति पर आ रही है, हां, वह मृत्यु जिसके बारे में अमूलेक ने कहा है, जो कि अस्थायी मृत्यु है; फिर भी मनुष्य को एक स्थान दिया गया था, जिसमें वह पश्चाताप कर सकता था;
41 इसलिए यह जीवन परिवीक्षाधीन राज्य बन गया; परमेश्वर से मिलने की तैयारी का समय; उस अंतहीन स्थिति के लिए तैयार होने का समय, जिसके बारे में हमारे द्वारा कहा गया है, जो मृतकों के पुनरुत्थान के बाद है।
42 अब यदि छुटकारे की योजना न होती, जो जगत की उत्पत्ति के समय से रखी गई थी, तो मरे हुओं का पुनरुत्थान न होता;
43 परन्तु छुटकारे की एक योजना रखी गई, जिसके विषय में कहा गया है, कि मरे हुओं का पुनरुत्थान होगा।
44 और अब देखो, यदि यह संभव होता कि हमारे पहले माता-पिता आगे बढ़ सकते और जीवन के वृक्ष का हिस्सा बन सकते थे, तो वे हमेशा के लिए दुखी होते, बिना किसी तैयारी की अवस्था के;
45 और इस प्रकार छुटकारे की योजना विफल हो जाती, और परमेश्वर का वचन निष्फल हो जाता, और कोई प्रभाव नहीं पड़ता ।
46 परन्तु देखो, ऐसा नहीं था; परन्तु मनुष्य के लिये यह ठहराया गया कि वे मरें; और मृत्यु के बाद, उन्हें न्याय करना होगा; यहाँ तक कि वही न्याय जिसके विषय में हम ने कहा है, वह अन्त है।
47 और जब परमेश्वर ने नियुक्त कर दिया कि ये बातें मनुष्य पर आएं, तो देखो, यह आवश्यक था कि मनुष्य उन चीजों के बारे में जाने, जिन्हें उसने उनके लिए नियुक्त किया था;
48 इसलिथे उस ने उन से बातें करने के लिथे दूत भेजे, जिन ने मनुष्योंको उसकी महिमा प्रगट की।
49 और वे उसी समय से उसका नाम लेने लगे; इसलिए परमेश्वर ने मनुष्यों से बातचीत की, और उन्हें छुटकारे की योजना के बारे में बताया, जो जगत की उत्पत्ति से तैयार की गई थी;
50 और यह बात उस ने उन पर उनके विश्वास, और मन फिराव, और उनके पवित्र कामोंके अनुसार प्रगट की;
51 इसलिए उसने मनुष्यों को आज्ञाएँ दीं, उन्होंने पहले अस्थायी बातों के बारे में पहली आज्ञाओं का उल्लंघन किया, और बुराई से अच्छाई जानकर, स्वयं को कार्य करने की स्थिति में रखते हुए, या उसके अनुसार कार्य करने की स्थिति में रखकर देवता बन गए। उनकी इच्छा और सुख, चाहे बुराई करना हो या अच्छा करना;
52 इसलिथे परमेश्वर ने उन्हें छुटकारे की युक्ति बताकर आज्ञा दी, कि वे कोई बुराई न करें, उसका दण्ड दूसरी मृत्यु है, जो धार्मिकता के विषय में अनन्त मृत्यु थी;
53 क्‍योंकि ऐसी छुटकारे की युक्ति का कोई अधिकार नहीं, क्‍योंकि परमेश्वर की परम भलाई के अनुसार न्याय के कामोंको नाश नहीं किया जा सकता था।
54 परन्तु परमेश्वर ने अपने पुत्र के नाम से मनुष्यों को बुलाया, (यह छुटकारे की योजना थी जो रखी गई थी), यह कहते हुए: यदि तुम मन फिराओ और अपने मन को कठोर न करो, तो मैं अपने द्वारा तुम पर दया करूंगा इकलौता बेटा
55 इसलिए जो कोई पश्‍चाताप करे, और अपने मन को कठोर न करे, वह मेरे एकलौते पुत्र के द्वारा अपने पापों की क्षमा के लिए दया का दावा करे; और ये मेरे विश्राम में प्रवेश करेंगे।
56 और जो कोई अपके मन को कठोर करे और अधर्म करे, वह अपके जलजलाहट की शपय खाकर कहता है, कि वह मेरे विश्राम में प्रवेश न करेगा।
57 और अब मेरे भाइयों, देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यदि तुम अपने हृदयों को कठोर करोगे, तो प्रभु के विश्राम में प्रवेश न करने पाओगे;
58 इसलिथे तेरा अधर्म उसको भड़काता है, कि वह पहिले भड़काने की नाई तुझ पर अपना कोप भड़काता है,
59 वरन उसके वचन के अनुसार जो पिछली बार भड़काए जाने के साथ-साथ पहिला भी था, कि तुम्हारे प्राण सदा के लिए नष्ट हो जाएंगे; इसलिए, उसके वचन के अनुसार, अंतिम मृत्यु तक, साथ ही पहली मृत्यु तक ।
60 और अब मेरे भाइयों, यह देखकर कि हम इन बातों को जानते हैं, और वे सत्य हैं, आओ, हम मन फिराएं, और अपने मनों को कठोर न करें, कि हम अपने परमेश्वर यहोवा को उसकी दूसरी आज्ञाओं में से जो उसके पास हैं, उसके क्रोध को हम पर न भड़काएं। हमें दिया गया;
61 परन्तु हम उस विश्राम में प्रवेश करें, जो परमेश्वर के वचन के अनुसार तैयार किया गया है।
62 और फिर: मेरे भाइयों, मैं तुम्हारे मन को उस समय के बारे में बताऊंगा जब प्रभु परमेश्वर ने अपने बच्चों को ये आज्ञाएं दी थीं;
63 और मैं चाहता हूं कि तुम स्मरण रखो कि प्रभु परमेश्वर ने याजकों को अपनी पवित्र व्यवस्था के अनुसार, जो उसके पुत्र की आज्ञा के अनुसार थी, लोगों को ये बातें सिखाने के लिए ठहराया;
64 और वे याजक उसके पुत्र की आज्ञा के अनुसार इस रीति से ठहराए गए, कि उसके द्वारा लोग जान सकें कि किस रीति से उसके पुत्र की छुटकारे की बाट जोहते हैं।
65 और जिस रीति से उन्हें ठहराया गया, वह यह है, कि परमेश्वर की पहिचान के अनुसार, और उनके अत्याधिक विश्वास और भले कामोंके कारण जगत की उत्पत्ति के समय से बुलाए और तैयार किए गए; पहली जगह में अच्छा या बुरा चुनने के लिए छोड़ा जा रहा है;
66 इसलिए उन्होंने भलाई को चुना है, और अत्यधिक विश्वास करते हुए, पवित्र बुलाहट के साथ बुलाए गए हैं, हां, उस पवित्र बुलाहट के साथ, जिसे ऐसे लोगों के लिए एक प्रारंभिक छुटकारे के साथ तैयार किया गया था;
67 और इस प्रकार वे अपने विश्वास के कारण इस पवित्र बुलाहट के लिए बुलाए गए हैं, जबकि अन्य लोग अपने हृदय की कठोरता और अपने मन के अंधेपन के कारण परमेश्वर के आत्मा को अस्वीकार करते, जबकि, यदि ऐसा नहीं होता, तो वे हो सकता है कि उनके भाइयों के रूप में महान विशेषाधिकार हो।
68 वा उत्तम में, पहिले तो वे अपके भाइयोंके संग उसी पर खड़े थे; इस प्रकार इस पवित्र बुलाहट को जगत की उत्पत्ति से तैयार किया जा रहा है, क्योंकि जो तैयार किए गए एकलौते पुत्र के प्रायश्चित में और उसके द्वारा अपने हृदयों को कठोर नहीं करेंगे;
69 और इस प्रकार उसकी पवित्र बुलाहट के द्वारा बुलाया गया, और परमेश्वर की पवित्र व्यवस्था के महायाजकपद में नियुक्त किया गया, कि मनुष्य की सन्तान को उसकी आज्ञाएं सिखाएं, कि वे भी उसके विश्राम में प्रवेश करें,
70 यह महायाजक पद उसके पुत्र की आज्ञा के अनुसार है, जो जगत की उत्पत्ति के समय से है।
71 या दूसरे शब्दों में, दिनों की शुरुआत या वर्षों के अंत के बिना, अनंत काल से सभी अनंत काल तक, सभी चीजों के बारे में अपने पूर्वज्ञान के अनुसार तैयार किया जा रहा है।
72 अब वे इस प्रकार ठहराए गए: पवित्र बुलाहट के साथ बुलाए गए, और पवित्र विधि के साथ ठहराया गया, और पवित्र व्यवस्था का महायाजक पद अपने ऊपर ले लिया, जो बुलाहट, और विधि, और महायाजक पद, आदि या अंत के बिना है ;

73 इस प्रकार वे पुत्र की आज्ञा के अनुसार सदा के लिए महायाजक बन जाते हैं, जो पिता का एकमात्र भिखारी है, जो दिनों की शुरुआत या वर्षों के अंत के बिना है, जो अनुग्रह, समानता और सच्चाई से भरा है। और इस प्रकार है। तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 10

1 अब जैसा कि मैं ने इस महायाजकवर्ग की पवित्र व्यवस्था के विषय में कहा, बहुत से ऐसे थे जो ठहराया गया और परमेश्वर के महायाजक बने;
2 और यह उनके अत्यधिक विश्वास और पश्चाताप, और परमेश्वर के सामने उनकी धार्मिकता के कारण था, उन्होंने नाश होने के बजाय पश्चाताप करने और धार्मिकता के कार्य करने का चुनाव किया;
3 इस कारण वे इस पवित्र व्यवस्था के अनुसार बुलाए गए, और पवित्र किए गए, और उनके वस्त्र मेम्ने के लोहू के द्वारा धुले हुए सफेद हुए।
4 अब वे पवित्र आत्मा के द्वारा पवित्र किए जाने के बाद, अपने वस्त्र सफेद किए हुए, और परमेश्वर के सामने शुद्ध और बेदाग होने के कारण, पाप को नहीं देख सकते थे, सिवाय घृणा के;
5 और बहुत से थे, जो बहुत अधिक थे, जो शुद्ध किए गए, और अपने परमेश्वर यहोवा के विश्राम में प्रवेश किए।
6 और अब, मेरे भाइयों, मैं चाहता हूं कि तुम परमेश्वर के साम्हने दीन हो जाओ, और मन फिराव के लिये फल लाओ, कि तुम भी उस विश्राम में प्रवेश कर सको;
7 वरन मल्कीसेदेक के दिनों की प्रजा के समान दीन हो जाओ, जो उसी रीति के अनुसार जो मैं ने कहा है, महायाजक भी था, और उस ने महायाजक पद भी सदा के लिथे अपने ऊपर ले लिया था।
8 और यह वही मल्कीसेदेक था जिसे इब्राहीम ने दशमांश दिया था: हां, हमारे पिता इब्राहीम ने भी अपनी सारी संपत्ति के दसवें हिस्से का दशमांश दिया था ।
9 अब ये नियम इस रीति से दिए गए, कि इस रीति से लोग परमेश्वर के पुत्र की बाट जोहते रहें, यह उसकी आज्ञा का एक प्रकार है, या यह उसकी आज्ञा है;
10 और यह इसलिथे कि वे अपके पापोंकी क्षमा के लिथे उस की बाट जोहते रहें, कि वे यहोवा के विश्राम में प्रवेश करें।
11 यह मल्कीसेदेक शालेम देश का राजा या; और उसकी प्रजा अधर्म और घिनौने कामोंमें दृढ़ हो गई थी; हां, वे सब भटक गए थे: वे सब प्रकार की दुष्टता से भरे हुए थे;
12 परन्तु मलिकिसिदक ने दृढ़ विश्वास का प्रयोग करके, और परमेश्वर की पवित्र व्यवस्था के अनुसार महायाजक पद का पद ग्रहण करके अपने लोगों को मन फिराव का उपदेश दिया।
13 और देखो, उन्होंने पश्चाताप किया; और मल्कीसेदेक ने अपने दिनोंमें देश में शान्ति स्थापित की;
14 इस कारण वह मेल का प्रधान कहलाया, क्योंकि वह शालेम का राजा था; और वह अपने पिता के अधीन राज्य करता रहा।
15 उस से पहिले बहुत थे, और उसके बाद भी बहुत थे, परन्तु कोई बड़ा न हुआ; इसलिए उन्होंने उसका विशेष रूप से उल्लेख किया है।
16 अब मुझे इस मामले का पूर्वाभ्यास करने की आवश्यकता नहीं है; मैंने जो कहा है, वह पर्याप्त हो सकता है।
17 देखो, पवित्रशास्त्र तुम्हारे साम्हने हैं; यदि तुम उन्हें हथियाओगे तो वह तुम्हारा ही विनाश होगा।
18 और अब ऐसा हुआ कि जब अलमा ने उनसे ये बातें कह लीं, तो उसने उन पर अपना हाथ बढ़ाया और एक शक्तिशाली आवाज में यह कहते हुए चिल्लाया, अब पश्चाताप करने का समय है, क्योंकि उद्धार का दिन निकट है;
19 वरन यहोवा की वाणी स्वर्गदूतोंके मुख से सब जातियोंको सुनाती है; वरन उसका प्रचार भी करता है, कि उन्हें बड़े आनन्द का समाचार मिले;
20 हां, और वह ये खुशखबरी अपनी सारी प्रजा के बीच सुनाता है, हां, उन्हें भी जो पृथ्वी पर फैले हुए हैं; इसलिए वे हमारे पास आए हैं।
21 और वे हम पर सीधे शब्दों में प्रगट किए गए हैं, कि हम समझ सकें, कि हम चूक न करें; और यह इस कारण है कि हम पराए देश में भटकते रहते हैं:
22 इस कारण हम पर बहुत अनुग्रह हुआ है, क्योंकि अपके दाख की बारी के सब भागोंमें हम पर यह शुभ समाचार सुनाया गया है।
23 क्योंकि देखो, इस समय हमारे देश में बहुतों को स्वर्गदूत इसकी घोषणा कर रहे हैं; और यह मनुष्य के सन्तान के मन को उसके वचन को ग्रहण करने के लिये तैयार करने के लिये तैयार किया गया है, जब वह उसकी महिमा में आ रहा हो।
24 और अब हम केवल उस आनन्दमय समाचार को सुनने की बाट जोहते हैं जो स्वर्गदूतों के मुख से उसके आने के बारे में हमें बताया गया है; आने वाले समय के लिए हम नहीं जानते कि कितनी जल्दी।
25 परमेश्वर से यही चाहता कि मेरे दिन में ऐसा हो; परन्तु देर-सबेर उस में मैं आनन्दित होऊंगा।
26 और उसके आने के समय धर्मी और पवित्र जनों को स्वर्गदूतों के मुख से प्रगट किया जाएगा, कि हमारे पुरखाओं की जो बातें उन्होंने उसके विषय में कही हैं, वे पूरी हों, जो उसके अनुसार थी। भविष्यवाणी की आत्मा जो उनमें थी।
27 और अब मेरे भाइयों, मैं अपने हृदय की गहराई से चाहता हूं, हां, बड़ी चिंता के साथ, यहां तक कि पीड़ा तक, कि तुम मेरी बातों पर ध्यान दो, और अपने पापों को दूर करो, और अपने पश्चाताप के दिन को विलंबित न करो;
28 परन्तु इसलिये कि तुम यहोवा के साम्हने दीन हो जाओ, और उसके पवित्र नाम को पुकारो, और जागते रहो और प्रार्थना करते रहो, कि जो कुछ तुम सह सकते हो उस से ऊपर परीक्षा में न पड़ो, और इस प्रकार नम्र, नम्र होकर पवित्र आत्मा के द्वारा चलाए जाओ, विनम्र, धैर्यवान, प्यार से भरा और सभी लंबे दुखों से भरा हुआ; प्रभु पर विश्वास रखना;
29 इस आशा के साथ कि तुम अनन्त जीवन पाओगे; परमेश्वर का प्रेम तुम्हारे हृदयों में सदा बना रहे, कि तुम अंतिम दिन में ऊंचे पर चढ़ो, और उसके विश्राम में प्रवेश करो;
30 और प्रभु तुम्हें पश्चाताप प्रदान करे, कि तुम उसके क्रोध को तुम पर न उतारो, कि तुम नरक की जंजीरों से न बंधे रहो, कि तुम दूसरी मृत्यु को न भुगतो ।
31 और अलमा ने लोगों से और भी कई बातें कही जो इस पुस्तक में नहीं लिखी गई हैं ।
32 और ऐसा हुआ कि जब उसने लोगों से बोलना समाप्त किया, तो उनमें से बहुतों ने उसकी बातों पर विश्वास किया, और पश्चाताप करने और पवित्रशास्त्र की खोज करने लगे;
33 परन्तु उनमें से अधिकतर की इच्छा थी कि वे अलमा और अमूलेक को नष्ट कर दें; क्योंकि वे जीजरोम के प्रति उसके स्पष्ट शब्दों के कारण अलमा से नाराज़ थे;
34 और उन्होंने यह भी कहा, कि अमूलेक ने उन से झूठ बोला, और उनकी व्यवस्था, और उनके वकीलों और न्यायियोंकी भी निन्दा की थी।
35 और वे अलमा और अमूलेक से भी क्रोधित हुए; और क्योंकि उन्होंने अपनी दुष्टता के विरुद्ध इतनी स्पष्ट गवाही दी थी, उन्होंने उन्हें गुप्त रूप से दूर करने की कोशिश की।
36 लेकिन ऐसा हुआ कि उन्होंने ऐसा नहीं किया; परन्‍तु उन्‍हें पकड़कर दृढ़ रस्सियोंसे बान्धा, और देश के प्रधान न्यायी के साम्हने ले गए।
37 और लोगों ने जाकर उनके विरुद्ध गवाही दी, और यह गवाही दी, कि उन्होंने व्यवस्था, और अपके वकीलों, और देश के न्यायियों, और देश के सब लोगोंकी निन्दा की है;
38 और यह भी गवाही दी, कि केवल एक ही परमेश्वर है, और वह अपके पुत्र को प्रजा के बीच में भेजे, परन्तु उनका उद्धार न करे; और लोगों ने अलमा और अमूलेक के विरुद्ध ऐसी बहुत सी बातों की गवाही दी ।
39 अब यह देश के मुख्य न्यायी के सामने किया गया था।
40 और ऐसा हुआ कि जीजरोम कही गई बातों से चकित रह गया; और वह अपक्की झूठी बातोंके द्वारा लोगोंके मन के अन्धे होनेके विषय में भी जानता या;
41 और उसका प्राण अपके ही अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपराध के वश में सताया जाने लगा; हाँ, वह नरक की पीड़ाओं से घिरा होने लगा।
42 और ऐसा हुआ कि वह लोगों को यह कहते हुए पुकारने लगा: देखो मैं दोषी हूं, और ये लोग परमेश्वर के सामने बेदाग हैं ।
43 और वह उस समय से उन से याचना करने लगा; परन्तु उन्होंने उसकी निन्दा करते हुए कहा, क्या तू भी शैतान के वश में है?
44 और उन्होंने उस पर थूका, और उसे अपने बीच में से निकाल दिया, और उन सभी को भी जो अलमा और अमूलेक द्वारा कही गई बातों पर विश्वास करते थे; और उन्हों ने उनको बाहर निकाल दिया, और उन पर पत्यर फेंकने के लिथे पुरूष भेजे।
45 और वे अपक्की पत्नियों और बालकोंको साय ले आए, और जो कोई ईमान लाए, या जिन्हें परमेश्वर के वचन पर विश्वास करना सिखाया गया था, उन्होंने आग में डाल दिया;
46 और उन्होंने अपके अभिलेख भी निकाले, जिन में पवित्र शास्त्र थे, और उन्हें भी आग में झोंक दिया, कि वे जलकर नष्ट हो जाएं।
47 और ऐसा हुआ कि वे अलमा और अमूलेक को ले गए, और उन्हें शहादत के स्थान पर ले गए, ताकि वे उन लोगों के विनाश को देख सकें जो आग में जल गए थे ।
48 और जब अमूलेक ने आग में भस्म करनेवाली स्त्रियों और बालकोंकी पीड़ा देखी, तब वह भी व्याकुल हुआ; और उसने अलमा से कहा, हम इस भयानक दृश्य को कैसे देख सकते हैं ?
49 इसलिथे हम अपके हाथ बढ़ाकर परमेश्वर की जो सामर्थ हम में है काम में लाएं, और उन्हें आग की लपटोंसे बचा लें।
50 परन्तु अलमा ने उस से कहा, आत्मा मुझे विवश करता है कि मैं अपना हाथ न बढ़ाऊं; क्योंकि देखो, यहोवा उन्हें महिमा के साथ अपके पास ग्रहण करता है;
51 और वह दुख उठाता है, कि वे ऐसा करें, वा लोग अपने मन की कठोरता के अनुसार उनके साथ ऐसा करें, कि जो न्याय वह अपके क्रोध में उन पर करेगा, वे धर्मी ठहरें;
52 और निर्दोषों का लहू उनके साम्हने साक्षी ठहरेगा, हां, और अन्तिम दिन में उनके विरुद्ध बल से चिल्लाएगा ।
53 अब अमूलेक ने अलमा से कहा, देखो, शायद वे हमें भी जला देंगे ।
54 और अलमा ने कहा, यहोवा की इच्छा के अनुसार हो। परन्तु देखो, हमारा काम पूरा नहीं हुआ है; इसलिए वे हमें नहीं जलाते।
55 अब ऐसा हुआ कि जब आग में डाले गए लोगों के शव, और उनके साथ डाले गए अभिलेख भी भस्म हो गए, तो प्रदेश का मुख्य न्यायाधीश अलमा और अमूलेक के सामने आकर खड़ा हो गया, जैसे वे बाध्य थे;
56 और उस ने उनके गालोंपर हाथ फेरकर उन से कहा, जो कुछ तुम ने देखा है उसके बाद क्या तुम इन लोगोंको फिर प्रचार करोगे, कि वे आग और गंधक की झील में डाल दिए जाएंगे?
57 देखो, तुम देखते हो कि आग में डाले गए लोगों को बचाने का अधिकार तुम्हें नहीं था; न तो परमेश्वर ने उन्हें बचाया, क्योंकि वे तेरे विश्वास के थे।
58 तब न्यायी ने उनके गालों पर थपकी मारकर पूछा, तुम अपने विषय में क्या कहते हो?
59 और यह न्यायी निहोर की आज्ञा और विश्वास के अनुसार हुआ, जिस ने गिदोन को घात किया था।
60 और ऐसा हुआ कि अलमा और अमूलेक ने उसे कुछ उत्तर नहीं दिया; और उस ने उनको फिर मारा, और बन्दीगृह में डालने के लिथे हाकिमोंके हाथ सौंप दिया।
61 और जब वे तीन दिन के लिये बन्दीगृह में डाले गए, तब बहुत से वकील, और न्यायी, और याजक, और शिक्षक आए, जो नेहोर के काम के थे;
62 और वे बन्दीगृह में उन से भेंट करने आए, और बहुत सी बातें उन से पूछीं; परन्तु उन्होंने उन्हें कुछ भी उत्तर नहीं दिया।
63 और ऐसा हुआ कि न्यायी उनके सामने खड़ा हो गया, और कहा, तुम इन लोगों की बातों का उत्तर क्यों नहीं देते ?
64 क्या तुम नहीं जानते, कि मुझे तुम्हें आग की लपटों के हवाले करने का अधिकार है?
65 और उस ने उन्हें बोलने की आज्ञा दी; लेकिन उन्होंने कुछ भी जवाब नहीं दिया।
66 और ऐसा हुआ कि वे चले गए और अपने रास्ते चले गए, लेकिन अगले दिन फिर आए; और न्यायी ने उन के गालों पर फिर मारा।
67 और बहुतों ने निकलकर उन को यह कहकर मार डाला, कि क्या तुम फिर खड़े होकर इन प्रजा का न्याय करोगे, और हमारी व्यवस्था को दोषी ठहराओगे?
68 यदि तुम में इतनी बड़ी शक्ति है, तो तुम अपना उद्धार क्यों नहीं करते?
69 और उन्होंने उन से ऐसी बहुत सी बातें कहीं, जो उन पर दांत पीसती, और उन पर थूकती, और कहती थीं, कि जब हम शापित हों, तब हम कैसी दृष्टि करें?
70 और ऐसी बहुत सी बातें, हां, उन्होंने उनसे हर प्रकार की ऐसी बातें कहीं; और इस प्रकार वे बहुत दिनों तक उनका उपहास करते रहे।
71 और उन्होंने उन से अन्न न खाया, जिस से वे भूखे और जल रहें, कि वे प्यासे हों;
72 और उन्होंने उन से अपके वस्त्र भी ले लिये, कि वे नंगे थे; और इस प्रकार वे मजबूत रस्सियों से बंधे, और जेल में बंद थे।
73 और ऐसा हुआ कि उनके द्वारा बहुत दिनों तक इस प्रकार कष्ट सहने के बाद, (और नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के दसवें वर्ष में, यह बारहवें दिन, दसवें महीने में था), कि मुख्य न्यायी अम्मोनिहा के प्रदेश पर, और उनके बहुत से शिक्षक और उनके वकील, उस बंदीगृह में गए जहां अलमा और अमूलेक रस्सियों से बंधे थे ।
74 और उनका प्रधान न्यायी उनके साम्हने खड़ा हुआ, और उन्हें फिर मारा, और उन से कहा, यदि तुम में परमेश्वर का अधिकार है, तो इन बंधुओं से अपने आप को बचाओ, और तब हम विश्वास करेंगे, कि यहोवा तेरी बातोंके अनुसार इन लोगोंको नाश करेगा।
75 और ऐसा हुआ कि वे सब निकल गए और आखिरी तक एक ही बात कहते हुए उन्हें मारते रहे;
76 और जब अंतिम ने उनसे बात की, तो अलमा और अमूलेक पर परमेश्वर की शक्ति थी, और वे उठकर अपने पैरों पर खड़े हो गए; और अलमा ने पुकार कर कहा, हे प्रभु, हम कब तक इन बड़े क्लेशों को सहेंगे?
77 हे यहोवा, हमारे उस विश्वास के अनुसार जो मसीह में है, हम को छुटकारा पाने की शक्ति दे; और जिन रस्सियों से वे बँधे थे, उन्हें उन्होंने तोड़ा; और जब लोगों ने यह देखा, तो वे भागने लगे, क्योंकि उन पर विनाश का भय छा गया था।
78 और ऐसा हुआ कि उनका भय इतना अधिक बढ़ गया कि वे भूमि पर गिर पड़े, और बंदीगृह के बाहरी द्वार को प्राप्त नहीं किया;
79 और पृय्वी काँप उठी, और बन्दीगृह की शहरपनाह फटकर दो टुकड़े हो गईं, और वे पृय्वी पर गिर पड़ीं।
80 और मुख्य न्यायी, और वकील, और याजक, और शिक्षक, जिन्होंने अलमा और अमूलेक को मारा, उसके गिरने से मारे गए ।
81 और अलमा और अमूलेक बन्दीगृह से बाहर निकले, और उन्हें कोई हानि नहीं हुई; क्‍योंकि प्रभु ने उन्‍हें उनके विश्‍वास के अनुसार जो मसीह में था, सामर्थ दी थी।
82 और वे तुरन्त बन्दीगृह से निकल आए; और वे अपके बन्धन से छूट गए;
83 और बंदीगृह भूमि पर गिर गया था, और अलमा और अमूलेक को छोड़कर हर एक प्राणी जो उसकी शहरपनाह के भीतर था, मारा गया; और वे सीधे नगर में आ गए।
84 वे लोग बड़े शोर-शराबे को सुनकर भीड़ की भीड़ के कारण इकट्ठी होकर उसका कारण जानने को दौड़े चले आए;
85 और जब उन्होंने अलमा और अमूलेक को बंदीगृह से बाहर निकलते हुए देखा, और उसकी शहरपनाह भूमि पर गिर गई, तो वे बहुत डर गए और अलमा और अमूलेक के सामने से भाग गए, जैसे एक बकरी अपने बच्चे के साथ भाग गई। दो शेर; और इस प्रकार वे अलमा और अमूलेक की उपस्थिति से भाग गए ।
86 और ऐसा हुआ कि अलमा और अमूलेक को उस नगर से बाहर जाने की आज्ञा दी गई; और वे चल दिए, और सीदोम देश में निकल आए;
87 और देखो, वहां उन्होंने उन सभी लोगों को पाया जो अम्मोनिहा के प्रदेश से निकल गए थे, जिन्हें निकाल दिया गया था और पत्थरवाह किया गया था, क्योंकि उन्होंने अलमा के शब्दों में विश्वास किया था:
88 और उन्होंने जो कुछ उनकी पत्नियों और बच्चों के साथ हुआ था, और अपने आप को, और उनके छुटकारे की शक्ति के बारे में बताया ।
89 और जीजरोम भी सिदोम में जलते हुए ज्वर से बीमार पड़ा था, जो उसकी दुष्टता के कारण उसके मन के बड़े क्लेशों के कारण हुआ था, क्योंकि उसने सोचा था कि अलमा और अमूलेक अब नहीं रहे; और वह समझ गया कि वे उसके अधर्म के कारण मारे गए हैं।
90 और इस बड़े पाप, और उसके बहुत से अन्य पापों ने उसके मन को तब तक दु:ख दिया, जब तक कि उसका छुटकारा न मिला, और वह अत्यधिक पीड़ादायक हो गया; इसलिए वह भीषण गर्मी से झुलसने लगा।
91 अब जब उसने सुना कि अलमा और अमूलेक सीदोम प्रदेश में हैं, तो उसके हृदय में साहस आ गया; और उस ने तुरन्त उनके पास यह कहला भेजा, कि वे उसके पास आएं।
92 और ऐसा हुआ कि वे उस सन्देश का पालन करते हुए जो उसने उन्हें भेजा था, तुरन्त चले गए; और वे जीजरोम को भवन में गए;
93 और उन्होंने उसे उसके बिछौने पर रोगी पाया, और वह बहुत ही कम ज्वर से ग्रस्त था; और उसके अधर्म के कामों के कारण उसका मन भी बहुत उदास था;
94 और उन्हें देखकर उस ने हाथ बढ़ाकर उन से बिनती की, कि वे उसे चंगा करें।
95 और ऐसा हुआ कि अलमा ने उसका हाथ पकड़कर उससे कहा, उद्धार के लिए मसीह की शक्ति में क्या तुम विश्वास करते हो ?
96 और उस ने उत्तर देकर कहा, हां, जो बातें तू ने सिखाई हैं उन सब पर मैं विश्वास करता हूं।
97 और अलमा ने कहा, यदि आप मसीह के छुटकारे में विश्वास करते हैं, तो आप चंगे हो सकते हैं ।
98 और उस ने कहा, हां, मैं तेरी बातोंके अनुसार विश्वास करता हूं।
99 और फिर अलमा ने प्रभु को पुकारते हुए कहा, हे हमारे परमेश्वर प्रभु, इस व्यक्ति पर दया करो, और उसके विश्वास के अनुसार जो मसीह में है उसे चंगा करो ।
100 और जब अलमा ने ये बातें कह लीं, जीजरोम अपने पैरों पर चढ़ गया, और चलने लगा;
101 और यह सब लोगोंको बड़ा अचम्भा हुआ; और इस बात की जानकारी सीदोम के सारे देश में फैल गई।
102 और अलमा ने जीजरोम को यहोवा का बपतिस्मा दिया; और वह उसी समय से लोगों को प्रचार करने लगा।
103 और अलमा ने सीदोम के प्रदेश में एक गिरजाघर की स्थापना की, और उस प्रदेश में याजकों और शिक्षकों को नियुक्त किया, जो बपतिस्मा लेने के इच्छुक लोगों को प्रभु को बपतिस्मा देने के लिए थे ।
104 और ऐसा हुआ कि वे बहुत थे; क्योंकि वे सीदोम के चारोंओर के सब देश से भेड़-बकरी आए, और उन्होंने बपतिस्मा लिया;
105 परन्तु जो लोग अम्मोनिहा के प्रदेश में रहते थे, वे तौभी हठीले और हठीले बने रहे;
106 और उन्होंने अलमा और अमूलेक की सारी शक्ति शैतान को बताते हुए अपने पापों से पश्चाताप नहीं किया: क्योंकि वे नेहोर के पेशे में थे, और अपने पापों के पश्चाताप में विश्वास नहीं करते थे ।
107 और ऐसा हुआ कि अलमा और अमूलेक, अमूलेक ने अपना सारा सोना, और चांदी, और अपनी कीमती चीजें, जो अम्मोनिहा के प्रदेश में थीं, को परमेश्वर के वचन के लिए त्याग दिया था, उसे उन लोगों द्वारा अस्वीकार किया जा रहा था जो कभी उसके मित्र थे और उसके पिता और उसके कुटुम्बियोंके द्वारा भी;
108 इसलिए, जब अलमा ने सिदोम में गिरजाघर की स्थापना की, एक बड़ी रोक को देखते हुए, हां, यह देखते हुए कि लोगों को उनके हृदय के गर्व के रूप में परखा गया, और परमेश्वर के सामने स्वयं को विनम्र करने लगे,
109 और अपके अपके पवित्रस्थानोंमें वेदी के साम्हने परमेश्वर की उपासना करने के लिथे इकट्ठी हुई, और नित्य जागते, और प्रार्थना करते रहे, कि वे शैतान और मृत्यु और विनाश से बचाए जाएं;
110 अब जैसा कि मैंने कहा, अलमा ने इन सब बातों को देखकर अमूलेक को ले लिया और जराहेमला प्रदेश में आया, और उसे अपने घर ले गया, और उसके क्लेशों में उसका प्रशासन किया, और उसे प्रभु में दृढ़ किया ।
111 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन का दसवां वर्ष समाप्त हुआ ।

 

अल्मा, अध्याय 11

1 और ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के ग्यारहवें वर्ष में, दूसरे महीने के पांचवें दिन, जराहेमला प्रदेश में बहुत शांति रही; कुछ वर्षों से कोई युद्ध या विवाद नहीं हुआ है; और दूसरे महीने के पांचवें दिन तक, अर्थात् ग्यारहवें वर्ष में, सारे देश में युद्ध की जयजयकार हुई;
2 क्योंकि देखो, लमनाइयों की सेना वीरान क्षेत्र में, प्रदेश की सीमाओं में, अम्मोनिहा के नगर में आ गई थी, और लोगों को मारना शुरू कर दिया था, और नगर को नष्ट करना शुरू कर दिया था ।
3 और अब ऐसा हुआ कि इससे पहले कि नफाई उन्हें प्रदेश से बाहर निकालने के लिए पर्याप्त सेना जुटा पाते, उन्होंने उन लोगों को नष्ट कर दिया जो अम्मोनिहा शहर में थे, और कुछ नूह की सीमाओं के आसपास भी थे, और दूसरों को बंदी बनाकर ले गए थे। जंगली।
4 अब ऐसा हुआ कि नफाई उन लोगों को प्राप्त करने के इच्छुक थे जिन्हें बंदी बनाकर निर्जन प्रदेश में ले जाया गया था;
5 इसलिए वह जो नफाइयों की सेना का प्रधान नियुक्त किया गया था, (और उसका नाम जोराम था, और उसके दो पुत्र हुए, लेही और अहा):
6 अब जोराम और उसके दो पुत्र, यह जानते हुए कि अलमा गिरजे का महायाजक था, और यह सुनकर कि उसमें भविष्यवाणी की आत्मा है,
7 इसलिए वे उसके पास गए और उससे यह जानना चाहा कि क्या प्रभु चाहते हैं कि वे अपने भाइयों की तलाश में निर्जन प्रदेश में जाएं, जिन्हें लमनाइयों ने बंदी बना लिया था ।
8 और ऐसा हुआ कि अलमा ने मामले के संबंध में प्रभु से पूछताछ की ।
9 और अलमा ने लौटकर उन से कहा, देखो, लमनाई दक्षिण के निर्जन प्रदेश में सीदोन नदी को पार करेंगे, जो मण्टी प्रदेश की सीमाओं के पार है ।
10 और देखो, वहां तुम उनसे मिलोगे, सीदोन नदी के पूर्व में, और वहां प्रभु तुम्हारे उन भाइयों को छुड़ाएगा जिन्हें लमनाइयों ने बंदी बना लिया है,
11 और ऐसा हुआ कि जोराम और उसके पुत्रों ने अपनी सेना के साथ सीदोन नदी को पार किया, और मण्टी की सीमा से आगे दक्षिण निर्जन प्रदेश में चले गए, जो सीदोन नदी के पूर्व की ओर था ।
12 और वे लमनाइयों की सेना पर आक्रमण कर गए, और लमनाइयों को तितर-बितर कर निर्जन प्रदेश में भगा दिया गया; कि वे अपने भाइयों को ले गए जिन्हें लमनाइयों ने बंदी बना लिया था, और उनमें से एक भी ऐसा नहीं था जो खो गया था, जिसे बंदी बनाया गया था ।
13 और वे अपने भाइयोंके द्वारा उनकी भूमि के अधिकारी होने के लिथे लाए गए ।
14 और इस प्रकार न्यायियों के ग्यारहवें वर्ष का अंत हुआ, लमनाइयों को प्रदेश से निकाल दिया गया, और अम्मोनिहा के लोगों को नष्ट कर दिया गया;
15 हां, अम्मोनीहियों के प्रत्येक जीवित प्राणी को नष्ट कर दिया गया था, और उनके महान नगर को भी, जिसके बारे में उन्होंने कहा था कि परमेश्वर अपनी महानता के कारण नष्ट नहीं कर सकता ।
16 परन्तु देखो, वह एक ही दिन में उजाड़ हो गया; और लोथों को कुत्तों और जंगल के जंगली जानवरों ने मार डाला;
17 तौभी, बहुत दिनों के बाद, उनकी लोथें पृय्वी पर ढेर हो गईं, और वे छिछले ओढ़ने से ढँकी हुई थीं।
18 और अब उसकी सुगन्ध इतनी तेज थी, कि लोग अम्मोनिहा के प्रदेश के अधिकारी होने के लिथे बहुत वर्ष तक भीतर न गए ।
19 और उसका नाम नहोर का उजाड़ पड़ा; क्योंकि वे मारे गए निहोर के पेशे के थे; और उनकी भूमि उजड़ गई।
20 और नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के चौदहवें वर्ष तक लमनाइयों ने नफाइयों के विरुद्ध युद्ध करने के लिए दोबारा नहीं आना शुरू किया ।
21 और इस प्रकार तीन वर्षों तक नफी के लोगों के पास पूरे प्रदेश में निरंतर शांति रही ।
22 और अलमा और अमूलेक लोगों को उनके मंदिरों में, और उनके अभयारण्यों में, और उनके आराधनालयों में, जो यहूदियों के तरीके के अनुसार बनाए गए थे, पश्चाताप का प्रचार करने के लिए निकले ।
23 और जितनों ने उनकी बातें सुनीं, उन्होंने बिना किसी की परवाह किए, उन्हें लगातार परमेश्वर का वचन सुनाया ।
24 और इस प्रकार अलमा और अमूलेक आगे बढ़े, और कई और भी जिन्हें पूरे प्रदेश में वचन का प्रचार करने के लिए कार्य के लिए चुना गया था ।
25 और गिरजे की स्थापना पूरे प्रदेश में, आसपास के पूरे क्षेत्र में, नफाइयों के सभी लोगों के बीच सामान्य हो गई ।
26 और उनके बीच कोई असमानता नहीं थी, क्योंकि यहोवा ने अपना आत्मा पूरे देश पर उण्डेल दिया, कि मानव संतानों के मन को तैयार करें, या उनके दिलों को उस वचन को प्राप्त करने के लिए तैयार करें जो उनके बीच सिखाया जाना चाहिए उसके आने के समय,
27 ऐसा न हो कि वे वचन के विरुद्ध कठोर हों, और अविश्वासी न हों, और नाश हो जाएं,
28 परन्तु इसलिथे कि वे आनन्द से वचन ग्रहण करें, और दाखलता की नाईं साटे जाएं, कि वे अपके परमेश्वर यहोवा के विश्राम में प्रवेश करें।
29 अब वे याजक जो लोगों के बीच जाते थे, उन्होंने सब झूठ, और छल, और डाह, और द्वेष, और गाली-गलौज, और चोरी, लूट, लूट, हत्या, व्यभिचार, और हर प्रकार की कामुकता के विरुद्ध प्रचार किया , रोना है कि ये बातें ऐसा नहीं होना चाहिए;
30 उन बातों को जो शीघ्र ही आनेवाली हैं, ठहराना; हां, परमेश्वर के पुत्र के आगमन, उसके कष्टों और मृत्यु, और मृतकों के पुनरुत्थान को भी थामे हुए।
31 और लोगों में से बहुतों ने उस स्थान के विषय में पूछा, जहां परमेश्वर का पुत्र आना चाहिए; और उन्हें सिखाया गया था कि वह अपने पुनरुत्थान के बाद उन्हें दिखाई देगा; और यह लोगों ने बड़े आनन्द और आनन्द से सुना।
32 और अब जब कलीसिया सारे देश में स्थापित हो गई है, और शैतान पर जय पाई है, और परमेश्वर का वचन पूरे देश में उसकी पवित्रता के साथ प्रचार किया जा रहा है; और यहोवा अपनी आशीष प्रजा पर उंडेल रहा है;
33 इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के चौदहवें वर्ष का अंत हुआ ।

 

अल्मा, अध्याय 12

मुसायाह के पुत्रों का विवरण, जिन्होंने परमेश्वर के वचन के लिए राज्य के अपने अधिकारों को अस्वीकार कर दिया, और लमनाइयों को प्रचार करने के लिए नफी के प्रदेश गए । अलमा के अभिलेख के अनुसार, उनके कष्ट और छुटकारे। 1 और अब ऐसा हुआ कि जब अलमा गिदोन के प्रदेश से, दक्षिण की ओर, मण्टी प्रदेश की ओर जा रहा था, देखो, अपने विस्मय के साथ, वह उसके पुत्रों से मिला। मुसायाह, जराहेमला की भूमि की ओर यात्रा कर रहा है।
2 अब जब स्वर्गदूत ने उसे पहली बार दर्शन दिया तब मुसायाह के ये पुत्र अलमा के साथ थे; इसलिए अलमा अपने भाइयों को देखकर बहुत प्रसन्न हुआ;
3 और जिस बात ने उसके आनन्द को और बढ़ा दिया, वे अब तक यहोवा में उसके भाई थे; हां, और वे सत्य के ज्ञान में दृढ़ हो गए थे;
4 क्‍योंकि वे पक्की समझ रखनेवाले पुरूष थे, और उन्होंने पवित्र शास्‍त्र का यत्न किया था, कि वे परमेश्वर का वचन जान सकें।
5 परन्तु यह सब कुछ नहीं है: उन्होंने अपने आप को बहुत प्रार्थना और उपवास के लिए दिया था, इसलिए उनके पास भविष्यवाणी की आत्मा, और रहस्योद्घाटन की आत्मा थी, और जब उन्होंने सिखाया, तो उन्होंने शक्ति और अधिकार के साथ सिखाया, यहां तक कि शक्ति के साथ और भगवान का अधिकार।
6 और वे लमनाइयों के बीच चौदह वर्षों से परमेश्वर के वचन की शिक्षा दे रहे थे, बहुतों को सच्चाई का ज्ञान दिलाने में उन्हें बहुत सफलता मिली थी;
7 हां, उनके वचनों के बल पर, बहुतों को परमेश्वर की वेदी के साम्हने लाया गया, कि उसका नाम लें, और अपने पापों को उसके साम्हने अंगीकार करें ।
8 अब उनकी यात्रा में जिन परिस्थितियों का सामना करना पड़ा, वे ये हैं, क्योंकि उन पर बहुत कष्ट हुए थे;
9 उन्होंने तन और मन दोनों से बहुत दुख उठाया; जैसे भूख, प्यास और थकान, और आत्मा में बहुत श्रम।
10 उनकी यात्राएं ये हैं: न्यायियों के राज्य के पहिले वर्ष में अपके पिता मुसायाह से विदा ले कर; उन्होंने उस राज्य को अस्वीकार कर दिया जो उनका पिता उन्हें देना चाहता था; और यह लोगों का मन भी था;
11 तौभी वे जराहेमला प्रदेश से निकल गए, और अपक्की तलवारें, और भाले, और धनुष, और तीर, और गोफन ले लिया;
12 और उन्होंने ऐसा इसलिये किया, कि वे जंगल में अपके लिये भोजन की व्यवस्था करें;
13 और इस प्रकार वे अपनी संख्या के साथ निर्जन प्रदेश में चले गए, जिसे उन्होंने नफी के प्रदेश में जाने के लिए चुना था, ताकि लमनाइयों को परमेश्वर के वचन का प्रचार किया जा सके ।
14 और ऐसा हुआ कि उन्होंने बहुत दिनों तक निर्जन प्रदेश में यात्रा की, और उन्होंने बहुत उपवास किया, और बहुत प्रार्थना की, कि प्रभु उनके साथ जाने और उनके साथ रहने के लिए उन्हें अपनी आत्मा का एक भाग प्रदान करे,
15 ताकि वे परमेश्वर के हाथों में एक उपकरण बन सकें, यदि संभव हो तो, उनके भाइयों, लमनाइयों को, सच्चाई के ज्ञान में लाने के लिए;
16 उनके पुरखाओं की परम्पराओं की नीरसता की पहिचान, जो ठीक नहीं थीं।
17 और ऐसा हुआ कि प्रभु ने अपनी आत्मा के साथ उनसे भेंट की, और उनसे कहा, शान्ति प्राप्त करो; और उन्हें तसल्ली हुई।
18 और प्रभु ने उनसे यह भी कहा, अपने भाइयों, लमनाइयों के बीच जाओ, और मेरे वचन को दृढ़ करो;
19 तौभी तुम दीर्घ दु:खों और क्लेशों में धीरज धरते रहो, कि तुम मुझ में उन के लिये उत्तम दृष्टान्त प्रगट करो, और मैं अपके हाथ में अपके हाथ में अपके हाथ का यन्त्र बनाऊंगा, जिस से बहुतोंके उद्धार हो।
20 और ऐसा हुआ कि मुसायाह के पुत्रों और उनके साथ के लोगों के हृदयों ने लमनाइयों के पास जाने का साहस किया, ताकि उन्हें परमेश्वर का वचन सुनाया जा सके ।
21 और ऐसा हुआ कि जब वे लमनाइयों के प्रदेश की सीमाओं पर पहुंच गए, तो उन्होंने प्रभु पर भरोसा करते हुए खुद को अलग कर लिया, और एक दूसरे से अलग हो गए, ताकि वे अपनी फसल के अंत में फिर से मिलें: क्योंकि वे माना कि जो काम उन्होंने किया था वह महान था।
22 और निश्चय ही यह बहुत बड़ा काम था, क्योंकि उन्होंने जंगल, और कठोर, और क्रूर लोगोंको परमेश्वर का वचन सुनाने का ठान लिया था; जो लोग नफाइयों की हत्या करने, और उन्हें लूटने, और उन्हें लूटने में प्रसन्न थे;
23 और उनका मन धन वा सोने चान्दी और मणि पर लगा रहता था;
24 तौभी उन्होंने इन वस्तुओं को हत्या और लूट के द्वारा प्राप्त करना चाहा, कि अपके ही हाथों उनके लिथे परिश्रम न करें।
25 इस प्रकार वे बहुत ही अकर्मण्य लोग थे, और उनमें से बहुत से मूरतोंको दण्डवत करते थे, और परमेश्वर का श्राप उनके पुरखाओं की परम्परा के कारण उन पर पड़ गया था; इसके बावजूद, पश्चाताप की शर्तों पर, प्रभु की प्रतिज्ञाओं को उन तक पहुँचाया गया;
26 इस कारण मुसायाह के पुत्रों ने यह काम किया था, कि शायद वे उन्हें मन फिराव के लिये ले आएं; कि शायद वे उन्हें छुटकारे की योजना के बारे में बता सकें:
27 इस कारण वे एक दूसरे से अलग हो गए, और परमेश्वर के उस वचन और सामर्थ के अनुसार जो उसे दिया गया था, एक एक मनुष्य उनके बीच में निकल गए।
28 अब अम्मोन उनमें प्रधान होने के कारण, या यों कहें कि वह उनकी सेवा करता था; और वह उनके पास से चला गया, और उनके पास उनके कई स्थानों के अनुसार उन्हें आशीर्वाद दिया, और उन्हें परमेश्वर का वचन सुनाया, या उनके प्रस्थान से पहले उन्हें प्रशासित किया: और इस प्रकार उन्होंने पूरे देश में अपनी कई यात्राएं कीं।
29 और अम्मोन इश्माएल के प्रदेश को गया, वह प्रदेश इश्माएल के पुत्रों के नाम पर रखा गया था, जो लमनाई भी बन गए थे ।
30 और जैसे ही अम्मोन इश्माएल के प्रदेश में प्रवेश किया, लमनाइयों ने उसे पकड़ लिया और अपनी प्रथा के अनुसार, उन सभी नफाइयों को जो उनके हाथों में पड़ गए थे, बांधकर राजा के सामने ले गए;
31 और यह राजा की इच्छा पर छोड़ दिया गया था कि वह उन्हें मार डाले, या बंधुआई में रखे, या बंदीगृह में डाले, या अपनी इच्छा और इच्छा के अनुसार उन्हें अपने देश से बाहर निकाल दे;
32 और इस प्रकार अम्मोन को उस राजा के साम्हने ले जाया गया जो इश्माएल प्रदेश का अधिकारी था; और उसका नाम लमोनी था; और वह इश्माएल का वंशज था।
33 और राजा ने अम्मोन से पूछा कि क्या लमनाइयों के बीच प्रदेश में रहने की उसकी इच्छा थी, या उसके लोगों के बीच ?
34 और अम्मोन ने उस से कहा, हां, मैं कुछ समय के लिए इन लोगों के बीच रहना चाहता हूं; हाँ, और शायद उस दिन तक जब तक मैं मर न जाऊँ।
35 और ऐसा हुआ कि राजा लमोनी अम्मोन से बहुत प्रसन्न हुआ, और उसके बंधनों को खोल दिया; और वह चाहता था कि अम्मोन उसकी एक बेटी को ब्याह करे।
36 परन्तु अम्मोन ने उस से कहा, नहीं, परन्तु मैं तेरा दास रहूंगा; इसलिए अम्मोन राजा लमोनी का दास बन गया ।
37 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों की प्रथा के अनुसार, उसे अन्य सेवकों के बीच लमोनी के झुंडों पर नजर रखने के लिए नियुक्त किया गया ।
38 और तीन दिन तक राजा की सेवा में रहने के बाद, जब वह लमनातिश सेवकों के साथ था, अपने भेड़-बकरियों के साथ जल के स्थान पर जा रहा था, जिसे सेबुस का जल कहा जाता था; (और सभी लमनाइयों ने अपने भेड़-बकरियों को पानी पिलाने के लिए इधर उधर भगाया;)
39 इसलिए जब अम्मोन और राजा के सेवक अपने भेड़-बकरियों को पानी के इस स्थान पर ले जा रहे थे, तो देखो लमनाइयों की एक निश्चित संख्या जो अपने भेड़-बकरियों के साथ पानी भरने के लिए गई थी, खड़े हो गए और अम्मोन के भेड़-बकरियों को तितर-बितर कर दिया, और राजा, और उन्होंने उन्हें इतना तितर-बितर कर दिया कि वे बहुत दूर भाग गए।
40 तब राजा के सेवक यह कहकर बड़बड़ाने लगे, कि अब राजा हमारे भाइयोंकी नाईं हम को भी मार डालेगा, क्योंकि इन मनुष्योंकी दुष्टता के कारण उनकी भेड़-बकरियां तितर-बितर हो गई हैं।
41 और वे यह कहकर बहुत रोने लगे, कि हमारी भेड़-बकरियां पहिले ही तितर-बितर हो गई हैं।
42 और मारे जाने के भय से वे रो पड़े।
43 जब अम्मोन ने यह देखा, तो उसका मन आनन्द से भर उठा; क्योंकि उस ने कहा था, कि मैं अपक्की भेड़-बकरियोंको राजा को फेर देने में अपके इन संगी दासोंको वा मुझ में जो सामर्य है, प्रगट करूंगा, कि मैं अपके इन संगी दासोंका मन जीतूं, कि मैं उनकी अगुवाई करूं मेरे शब्दों पर विश्वास करने के लिए।
44 अब अम्मोन के विचार ये थे, जब उसने उन लोगों के कष्टों को देखा जिन्हें वह अपना भाई कहता था ।
45 और ऐसा हुआ कि उसने अपनी बातों से उनकी चापलूसी करते हुए कहा, मेरे भाइयों प्रसन्न हो और हम भेड़-बकरियों की तलाश में चलें, और हम उन्हें एक साथ इकट्ठा करेंगे, और उन्हें पानी के स्थान पर वापस लाएंगे;
46 और इस प्रकार हम भेड़-बकरियोंको राजा के लिथे सुरक्षित रखेंगे, और वह हम को घात न करेगा।
47 और ऐसा हुआ कि वे भेड़-बकरियों की तलाश में गए, और वे अम्मोन के पीछे हो लिए, और वे बहुत तेजी से आगे बढ़े, और राजा के भेड़-बकरियों का नेतृत्व किया, और उन्हें पानी के स्थान पर फिर से इकट्ठा किया, .
48 और वे पुरूष अपक्की भेड़-बकरियोंको तित्तर बित्तर करने के लिथे फिर खड़े हुए; परन्तु अम्मोन ने अपके भाइयोंसे कहा, भेड़-बकरियोंको चारोंओर घेर लो, कि वे भाग न जाएं; और मैं जाकर उन मनुष्योंसे जो हमारी भेड़-बकरियोंको तितर-बितर करते हैं, वाद-विवाद करता हूं।
49 इसलिथे उन्होंने अम्मोन की आज्ञा के अनुसार किया, और वह निकलकर उन लोगोंसे लड़ने को खड़ा हुआ जो सेबुस के जल के पास खड़े थे;
50 और वे गिनती में थोड़े न थे; इसलिए वे अम्मोन से नहीं डरते थे, क्योंकि उन्होंने सोचा था कि उनका एक आदमी उनकी इच्छा के अनुसार उसे मार सकता है, क्योंकि वे नहीं जानते थे कि यहोवा ने मुसायाह से वादा किया था कि वह उसके पुत्रों को उनके हाथों से छुड़ाएगा; वे यहोवा के विषय में कुछ न जानते थे;
51 इस कारण वे अपके भाइयोंके नाश से प्रसन्न हुए; और इस कारण वे राजा के भेड़-बकरियोंको तितर-बितर करने को खड़े हुए।
52 परन्तु अम्मोन खड़ा हुआ, और अपक्की गोफन से उन पर पत्यर फेंकने लगा; हां, उसने शक्तिशाली शक्ति के साथ उनके बीच गुलेल का काम किया;
53 और इस प्रकार उस ने उन में से कुछ को ऐसा घात किया, कि वे उसके सामर्थ से चकित होने लगे;
54 तौभी वे अपके भाइयोंके मारे जाने के कारण क्रोधित हुए, और ठान लिया कि वह गिर पड़ेगा;
55 इसलिए, यह देखकर कि वे उसे अपने पत्थरों से नहीं मार सकते, वे उसे मारने के लिए लाठी लेकर आगे आए।
56 परन्‍तु जो कोई अम्मोन को मारने के लिथे अपक्की लाठी उठा ले, उस ने अपक्की तलवार से उनके हाथ मार डाले;
57 क्‍योंकि उस ने उन की भुजाओं को अपक्की तलवार से ऐसा मारा, कि वे अचम्भा करने लगे, और उसके साम्हने से भागने लगे;
58 वरन वे गिने न थे; और उस ने अपके हाथ के बल से उनको भगा दिया।
59 उन में से छ: तो गोफन से मारे गए, तौभी उस ने अपक्की तलवार से उनके प्रधान को छोड़ और किसी को न मारा; और उस ने उनकी बहुत सी भुजाओं को मार डाला, जो उसके विरुद्ध उठाई गई थीं, और वे थोड़े ही न थे।
60 और जब वह उन्हें दूर भगा चुका, तब वह लौट आया, और उन्होंने अपनी भेड़-बकरियोंको पानी पिलाया, और राजा की चरागाह में लौटा दिया, और वे हथियार लेकर राजा के पास गए, जो अम्मोन की तलवार से मारे गए थे, उन लोगों में से जिन्होंने उसे मारना चाहा;
61 और जो काम उन्होंने किए थे, उसकी गवाही के लिथे वे राजा के पास ले जाए गए।
62 और ऐसा हुआ कि राजा लमोनी ने अपने सेवकों को इस मामले के संबंध में उन सभी चीजों की गवाही देने के लिए कहा जो उन्होंने देखी थीं ।
63 और जब उन सब ने उन सब बातों की गवाही दी जो उन्होंने देखी थीं, और उसने अपने भेड़-बकरियों की रक्षा करने में अम्मोन की विश्‍वासयोग्यता के बारे में सीखा, और उन लोगों से लड़ने में उसकी महान शक्ति के बारे में जो उसे घात करना चाहते थे, तो वह बहुत चकित हुआ, और कहा, निश्चय यह मनुष्य से भी बढ़कर है।
64 देखो, क्या यह वह महान आत्मा नहीं है जो इन लोगों को उनकी हत्याओं के कारण इतना बड़ा दण्ड देता है?
65 और उन्होंने राजा को उत्तर दिया, कि वह महान आत्मा है वा मनुष्य, हम नहीं जानते, पर इतना ही जानते हैं, कि वह राजा के शत्रुओं से घात नहीं किया जा सकता;
66 और जब राजा की भेड़-बकरियां हमारे संग हों, तब वे उस की निपुणता और बड़े बल के कारण तित्तर बित्तर न कर सकेंगे; इसलिए, हम जानते हैं कि वह राजा का मित्र है।
67 और अब, हे राजा, हम विश्वास नहीं करते कि मनुष्य के पास इतनी बड़ी शक्ति है, क्योंकि हम जानते हैं कि वह मारा नहीं जा सकता।
68 और अब जब राजा ने ये बातें सुनीं, तो उन से कहा, अब मैं जान गया हूं कि यह महान आत्मा है; और वह इस समय तुम्हारे प्राणों की रक्षा के लिये नीचे आया है, कि मैं तुम्हारे भाइयों की नाईं तुम्हें मार न डालूं।
69 अब यह वह महान आत्मा है जिसके विषय में हमारे पुरखाओं ने कहा है।
70 अब यह लमोनी की परंपरा थी, जिसे उसने अपने पिता से प्राप्त किया था, कि एक महान आत्मा थी ।
71 तौभी वे एक महान आत्मा में विश्वास करते थे, वे समझते थे कि जो कुछ उन्होंने किया वह सही था;
72 तौभी लमोनी बहुत डरने लगा, इस डर के साथ कि कहीं उसने अपने सेवकों को मारकर गलत काम न किया हो;
73 क्योंकि उस ने उन में से बहुतोंको घात किया था, क्योंकि उनके भाइयोंने उनकी भेड़-बकरियोंको जल के स्थान पर तितर-बितर कर दिया था; और इस प्रकार क्योंकि उनके भेड़-बकरियां तितर-बितर हो गई थीं, वे मारे गए ।
74 अब यह लमनाइयों का अभ्यास था कि वे सेबुस के जल के पास खड़े हों, लोगों के झुंडों को तितर-बितर करें, ताकि वे बहुत से लोगों को उनके अपने प्रदेश में भगा सकें, यह उनके बीच लूट की प्रथा थी ।
75 और ऐसा हुआ कि राजा लमोनी ने अपने सेवकों से पूछा, यह व्यक्ति कहां है जिसके पास इतनी बड़ी शक्ति है ?
76 और उन्होंने उस से कहा, सुन, वह तेरे घोड़ोंको चरा रहा है।
77 अब राजा ने अपने सेवकों को उनके भेड़-बकरियों को सींचने के समय से पहले आज्ञा दी थी, कि वे उसके घोड़े और रथ तैयार करें, और उसे नफी के प्रदेश में ले जाएं:
78 क्योंकि नफी के प्रदेश में लमोनी के पिता द्वारा, जो पूरे प्रदेश का राजा था, एक महान भोज का आयोजन किया गया था ।
79 अब जब राजा लमोनी ने सुना कि अम्मोन उसके घोड़ों और रथों को तैयार कर रहा है, तो वह अम्मोन की सच्चाई के कारण और अधिक चकित हुआ, यह कहते हुए,
80 निश्चय मेरे सब कर्मचारियोंमें से कोई ऐसा दास न हुआ, जो इस मनुष्य के समान विश्वासयोग्य रहा हो; क्‍योंकि वह मेरी सब आज्ञाओं को स्‍मरण करने के लि‍ए स्‍मरण रखता है।
81 अब मैं निश्चय जानता हूं, कि यह महान आत्मा है; और मैं चाहता हूं कि वह मेरे पास आए, परन्तु मेरा हियाव नहीं।
82 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोन ने राजा और उसके सेवकों के लिए घोड़ों और रथों को तैयार किया, तो वह राजा के पास गया, और उसने देखा कि राजा का चेहरा बदल गया है; इसलिथे वह अपके साम्हने से लौट जाने पर था;
83 और राजा के एक कर्मचारी ने उस से कहा, रब्बाना, जो अपके राजाओं को सामर्थी समझकर सामर्थी वा महान राजा समझा जाता है;
84 और उस ने उस से योंकहा, हे रब्बाना, राजा चाहता है, कि तू बना रहे;
85 इस कारण अम्मोन ने राजा की ओर फिरकर उस से कहा, हे राजा, तू क्या चाहता है कि मैं तेरे लिथे क्या करूं?
86 और राजा ने उनके समय के अनुसार एक घण्टे तक उसको उत्तर न दिया, क्योंकि वह नहीं जानता था कि उस से क्या कहूं।
87 और ऐसा हुआ कि अम्मोन ने उससे फिर कहा, तुम मुझसे क्या चाहते हो ? लेकिन राजा ने उसे उत्तर नहीं दिया।
88 और ऐसा हुआ कि अम्मोन, परमेश्वर की आत्मा से परिपूर्ण होकर, इसलिए उसने राजा के विचारों को समझा ।
89 और उस ने उस से कहा, क्या तू ने सुना है, कि मैं ने तेरे दासोंऔर अपक्की भेड़-बकरियोंकी रक्षा की, और उनके सात भाइयोंको गुलेल और तलवार से घात किया, और तेरी रक्षा के लिथे औरोंकी भुजाओं को मार डाला, भेड़-बकरी और तेरे दास: क्या यह वही है जो तेरे अचम्भे का कारण है?
90 मैं तुम से कहता हूं, क्या बात है, कि तेरे आश्चर्यकर्म इतने बड़े हैं?
91 देख, मैं मनुष्य हूं, और तेरा दास हूं; इसलिए जो कुछ तू चाहता है वह ठीक है, मैं वही करूंगा।
92 अब जब राजा ने ये बातें सुनीं, तो वह फिर से चकित हुआ, क्योंकि उसने देखा कि अम्मोन उसके विचारों को समझ सकता है;
93 लेकिन इसके बावजूद, राजा लमोनी ने अपना मुंह खोला; और उस से कहा, तू कौन है? क्या तू वह महान आत्मा है जो सब कुछ जानता है?
94 अम्मोन ने उत्तर देकर उस से कहा, मैं नहीं हूं।
95 तब राजा ने कहा, तू मेरे मन के विचार कैसे जानता है?
96 तू निडर होकर इन बातोंके विषय में मुझे बता सकता है; और मुझे बताओ कि तुम ने किस शक्ति से मेरे उन भाइयोंकी भुजाओं को मार डाला, जो मेरी भेड़-बकरियोंको तितर-बितर कर देते थे।
97 और अब यदि तू इन बातोंके विषय में जो कुछ तू चाहता है वह मुझ से कहे, तो मैं तुझे दूंगा:
98 और यदि आवश्यक होता, तो मैं अपक्की सेना समेत तेरी रक्षा करता; परन्तु मैं जानता हूं, कि तू उन सब से अधिक सामर्थी है; तौभी जो कुछ तू मुझ से चाहता है, वह तुझे मैं देता हूं।
99 अब अम्मोन बुद्धिमान, फिर भी हानिरहित होने के कारण, उसने लमोनी से कहा, क्या तुम मेरी बातों को मानोगे, यदि मैं तुम्हें बताऊं कि मैं किस शक्ति से ये काम करता हूं ? और यही वह चीज है जो मैं तुझ से चाहता हूं।
100 तब राजा ने उस को उत्तर देकर कहा, हां, मैं तेरी सब बातोंकी प्रतीति करूंगा; और इस प्रकार वह धोखे से पकड़ा गया।
101 तब अम्मोन उस से हियाव से बातें करने लगा, और उस से कहने लगा, क्या तू विश्वास करता है, कि परमेश्वर है?
102 और उस ने उत्तर देकर उस से कहा, मैं नहीं जानता कि इसका क्या अर्थ है।
103 तब अम्मोन ने कहा, क्या तू विश्वास करता है कि एक महान आत्मा है?
104 और उसने कहा, हां।
105 अम्मोन ने कहा, यह परमेश्वर है।
106 अम्मोन ने उस से फिर कहा, क्या तू विश्वास करता है कि इस महान आत्मा ने, जो परमेश्वर है, ने उन सब वस्तुओं की सृष्टि की, जो स्वर्ग में और पृथ्वी पर हैं?
107 और उस ने कहा, हां, मैं विश्वास करता हूं, कि उस ने पृय्वी की सब वस्तुएं सृजीं; परन्तु मैं आकाश को नहीं जानता।
108 और अम्मोन ने उस से कहा, स्वर्ग वह स्थान है जहां परमेश्वर और उसके सब पवित्र दूत रहते हैं।
109 तब राजा लमोनी ने कहा, क्या वह पृथ्वी के ऊपर है?
110 और अम्मोन ने कहा, हां, और वह सब मनुष्यों को देखता है; और वह मन के सब विचार और अभिप्राय जानता है; क्योंकि वे सब आदिकाल से उसी के हाथ से रचे गए थे।
111 तब राजा लमोनी ने कहा, जो बातें तू ने कही हैं उन सब बातोंमें मैं विश्वास करता हूं। क्या तू ने परमेश्वर की ओर से भेजा है?
112 अम्मोन ने उस से कहा, मैं मनुष्य हूं; और मनुष्य आदि में परमेश्वर के स्वरूप के अनुसार सृजा गया, और मुझे उसके पवित्र आत्मा के द्वारा इन लोगों को ये बातें सिखाने के लिए बुलाया गया है, कि वे उस बात का ज्ञान कराएं जो धर्मी और सच्ची है;
113 और उस आत्मा का एक अंश मुझ में वास करता है, जो मेरे उस विश्वास और इच्छा के अनुसार जो परमेश्वर में है, मुझे ज्ञान और सामर्थ्य भी देता है।
114 अब जब अम्मोन ने ये बातें कह लीं, तब उसने जगत की उत्पत्ति, और आदम की भी सृष्टि का आरम्भ किया, और उसे मनुष्य के पतन के विषय में सब बातें बताईं,
115 और लोगों के उन अभिलेखों और पवित्र शास्त्रों का अभ्यास किया, जो उनके पिता लेही के यरूशलेम छोड़ने के समय तक भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा कहे गए थे;
116 और उस ने उनको सुनाया, (क्योंकि यह राजा और उसके कर्मचारियोंके लिथे,) उनके पुरखाओं की जंगल में यात्रा, और उनका भूख और प्यास का सब क्लेश, और उनका सफ़र आदि।
117 और उसने उन्हें लमान और लमूएल, और इश्माएल के पुत्रों के विद्रोहों के संबंध में भी पूर्वाभ्यास किया, हां, उनके सभी विद्रोहों के बारे में उसने उन्हें बताया;
118 और लेही के यरूशलेम से निकलने के समय से लेकर अब तक के सब अभिलेख और शास्त्रोंको उस ने उन को बताया;
119 परन्तु इतना ही नहीं; क्योंकि उस ने उन्हें छुटकारे की वह युक्ति समझाई, जो जगत की उत्पत्ति से तैयार की गई थी;
120 और उसने उन्हें मसीह के आने के विषय में भी बताया; और यहोवा के सब काम उस ने उन पर प्रगट किए।
121 और ऐसा हुआ कि इन सब बातों को कहने के बाद, और उन्हें राजा को बता दिया, कि राजा ने उसकी सारी बातों पर विश्वास किया ।
122 और वह यहोवा की दोहाई देने लगा, कि हे यहोवा, दया कर; अपनी उस अपार दया के अनुसार जो तुमने नफी के लोगों पर की है, मुझ पर और मेरी प्रजा पर बनी रहे ।
123 और अब यह कहकर वह मरा हुआ सा भूमि पर गिर पड़ा।
124 और ऐसा हुआ कि उसके सेवक उसे ले गए और उसकी पत्नी के पास ले गए, और उसे बिस्तर पर लिटा दिया; और वह दो दिन और दो रात तक मरा हुआ पड़ा रहा;
125 और उसकी पत्नी, और उसके बेटे, और उसकी बेटियाँ, लमनाइयों की रीति के अनुसार, उसकी हानि के लिए बहुत विलाप करते हुए उसके लिए विलाप करते थे ।
126 और ऐसा हुआ कि दो दिन और दो रात के बाद, वे उसके शव को लेने और उसे एक कब्र में रखने वाले थे जिसे उन्होंने अपने मृतकों को दफनाने के लिए बनाया था ।
127 अब रानी ने अम्मोन की प्रसिद्धि के बारे में सुना, इसलिए उसने भेजा और चाहा कि वह उसके पास आए।
128 और ऐसा हुआ कि अम्मोन ने उसकी आज्ञा के अनुसार किया, और रानी के पास गया, और जानना चाहा कि वह क्या करना चाहती है ।
129 उस ने उस से कहा, मेरे पति के दासोंने मुझ से यह प्रगट किया है, कि तू पवित्र परमेश्वर का भविष्यद्वक्ता है, और उसके नाम से तुझे बहुत से सामर्थ के काम करने का अधिकार है;
130 सो यदि ऐसा हो, तो मैं चाहता हूं कि तुम भीतर जाकर मेरे पति से मिलो, क्योंकि वह दो दिन और दो रात के लिथे अपके बिछौने पर लिटा गया है;
131 और कितने कहते हैं, कि वह मरा नहीं, परन्तु कितने कहते हैं कि वह मर गया, और उस से दुर्गंध आती है, और उसे कब्र में रखा जाना चाहिए; परन्तु मेरी दृष्टि में उस से बदबू नहीं आती।
132 अब अम्मोन यही चाहता था, क्योंकि वह जानता था कि राजा लमोनी परमेश्वर के अधीन था;
133 वह जानता था, कि उसके मन से अविश्वास का अन्धकारमय पर्दा हटाया जा रहा है, और वह ज्योति जिसने उसके मन को प्रकाशित किया है, जो परमेश्वर की महिमा का प्रकाश है, जो उसकी भलाई का अद्भुत प्रकाश है;
134 हां, इस ज्योति ने उसकी आत्मा में ऐसा आनन्द भर दिया था, अन्धकार का बादल हटा दिया गया था, और उसकी आत्मा में अनन्त ज्योति का प्रकाश जल उठा था;
135 हां, वह जानता था कि इससे उसकी स्वाभाविक संरचना पर काबू पा लिया गया था, और वह परमेश्वर में बह गया था; इसलिए, रानी ने उससे जो चाहा, वह उसकी एकमात्र इच्छा थी।
136 इसलिथे वह रानी की इच्छा के अनुसार राजा से भेंट करने को भीतर गया; और उस ने राजा को देखा, और वह जान गया, कि वह मरा नहीं।
137 और उस ने रानी से कहा, वह मरा नहीं, वरन परमेश्वर में सोता है, और दूसरे दिन वह जी उठेगा; इसलिए उसे दफनाना नहीं।
138 और अम्मोन ने उस से कहा, क्या तू इस पर विश्वास करती है?
139 उस ने उस से कहा, तेरे वचन और हमारे दासोंके वचन के सिवा मेरे पास कोई साक्षी नहीं है; फिर भी, मुझे विश्वास है कि जैसा तूने कहा है, वैसा ही होगा।
140 तब अम्मोन ने उस से कहा, धन्य है तू, अपके अति विश्वास के कारण; मैं तुमसे कहता हूं, स्त्री, नफाइयों के सभी लोगों में इतना बड़ा विश्वास नहीं रहा है ।
141 और ऐसा हुआ कि वह अपने पति के बिस्तर पर उस समय से लेकर उस समय तक देखती रही, जब तक कि अगले दिन अम्मोन ने उसे उठना तय नहीं किया था ।
142 और ऐसा हुआ कि अम्मोन के शब्दों के अनुसार वह उठा; और उठकर उस स्त्री की ओर हाथ बढ़ाकर कहा, परमेश्वर का नाम धन्य है, और तू धन्य है;
143 क्‍योंकि तू निश्‍चय जान गया है, कि मैं ने अपके छुड़ानेवाले को देखा है; और वह निकलकर एक स्त्री से उत्पन्न होगा, और जो उसके नाम पर विश्वास करते हैं, उन सब को वह छुड़ा लेगा।
144 जब उस ने ये बातें कहीं, तो उसका मन उसके भीतर फूल गया, और वह फिर आनन्द से डूब गया; और रानी भी आत्मा के वश में होकर डूब गई।
145 अब अम्मोन ने देखा कि प्रभु का आत्मा उसकी प्रार्थनाओं के अनुसार लमनाइयों, उसके भाइयों पर उंडेला गया था; जो नफाइयों के बीच, या परमेश्वर के सभी लोगों के बीच उनके अधर्म और उनकी परंपराओं के कारण इतने शोक का कारण थे,
146 तब वह घुटनों के बल गिर पड़ा, और जो कुछ उस ने अपके भाइयोंके लिथे किया या, उसके लिथे वह अपके मन से प्रार्थना, और परमेश्वर का धन्यवाद करने लगा;
147 और वह भी आनन्द से प्रबल हुआ; और इस प्रकार वे तीनों पृथ्वी पर डूब गए।
148 जब राजा के सेवकों ने देखा कि वे गिर गए हैं, तब वे भी परमेश्वर की दोहाई देने लगे, क्योंकि यहोवा का भय उन पर भी छा गया था।
149 क्योंकि वे ही थे जो राजा के साम्हने खड़े हुए थे, और अम्मोन की महान शक्ति के विषय में उसे गवाही दी थी।
150 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अपनी शक्ति के बल पर प्रभु का नाम लिया, यहां तक कि जब तक वे सभी पृथ्वी पर गिर नहीं गए, तब तक वह लमनाती महिलाओं में से एक थी, जिसका नाम अबीश था, जिसे परिवर्तित कर दिया गया था अपने पिता के अद्भुत दर्शन के कारण यहोवा बहुत वर्षों तक रहा; इस प्रकार प्रभु में परिवर्तित होने के बाद, इसे कभी भी प्रकट नहीं किया था;
151 इसलिए जब उसने देखा कि लमोनी के सभी सेवक पृथ्वी पर गिर गए हैं, और उसकी रखैल, रानी और राजा भी, और अम्मोन पृथ्वी पर दण्डवत कर रही है, तो वह जानती थी कि यह परमेश्वर की शक्ति थी;
152 और यह समझकर कि यह अवसर लोगों को बताकर कि उनके बीच क्या हुआ था, कि यह दृश्य देखकर, यह उन्हें परमेश्वर की शक्ति में विश्वास करने के लिए प्रेरित करेगा,
153 इस कारण वह घर-घर दौड़ी, और लोगों को इसका समाचार दिया; और वे राजा के भवन में इकट्ठे होने लगे।
154 और वहां एक भीड़ आई, और वे चकित होकर राजा, और रानी, और अपके सेवकोंको पृय्वी पर दण्डवत करते हुए देखने लगे, और वे सब मरे हुओं के समान वहीं पड़े रहे;
155 और उन्होंने अम्मोन को भी देखा, और देखो वह एक नफाई था ।
156 और अब लोग आपस में बड़बड़ाने लगे; कुछ लोग कह रहे थे, कि यह एक बड़ी बुराई थी जो उन पर, या राजा और उसके घर पर आई थी, क्योंकि उसने नफाइयों को प्रदेश में रहने के लिए कष्ट सहा था ।
157 परन्‍तु औरोंने उन को ताड़ना दी, कि राजा ने यह विपत्ति अपके घर पर इसलिये ली है, कि अपके उन कर्मचारियोंको, जिनके भेड़-बकरी सबुस के जल में तितर-बितर हो गए थे, घात किया;
158 और जो मनुष्य सेबुस के जल के पास खड़े हुए थे, और जो भेड़-बकरियां राजा की थीं, उन को तित्तर बित्तर दिया,
159 क्‍योंकि अम्मोन ने राजा के भेड़-बकरियों की रक्षा करते हुए सेबुस के जल के पास उनके भाइयों की जो गिनती की थी, उसके कारण वे उस से क्रुद्ध हुए थे।
160 अब उन में से एक, जिसका भाई अम्मोन की तलवार से मारा गया था, अम्मोन से बहुत क्रोधित होकर, अपनी तलवार खींचकर आगे चला गया कि वह उसे अम्मोन पर गिरने दे, उसे मार डाले; और जब उस ने उसे मारने के लिथे तलवार उठाई, तो क्या देखा कि वह मरा हुआ है।
161 अब हम देखते हैं कि अम्मोन मारा नहीं जा सकता था, क्योंकि यहोवा ने उसके पिता मुसायाह से कहा था, कि मैं उसे छोड़ दूंगा, और वह तुम्हारे विश्वास के अनुसार उसे मिलेगा; इस कारण मुसायाह ने यहोवा पर भरोसा किया।
162 और ऐसा हुआ कि जब भीड़ ने देखा कि वह व्यक्ति मर गया है, जिसने अम्मोन को मारने के लिए तलवार उठाई थी, तो उन सभी में भय व्याप्त हो गया, और उनमें से किसी को या उन लोगों में से किसी को भी छूने का साहस नहीं हुआ जिन्होंने उसे छुआ था। गिरा हुआ,
163 और वे फिर आपस में अचम्भा करने लगे कि इस महान शक्ति का कारण क्या हो सकता है, या इन सब बातों का क्या अर्थ हो सकता है।
164 और ऐसा हुआ कि उनमें से बहुत से थे, जिन्होंने कहा कि अम्मोन महान आत्मा था, और दूसरों ने कहा कि उसे महान आत्मा द्वारा भेजा गया था;
165 परन्तु अन्य लोगों ने उन सब को यह कहते हुए डांटा, कि वह एक राक्षस है, जिसे नफाइयों की ओर से हमें पीड़ा देने के लिए भेजा गया था;
166 और कुछ ऐसे भी थे जिन्होंने कहा कि अम्मोन को महान आत्मा के द्वारा उनके अधर्म के कामों के कारण उन्हें दु:ख देने के लिए भेजा गया था; और यह कि वह महान आत्मा ही था जिसने हमेशा नफाइयों में भाग लिया था; जिन्होंने उन्हें कभी उनके हाथ से छुड़ाया था;
167 और उन्होंने कहा कि यह महान आत्मा ही थी जिसने उनके इतने सारे भाइयों, लमनाइयों को नष्ट कर दिया था; और इस प्रकार उनके बीच विवाद बहुत तीव्र होने लगा।
168 जब वे यों ही वाद-विवाद कर ही रहे थे, कि वह दासी जिस ने भीड़ को इकट्ठी कराई या, वह आ गई; और जब उस ने भीड़ के बीच हो रहे विवाद को देखा, तब वह बहुत उदास हुई, और आंसू बहाई।
169 और ऐसा हुआ कि उसने जाकर रानी का हाथ पकड़ लिया, ताकि शायद वह उसे जमीन पर से उठा सके: और जैसे ही उसने उसका हाथ छुआ, वह उठी और अपने पैरों पर खड़ी हो गई, और जोर से चिल्लाई , कह रही है,
170 हे धन्य यीशु, जिसने मुझे एक भयानक नरक से बचाया है! हे धन्य भगवान, इन लोगों पर दया करो।
171 यह कहकर उस ने आनन्द से भरकर बहुत सी बातें जो समझ में न आती थीं, ताली बजाकर ताली बजाई;
172 और जब उसने ऐसा किया, तो उसने राजा, लमोनी का हाथ पकड़ लिया, और देखो वह उठकर उसके पैरों के बल खड़ा हो गया;
173 और वह तुरन्त अपनी प्रजा के बीच विवाद को देखकर निकल गया, और उन्हें ताड़ना देने लगा, और जो बातें उस ने अम्मोन के मुंह से सुनी थीं, उनको सिखाने लगा; और जितनों ने उसकी बातें सुनीं, विश्वास किया, और प्रभु में परिवर्तित हो गए।
174 परन्तु उन में बहुत से ऐसे थे जिन्होंने उसकी बातें न सुनीं; इसलिए वे अपने रास्ते चले गए।
175 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोन उठा, तो उसने उन्हें प्रशासित भी किया, और लमोनी के सभी सेवकों को भी दिया;
176 और सब ने लोगों को एक ही बात बताई; कि उनके दिल बदल दिए गए थे; कि उनमें फिर बुराई करने की इच्छा न रही।
177 और देखो, बहुतों ने लोगों को बताया कि उन्होंने स्वर्गदूतों को देखा था, और उनसे बातचीत की थी; और इस प्रकार उन्होंने उन से परमेश्वर और उसके धर्म की बातें कहीं।
178 और ऐसा हुआ कि बहुत से लोग थे जिन्होंने उनकी बातों पर विश्वास किया था: और जितने विश्वास करते थे, उन्होंने बपतिस्मा लिया; और वे धर्मी प्रजा बन गए, और उन्होंने अपने बीच एक गिरजा स्थापित किया;
179 और इस प्रकार लमनाइयों के बीच प्रभु का कार्य शुरू हुआ; इस प्रकार यहोवा ने उन पर अपना आत्मा उंडेलना आरम्भ किया;
180 और हम देखते हैं, कि उसका हाथ उन सब लोगोंकी ओर बढ़ा हुआ है, जो मन फिराएंगे और उसके नाम पर विश्वास करेंगे।
181 और ऐसा हुआ कि जब उन्होंने उस प्रदेश में एक गिरजाघर स्थापित कर लिया, तब राजा लमोनी की इच्छा थी कि अम्मोन उसके साथ नफी के प्रदेश जाए, ताकि वह उसे उसके पिता को दिखाए ।
182 और प्रभु की यह वाणी अम्मोन के पास पहुंची, कि तुम नफी के प्रदेश में न जाना, क्योंकि देखो राजा तुम्हारे प्राण को ढूंढ़ेगा; परन्तु तू मिदोनी देश को जाना; क्योंकि तेरा भाई हारून, और मुलोकी और अम्मा भी बन्दीगृह में हैं।
183 अब ऐसा हुआ कि जब अम्मोन ने यह सुना, तो उसने लमोनी से कहा, देखो, मेरा भाई और भाई मिदोनी में बंदीगृह में हैं, और मैं उन्हें छुड़ाने के लिए जाता हूं ।
184 अब लमोनी ने अम्मोन से कहा, मैं जानता हूं, प्रभु की शक्ति में, तुम सब कुछ कर सकते हो । परन्तु देखो, मैं तुम्हारे साथ मिदोनी प्रदेश को जाऊंगा, क्योंकि मिदोनी प्रदेश का राजा, जिसका नाम अंतिओम्नो है, मेरा मित्र है;
185 इसलिथे मैं मिदोनी देश को जाता हूं, कि मैं उस देश के राजा की चापलूसी करूं; और वह तेरे भाइयोंको बन्दीगृह से निकालेगा।
186 अब लमोनी ने उस से कहा, तुझे किसने बताया कि तेरे भाई बन्दीगृह में हैं ?
187 अम्मोन ने उस से कहा, परमेश्वर के सिवा किसी ने मुझ से नहीं कहा; और उस ने मुझ से कहा, जाकर अपके भाइयोंको छुड़ा ले, क्योंकि वे मिदोनी देश में बन्दीगृह में हैं।
188 अब जब लमोनी ने यह सुना, तो उसने कहा कि उसके सेवक उसके घोड़े और उसके रथ तैयार करें ।
189 उस ने अम्मोन से कहा, आ, मैं तेरे संग मिदोनी देश को चलूंगा, और वहां मैं राजा से बिनती करूंगा, कि वह तेरे भाइयोंको बन्दीगृह से निकाल दे।
190 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोन और लमोनी वहां यात्रा कर रहे थे, तब वे लमोनी के पिता से मिले, जो पूरे प्रदेश का राजा था ।
191 और देखो, लमोनी के पिता ने उससे कहा, तुम उस महान दिन पर भोज में क्यों नहीं आए, जब मैंने अपने पुत्रों और अपने लोगों के लिए भोज किया था ?
192 और उसने यह भी कहा, तुम इस नफाई के साथ किधर जा रहे हो, जो झूठ बोलने वालों में से एक है?
193 और ऐसा हुआ कि लमोनी ने उसे बताया कि वह कहां जा रहा था, क्योंकि वह उसे अपमानित करने से डरता था ।
194 और उस ने अपके राज्य में रहने का सब कारण उसे भी बता दिया, कि वह अपके पिता के पास उस पर्ब्ब में न गया जो उस ने तैयार की थी।
195 और अब जब लमोनी ने उसे इन सब बातों का पूर्वाभ्यास किया था, तो उसके पिता को आश्चर्य हुआ कि उसका पिता उससे नाराज था, और कहा, लमोनी, तुम इन नफाइयों को, जो एक झूठे के पुत्र हैं, छुड़ाने जा रहे हैं ।
196 सुन, उस ने हमारे पुरखाओं को लूटा; और अब उसके बच्चे भी हमारे बीच में आ गए हैं, कि वे अपनी धूर्तता और झूठ से हम को धोखा दें, कि वे हम से फिर हमारी संपत्ति लूट लें।
197 अब लमोनी के पिता ने उसे आज्ञा दी कि वह अम्मोन को तलवार से मार डाले ।
198 और उस ने उसको आज्ञा भी दी, कि वह मिदोनी के देश में न जाए, पर उसके संग इश्माएल देश को लौट जाए।
199 परन्तु लमोनी ने उस से कहा, मैं अम्मोन को नहीं मारूंगा, और न ही मैं इश्माएल के प्रदेश में लौटूंगा, परन्तु मैं मिदोनी प्रदेश को जाता हूं, कि मैं अम्मोन के भाइयों को छोड़ दूं, क्योंकि मैं जानता हूं कि वे धर्मी पुरुष हैं, और सच्चे परमेश्वर के पवित्र भविष्यद्वक्ता।
200 जब उसके पिता ने ये बातें सुनीं, तो वह उस पर क्रोधित हुआ, और उस ने अपनी तलवार खींची, कि वह उसे भूमि पर मार डाले।
201 परन्तु अम्मोन ने खड़े होकर उस से कहा, देख तू अपके पुत्र को घात न करना, तौभी यह भला होता कि वह तुझ से गिर जाए;
202 क्योंकि देखो, उसने अपने पापों से पश्चाताप किया है; परन्तु यदि तू इस समय क्रोध में आकर गिरे, तो तेरा प्राण न बचा।
203 और फिर यह समीचीन है कि तू धीरज धरता रहे; क्‍योंकि यदि तू अपके पुत्र को (वह निर्दोष होकर) घात करे, तो उसका लोहू भूमि पर से दोहाई देगा, कि तेरा परमेश्वर यहोवा तुझ से पलटा ले; और शायद तुम अपनी आत्मा को खो दोगे।
204 अब जब अम्मोन ने उस से ये बातें कहीं, तो उस ने उस को उत्तर दिया, कि मैं जानता हूं, कि यदि मैं अपने पुत्र को घात करूं, कि मैं निर्दोष का लोहू बहाऊं; क्योंकि तू ही ने उसे नाश करना चाहा है; और उस ने अम्मोन को घात करने के लिथे हाथ बढ़ाया।
205 परन्तु अम्मोन अपने प्रहारों का सामना करता रहा, और उसके हाथ पर ऐसा मारा कि वह उसका उपयोग न कर सके।
206 अब जब राजा ने देखा कि अम्मोन उसे मार सकता है, तो वह अम्मोन से याचना करने लगा, कि वह उसके प्राण को छोड़ दे।
207 परन्तु अम्मोन ने अपनी तलवार उठाकर उस से कहा, सुन, मैं तुझे मारूंगा, यदि तू मुझे यह न दे, कि मेरे भाई बन्दीगृह से निकाले जाएं।
208 तब राजा ने इस डर से कि वह अपना प्राण खो देगा, कहा, यदि तू मुझे छोड़ दे, तो जो कुछ तू मांगेगा, वह मैं तुझे दूंगा, अर्यात् आधे राज्य को।
209 अब जब अम्मोन ने देखा कि उसने अपनी इच्छा के अनुसार बूढ़े राजा पर ठेका लिया है, तो उसने उससे कहा, यदि आप मेरे भाइयों को बंदीगृह से बाहर निकालने की अनुमति देते हैं, और यह भी कि लमोनी अपने राज्य को बनाए रखे, और आप उस से अप्रसन्न न हो, वरन यह दे, कि जो कुछ वह सोचे, उसी के अनुसार वह करे, तब मैं तुझे छोड़ दूंगा; नहीं तो मैं तुझे पृथ्वी पर मारूंगा।
210 अब जब अम्मोन ने ये बातें कहीं, तो राजा अपने जीवन के कारण आनन्दित हुआ।
211 और जब उसने देखा कि अम्मोन को उसे नष्ट करने की कोई इच्छा नहीं है, और जब उसने अपने पुत्र, लमोनी के लिए अपने महान प्रेम को भी देखा, तो वह बहुत चकित हुआ, और कहा,
212 क्योंकि तुम यही चाहते थे, कि मैं तुम्हारे भाइयों को छोड़ दूं, और दुख उठाऊं कि मेरा पुत्र लमोनी अपना राज्य बनाए रखे, देखो, मैं तुम्हें यह अनुदान दूंगा कि मेरा पुत्र अपने राज्य को इस समय से और हमेशा के लिए बनाए रखे; और मैं उस पर फिर शासन न करूंगा।
213 और मैं तुझे यह भी अनुदान दूंगा कि तेरे भाई बन्दीगृह से निकाले जाएं, और तू और तेरे भाई मेरे राज्य में मेरे पास आएं, क्योंकि मैं तुझ से मिलने की बड़ी लालसा करूंगा।
214 क्योंकि राजा ने जो बातें कही थीं, और उन बातों से भी जो उसके पुत्र लमोनी द्वारा कही गई थीं, बहुत चकित हुआ था; इसलिए वह उन्हें सीखना चाहता था।
215 और ऐसा हुआ कि अम्मोन और लमोनी मिदोनी प्रदेश की ओर अपनी यात्रा पर निकले ।
216 और लमोनी ने प्रदेश के राजा की दृष्टि में अनुग्रह पाया; इसलिए अम्मोन के भाइयों को बंदीगृह से बाहर निकाला गया ।
217 और जब अम्मोन उनसे मिला, तो वह बहुत दुखी हुआ, क्योंकि देखो, वे नंगे थे, और मजबूत रस्सियों से बंधे होने के कारण उनकी खाल बहुत खराब हो गई थी ।
218 और उन्होंने भूख, प्यास और सब प्रकार के क्लेश भी सहे थे; फिर भी वे अपने सभी कष्टों में धैर्यवान थे।
219 और जैसा हुआ, वैसा ही उनका भाग और अधिक कठोर और हठीले लोगों के हाथ में पड़ना पड़ा;
220 इस कारण उन्होंने उनकी बातों पर ध्यान न दिया, और उन्हें निकालकर मार डाला, और घर-घर, और एक स्थान से दूसरे स्थान पर तब तक भगाते रहे, जब तक वे मिदोनी देश में न पहुंच गए;
221 और वहां वे ले जाकर बन्दीगृह में डाले गए, और मजबूत रस्सियोंसे बान्धे गए, और बहुत दिन तक बन्दीगृह में रखे गए; और लमोनी और अम्मोन द्वारा छुड़ाए गए थे ।

 

अल्मा, अध्याय 13

लमनाइयों को हारून और मुलोकी, और उनके भाइयों के प्रचार का एक विवरण। 1 अब जब अम्मोन और उसके भाई लमनाइयों के प्रदेश की सीमाओं में अलग हो गए, देखो, हारून ने उस प्रदेश की ओर अपनी यात्रा की, जिसे उसके द्वारा बुलाया गया था। लमनाइयों, यरूशलेम; इसे उनके पितरों के जन्म की भूमि के नाम से पुकारना; और यह मॉरमन की सीमाओं को मिलाने से दूर था ।
2 अब लमनाइयों, अमालेकियों, और अमूलोन के लोगों ने एक बड़े नगर का निर्माण किया था, जिसे यरूशलेम कहा जाता था ।
3 अब लमनाइयों, स्वयं में, पर्याप्त रूप से कठोर हो गए थे, लेकिन अमालेकी, और अमुलोनी, और भी अधिक कठोर थे; इसलिए उन्होंने लमनाइयों को अपने दिलों को कठोर करने के लिए उकसाया, ताकि वे दुष्टता, और अपने घृणित कामों में दृढ़ हो जाएं ।
4 और ऐसा हुआ कि हारून यरूशलेम नगर आया, और सबसे पहले अमालेकियों को प्रचार करने लगा ।
5 और वह उनके आराधनालयोंमें उनको प्रचार करने लगा, क्योंकि उन्होंने नहोरोंकी रीति के अनुसार आराधनालय बनवाए थे; क्योंकि बहुत से अमालेकी और अमुलोनी नहोर की रीति पर थे।
6 सो जब हारून उनकी सभाओं में से लोगों को प्रचार करने को गया, और उन से बातें कर रहा या, तो क्या देखा कि एक अमालेकी खड़ा हुआ, और उस से वाद विवाद करने लगा,
7 तू ने क्या गवाही दी है? क्या तूने किसी स्वर्गदूत को देखा है? स्वर्गदूत हमें क्यों नहीं दिखाई देते? देख, क्या यह लोग तेरी प्रजा के समान भले नहीं हैं? तू यह भी कहता है, यदि हम मन फिराएं नहीं, तो हम नाश हो जाएंगे।
8 तू हमारे मन के विचार और आशय को कैसे जानता है? तू कैसे जानता है कि हमारे पास पश्‍चाताप करने का कारण है? तू कैसे जानता है कि हम धर्मी लोग नहीं हैं?
9 देखो, हम ने पवित्रस्थान बनाए हैं, और परमेश्वर की उपासना करने के लिथे इकट्ठे हुए हैं। हमें विश्वास है कि परमेश्वर सभी मनुष्यों को बचाएगा।
10 हारून ने उस से कहा, क्या तू विश्वास करता है, कि परमेश्वर का पुत्र मनुष्योंको उनके पापोंसे छुड़ाने आएगा?
11 उस ने उस से कहा, हम विश्वास नहीं करते, कि तू ऐसी किसी बात को जानता है। हम इन मूर्खतापूर्ण परंपराओं में विश्वास नहीं करते हैं।
12 हम नहीं मानते, कि तू आनेवाली बातों को जानता है, और न तेरे पुरखाओं की प्रतीति करते हैं, और यह भी कि हमारे पुरखाओं ने जो कुछ आनेवाले थे उसके विषय में जाना था।
13 अब हारून ने उनके लिए मसीह के आगमन के विषय में, और मृतकों के पुनरुत्थान के विषय में शास्त्रों को खोलना शुरू किया, और यह कि मानवजाति के लिए कोई छुटकारे नहीं हो सकता था, सिवाय मसीह की मृत्यु और कष्टों और प्रायश्चित के। उसके खून का।
14 और ऐसा हुआ कि जब वह उन्हें ये बातें बताने लगा, तो वे उस पर क्रोधित हुए, और उसका उपहास करने लगे; और जो बातें उस ने कहा उन ने न सुनीं;
15 सो जब उस ने देखा, कि वे उसकी बातें नहीं सुनते, तब वह उनकी आराधनालय से निकलकर आनि-एंटी नाम के एक गांव में गया, और वहां मुलोकी को उन्हें वचन सुनाते हुए पाया; और अम्मा और उसके भाई भी। और उन्होंने वचन के विषय में बहुतों से झगड़ा किया।
16 और ऐसा हुआ कि उन्होंने देखा कि लोग अपने हृदयों को कठोर कर देंगे; इसलिथे वे चलकर मिदोनी देश में आए।
17 और उन्होंने बहुतों को वचन का प्रचार किया, और जो बातें उन्होंने सिखाईं उन पर थोड़े लोगों ने विश्वास किया ।
18 तौभी हारून और उसके कुछ भाई पकड़कर बन्दीगृह में डाल दिए गए, और जो बचे वे मिदोनी के देश से निकलकर चारोंओर के क्षेत्रों में भाग गए।
19 और जो बंदीगृह में डाले गए थे, उन्हें बहुत कष्ट सहना पड़ा, और वे लमोनी और अम्मोन के हाथों छुड़ाए गए; और उन्हें खिलाया और पहनाया गया।
20 और वे वचन सुनाने को फिर निकल गए; और इस प्रकार वे पहली बार जेल से छुड़ाए गए; और इस प्रकार उन्हें कष्ट हुआ था।
21 और वे अमालेकियों के प्रत्येक आराधनालय में, या लमनाइयों की प्रत्येक सभा में, जहां उन्हें प्रवेश दिया जा सकता था, परमेश्वर के वचन का प्रचार करते हुए, जहां कहीं भी वे प्रभु की आत्मा के नेतृत्व में गए, वहां गए ।
22 और ऐसा हुआ कि प्रभु ने उन्हें इतना आशीर्वाद देना शुरू किया कि उन्होंने बहुतों को सच्चाई का ज्ञान कराया; हां, उन्होंने अपने बहुत से पापों और अपने पूर्वजों की परंपराओं के प्रति आश्वस्त किया, जो सही नहीं थे ।
23 और ऐसा हुआ कि अम्मोन और लमोनी मिदोनी के प्रदेश से इश्माएल के प्रदेश में लौट आए, जो उनकी विरासत का प्रदेश था ।
24 और राजा लमोनी को यह दुख नहीं होगा कि अम्मोन उसकी सेवा करे, या उसका सेवक बने; परन्तु उस ने इश्माएल देश में आराधनालय बनवाए; और उस ने अपनी प्रजा वा उसके शासन के अधीन लोगोंको इकट्ठा किया।
25 और वह उन पर आनन्दित हुआ, और उसने उन्हें बहुत सी बातें सिखाईं।
26 और उसने उन्हें यह भी घोषित किया कि वे उसके अधीन रहने वाले लोग थे, और यह कि वे स्वतंत्र लोग थे; कि वे राजा, उसके पिता के अन्धेर से छुड़ाए गए; क्योंकि उसके पिता ने उसे यह अधिकार दिया था कि वह उन लोगों पर जो इश्माएल देश में और चारों ओर के देश में राज्य करते हैं।
27 और उसने उन्हें यह भी घोषित किया कि यदि वे राजा लमोनी के शासन के अधीन प्रदेश में होते, तो उन्हें अपनी इच्छा के अनुसार, अपने परमेश्वर यहोवा की आराधना करने की स्वतंत्रता प्राप्त हो सकती है।
28 और अम्मोन ने राजा लमोनी के लोगों को प्रचार किया । और ऐसा हुआ कि उसने उन्हें धार्मिकता से संबंधित सभी बातों की शिक्षा दी ।
29 और वह उन्हें हर दिन पूरी लगन से समझाता था; और उन्होंने उसके वचन पर ध्यान दिया, और परमेश्वर की आज्ञाओं को मानने के लिये जोशीले थे।
30 अब जब अम्मोन इस प्रकार लमोनी के लोगों को लगातार शिक्षा दे रहा था, हम हारून और उसके अन्य भाइयों के विवरण पर लौटेंगे;
31 क्योंकि मिदोनी के प्रदेश से निकलने के बाद, वह आत्मा के द्वारा नफी के प्रदेश में ले जाया गया; यहाँ तक कि राजा के घराने तक जो सारे प्रदेश पर था, इश्माएल के प्रदेश को छोड़कर और वह लमोनी का पिता था ।
32 और ऐसा हुआ कि वह अपने भाइयों के साथ राजा के महल में उसके पास गया, और राजा को दण्डवत् किया, और उससे कहा, देखो, हे राजा, हम अम्मोन के भाई हैं, जिन्हें तू ने छुड़ाया है जेल की। और अब, हे राजा, यदि तू हमारे प्राणोंको छोड़ दे, तो हम तेरे दास ठहरेंगे।
33 तब राजा ने उन से कहा, उठ, मैं तुझे प्राण दूंगा, और न दु:ख उठाऊंगा, कि तू मेरे दास ठहरेगा; परन्तु मैं आग्रह करूंगा कि तुम मेरी व्यवस्था करो;
34 क्योंकि तेरे भाई अम्मोन की उदारता, और महान बातोंके कारण मैं कुछ व्याकुल हुआ हूं; और मैं जानना चाहता हूं, कि वह तुम्हारे संग मिदोनी से क्यों नहीं निकला।
35 और हारून ने राजा से कहा, देख यहोवा के आत्मा ने उसे दूसरी ओर बुलाया है; वह लमोनी के लोगों को सिखाने के लिए इश्माएल देश गया है।
36 अब राजा ने उन से कहा, तुम ने यहोवा के आत्मा के विषय में यह क्या कहा है? निहारना, यह वह चीज है जो मुझे परेशान करती है।
37 और यह भी, यह क्या है जिसे अम्मोन ने कहा: यदि तुम पश्चाताप करोगे तो तुम बचोगे, और यदि तुम पश्चाताप नहीं करोगे, तो तुम अंतिम दिन में फेंक दिए जाओगे ?
38 हारून ने उसे उत्तर दिया, और उस से कहा, क्या तू विश्वास करता है, कि परमेश्वर है?
39 और राजा ने कहा, मैं जानता हूं, कि अमालेकी कहते हैं, कि परमेश्वर है, और मैं ने उनको पवित्रस्थान बनाने की आज्ञा दी है, कि वे इकट्ठे होकर उसकी उपासना करें। और यदि अब तू कहता है, कि परमेश्वर है, तो देख, मैं विश्वास करूंगा।
40 यह सुनकर हारून का मन आनन्दित हुआ, और कहने लगा, देख, हे राजा, निश्चय तेरे जीवन की सौगन्ध है, एक परमेश्वर है।
41 तब राजा ने कहा, क्या परमेश्वर वही महान आत्मा है जो हमारे पुरखाओं को यरूशलेम के देश से निकाल ले आया?
42 और हारून ने उस से कहा, हां, वही महान आत्मा है, और उसी ने आकाश और पृय्वी की सब वस्तुएं सृजीं: क्या तू इस बात की प्रतीति करता है?
43 और उसने कहा, हां, मैं विश्वास करता हूं कि महान आत्मा ने सब कुछ बनाया, और मैं चाहता हूं कि तुम मुझे इन सब बातोंके विषय में बताओ, और मैं तुम्हारी बातोंकी प्रतीति करूंगा ।
44 और ऐसा हुआ कि जब हारून ने देखा कि राजा उसकी बातों पर विश्वास करेगा, तो उसने आदम की सृष्टि से लेकर राजा तक के शास्त्रों को पढ़ना शुरू किया; परमेश्वर ने मनुष्य को अपने स्वरूप के अनुसार कैसे बनाया, और परमेश्वर ने उसे आज्ञाएं दीं, और यह कि अपराध के कारण मनुष्य गिर गया था।
45 और हारून ने आदम की सृष्टि से लेकर उसके साम्हने मनुष्य के पतन, और उनकी शारीरिक दशा, और छुटकारे की योजना, जो जगत की उत्पत्ति से लेकर मसीह के द्वारा तैयार की गई थी, के विषय में शास्त्रों को समझाया। जो कोई उसके नाम पर विश्वास करेगा।
46 और जब से मनुष्य गिर गया, वह अपके कुछ काबिल न हो सका; परन्तु मसीह की पीड़ा और मृत्यु उनके पापों का प्रायश्चित करती है, विश्वास और मन फिराव आदि के द्वारा।
47 और वह मृत्यु के बंधनोंको तोड़ता है, कि कब्र पर विजय न पाए, और मृत्यु का डंक महिमा की आशा में निगल लिया जाए: और हारून ने ये सब बातें राजा को बता दीं।
48 और ऐसा हुआ कि जब हारून ने उसे ये बातें बता दीं, तब राजा ने कहा, मैं क्या करूं कि मुझे वह अनन्त जीवन मिले जिसके बारे में तू ने कहा है ?
49 हां, मैं क्या करूं, कि मैं परमेश्वर से उत्पन्न होऊं, और इस दुष्ट आत्मा को मेरी छाती से जड़ से उखाड़ फेंका जाए, और उसका आत्मा ग्रहण करूं, कि मैं आनन्द से भर जाऊं, कि अंतिम दिन में मुझे त्यागा न जाए?
50 देखो, उस ने कहा, मैं अपना सब कुछ छोड़ दूंगा; हां, मैं अपने राज्य को त्याग दूंगा, कि मुझे यह बड़ा आनंद मिले ।
51 परन्तु हारून ने उस से कहा, यदि तू ऐसा चाहता है, कि परमेश्वर के साम्हने दण्डवत् करे, वरन अपके सब पापोंसे मन फिरा और परमेश्वर के साम्हने दण्डवत कर, और विश्वास से उसका नाम पुकारे, यह विश्वास करते हुए कि तू प्राप्त करेगा, तो क्या तू वह आशा प्राप्त करेगा जो तू चाहता है।
52 और ऐसा हुआ कि जब हारून ने इन बातों को कह लिया, तब राजा ने घुटनों के बल यहोवा को दण्डवत् किया; हां, यहां तक कि उसने स्वयं को पृथ्वी पर दण्डवत् किया, और जोर से पुकार कर कहा, हे परमेश्वर, हारून ने मुझ से कहा है कि परमेश्वर है;
53 और यदि कोई परमेश्वर है, और यदि तू परमेश्वर है, तो क्या तू अपके आप को मुझ पर प्रगट करेगा, और मैं तुझे जानने के लिथे अपके सब पापों को दूर करूंगा, और कि मैं मरे हुओं में से जिलाया जाऊं, और अन्त में उद्धार पाऊं। दिन।
54 और अब जब राजा ने ये बातें कहीं, तो वह ऐसा मारा गया मानो वह मर गया हो।
55 और ऐसा हुआ कि उसके सेवक दौड़े और रानी को वह सब बताया जो राजा को हुआ था ।
56 और वह राजा के पास आई; और जब उसने उसे मरा हुआ देखा, और हारून और उसके भाई भी उसके गिरने का कारण बने हुए थे, तब वह उन पर क्रोधित हुई, और आज्ञा दी कि उसके सेवकों, या राजा के सेवकों, उन्हें ले लो और उन्हें मार डालो।
57 अब सेवकों ने राजा के पतन का कारण देख लिया था, इस कारण वे हारून और उसके भाइयों पर हाथ रखने का साहस नहीं करते थे।
58 और उन्होंने रानी से बिनती की, कि तू ने यह क्यों आज्ञा दी है कि हम इन मनुष्योंको घात करें, जब कि उन में से एक हम सब से अधिक पराक्रमी है? इसलिए हम उनके सामने गिरेंगे।
59 जब रानी ने दासोंका भय देखा, तब वह भी बहुत डर गई, कहीं ऐसा न हो कि उस पर कोई विपत्ति आ पड़े।
60 और उस ने अपके कर्मचारियोंको आज्ञा दी, कि वे जाकर लोगोंको बुलाएं, कि वे हारून और उसके भाइयोंको घात करें।
61 जब हारून ने रानी का दृढ़ निश्चय देखा, और प्रजा के मन की कठोरता को भी जानता था, तब यह डर गया, कि कहीं भीड़ इकट्ठी न हो जाए, और उन में बड़ा विवाद और उपद्रव हो जाए;
62 तब उस ने हाथ बढ़ाकर राजा को पृय्वी पर से उठाकर उस से कहा, खड़ा हो, और अपना बल पाकर अपने पांवोंके बल खड़ा हो गया।
63 अब यह रानी और बहुत से सेवकों के साम्हने किया गया था। और जब उन्होंने यह देखा, तो वे बहुत चकित हुए, और डरने लगे।
64 तब राजा खड़ा हुआ और उनकी सेवा टहल करने लगा। और उसने उनकी इतनी सेवा की कि उसका पूरा घराना प्रभु में परिवर्तित हो गया ।
65 रानी की आज्ञा के कारण भीड़ इकट्ठी हो गई, और हारून और उसके भाइयोंके कारण उन में बड़ा बड़बड़ाने लगा।
66 परन्तु राजा उनके बीच में खड़ा हुआ, और उन्हें आज्ञा देता रहा। और वे हारून और उसके संगियोंके साम्हने शांत हुए।
67 और ऐसा हुआ कि जब राजा ने देखा कि लोगों को शांत किया गया है, तो उसने हारून और उसके भाइयों को भीड़ के बीच में खड़ा किया, और कि वे उन्हें वचन का प्रचार करें ।
68 और ऐसा हुआ कि राजा ने पूरे प्रदेश में, अपने सभी लोगों के बीच, जो उसके सारे प्रदेश में थे, जो चारों ओर के सभी क्षेत्रों में थे, जो कि पूर्व में समुद्र की सीमा तक थे, और पश्चिम में, और जो जराहेमला की भूमि से जंगल की एक संकीर्ण पट्टी द्वारा विभाजित किया गया था,
69 जो समुद्र से पूर्व की ओर से पश्चिम तक, और समुद्र के किनारे की सीमाओं के चारों ओर, और जंगल की सीमाओं के उत्तर में, जराहेमला की भूमि से, मंती की सीमाओं के माध्यम से बहती थी, पूर्व से पच्छिम की ओर बहते हुए सीदोन नदी के सिरहाने के पास; और इस प्रकार लमनाइयों और नफाइयों में विभाजन हो गया ।
70 अब लमनाइयों का अधिक निष्क्रिय हिस्सा निर्जन प्रदेश में रहता था, और तंबुओं में रहता था; और वे जंगल में, पश्चिम में, नफी के प्रदेश में फैले हुए थे:
71 हां, और जराहेमला प्रदेश के पश्चिम में, सीमाओं में, समुद्र के किनारे, और पश्चिम में, नफी के प्रदेश में, अपने पूर्वजों की पहली विरासत के स्थान पर, और इस प्रकार सीमा से लगे हुए समुद्र का किनारा।
72 और समुद्र के किनारे पूर्व की ओर जहां नफाइयों ने उन्हें खदेड़ा था, वहां बहुत से लमनाई भी थे । और इस प्रकार नफाइयों को लमनाइयों ने लगभग घेर लिया था;
73 तौभी नफाइयों ने जंगल की सीमा पर, पूर्व से पश्चिम तक, जंगल के चारों ओर, सीदोन नदी के सिरों पर, देश के सभी उत्तरी भागों पर अधिकार कर लिया था; उत्तर की ओर, यहाँ तक कि वे उस देश में नहीं आए, जिसे वे भरपूर कहते थे।
74 और वह उस देश से लगा, जिसे वे उजाड़ कहते थे; उत्तर की ओर इतना दूर होकर, कि वह उस देश में आ गया, जिस पर लोग बसे हुए थे, और नाश किए गए थे, और जिसकी हड्डियों के विषय में हम ने कहा है, जिसे जराहेमला के लोगों ने खोजा था; यह उनकी पहली लैंडिंग का स्थान है। और वे वहाँ से ऊपर दक्खिन जंगल में आए।
75 इस प्रकार उत्तर की ओर का देश उजाड़ कहलाया, और दक्खिन का देश बहुतायत से कहा गया; यह वह जंगल है जो सब प्रकार के सब प्रकार के वनपशुओं से भरा हुआ है; जिसका एक भाग उत्तर की ओर से भोजन के लिथे आया था।
76 और अब यह पूर्व से पश्चिम समुद्र तक, प्रचुर मात्रा में, और उजाड़ प्रदेश पर एक नफाई के लिए केवल डेढ़ दिन की दूरी थी;
77 और इस प्रकार नफी का प्रदेश, और जराहेमला का प्रदेश लगभग पानी से घिरा हुआ था; उत्तर की ओर भूमि और दक्षिण की ओर भूमि के बीच भूमि की एक छोटी गर्दन है।
78 और ऐसा हुआ कि पूर्व से लेकर पश्चिम समुद्र तक, नफाइयों ने भरपूर प्रदेश में निवास किया था,
79 और इस प्रकार नफाइयों ने अपनी बुद्धि में, अपने रक्षकों और अपनी सेनाओं के साथ, दक्षिण में लमनाइयों पर आक्रमण कर दिया था, जिससे कि उनके पास उत्तर की ओर कोई अधिकार न रह जाए, ताकि वे उत्तर की ओर प्रदेश पर अधिकार न कर सकें;
80 इसलिए लमनाइयों के पास केवल नफी के प्रदेश में, और चारों ओर के जंगल में और कोई संपत्ति नहीं हो सकती थी ।
81 अब नफाइयों में यही बुद्धि थी; चूंकि लमनाई उनके शत्रु थे, इसलिए वे हर तरफ अपने कष्टों को नहीं सहेंगे, और यह भी कि उनके पास एक देश हो जहां से वे अपनी इच्छा के अनुसार भाग सकें ।
82 और अब मैं यह कहकर अम्मोन, और हारून, ओम्नेर, और हिम्नी, और उनके भाइयोंके वृत्तान्त की ओर फिर जाता हूं।

 

अल्मा, अध्याय 14

1 देखो, अब ऐसा हुआ कि लमनाइयों के राजा ने अपने सभी लोगों के बीच एक उद्घोषणा भेजी, कि वे अम्मोन, या हारून, या ओम्नेर, या हिम्नी पर हाथ न डालें, और न ही अपने उन भाइयों में से जो बाहर जाने वाले हैं अपने देश के किसी भी भाग में, चाहे वे किसी भी स्थान पर हों, परमेश्वर के वचन का प्रचार करना;
2 हां, उसने उनके बीच एक आज्ञा भेजी, कि वे उन्हें बांधने के लिए उन पर हाथ न डालें, या उन्हें बंदीगृह में न डालें; न वे उन पर थूकें, और न मारें, और न अपनी आराधनालयोंमें से निकाले, और न कोड़े;
3 और न उन पर पत्यर फेंके, वरन अपके घरों, और अपके मन्दिरों, और पवित्रस्थानोंमें भी जाने की खुली छूट हो;
4 और इस प्रकार वे निकलकर अपक्की इच्छा के अनुसार वचन का प्रचार कर सकें, क्योंकि राजा और उसके सारे घराने का फिर से यहोवा में परिवर्तन हो गया था:
5 इसलिथे उस ने यह घोषणा अपके लोगोंके पास सारे देश में भेजी, कि परमेश्वर का वचन कोई बाधा न हो, परन्‍तु सारे देश में फैल जाए, जिस से उसकी प्रजा अपके पुरखाओं की दुष्ट रीतियोंके विषय में निश्‍चित हो जाए,
6 और इसलिए कि वे निश्चय जान लें कि वे सब भाई हैं, और न तो हत्या, न लूट, न चोरी, न व्यभिचार, और न ही किसी प्रकार की दुष्टता करनी चाहिए ।
7 और अब ऐसा हुआ कि जब राजा ने यह घोषणा की, तब हारून और उसके भाई एक नगर से दूसरे नगर, और पूजा के एक घर से दूसरे नगर को गए,
8 पूरे प्रदेश में लमनाइयों के बीच गिरजाघरों की स्थापना करना, और पुजारियों और शिक्षकों को समर्पित करना, उनके बीच परमेश्वर के वचन का प्रचार करने और सिखाने के लिए; और इस प्रकार उन्हें बड़ी सफलता मिलने लगी।
9 और हजारों को प्रभु के ज्ञान में लाया गया, हां, हजारों को नफाइयों की परंपराओं में विश्वास करने के लिए लाया गया; और उन्हें अभिलेखों और भविष्यद्वाणियों की शिक्षा दी गई, जो वर्तमान समय तक दी गई थीं;
10 और प्रभु के जीवन की शपथ, अम्मोन और उसके भाइयों के प्रचार के द्वारा, प्रकटीकरण और भविष्यवाणी की आत्मा के अनुसार, और जितने विश्वास करने वाले, या जितने लोग सत्य के ज्ञान में लाए गए थे, उतने ही निश्चय ईश्वर की शक्ति, उनमें चमत्कार कार्य करना;
11 हां, मैं तुमसे कहता हूं, जब तक प्रभु जीवित है, जितने लमनाइयों ने उनके प्रचार में विश्वास किया, और प्रभु में परिवर्तित हुए, वे कभी हार नहीं गए, क्योंकि वे एक धर्मी लोग बन गए:
12 उन्होंने अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अप से अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपिे शयय डाल द�, ताक वे न तो परमेश्वर से और न लड़े।
13 अब ये वे हैं जो प्रभु में परिवर्तित हुए थे: लमनाइयों के लोग जो इश्माएल प्रदेश में थे, और लमनाइयों के लोग जो मिदोनी के प्रदेश में थे, और लमनाइयों के लोग भी थे जिन्होंने नफी शहर में थे, और लमनाइयों के लोग भी थे जो शिलोम के प्रदेश में थे, और जो शेमलोन के प्रदेश में, और लमूएल के शहर में, और शिम्नीलोन शहर में थे;
14 और लमनाइयों के उन नगरों के नाम ये हैं जो प्रभु में परिवर्तित हो गए थे; और ये वे हैं जिन्होंने अपने विद्रोह के हथियार, हां, अपने युद्ध के सभी हथियार डाल दिए; और वे सभी लमनाई थे ।
15 और केवल एक को छोड़ अमालेकी फिर न गए; न तो अमूलोनी थे; लेकिन उन्होंने अपने हृदयों को कठोर कर लिया, और प्रदेश के उस हिस्से में जहां भी वे रहते थे, लमनाइयों के हृदयों को कठोर कर दिया; हां, और उनके सब गांव और उनके सब नगर;
16 इसलिए हमने लमनाइयों के उन सभी नगरों के नाम रखे हैं जिनमें उन्होंने पश्चाताप किया और सच्चाई का ज्ञान प्राप्त किया, और परिवर्तित हुए ।
17 और अब ऐसा हुआ कि राजा और जो परिवर्तित हुए थे, वे चाहते थे कि उनका एक नाम हो, ताकि वे अपने भाइयों से अलग हो सकें;
18 इस कारण राजा ने हारून और उनके बहुत से याजकों से उस नाम के विषय में विचार-विमर्श किया, जो वे उन पर धारण करें, कि वे प्रतिष्ठित हों।
19 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अपना नाम अंती-नफी-लेहिस रखा; और उन्हें इसी नाम से पुकारा जाता था, और वे लमनाई नहीं कहलाते थे ।
20 और वे बहुत मेहनती लोग होने लगे; हां, और नफाइयों के साथ उनकी मित्रता थी; इसलिए उन्होंने उनके साथ पत्र व्यवहार किया, और परमेश्वर का श्राप उनके पीछे फिर नहीं लगा।
21 और ऐसा हुआ कि अमालेकियों, अमुलोनियों, और लमनाइयों ने जो अमूलोन के प्रदेश में थे, और हेलाम प्रदेश में भी थे, और जो यरूशलेम के प्रदेश में थे, और पूरे प्रदेश में ठीक थे चारों ओर, जो परिवर्तित नहीं हुए थे, और उन पर अंती-नफी-लेही का नाम नहीं लिया था, अमालेकियों और अमुलोनियों ने अपने भाइयों के विरुद्ध क्रोधित किया था;
22 और उनका बैर उन से इतना अधिक बढ़ गया, कि वे अपके राजा से बलवा करने लगे, यहां तक कि उन्होंने यह भी न चाहा कि वह उनका राजा बने; इसलिए उन्होंने अण्टी-नफी-लेही के लोगों के विरुद्ध हथियार उठा लिए ।
23 अब राजा ने अपने पुत्र को राज्य प्रदान किया और उसने उसका नाम अंती-नफी-लेही रखा ।
24 और उसी वर्ष राजा की मृत्यु हो गई जब लमनाइयों ने परमेश्वर के लोगों के विरुद्ध युद्ध की तैयारी शुरू कर दी ।
25 अब जब अम्मोन और उसके भाई, और वे सभी जो उसके साथ आए थे, उन्होंने लमनाइयों की अपने भाइयों को नष्ट करने की तैयारी को देखा, वे मिद्यान प्रदेश में आए, और वहां अम्मोन अपने सभी भाइयों से मिला;
26 और वहां से वे इश्माएल प्रदेश आए, ताकि वे लमोनी, और उसके भाई अंती-नफी-लेही के साथ एक बैठक कर सकें, कि उन्हें लमनाइयों से अपना बचाव करने के लिए क्या करना चाहिए ।
27 अब उन सभी लोगों में से एक भी ऐसा नहीं था जो प्रभु में परिवर्तित हो गया था, जो अपने भाइयों के विरुद्ध हथियार उठाए;
28 नहीं, उन्होंने युद्ध की कोई तैयारी भी नहीं की, हां, और उनके राजा ने भी उन्हें ऐसा नहीं करने की आज्ञा दी थी ।
29 अब ये वे शब्द हैं जो उसने इस मामले के संबंध में लोगों से कहे हैं: मैं अपने परमेश्वर, मेरे प्रिय लोगों का धन्यवाद करता हूं, कि हमारे महान परमेश्वर ने भलाई के लिए हमारे इन भाइयों, नफाइयों को हमारे पास हमें प्रचार करने, और विश्वास दिलाने के लिए भेजा है हमारे दुष्ट पिताओं की परंपराओं से।
30 और देखो, मैं अपने महान परमेश्वर का धन्यवाद करता हूं कि उसने हमें अपने हृदय को कोमल बनाने के लिए अपनी आत्मा का एक अंश दिया है, कि हमने इन भाइयों, नफाइयों के साथ पत्र व्यवहार किया है;
31 और देखो, मैं अपने परमेश्वर का भी धन्यवाद करता हूं कि इस पत्र-पत्र को खोलकर हम अपने पापों के प्रति आश्वस्त हुए हैं; और उन बहुत सी हत्याओं में से जो हमने की हैं;
32 और मैं अपने परमेश्वर का भी धन्यवाद करता हूं, हां, मेरे महान परमेश्वर, कि उसने हमें दिया है कि हम इन बातों से पश्चाताप कर सकें, और यह भी कि उसने हमें हमारे बहुत से पापों और हत्याओं को क्षमा कर दिया है, और ले लिया है उसके पुत्र के गुणों के द्वारा हमारे हृदय से दोष।
33 और अब देखो, मेरे भाइयों, क्योंकि यह वह सब है जो हम कर सकते थे, (क्योंकि हम सभी मानवजाति में सबसे अधिक खोए हुए थे), अपने सभी पापों और कई हत्याओं से पश्चाताप करने के लिए, और परमेश्वर को पाने के लिए उन्हें हमारे दिलों से दूर ले जाओ, क्योंकि परमेश्वर के सामने पर्याप्त रूप से पश्चाताप करने के लिए हम केवल इतना ही कर सकते थे कि वह हमारे दाग को दूर कर दे।
34 हे मेरे प्रिय भाइयो, जब परमेश्वर ने हम पर से दाग हटा दिए, और हमारी तलवारें तेज हो गई हैं, तो हम अपके भाइयोंके लोहू से अपनी तलवारें फिर न दागें;
35 देखो, मैं तुम से कहता हूं, नहीं, हम अपक्की तलवारें बनाए रखें, कि वे हमारे भाइयोंके लोहू से न लंगी।
36 क्‍योंकि यदि हम अपनी तलवारें फिर से दागें, तो वे हमारे महान परमेश्वर के पुत्र के लहू से, जो हमारे पापोंके प्रायश्चित्त के लिथे बहाई जाएगी, फिर चमकीली न धुल सकेगी।
37 और महान परमेश्वर ने हम पर दया की है, और ये बातें हम पर प्रगट की हैं, कि हम नाश न हों:
38 हां, और उसने इन बातों को हमें पहले ही बता दिया है, क्योंकि वह हमारे प्राणों से और हमारे बच्चों से भी प्रेम रखता है; इस कारण वह अपनी दया से अपने दूतों के द्वारा हम से भेंट करता है, कि उद्धार की योजना हम पर और आने वाली पीढ़ियों को भी प्रगट हो। हे हमारे परमेश्वर कितने दयालु हैं!
39 और अब देखो, जब से हम अपने दागों को दूर करने के लिए जितना कर सकते हैं, करते हैं, और हमारी तलवारें चमकीली हो जाती हैं,
40 हम उन्हें छिपा रखें, कि वे अन्तिम दिन या जिस दिन हम न्याय करने के लिये उसके साम्हने खड़े होंगे, उस दिन हमारे परमेश्वर के साम्हने गवाही देने के लिथे उज्ज्वल बने रहें, ऐसा न हो कि हम ने अपनी तलवारें उस पर दागी हों। हमारे भाइयों का लोहू जब से उस ने हम से अपना वचन सुनाया, और उसके द्वारा हमें शुद्ध किया है।
41 और अब हे मेरे भाइयो, यदि हमारे भाई हमें नाश करना चाहते हैं, तो देखो, हम अपक्की तलवारें छिपा लेंगे; हां, हम भी उन्हें मिट्टी में गाड़ देंगे, कि वे चमकते रहें, इस बात की गवाही के रूप में कि हमने अंतिम दिन में उनका कभी उपयोग नहीं किया; और यदि हमारे भाई हमें नष्ट कर दें, तो देख, हम अपके परमेश्वर के पास जा कर उद्धार पाएंगे।
42 और अब ऐसा हुआ कि जब राजा ने इन बातों को समाप्त कर दिया, और सब लोग इकट्ठे हो गए, तो उन्होंने अपनी तलवारें, और उन सभी हथियारों को ले लिया जो मनुष्य के खून बहाने के लिए इस्तेमाल किए गए थे, और उन्होंने उसे दफना दिया। उन्हें पृथ्वी में गहराई तक;
43 और उन्होंने ऐसा किया, क्योंकि उनकी दृष्टि में यह परमेश्वर और मनुष्योंके साम्हने साक्षी है, कि वे मनुष्य का लोहू बहाने के लिथे फिर कभी हथियार न चलाएं;
44 और उन्होंने यह वचन दिया, और परमेश्वर से वाचा बान्धी, कि अपके भाइयोंका लोहू बहाने की अपेक्षा अपके ही प्राणोंको त्याग दें;
45 और वे भाई से छीन लेने के बजाय उसे देते थे; और अपने दिन आलस्य में बिताने के बजाय, वे अपने हाथों से बहुत परिश्रम करते;
46 और इस प्रकार हम देखते हैं कि जब इन लमनाइयों को विश्वास करने और सच्चाई जानने के लिए लाया गया था, तो वे दृढ़ थे, और पाप करने के बजाय उन्हें मृत्यु तक भुगतना होगा:
47 और इस प्रकार हम देखते हैं, कि उन्होंने शान्ति के अस्त्रोंको गाड़ दिया, या उन्होंने शान्ति के लिथे युद्ध के अस्त्रोंको गाड़ दिया।
48 और ऐसा हुआ कि उनके भाई लमनाइयों ने युद्ध की तैयारी की, और राजा को नष्ट करने, और उसके स्थान पर दूसरे को रखने, और अंती-नफी के लोगों को नष्ट करने के उद्देश्य से नफी के प्रदेश में आए। - लेही जमीन से बाहर।
49 जब लोगों ने देखा, कि हम उन पर चढ़ाई कर रहे हैं, तब वे उन से भेंट करने को निकल गए, और उनके साम्हने पृय्वी पर दण्डवत करके यहोवा से प्रार्थना करने लगे;
50 और इस प्रकार जब लमनाइयों ने उन पर हमला करना शुरू किया, और उन्हें तलवार से मारना शुरू किया, तो वे इस प्रकार के थे; और इस प्रकार बिना किसी प्रतिरोध का सामना किए, उन्होंने उनमें से एक हजार पांच को मार डाला; और हम जानते हैं कि वे धन्य हैं, क्योंकि वे अपके परमेश्वर के पास रहने को चले गए हैं।
51 अब जब लमनाइयों ने देखा कि उनके भाई तलवार से नहीं भागेंगे, न तो वे दहिने हाथ या बायें मुड़ेंगे, बल्कि यह कि वे लेटकर नष्ट हो जाएंगे, और परमेश्वर की स्तुति उसी के अधीन नाश करने के कार्य में भी करेंगे तलवार; अब जब लमनाइयों ने यह देखा, तो उन्होंने उन्हें मारना नहीं छोड़ा;
52 और बहुत से ऐसे थे जिनके मन उन भाइयोंके कारण फूले थे जो तलवार से मारे गए थे, क्योंकि उन्होंने अपने किए हुए कामोंका पश्चाताप किया था।
53 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अपने युद्ध के हथियार फेंक दिए, और उन्होंने उन्हें फिर से नहीं लिया, क्योंकि वे उन हत्याओं के लिए काटे गए थे जिन्हें उन्होंने किया था: और वे उन लोगों की दया पर भरोसा करते हुए अपने भाइयों की तरह नीचे आए जिनके हाथ उन्हें मारने के लिए उठाये गये थे।
54 और ऐसा हुआ कि उस दिन परमेश्वर के लोग मारे गए लोगों की संख्या से अधिक हो गए; और जो मारे गए थे वे धर्मी लोग थे; इसलिए हमारे पास संदेह करने का कोई कारण नहीं है लेकिन वे क्या बचाए गए हैं।
55 और उन में कोई दुष्ट न मारा गया; परन्तु एक हजार से अधिक लोग सत्य की पहिचान में लाए गए; इस प्रकार हम देखते हैं कि यहोवा अपने लोगों के उद्धार के लिए अनेक प्रकार से कार्य करता है।
56 अब लमनाइयों में से सबसे अधिक संख्या में अमालेकी और अमुलोनी थे, जिन्होंने अपने बहुत से भाइयों को मार डाला था, जिनमें से सबसे बड़ी संख्या नेहोर के आदेश के अनुसार थी ।
57 अब जो प्रभु के लोगों में शामिल हुए, उनमें से कोई भी अमालेकी या अमुलोनी या नहोर के वंश का नहीं था, परन्तु वे लमान और लमूएल के वास्तविक वंशज थे:
58 और इस प्रकार हम स्पष्ट रूप से समझ सकते हैं, कि जब लोग एक बार परमेश्वर के आत्मा से प्रबुद्ध हो जाते हैं, और धार्मिकता से संबंधित चीजों का महान ज्ञान प्राप्त कर लेते हैं, और फिर पाप और अपराध में गिर जाते हैं, तो वे और अधिक कठोर हो जाते हैं, और इस प्रकार उनकी स्थिति इससे भी बदतर हो जाती है, हालांकि वे इन बातों को कभी नहीं जानते थे।
59 और देखो, अब ऐसा हुआ कि वे लमनाई अधिक क्रोधित हुए, क्योंकि उन्होंने अपने भाइयों को मार डाला था; इसलिए उन्होंने नफाइयों से बदला लेने की शपथ ली;
60 और उन्होंने उस समय अंती-नफी-लेही के लोगों को मारने का फिर कोई प्रयास नहीं किया; परन्तु वे अपक्की सेना लेकर जराहेमला प्रदेश के सिवाने पर चढ़ गए, और अम्मोनिहा के देश के लोगोंपर गिर पड़े, और उनका सत्यानाश कर डाला।
61 और उसके बाद, नफाइयों के साथ उनके कई युद्ध हुए, जिसमें वे खदेड़ दिए गए और मारे गए;
62 और मारे गए लमनाइयों में, अमूलोन और उसके भाइयों के लगभग सभी वंश थे, जो नूह के याजक थे, और वे नफाइयों के हाथों मारे गए थे;
63 और शेष पूर्वी निर्जन प्रदेश में भाग गए, और लमनाइयों पर अधिकार और अधिकार हथियाने के बाद, उनके विश्वास के कारण बहुत से लमनाइयों को आग से नष्ट कर दिया गया:
64 क्योंकि जो बातें हारून और उसके भाइयोंने अपके देश में उन को सुनाई या, उनके स्मरण से उन में से बहुतेरे बहुत हानि और इतने क्लेश सहने के पश्चात् कांपने लगे;
65 इसलिए उन्होंने अपने पूर्वजों की परंपराओं का अविश्वास करना शुरू कर दिया, और प्रभु में विश्वास करना शुरू कर दिया, और यह कि उसने नफाइयों को बड़ी शक्ति दी; और इस प्रकार उनमें से बहुत से लोग जंगल में परिवर्तित हो गए थे ।
66 और ऐसा हुआ कि उन शासकों ने, जो अमूलोन के वंश के बचे हुए थे, उन्हें मार डाला, हां, उन सभी को जो इन बातों में विश्वास करते थे ।
67 अब इस शहादत के कारण उनके बहुत से भाई क्रोधित हो उठे; और जंगल में विवाद होने लगा; और लमनाइयों ने अमूलोन और उसके भाइयों के वंश का शिकार करना शुरू कर दिया, और उन्हें मारना शुरू कर दिया, और वे पूर्वी निर्जन प्रदेश में भाग गए ।
68 और देखो, इस दिन लमनाइयों द्वारा उनका शिकार किया जाता है: इस प्रकार अबिनादी के शब्दों को पूरा किया गया, जो उसने याजकों के वंश के संबंध में कहा था, जिन्होंने उसे आग से मौत का शिकार बनाया था ।
69 क्‍योंकि उस ने उन से कहा, जो कुछ तुम मुझ से करोगे, वही आने वाला है।
70 और अब अबिनादी वह पहला व्यक्ति था जिसे परमेश्वर में अपने विश्वास के कारण आग से मृत्यु का सामना करना पड़ा था: अब उसका मतलब यह है, कि बहुतों को आग से मृत्यु भुगतनी होगी, जैसा कि उसने सहा था ।
71 और उस ने नूह के याजकोंसे कहा, कि उनका वंश बहुतोंको उसके समान मार डाले, और वे इधर-उधर तितर-बितर होकर घात किए जाएं, जैसा कोई भेड़ चरवाहे के बिना भगाई जाती है, जंगली जानवरों द्वारा मारे गए।
72 और अब देखो, इन बातों की पुष्टि हो गई थी, क्योंकि वे लमनाइयों द्वारा भगाए गए थे और उनका शिकार किया गया था, और उन्हें मारा गया था ।
73 और ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने देखा कि वे नफाइयों को पराजित नहीं कर सकते, तो वे फिर से अपने प्रदेश लौट गए; और उनमें से बहुत से इश्माएल के प्रदेश और नफी के प्रदेश में रहने के लिए आए, और परमेश्वर के लोगों में शामिल हो गए, जो कि अंती-नफी-लेही के लोग थे;
74 और उन्होंने अपके भाइयोंके अनुसार अपके अपके अपके युद्ध के अस्त्रोंको भी मिट्टी दी, और वे धर्मी होने लगे; और वे यहोवा की सी चाल चले, और उसकी आज्ञाओं, और उसकी मूरतोंका पालन करने में लगे रहे, हां, और उन्होंने मूसा की व्यवस्था का पालन किया; क्योंकि यह उचित था कि वे अब तक मूसा की व्यवस्था का पालन करें, क्योंकि वह सब पूरी नहीं हुई थी।
75 लेकिन मूसा की व्यवस्था के बावजूद, उन्होंने मसीह के आने की प्रतीक्षा की, इस विषय में कि मूसा की व्यवस्था उसके आने का एक प्रकार थी, और यह विश्वास करते हुए कि उन्हें उन बाहरी कार्यों को तब तक करना चाहिए, जब तक कि वह उन पर प्रकट न हो जाए उन्हें।
76 परन्तु उन्होंने यह न समझा, कि मूसा की व्यवस्था से उद्धार हुआ है; परन्तु मूसा की व्यवस्था ने मसीह में उनके विश्वास को दृढ़ करने का काम किया;
77 और इस प्रकार उन्होंने विश्वास के माध्यम से, अनन्त उद्धार की आशा को बनाए रखा, भविष्यवाणी की आत्मा पर भरोसा करते हुए, जो आने वाली चीजों के बारे में बताती है ।
78 और अब देखो, अम्मोन, और हारून, और ओम्नेर, और हिम्नी, और उनके भाइयों ने लमनाइयों के बीच जो सफलता प्राप्त की थी, उसके लिए बहुत खुशी हुई, यह देखते हुए कि प्रभु ने उन्हें उनकी प्रार्थनाओं के अनुसार प्रदान किया था, और वह उस ने उन से अपके वचन को एक एक एक बात में प्रमाणित भी किया था।
79 और अब, अम्मोन के अपने भाइयों से ये शब्द हैं, जो इस प्रकार कहते हैं: मेरे भाइयों और मेरे भाइयों, देखो, मैं तुम से कहता हूं, हमारे पास आनन्द करने का कितना बड़ा कारण है; क्योंकि जब हमने जराहेमला के प्रदेश से शुरुआत की थी, तो क्या हम यह सोच सकते थे कि परमेश्वर ने हमें इतनी बड़ी आशीषें दी होंगी?
80 और अब मैं पूछता हूं, कि उसने हम पर क्या बड़ी आशीषें दी हैं? क्या आप बता सकते हैं?
81 देख, मैं तेरी ओर से उत्तर देता हूं; क्योंकि हमारे भाई, लमनाई, अंधेरे में थे, हां, यहां तक कि सबसे गहरे अथाह कुंड में भी; परन्तु देखो, उनमें से कितनों को परमेश्वर का अद्भुत प्रकाश देखने के लिए लाया गया है!
82 और यह वह आशीष है जो हमें दी गई है, कि हम इस महान कार्य को करने के लिए परमेश्वर के हाथों के यंत्र बनाए गए हैं।
83 देखो, उनमें से हजारों आनन्दित होते हैं, और परमेश्वर के गढ़ में लाए गए हैं।
84 देखो, खेत पक चुका है, और तुम धन्य हो, क्योंकि तुम ने हंसिया लगाया, और अपनी शक्ति से काटा, वरन दिन भर परिश्रम करते रहे;
85 और देखो, तुम्हारे पूलों की गिनती की गई है, और वे जल्लादों में बटोर लिए जाएंगे, कि वे व्यर्थ न हों; वरन अन्तिम दिन में वे आँधी से न मारे जाएँ;
86 हां, वे बवंडर से भी न घबराएंगे; परन्तु जब तूफ़ान आए, तब वे अपके अपके स्यान पर इकट्ठे हो जाएं, ऐसा न हो कि आँधी उन में घुस सके; हां, जहां कहीं भी शत्रु उन्हें ले जाने के लिए सुने , वे तेज हवाओं से भी नहीं भगाएंगे ।
87 परन्तु देखो, वे खेत के यहोवा के वश में हैं, और वे उसी के हैं; और वह उन्हें अन्तिम दिन में जिलाएगा।
88 हमारे परमेश्वर का नाम धन्य है; आओ हम उसकी स्तुति में गाएं, हां, हम उसके पवित्र नाम का धन्यवाद करें, क्योंकि वह सदा के लिए धर्म का काम करता है।
89 क्योंकि यदि हम जराहेमला प्रदेश से बाहर नहीं आए होते, तो हमारे ये प्यारे प्यारे भाई, जो हमें इतने प्रिय हैं, अभी भी हमारे विरुद्ध घृणा से भरे हुए होते, हां, और वे परमेश्वर के लिए अजनबी भी होते ।
90 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोन ने ये बातें कह लीं, तो उसके भाई हारून ने उसे यह कहते हुए डांटा: अम्मोन, मुझे डर है कि तुम्हारा आनंद तुम्हें घमण्ड करने के लिए ले जाएगा ।
91 परन्तु अम्मोन ने उस से कहा, मैं अपके बल पर वा अपक्की बुद्धि पर घमण्ड नहीं करता; परन्तु देखो, मेरा आनन्द भर गया है, वरन मेरा मन आनन्द से भर गया है, और मैं अपके परमेश्वर के कारण मगन रहूंगा;
92 हां, मैं जानता हूं कि मैं कुछ भी नहीं हूं; जहाँ तक मेरा बल है, मैं निर्बल हूँ; इस कारण मैं अपके परमेश्वर पर घमण्ड न करूंगा, वरन अपके परमेश्वर पर घमण्ड करूंगा; क्योंकि मैं उसके बल से सब कुछ कर सकता हूं; हां, देखो, हमने इस देश में बहुत से बड़े चमत्कार किए हैं, जिसके लिए हम उसके नाम की स्तुति सदा करते रहेंगे ।
93 देखो, उस ने हमारे कितने हजार भाइयोंको अधोलोक की पीड़ा से छुड़ाया है; और वे छुड़ानेवाले प्रेम के गीत गाने के लिथे लाए जाते हैं; और यह उसके वचन की शक्ति के कारण है जो हम में है; सो क्या हमारे पास आनन्द करने का कोई बड़ा कारण नहीं है?
94 हां, हमारे पास उसकी सदा स्तुति करने का कारण है, क्योंकि वह परमप्रधान परमेश्वर है, और उसने हमारे भाइयों को नरक की जंजीरों से छुड़ाया है।
95 हां, वे अनंत अंधकार और विनाश से घिरे हुए थे; परन्तु देखो, वह उन्हें अपनी अनन्त ज्योति में ले आया है, हां, अनन्त उद्धार में; और वे उसके प्रेम के अतुलनीय अनुग्रह से घिरे हुए हैं:
96 हां, और इस महान और अद्भुत कार्य को करने में हम उसके हाथ के निमित्त बने हैं; इसलिए हम महिमा करें, हां, हम यहोवा में महिमा करेंगे; वरन हम आनन्दित होंगे, क्योंकि हमारा आनन्द भर गया है; हाँ, हम सदा के लिए अपने परमेश्वर की स्तुति करेंगे।
97 देखो, कौन प्रभु में बहुत अधिक घमण्ड कर सकता है? हाँ, उसकी महान शक्ति, और उसकी दया, और मानव संतान के प्रति उसके लंबे कष्ट के बारे में कौन बहुत कुछ कह सकता है? देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि जो छोटा सा अंश मैं अनुभव करता हूं, वह मैं नहीं कह सकता ।
98 कौन सोच सकता था कि हमारा परमेश्वर इतना दयालु होगा कि उसने हमें हमारे भयानक, पापी और प्रदूषित राज्य से छीन लिया होगा?
99 देखो, हम क्रोध में आकर उसके गिरजे को नष्ट करने की घोर धमकियां देकर निकल गए। हे फिर, उसने हमें एक भयानक विनाश के लिए क्यों नहीं भेजा; हां, उसने अपने न्याय की तलवार को हम पर क्यों नहीं गिरने दिया, और हमें अनन्त निराशा में डूबने क्यों नहीं दिया ?
100 हे मेरे प्राण, प्राय: मानो वह विचार करते ही क्षणभंगुर हो गया हो।
101 देखो, उसने हम पर अपना न्याय नहीं किया, परन्तु अपनी बड़ी दया से हमें मृत्यु और दुख की उस अनन्त खाई पर ले आया है, यहां तक कि हमारे प्राणों के उद्धार के लिए भी।
102 और अब देखो, हे मेरे भाइयो, कौन इन बातोंको जाननेवाला मनुष्य है? मैं तुम से कहता हूं, कि इन बातों को जानने वाला कोई नहीं, केवल पछताए;
103 हां, जो पश्‍चाताप करता और विश्वास करता है, और भले काम करता है, और निरन्तर प्रार्थना करता रहता है; ऐसे को परमेश्वर के भेदों को जानने का अवसर दिया जाता है; हां, ऐसे लोगों को उन चीजों को प्रकट करने के लिए दिया जाएगा जिन्हें कभी प्रकट नहीं किया गया है;

104 हां, और ऐसे लोगों को यह दिया जाएगा कि वे हजारों आत्माओं को पश्चाताप के लिए लाएं, जैसा कि हमें इन अपने भाइयों को पश्चाताप के लिए लाने के लिए दिया गया है ।
105 अब क्या तुम्हें याद है, मेरे भाइयों, कि हमने जराहेमला प्रदेश में अपने भाइयों से कहा था, हम नफी के प्रदेश में जाते हैं, अपने भाइयों, लमनाइयों को प्रचार करने के लिए, और वे हमारा तिरस्कार करने के लिए हंसे थे ?
106 क्योंकि उन्होंने हम से कहा, क्या तुम समझते हो कि तुम लमनाइयों को सच्चाई का ज्ञान करा सकते हो ?
107 क्या तुम समझते हो कि तुम लमनाइयों को उनके पूर्वजों की परंपराओं की गलतता के प्रति आश्वस्त कर सकते हो, जैसे वे हठीले लोग हैं; जिनका हृदय लोहू बहाने से प्रसन्न होता है; जिनके दिन घोर अधर्म में व्यतीत हुए हैं; आरम्भ से अपराधी की चाल किसकी रही है?
108 अब मेरे भाइयों, तुम्हें याद है कि यह उनकी भाषा थी।
109 और इसके अलावा, उन्होंने कहा, हम उनके विरुद्ध हथियार उठाएं, कि हम उन्हें और उनके अधर्म को देश से नष्ट कर दें, ऐसा न हो कि वे हम पर हावी हो जाएं, और हमें नष्ट कर दें।
110 परन्तु देखो, मेरे प्रिय भाइयों, हम वीराने में अपने भाइयों को नष्ट करने के उद्देश्य से नहीं, परन्तु इस आशय से आए थे कि शायद हम उनके कुछ प्राणों को बचा सकें ।
111 अब जब हमारा हृदय उदास हो गया था, और हम पीछे मुड़ने वाले थे, देखो, प्रभु ने हमें सांत्वना दी, और कहा, अपने भाइयों, लमनाइयों के बीच जाओ, और अपने कष्टों को धैर्य से सहन करो, और मैं तुम्हें सफलता दूंगा ।
112 और अब देखो, हम आ गए हैं, और उनके बीच में निकल आए हैं; और हम ने अपके दु:खोंको सहा है, और हम ने सब दुख सहे हैं; हां, हम संसार की दया पर भरोसा करते हुए घर-घर जाते थे; केवल संसार की दया पर नहीं, परन्तु परमेश्वर की दया पर।
113 और हम ने उनके घरोंमें जाकर उन्हें उपदेश दिया, और उनके चौकोंमें उन्हें उपदेश दिया है; हां, और हमने उन्हें उनकी पहाड़ियों पर सिखाया; और हम ने भी उनके मन्दिरोंऔर उनके आराधनालयोंमें जाकर उन्हें उपदेश दिया है;
114 और हम निकाल दिए गए, और ठट्ठों में उड़ाए गए, और हम पर थूका गया, और हमारे गालों पर मारा गया; और हम पत्यरवाह किए गए, और पकड़े गए, और मजबूत रस्सियोंसे बान्धे गए, और बन्दीगृह में डाले गए; और परमेश्वर की सामर्थ और बुद्धि के द्वारा हम फिर से छुड़ाए गए हैं:
115 और हम ने सब प्रकार के क्लेश, और यह सब सहा है, कि कदाचित हम किसी जीव के उद्धार का जरिया बनें; और हमने सोचा कि हमारा आनंद पूर्ण होगा, यदि शायद हम कुछ को बचाने का साधन बन सकें।
116 अब देखो, हम आगे देख सकते हैं और अपने परिश्र्मों का फल देख सकते हैं; और क्या वे कम हैं?
117 मैं तुम से कहता हूं, नहीं, वे बहुत हैं; हां, और हम उनके भाइयों के प्रति उनके प्रेम के कारण, और हमारे प्रति भी उनकी ईमानदारी के साक्षी बन सकते हैं ।
118 क्योंकि देखो, उन्होंने अपके शत्रु के प्राण लेने से बढ़कर अपके प्राणोंकी बलि देना उत्तम समझा; और उन्होंने अपके भाइयोंसे प्रीति के कारण अपके युद्ध के अस्त्रोंको पृय्वी में गाड़ दिया है।
119 और अब मैं तुम से कहता हूं, क्या सारे देश में ऐसा बड़ा प्रेम हुआ है ?
120 देखो, मैं तुमसे कहता हूं, नहीं, नफाइयों में भी ऐसा नहीं है ।
121 क्‍योंकि देखो, वे अपके भाइयोंके विरुद्ध हथियार उठाएंगे; वे खुद को मारे जाने के लिए पीड़ित नहीं होंगे।
122 परन्तु देखो, इन में से कितनों ने अपने प्राण दिए हैं, और हम जानते हैं कि वे अपने परमेश्वर के पास अपने प्रेम और पाप से बैर रखने के कारण गए हैं।
123 अब क्या हमारे पास आनन्द करने का कारण नहीं है? हां, मैं तुमसे कहता हूं, जब से संसार की शुरुआत हुई है, तब से हम लोगों के पास आनन्दित होने का इतना बड़ा कारण कभी नहीं था:
124 वरन मेरा आनन्द अपने परमेश्वर पर घमण्ड करने के कारण दूर हो गया है; क्योंकि उसके पास सारी शक्ति, सारी बुद्धि, और सारी समझ है; वह सब बातों को समझता है, और जो उसके नाम पर मन फिराएंगे और विश्वास करेंगे, उन पर वह उद्धार पाने के लिये भी एक दयालु प्राणी है।
125 अब यदि यह घमण्ड है, तो मैं भी ऐसा ही घमण्ड करूंगा; क्योंकि यह मेरा जीवन और मेरी ज्योति, मेरा आनन्द और मेरा उद्धार, और अनन्त संकट से मेरा छुटकारा है।
126 वरन मेरे परमेश्वर का नाम धन्य है, जो इस प्रजा की सुधि ली है, जो इस्राएल के वृक्ष की डाली हैं, और उसकी देह पर से पराए देश में खो गई हैं; हां, मैं कहता हूं, मेरे परमेश्वर का नाम धन्य है, जो हम परदेशी देश में भटकने वालों के प्रति सचेत रहा है।
127 हे मेरे भाइयो, अब हम देखते हैं, कि जिस देश में वे हों, उस में परमेश्वर सब लोगोंकी सुधि रखता है; वरन वह अपक्की प्रजा को गिनता है, और उसकी दया के पात्र सारी पृय्वी पर हैं।
128 अब मेरा आनन्द और मेरा बड़ा धन्यवाद यह है; हां, और मैं अपने परमेश्वर को सदा के लिए धन्यवाद दूंगा । तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 15

1 अब ऐसा हुआ कि जब उन लमनाइयों ने, जो नफाइयों के विरुद्ध युद्ध करने गए थे, उन्हें नष्ट करने के लिए उनके कई संघर्षों के बाद पाया, कि उनके विनाश की तलाश करना व्यर्थ था, वे फिर से नफी के प्रदेश लौट आए ।
2 और ऐसा हुआ कि अमालेकी अपनी हानि के कारण अत्यधिक क्रोधित हुए ।
3 और जब उन्होंने देखा कि वे नफाइयों से बदला नहीं ले सकते, तो वे अपने भाइयों, अंती-नफी-लेही के लोगों के विरुद्ध लोगों को क्रोध में भड़काने लगे; इसलिए वे फिर से उन्हें नष्ट करने लगे।
4 अब इन लोगों ने फिर हथियार लेने से इनकार किया, और शत्रुओं की इच्छा के अनुसार वे मारे गए।
5 अब जब अम्मोन और उसके भाइयों ने उन लोगों के बीच विनाश के इस कार्य को देखा जिन्हें वे बहुत प्रिय थे, और उनके बीच जो उन्हें बहुत प्रिय थे; क्योंकि उनके साथ ऐसा व्यवहार किया गया मानो वे परमेश्वर की ओर से भेजे गए स्वर्गदूत हैं, कि उन्हें अनन्त विनाश से बचाए;
6 इसलिए जब अम्मोन और उसके भाइयों ने विनाश के इस महान कार्य को देखा, तो वे करुणा से भर गए, और उन्होंने राजा से कहा, आओ, हम यहोवा के इन लोगों को इकट्ठा करें, और जराहेमला के प्रदेश में चलें, भाइयों, नफाइयों, और अपने शत्रुओं के हाथों से भाग जाओ, ताकि हम नष्ट न हों ।
7 परन्तु राजा ने उन से कहा, देखो, नफाई हमें नष्ट कर देंगे, क्योंकि हम ने उनके विरुद्ध बहुत सी हत्याएं और पाप किए हैं ।
8 और अम्मोन ने कहा, मैं जाकर यहोवा से पूछूंगा, और यदि उस ने हम से कहा, अपके भाइयोंके पास जा, तो क्या तुम चले जाओगे?
9 और राजा ने उस से कहा, हां, यदि यहोवा हम से कहे, कि जा, हम अपके भाइयोंके पास जाएंगे, और हम उनके दास बने रहेंगे, जब तक कि हम उन बहुत सी हत्याओं और पापोंकी मरम्मत न कर दें जो हम ने उनके विरुद्ध किए हैं ।
10 परन्तु अम्मोन ने उस से कहा, यह हमारे भाइयोंकी व्यवस्था के विरुद्ध है, जो मेरे पिता के द्वारा ठहराया गया है, कि उनके बीच कोई दास न रहे; इसलिए आओ, हम उतरकर अपने भाइयों की दया पर भरोसा रखें।
11 परन्तु राजा ने उस से कहा, यहोवा से पूछ, और यदि वह हम से कहे, जा, तो हम चलेंगे; नहीं तो हम देश में नाश हो जाएंगे।
12 और ऐसा हुआ कि अम्मोन ने जाकर प्रभु से पूछताछ की, और प्रभु ने उससे कहा, इन लोगों को इस प्रदेश से बाहर निकालो, कि वे नष्ट न हों, क्योंकि अमालेकियों के दिलों पर शैतान की पकड़ मजबूत है, जो हलचल करते हैं लमनाइयों को उनके भाइयों पर क्रोध करने के लिए, उन्हें मारने के लिए; इसलिथे तुझे इस देश से निकाल ले; और इस पीढ़ी के लोग धन्य हैं; क्योंकि मैं उनकी रक्षा करूंगा।
13 और अब ऐसा हुआ कि अम्मोन ने जाकर राजा को वे सारी बातें बताईं जो प्रभु ने उससे कही थीं ।
14 और उन्होंने अपक्की सारी प्रजा को इकट्ठा किया; हां, प्रभु के सभी लोगों ने, और अपने सभी भेड़-बकरियों और गाय-बैलों को इकट्ठा किया, और प्रदेश से बाहर चले गए, और निर्जन प्रदेश में आए, जिसने नफी के प्रदेश को जराहेमला प्रदेश से विभाजित किया, और सीमा के निकट पहुंचे भूमि।
15 और ऐसा हुआ कि अम्मोन ने उनसे कहा, देखो, मैं और मेरे भाई जराहेमला प्रदेश में जाएंगे, और जब तक हम वापस नहीं आएंगे तब तक तुम यहीं रहेंगे; और हम अपके भाइयोंके मन को परखेंगे, कि क्या वे चाहते हैं कि तुम उनके देश में आओ।
16 और ऐसा हुआ कि जब अम्मोन प्रदेश में जा रहा था, कि वह और उसके भाई अलमा से मिले, जिसके बारे में कहा गया है; और देखो, यह एक आनंदमय बैठक थी।
17 अब अम्मोन का आनन्द इतना अधिक था, कि वह भर गया था, हां, वह अपने परमेश्वर के आनन्द में डूबा हुआ था, यहां तक कि उसका बल भी समाप्त हो गया था; और वह फिर भूमि पर गिर पड़ा।
18 अब क्या यह अत्याधिक आनन्द नहीं था? निहारना, यह वह आनंद है जो किसी को नहीं मिलता है सिवाय इसके कि वह वास्तव में प्रसन्नता का तपस्वी और विनम्र साधक हो।
19 अब अलमा का अपने भाइयों से मिलने का आनंद वास्तव में महान था, और हारून, ओम्नेर और हिम्नी का भी आनंद था: लेकिन देखो, उनका आनंद इतना नहीं था कि उनकी ताकत बढ़ गई ।
20 और अब ऐसा हुआ कि अलमा अपने भाइयों को जराहेमला प्रदेश में वापस ले गया; यहां तक कि अपने ही घर तक।
21 और उन्होंने जाकर मुख्य न्यायाधीश को वे सारी बातें बताईं जो नफी के प्रदेश में उनके भाइयों, लमनाइयों के बीच उनके साथ हुई थीं ।
22 और ऐसा हुआ कि मुख्य न्यायाधीश ने पूरे प्रदेश में एक उद्घोषणा भेजी, जिसमें लोगों ने अपने भाइयों को स्वीकार करने के बारे में लोगों की आवाज सुनी, जो कि अंती-नफी-लेही के लोग थे ।
23 और ऐसा हुआ कि लोगों की आवाज आई, यह कहते हुए: देखो, हम जेर्शोन के प्रदेश को छोड़ देंगे, जो कि पूर्व में समुद्र के किनारे है, जो देश के दक्षिण में समृद्ध प्रदेश से जुड़ता है भरपूर; और यह देश जेर्शोन वह देश है जिसे हम अपके भाइयोंको निज भाग करके देंगे।
24 और देखो, हम अपनी सेना को जेरशोन प्रदेश और नफी प्रदेश के बीच स्थापित करेंगे, ताकि हम जेरशान प्रदेश में अपने भाइयों की रक्षा कर सकें;
25 और हम अपके भाइयोंके लिथे ऐसा करते हैं, कि वे अपके भाइयोंके विरुद्ध हथियार उठा लें, कहीं ऐसा न हो कि वे पाप करें; और उनका यह बड़ा भय उनके बहुत से घातोंके कारण, उनके घोर मन फिराव के कारण हुआ, , और उनकी भयानक दुष्टता।
26 और अब देखो, हम अपने भाइयों से ऐसा करेंगे, कि वे जेर्शोन प्रदेश के अधिकारी हो जाएं; और हम अपक्की सेना समेत उनके शत्रुओं से उनकी रक्षा करेंगे, और इस शर्त पर कि वे अपनी सहायता के लिथे अपके धन का एक भाग हमें देंगे, कि हम अपक्की सेना की रक्षा करें।
27 अब ऐसा हुआ कि जब अम्मोन ने यह सुना, तो वह अंती-नफी-लेही के लोगों के पास लौट आया, और अलमा भी उसके साथ निर्जन प्रदेश में लौट गया, जहां उन्होंने अपने तंबू लगाए थे, और उन्हें इन सभी बातों से अवगत कराया था .
28 और अलमा ने उन्हें अम्मोन, और हारून और उसके भाइयों के साथ अपने परिवर्तन के बारे में भी बताया । और ऐसा हुआ कि इससे उनके बीच बहुत खुशी हुई ।
29 और वे जेर्शोन देश में उतर गए, और जेर्शोन देश को अपने अधिकार में कर लिया; और वे अम्मोन के लोग नफाइयों द्वारा बुलाए गए थे;
30 इस कारण वे उस नाम से सदा प्रतिष्ठित हुए; और वे नफी के लोगों में थे, और उन लोगों में भी गिने जाते थे जो परमेश्वर के गिरजे के थे ।
31 और वे परमेश्वर के प्रति, और मनुष्योंके प्रति अपने उत्साह के कारण प्रतिष्ठित भी हुए; क्‍योंकि वे सब बातों में सिद्ध और खरे थे; और वे अन्त तक मसीह के विश्वास में दृढ़ रहे।
32 और उन्होंने अपने भाइयों का लहू बहाए जाने पर बड़ी घृणा की दृष्टि डाली; और वे अपने भाइयों के विरुद्ध शस्त्र उठाने पर कभी प्रबल न हुए।
33 और उन्होंने अपनी आशा और मसीह और पुनरुत्थान के दृष्टिकोण के लिए मृत्यु को कभी भी किसी भी हद तक आतंक की दृष्टि से नहीं देखा; इसलिथे उस पर मसीह की जय के द्वारा मृत्यु उन को निगल गई;
34 इसलिथे जब वे तलवार वा कुल्हाड़ी लेकर उन्हें मारते, तब तक वे उस से भी अधिक भयानक और कष्टदायक रीति से मरते, जो उनके भाइयोंके द्वारा दी जा सकती थी।
35 और इस प्रकार वे जोशीले और प्रिय लोग थे, प्रभु के अत्यधिक प्रिय लोग थे ।
36 और अब ऐसा हुआ कि अम्मोन के लोगों के जेरशान प्रदेश में स्थापित होने के बाद, और जेरशान प्रदेश में एक गिरजाघर भी स्थापित हो गया; और नफाइयों की सेना यरशोन प्रदेश के चारों ओर लगाई गई; हां, जराहेमला प्रदेश के चारों ओर की सभी सीमाओं में; देखो लमनाइयों की सेना उनके भाइयों के पीछे-पीछे निर्जन प्रदेश में चली गई थी ।
37 और इस प्रकार एक भयंकर युद्ध हुआ; हां, लेही के यरूशलेम छोड़ने के समय से लेकर अब तक प्रदेश के सभी लोगों में एक ऐसा व्यक्ति नहीं जाना गया था; हां, और हजारों लमनाई मारे गए और विदेशों में बिखरे हुए थे ।
38 हां, और नफी के लोगों में भीषण वध हुआ था; फिर भी, लमनाइयों को खदेड़ दिया गया और तितर-बितर कर दिया गया, और नफी के लोग फिर से अपने प्रदेश लौट आए ।
39 और अब यह एक समय था जब पूरे प्रदेश में नफी के सभी लोगों के बीच एक महान शोक और विलाप सुनाई दिया था;
40 वरन अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके पुत्रोंके लिथे विलाप करनेवाली अपक्की विधवाओं का, और अपके अपके पुत्रोंके लिथे पितरोंका विलाप, और बेटी भाई के लिथे विलाप; हाँ, पिता के लिए भाई:
41 और उन में से हर एक के बीच विलाप की दोहाई सुनाई दी: अपके अपके अपके घात किए हुए के लिथे विलाप।
42 और अब निश्चय ही यह एक शोक का दिन था; हां, गंभीरता का समय और बहुत उपवास और प्रार्थना का समय: और इस प्रकार नफी के लोगों के न्यायियों के शासन के पंद्रहवें वर्ष का अंत हुआ;
43 और यह अम्मोन और उसके भाइयों का, नफी प्रदेश में उनकी यात्रा, प्रदेश में उनके कष्ट, उनके दुखों, उनके कष्टों, और उनके अतुलनीय आनंद, और के प्रदेश में भाइयों के स्वागत और सुरक्षा का विवरण है जेरशोन।
44 और अब यहोवा, जो सब मनुष्योंका छुड़ानेवाला है, उनके प्राणोंको सदा आशीष दे।
45 और यह नफाइयों के बीच युद्धों और झगड़ों का, और नफाइयों और लमनाइयों के बीच हुए युद्धों का विवरण है; और न्यायियों के राज्य का पन्द्रहवाँ वर्ष पूरा हुआ।
46 और पहिले वर्ष से पन्द्रहवें वर्ष तक, बहुत हजार लोगों का नाश हुआ है; हाँ, इसने रक्तपात का एक भयानक दृश्य प्रस्तुत किया है;
47 और हजारों की लोथें पृय्वी पर पड़ी पड़ी हैं, और हजारों की लोथें पृय्वी पर ढेरोंमें ढल रही हैं;
48 हां, और हजारों लोग अपने रिश्तेदारों के खोने का शोक मना रहे हैं, क्योंकि उनके पास प्रभु की प्रतिज्ञा के अनुसार डरने का कारण है, कि उन्हें अंतहीन शोक की स्थिति में भेज दिया गया है;
49 जबकि हजारों अन्य लोग वास्तव में अपने रिश्तेदारों के खोने के लिए शोक मनाते हैं, तौभी वे आनन्दित होते हैं और आशा में घमण्ड करते हैं, हां, और यहां तक कि प्रभु की प्रतिज्ञाओं के अनुसार जानते भी हैं, कि वे परमेश्वर के दाहिने हाथ रहने के लिए जी उठे हैं , कभी न खत्म होने वाली खुशी की स्थिति में;
50 और इस प्रकार हम देखते हैं कि पाप और अपराध, और शैतान की शक्ति के कारण मनुष्य की असमानता कितनी बड़ी है, जो उस धूर्त युक्‍तियों से आती है जिसे उसने मनुष्यों के हृदयों को फँसाने के लिए गढ़ा है:
51 और इस प्रकार हम यहोवा की दाख की बारियों में परिश्रम करने के लिए मनुष्यों की बड़ी पुकार को देखते हैं; और इस प्रकार हम शोक का, और आनन्द का भी बड़ा कारण देखते हैं; मृत्यु के कारण दुःख और मनुष्यों में विनाश, और जीवन के लिए मसीह के प्रकाश के कारण आनन्द।
52 भला होता कि मैं एक स्वर्गदूत होता, और अपने मन की इच्छा पूरी करता, कि मैं निकलकर परमेश्वर की तुरही से बातें करता, और पृय्वी को कांपने का शब्द सुनाता, और सब लोगों से मन फिराव की दुहाई देता;
53 हां, मैं गर्जन, पश्चाताप, और छुटकारे की योजना के रूप में हर एक जीव से घोषणा करूंगा, कि वे पश्चाताप करें और हमारे परमेश्वर के पास आएं, ताकि पूरी पृथ्वी पर फिर कोई शोक न हो ।
54 परन्तु देखो, मैं तो मनुष्य हूं, और अपक्की इच्छा से पाप करता हूं; क्योंकि जो कुछ यहोवा ने मुझे दिया है उसी से मुझे सन्तुष्ट होना चाहिए।
55 मैं अपक्की अभिलाषाओं में, अर्थात धर्मी परमेश्वर की पक्की आज्ञा में बाधा न डालूं, क्योंकि मैं जानता हूं, कि वह मनुष्योंको उनकी इच्छा के अनुसार देता है, चाहे वह मृत्यु का हो या जीवन का; हां, मैं जानता हूं कि वह मनुष्यों को देता है, हां, उन्हें ऐसी विधियां देता है जो उनकी इच्छा के अनुसार अपरिवर्तनीय हैं; चाहे वे उद्धार के लिए हों या विनाश के लिए;
56 हां, और मैं जानता हूं कि भले बुरे सब मनुष्यों के साम्हने आए हैं; वा जो बुराई में से भलाई को नहीं जानता, वह निर्दोष है; परन्तु जो भले बुरे का ज्ञान रखता है, उसे उसकी अभिलाषाओं के अनुसार दिया जाता है; चाहे वह अच्छाई या बुराई, जीवन या मृत्यु, आनंद या विवेक का पश्चाताप चाहता हो।
57 अब जब कि मैं इन बातों को जानता हूं, तो जिस काम के लिए मुझे बुलाया गया है, उसे करने से बढ़कर मैं क्यों चाहूं?
58 मैं क्यों चाहूं कि मैं एक स्वर्गदूत हूं, कि मैं पृथ्वी के छोर तक बातें कर सकूं?
59 क्योंकि देखो, प्रभु सब जातियों को, उनकी अपनी जाति और भाषा के, को अपके वचन की शिक्षा देने की छूट देता है; हां, बुद्धि में, वह सब जो उसे उचित लगता है, जो उनके पास होना चाहिए; इसलिथे हम देखते हैं, कि यहोवा बुद्धि से युक्‍ति करता है, उसके अनुसार धर्मी और सच्‍चाई करता है।
60 जो आज्ञा यहोवा ने मुझे दी है वह मैं जानता हूं, और मैं उस पर घमण्ड करता हूं: मैं अपक्की महिमा नहीं करता, परन्तु जिस की आज्ञा यहोवा ने मुझे दी उस पर मैं घमण्ड करता हूं;
61 हां, और यह मेरी महिमा है, कि शायद मैं परमेश्वर के हाथों में एक साधन हो सकता हूं, किसी आत्मा को पश्चाताप के लिए लाने के लिए; और यह मेरी खुशी है।
62 और देखो, जब मैं अपके बहुत से भाइयोंको सचमुच पछताता और अपके परमेश्वर यहोवा के पास आते देखता हूं, तब मेरा मन आनन्द से भर जाता है; तब क्या मुझे स्मरण है कि यहोवा ने मेरे लिये क्या किया है; हां, यहां तक कि उसने मेरी प्रार्थना सुन ली है; हां, तो क्या मुझे उसकी दयालु भुजा याद है जिसे उसने मेरी ओर बढ़ाया था;
63 हां, और मुझे अपने पुरखाओं की बंधुआई का भी स्मरण है; क्योंकि मैं निश्चय जानता हूं, कि यहोवा ने उन्हें दासता से छुड़ाया, और इसी के द्वारा अपनी कलीसिया को स्थिर किया; हां, प्रभु परमेश्वर, इब्राहीम के परमेश्वर, इसहाक के परमेश्वर, और याकूब के परमेश्वर ने उन्हें दासता से छुड़ाया;
64 वरन मैं ने अपके पुरखाओं की बन्धुआई को सदा स्मरण रखा है; और उसी परमेश्वर ने उन्हें मिस्रियोंके हाथ से छुड़ाया, और उन्हें दासता से छुड़ाया; हां, और उसी परमेश्वर ने उनके बीच अपना गिरजा स्थापित किया;
65 हां, और उसी परमेश्वर ने मुझे पवित्र बुलाहट के द्वारा इन लोगों को वचन का प्रचार करने के लिए बुलाया है, और मुझे बहुत सफलता दी है, जिसमें मेरा आनंद भरा हुआ है; लेकिन मैं अकेले अपनी सफलता में आनंदित नहीं हूं, लेकिन मेरा आनंद मेरे भाइयों की सफलता के कारण अधिक है, जो नफी के प्रदेश में गए हैं ।
66 देखो, उन्होंने बहुत परिश्रम किया है, और बहुत फल लाए हैं; और उनका प्रतिफल कितना बड़ा होगा।
67 अब जब मैं अपने इन भाइयों की सफलता के बारे में सोचता हूं, तो मेरी आत्मा को देह से अलग कर दिया जाता है, यहां तक कि जैसे यह थे, मेरा आनंद इतना महान है।
68 और अब परमेश्वर मेरे इन भाइयोंको ऐसा अनुदान दे, कि वे परमेश्वर के राज्य में बैठ जाएं; हां, और उन सभी को भी जो उनके परिश्रम का फल प्राप्त करते हैं, कि वे फिर बाहर न जाएं, परन्तु उनकी स्तुति सदा के लिए करें ।
69 और परमेश्वर ऐसा करे, कि जैसा मैं ने कहा है, वैसा ही मेरे वचनोंके अनुसार हो। तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 16

1 देखो, अब ऐसा हुआ कि अम्मोन के लोगों के जेरशान प्रदेश में स्थापित होने के बाद, हां, और लमनाइयों के प्रदेश से बाहर निकालने के बाद, और उनके मृतकों को प्रदेश के लोगों द्वारा दफनाया गया;
2 अब उनकी बड़ी संख्या के कारण उनके मृतकों की गिनती नहीं की गई, न ही नफाइयों के मृतकों की गणना की गई;
3 लेकिन ऐसा हुआ कि जब उन्होंने अपने मृतकों को दफना दिया, और उपवास, शोक, और प्रार्थना के दिनों के बाद भी, (और यह नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के सोलहवें वर्ष में था), वहां शुरू हुआ पूरे प्रदेश में लगातार शांति बनी रहे, हां, और लोगों ने प्रभु की आज्ञाओं का पालन करने का पालन किया;
4 और वे मूसा की व्यवस्था के अनुसार परमेश्वर के नियमोंका पालन करने में कठोर थे; क्योंकि उन्हें मूसा की व्यवस्था को तब तक मानना सिखाया गया, जब तक वह पूरी न हो जाए;
5 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के पूरे सोलहवें वर्ष में लोगों को कोई परेशानी नहीं हुई ।
6 और ऐसा हुआ कि न्यायियों के राज्य के सत्रहवें वर्ष में लगातार शांति बनी रही ।
7 परन्तु ऐसा हुआ कि सत्रहवें वर्ष के अन्त में जराहेमला प्रदेश में एक व्यक्ति आया; और वह मसीह का विरोधी था, क्योंकि वह लोगों को उन भविष्यद्वाणियों के विरुद्ध प्रचार करने लगा, जो भविष्यद्वक्ताओं ने मसीह के आने के विषय में कही थीं।
8 अब मनुष्य के विश्वास के विरुद्ध कोई व्यवस्था नहीं थी; क्योंकि यह परमेश्वर की आज्ञा के बिलकुल विपरीत था, कि एक ऐसी व्यवस्था हो जो मनुष्यों को असमान आधार पर ले आए।
9 क्‍योंकि पवित्र शास्‍त्र यों कहता है, आज चुन लो कि तुम किसकी उपासना करोगे।
10 अब यदि कोई परमेश्वर की सेवा करना चाहता है, तो यह उसका विशेषाधिकार था, या यों कहें कि यदि वह परमेश्वर में विश्वास करता था, तो उसकी सेवा करना उसका सौभाग्य था; परन्तु यदि उस ने उस पर विश्वास नहीं किया, तो उसे दण्ड देने की कोई व्यवस्था न थी।
11 परन्‍तु यदि उस ने घात किया, तो उसे प्राणदंड दिया गया; और यदि उसने लूटा, तो उसे दण्ड भी दिया गया; और यदि वह चुराता है, तो उसे दण्ड भी दिया जाता है; और यदि उसने व्यभिचार किया, तो उसे दण्ड भी दिया गया; हां, इस सारी दुष्टता के लिए, उन्हें दंडित किया गया था; क्‍योंकि एक व्‍यवस्‍था थी कि मनुष्‍यों का न्‍याय उनके अपराधों के अनुसार किया जाए।
12 तौभी मनुष्‍य के विश्‍वास के विरूद्ध कोई व्‍यवस्‍था नहीं थी; इसलिए, एक आदमी को केवल उन अपराधों के लिए दंडित किया गया था जो उसने किए थे; इसलिए सभी पुरुष समान आधार पर थे।
13 और यह मसीह-विरोधी, जिसका नाम कोरिहोर था (और व्यवस्था का उस पर अधिकार न हो सका) लोगों को यह प्रचार करने लगा, कि कोई मसीह नहीं होना चाहिए।
14 और इस रीति के बाद उस ने यह प्रचार किया, कि हे मूर्खों और व्यर्थ आशा के बन्धन में फंसे हुए लोगों, तुम ऐसी मूर्खता क्यों करते हो? तुम एक मसीह की तलाश क्यों करते हो? क्योंकि कोई भी मनुष्य कुछ भी नहीं जान सकता जो आने वाला है।
15 देखो, ये बातें जिन्हें तुम भविष्यद्वाणियां कहते हो, जिन्हें पवित्र भविष्यद्वक्ताओं ने सुनाया है, देखो, वे तुम्हारे पुरखाओं की मूढ़ रीतियां हैं। आप उनकी जमानत के बारे में कैसे जानते हैं?
16 देखो, तुम उन बातों को नहीं जान सकते जो तुम नहीं देखते; इसलिए तुम नहीं जान सकते कि एक मसीह होगा ।
17 तुम बाट जोहते हुए कहते हो, कि तुम अपके पापों की क्षमा देखते हो। लेकिन देखो, यह एक उन्मादी मन का प्रभाव है: और तुम्हारे मन की यह विकृति तुम्हारे पूर्वजों की परंपरा के कारण आती है, जो तुम्हें उन चीजों के विश्वास में ले जाती है जो ऐसी नहीं हैं।
18 और ऐसी और भी बहुत सी बातें उस ने उन से कह कर कहा, कि मनुष्योंके पापोंके लिथे प्रायश्चित्त न हो सकता, वरन हर एक मनुष्य सृष्टि के प्रबन्ध के अनुसार इस जीवन में अपना काम करता रहा; इस कारण हर एक मनुष्य अपनी बुद्धि के अनुसार उन्नति करता गया, और हर एक अपने बल के अनुसार जय पाता; और जो कुछ भी एक आदमी ने किया, वह कोई अपराध नहीं था।
19 और इस प्रकार उसने उन्हें प्रचार किया, बहुतों के हृदयों को बहकाया, जिससे उनकी दुष्टता में उनका सिर ऊंचा हुआ; हां, बहुत सी स्त्रियों और पुरुषों को भी व्यभिचार करने के लिए ले जाना; उन्हें बता रहा था कि जब एक आदमी मर गया, तो उसका अंत हो गया।
20 अब यह व्यक्ति अम्मोन के लोगों, जो कभी लमनाइयों के लोग थे, के बीच इन बातों का प्रचार करने के लिए जेरशान प्रदेश में भी गया ।
21 लेकिन देखो, वे बहुत से नफाइयों से अधिक बुद्धिमान थे; क्योंकि उन्होंने उसे पकड़कर बान्धा, और अम्मोन के साम्हने ले गए, जो उस प्रजा का महायाजक या।
22 और ऐसा हुआ कि उसने उसे प्रदेश से निकाल दिया ।
23 और वह गिदोन के देश में आया, और उनको भी प्रचार करने लगा; और यहां उसे अधिक सफलता नहीं मिली, क्योंकि उसे ले जाकर बांध दिया गया, और महायाजक और देश के मुख्य न्यायी के सामने ले जाया गया।
24 और ऐसा हुआ कि महायाजक ने उससे कहा, तुम प्रभु के मार्गों को क्यों बिगाड़ रहे हो ?
25 तुम इन लोगों को क्यों यह शिक्षा देते हो कि कोई मसीह नहीं होगा, जो उनके आनन्द को बाधित करे?
26 तुम पवित्र भविष्यद्वक्ताओं की सब भविष्यद्वाणियों के विरुद्ध क्यों बोलते हो?
27 महायाजक का नाम गिदोना था।
28 और कोरिहोर ने उस से कहा, मैं तेरे पुरखाओं की मूढ़ रीतियोंकी शिक्षा नहीं देता, और इस कारण कि मैं इन लोगोंको उन मूढ़ विधियोंऔर कामोंके अधीन रहना नहीं सिखाता, जो प्राचीन याजकोंने शक्ति और अधिकार को हड़पने के लिए ठहराए थे। उनके ऊपर, कि वे अज्ञानता में रहें, कि वे अपना सिर न उठाएं, परन्तु तेरे वचनों के अनुसार नीचे गिराए जाएं।
29 तुम कहते हो कि यह लोग स्वतंत्र लोग हैं। देखो, मैं कहता हूं कि वे बंधन में हैं।
30 तुम कहते हो कि वे प्राचीन भविष्यवाणियां सच हैं। देखो, मैं कहता हूं कि तुम नहीं जानते कि वे सत्य हैं ।
31 तुम कहते हो कि माता पिता के अपराध के कारण यह प्रजा दोषी और पतित है। देखो, मैं कहता हूं कि एक बच्चा अपने माता-पिता के कारण दोषी नहीं है।
32 और तुम यह भी कहते हो कि मसीह आएगा । लेकिन देखो, मैं कहता हूं कि तुम नहीं जानते कि एक मसीह होगा ।
33 और तुम यह भी कहते हो, कि वह जगत के पापोंके लिथे घात किया जाएगा; और इस प्रकार तुम इन लोगों को अपके पुरखाओं की मूढ़ रीति से, और अपक्की अभिलाषाओं के अनुसार भगा देते हो;
34 और तुम उन्हें वैसे ही बन्धन में दबाते रहना, कि तुम उनके हाथों के परिश्रम से अपने आप को भर जाओ, कि वे हियाव से देखने का साहस न करें, और वे अपने अधिकारों और विशेषाधिकारों का आनंद लेने का साहस न करें;
35 हां, वे अपना उपयोग करने का साहस नहीं करते हैं, ऐसा न हो कि वे अपने याजकों को नाराज करें, जो उन्हें उनकी इच्छाओं के अनुसार जुए में डालते हैं, और उन्हें उनकी परंपराओं, उनके सपनों, और उनकी सनक के अनुसार विश्वास करने के लिए लाए हैं, और उनके दर्शन, और उनके ढोंग किए हुए रहस्य, कि यदि वे अपने वचनों के अनुसार न करें, तो किसी अज्ञात प्राणी को ठेस पहुंचाएं, जिसे वे परमेश्वर कहते हैं; एक ऐसा प्राणी जिसे न कभी देखा गया है और न ही जाना जाता है, जो न कभी था और न ही कभी होगा।
36 जब महायाजक और प्रधान न्यायी ने उसके मन की कठोरता को देखा; हां, जब उन्होंने देखा कि वह परमेश्वर की निन्दा करेगा, तो उन्होंने उसकी बातों का कोई उत्तर न दिया;
37 परन्‍तु उन्‍होंने उसे बान्धा; और उन्होंने उसे हाकिमों के हाथ में कर दिया, और उसे जराहेमला प्रदेश भेज दिया, ताकि उसे अलमा और मुख्य न्यायी के सामने लाया जा सके, जो पूरे प्रदेश का राज्यपाल था ।
38 और ऐसा हुआ कि जब उसे अलमा और मुख्य न्यायी के सामने लाया गया, तो वह उसी तरह आगे बढ़ा जैसे उसने गिदोन प्रदेश में किया था; हाँ, वह ईशनिंदा करता रहा।
39 और वह अलमा के सामने बड़े भड़काऊ शब्दों में उठ खड़ा हुआ, और याजकों और शिक्षकों की निन्दा की, यह आरोप लगाते हुए कि लोगों को उनके पूर्वजों की मूर्खतापूर्ण परंपराओं के अनुसार, लोगों के परिश्रम में पेटूपन के कारण, लोगों को भगा दिया ।
40 अब अलमा ने उससे कहा, तुम जानते हो कि हम अपने आप को इन लोगों के परिश्रम से नहीं भरते हैं; क्योंकि देखो, मैं न्यायियों के राज्य के आरम्भ से लेकर अब तक अपने ही हाथों से परिश्रम करता आया हूं, अपने लोगों को परमेश्वर का वचन सुनाने के लिए, देश के चारों ओर मेरी कई यात्राओं के बावजूद, अपने समर्थन के लिए ।
41 और जितने परिश्रम मैं ने कलीसिया में किए हैं, तौभी मुझे अपने परिश्र्म के बदले में कभी एक भी सेनिन नहीं मिला; न्याय आसन के सिवा मेरा कोई भाई न रहा; और तब हमें केवल व्यवस्था के अनुसार, अपने समय के लिथे मिला है।
42 और अब यदि हमें कलीसिया में अपने परिश्रम के बदले कुछ भी नहीं मिलता है, तो हमें कलीसिया में परिश्रम करने से क्या लाभ, केवल सत्य की घोषणा करने से, कि हम अपने भाइयों के आनन्द में आनन्दित हों?
43 फिर तू क्यों कहता है, कि हम लाभ पाने के लिथे इन लोगोंको प्रचार करते हैं, जब कि तू आप ही से जानता है, कि हमें कुछ लाभ नहीं होता?
44 और अब, क्या तुम विश्वास करते हो, कि हम इन लोगों को धोखा देते हैं, जो उनके मन में ऐसा आनन्द लाते हैं?
45 और कोरिहोर ने उसे उत्तर दिया, हां।
46 और फिर अलमा ने उससे कहा, क्या तुम विश्वास करते हो कि परमेश्वर है ? और उसने उत्तर दिया, नहीं।
47 अब अलमा ने उससे कहा, क्या तुम फिर से इनकार करोगे कि परमेश्वर है, और मसीह का भी इन्कार करोगे ? क्योंकि देखो, मैं तुम से कहता हूं, मैं जानता हूं कि परमेश्वर है, और यह भी कि मसीह आएगा।
48 और अब, तुम्हारे पास क्या प्रमाण है कि कोई परमेश्वर नहीं है, या कि मसीह नहीं आता है? मैं तुम से कहता हूं, कि तुम्हारे पास कोई नहीं है, केवल तुम्हारा वचन ही रह।
49 परन्तु देखो, मेरे पास सब कुछ इस बात की गवाही है कि ये बातें सच हैं; और तुम्हारे पास सब कुछ इस बात की गवाही है कि वे सत्य हैं; और क्या तुम उनका इन्कार करोगे?
50 क्या तू विश्वास करता है, कि ये बातें सच हैं?
51 देख, मैं जानता हूं, कि तू विश्वास करता है, परन्तु तू में झूठ बोलने वाली आत्मा है, और तू ने परमेश्वर के आत्मा को दूर किया है, कि उसका तुझ में कोई स्थान न हो; परन्तु शैतान का तो तुम पर अधिकार है, और वह तुम को ऐसी युक्ति करता है, कि वह परमेश्वर की सन्तानों को नाश करे।
52 और अब कोरिहोर ने अलमा से कहा, यदि तुम मुझे कोई चिन्ह दिखाओ, जिससे मुझे विश्वास हो कि परमेश्वर है, हां, मुझे दिखाओ कि उसके पास सामर्थ है, और तब मैं तुम्हारे वचनों की सच्चाई पर विश्वास करूंगा ।
53 परन्तु अलमा ने उस से कहा, तेरे पास बहुत चिन्ह हैं; क्या तुम अपने परमेश्वर की परीक्षा लेंगे? क्या तुम कहोगे, जब इन सब भाइयोंऔर सब पवित्र भविष्यद्वक्ताओं की गवाही तुम्हारे पास हो, तब मुझे कोई चिन्ह दिखाओ?
54 पवित्रशास्त्र तेरे साम्हने रखे गए हैं, हां, और सब बातें संकेत करती हैं कि एक परमेश्वर है; हां, यहां तक कि पृथ्वी, और जो कुछ उस पर है, हां, और उसकी गति;
55 हां, और सभी ग्रह भी जो अपने नियमित रूप में चलते हैं, इस बात की गवाही देते हैं कि एक सर्वोच्च सृष्टिकर्ता है: और फिर भी क्या आप इन लोगों के दिलों को बहलाते हुए, उनकी गवाही देते हुए जाते हैं कि कोई परमेश्वर नहीं है? और तौभी क्या तुम इन सब गवाहोंके साम्हने इन्कार करोगे?
56 उस ने कहा, हां, मैं इन्कार करूंगा, जब तक कि तुम मुझे कोई चिन्ह न दिखाओ।
57 और अब ऐसा हुआ कि अलमा ने उससे कहा, देखो, मैं तुम्हारे हृदय की कठोरता के कारण दुखी हूं; हां, कि तुम अब भी सत्य की आत्मा का विरोध करोगे, ताकि तुम्हारा प्राण नष्ट हो जाए ।
58 परन्तु देखो, तेरा प्राण नष्ट हो जाना अच्छा है, और तू अपने झूठ, और अपनी चापलूसी की बातों से बहुतों को नाश करने का साधन बने;
59 इसलिथे यदि तू फिर इन्कार करे, तो देख, परमेश्वर तुझे ऐसा मारेगा, कि तू गूंगा हो जाएगा, और अपना मुंह फिर कभी न खोलने पाएगा, और तू इन लोगोंको फिर धोखा न खाने पाएगा।
60 कोरिहोर ने उस से कहा, मैं परमेश्वर के अस्तित्व को नहीं मानता, परन्तु परमेश्वर के अस्तित्व को नहीं मानता; और मैं यह भी कहता हूं, कि तुम नहीं जानते कि परमेश्वर है; और जब तक तुम मुझे कोई चिन्ह न दिखाओ, मैं विश्वास न करूंगा।
61 अब अलमा ने उस से कहा, मैं तुझे यह एक चिन्ह देकर दूंगा, कि तू मेरी बातोंके अनुसार गूंगा ठहरेगा; और मैं कहता हूं, कि परमेश्वर के नाम से तुम गूंगे ठहरोगे, और फिर बोलने न पाओगे।
62 अब जब अलमा ने इन शब्दों को कहा था, कोरिहोर गूंगा हो गया था, कि वह अलमा के शब्दों के अनुसार बात नहीं कर सका ।
63 और अब जब प्रधान न्यायाधीश ने यह देखा, तो उसने अपना हाथ बढ़ाकर कोरिहोर को लिखा, कि क्या तू परमेश्वर की शक्ति से आश्वस्त है?
64 तुम किसमें चाहते थे कि अलमा अपना चिन्ह दिखाए ? क्या तुम चाहते हो कि वह दूसरों को दु:ख दे, कि तुम्हें कोई चिन्ह दिखाए?
65 देखो, उस ने तुम्हें एक चिन्ह दिखाया है; और अब क्या तुम और विवाद करेंगे?
66 और कोरिहोर ने हाथ बढ़ाकर लिखा, कि मैं जानता हूं, कि मैं गूंगा हूं, क्योंकि मैं बोल नहीं सकता; और मैं जानता हूं, कि परमेश्वर की सामर्थ के सिवा और कोई वस्तु मुझ पर यह नहीं ला सकती; हाँ, और मैं यह भी जानता था कि एक परमेश्वर है।
67 परन्तु देखो, शैतान ने मुझे धोखा दिया है; क्योंकि उस ने मुझे एक स्वर्गदूत के रूप में दर्शन दिया, और मुझ से कहा, जा, और इन लोगों को पुनः प्राप्त कर, क्योंकि वे सब अज्ञात परमेश्वर के पीछे भटक गए हैं।
68 उस ने मुझ से कहा, कोई परमेश्वर नहीं; हाँ, और उसने मुझे वह सिखाया जो मुझे कहना चाहिए। और मैं ने उसकी बातें सिखाई हैं; और मैं ने उन्हें सिखाया, क्योंकि वे शारीरिक मन को भाते थे;
69 और जब तक मुझे बहुत सफलता न मिली, तब तक मैं ने उन्हें सिखाया, यहां तक कि मैं ने सच में विश्वास किया कि वे सच्चे हैं; और इस कारण से मैं सत्य का साम्हने तब तक बना रहा, जब तक कि मैं ने अपने ऊपर यह बड़ा श्राप न ला दिया।
70 अब जब उसने यह कह दिया, तो उसने बिनती की कि अलमा परमेश्वर से प्रार्थना करे, ताकि उससे शाप लिया जा सके ।
71 परन्तु अलमा ने उससे कहा, यदि यह श्राप तुझ से हटा लिया जाए, तो तू फिर से इन लोगों के हृदयों को दूर कर देगा; इसलिए, जैसा यहोवा चाहता है, वैसा ही तुझ पर होगा।
72 और ऐसा हुआ कि कोरिहोर से श्राप दूर नहीं हुआ; परन्‍तु वह निकाल दिया गया, और अपके भोजन के लिथे बिनती करता घर घर जाता रहा।।
73 अब कोरिहोर का जो कुछ हुआ था, उसका ज्ञान तुरन्त सारे प्रदेश में फैल गया; हां, मुख्य न्यायाधीश द्वारा, प्रदेश के सभी लोगों के लिए, कोरिहोर के शब्दों में विश्वास करने वालों को यह घोषणा करते हुए भेजा गया था कि उन्हें शीघ्र पश्चाताप करना चाहिए, ऐसा न हो कि उनके पास वही न्यायदंड आ जाएं ।
74 और ऐसा हुआ कि वे सभी कोरिहोर की दुष्टता के प्रति आश्वस्त हो गए; इसलिए वे सब फिर से प्रभु में परिवर्तित हो गए; और इस ने कोरिहोर की रीति के अनुसार अधर्म का अन्त किया।
75 और कोरिहोर घर-घर जाता, और अपने सहारे के लिए भोजन की भीख मांगता था।
76 और ऐसा हुआ कि जब वह लोगों के बीच गया, हां, उन लोगों के बीच जो नफाइयों से अलग हो गए थे, और जोराम नाम के एक व्यक्ति के नेतृत्व में खुद को जोरामाई कहते थे; और जब वह उनके बीच में गया, तो क्या देखा, कि वह दौड़ा हुआ, और रौंदा गया, यहां तक कि वह मर गया;
77 और इस प्रकार हम उसका अन्त देखते हैं जो यहोवा के मार्ग को बिगाड़ता है; और इस प्रकार हम देखते हैं कि अंतिम दिन में शैतान अपने बच्चों का समर्थन नहीं करेगा, लेकिन तेजी से उन्हें नरक में ले जाएगा।
78 अब ऐसा हुआ कि कोरिहोर के अंत के बाद, अलमा को यह सूचना मिली कि जोरामाई प्रभु के मार्ग को बिगाड़ रहे हैं, और जोराम, जो उनका नेता था, लोगों के दिलों को गूंगे मूर्तियों के आगे झुकने के लिए प्रेरित कर रहा था। , आदि, लोगों के अधर्म के कारण उसका दिल फिर से बीमार होने लगा;
79 क्योंकि अलमा को अपने लोगों के बीच अधर्म के बारे में जानने के लिए यह बहुत दुख का कारण था: इसलिए नफाइयों से जोरामाइयों के अलग होने के कारण उसका हृदय बहुत दुखी था ।
80 अब जोरामियों ने एक ऐसे प्रदेश में इकट्ठा हुए थे, जिसे उन्होंने अंतोनम कहा था, जो जराहेमला प्रदेश के पूर्व में था, जो समुद्र के किनारे पर स्थित था, जो जेर्शोन प्रदेश के दक्षिण में था, जो कि जंगल की सीमा पर दक्षिण की ओर था, जो जंगल लमनाइयों से भरा हुआ था ।
81 अब नफाइयों को बहुत डर था कि जोरामाई लमनाइयों के साथ पत्र व्यवहार करेंगे, और यह नफाइयों के लिए भारी नुकसान का साधन होगा ।
82 और अब, जैसा कि वचन के प्रचार में लोगों को वह करने के लिए प्रेरित करने की अधिक प्रवृत्ति थी जो उचित था; हां, इसका लोगों के मन पर तलवार, या किसी अन्य चीज से अधिक शक्तिशाली प्रभाव पड़ा था, जो उनके साथ हुआ था; इसलिए अलमा ने सोचा कि यह समीचीन है कि वे परमेश्वर के वचन के गुणों का परीक्षण करें ।
83 इसलिथे उस ने अम्मोन, हारून, और ओम्नेर को ले लिया; और हिम्नी ने जराहेमला की कलीसिया में विदा किया; परन्तु उन तीनों को वह अपके साथ ले गया, और अमूलेक और जीजरोम को भी, जो मेलेक में थे; और उसने अपके दो पुत्रोंको भी ले लिया।
84 और अपके ज्येष्ठ पुत्रोंको उस ने अपके संग न लिया; और उसका नाम हिलामन था; परन्तु जिन्हें वह अपके संग ले गया, उनके नाम शिबलोन और कोरियंटन थे; और जो जोरामियों के बीच में उसके संग वचन का प्रचार करने को उसके संग गए, उनके नाम ये हैं।
85 अब जोरामाई नफाइयों के विरोधी थे; इसलिए उन्होंने उन्हें परमेश्वर का वचन सुनाया था ।
86 परन्तु वे बड़े अधर्म में पड़ गए थे, क्योंकि वे मूसा की व्यवस्था के अनुसार परमेश्वर की आज्ञाओं, और विधियोंका पालन न करते थे;
87 और न तो वे कलीसिया के कामों को देखते, और प्रतिदिन परमेश्वर से प्रार्थना और बिनती करते रहते, कि परीक्षा में न पड़ें; हां, ठीक है, उन्होंने बहुत से मामलों में प्रभु के मार्गों को विकृत किया है; इसलिए, इस कारण से, अलमा और उसके भाई उन्हें वचन का प्रचार करने के लिए प्रदेश में गए ।
88 जब वे देश में आए, तो क्या देखा, कि वे चकित हुए, कि जोरामियोंने आराधनालय बनाए थे, और सप्ताह के एक दिन, जिस दिन उन्होंने यहोवा का दिन कहा, उस दिन वे इकट्ठे हुए;
89 और उन्होंने उस तरीके से पूजा की जिसे अलमा और उसके भाइयों ने कभी नहीं देखा था; क्‍योंकि उनकी आराधनालय के बीच में एक स्‍थान बनवाया या, जो सिर के ऊपर खड़ा हुआ था; और उसका शीर्ष केवल एक व्यक्ति को ही स्वीकार करेगा।
90 सो जो कोई दण्डवत करना चाहे, वह निकलकर उसकी चोटी पर खड़ा हो, और अपके हाथ आकाश की ओर बढ़ाए; और यह कहते हुए ऊंचे शब्द से पुकारो: पवित्र, पवित्र, परमेश्वर; हम विश्वास करते हैं कि तू परमेश्वर है, और हम विश्वास करते हैं कि तू पवित्र है, और तू आत्मा था, और तू आत्मा है, और तू सदा आत्मा रहेगा।
91 हे पवित्र परमेश्वर, हम विश्वास करते हैं कि तू ने हम को हमारे भाइयों से अलग कर दिया है; और हम अपके भाइयोंकी उस रीति पर विश्वास नहीं करते, जो उनके पुरखाओं के बचपन के कारण उन्हें दी गई थी; परन्तु हम विश्वास करते हैं, कि तू ने हमें अपनी पवित्र सन्तान होने के लिये चुन लिया है;
92 और यह भी तू ने हम पर प्रगट किया है, कि कोई मसीह नहीं होगा; परन्तु तू कल, आज और युगानुयुग वही है; और तू ने हम को इसलिये चुना है, कि हम उद्धार पाएं, और हमारे चारों ओर तेरे कोप के कारण नरक में जाने के लिथे चुने गए हैं; जिस पवित्रता के लिए, हे परमेश्वर, हम तेरा धन्यवाद करते हैं;
93 और हम तेरा धन्यवाद भी करते हैं, कि तू ने हमें चुन लिया, कि हम अपने भाइयोंकी उस मूर्ख रीति के पीछे न चले जाएं, जो उन्हें मसीह के उस विश्वास से बांधती है, जो उनके हृदयोंको तुझ से दूर भटकने के लिए प्रेरित करता है। हमारे भगवान।
94 और हे परमेश्वर, हम फिर तेरा धन्यवाद करते हैं, कि हम एक चुने हुए और पवित्र लोग हैं। तथास्तु।
95 अब ऐसा हुआ कि जब अलमा और उसके भाइयों और उसके पुत्रों ने इन प्रार्थनाओं को सुना, तो वे पूरी तरह से चकित रह गए ।
96 क्योंकि देखो, प्रत्येक व्यक्ति ने निकल कर एक ही प्रार्थना की।
97 अब उस स्थान का नाम उनके द्वारा रामूम्प्टोम रखा गया, जिसका अर्थ यह है कि पवित्र स्थान है।
98 अब इस स्थिति से, उन्होंने अपने परमेश्वर का धन्यवाद करते हुए, प्रत्येक मनुष्य, परमेश्वर से एक ही प्रार्थना की, कि वे उसमें से चुने गए, और कि वह उन्हें उनके भाइयों की परंपरा के अनुसार नहीं ले गया; और आनेवाली बातों पर विश्वास करने के लिथे उनका मन चुराया न गया हो, जिसके विषय में वे कुछ न जानते थे।
99 जब सब लोगों ने इस रीति से धन्यवाद किया, तब वे अपके अपके परमेश्वर की चर्चा फिर न किए अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके परमेश्वर के विषय में कहने को अपके अपके अपके अपके अपके घर को लौट गए, और अपके अपके अपके अपके अपके चाल-चलन के अनुसार धन् य करने के लि‍ए पवित्रा स्‍टंड पर इकट्ठे हुए।
100 अब जब अलमा ने यह देखा, तो उसका हृदय दुखी हुआ: क्योंकि उसने देखा कि वे एक दुष्ट और विकृत लोग थे; हां, उसने देखा कि उनका मन सोने, और चांदी, और हर प्रकार की उत्तम वस्तुओं पर लगा हुआ था ।
101 हां, और उसने यह भी देखा कि उनके हृदय अपने अहंकार के कारण बड़े घमण्ड से भर उठे हैं ।
102 और उस ने स्वर्ग की ओर ऊंचे शब्द से पुकार कर कहा, हे यहोवा, तू कब तक सहेगा, कि तेरे दास यहां नीचे मांस में निवास करें, कि मनुष्य सन्तानोंमें ऐसी घोर दुष्टता देखें।
103 देख, हे परमेश्वर, वे तेरी दोहाई देते हैं, तौभी उनका मन घमण्ड में डूबा हुआ है।
104 देखो, हे परमेश्वर, वे अपके मुंह से तेरी दोहाई देते हैं, और वे जगत की व्यर्थ वस्तुओं से फूले हुए हैं, यहां तक कि महानता के लिए भी।
105 देख, हे मेरे परमेश्वर, उनके बहुमूल्य वस्त्र, और उनकी अंगूठियां, और उनके कंगन, और उनके सोने के गहने, और उनके सभी कीमती सामान जो वे अलंकृत हैं;
106 और देखो, उनका मन उन पर लगा हुआ है, तौभी वे तेरी दोहाई देते हुए कहते हैं, हे परमेश्वर, हम तेरा धन्यवाद करते हैं, क्योंकि हम तेरी चुनी हुई प्रजा हैं, और दूसरे नाश हो जाएंगे।
107 हां, और वे कहते हैं कि तू ने उन पर प्रगट किया है, कि कोई मसीह नहीं होगा ।
108 हे परमेश्वर यहोवा, तू कब तक सहता रहेगा, कि ऐसी दुष्टता और अधर्म इस प्रजा के बीच बना रहेगा?
109 हे यहोवा, क्या तू मुझे बल देगा, कि मैं अपक्की दुर्बलताओंको सह सकूं? क्योंकि मैं निर्बल हूं, और इस प्रजा के बीच ऐसी दुष्टता मेरे प्राण को दुख पहुंचाती है।
110 हे यहोवा, मेरा मन बहुत उदास है; क्या तू मेरे प्राण को मसीह में शान्ति देगा?
111 हे यहोवा, क्या तू मुझे यह देता है कि मुझ में बल हो, कि मैं उन क्लेशोंको जो इन लोगोंके अधर्म के कारण मुझ पर पडेंगी, सब्र से सहूं?
112 हे यहोवा, क्या तू मेरे प्राण को शान्ति देगा, और मुझे और मेरे संगी कामगारोंको भी जो मेरे संग हैं, कुशल देगा; हां, अम्मोन, हारून, ओम्नेर, अमूलेक, जीजरोम, और मेरे दोनों बेटे; हां, हे यहोवा, क्या तू इन सब को भी दिलासा देगा? हाँ, क्या आप मसीह में उनके प्राणों को शान्ति देंगे?
113 क्‍या तू उन्‍हें ऐसा बल देता है, कि वे इस प्रजा के अधर्म के कामोंके कारण उन पर पड़नेवाले दु:खोंको सहें?
114 हे प्रभु, क्या तू हमें यह देगा कि हम उन्हें मसीह में फिर तेरे पास लाने में सफल हों?
115 देखो, हे प्रभु, उनकी आत्माएं अनमोल हैं, और उनमें से बहुत से हमारे निकट भाई हैं, इसलिए, हे प्रभु, हमें शक्ति और ज्ञान दो, कि हम अपने भाइयों को फिर से तुम्हारे पास ला सकें।
116 अब ऐसा हुआ, कि जब अलमा ने ये बातें कह लीं, तो उसने उन सभी पर ताली बजाई जो उसके साथ थे ।
117 और देखो, जब उस ने उन से ताली बजाई, तो वे पवित्र आत्मा से भर गए।
118 और इसके बाद, उन्होंने आपस में एक दूसरे को अलग कर लिया; उन्होंने अपने लिए यह नहीं सोचा कि उन्हें क्या खाना चाहिए, क्या पीना चाहिए, या क्या पहनना चाहिए।
119 और यहोवा ने उनके लिये यह प्रबन्ध किया, कि वे न तो भूखे रहें, और न प्यासे; हां, और उसने उन्हें सामर्थ भी दी, कि उन्हें किसी प्रकार का कष्ट न उठाना पड़े, सिवाय इसके कि वह मसीह के आनंद में निगल लिया गया ।
120 अब यह अलमा की प्रार्थना के अनुसार था; और यह इसलिये कि उस ने विश्वास के साथ प्रार्थना की।
121 और ऐसा हुआ कि वे बाहर गए, और लोगों को उनके आराधनालयों में, और अपने घरों में जाकर परमेश्वर के वचन का प्रचार करने लगे; हां, और यहां तक कि उन्होंने अपनी गलियों में भी वचन का प्रचार किया ।
122 और ऐसा हुआ कि उनके बीच काफी परिश्रम के बाद, उन्हें गरीब वर्ग के लोगों के बीच सफलता मिलने लगी; क्‍योंकि देखो, वे अपके वस्त्रोंकी सुन्दरता के कारण आराधनालयोंमें से निकाले गए थे;
123 इसलिथे उन्हें अपके आराधनालय में जाने की आज्ञा न दी गई, कि वे अशुद्ध ठहरे, और परमेश्वर की उपासना करें; इसलिए वे गरीब थे; हां, उनके भाई उन्हें मैल के समान मानते थे; इस कारण वे जगत की वस्तुओं के विषय में कंगाल थे; और वे मन के दीन थे।
124 अब जब अलमा ओनिदा पहाड़ी पर लोगों को उपदेश दे रहा था और लोगों से बात कर रहा था, तो उसके पास एक बड़ी भीड़ आई, जिनके बारे में हम बात कर रहे थे, जो दिल के गरीब थे, क्योंकि उनकी गरीबी के कारण उनकी गरीबी थी। दुनिया।
125 और वे अलमा आए; और जो उन में सबसे आगे था, उस ने उस से कहा, देख, मेरे ये भाई क्या करेंगे, क्योंकि वे सब मनुष्य अपने कंगाल होने के कारण तुच्छ जाने जाते हैं; हां, और विशेष रूप से हमारे याजकों द्वारा;
126 क्‍योंकि उन्‍होंने हमें अपके ही आराधनालयोंमें से, जिन्‍हें हम ने अपके ही हाथोंसे बनाने में बहुत परिश्रम किया है, निकाल दिया है; और उन्हों ने हम को हमारी अत्याधिक कंगाली के कारण निकाल दिया है, और हमारे पास अपके परमेश्वर को दण्डवत् करने का कोई स्थान नहीं; और देखो, हम क्या करें?
127 और अब जब अलमा ने यह सुना, तो उसने उसे तुरंत अपनी ओर घुमाया, और उसने बड़े आनन्द के साथ देखा; क्योंकि उसने देखा, कि उनके क्लेशों ने उन्हें सचमुच नम्र कर दिया है, और वे वचन सुनने की तैयारी में हैं;
128 इसलिथे उस ने और भीड़ से फिर कुछ न कहा, पर हाथ बढ़ाकर उन को पुकारा, जिन्हें उस ने देखा, और जो सचमुच पछताए थे, और उन से कहा, मैं देखता हूं, कि तुम मन के दीन हो; और यदि हां, तो धन्य हो तुम।
129 देख तेरे भाई ने कहा है, हम क्या करें? क्योंकि हम अपके आराधनालय से निकाले गए हैं, कि अपके परमेश्वर को दण्डवत् न कर सकें।
130 देखो, मैं तुम से कहता हूं, क्या तुम समझते हो कि परमेश्वर की उपासना नहीं कर सकते, केवल तुम्हारे आराधनालयोंमें?
131 और इसके अलावा, मैं पूछता हूं, क्या तुम समझते हो कि सप्ताह में केवल एक बार परमेश्वर की उपासना नहीं करनी चाहिए?
132 मैं तुम से कहता हूं, अच्छा ही हुआ, कि तुम अपक्की सभाओं से निकाल दिए जाते हो, कि दीन बने रहो, और बुद्धि सीखो; क्‍योंकि यह आवश्‍यक है कि तुम बुद्धि सीखो;
133 क्‍योंकि तुम निकाल दिए गए हो, और अपके भाइयोंके लिथे तुच्छ जाना जाता है, और अपक्की अति कंगाली के कारण मन की दीनता में डाला जाता है; क्‍योंकि निश्‍चय ही तुम नम्र होने के लिथे लाए गए हो।
134 और अब क्योंकि तुम दीन होने के लिये विवश हुए हो, धन्य हो तुम; क्‍योंकि यदि मनुष्‍य कभी-कभी दीन होने पर विवश किया जाता है, तो पश्‍चाताप चाहता है;
135 और अब निश्चय जो कोई मन फिराएगा उस पर दया की जाएगी; और जो दया पाए, और अन्त तक धीरज धरे रहेगा, उसी का उद्धार होगा।
136 और अब जैसा कि मैंने तुम से कहा, कि क्योंकि तुम नम्र होने के लिए विवश हुए हो, तुम धन्य हो, क्या तुम नहीं समझते कि वे अधिक धन्य हैं जो वचन के कारण स्वयं को सचमुच नम्र करते हैं ?
137 हां, जो अपने आप को दीन करता है और अपने पापों से पश्चाताप करता है, और अंत तक धीरज धरता है, वही धन्य है; हां, उन लोगों से कहीं अधिक धन्य हैं जो अपनी अत्यधिक गरीबी के कारण विनम्र होने के लिए मजबूर हैं; इसलिथे धन्य हैं वे, जो दीन होने पर विवश हुए बिना अपने आप को दीन करते हैं,
138 या यों कहें, दूसरे शब्दों में, धन्य है वह, जो परमेश्वर के वचन पर विश्वास करता है, और बिना हठ के बपतिस्मा लेता है; हां, इससे पहले कि वे विश्वास करेंगे, वचन को जाने बिना, या यहां तक कि जानने के लिए मजबूर किए बिना ।
139 हां, बहुत से लोग हैं जो कहते हैं, कि यदि तू हम को स्वर्ग से कोई चिन्ह दिखाए, तो हम निश्चय जान लेंगे; तब हम विश्वास करेंगे।
140 अब मैं पूछता हूं, क्या यह विश्वास है? देख, मैं तुझ से कहता हूं, नहीं; क्योंकि यदि कोई किसी बात को जानता है, तो उसके पास विश्वास करने का कोई कारण नहीं, क्योंकि वह जानता है।
141 और अब वह जो परमेश्वर की इच्छा को जानता है और नहीं करता है, वह कितना अधिक शापित है, जो केवल विश्वास करता है, या केवल विश्वास करने का कारण है, और अपराध में गिर जाता है? अब इस बात का तुम न्याय करो।
142 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि जैसा एक ओर है, वैसा ही दूसरी ओर भी है; और वह हर एक मनुष्य को उसके काम के अनुसार मिले।
143 और अब जैसा कि मैंने विश्वास के विषय में कहा: विश्वास, चीजों का पूर्ण ज्ञान नहीं है; इसलिए यदि तुम विश्वास रखते हो, तो अनदेखी वस्तुओं की आशा रखते हो, जो सच्ची हैं।
144 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं; और मैं चाहता हूं कि तुम स्मरण रखो कि परमेश्वर उन सब पर दया करता है जो उसके नाम पर विश्वास करते हैं; इसलिए वह चाहता है, सबसे पहले, कि तुम विश्वास करो, हां, यहां तक कि उसके वचन पर भी ।
145 और अब वह अपना वचन स्वर्गदूतोंके द्वारा मनुष्योंको सुनाता है; जी हां, सिर्फ पुरुष ही नहीं महिलाएं भी।
146 अब यह सब कुछ नहीं है: छोटे बच्चों के पास कई बार ऐसी बातें होती हैं, जो बुद्धिमानों और विद्वानों को भ्रमित करती हैं।
147 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, जैसा कि तुम ने मेरे बारे में जानना चाहा है कि तुम क्या करना चाहते हो क्योंकि तुम पीड़ित और निकाले गए हो: अब मैं नहीं चाहता कि तुम यह समझो कि मैं केवल उसी के अनुसार तुम्हारा न्याय करना चाहता हूं जो सच है ;
148 क्योंकि मेरा यह अर्थ नहीं कि तुम सब को दीन करने पर विवश किया गया हो; क्‍योंकि मैं सच्‍चाई से मानता हूं, कि तुम में से कुछ ऐसे भी हैं, जो अपने आप को दीन बनाते हैं, चाहे वे किसी भी हाल में हों।
149 अब जैसा कि मैं ने विश्वास के विषय में कहा, कि यह पूर्ण ज्ञान नहीं था, वैसे ही मेरे वचनों के साथ भी है।
150 तुम पहिले तो उनकी निश्चितता को नहीं जान सकते, सिद्धता तक, विश्वास से बढ़कर और कुछ भी सिद्ध ज्ञान नहीं है।
151 परन्तु देखो, यदि तुम जागोगे, और अपनी बुद्धि को जगाओगे, यहां तक कि मेरे वचनोंका परीक्षण भी करोगे, और विश्वास का एक कण भी प्रयोग करोगे; हां, यदि आप विश्वास करने की इच्छा के अलावा और कुछ नहीं कर सकते हैं, तो इस इच्छा को आप में तब तक काम करने दें, जब तक कि आप इस तरह से विश्वास न करें कि आप मेरे शब्दों के एक हिस्से के लिए जगह दे सकते हैं ।
152 अब हम वचन की तुलना एक बीज से करेंगे ।
153 अब यदि तुम स्थान देते हो, कि तुम्हारे हृदय में एक बीज बोया जाए, तो देखो, यदि वह सच्चा बीज वा अच्छा बीज है, यदि तुम उसे अपने अविश्वास के कारण न निकालो, तो तुम आत्मा का साम्हना करोगे। हे यहोवा, देख, वह तेरे स्तनोंमें फूलने लगेगा;
154 और जब तुम उन सूजन को महसूस करो, तो तुम अपने मन में कहने लगोगे, कि यह तो अच्छा बीज है, वा वचन अच्छा है, क्योंकि वह मेरे प्राण को बड़ा करने लगा है; हाँ, यह मेरी समझ को स्पष्ट करने लगा है; हाँ, और यह मेरे लिए स्वादिष्ट होने लगा है।
155 अब देखो, क्या इससे तुम्हारा विश्वास नहीं बढ़ेगा? मैं तुम से कहता हूं, हां; फिर भी यह एक पूर्ण ज्ञान तक विकसित नहीं हुआ है।
156 परन्‍तु देखो, जैसे बीज फूल कर अंकुरित होकर बढ़ने लगता है, तब तुम को यह कहना चाहिए, कि बीज अच्‍छा है; क्‍योंकि देखो यह फूलता, और अंकुरित होता है, और बढ़ने लगता है ।
157 और अब देखो, क्या इससे तुम्हारा विश्वास दृढ़ नहीं होगा? हां, यह तुम्हारे विश्वास को मजबूत करेगा, क्योंकि तुम कहोगे, मैं जानता हूं कि यह एक अच्छा बीज है, क्योंकि देखो, यह अंकुरित होकर बढ़ने लगा है ।
158 और अब देखो, क्या तुम्हें यक़ीन है कि यह एक अच्छा बीज है ? मैं तुम से कहता हूं, हां; क्‍योंकि प्रत्‍येक बीज अपनी समानता में उत्‍पन्‍न होता है; इसलिए, यदि कोई बीज बढ़ता है, तो अच्छा है, लेकिन यदि वह नहीं बढ़ता है, तो यह अच्छा नहीं है; इसलिए इसे फेंक दिया जाता है।
159 और अब, देखो, क्योंकि तुम ने प्रयोग करके बीज बोया है, और वह फूलता है, और अंकुरित होता है, और बढ़ने लगता है, तो तुम्हें जानना चाहिए कि बीज अच्छा है ।
160 और अब देखो, क्या तुम्हारा ज्ञान सिद्ध है? हाँ, उस चीज़ में तुम्हारा ज्ञान सिद्ध है, और तुम्हारा विश्वास निष्क्रिय है;
161 और यह इसलिये कि तुम जानते हो; क्‍योंकि तुम जानते हो, कि वचन ने तुम्‍हारे मन में प्रफुल्लित किया है, और तुम यह भी जानते हो, कि वह उग आया है, कि तेरी समझ प्रदीप्त होने लगती है, और तेरी बुद्धि बढ़ती जाती है।
162 हे तो, क्या यह सच नहीं है? मैं तुम से कहता हूं, हां; क्योंकि यह हल्का है; और जो कुछ प्रकाश है, वह अच्छा है, क्योंकि वह देखा जा सकता है; इसलिए तुम्हें जानना चाहिए कि यह अच्छा है।
163 और अब देखो, इस ज्योति का स्वाद चखने के बाद, क्या तुम्हारा ज्ञान सिद्ध है? देख, मैं तुझ से कहता हूं, नहीं; और अपना विश्वास मत तोड़ना, क्योंकि तुम ने केवल अपने विश्वास को बीज बोने के लिए प्रयोग किया है, कि तुम प्रयोग करने के लिए यह जानने के लिए कि बीज अच्छा था या नहीं।
164 और देखो, जब वृक्ष बड़ा होने लगा, तब तुम कहोगे, कि हम उसकी बड़ी सावधानी से पालना करें, कि वह जड़ लगे, कि वह बड़ा होकर हमारे लिये फल लाए।
165 और अब देखो, यदि तुम उसे बहुत ध्यान से पालोगे, तो वह जड़ से निकलेगा, और बड़ा होकर फल लाएगा ।
166 परन्तु यदि तुम उस वृक्ष की उपेक्षा करो, और उसके पालन-पोषण पर ध्यान न दो, तो देखो, वह जड़ न पाएगा; और जब सूर्य की तपन आकर जड़ न होने के कारण उसे झुलसा देती है, तब वह सूख जाता है, और तुम उसे तोड़कर निकाल देते हो।
167 अब यह इसलिए नहीं है क्योंकि बीज अच्छा नहीं था, न ही ऐसा इसलिए है क्योंकि उसका फल वांछनीय नहीं होगा।
168 परन्तु यह इस कारण है कि तेरी भूमि बंजर है, और तू उस वृक्ष की पालन-पोषण नहीं करेगा; इसलिए तुम उसका फल नहीं पा सकते।
169 और इस प्रकार यह है कि यदि तुम विश्वास की आंख से उसके फल की बाट जोहते हुए वचन को पोषित नहीं करोगे, तो तुम जीवन के वृक्ष के फल को कभी नहीं तोड़ सकते ।
170 परन्तु यदि तुम वचन का पालन-पोषण करो, हां, वृक्ष के बढ़ने पर उसका पालन-पोषण करो, अपने विश्वास से बड़े परिश्रम से, और धैर्य के साथ, उसके फल की प्रतीक्षा में, वह जड़ लेगा; और देखो, वह एक वृक्ष होगा, जो अनन्त जीवन तक उगता रहेगा;
171 और तुम्हारे परिश्रम, और तुम्हारे विश्वास, और वचन के साथ तुम्हारे धीरज के कारण, कि वह तुम में जड़ पकड़ ले, देखो, तुम धीरे-धीरे उसका फल तोड़ोगे, जो सबसे कीमती है, जो कि है सब से अधिक मीठा जो मीठा है, और जो सब से अधिक सफेद है जो सफेद है; हां, और जो कुछ शुद्ध है उससे बढ़कर शुद्ध;
172 और जब तक तुम तृप्त न हो जाओ, तब तक इस फल का सेवन करना, कि न तो तुम भूखे हो, और न ही तुम प्यासे हो।
173 तब हे मेरे भाइयो, तुम अपने विश्वास, और परिश्रम, और धीरज, और दीर्घकाल के कष्ट का प्रतिफल पाओगे, इस बाट जोहते हैं कि वृक्ष तुम्हारे लिये फल लाएगा।
174 अब अलमा के इन शब्दों के कहने के बाद, उन्होंने उसे यह जानने की इच्छा के साथ भेजा कि क्या वे एक परमेश्वर में विश्वास करें, ताकि वे इस फल को प्राप्त कर सकें जिसके बारे में उसने कहा था, या वे कैसे बीज, या वचन को रोपेंगे, जो उस ने कहा था, और जो उस ने कहा है, वह उनके मन में लगाया जाए; या किस तरीक़े से उन्हें अपने विश्वास का प्रयोग करना शुरू करना चाहिए?
175 और अलमा ने उन से कहा, देखो, तुम ने कहा है कि तुम अपने परमेश्वर की आराधना नहीं कर सकते थे, क्योंकि तुम्हें अपने आराधनालयों से निकाल दिया गया है ।
176 परन्तु देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यदि तुम समझते हो कि परमेश्वर की आराधना नहीं कर सकते, तो तुम बहुत भूल करते हो, और तुम्हें पवित्रशास्त्र में खोजना चाहिए; यदि तुम समझते हो कि उन्होंने तुम्हें यह सिखाया है, तो तुम उन्हें नहीं समझते।
177 क्या तुम्हें याद है कि प्राचीन काल के भविष्यद्वक्ता जेनोस ने प्रार्थना या उपासना के विषय में क्या कहा था?
178 क्योंकि उस ने कहा, हे परमेश्वर तू दयालु है, क्योंकि जब मैं जंगल में था, तब भी तू ने मेरी प्रार्थना सुनी।
179 हां, हे परमेश्वर, और जब मैं ने अपके खेत में तेरी दोहाई दी, तब तू ने मुझ पर दया की; जब मैं ने अपक्की प्रार्यना में तेरी दोहाई दी, और तू ने मेरी सुनी।
180 और फिर, हे परमेश्वर, जब मैं अपके घर की ओर फिरा, तब तू ने मेरी प्रार्थना में मेरी सुनी।
181 और जब हे यहोवा, मैं ने अपक्की कोठरी की ओर फिरकर तुझ से बिनती की, तब तू ने मेरी सुन ली; हां, जब तुम अपने बच्चों पर दया करते हो, जब वे तुम्हारी दोहाई देते हैं, न कि मनुष्यों की, और तुम उनकी सुनोगे;
182 हे परमेश्वर, तू ने मुझ पर दया की, और अपक्की मण्डली के बीच में मेरी दोहाई सुनी; हां, और जब मैं निकाल दिया गया हूं, और मेरे शत्रुओं ने मुझे तुच्छ जाना है, तब भी तुमने मेरी सुनी है;
183 वरन तू ने मेरी दोहाई सुनी, और मेरे शत्रुओं पर क्रोधित हुआ, और अपके कोप से उन पर शीघ्र नाश किया; और तू ने मेरे दु:ख और मेरी सच्चाई के कारण मेरी सुन ली;
184 और अपने पुत्र के कारण मुझ पर ऐसी दया की है; इस कारण मैं अपके सब क्लेशोंमें तेरी दोहाई दूंगा; क्योंकि मेरा आनन्द तुझ में है; क्योंकि तू ने अपके पुत्र के कारण अपके नियमोंको मुझ से दूर कर दिया है।
185 और अब अलमा ने उनसे कहा, क्या तुम उन शास्त्रों पर विश्वास करते हो जो उनके द्वारा पुराने समय में लिखे गए हैं ?
186 देखो, यदि तुम ऐसा करते हो, तो जेनोस की कही हुई बातों पर विश्वास करना; क्योंकि देखो, उस ने कहा, तू ने अपके पुत्र के कारण अपके नियमोंको फेर दिया है।
187 अब, देख, मेरे भाइयों, मैं पूछता हूं, कि क्या तुम ने पवित्रशास्त्र पढ़ा है? यदि तुम्हारे पास है, तो तुम परमेश्वर के पुत्र पर अविश्वास कैसे कर सकते हो?
188 क्योंकि यह नहीं लिखा है, कि केवल जेनोस ने ही इन बातोंके विषय में कहा, परन्तु ज़ेनॉक ने भी इन बातोंके विषय में कहा; क्योंकि देखो, उस ने कहा, हे यहोवा, तू इन लोगोंसे क्रोधित है, क्योंकि वे तेरी उस दया के विषय में जो तू ने अपने पुत्र के कारण उन पर दी है, कुछ न समझेंगे।
189 और अब मेरे भाइयो, तुम देखते हो, कि एक दूसरे नबी ने परमेश्वर के पुत्र की गवाही दी है; और लोग उसकी बातें न समझ सके, इसलिये उन्होंने उसे पत्यरवाह करके मार डाला।
190 परन्तु देखो, यह सब कुछ नहीं है; केवल ये ही नहीं हैं जिन्होंने परमेश्वर के पुत्र के विषय में बात की है।
191 देखो, उसके विषय में मूसा ने कहा था; हां, और देखो, एक प्रकार का जंगल में उठाया गया था, ताकि जो कोई उस पर दृष्टि करे वह जीवित रहे । और बहुतों ने देखा और जीया।
192 परन्तु उन बातोंका अर्थ बहुत कम लोगों ने समझा, और यह उनके हृदयों की कठोरता के कारण था।
193 परन्‍तु बहुत से ऐसे थे जो इतने कठोर थे कि उन्‍होंने देखा ही नहीं; इसलिए वे नष्ट हो गए।
194 अब उनके न देखने का कारण यह था कि उन्हें विश्वास नहीं था कि यह उन्हें चंगा करेगा।
195 हे मेरे भाइयों, यदि तुम केवल अपनी आंखें फेरने के द्वारा चंगे हो जाते, कि तुम चंगे हो जाते, तो क्या तुम शीघ्रता से नहीं देखते, या अपने हृदयों को अविश्वास में कठोर करते, और आलसी होते, कि तुम अपने बारे में कुछ भी नहीं बताते थे। आंखें, कि तुम नाश हो?
196 यदि ऐसा है, तो तुम पर हाय होगी; परन्तु यदि नहीं, तो अपनी आंखें फेरकर परमेश्वर के पुत्र पर विश्वास करना आरम्भ कर, कि वह अपक्की प्रजा को छुड़ाने आएगा, और दुख उठाएगा, और उनके पापोंका प्रायश्चित्त करने को मरेगा;
197 और यह कि वह मरे हुओं में से जी उठेगा, जिस से पुनरुत्थान होगा, कि सब मनुष्य उसके साम्हने खड़े हों, कि अन्तिम और न्याय के दिन उनका न्याय उनके कामोंके अनुसार किया जाए।
198 और अब मेरे भाइयों, मेरी इच्छा है कि तुम इस वचन को अपने हृदयों में लगाओ, और जैसे-जैसे यह प्रफुल्लित होने लगे, वैसे ही इसे अपने विश्वास से पोषित करो ।
199 और देखो, वह एक वृक्ष बन जाएगा, जो तुम में अनन्त जीवन के लिये उगेगा।
200 और तब परमेश्वर तुम्हें यह अनुदान दे कि उसके पुत्र के आनन्द के कारण तुम्हारा बोझ हल्का हो जाए । और यह सब भी तुम कर सकते हो, यदि तुम चाहो। तथास्तु।
201 और अब ऐसा हुआ कि अलमा द्वारा उनसे ये बातें कहने के बाद, वह जमीन पर बैठ गया, और अमूलेक उठकर उन्हें यह कहते हुए सिखाने लगा, मेरे भाइयों, मुझे लगता है कि यह असंभव है कि तुम इससे अनजान हो वे बातें जो मसीह के आने के विषय में कही गई हैं, जिसे हम ने परमेश्वर का पुत्र होना सिखाया है;
202 हां, मैं जानता हूं कि ये बातें तुम्हें हमारे बीच से तुम्हारे विवाद से पहले बहुतायत से सिखाई गई थीं, और जैसा तुमने मेरे प्रिय भाई से चाहा था, कि वह तुम्हारे क्लेशों के कारण तुम्हें बताए कि तुम्हें क्या करना चाहिए; और उस ने तुम्हारे मन को तैयार करने के लिथे तुम से कुछ कहा है; हां, और उसने तुम्हें विश्वास, और सब्र रखने का उपदेश दिया है;
203 हां, यहां तक कि तुम में इतना विश्वास होता कि तुम वचन को अपने हृदय में लगाते, कि तुम उसकी भलाई का परीक्षण करते; और हम ने देखा है, कि जो बड़ा प्रश्न तुम्हारे मन में है, वह यह है, कि क्या वचन परमेश्वर के पुत्र में है, वा मसीह नहीं होगा।
204 और तुम ने यह भी देखा कि मेरे भाई ने कई बार तुम्हारे लिये यह प्रमाणित किया है कि वचन मसीह में है, उद्धार के लिये ।
205 मेरे भाई ने ज़ेनोस के शब्दों का आह्वान किया है, कि छुटकारे भगवान के पुत्र के माध्यम से आता है, और ज़ेनॉक के शब्दों पर भी: और उसने मूसा से भी अपील की है कि यह साबित हो कि ये बातें सच हैं।
206 और अब देखो, मैं तुम से अपनी गवाही दूंगा, कि ये बातें सच हैं ।
207 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि मैं जानता हूं, कि मसीह मनुष्योंके बीच आएगा, कि अपक्की प्रजा के अपराध अपने ऊपर ले लेगा, और जगत के पापोंका प्रायश्चित्त करेगा; क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने यह कहा है;
208 क्योंकि यह समीचीन है कि प्रायश्चित्त किया जाए; क्योंकि अनन्त परमेश्वर की महान योजना के अनुसार, अवश्य ही एक प्रायश्चित किया जाना चाहिए, अन्यथा सभी मानवजाति अपरिहार्य रूप से नष्ट हो जाएगी;
209 वरन सब कठोर हो गए हैं; हां, सभी गिर गए हैं, और खो गए हैं, और नष्ट हो जाएंगे, जब तक कि यह उस प्रायश्चित के माध्यम से न हो जिसके लिए यह उचित है;
210 क्योंकि यह समीचीन है कि एक महान और अंतिम बलिदान होना चाहिए; हां, न तो मनुष्य का बलिदान, न पशु का, न किसी प्रकार का पक्षी; क्‍योंकि वह मानव बलि न ठहरे, परन्‍तु वह अपरिमित और सनातन बलिदान होना चाहिए।
211 अब कोई मनुष्य नहीं जो अपके लहू को बलिदान करे, जो दूसरे के पापोंका प्रायश्चित करे।
212 अब यदि कोई मनुष्य हत्या करे, तो क्या हमारी व्यवस्या जो धर्मी है, उसके भाई का प्राण ले लेगी? मैं तुमसे कहता हूं, नहीं।
213 परन्‍तु व्‍यवस्‍था के लिए घात करने वाले के प्राण की आवश्‍यकता है; इसलिए कुछ भी नहीं हो सकता है, जो एक अनंत प्रायश्चित से कम है, जो दुनिया के पापों के लिए पर्याप्त होगा; इसलिए यह समीचीन है कि एक महान और अंतिम बलिदान होना चाहिए;

214 और जब लोहू बहाना रुक जाए, वा यह समीचीन हो; तब मूसा की व्यवस्था पूरी होगी; हाँ, यह सब पूरा होगा; हर छोटा-बड़ा, और कोई न मरे।
215 और देखो, व्यवस्था का सारा अर्थ यही है; उस महान और अंतिम बलिदान की ओर इशारा करने वाला हर सफेद; और वह महान और अन्तिम बलिदान परमेश्वर का पुत्र होगा; हाँ, अनंत और शाश्वत; और इस प्रकार वह उन सभोंका उद्धार करेगा जो उसके नाम पर विश्वास करेंगे;
216 इस अन्तिम बलिदान का आशय यह है कि दया के आँतों को उभारा जाए, जो न्याय को प्रबल करता है और मनुष्यों के लिए साधन लाता है कि वे पश्चाताप के लिए विश्वास कर सकें।
217 और इस प्रकार दया न्याय की मांगों को पूरा कर सकती है, और उन्हें सुरक्षा की बाहों में घेर लेती है, जबकि वह जो पश्चाताप के प्रति आस्था नहीं रखता, न्याय की मांगों के पूरे कानून के अधीन होता है; इसलिए, केवल उसी के लिए जो पश्चाताप में विश्वास रखता है, छुटकारे की महान और अनन्त योजना के बारे में लाया गया है ।
218 इसलिथे हे मेरे भाइयो, परमेश्वर तुम्हें यह अनुदान दे, कि तुम मन फिराव करने के लिथे अपना विश्वास करना आरंभ करो, कि उसके पवित्र नाम को पुकारो, कि वह तुम पर दया करे; हां, उस पर दया की दोहाई दो; क्योंकि वह बचाने में पराक्रमी है;
219 हां, अपने आप को दीन करो, और उस से प्रार्थना करते रहो; जब तुम अपने खेतों में हो, तब उस की दोहाई देना; वरन अपके सब भेड़-बकरियोंके ऊपर; अपके घरोंमें, वरन अपने सारे घराने के ऊपर, भोर, दोपहर, और सांझ, उस से दोहाई देना; हां, अपने शत्रुओं की शक्ति के विरुद्ध उसकी दोहाई दें; हां, शैतान के विरुद्ध उसकी दोहाई दो, जो सारी धार्मिकता का शत्रु है ।
220 अपने खेतों की उपज के विषय में उस से दोहाई दो, कि तुम उन में उन्नति करो; अपने खेतों की भेड़-बकरियों के लिये दोहाई दो, कि वे बढ़ जाएं।
221 परन्तु यह सब कुछ नहीं है: अपके प्राण अपक्की कोठरी, और गुप्त स्थानों, और जंगल में उंडेल देना;
222 हां, और जब तुम प्रभु की दोहाई न दो, तो अपने हृदयों को परिपूर्ण होने दो, और अपने कल्याण के लिए, और अपने आसपास के लोगों के कल्याण के लिए लगातार प्रार्थना में लगे रहो ।
223 और अब देखो, मेरे भाइयों, मैं तुम से कहता हूं, यह मत समझो कि यह सब है; क्योंकि जब तुम इन सब कामों को कर चुके हो, तब यदि तुम दरिद्रों और नंगों को फेर दो, और बीमारों और दीनों की सुधि न लो, और यदि तुम्हारा हो, तो अपक्की सम्पत्ति को दरिद्रों को बांट दो;
224 मैं तुम से कहता हूं, कि यदि तुम इन बातोंमें से कुछ भी नहीं करते, तो देखो, तुम्हारी प्रार्थना व्यर्थ है, और तुम्हारा कुछ भी लाभ नहीं होता है, और तुम कपटियों के समान हो जो विश्वास से इनकार करते हैं;
225 इसलिथे यदि तुम परोपकारी होना न स्मरण रखो, तो तुम उस मैल के समान हो, जिसे शुद्ध करनेवाले निकाल देते हैं, और मनुष्योंके पांव तले रौंदा जाता है।
226 और अब, मेरे भाइयों, मैं चाहता हूं कि तुम इतने गवाहों को प्राप्त करने के बाद, यह देखते हुए कि पवित्र शास्त्र इन बातों की गवाही देते हैं, आगे आओ और पश्चाताप के लिए फल लाओ;
227 हां, मैं चाहता हूं कि तुम आगे आओ और अपने हृदयों को और कठोर न करो; क्योंकि देखो, अब समय और तुम्हारे उद्धार का दिन है; और इसलिए, यदि तुम पश्चाताप करोगे और अपने हृदयों को कठोर नहीं करोगे, तो तुरंत छुटकारे की महान योजना तुम्हारे पास लाई जाएगी ।
228 क्योंकि देखो, यह जीवन मनुष्य के परमेश्वर से मिलने की तैयारी करने का समय है: हां, इस जीवन का वह दिन है जब मनुष्य अपने परिश्र्म करते हैं ।
229 और अब जैसा कि मैं ने तुम से पहिले कहा था, कि तुम्हारे पास इतने गवाह हैं, इसलिथे मैं तुम से बिनती करता हूं, कि अपके मन फिराव के दिन को अन्त तक टालना मत;
230 क्योंकि जीवन के इस दिन के बाद, जो हमें अनंत काल की तैयारी के लिए दिया गया है, देखो, यदि हम इस जीवन में अपने समय में सुधार नहीं करते हैं, तो अंधकार की रात आती है, जिसमें कोई श्रम नहीं किया जा सकता है।
231 तुम यह नहीं कह सकते, कि जब तुम उस भयानक संकट में पड़ोगे, कि मैं मन फिराऊंगा, कि मैं अपके परमेश्वर के पास फिरूंगा।
232 नहीं, तुम यह नहीं कह सकते; क्‍योंकि जब तुम इस जीवन से बाहर निकलोगे तब जो आत्मा तुम्हारे शरीर में होगी, उसी आत्मा को उस अनन्त जगत में तुम्हारे शरीर को अपने अधिकार में करने की शक्ति होगी।
233 क्योंकि देखो, यदि तुम ने अपके मन फिराव के दिन को मरने तक टाला है, तो देखो, तुम शैतान की आत्मा के आधीन हो गए हो, और वह तुम पर अपनी मुहर लगाता है;
234 इस कारण यहोवा का आत्मा तुझ में से हट गया, और उसका तुझ में कोई स्थान नहीं, और शैतान का सारा अधिकार तुझ पर है; और यह दुष्टों की अन्तिम अवस्था है।
235 और मैं यह जानता हूं, क्योंकि यहोवा ने कहा है, वह अपवित्र मन्दिरोंमें नहीं वरन धर्मियोंके मन में बसता है;
236 हां, और उसने यह भी कहा है, कि धर्मी अपके राज्य में बैठेंगे, कि फिर फिर कभी बाहर न जाना; परन्तु उनके वस्त्र मेम्ने के लोहू के द्वारा श्वेत किए जाएं।
237 और अब मेरे प्रिय भाइयों, मेरी इच्छा है कि तुम इन बातों को स्मरण रखो, और परमेश्वर के साम्हने भय के साथ अपने उद्धार का कार्य पूरा करो, और तुम मसीह के आने से फिर कभी इनकार न करो; कि तुम पवित्र आत्मा से फिर कभी लड़ाई न करो, परन्तु उसे ग्रहण करो, और मसीह का नाम अपने ऊपर ले लो; कि तुम अपने आप को मिट्टी के समान दीन बनाओ, और जिस स्थान में आत्मा और सच्चाई से रहो, उसी में परमेश्वर को दण्डवत करना;
238 और जो बहुत दया और आशीषें वह तुम पर देता है, उसके कारण तुम प्रतिदिन धन्यवाद के साथ जीते हो; हां, और मैं तुम्हें अपने भाइयों को भी प्रोत्साहित करता हूं, कि तुम लगातार प्रार्थना के लिए जागते रहो, कि तुम शैतान के प्रलोभन में न बहो, कि वह तुम पर हावी न हो जाए, कि तुम अंतिम दिन में उसकी प्रजा न बन जाओ : क्योंकि देखो, वह तुम्हें कोई अच्छी वस्तु नहीं देता।
239 और अब मेरे प्रिय भाइयों, मैं तुम्हें समझाता हूं, कि धीरज रखो, और तुम सब प्रकार के कष्टोंको सहो; कि तुम उन लोगों की निन्दा न करना, जो तुम्हारे अत्याधिक कंगाल होने के कारण तुम्हें निकाल देते हैं, ऐसा न हो कि तुम उनके समान पापी बन जाओ; परन्तु यह कि तुम धीरज रखो, और उन दु:खों को सहते रहो, इस दृढ़ आशा के साथ कि एक दिन तुम अपने सब क्लेशों से विश्राम पाओगे।
240 अब ऐसा हुआ कि अमूलेक द्वारा इन बातों को समाप्त करने के बाद, वे भीड़ से अलग हो गए, और जेरशान प्रदेश में आ गए;
241 हां, और बाकी भाई जोरामाइयों को वचन का प्रचार करने के बाद जेर्शोन प्रदेश में आए ।
242 और ऐसा हुआ कि जोरामाइयों के अधिक लोकप्रिय भाग ने उन बातों के बारे में एक साथ विचार-विमर्श किया जो उन्हें प्रचारित की गई थीं, वे वचन के कारण क्रोधित हुए, क्योंकि इसने उनकी कला को नष्ट कर दिया; इसलिए उन्होंने उनकी बात नहीं मानी।
243 और उन्होंने बुलवाकर सारे देश में सब लोगोंको इकट्ठा किया, और जो बातें कही गई थीं, उन के विषय में उन से विचार-विमर्श किया।
244 और उनके हाकिमोंऔर याजकों, और उनके शिक्षकोंने लोगोंको उनकी अभिलाषाओं के विषय में जानने न दिया; इसलिथे उन्होंने सब लोगोंके मन की बातें गुप्त में खोज लीं।
245 और ऐसा हुआ कि सभी लोगों के मन की बात जानने के बाद, जो लोग अलमा और उसके भाइयों द्वारा कही गई बातों के पक्ष में थे, उन्हें प्रदेश से निकाल दिया गया; और वे बहुत थे, और वे यरशोन देश में भी आए।
246 और ऐसा हुआ कि अलमा और उसके भाइयों ने उनकी सेवा की ।
247 अब जोरामियों के लोग अम्मोन के लोगों से जो जेरशान में थे, क्रोधित हो गए, और जोरामियों के मुख्य शासक ने एक बहुत ही दुष्ट व्यक्ति होने के कारण अम्मोनियों के पास यह इच्छा व्यक्त की कि वे अपने देश से सभी को बाहर निकाल दें। जो उनके पास से निकलकर अपने देश में आए।
248 और उस ने उन को बहुत धमकियां दीं।
249 और अब अम्मोन के लोग उनकी बातों से नहीं डरते थे, इसलिए उन्होंने उन्हें बाहर नहीं निकाला, परन्तु जोरामाइयों के उन सभी कंगालों को प्राप्त किया जो उनके पास आए थे;
250 और उन्होंने उनका पालन-पोषण किया, और उन्हें पहिनाया, और उन्हें उनके निज भाग के लिये भूमि दी; और उन्होंने उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें प्रशासित किया ।
251 अब इसने जोरामाइयों को अम्मोन के लोगों के विरुद्ध क्रोधित किया, और वे लमनाइयों के साथ घुलमिल गए, और उन्हें उनके विरुद्ध क्रोध करने के लिए भी उकसाया;
252 और इस प्रकार जोरामाइयों और लमनाइयों ने अम्मोन के लोगों, और नफाइयों के विरुद्ध भी युद्ध की तैयारी शुरू कर दी ।
253 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के सत्रहवें वर्ष का अंत हुआ ।
254 और अम्मोन के लोग जेरशान प्रदेश से निकल गए, और मेलेक प्रदेश में आए, और नफाइयों की सेना के लिए जेरशान प्रदेश में स्थान दिया, ताकि वे लमनाइयों की सेनाओं से युद्ध कर सकें, और सोरामियों की सेना;
255 और इस प्रकार न्यायियों के शासन के अठारहवें वर्ष में, लमनाइयों और नफाइयों के बीच युद्ध शुरू हुआ; और उसके बाद उनके युद्धों का लेखा दिया जाएगा।
256 और अलमा, और अम्मोन, और उनके भाई, और अलमा के दो पुत्र भी, बहुत से जोरामियों को पश्चाताप के लिए लाने के लिए परमेश्वर के हाथों में साधन होने के बाद, जराहेमला प्रदेश लौट आए; और जितने लोग मन फिराव के लिथे लाए गए, वे अपके देश से निकाल दिए गए;
257 परन्तु जेर्शोन देश में उनके निज भाग की भूमि है, और उन्होंने अपक्की पत्नियों, और बालकों, और अपक्की भूमि की रक्षा के लिथे हथियार उठा लिए हैं।
258 अब अलमा, अपने लोगों के अधर्म के लिए, हां युद्धों, और रक्तपात, और उनके बीच हुए विवादों के लिए दुखी था; और हर नगर के सब लोगोंके बीच में वचन सुनाने या सुनाने के लिथे भेजा गया हो;
259 और यह देखकर कि लोगोंके मन कठोर होने लगे, और वचन की कठोरता के कारण वे क्रोधित होने लगे, उसका मन बहुत उदास हो गया;
260 इसलिए, उसने अपने पुत्रों को एक साथ इकट्ठा किया कि वह उन्हें हर एक को धार्मिकता से संबंधित चीजों के बारे में अलग-अलग प्रभार दे।
261 और जो आज्ञाएं उस ने अपके ही लेख के अनुसार उन्हें दी हैं, उनका लेखा हमारे पास है ।

 

अल्मा, अध्याय 17

अलमा की आज्ञा, उसके पुत्र हिलामन को। 1 हे मेरे पुत्र, मेरी बातों पर कान लगा; क्योंकि मैं तुम से शपय खाकर कहता हूं, कि जितना परमेश्वर की आज्ञाओं को मानोगे, देश में उन्नति करते जाओगे।
2 मैं चाहता हूं, कि जैसा मैं ने किया है वैसा ही तुम अपके पुरखाओं की बन्धुआई में स्मरण करके भी करो; क्योंकि वे दासत्व में थे, और कोई उन्हें छुड़ा न सका, केवल यही इब्राहीम का परमेश्वर, और इसहाक का परमेश्वर, और याकूब का परमेश्वर था; और उस ने निश्चय उन को उनके क्लेशोंमें छुड़ाया।
3 और अब, हे मेरे पुत्र हिलामन, देखो, तू अपनी जवानी में है, और इसलिथे मैं तुझ से बिनती करता हूं कि तू मेरी बातें सुन, और मुझ से सीख ले; क्योंकि मैं जानता हूं, कि जो कोई परमेश्वर पर भरोसा रखेगा, वह उनकी परीक्षाओं, और उनके क्लेशों, और उनके क्लेशों में समर्थित होगा, और अंतिम दिन में ऊपर उठाया जाएगा;
4 और मैं नहीं चाहता कि तुम यह समझो कि मैं अपने को लौकिक नहीं, परन्तु आत्मिक जानता हूं; शारीरिक मन का नहीं, बल्कि परमेश्वर का।
5 अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि यदि मैं परमेश्वर से उत्पन्न न होता, तो मुझे इन बातों का ज्ञान न होता; परन्‍तु परमेश्वर ने अपके पवित्र दूत के मुंह से ये बातें मुझ से प्रगट कीं, न कि मैं अपने आप से योग्य हूं, क्योंकि मैं ने मुसायाह के पुत्रोंके संग परमेश्वर की कलीसिया को नाश करने का यत्न किया था; परन्तु देखो, परमेश्वर ने अपके पवित्र दूत को हमें मार्ग से रोकने के लिथे भेजा है।
6 और देखो, उसने हम से ऐसा कहा, मानो वह गर्जन का शब्द था, और सारी पृथ्वी हमारे पांवों तले कांप उठी, और हम सब भूमि पर गिर पड़े, क्योंकि यहोवा का भय हम पर छा गया।
7 परन्तु देखो, वाणी ने मुझ से कहा, उठ। और मैं उठकर खड़ा हुआ, और स्वर्गदूत को देखा। और उस ने मुझ से कहा, यदि तू अपक्की ओर से नाश न हो, तो परमेश्वर की कलीसिया को नाश करने के लिथे फिर न ढूंढ़ना।
8 और ऐसा हुआ कि मैं धरती पर गिर पड़ा; और तीन दिन और तीन रात तक मैं अपना मुंह न खोल सका; न ही मुझे अपने अंगों का उपयोग था।
9 और स्वर्गदूत ने मुझ से और बातें कहीं, जो मेरे भाइयों ने सुनीं, परन्तु मैं ने उनकी न सुनी; क्‍योंकि जब मैं ने ये बातें सुनीं, कि यदि तू अपके नाश न किया जाए, तो परमेश्वर की कलीसिया को नाश करने के लिथे फिर न ढूंढ़ना, मैं ऐसा बड़ा भय और अचम्भा करने लगा, कि कहीं ऐसा न हो कि मैं नाश हो जाऊं, और पृय्वी पर गिर पड़ूं, और मैं ने और नहीं सुना;
10 परन्‍तु मैं सदा की पीड़ा से ग्रसित हो गया, क्‍योंकि मेरा प्राण अधिक से अधिक कठोर और मेरे सब पापोंसे भरा हुआ था। हां, मैंने अपने सभी पापों और अधर्मों को याद किया, जिसके लिए मुझे नरक की पीड़ा से तड़पाया गया था;
11 वरन मैं ने देखा, कि मैं ने अपके परमेश्वर से बलवा किया है, और उसकी पवित्र आज्ञाओं का पालन नहीं किया है; हां, और मैंने उसके बहुत से बच्चों को मार डाला था, या यों कहें कि उन्हें नष्ट कर दिया था;
12 हां, और ठीक है, मेरे अधर्म इतने बड़े थे, कि मेरे परमेश्वर की उपस्थिति में आने के विचारों ने ही मेरी आत्मा को अकथनीय भय से भर दिया ।
13 हे, मैंने सोचा, कि मुझे निर्वासित किया जा सकता है और आत्मा और शरीर दोनों को नष्ट कर दिया जा सकता है, कि मुझे मेरे कामों का न्याय करने के लिए मेरे भगवान की उपस्थिति में खड़ा करने के लिए नहीं लाया जा सकता है।
14 और अब, तीन दिन और तीन रात तक मैं एक शापित जीव की पीड़ा से तड़पता रहा।
15 और ऐसा हुआ कि जब मैं अपने अनेक पापों की याद से परेशान था, तब मुझे पीड़ा हुई थी, देखो, मुझे यह भी याद आया कि मैंने अपने पिता को एक यीशु मसीह के आने के बारे में लोगों को भविष्यवाणी करते सुना था , परमेश्वर का पुत्र, संसार के पापों का प्रायश्चित करने के लिए।
16 अब जब मेरे मन ने इस विचार को पकड़ लिया, तो मैं अपने दिल में रोया, हे यीशु, परमेश्वर के पुत्र, मुझ पर दया करो, जो कड़वाहट के पित्त में है, और मृत्यु की अनंत जंजीरों से घिरा हुआ है।
17 और अब देखो, जब मैं ने यह सोचा, तो मुझे अपनी पीड़ा और न ही अधिक स्मरण आई; हां, मुझे अपने पापों की याद से अब और दुख नहीं हुआ ।
18 और हे, मैं ने क्या आनन्द, और क्या ही अद्‌भुत ज्योति देखी; हां, मेरी आत्मा उतनी ही हर्ष से भर गई जितनी मेरी पीड़ा थी; हां, मेरे बेटे, मैं तुमसे कहता हूं, कि मेरे दर्द के समान उत्तम और कड़वा कुछ भी नहीं हो सकता ।
19 हां, और मैं तुम से फिर कहता हूं, मेरे बेटे, कि दूसरी ओर, इतना उत्तम और मीठा कुछ भी नहीं हो सकता है जितना कि मेरा आनंद था;
20 हां, मुझे लगता है कि जैसा हमारे पिता लेही ने देखा था, वैसे ही परमेश्वर अपने सिंहासन पर बैठे हुए स्वर्गदूतों की अनगिनत भीड़ से घिरे हुए थे, उनके परमेश्वर की स्तुति करने और गाने की मनोवृत्ति में; हाँ, और मेरी आत्मा ने वहाँ रहने की लालसा की।
21 लेकिन देखो, मेरे अंगों ने फिर से अपनी ताकत हासिल कर ली, और मैं अपने पैरों पर खड़ा हो गया, और लोगों के सामने प्रकट किया कि मैं परमेश्वर से पैदा हुआ हूं;
22 हां, और उस समय से लेकर अब तक मैं अनवरत परिश्रम करता आया हूं, कि मैं मन फिराव के लिये मन फिराऊं; कि मैं उन्हें उस परम आनन्द का स्वाद चखाऊं जिसका स्वाद मैं ने चखा था; कि वे भी परमेश्वर से उत्पन्न हों, और पवित्र आत्मा से परिपूर्ण हों।
23 हां, और अब देखो, हे मेरे पुत्र, यहोवा मुझे मेरे परिश्रम के फल से बड़ा आनन्द देता है; क्योंकि उस वचन के कारण जो उस ने मुझ से कहा है, देखो, परमेश्वर से बहुत से लोग उत्पन्न हुए हैं, और जैसा मैं ने चखा, वैसा चखा, और जैसा मैं ने देखा है, वैसा ही देखा भी है;
24 इसलिथे वे इन बातोंके विषय में जो मैं ने कही हैं, जैसा मैं जानता हूं, वैसा ही जानता हूं; और जो ज्ञान मेरे पास है वह परमेश्वर का है।
25 और मुझे हर प्रकार की परीक्षाओं और कष्टों में सहारा दिया गया है, हां, और हर प्रकार के कष्टों में; हां, परमेश्वर ने मुझे बन्दीगृह से, और बन्धन से, और मृत्यु से छुड़ाया है; हां, और मैं उस पर भरोसा रखता हूं, और वह मुझे अब भी छुड़ाएगा;
26 और मैं जानता हूं, कि अन्तिम दिन में वह मुझे जिला करके उसके साथ महिमा के साथ निवास करेगा; हां, और मैं उसकी स्तुति सदा करता रहूंगा, क्योंकि वह हमारे पूर्वजोंको मिस्र से निकाल लाया है, और उस ने मिस्रियोंको लाल समुद्र में निगल लिया है; और वह उन्हें अपनी शक्ति से प्रतिज्ञात देश में ले गया;
27 हां, और समय-समय पर उसने उन्हें दासता और बन्धुवाई से छुड़ाया है; हां, और वह हमारे पूर्वजों को भी यरूशलेम प्रदेश से बाहर ले आया है; और उस ने अपनी अनन्त शक्ति से उन्हें समय-समय पर आज तक के बन्धन और बन्धन से छुड़ाया है;
28 और मैं ने उनकी बंधुआई में सदा स्मरण रखा है: हां, और जैसा मैं ने किया है, वैसे ही तुम्हें भी उनकी बंधुआई में रखना चाहिए ।
29 परन्तु देखो, मेरे पुत्र, यह सब कुछ नहीं है; क्योंकि जैसा मैं जानता हूं, वैसा ही तुम्हें भी जान लेना चाहिए, कि जितना परमेश्वर की आज्ञाओं को मानोगे, देश में उन्नति करते जाओगे;
30 और तुम्हें यह भी जानना चाहिए, कि जब तक तुम परमेश्वर की आज्ञाओं को न मानोगे, तब तक उसके साम्हने से नाश किए जाओगे। अब यह उसके वचन के अनुसार है।
31 और अब मेरे पुत्र हिलामन, मैं तुम्हें आज्ञा देता हूं कि तुम उन अभिलेखों को ले लो जो मुझे सौंपे गए हैं; और मैं तुम्हें यह भी आज्ञा देता हूं कि तुम इन लोगों का रिकॉर्ड, जैसा मैंने किया है, नफी की पट्टियों पर रखना, और इन सभी चीजों को पवित्र रखना, जिन्हें मैंने रखा है, जैसा कि मैंने उन्हें रखा है: क्योंकि यह एक बुद्धिमान के लिए है उद्देश्य है कि उन्हें रखा जाता है;
32 और पीतल की ये पट्टियां जिन पर ये खुदी हुई हैं, जिन पर पवित्र शास्त्र के अभिलेख हैं, जिन पर हमारे पुरखाओं की वंशावली आदि से ही बनी है।
33 और देखो, हमारे पूर्वजों द्वारा भविष्यवाणी की गई थी, कि उन्हें रखा जाएगा और एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी को सौंप दिया जाएगा, और प्रभु के हाथ से तब तक रखा जाएगा जब तक कि वे हर जाति, जाति, भाषा में न चले जाएं। और लोग, कि वे उस में निहित रहस्यों के बारे में जानेंगे।
34 और अब देखो, यदि वे रखे जाएं, तो वे अपना तेज बनाए रखें; हां, और वे अपनी चमक बनाए रखेंगे; हां, और उन सभी पट्टियों में भी, जिनमें वह पवित्र लिखा हुआ है ।
35 अब तुम समझो कि यह मुझ में मूर्खता है; परन्तु देखो मैं तुम से कहता हूं, कि छोटी और साधारण बातों से बड़ी बातें होती हैं; और कई मामलों में छोटे साधन, बुद्धिमानों को भ्रमित करते हैं।
36 और यहोवा परमेश्वर अपके बड़े और अनन्तकाल के उद्देश्‍योंको पूरा करने के लिथे काम करता है; और बहुत ही छोटे से उपाय से यहोवा बुद्धिमानों को भ्रमित करता है, और बहुतों के प्राणों का उद्धार करता है।
37 और अब, परमेश्वर में अब तक यह बुद्धि रही है कि इन बातों को सुरक्षित रखा जाए: क्योंकि देखो, उन्होंने इन लोगों की स्मृति को बढ़ा दिया है, हां, और बहुत से लोगों को अपनी चालचलन की भूल का विश्वास दिलाया है, और उन्हें इस बात का ज्ञान कराया है कि उनके भगवान, उनकी आत्माओं के उद्धार के लिए।
38 हां, मैं तुमसे कहता हूं, यदि इन अभिलेखों में ये चीजें नहीं होतीं, जो इन पट्टियों पर हैं, तो अम्मोन और उसके भाई इतने हजारों लमनाइयों को अपने पूर्वजों की गलत परंपरा के प्रति आश्वस्त नहीं कर सकते थे;
39 हां, इन अभिलेखों और उनकी बातों के कारण उनका पश्चाताप हुआ; अर्थात् वे उन्हें अपने परमेश्वर यहोवा की पहिचान में ले आए, और अपने छुड़ाने वाले यीशु मसीह में आनन्दित हुए।
40 और कौन जानता है कि उनमें से हजारों को, हां, और हमारे हजारों हठीले भाइयों, नफाइयों को, जो अब अपने हृदयों को पापों और अधर्मों में कठोर कर रहे हैं, के ज्ञान में लाने के लिए वे क्या साधन होंगे। उनके मुक्तिदाता।
41 अब ये भेद मुझे अभी तक पूरी तरह से नहीं बताए गए हैं; इसलिए मैं सहन करूंगा।
42 और यदि मैं केवल यह कहूं, कि वे उस बुद्धिमान प्रयोजन के लिये सुरक्षित रखे गए हैं, जिसका प्रयोजन परमेश्वर को मालूम है; क्योंकि वह अपके सब कामोंके विषय में बुद्धि से युक्ति करता है, और उसके मार्ग सीधे हैं, और उसका मार्ग एक अनन्त चक्र है।
43 हे मेरे पुत्र हिलामन, स्मरण कर, कि परमेश्वर की आज्ञाएं कितनी कठोर हैं।
44 और उस ने कहा, यदि तुम मेरी आज्ञाओं को मानोगे, तो देश में सफल हो जाओगे; परन्तु यदि तुम मेरी आज्ञाओं को न मानोगे, तो मेरे साम्हने से नाश किए जाओगे।
45 और अब याद रखो, मेरे बेटे, कि परमेश्वर ने तुम्हें ये चीजें सौंपी हैं, जो पवित्र हैं, जिन्हें उसने पवित्र रखा है, और जिसे वह अपने बुद्धिमान उद्देश्य के लिए रखेगा और सुरक्षित रखेगा, ताकि वह अपनी शक्ति को प्रकट कर सके भावी पीढ़ियां।
46 और अब देखो, मैं तुम्हें भविष्यवाणी की आत्मा से बताता हूं, कि यदि तुम परमेश्वर की आज्ञाओं का उल्लंघन करते हो, तो देखो, ये पवित्र वस्तुएं परमेश्वर की शक्ति से तुमसे छीन ली जाएंगी, और तुम उनके हाथ पकड़वाए जाओगे। शैतान, कि वह तुम्हें हवा के आगे भूसी की नाईं छलनी कर दे;
47 परन्तु यदि तुम परमेश्वर की आज्ञाओं को मानते हो, और उन पवित्र कामों के साथ करते हो जो यहोवा की आज्ञा के अनुसार करते हैं (क्योंकि तुम्हें उन सभी चीजों के लिए प्रभु से प्रार्थना करनी चाहिए जो तुम्हें उनके साथ करनी चाहिए), तो कोई शक्ति नहीं है पृथ्वी या नरक उन्हें आप से ले सकते हैं, क्योंकि परमेश्वर अपने सभी वचनों को पूरा करने के लिए शक्तिशाली है:
48 क्‍योंकि जो वायदे वह तुझ से करेंगे, उन सभोंको वह पूरा करेगा, क्‍योंकि जो वायदे उस ने हमारे पुरखाओं से किए थे उन्हें पूरा किया है।
49 क्योंकि उस ने उन से प्रतिज्ञा की थी, कि वह इन बातोंको उस में बुद्धिमानी के लिथे सुरक्षित रखेगा, कि वह अपनी सामर्थ आने वाली पीढ़ी को दिखाए।
50 और अब देखो, उसने एक उद्देश्य पूरा किया है, यहां तक कि हजारों लमनाइयों को सत्य के ज्ञान के लिए फिर से स्थापित करना; और उस ने उन में अपक्की सामर्य प्रगट की है, और वह उन में अपक्की सामर्य आनेवाली पीढ़ी को भी प्रगट करेगा; इसलिए उन्हें संरक्षित किया जाएगा;
51 इसलिथे हे मेरे पुत्र हिलामन, मैं तुझे आज्ञा देता हूं, कि मेरे सब वचनोंको पूरा करने में परिश्रमी हो, और परमेश्वर की जो आज्ञाएं लिखी गई हैं उनके अनुसार चलने में परिश्रमी हो।
52 और अब, मैं तुम से उन चौबीस पट्टियों के विषय में कहूंगा, कि तुम उनकी रक्षा करो, कि रहस्य और अन्धकार के काम, और उनके गुप्त काम, या उन लोगों के गुप्त काम, जो नष्ट हो गए हैं, हो सकते हैं इस लोगों के सामने प्रकट किया;
53 हां, उनके सब हत्याएं, और लूटपाट, और उनकी लूट, और उनकी सारी दुष्टता, और घिनौने काम, इन लोगों पर प्रगट किए जाएं; हां, और यह कि तुम इन निदेशकों की रक्षा करते हो ।
54 क्योंकि, देखो, प्रभु ने देखा कि उसके लोग अन्धकार में काम करने लगे हैं, हां, गुप्त हत्याएं और घिनौने काम करते हैं; इसलिथे यहोवा ने कहा, यदि वे मन फिरा न करें, तो पृय्वी पर से नाश किए जाएं।
55 और यहोवा ने कहा, मैं अपके दास गजलेम के लिथे एक ऐसा पत्यर तैयार करूंगा, जो अन्धकार में उजियाले की ओर चमकेगा, कि मैं अपनी प्रजा पर जो मेरी उपासना करते हैं, जानूं, कि मैं उनके भाइयोंके कामोंको उन पर प्रगट करूं; हां, उनके गुप्त कार्य, उनके अन्धकार के कार्य, और उनकी दुष्टता और घृणित कार्य ।
56 और अब मेरे बेटे, ये निदेशक तैयार किए गए थे, कि परमेश्वर का वह वचन पूरा हो, जो उसने कहा था: मैं उनके सभी गुप्त कार्यों और घृणित कार्यों को अंधकार से प्रकाश में लाऊंगा।
57 और यदि वे मन न फिराएं, तो मैं उन्हें पृय्वी पर से सत्यानाश कर डालूंगा; और मैं उनके सब भेदों और घिनौने कामोंको उन सब जातियोंके साम्हने प्रगट करूंगा जो आगे से उस देश के अधिकारी होंगी।
58 और अब मेरे पुत्र, हम देखते हैं कि उन्होंने मन फिराया नहीं; इसलिए वे नष्ट हो गए हैं; और अब तक परमेश्वर का वचन पूरा हुआ है; हां, उनके गुप्त घिनौने काम अंधकार से बाहर लाए गए हैं, और हमें बताए गए हैं ।
59 और अब हे मेरे पुत्र, मैं तुझे आज्ञा देता हूं, कि उनकी सब शपय, और वाचा, और वाचाएं, जो उनके गुप्त घिनौने कामोंमें हैं, उनको मानना; हां, और उनके सभी चिन्हों और उनके आश्चर्यकर्मों को तुम इन लोगों से दूर रखना, कि वे उन्हें न जानें, कहीं ऐसा न हो कि वे अन्धकार में भी पड़ जाएं, और नष्ट हो जाएं ।
60 क्योंकि देखो, इस सारे देश पर एक श्राप है, कि परमेश्वर की शक्ति के अनुसार, जब वे पूरी तरह से पक जाएंगे, तब उन सब अन्धकार में काम करनेवालों का विनाश होगा; इसलिए मैं चाहता हूं कि यह लोग नष्ट न हों।
61 इसलिथे तुम इन लोगोंसे अपक्की अपक्की शपय और वाचा की इन गुप्त योजनाओंको, और केवल उनकी दुष्टता, और उनके घात, और उनके घिनौने कामोंको उन पर प्रगट करना;
62 और तुम उन्हें ऐसी दुष्टता, और घिनौने कामों, और हत्याओं से घृणा करना सिखाना; और तुम उन्हें यह भी सिखाना, कि ये लोग अपनी दुष्टता, घिनौने कामों, और हत्याओं के कारण नाश किए गए।
63 क्योंकि देखो, उन्होंने यहोवा के उन सब भविष्यद्वक्ताओं को मार डाला जो उनके बीच उनके अधर्म के कामों के विषय में बताने को आए थे; और जिन को उन्होंने घात किया, उन का लोहू अपके परमेश्वर यहोवा की दोहाई दी, कि अपके हत्यारोंसे पलटा लिया जाए;
64 और इस प्रकार अंधेरे और गुप्त गठबंधन के इन कार्यकर्ताओं पर परमेश्वर का न्याय आया; हां, और अन्धकार और गुप्त गठबंधनों के उन श्रमिकों के लिए भूमि हमेशा और हमेशा के लिए शापित हो, यहां तक कि विनाश के लिए, जब तक कि वे पूरी तरह से पके होने से पहले पश्चाताप न करें ।
65 और अब मेरे पुत्र, जो बातें मैं ने तुम से कही हैं उन्हें स्मरण रखो: उन गुप्त योजनाओं पर इन लोगों पर भरोसा मत करो, परन्तु उन्हें पाप और अधर्म से सदा की बैर रखना सिखाओ;
66 उन को मन फिराव और प्रभु यीशु मसीह पर विश्वास करने का उपदेश करो; उन्हें दीन होना, और मन में दीन और दीन होना सिखा; प्रभु यीशु मसीह पर अपने विश्वास के साथ, उन्हें शैतान की हर परीक्षा का सामना करना सिखाएं;
67 उन्हें भले कामों से कभी न थकना, परन्तु नम्र और मन में दीन रहना सिखा, क्योंकि ऐसे लोग अपने प्राणों को चैन पाएंगे।
68 हे मेरे पुत्र को स्मरण कर, और अपनी जवानी में बुद्धि सीख; हां, अपनी जवानी में परमेश्वर की आज्ञाओं को मानना सीखो; हां, और अपने समस्त समर्थन के लिए परमेश्वर की दोहाई दें;
69 हां, तेरे सब काम यहोवा के लिथे हों, और जहां कहीं तू जाए वहां यहोवा में रहे; हां, अपने विचार प्रभु की ओर लगाएं; वरन तेरा हृदय यहोवा पर सदा बना रहे; अपके सब कामोंमें यहोवा को सम्मति देना, और वह तुझे भलाई का मार्ग बताएगा;
70 और जब तू रात को सोए, तब यहोवा के पास लेट जाए, कि वह तेरी नींद में तेरी रक्षा करे; और जब तू भोर को उठे, तब तेरा मन परमेश्वर के धन्यवाद से भरा रहे; और यदि तुम ये काम करते हो, तो अन्तिम दिन में ऊंचे पर चढ़ जाओगे।
71 और अब मेरे बेटे, मुझे उस बात के विषय में कुछ कहना है जिसे हमारे पिता गेंद या निर्देशक कहते हैं; वा हमारे पुरखा इसे लिआहोना कहते थे, जिसका अर्थ एक कंपास है; और यहोवा ने उसे तैयार किया।
72 और देखो, कोई मनुष्य इतनी जिज्ञासु कारीगरी के अनुसार काम नहीं कर सकता ।
73 और देखो, यह हमारे पुरखाओं को वह मार्ग दिखाने के लिथे तैयार किया गया था कि वे जंगल में किस मार्ग से जाएं; और परमेश्वर पर उनके विश्वास के अनुसार उस ने उनके लिये काम किया;
74 इसलिथे यदि उन्हें विश्वास होता कि परमेश्वर उन तकलोंको उस मार्ग की ओर संकेत कर सकता है जिस पर उन्हें चलना चाहिए, तो देखो, यह हो गया; इसलिए उनके पास यह चमत्कार, और परमेश्वर की शक्ति से दिन-ब-दिन और भी कई चमत्कार होते थे;
75 फिर भी, क्योंकि वे चमत्कार छोटे तरीकों से किए गए थे, इसने उन्हें अद्भुत कार्य दिखाए ।
76 और वे आलसी थे, और अपने विश्वास और परिश्रम को करना भूल गए, और तब वे अद्भुत काम बंद हो गए, और वे अपनी यात्रा में आगे नहीं बढ़े:
77 इसलिथे वे जंगल में ही रहे, वा सीधे मार्ग से न चले, और अपके अपराधोंके कारण भूख-प्यास से पीड़ित हुए।
78 और अब मेरे बेटे, मैं चाहता हूं कि तुम समझो कि ये बातें बिना छाया के नहीं हैं; क्‍योंकि जैसे हमारे बाप-दादा ने इस दिशा की ओर ध्यान देने में ढिलाई बरती, (अब ये बातें थोड़े समय की थीं) वे सफल न हुईं; वैसे ही यह उन चीजों के साथ है जो आध्यात्मिक हैं।
79 क्योंकि देखो, मसीह के वचन पर ध्यान देना उतना ही आसान है, जो आपको अनन्त आनंद की ओर एक सीधा मार्ग दिखाएगा, जैसे कि हमारे पिताओं के लिए इस दिशा-निर्देश पर ध्यान देना था, जो उनके लिए एक सीधी दिशा की ओर संकेत करेगा। , वादा की गई भूमि के लिए।
80 और अब मैं कहता हूं, क्या इस बात में कोई प्रकार नहीं है? जिस तरह यह निर्देशक निश्चित रूप से हमारे पिताओं को अपने मार्ग का अनुसरण करके वादा किए गए देश में लाया था, मसीह के वचन, यदि हम उनके मार्ग का अनुसरण करते हैं, तो हमें दुख की इस घाटी से परे, वादे की एक बेहतर भूमि में ले जाएंगे।
81 हे मेरे पुत्र, हम मार्ग की सुगमता के कारण आलसी न हों; क्‍योंकि ऐसा ही हमारे पुरखाओं के साथ भी हुआ था; क्‍योंकि उनके लिथे ऐसा ही तैयार किया गया था, कि यदि वे देखें, तो जीवित रहें; वैसे भी यह हमारे साथ है।
82 मार्ग तैयार है, और यदि हम देखें, तो सर्वदा जीवित रहें।
83 और अब मेरे पुत्र, देख, कि इन पवित्र वस्तुओं की चौकसी करना; हां, देखो कि तुम परमेश्वर की ओर दृष्टि करके जीवित रहो।
84 इन लोगों के पास जाकर वचन सुना, और सावधान रह। मेरे बेटे, विदाई।

 

अल्मा, अध्याय 18

अलमा की आज्ञा, उसके पुत्र शिब्लोन को। 1 हे मेरे पुत्र, मेरी बातों पर कान लगा; क्योंकि जैसा मैं ने हिलामन से कहा था, वैसा ही मैं तुम से कहता हूं, कि जब तक तुम परमेश्वर की आज्ञाओं को मानोगे, तब तक देश में उन्नति करते जाओगे; और जब तक तुम परमेश्वर की आज्ञाओं को न मानोगे, तब तक उसके साम्हने से दूर किए जाओगे।
2 और अब मेरे पुत्र, मुझे भरोसा है, कि तेरी दृढ़ता और परमेश्वर के प्रति तेरी सच्चाई के कारण मुझे तुझ में बड़ा आनन्द होगा; क्योंकि जैसा तू ने अपनी जवानी में आरम्भ किया, कि अपने परमेश्वर यहोवा की ओर दृष्टि करे, वैसे ही मैं भी आशा करता हूं, कि तू उसकी आज्ञाओं पर चलता रहेगा; क्योंकि वह धन्य है जो अन्त तक बना रहता है।
3 हे मेरे पुत्र, मैं तुझ से कहता हूं, कि तेरी सच्चाई, और परिश्रम, और धीरज, और जोरामाइयोंके बीच में तेरे दीर्घकाल के कष्ट के कारण मैं तुझ से पहले ही बहुत आनन्दित हुआ हूं।
4 क्योंकि मैं ने जान लिया, कि तू बन्धन में पड़ा है; हां, और मैं यह भी जानता था कि वचन के कारण तुम पर पथराव किया गया था; और इन सब बातों को तू ने धीरज से सहा, क्योंकि यहोवा तेरे संग रहा; और अब तुम जान गए हो, कि यहोवा ने तुम्हारा उद्धार किया है।
5 और अब मेरे पुत्र शिब्लोन, मैं चाहता हूं कि तुम स्मरण रखो कि जितना अधिक तुम परमेश्वर पर भरोसा रखो, उतना ही तुम अपनी परीक्षाओं, और अपने क्लेशों, और क्लेशों से छुटकारा पाओगे; और अन्तिम दिन में ऊंचे पर चढ़ाया जाएगा।
6 अब मेरे बेटे, मैं नहीं चाहता कि तुम यह समझो कि मैं इन बातों को अपने आप में जानता हूं, परन्तु परमेश्वर का आत्मा मुझ में है, जो इन बातों को मुझ पर प्रगट करता है: क्योंकि यदि मैं परमेश्वर से उत्पन्न न होता, मुझे ये बातें नहीं जाननी चाहिए थीं।
7 परन्तु देखो, प्रभु ने अपनी बड़ी दया से अपने दूत को मेरे पास यह घोषित करने के लिए भेजा, कि मैं उसके लोगों के बीच विनाश के कार्य को रोक दूं;
8 वरन मैं ने एक स्वर्गदूत को आमने-सामने देखा है; और उस ने मुझ से बातें की, और उसका शब्द गर्जन के समान था, और उस ने सारी पृय्वी को कांप दिया।
9 और ऐसा हुआ कि मैं तीन दिन और तीन रात आत्मा की सबसे कड़वी पीड़ा और पीड़ा में रहा: और जब तक मैंने प्रभु यीशु मसीह से दया की दुहाई नहीं दी, तब तक मुझे अपने पापों की क्षमा नहीं मिली ।
10 परन्तु देखो, मैंने उसकी दोहाई दी, और मुझे अपने आत्मा को शांति मिली ।
11 और अब मेरे बेटे, मैं ने तुम से यह कहा है, कि तुम बुद्धि सीखो, कि तुम मेरे विषय में जान सको कि कोई दूसरा मार्ग नहीं है और न ही कोई उपाय है जिसके द्वारा मनुष्य केवल मसीह में और उसके द्वारा बचाया जा सकता है।
12 देखो, वही जगत का जीवन और ज्योति है। निहारना, वह सत्य और धार्मिकता का वचन है।
13 और अब, जैसा तुम ने वचन की शिक्षा देना आरम्भ किया है, वैसे ही मैं चाहता हूं कि तुम उपदेश देते रहो; और मैं चाहता हूं कि तुम सब बातों में परिश्रमी और संयमी बनो ।
14 देखो, कहीं तुम घमण्ड न करो; वरन न तो अपनी बुद्धि पर, और न अपने बहुत बल पर घमण्ड करो; साहस का प्रयोग करें, लेकिन अति सहनशीलता का नहीं;
15 और यह भी देखो, कि तुम अपनी सारी लालसाओं पर लगा रहो, कि तुम प्रेम से भर जाओ; देखो कि तुम आलस्य से दूर रहो; जोरामाइयों की नाईं प्रार्थना न करना, क्योंकि तुम ने देखा है, कि वे मनुष्यों की सुने जाने, और उनकी बुद्धि के कारण प्रशंसा पाने के लिथे प्रार्थना करते हैं।
16 यह मत कहो, हे परमेश्वर, मैं तेरा धन्यवाद करता हूं, कि हम अपके भाइयोंसे अच्छे हैं; परन्‍तु यह कहना, कि हे प्रभु, मेरी निकम्माता को क्षमा कर, और मेरे भाइयोंको करूणा से स्मरण कर; हाँ, हर समय परमेश्वर के सामने अपनी अयोग्यता को स्वीकार करें।
17 और यहोवा तेरी आत्मा को आशीष दे, और अन्तिम दिन में तुझे शान्ति से बैठने के लिये अपने राज्य में ले आए।
18 अब, मेरे बेटे, जाओ, और इन लोगों को वचन सिखाओ। शांत रहो। मेरे बेटे, विदाई।

 

अल्मा, अध्याय 19

अलमा की आज्ञाएं, उसके पुत्र, कोरियंटन को। 1 और अब मेरे बेटे, मुझे तुमसे कुछ और कहना है जो मैंने तुम्हारे भाई से कहा था: क्योंकि देखो, क्या तुमने अपने भाई की दृढ़ता, उसकी सच्चाई, और परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने में उसका परिश्रम।
2 सुन, क्या उस ने तेरे लिथे उत्तम आदर्श नहीं रखा?
3 क्‍योंकि जोरामाइयोंके बीच में तू ने अपके भाई की नाई मेरी बातोंकी ओर ध्यान न दिया।
4 अब जो कुछ मैं तुझ से चाहता हूं वह यह है; तू अपने बल और अपनी बुद्धि पर घमण्ड करता रहा।
5 और यह सब नहीं है, मेरे बेटे। तू ने वह किया जो मुझे बुरा लगा; क्योंकि तू ने सेवकाई को छोड़ दिया, और इसाबेल वेश्या के पीछे, लमनाइयों की सीमाओं के बीच, सिरोन के प्रदेश में चला गया; हां, उसने बहुतों का दिल चुरा लिया; परन्तु हे मेरे पुत्र, यह तेरे लिथे कोई बहाना न था।
6 जिस सेवकाई का काम तुझे सौंपा गया था, उस पर तुझे ध्यान देना चाहिए था।
7 हे मेरे पुत्र, तुम न जान, कि ये बातें यहोवा की दृष्टि में घृणित हैं; हां, सभी पापों में सबसे अधिक घिनौना, निर्दोष लहू बहाने के अलावा, या पवित्र आत्मा का इन्कार करना है?
8 क्योंकि देखो, यदि तुम उस समय पवित्र आत्मा का इन्कार करते हो जब वह तुम में आ चुका था, और तुम जानते हो कि तुम उसका इन्कार करते हो; देखो, यह एक ऐसा पाप है जिसे क्षमा नहीं किया जा सकता;
9 हां, और जो कोई परमेश्वर के प्रकाश और ज्ञान के विरुद्ध हत्या करता है, उसके लिए क्षमा प्राप्त करना आसान नहीं है; हां, मेरे बेटे, मैं तुमसे कहता हूं, कि उसके लिए क्षमा पाना आसान नहीं है ।
10 और अब मेरे बेटे, मैं परमेश्वर से चाहता हूं कि तुम इतने बड़े अपराध के दोषी न होते ।
11 यदि तेरा भला न होता, तो मैं तेरे अपराधों पर ध्यान न देता, कि तेरे प्राण को दु:ख दूं।
12 परन्तु देखो, तुम अपने अपराधों को परमेश्वर से नहीं छिपा सकते; और यदि तुम मन न फिराओ, तो वे अन्तिम दिन में तुम्हारे साम्हने गवाही के लिये खड़े होंगे।
13 अब, मेरे बेटे, मैं चाहता हूं कि तुम पश्चाताप करो, और अपने पापों को त्याग दो, और अपनी आंखों की अभिलाषाओं के पीछे फिर मत जाओ, परन्तु इन सब बातों में अपने आप को पार करो; क्योंकि जब तक तुम ऐसा न करोगे, तब तक तुम परमेश्वर के राज्य के वारिस नहीं हो सकते।
14 हे स्मरण कर, और इसे अपके ऊपर ले ले, और इन बातोंमें अपने आप को पार कर।
15 और मैं तुझे आज्ञा देता हूं, कि अपके बड़े भाइयोंको अपके कामोंमें सम्मति देना अपके ऊपर ले लेना; क्योंकि देखो, तू युवावस्था में है, और तुझे अपने भाइयों के द्वारा पोषित किए जाने की आवश्यकता है।
16 और उनकी युक्ति पर ध्यान देना; किसी व्यर्थ या मूर्खता के बहकावे में न आएं; दु:ख न उठा, कि शैतान उन दुष्ट वेश्‍याओं के पीछे फिर तेरा हृदय ले चले।
17 देख, हे मेरे पुत्र, तू ने जोरामियों पर कितना बड़ा अधर्म किया; क्योंकि जब उन्होंने तेरा चालचलन देखा, तो मेरी बातों पर विश्वास न किया।
18 और अब यहोवा का आत्मा मुझ से कहता है, अपके बालकोंको भलाई करने की आज्ञा दे, ऐसा न हो कि वे बहुत से लोगोंके मनोंको नाश की ओर ले चले जाएं;
19 इसलिथे हे मेरे पुत्र, मैं परमेश्वर का भय मानकर तुझे आज्ञा देता हूं, कि अपके अधर्म के कामोंसे दूर रहना; कि तुम अपनी सारी बुद्धि, पराक्रम और सामर्थ से यहोवा की ओर फिरो; कि तुम फिर से मनों को फिर न बहलाओ, कि दुष्टता करो;
20 परन्‍तु उनकी ओर फिरो, और अपक्की भूलोंको मान, और जो अधर्म तू ने किया है उसे बनाए रख; न तो धन की खोज करना, और न इस संसार की व्यर्थ वस्तुओं की खोज करना; क्योंकि देखो, तुम उन्हें अपने साथ नहीं ले जा सकते।
21 और अब, मेरे बेटे, मैं मसीह के आगमन के संबंध में तुमसे कुछ कहूंगा ।
22 देख, मैं तुम से कहता हूं, कि वही तो निश्चय आएगा, कि जगत के पाप उठा ले; हां, वह अपने लोगों को उद्धार का शुभ समाचार सुनाने आता है ।
23 और अब मेरे बेटे, यह वह सेवकाई थी जिसके लिए तुम बुलाए गए थे, कि इन लोगों को खुशखबरी सुनाने के लिए, उनके दिमाग को तैयार करने के लिए; या यों कहें कि उनके पास उद्धार आए, कि वे अपके बालकोंके मन को उसके आने के समय वचन सुनने के लिथे तैयार करें।
24 और अब मैं इस विषय पर तुम्हारे मन को कुछ हल्का कर दूंगा। देखो, तुम्हें आश्चर्य होता है कि इन बातों को इतनी देर पहले ही क्यों जान लिया जाना चाहिए।
25 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि क्या इस समय कोई प्राणी परमेश्वर के लिथे अनमोल नहीं है, जैसा प्राण उसके आने के समय होगा?
26 क्या यह आवश्यक नहीं है कि छुटकारे की योजना इन लोगों और उनके बच्चों को भी बता दी जाए?
27 क्या इस समय यह सहज नहीं है, कि यहोवा अपके दूत को भेजकर हम को यह शुभ समाचार सुनाए, जैसे हमारी सन्तान को सुनाता है; या उसके आने के समय के बाद?
28 अब मेरे बेटे, मैं तुमसे कुछ और कहूंगा: क्योंकि मैं समझता हूं कि तुम्हारा मन मरे हुओं के पुनरुत्थान के विषय में चिंतित है ।
29 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि जी उठना नहीं है; या मैं दूसरे शब्दों में कहूँगा, कि यह नश्वर अमरता धारण नहीं करता है; यह भ्रष्टता मसीह के आने के बाद तक अविनाशी नहीं होती।
30 देखो, वह मरे हुओं के पुनरुत्थान को पारित करता है । लेकिन देखो, मेरे बेटे, पुनरुत्थान अभी नहीं हुआ है।
31 अब मैं तुम पर एक भेद खोल देता हूं, तौभी बहुत से भेद ऐसे हैं, जो रखे गए हैं, कि उन्हें कोई नहीं जानता, केवल परमेश्वर को छोड़।
32 परन्तु मैं तुम्हें एक बात बताता हूं, जिसे मैं ने परमेश्वर से यत्न से पूछा है, कि मैं जानूं; यानी पुनरुत्थान के बारे में।
33 देखो, एक समय नियत है कि सब मरे हुओं में से निकलेंगे ।
34 अब यह समय कब आता है, कोई नहीं जानता; परन्तु परमेश्वर नियत समय को जानता है।
35 अब चाहे एक बार, या दूसरी बार, या तीसरी बार, कि लोग मरे हुओं में से निकलेंगे, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता; क्योंकि परमेश्वर इन सब बातों को जानता है; और मेरे लिए यह जानना पर्याप्त है कि यह मामला है; कि एक समय नियत है कि सब मरे हुओं में से जी उठेंगे।
36 अब मृत्यु के समय और पुनरुत्थान के समय के बीच एक स्थान होना चाहिए।
37 और अब मैं जानना चाहता हूं कि मृत्यु के इस समय से लेकर पुनरुत्थान के लिए नियत समय तक मनुष्यों के प्राणों का क्या होगा?
38 अब चाहे मनुष्यों के उठने के लिये एक से अधिक बार ठहराया गया हो, कोई बात नहीं; क्योंकि सब एक ही बार में नहीं मरते; और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता; सब कुछ एक दिन के समान है, परमेश्वर के पास; और समय केवल मनुष्योंके लिथे मापा जाता है;
39 इसलिथे मनुष्योंके लिथे एक समय ठहराया गया है, कि वे मरे हुओं में से जी उठेंगे; और मृत्यु के समय और पुनरुत्थान के बीच एक स्थान है।
40 और अब इस समय के बारे में । जो कुछ मनुष्यों के प्राणों से होता है, वह वह है जिसे जानने के लिए मैं ने यहोवा से यत्न से पूछा है; और यही वह चीज है जिसके बारे में मैं जानता हूं।
41 और जब वह समय आएगा जब सब उठ खड़े होंगे, तब वे जानेंगे कि परमेश्वर उन सब समयों को जानता है, जो मनुष्य के लिए नियत किए गए हैं।
42 अब मृत्यु और पुनरुत्थान के बीच आत्मा की स्थिति के विषय में।
43 देखो, एक स्वर्गदूत के द्वारा मुझ पर यह प्रगट किया गया है, कि जैसे ही सब मनुष्यों के प्राण इस नश्वर देह से निकल जाते हैं; हां, सभी मनुष्यों की आत्माएं, चाहे वे अच्छे हों या बुरे, उस परमेश्वर के पास ले जाया जाता है जिसने उन्हें जीवन दिया है ।
44 और फिर ऐसा होगा कि धर्मी लोगों की आत्माएं खुशी की स्थिति में पहुंच जाएंगी, जिसे स्वर्ग कहा जाता है; आराम की स्थिति; शांति की स्थिति, जहां वे अपनी सभी परेशानियों से, और सभी देखभाल, और दुःख आदि से आराम करेंगे।
45 और तब ऐसा होगा, कि दुष्टोंकी आत्माएं, हां, जो दुष्ट हैं; क्योंकि देखो, यहोवा के आत्मा में न तो उनका कोई अंश है और न ही कुछ; क्योंकि देखो, वे भले ही नहीं, परन्तु बुरे कामों को चुनते हैं; इसलिथे शैतान का आत्मा उन में प्रवेश करके उनके घर पर अधिकार कर लेता है;
46 और ये बाहर के अन्धकार में फेंक दिए जाएंगे; वहाँ रोना, और रोना, और दाँत पीसना होगा; और यह उनके अपने अधर्म के कारण; शैतान की इच्छा से बंदी बनाया जा रहा है।
47 अब दुष्टों के मन की दशा यह है; हां, अँधेरे में, और उन पर परमेश्वर के क्रोध के उग्र क्रोध की भयानक, भयभीत, तलाश की स्थिति में; इस प्रकार वे अपने पुनरुत्थान के समय तक इस स्थिति में रहते हैं, साथ ही साथ स्वर्ग में धर्मी भी।
48 अब कुछ ऐसे हैं जो समझ गए हैं कि पुनरुत्थान से पहले यह खुशी की स्थिति, और आत्मा की दुख की यह स्थिति, पहला पुनरुत्थान था।
49 हां, मैं मानता हूं कि इसे पुनरुत्थान कहा जा सकता है; जो बातें कही गई हैं, उनके अनुसार आत्मा या आत्मा का उत्थान, और सुख या दुख के लिए उनका प्रेषण।
50 और देखो, यह कहा गया है, कि पहिला पुनरुत्थान हुआ है; उन सभी लोगों का पुनरुत्थान जो मरे हुओं में से मसीह के पुनरुत्थान के लिए थे या जो हैं, या जो होंगे।
51 अब हम नहीं समझते कि यह पहला पुनरुत्थान, जिसके बारे में इस प्रकार कहा गया है, आत्माओं का पुनरुत्थान हो सकता है, और सुख या दुख के लिए उनका स्थानांतरण हो सकता है। आप यह नहीं मान सकते कि इसका यही अर्थ है।
52 देखो, मैं कहता हूं, नहीं; लेकिन इसका मतलब आदम के दिनों से लेकर मसीह के पुनरुत्थान तक के लोगों के शरीर के साथ आत्मा का पुनर्मिलन है।
53 अब क्या दुष्ट क्या धर्मी, मैं नहीं कहता, कि क्या आत्मा और शरीर सब एक ही बार में मिल जाएंगे;
54 यह पर्याप्त हो, कि मैं यह कहूं कि वे सब निकल आए हैं; या दूसरे शब्दों में, उनका पुनरुत्थान उन लोगों के पुनरुत्थान से पहले होता है जो मसीह के पुनरुत्थान के बाद मर जाते हैं।
55 अब मेरे पुत्र, मैं यह नहीं कहता कि उनका पुनरुत्थान मसीह के पुनरुत्थान के समय होगा; परन्तु देखो, मैं इसे अपनी राय के रूप में देता हूं, कि आत्माएं और शरीर फिर से मिल गए हैं, मसीह के पुनरुत्थान पर धर्मी, और स्वर्ग में उसके स्वर्गारोहण के समय।
56 परन्तु मैं नहीं कहता, कि उसके जी उठने के समय वा उसके बाद क्या हुआ; परन्तु मैं इतना ही कहता हूं, कि मृत्यु और शरीर के पुनरुत्थान के बीच, और सुख या दुख में आत्मा की स्थिति के बीच एक स्थान है, जब तक कि परमेश्वर की ओर से नियुक्त नहीं किया जाता है कि मरे हुए लोग बाहर आएंगे और फिर से मिलेंगे। प्राण और देह दोनों, और परमेश्वर के साम्हने खड़े किए जाएं, और उनके कामोंके अनुसार उनका न्याय किया जाए;
57 हां, इससे उन बातों की बहाली होती है जिनके बारे में भविष्यवक्ताओं के मुख से कहा गया है ।
58 प्राण देह में, और शरीर प्राण के लिथे फेर दिया जाएगा; हां, और प्रत्येक अंग और जोड़ को उसके शरीर में बहाल कर दिया जाएगा; हां, सिर का एक बाल भी नहीं झड़ेगा, वरन सब वस्तुएं अपने उचित और पूर्ण रूप में फिर से मिल जाएंगी ।
59 और अब मेरे पुत्र, यह वही है, जिसके विषय में भविष्यद्वक्ताओं के मुख से कहा गया है। और तब धर्मी परमेश्वर के राज्य में चमकेंगे।
60 परन्तु देखो, दुष्टों पर एक भयानक मृत्यु आ रही है; क्योंकि वे धर्म की बातों से मर जाते हैं; क्योंकि वे अशुद्ध हैं, और कोई अशुद्ध वस्तु परमेश्वर के राज्य का अधिकारी नहीं हो सकती;
61 परन्‍तु वे निकाल दिए जाते हैं, और उनके परिश्रम या उनके बुरे कामों का फल खाने के लिथे भिजवाए जाते हैं; और वे कड़वे प्याले का मैल पीते हैं।
62 और अब हे मेरे पुत्र, मुझे उस पुनर्स्थापना के विषय में कुछ कहना है, जिसके विषय में कहा गया है; क्योंकि देखो, कितनोंने पवित्र शास्त्र को छीन लिया है, और इस बात के कारण बहुत दूर चले गए हैं।
63 और मैं ने देखा है, कि तेरा मन भी इस बात के विषय में चिन्तित हुआ है। परन्तु सुन, मैं तुझे यह समझा दूँगा।
64 हे मेरे पुत्र, मैं तुझ से कहता हूं, कि पुनर्स्थापना की युक्ति परमेश्वर के न्याय से अवश्य है; क्योंकि यह आवश्यक है कि सभी चीजों को उनके उचित क्रम में बहाल किया जाए।
65 देखो, मसीह की शक्ति और पुनरुत्थान के अनुसार यह आवश्यक और न्यायसंगत है, कि मनुष्य का प्राण उसके शरीर में फिर से आ जाए, और शरीर का हर अंग अपने आप में फिर से आ जाए।
66 और परमेश्वर के न्याय से यह ठहराया गया है, कि मनुष्योंका न्याय उनके कामोंके अनुसार किया जाए; और यदि उनके काम इस जीवन में भले हों, और उनके मन की अभिलाषाएं अच्छी हों, कि वे भी अन्तिम दिन में भलाई में फिरें;
67 और यदि उनके काम बुरे हों, तो वे उसके बदले बुराई के बदले फिर दिए जाएं; इसलिथे सब वस्तुएं उनके अनुसार ठीक हो जाएं; अपने प्राकृतिक फ्रेम के लिए सब कुछ; मृत्यु दर अमरता तक बढ़ी; भ्रष्टाचार से भ्रष्टाचार; अनंत सुख के लिए उठाया गया, परमेश्वर के राज्य को प्राप्त करने के लिए, या अंतहीन दुख के लिए, शैतान के राज्य के वारिस होने के लिए;
68 एक ओर तो दूसरी ओर; जो अपनी खुशी की इच्छा के अनुसार खुशी के लिए उठाया; या अच्छा, उसकी भलाई की इच्छा के अनुसार; और दूसरे को अपनी बुराई की अभिलाषाओं के अनुसार बुराई के लिए; क्योंकि जिस प्रकार वह दिन भर बुराई करना चाहता है, उसी प्रकार रात के आने पर उसे उसका प्रतिफल मिलेगा।
69 और दूसरी ओर ऐसा ही है। यदि उसने अपने पापों से पश्चाताप किया है, और अपने दिनों के अंत तक धार्मिकता की इच्छा रखता है, तो भी उसे धार्मिकता का प्रतिफल मिलेगा।
70 ये वे हैं जो यहोवा के छुड़ाए हुए हैं; हां, ये वे हैं जिन्हें निकाल लिया गया है, जो उस अनंत अंधकार की रात से बचाए गए हैं; और इस प्रकार वे खड़े या गिरते हैं; क्‍योंकि देखो, चाहे भलाई करो या बुराई करो, वे अपने ही न्‍यायधीश हैं।
71 अब परमेश्वर की विधियां अपरिवर्तनीय हैं; इसलिथे मार्ग तैयार किया गया है, कि जो कोई चाहे उस पर चलकर उद्धार पाए।
72 और अब देखो, मेरे बेटे, अपने परमेश्वर के विरुद्ध उन उपदेशों के विषय में जिन्हें तुम अब तक पाप करने का जोखिम उठाते आए हो, एक और अपराध करने का जोखिम न लेना ।
73 यह न समझो, कि पुनर्स्थापना के विषय में कहा गया है, कि तुम पाप से छुड़ाकर सुख में फिर से पाओगे।
74 देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि दुष्टता कभी सुख नहीं रही।
75 और अब, मेरे बेटे, सब मनुष्य जो स्वभाव की अवस्था में हैं, या मैं कहूंगा, शारीरिक अवस्था में, कड़वाहट के पित्त में, और अधर्म के बंधन में हैं; वे संसार में परमेश्वर के बिना हैं, और वे परमेश्वर के स्वभाव के विपरीत चले गए हैं; इसलिए वे खुशी की प्रकृति के विपरीत स्थिति में हैं।
76 और अब देखो, क्या पुनर्स्थापना शब्द का अर्थ है, किसी प्राकृतिक अवस्था की वस्तु लेना, और उसे अप्राकृतिक अवस्था में रखना, या उसकी प्रकृति के विपरीत स्थिति में रखना?
77 हे मेरे पुत्र, यह बात नहीं है; परन्तु पुनर्स्थापना शब्द का अर्थ है, बुराई के बदले बुराई को फिर से लाना, या शारीरिक के लिए शारीरिक, या शैतानी के लिए शैतानी करना; उसके लिए अच्छा जो अच्छा है; धर्मी उसके लिए जो धर्मी है; सिर्फ उसके लिए जो न्यायसंगत है; जो दयालु है उसके लिए दयालु;
78 इसलिथे हे मेरे पुत्र, देख, कि तू अपके भाइयोंपर दया करता है; धर्म से व्यवहार करो, धर्म से न्याय करो, और नित्य भलाई करो; और यदि तुम ये सब काम करो, तो अपना प्रतिफल पाओगे;
79 हां, तुम पर फिर से दया की जाएगी; तुम्हें न्याय फिर से मिलेगा; तुम्हें फिर से धर्मी दण्ड दिया जाएगा;
80 और तुम को फिर से अच्छा प्रतिफल मिलेगा; क्‍योंकि जो कुछ तुम भेजते हो, वह फिर तुम्हारे पास लौटकर फिर मिलेगा; इस कारण पुनास्थापना का वचन पापी को अधिक पूर्ण रूप से दोषी ठहराता है, और उसे कुछ भी धर्मी नहीं ठहराता।
81 और अब, मेरे बेटे, मैं समझता हूं कि कुछ और भी है जो तुम्हारे मन को चिंतित करता है, जिसे तुम नहीं समझ सकते, जो पापी के दंड में परमेश्वर के न्याय से संबंधित है: क्योंकि तुम यह समझने की कोशिश करते हो कि यह अन्याय है कि पापी को दुख की स्थिति में भेज दिया जाए।
82 अब सुन, हे मेरे पुत्र, मैं तुझे यह बात समझाऊंगा; क्योंकि जब यहोवा परमेश्वर ने हमारे पहिलौठे माता-पिता को अदन की बारी से निकालकर उस भूमि पर भेज दिया, जहां से वे ले गए थे; वरन उस ने उस मनुष्य को निकाल लिया, और अदन की बारी के पूर्व की ओर करूब, और जीवन के वृक्ष की रखवाली करने के लिथे एक धधकती हुई तलवार, जो चारों ओर मुड़ती थी, रख दी।
83 अब हम देखते हैं कि वह मनुष्य भले बुरे का ज्ञान पाकर परमेश्वर तुल्य हो गया था; और ऐसा न हो कि वह हाथ बढ़ाकर जीवन के वृझ का फल भी ले, और खाकर युगानुयुग जीवित रहे, यहोवा परमेश्वर ने करूबोंऔर धधकती तलवार को रखा, कि वह फल का भागी न हो;
84 और इस प्रकार हम देखते हैं, कि मनुष्य को पश्चाताप करने का, हां, परिवीक्षाधीन समय, पश्चाताप करने और परमेश्वर की सेवा करने का समय दिया गया था ।
85 क्योंकि देखो, यदि आदम ने तुरन्त हाथ बढ़ाकर जीवन के वृक्ष का फल खा लिया होता, तो परमेश्वर के वचन के अनुसार, पश्चाताप के लिए कोई स्थान न रखते हुए, वह सर्वदा जीवित रहता;
86 हां, और परमेश्वर का वचन भी व्यर्थ होता, और उद्धार की महान योजना विफल हो जाती।
87 परन्तु देखो मनुष्य के लिये मरना ठहराया गया; इस कारण जैसे वे जीवन के वृक्ष में से नाश किए गए, वैसे ही वे पृय्वी पर से भी नाश किए जाएं; और मनुष्य सदा के लिये खो गया; हाँ, वे पतित मनुष्य बन गए।
88 और अब हम इसके द्वारा देखते हैं, कि हमारे पहिले माता-पिता, अस्थायी और आत्मिक रूप से, यहोवा के साम्हने से नाश किए गए; और इस प्रकार हम देखते हैं कि वे अपनी इच्छा के अनुसार पालन करने वाले विषय बन गए।
89 अब देखो, यह समीचीन नहीं था कि मनुष्य को इस अस्थायी मृत्यु से मुक्त किया जाए, क्योंकि इससे खुशी की महान योजना नष्ट हो जाएगी;
90 इसलिए, क्योंकि आत्मा कभी नहीं मर सकती थी, और पतन ने सारी मानवजाति पर एक आध्यात्मिक मृत्यु और साथ ही एक अस्थायी मृत्यु ला दी थी; अर्थात् वे यहोवा के साम्हने से नाश किए गए; इसलिए यह समीचीन था कि मानव जाति को इस आध्यात्मिक मृत्यु से पुनः प्राप्त किया जाना चाहिए;
91 इसलिए चूँकि वे स्वभाव से कामुक, कामुक और शैतानी थे, इसलिए यह परिवीक्षाधीन अवस्था उनके लिए तैयारी करने की अवस्था बन गई; यह एक प्रारंभिक अवस्था बन गई।
92 और अब, हे मेरे पुत्र, स्मरण रखना, यदि उनके मरते ही छुटकारे की योजना (इसे अलग रखना) न होती, तो प्रभु के सामने से नाश किए जाने के कारण उनके प्राण दुखी हो जाते थे।
93 और अब इस पतित अवस्था से मनुष्यों को पुनः प्राप्त करने का कोई साधन नहीं था, जिसे मनुष्य ने अपनी ही अवज्ञा के कारण अपने ऊपर ले लिया था;
94 इसलिए, न्याय के अनुसार, केवल इस परिवीक्षाधीन अवस्था में पुरुषों के पश्चाताप की शर्तों पर, छुटकारे की योजना नहीं लाई जा सकती थी; हाँ, यह प्रारंभिक अवस्था; क्योंकि इन शर्तों के अलावा, दया तब तक प्रभावी नहीं हो सकती जब तक कि वह न्याय के कार्य को नष्ट न कर दे।
95 अब न्याय के काम को नष्ट नहीं किया जा सकता था: यदि ऐसा होता तो परमेश्वर परमेश्वर नहीं रहता।
96 और इस प्रकार हम देखते हैं कि सारी मानवजाति पतित हो गई, और वे न्याय की पकड़ में आ गए; हां, परमेश्वर का न्याय, जिसने उन्हें अपनी उपस्थिति से हमेशा के लिए अलग कर दिया ।
97 और अब प्रायश्चित के बिना दया की योजना पूरी नहीं की जा सकती थी; इसलिए परमेश्वर आप ही संसार के पापों का प्रायश्चित करता है, कि दया की योजना को पूरा करे, और न्याय की मांगों को पूरा करे, कि परमेश्वर एक सिद्ध, धर्मी परमेश्वर, और एक दयालु परमेश्वर भी हो।
98 अब पश्चाताप मनुष्यों के पास नहीं आ सकता था, सिवाय एक दंड के, जो आत्मा के जीवन की तरह शाश्वत था, जो खुशी की योजना के विपरीत था, जो आत्मा के जीवन के समान शाश्वत भी था ।
99 अब, कोई मनुष्य पश्चाताप कैसे कर सकता है, सिवाय पाप के? यदि व्यवस्था न होती तो वह पाप कैसे करता? कोई कानून कैसे हो सकता है, सिवाय सजा के?
100 अब एक दण्ड दिया गया, और एक न्यायपूर्ण व्यवस्था दी गई, जिसके कारण मनुष्य के विवेक का पश्चाताप हुआ।
101 अब यदि कोई व्यवस्था न होती, और यदि कोई मार डाले तो मर जाए, तो क्या वह इस बात से डरता कि यदि वह हत्या करे, तो वह मर जाए?
102 और यह भी, कि यदि पाप के विरुद्ध कोई व्यवस्था न दी जाती, तो मनुष्य पाप से नहीं डरते।
103 और यदि कोई व्यवस्था न दी जाती, यदि मनुष्य पाप करे, तो न्याय या दया क्या करे, क्योंकि उनका प्राणी पर कोई अधिकार न होता।
104 परन्तु व्यवस्था दी गई है, और दण्ड दिया गया है, और मन फिराव दिया गया है; जो पश्चाताप, दया का दावा करता है: अन्यथा, न्याय प्राणी का दावा करता है, और कानून को क्रियान्वित करता है, और कानून सजा देता है; यदि ऐसा नहीं होता, तो न्याय के काम नष्ट हो जाते, और परमेश्वर परमेश्वर नहीं रह जाता।
105 परन्तु परमेश्वर परमेश्वर नहीं रहता, और पश्चाताप करने वाले पर दया होती है, और प्रायश्चित के कारण दया आती है; और प्रायश्चित से मरे हुओं का जी उठना होता है; और मरे हुओं का जी उठना मनुष्यों को परमेश्वर के साम्हने लौटा देता है;
106 और इस प्रकार वे उसके साम्हने फिर से हो गए; उनके कामों के अनुसार न्याय किया जाएगा; कानून और न्याय के अनुसार; क्‍योंकि देखो, उसकी सब मांगों को न्याय पूरा करता है, और जो कुछ उसका है उस पर दया भी करती है; और इस प्रकार, वास्तव में पश्चाताप करने वाले के अलावा कोई नहीं बचा है।
107 क्या, क्या तुम समझते हो कि दया न्याय को लूट सकती है? मैं तुम से कहता हूं, नहीं; एक सफेद नहीं। यदि ऐसा है, तो भगवान भगवान बनना बंद कर देंगे।
108 और इस प्रकार परमेश्वर अपने महान और शाश्वत उद्देश्यों को पूरा करता है, जो संसार की नींव से तैयार किए गए थे ।
109 और इस प्रकार मनुष्यों का उद्धार और छुटकारे, और उनका विनाश और विपत्ति भी आती है; इसलिए, हे मेरे पुत्र, जो कोई आए, वह आकर जीवन के जल में स्वतंत्र रूप से भाग ले;
110 और जो कोई नहीं आएगा, वह आने के लिए विवश नहीं है; परन्तु अन्तिम दिन में उसे उसके कामों के अनुसार फेर दिया जाएगा।
111 यदि वह बुरा करना चाहता है, और अपने दिनोंमें मन फिरा न किया हो, तो देखो, परमेश्वर की पुनर्स्थापना के अनुसार उसके साथ बुराई की जाएगी।
112 और अब, मेरे पुत्र, मेरी इच्छा है कि तुम इन बातों को और अधिक कष्ट न देना, और केवल तुम्हारे पापों को उस संकट से कष्ट देना चाहिए जो तुम्हें पश्चाताप के लिए नीचे लाएगा ।
113 हे मेरे पुत्र, मैं चाहता हूं कि तुम परमेश्वर के न्याय से फिर कभी इनकार न करना।
114 परमेश्वर के न्याय का इन्कार करके, अपने पापों के कारण जरा भी अपने आप को क्षमा करने की चेष्टा न करना, परन्तु क्या परमेश्वर का न्याय, और उसकी दया, और उसके दीर्घकाल के कष्ट को अपने हृदय में प्रबल होने देना; परन्तु वह तुम्हें नम्रता से मिट्टी में मिला दे।
115 और अब, हे मेरे पुत्र, तुम परमेश्वर के द्वारा इन लोगों को वचन का प्रचार करने के लिए बुलाए गए हो ।
116 और अब, मेरे पुत्र, चला जा, सत्य और संयम से वचन का प्रचार कर, कि तू प्राणों को मन फिराव के लिथे ले आए, कि उन पर दया की बड़ी युक्ति का दावा हो।
117 और परमेश्वर मेरे वचनोंके अनुसार तुम्हें भी अनुदान दे। तथास्तु।

 

अल्मा, अध्याय 20

1 और अब ऐसा हुआ, कि अलमा के पुत्र लोगों को वचन सुनाने के लिए उनके बीच गए । और अलमा भी, स्वयं, आराम नहीं कर सका, और वह भी चला गया ।
2 अब हम उनके प्रचार के विषय में फिर कुछ न कहेंगे, जब तक कि उन्होंने भविष्यद्वाणी और प्रकाशन की आत्मा के अनुसार वचन और सच्चाई का प्रचार किया; और वे परमेश्वर की उस पवित्र व्यवस्था के अनुसार, जिसके द्वारा वे बुलाए गए थे, प्रचार किया करते थे।
3 और अब मैं न्यायियों के शासन के अठारहवें वर्ष में नफाइयों और लमनाइयों के बीच हुए युद्धों के विवरण पर लौटता हूं ।
4 क्योंकि देखो, ऐसा हुआ कि जोरामाई लमनाई बन गए; इसलिए अठारहवें वर्ष के प्रारंभ में, नफाइयों के लोगों ने देखा कि लमनाई उन पर आ रहे हैं; इसलिए उन्होंने युद्ध की तैयारी की; हां, उन्होंने यरशोन प्रदेश में अपनी सेना इकट्ठी की ।
5 और ऐसा हुआ कि लमनाई अपने हजारों के साथ आए; और वे अंतोनुम के देश में आए, जो सोरामियोंका देश या; और उनका प्रधान जेराहेम्ना नाम का एक पुरूष या।
6 और अब चूंकि अमालेकी लमनाइयों की तुलना में अधिक दुष्ट और हत्यारे स्वभाव के थे, इसलिए जेराहेमना ने लमनाइयों पर मुख्य सेनापति नियुक्त किए, और वे सभी अमालेकी और जोरामी थे ।
7 अब उसने ऐसा किया, ताकि वह नफाइयों के प्रति उनकी घृणा को बनाए रखे; कि वह उन्हें अपने वश में कर ले, कि वह अपक्की युक्‍तियोंकी सिद्धि हो;
8 क्योंकि देखो, उसकी योजना लमनाइयों को नफाइयों के विरुद्ध भड़काने की थी; उसने ऐसा इसलिए किया कि वह उन पर बड़ा अधिकार कर ले; और यह भी कि वह नफाइयों को दासता में लाकर उन पर अधिकार कर सके, आदि ।
9 और अब नफाइयों की योजना उनके प्रदेशों, उनके घरों, और उनकी पत्नियों और उनके बच्चों को सहारा देने की थी, ताकि वे उन्हें उनके शत्रुओं के हाथों से बचा सकें, और यह भी कि वे अपने अधिकारों और विशेषाधिकारों की रक्षा कर सकें;
10 हां, और उनकी स्वतंत्रता भी, कि वे अपनी इच्छा के अनुसार परमेश्वर की उपासना करें; क्योंकि वे जानते थे कि यदि वे लमनाइयों के हाथों में पड़ गए, कि जो कोई भी परमेश्वर की आराधना करेगा, आत्मा और सच्चाई से, सच्चे और जीवित परमेश्वर, लमनाइयों को नष्ट कर देगा;
11 हां, और वे अपने भाइयों के प्रति लमनाइयों की अत्यधिक घृणा को भी जानते थे, जो कि एंटी-नफी-लेही के लोग थे; जो अम्मोन के लोग कहलाते थे;
12 और उन्होंने हथियार न उठाए; हां, उन्होंने वाचा बान्धी थी, और उन्होंने उसे न तोड़ा; इसलिए यदि वे लमनाइयों के हाथों में पड़ जाते, तो वे नष्ट हो जाते ।
13 और नफाइयों ने दुख नहीं उठाया कि वे नष्ट हो जाएं; इसलिथे उन्होंने उनको उनके निज भाग के लिथे भूमि दी।
14 और अम्मोन के लोगों ने नफाइयों को अपनी सेना का समर्थन करने के लिए अपनी संपत्ति का एक बड़ा हिस्सा दिया;
15 और इस प्रकार नफाइयों को अकेले ही लमनाइयों का सामना करने के लिए विवश किया गया, जो लमन और लमूएल का एक परिसर था, और इश्माएल के पुत्र थे, और वे सभी जो नफाइयों से असहमत थे, जो अमालेकियों, और जोरामाइयों, और नूह के याजकों के वंशज।
16 अब वे वंश नफाइयों के समान असंख्य, लगभग थे; और इस प्रकार नफाइयों को अपने भाइयों के साथ संघर्ष करना पड़ा, यहां तक कि रक्तपात तक भी ।
17 और ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों की सेना अंत्यौनम प्रदेश में इकट्ठी हुई, देखो नफाइयों की सेना जेरशान प्रदेश में उनसे मिलने के लिए तैयार थी ।
18 अब नफाइयों का प्रधान, या वह व्यक्ति जिसे नफाइयों का प्रधान सेनापति नियुक्त किया गया था: अब प्रधान सेनापति ने नफाइयों की सारी सेना की कमान संभाली: और उसका नाम मोरोनी था;
19 और मोरोनी ने सारी आज्ञा, और उनके युद्ध की सरकारों को ले लिया । और वह केवल पच्चीस वर्ष का था जब उसे नफाइयों की सेना का प्रधान सेनापति नियुक्त किया गया ।
20 और ऐसा हुआ कि वह जेरशान की सीमाओं में लमनाइयों से मिला, और उसके लोग तलवारों, और परिधियों, और युद्ध के सभी प्रकार के हथियारों से लैस थे ।
21 और जब लमनाइयों की सेना ने देखा कि नफी के लोगों ने, या कि मोरोनी ने अपने लोगों को चपरासें, और शस्त्र ढालों से तैयार किया है; हां, और अपने सिर की रक्षा के लिए ढालें भी; और वे भी मोटे वस्त्र पहिने हुए थे।
22 अब जेराहेमना की सेना ऐसी किसी बात के लिए तैयार नहीं थी।
23 उनके पास केवल अपक्की तलवारें, और उनकी परिधि, उनके धनुष और उनके तीर, उनके पत्थर और उनके गोफन थे; परन्तु वे नंगे थे, केवल एक खाल जो उनकी कमर पर बंधी हुई थी; हां, जोरामाइयों और अमालेकी को छोड़कर सब नंगे थे ।
24 परन्तु उनके पास न तो कवच थे, और न ढाल; इसलिए वे अपने हथियारों के कारण नफाइयों की सेना से बहुत डरते थे, भले ही उनकी संख्या नफाइयों से बहुत अधिक थी ।
25 देखो, अब ऐसा हुआ कि वे जेरशान की सीमा पर नफाइयों के विरुद्ध आने का साहस नहीं कर सके; इसलिथे वे अन्तानीम के देश से निकलकर जंगल में चले गए, और जंगल में सीदोन नदी के सिरहाने पर इधर-उधर कूच किया, कि वे मन्ती देश में आ जाएं, और उस देश को अपने अधिकार में कर लें; क्योंकि उन्होंने नहीं सोचा था कि मोरोनी की सेना को पता चल जाएगा कि वे कहाँ गए थे ।
26 परन्तु ऐसा हुआ कि जैसे ही वे जंगल में चले गए, मोरोनी ने उनकी छावनी पर नजर रखने के लिए जंगल में भेदियों को भेजा; और मोरोनी ने भी, अलमा की भविष्यवाणियों को जानते हुए, कुछ लोगों को उसके पास भेजा, जो उससे चाहते थे कि वह प्रभु से पूछताछ करे कि नफाइयों की सेना को लमनाइयों से बचाव के लिए कहां जाना चाहिए ।
27 और ऐसा हुआ कि प्रभु का वचन अलमा तक पहुंचा, और अलमा ने मोरोनी के दूत को सूचित किया कि लमनाइयों की सेना निर्जन प्रदेश में घूम रही है, ताकि वे मन्टी प्रदेश में आ सकें, ताकि वे लोगों के अधिक कमजोर हिस्से पर हमला शुरू कर सकता है।
28 और उन दूतोंने जाकर मोरोनी को सन्देश पहुँचाया ।
29 अब मोरोनी, अपनी सेना के एक भाग को जेरशान प्रदेश में छोड़कर, कहीं ऐसा न हो कि लमनाइयों का एक भाग उस प्रदेश में आ जाए और नगर पर अधिकार कर ले, अपनी सेना के शेष भाग को ले लिया और आगे चलकर मेंटी की भूमि।
30 और उसने कहा कि प्रदेश के उस हिस्से के सभी लोग, लमनाइयों से लड़ने के लिए, अपने प्रदेशों और अपने देश, अपने अधिकारों और अपनी स्वतंत्रता की रक्षा करने के लिए एक साथ एकत्रित हों; इसलिए वे लमनाइयों के आने के समय के लिए तैयार थे ।
31 और ऐसा हुआ, कि मोरोनी ने अपनी सेना को सीदोन नदी के किनारे की घाटी में, जो सीदोन नदी के पश्चिम में, जंगल में थी, गुप्त की थी ।
32 और मोरोनी ने चारों ओर भेदियों को रखा, ताकि वह जान सके कि लमनाइयों की छावनी कब आएगी ।
33 और अब जैसा कि मोरोनी लमनाइयों के इरादे को जानता था, कि उनका इरादा अपने भाइयों को नष्ट करने, या उन्हें अधीन करने और उन्हें गुलामी में लाने का था, ताकि वे पूरे प्रदेश पर अपने लिए एक राज्य स्थापित कर सकें;
34 और वह यह भी जानता था कि नफाइयों की केवल यही इच्छा थी कि वे अपने प्रदेशों, अपनी स्वतंत्रता, और अपने गिरजे को सुरक्षित रखें, इसलिए उसने सोचा कि छल से उनका बचाव करना कोई पाप नहीं है; इसलिए उसने अपने जासूसों द्वारा पाया कि लमनाइयों को कौन सा मार्ग अपनाना था ।
35 इसलिथे उस ने अपक्की सेना को बांट लिया, और एक भाग को तराई में ले जाकर पूर्व की ओर और रिपला पहाड़ी की दक्खिन ओर छिपा दिया; और शेष को उस ने पच्छिम की तराई में, और सीदोन नदी के पच्छिम में, और इसी रीति से मन्ती देश के सिवाने में छिपा रखा था।
36 और इस प्रकार अपक्की इच्छा के अनुसार अपक्की सेना लगाकर उन से भेंट करने को तैयार हुआ।
37 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों ने उत्तर के उत्तर में चढ़ाई की, जहां मोरोनी की सेना का एक हिस्सा छिपा हुआ था ।
38 और जब लमनाइयों ने रिपला पहाड़ी को पार किया, और घाटी में आए, और सीदोन नदी को पार करने लगे, वह सेना जो पहाड़ी के दक्षिण में छिपी हुई थी, जिसका नेतृत्व लेही नामक एक व्यक्ति कर रहा था; और उसने अपनी सेना को आगे बढ़ाया और लमनाइयों को उनके पिछले हिस्से में पूर्व की ओर घेर लिया ।
39 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों ने, जब उन्होंने नफाइयों को अपने पीछे पीछे आते देखा, उन्हें घुमाया, और लेही की सेना से लड़ने लगे; और मौत का काम शुरू हुआ, दोनों तरफ;
40 परन्तु लमनाइयों के लिए यह और भी भयानक था; क्योंकि नफाइयों की तलवारों और परिधियों से उनका नंगापन उजागर हो गया था, जो लगभग हर झटके में मौत का कारण बनते थे; जबकि दूसरी ओर, समय-समय पर नफाइयों के बीच एक व्यक्ति उनकी तलवारों और खून की हानि से मारा गया;
41 वे शरीर के अधिक महत्वपूर्ण अंगों से, या शरीर के अधिक महत्वपूर्ण भागों को लमनाइयों के आघातों से, उनके कवचों, और उनकी भुजाओं की ढालों, और उनके सिर की पट्टियों से बचाए जा रहे थे; और इस प्रकार नफाइयों ने लमनाइयों के बीच मृत्यु का कार्य जारी रखा ।
42 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों में भारी विनाश के कारण वे भयभीत हो गए, यहां तक कि वे सीदोन नदी की ओर भागने लगे ।
43 और लेही और उसके जनोंने उनका पीछा किया, और वे लेही के द्वारा सीदोन के जल में भगा दिए गए; और वे सीदोन के जल को पार कर गए।
44 और लेही ने अपक्की सेना सीदोन नदी के तट पर ऐसी रख दी, कि वे पार न करें।
45 और ऐसा हुआ कि मोरोनी और उसकी सेना ने लमनाइयों से सीदोन नदी की दूसरी ओर की घाटी में मुलाकात की, और उन पर हमला किया, और उन्हें मार डाला ।
46 और लमनाइयों ने उनके आगे-आगे भागकर मन्ती प्रदेश की ओर भागे; और वे फिर से मोरोनी की सेनाओं से मिले ।
47 अब इस मामले में, लमनाइयों ने बहुत संघर्ष किया; हां, लमनाइयों को इतनी बड़ी ताकत और साहस के साथ लड़ने के लिए कभी नहीं जाना गया था; नहीं, शुरू से भी नहीं:
48 और वे सोरामियों, और अमालेकी, जो उनके प्रधान और प्रधान थे, और जेराहेम्ना, जो उनका प्रधान सेनापति, या उनका प्रधान और सेनापति था, प्रेरित हुए;
49 हां, वे ड्रेगन की तरह लड़े थे; और बहुत से नफाई उनके हाथों मारे गए; हां, क्योंकि उन्होंने अपने दो सिरों की कई पट्टियों में प्रहार किया था; और उन्हों ने अपक्की बहुत सी चपरासें बेधवाईं; और उन्होंने उनकी बहुत सी भुजाओं को मारा; और इस प्रकार लमनाइयों ने अपने भयंकर क्रोध में प्रहार किया ।
50 फिर भी, नफाई एक बेहतर उद्देश्य से प्रेरित हुए; क्योंकि वे न तो राजतंत्र के लिए लड़ रहे थे और न ही सत्ता के लिए; परन्तु वे अपके अपके घर, और अपके स्वाधीनता, अपक्की पत्नियों, और अपके बालकों, और अपके सब सभोंके लिथे लड़ रहे थे; हां, उनके उपासना के संस्कार, और उनके गिरजे के लिए;
51 और वे वही कर रहे थे जो उन्होंने अपने परमेश्वर के प्रति कर्त्तव्य समझकर किया था; क्योंकि यहोवा ने उन से और उनके पुरखाओं से भी कहा था, कि तुम न तो पहिले अपराध के दोषी हो, और न दूसरे के, कि अपके शत्रुओं के हाथों अपने आप को मारे जाने का कष्ट न सहोगे।
52 और फिर से, प्रभु ने कहा है कि तुम अपने परिवारों की रक्षा करो, यहां तक कि रक्तपात होने तक भी; इसलिए इस कारण से नफाई लमनाइयों से अपनी, और अपने परिवारों, और अपनी भूमि, अपने देश, और अपने अधिकारों, और अपने धर्म की रक्षा के लिए संघर्ष कर रहे थे ।
53 और ऐसा हुआ कि जब मोरोनी के लोगों ने लमनाइयों के उग्र और क्रोध को देखा, तो वे सिकुड़ने वाले थे और उनके पास से भागने वाले थे ।
54 और मोरोनी ने उनकी मंशा को समझते हुए, इन विचारों के साथ उनके दिलों को भेजा और प्रेरित किया; हां, उनकी भूमि के विचार, उनकी स्वतंत्रता, हां, उनकी बंधन से मुक्ति ।
55 और ऐसा हुआ कि उन्होंने लमनाइयों की ओर मुंह मोड़ लिया, और उन्होंने प्रभु अपने परमेश्वर से, अपनी स्वतंत्रता और बंधन से मुक्ति के लिए एक स्वर से पुकारा ।
56 और वे लमनाइयों के विरुद्ध शक्‍ति से खड़े होने लगे; और उसी समय जब उन्होंने अपनी स्वतंत्रता के लिए प्रभु को पुकारा, लमनाइयों ने उनके सामने से भागना शुरू कर दिया; और वे सीदोन के जल तक भाग गए।
57 अब लमनाइयों की संख्या अधिक थी; हां, नफाइयों की संख्या के दोगुने से भी अधिक; फिर भी, वे इतने अधिक प्रेरित हुए कि वे एक देह में इकट्ठे हो गए, तराई में, तट पर, सीदोन नदी के किनारे;
58 इसलिथे मोरोनी की सेना ने उन्हें घेर लिया; हाँ, नदी के दोनों किनारों पर भी; क्योंकि देखो, पूर्व की ओर लेही के लोग थे;
59 इसलिए जब जेराहेमना ने सीदोन नदी के पूर्व में लेही के लोगों और सीदोन नदी के पश्चिम में मोरोनी की सेना को देखा, कि उन्हें नफाइयों ने घेर लिया है, तो वे डर गए।
60 अब मोरोनी ने, जब उसने उनका आतंक देखा, तो अपने आदमियों को आज्ञा दी कि वे अपना खून बहाना बंद कर दें ।
61 और ऐसा हुआ कि वे रुक गए, और उनके पास से एक गति वापस ले ली ।
62 और मोरोनी ने जेराहेमना से कहा, देखो, जेराहेम्ना, कि हम लोहू नहीं बनना चाहते ।
63 तुम जानते हो कि तुम हमारे हाथ में हो, तौभी हम तुम्हें मार डालना नहीं चाहते।
64 देख, हम तुझ से युद्ध करने को नहीं निकले हैं, कि हम तेरा लोहू बहाएं, क्योंकि हम सामर्थ के लिथे हैं; न ही हम किसी को बन्धन के वश में लाना चाहते हैं।
65 परन्तु यही वह कारण है जिसके कारण तुम हम पर चढ़ाई करते हो; हां, और तुम हमारे धर्म के कारण हम पर क्रोधित हो ।
66 परन्तु अब तुम देखते हो कि यहोवा हमारे संग है; और तुम देखते हो, कि उसने तुम्हें हमारे हाथ में कर दिया है।
67 और अब मैं चाहता हूं कि तुम समझो कि यह हमारे धर्म और मसीह में हमारे विश्वास के कारण हमारे साथ किया गया है । और अब तुम देखते हो कि तुम हमारे इस विश्वास को नष्ट नहीं कर सकते ।
68 अब तुम देखते हो, कि परमेश्वर का सच्चा विश्वास यही है; हां, तुम देखते हो कि जब तक हम उसके, और अपने विश्वास, और अपने धर्म के प्रति विश्वासयोग्य हैं, तब तक परमेश्वर हमें सहारा देगा, और बनाए रखेगा, और हमारी रक्षा करेगा;
69 और जब तक हम किसी अपराध में न पड़ें, और अपने विश्वास को न धरें, तब तक यहोवा दु:ख न पाएगा, कि हम नाश किए जाएं।
70 और अब जेराहेम्ना, मैं उस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के नाम से तुझे आज्ञा देता हूं, जिस ने हमारी भुजाओं को दृढ़ किया है, कि हम ने अपने विश्वास, अपने धर्म, और अपने उपासना के संस्कारों, और अपने चर्च, और पवित्र समर्थन से जो हम अपनी पत्नियों और अपने बच्चों के लिए देते हैं, उस स्वतंत्रता से जो हमें हमारी भूमि और हमारे देश से बांधती है; हां, और परमेश्वर के पवित्र वचन को बनाए रखने के द्वारा भी, जिसके लिए हम अपनी सारी खुशियों के ऋणी हैं;
71 और जो कुछ हमें प्रिय है, उसके द्वारा; हाँ, और यह सब कुछ नहीं है; मैं तुम्हें जीवन भर की सारी अभिलाषाओं के अनुसार आज्ञा देता हूं, कि तुम अपके युद्ध के हथियार हम को सौंप दो, और हम तुम्हारा लोहू न ढूंढ़ेंगे, परन्‍तु हम तेरे प्राणोंको बख्श देंगे, यदि तू अपके मार्ग पर जाए, और फिर न आए हमारे खिलाफ युद्ध करने के लिए।
72 और अब यदि तुम ऐसा नहीं करते, तो देखो, तुम हमारे हाथ में हो, और मैं अपके जनोंको आज्ञा दूंगा, कि वे तुम पर गिरेंगे, और तुम्हारे शरीरोंको मृत्यु के घाव देंगे, जिस से तुम विलुप्त हो जाओगे;
73 और तब हम देखेंगे कि इन लोगों पर किसका अधिकार होगा; हां, हम देखेंगे कि किसे गुलामी में लाया जाएगा ।
74 और अब ऐसा हुआ कि जब जेराहेमना ने इन बातों को सुना, तो वह आगे आया और अपनी तलवार और अपनी परिधि, और अपना धनुष मोरोनी के हाथों में सौंप दिया, और उससे कहा,
75 देखो, हमारे युद्ध के हथियार ये हैं; हम उन्हें तेरे हाथ में कर देंगे, और हम तुझ से शपय लेने को न सहेंगे, जिसे हम जानते हैं कि हम तोड़ देंगे, और अपके बालकोंको भी; परन्तु हमारे युद्ध के हथियार ले लो, और दु:ख उठाओ कि हम जंगल में चले जाएं; नहीं तो हम अपक्की तलवारें पकड़े रहेंगे, और नाश या जीत जाएंगे।
76 देख, हम तेरे विश्वास के नहीं हैं; हम नहीं मानते, कि परमेश्वर ने हम को तेरे हाथ में कर दिया है; लेकिन हम मानते हैं कि यह आपकी चालाकी है जिसने आपको हमारी तलवारों से बचाया है।
77 देख, तेरी झिलमोंऔर ढालोंके कारण तेरी रक्षा हुई है।
78 और अब जब जेराहेम्ना ने इन बातों को बोलना समाप्त कर दिया, तो मोरोनी ने तलवार और युद्ध के हथियार जो उसने प्राप्त किए थे, जेराहेमना को यह कहते हुए लौटा दिए कि, देखो, हम संघर्ष को समाप्त कर देंगे ।
79 अब जो बातें मैं ने कही हैं उन्हें मैं अपने पास नहीं रख सकता; इसलिथे जब तक यहोवा जीवित न रहे, तब तक न जाना, जब तक यह शपय खाकर न चले जाएं, कि हम से युद्ध करने को फिर न लौटेंगे।
80 अब जैसे तुम हमारे हाथ में हो, वैसे ही हम तुम्हारा लोहू भूमि पर बहा देंगे, वा तुम उन शर्तों के अधीन हो जाओगे जिनके लिए मैं ने प्रस्ताव रखा है।
81 और अब जब मोरोनी ने इन शब्दों को कहा, जेराहेमना ने अपनी तलवार बरकरार रखी, और वह मोरोनी से क्रोधित हुआ और वह आगे बढ़ा कि वह मोरोनी को मार सके;
82 परन्‍तु जब वह अपनी तलवार उठा रहा था, तो देखो, मोरोनी के सैनिकों में से एक ने उसे मारकर भूमि पर गिरा दिया; और वह मूठ से टूट गया; और उस ने जेराहेमना को ऐसा मारा, कि उस ने उसकी खोपड़ी उतार दी, और वह भूमि पर गिर पड़ी।
83 और जेराहेमना उनके साम्हने से हटकर अपके सिपाहियोंके बीच में चला गया।
84 और ऐसा हुआ कि पास खड़े सैनिक ने, जिसने जराहेमना की खोपड़ी को मार डाला, खोपड़ी को बालों से जमीन से उठा लिया, और उसे अपनी तलवार की नोक पर रख दिया, और उसने उसे आगे बढ़ाया वे ऊँचे शब्द से उन से कह रहे थे,
85 जैसे यह खोपड़ी पृय्वी पर, जो तेरे प्रधान की खोपड़ी है, वैसे ही भूमि पर गिरना, जब तक कि अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की सिर ा हो, तौभी अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अिधकार न करके पृय् पर िगर गई है।
86 अब बहुत से थे, जब उन्होंने इन शब्दों को सुना, और तलवार पर लगी खोपड़ी को देखा, जो डर के मारे मारे गए थे, और बहुत से लोग आगे आए और अपने युद्ध के हथियारों को मोरोनी के चरणों में फेंक दिया, और एक में प्रवेश किया शांति की वाचा।
87 और जितनों ने वाचा बान्धी, वे जंगल में चले गए।
88 अब ऐसा हुआ कि जेराहेमना अत्यधिक क्रोधित हो गया, और उसने अपने शेष सैनिकों को क्रोधित कर दिया, ताकि नफाइयों के विरुद्ध अधिक शक्तिशाली ढंग से संघर्ष किया जा सके ।
89 और अब लमनाइयों के हठ के कारण मोरोनी क्रोधित हो गया था; इसलिए उसने अपने लोगों को आज्ञा दी कि वे उन पर गिरें और उन्हें मार डालें।
90 और ऐसा हुआ कि वे उन्हें मारने लगे; हां, और लमनाइयों ने अपनी तलवारों और अपनी ताकत से संघर्ष किया ।
91 लेकिन देखो, उनकी नंगी खाल और उनके नंगे सिर नफाइयों की धारदार तलवारों से ढके हुए थे; हां, देखो, उन्हें बेधा गया और मारा गया;
92 हां, और नफाइयों की तलवारों से बहुत तेजी से गिरे; और जैसे मोरोनी के सैनिक ने भविष्यवाणी की थी, वैसे ही वे नष्ट होने लगे ।
93 अब जेराहेमना, जब उसने देखा कि वे सब नष्ट होने वाले हैं, तो उसने मोरोनी को जोर से पुकारा, यह वादा करते हुए कि वह, और उसके लोगों को, उनके साथ, यदि वे अपने शेष जीवन को बचाएंगे, कि वे कभी नहीं आएंगे, उनके साथ अनुबंध करेंगे। उनके खिलाफ युद्ध करने के लिए।
94 और ऐसा हुआ कि मोरोनी ने लोगों के बीच मृत्यु का कार्य फिर से बंद कर दिया ।
95 और उसने लमनाइयों से युद्ध के हथियार ले लिए; और जब उन्होंने उसके साथ मेल की वाचा बान्धी, तब उन्हें जंगल में जाने की आज्ञा दी गई।
96 उनकी बड़ी संख्या के कारण उनके मरे हुओं की गिनती नहीं हुई; हां, नफाइयों और लमनाइयों दोनों में उनके मृतकों की संख्या बहुत अधिक थी ।
97 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अपने मृतकों को सीदोन के जल में फेंक दिया; और वे निकल गए हैं, और समुद्र की गहराइयों में गाड़े गए हैं।
98 और नफाइयों, या मोरोनी की सेनाएं लौट आईं, और अपने घरों, और अपने प्रदेशों में आ गईं ।
99 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के अठारहवें वर्ष का अंत हुआ ।
100 और इस प्रकार अलमा का अभिलेख समाप्त हुआ, जो नफी की पट्टियों पर लिखा गया था ।

 

अल्मा, अध्याय 21

हिलामन के दिनों में नफी के लोगों का लेखा-जोखा, उनके युद्ध और मतभेद, हिलामन के अभिलेख के अनुसार, जिसे उसने अपने दिनों में रखा था। 1 देखो, अब ऐसा हुआ कि नफी के लोग अत्यधिक आनन्दित हुए , क्योंकि यहोवा ने उन्हें फिर उनके शत्रुओं के हाथ से छुड़ाया था;
2 इसलिए उन्होंने अपने परमेश्वर यहोवा का धन्यवाद किया: हां, और उन्होंने बहुत उपवास किया और बहुत प्रार्थना की, और उन्होंने बड़े आनन्द के साथ परमेश्वर की आराधना की ।
3 और ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के उन्नीसवें वर्ष में, अलमा अपने पुत्र हिलामन के पास आया, और उससे कहा, तुम उन बातों पर विश्वास करते हो जो मैंने तुमसे उन अभिलेखों के संबंध में कही हैं जिन्हें रखा?
4 हिलामन ने उस से कहा, हां, मैं विश्वास करता हूं।
5 और अलमा ने फिर कहा, क्या तुम यीशु मसीह पर विश्वास करते हो, कौन आएगा ? और उस ने कहा, हां, जो बातें तू ने कही हैं उन सब पर मैं विश्वास करता हूं।
6 और अलमा ने उस से फिर कहा, क्या तुम मेरी आज्ञाओं को मानोगे ? उस ने कहा, हां, मैं तेरी आज्ञाओं को पूरे मन से मानूंगा।
7 तब अलमा ने उस से कहा, धन्य है तू; और यहोवा इस देश में तेरा भला करेगा।
8 परन्तु देखो, मुझे तुमसे कुछ भविष्यवाणी करनी है; परन्तु जो कुछ मैं तुझ से भविष्यद्वाणी करता हूं, उसे तुम न बताना; हां, जो कुछ मैं तुझ से भविष्यद्वाणी करता हूं, वह तब तक प्रगट न किया जाएगा, जब तक कि भविष्यद्वाणी पूरी न हो जाए; इसलिए वे शब्द लिखो जो मैं कहूँगा।
9 और ये शब्द हैं: देखो, यही लोग, नफाई, प्रकटीकरण की आत्मा के अनुसार जो मुझमें है, उस समय से चार सौ वर्षों में जब से यीशु मसीह स्वयं को उन पर प्रकट करेगा, अविश्वास में कम हो जाएगा ;
10 हां, और तब वे युद्ध और महामारियां देखेंगे, हां, अकाल और रक्तपात, यहां तक कि जब तक नफी के लोग विलुप्त हो जाएंगे;
11 हां, और इसका कारण यह है कि वे अविश्वास में कम हो जाएंगे, और अन्धकार और कामुकता, और सभी प्रकार के अधर्म के कार्यों में पड़ जाएंगे;
12 हां, मैं तुम से कहता हूं, कि वे इतनी बड़ी ज्योति और ज्ञान के विरुद्ध पाप करेंगे; हां, मैं तुम से कहता हूं, कि उस दिन से जब तक यह बड़ा अधर्म न आएगा, तब तक चौथी पीढ़ी के सब लोग न मिटेंगे;
13 और जब वह महान दिन आता है, देखो, बहुत जल्द वह समय आता है कि जो लोग अभी हैं, या उनके वंश जो अब नफाइयों के लोगों में गिने जाते हैं, उन्हें नफी के लोगों में और नहीं गिना जाएगा;
14 लेकिन जो कोई बचेगा, और उस महान और भयानक दिन में नष्ट नहीं होगा, लमनाइयों में गिना जाएगा, और उनके समान हो जाएगा, केवल कुछ को छोड़कर, जो प्रभु के शिष्य कहलाएंगे;
15 और लमनाई उनका पीछा तब तक करेंगे, जब तक कि वे विलुप्त न हो जाएं । और अब, अधर्म के कारण, यह भविष्यवाणी पूरी होगी।
16 और अब ऐसा हुआ कि अलमा द्वारा हिलामन से ये बातें कहने के बाद, उसने उसे और उसके अन्य पुत्रों को भी आशीर्वाद दिया; और धर्मियों के निमित्त उस ने पृय्वी को भी आशीष दी।
17 और उसने कहा, परमेश्वर यहोवा योंकहता है: देश, हां, यह देश, हर जाति, जाति, और भाषा, और लोग, जो दुष्ट काम करते हैं, जब वे पूरी तरह से पक जाते हैं, तब वे शापित होंगे;
18 और जैसा मैं ने कहा है, वैसा ही होगा; क्योंकि देश पर परमेश्वर का श्राप और आशीष यह है, क्योंकि यहोवा पाप पर रत्ती भर भी दृष्टि नहीं कर सकता।
19 और, अब जब अलमा ने इन शब्दों को कह लिया, तो उसने गिरजे को आशीर्वाद दिया, हां, उन सभी को जो उस समय से अब तक विश्वास में दृढ़ रहना चाहिए;
20 और जब अलमा ने ऐसा किया, तो वह जराहेमला प्रदेश से इस प्रकार चला गया, मानो मेलेक प्रदेश में जाने के लिए । और ऐसा हुआ कि उसे और अधिक के बारे में कभी नहीं सुना गया; उनकी मृत्यु या दफन के बारे में, हम नहीं जानते।
21 देखो, हम यह जानते हैं, कि वह धर्मी था; और यह बात कलीसिया में फैल गई, कि वह आत्मा के द्वारा उठा लिया गया, वा मूसा की नाईं यहोवा के हाथ से मिट्टी दी गई।
22 परन्तु देखो, पवित्रशास्त्र कहता है कि यहोवा मूसा को अपने पास ले गया; और हम मानते हैं कि उसने अलमा को भी आत्मा में ग्रहण कर लिया है; इस कारण हम उसकी मृत्यु और गाड़े जाने के विषय में कुछ नहीं जानते।
23 और अब ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के उन्नीसवें वर्ष के प्रारंभ में, हिलामन लोगों के बीच उन्हें वचन सुनाने के लिए निकला;
24 क्योंकि देखो, लमनाइयों के साथ उनके युद्धों के कारण, और बहुत से छोटे-छोटे झगड़ों और उपद्रवों के कारण, जो लोगों के बीच थे, यह आवश्यक हो गया कि उनके बीच परमेश्वर का वचन घोषित किया जाए; हां, और यह कि पूरे गिरजे में एक नियम बनाया जाना चाहिए;
25 इसलिए हिलामन और उसके भाई गिरजे को फिर से पूरे प्रदेश में स्थापित करने के लिए आगे बढ़े, हां, पूरे प्रदेश में हर शहर में, जिस पर नफी के लोगों का कब्जा था ।
26 और ऐसा हुआ कि उन्होंने पूरे प्रदेश में, सभी गिरजाघरों में याजकों और शिक्षकों को नियुक्त किया ।
27 और अब ऐसा हुआ कि हिलामन और उसके भाइयों द्वारा गिरजाघरों में याजकों और शिक्षकों को नियुक्त करने के बाद, उनके बीच एक विवाद पैदा हो गया, और उन्होंने हिलामन और उसके भाइयों की बातों पर ध्यान नहीं दिया;
28 परन्तु अपके अत्याधिक धन के कारण उनका मन बड़ा हुआ, और वे घमण्ड करने लगे; इस कारण वे अपनी दृष्टि में धनी हो गए, और उनकी बातों पर ध्यान न दिया, कि परमेश्वर के साम्हने सीधे चले।
29 और ऐसा हुआ कि जितने लोग हिलामन और उसके भाइयों की बातों को नहीं मानते थे, वे अपने भाइयों के विरुद्ध एकत्रित हो गए ।
30 और अब देखो, उनका क्रोध इतना अधिक बढ़ गया था कि उन्होंने उन्हें मारने की ठान ली थी ।
31 जो अपने भाइयों पर क्रोधित थे, उनका प्रधान बड़ा और बलवान था; और उसका नाम अमालिकिया था।
32 और अमालिकिया राजा बनना चाहता था; और जो लोग क्रोधित थे, वे भी चाहते थे कि वह उनका राजा बने; और उनमें से बड़े भाग देश के निचले न्यायी थे; और वे सत्ता की मांग कर रहे थे।
33 और वे अमालिकिया की चापलूसी के द्वारा चलाए गए थे, कि यदि वे उसका समर्थन करें, और उसे अपना राजा ठहराएं, कि वह उन्हें लोगों पर शासक बना दे।
34 इस प्रकार हिलामन और उसके भाइयों के प्रचार के तौभी अमालिकियाह के द्वारा वे वाद-विवाद में ले गए; हां, गिरजे के प्रति उनकी अत्यधिक देखभाल के बावजूद, क्योंकि वे गिरजे के महायाजक थे ।
35 और गिरजे में बहुत से थे जो अमालिकिया की चापलूसी की बातों पर विश्वास करते थे, इस कारण उन्होंने गिरजे से भी मतभेद किया;
36 और इस प्रकार नफी के लोगों के मामले अत्यधिक अनिश्चित और खतरनाक थे, भले ही उन्होंने लमनाइयों पर अपनी महान विजय प्राप्त की थी, और प्रभु के हाथों से उनके छुटकारे के कारण उन्हें जो महान आनंद प्राप्त हुआ था, उसके बावजूद ।
37 इस प्रकार हम देखते हैं कि मनुष्य कितनी जल्दी अपने परमेश्वर यहोवा को भूल जाते हैं; वरन अधर्म करने में कितनी फुर्ती से, और दुष्ट के द्वारा बहकावे में आ जाते हैं; हां, और हम यह भी देखते हैं कि मनुष्य संतानों में एक बहुत दुष्ट व्यक्ति कितनी बड़ी दुष्टता कर सकता है;

38 हां, हम देखते हैं कि अमालिकिया, क्योंकि वह धूर्त धूर्त और बहुत चापलूसी करने वाला व्यक्ति था, इसलिए उसने बहुत से लोगों के हृदयों को दुष्टता करने के लिए प्रेरित किया;
39 हां, और परमेश्वर के गिरजे को नष्ट करने का प्रयास करना, और उस स्वतंत्रता की नींव को नष्ट करना जो परमेश्वर ने उन्हें दी थी, या जो आशीष परमेश्वर ने धर्मियों के लिए पूरे प्रदेश पर भेजी थी ।
40 और अब ऐसा हुआ कि जब मोरोनी, जो नफाइयों की सेनाओं के प्रधान सेनापति थे, ने इन झगड़ों के बारे में सुना, तो वह अमालिकिया से क्रोधित हो गया ।
41 और ऐसा हुआ कि उसने अपना अंगरखा फाड़ दिया; और उस ने उसका एक टुकड़ा लिया, और उस पर लिखा, हमारे परमेश्वर, हमारे धर्म, और स्वतंत्रता, और हमारी शांति, हमारी पत्नियों, और हमारे बच्चों की याद में; और उस ने उसे उसके खम्भे के सिरे पर लगा दिया।
42 और उस ने अपके सिर पर पट, और अपक्की चपरास, और अपक्की ढालें बन्धन की, और अपक्की कमर के चारोंओर अपके हथियार बान्धे; और उस ने डण्डे को ले लिया, जिस के सिरे पर उसका लगान का अंगरखा था (और उस ने उसे स्वाधीनता का नाम दिया),
43 और उसने अपने आप को पृथ्वी पर दण्डवत् किया, और उसने अपने परमेश्वर से प्रार्थना की कि वह अपने भाइयों को स्वतंत्रता की आशीष दे, जब तक कि भूमि के अधिकारी होने के लिए ईसाइयों का एक दल बना रहे;
44 क्योंकि मसीह के सब सच्चे विश्वासी, जो परमेश्वर की कलीसिया के थे, योंही बुलाए गए, जो कलीसिया के नहीं थे; और जो कलीसिया के थे, वे विश्वासयोग्य थे;
45 हां, उन सभी ने जो मसीह में सच्चे विश्वासी थे, मसीह में उनके विश्वास के कारण, जो आने वाले थे, खुशी-खुशी, मसीह का नाम, या ईसाई, जैसा कि उन्हें बुलाया गया था, ग्रहण किया; और इसलिए, इस समय, मोरोनी ने प्रार्थना की कि ईसाइयों के लिए, और भूमि की स्वतंत्रता का समर्थन किया जा सके।
46 और ऐसा हुआ कि जब उसने अपना प्राण परमेश्वर के लिए उण्डेल दिया, तो उसने वह सारा प्रदेश जो उजाड़ प्रदेश के दक्षिण में था, दे दिया: हां, उत्तर और दक्षिण की ओर की सारी भूमि, एक चुनी हुई भूमि , और स्वतंत्रता की भूमि।
47 उस ने कहा, निश्चय परमेश्वर दु:ख न पाएगा, कि हम, जो मसीह का नाम लेने के कारण तिरस्कृत हैं, रौंदा और नाश किए जाएंगे, जब तक कि हम अपके ही अपराधोंके द्वारा हम पर न लाए जाएं।
48 और जब मोरोनी ने ये बातें कह लीं, तो वह लोगों के बीच में गया, और अपने वस्त्र का किराया हवा में लहराया, ताकि सब उस लेख को देख सकें जो उसने किराए पर लिखा था, और यह कहते हुए ऊंचे शब्द से पुकार रहा था,
49 देखो, जो कोई इस भूमि पर इस पदवी को बनाए रखेगा, वह यहोवा के बल में आगे आएं, और एक वाचा में प्रवेश करें कि वे अपने अधिकारों और अपने धर्म को बनाए रखेंगे, कि भगवान भगवान उन्हें आशीर्वाद दे।
50 और ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने इन वचनों की घोषणा कर दी, देखो, लोग अपनी कमर पर कवच बांधे हुए, अपने वस्त्रों को सांकेतिक रूप में, या एक वाचा के रूप में फाड़कर, एक साथ दौड़ते हुए आए, कि वे अपने परमेश्वर यहोवा को नहीं त्यागेंगे ;
51 या, दूसरे शब्दों में, यदि वे परमेश्वर की आज्ञाओं का उल्लंघन करें, या अपराध में पड़ें, और उन पर मसीह का नाम लेने से लज्जित हों, तो प्रभु उन्हें वैसे ही फाड़ डालेगा जैसे उन्होंने अपने वस्त्र फाड़े थे।
52 और जो वाचा उन्होंने बान्धी वह यह थी; और उन्होंने अपने वस्त्र मोरोनी के पांवों पर डालकर कहा, हम ने अपके परमेश्वर के साथ वाचा बान्धी है, कि हम उत्तर की ओर के देश में अपने भाइयोंके समान नाश किए जाएंगे, यदि हम अपराध में पड़ेंगे;
53 वरन जिस प्रकार हम ने अपके पांवोंके पांव पहिने हुए हैं, वैसे ही वह हम को हमारे शत्रुओं के पांवोंके नीचे पटक देगा, कि यदि हम अपराध में पड़ें, तो हम पांव तले रौंद दिए जाएं।
54 मोरोनी ने उन से कहा, देखो, हम याकूब के वंश में से बचे हुए हैं; हां, हम यूसुफ के वंश में से बचे हुए हैं, जिसका कोट उसके भाइयों ने फाड़कर टुकड़े-टुकड़े कर दिया था;
55 हां, और अब देखो, हम परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करना याद रखें, या हमारे वस्त्र हमारे भाइयों द्वारा फाड़े जाएंगे, और हम बंदीगृह में डाले जाएंगे, या बेचे जाएंगे, या मारे जाएंगे; हां, आइए हम यूसुफ के बचे हुओं के रूप में अपनी स्वतंत्रता की रक्षा करें;
56 हां, आइए हम याकूब की मृत्यु से पहले उसके वचनों को स्मरण करें; क्योंकि देखो, उस ने देखा, कि यूसुफ के अंगरखे के बचे हुओं का एक भाग सुरक्षित रखा गया है, और सड़ा नहीं गया है ।
57 और उस ने कहा, जैसा मेरे पुत्र का यह बचा हुआ वस्त्र सुरक्षित रखा गया है, वैसे ही मेरे पुत्रोंके बचे हुए वंश को परमेश्वर के हाथ से सुरक्षित रखा जाएगा, और अपके पास ले लिया जाएगा, जबकि यूसुफ का शेष वंश सुरक्षित रहेगा। उसके वस्त्र के बचे हुओं की नाईं नाश हो जाएंगे।
58 अब देखो, यह मेरे प्राण को शोकित करता है: तौभी मेरा प्राण अपने पुत्र के कारण आनन्दित है, क्योंकि उसके वंश का वह भाग जो परमेश्वर के पास ले लिया जाएगा ।
59 अब देखो, यह याकूब की भाषा थी।
60 और अब कौन जानता है कि यूसुफ के वंश में से बचे हुए लोग क्या हैं, जो उसके वस्त्र की नाईं नाश होंगे, वे लोग हैं जिन्होंने हम से मतभेद किया है; हां, और हम भी होंगे, यदि हम मसीह के विश्वास में दृढ़ न बने रहें ।
61 और अब ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने इन बातों को कह लिया, तो उसने आगे बढ़कर प्रदेश के उन सभी हिस्सों में भेज दिया जहां मतभेद थे, और उन सभी लोगों को इकट्ठा किया जो अपनी स्वतंत्रता बनाए रखने के इच्छुक थे, खड़े होने के लिए अमालिकिया के विरुद्ध, और जो अमालिकिया कहलाते थे, वे विरोध करते थे।
62 और ऐसा हुआ कि जब अमालिकिया ने देखा कि मोरोनी के लोग अमालिकिया से अधिक संख्या में हैं; और उसने यह भी देखा कि उसके लोगों को उस कार्य के न्याय के विषय में संदेह था जो उन्होंने किया था; इसलिए, इस डर से कि कहीं उसे लाभ न मिल जाए, उसने अपने उन लोगों को ले लिया जो चाहते थे, और नफी के प्रदेश में चले गए ।
63 अब मोरोनी ने सोचा कि यह समीचीन नहीं था कि लमनाइयों के पास और अधिक शक्ति हो; इसलिथे उसने सोचा, कि अमालिकिया के लोगोंको नाश करे, वा उन्हें पकड़कर फेर ले आए, और अमालिकिया को मार डाला;
64 हां, क्योंकि वह जानता था कि वे लमनाइयों को उनके विरुद्ध क्रोध करने के लिए उकसाएंगे, और उन्हें उनके विरुद्ध युद्ध करने के लिए प्रेरित करेंगे; और वह यह जानता था कि अमालिकिया ऐसा करेगा, कि वह अपने उद्देश्यों को प्राप्त कर सके:
65 इसलिए मोरोनी ने सोचा कि यह समीचीन होगा कि वह अपनी सेनाओं को ले लें, जिन्होंने अपने आप को इकट्ठा किया था, और अपने आप को हथियारबंद कर लिया था, और शांति बनाए रखने के लिए एक वाचा में प्रवेश किया था:
66 और ऐसा हुआ कि उसने अपनी सेना ली, और निर्जन प्रदेश में अमालिकिया के मार्ग को नष्ट करने के लिए निर्जन प्रदेश में कूच किया ।
67 और ऐसा हुआ कि उसने अपनी इच्छा के अनुसार किया, और निर्जन प्रदेश में चला गया, और अमालिकिया की सेना का नेतृत्व किया ।
68 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया अपने कुछ लोगों के साथ भाग गया, और शेष को मोरोनी के हाथों में सौंप दिया गया, और जराहेमला प्रदेश में वापस ले लिया गया ।
69 अब मोरोनी एक ऐसा व्यक्ति था जिसे मुख्य न्यायाधीशों और लोगों की आवाज द्वारा नियुक्त किया गया था, इसलिए उसे नफाइयों की सेना के साथ अपनी इच्छा के अनुसार उन्हें स्थापित करने और उन पर अधिकार करने का अधिकार था ।
70 और ऐसा हुआ कि अमालिकियाइयों में से जो कोई भी स्वतंत्रता के समर्थन के लिए एक वाचा में प्रवेश नहीं करेगा, ताकि वे एक स्वतंत्र सरकार बनाए रख सकें, उसे मार डाला गया; और कुछ ही ऐसे थे जिन्होंने स्वतंत्रता की वाचा को नकार दिया।
71 और ऐसा भी हुआ, कि उसने स्वतंत्रता की उपाधि को हर उस मीनार पर फहराया जो पूरे प्रदेश में थी, जिस पर नफाइयों का कब्जा था; और इस प्रकार मोरोनी ने नफाइयों के बीच स्वतंत्रता के स्तर को स्थापित किया ।
72 और वे देश में फिर मेल करने लगे; और इस प्रकार उन्होंने न्यायियों के राज्य के उन्नीसवें वर्ष के लगभग अंत तक देश में शांति बनाए रखी।
73 और हिलामन और महायाजकों ने भी गिरजे में व्यवस्था बनाए रखी; हां, चार वर्षों के अंतराल के लिए भी, क्या उन्हें गिरजे में बहुत शांति और आनंद प्राप्त हुआ था ।
74 और ऐसा हुआ कि बहुत से लोग मर गए, यह विश्वास करते हुए कि उनके प्राण प्रभु यीशु मसीह के द्वारा छुड़ाए गए थे; इस प्रकार वे आनन्दित होकर जगत से निकल गए।
75 और कितने ऐसे थे जो ज्वर से मर गए, जो वर्ष के किसी समय देश में बहुत बार आते थे;
76 लेकिन बुखार के साथ ऐसा नहीं है, क्योंकि कई पौधों और जड़ों के उत्कृष्ट गुणों के कारण, जो भगवान ने उन रोगों के कारण को दूर करने के लिए तैयार किया था, जिनके लिए मनुष्य जलवायु की प्रकृति के अधीन था।
77 परन्तु बहुत से ऐसे थे जो बुढ़ापे के साथ मर गए; और जो मसीह के विश्वास में मर गए, वे उस में प्रसन्न हैं, जैसा कि हमें अवश्य ही समझना चाहिए।
78 अब हम अपने अभिलेख में अमालिकिया और उन लोगों के पास लौटेंगे जो उसके साथ निर्जन प्रदेश में भाग गए थे: क्योंकि देखो, वह उन लोगों को ले गया था जो उसके साथ गए थे, और लमनाइयों के बीच नफी के प्रदेश में चला गया, और हड़कंप मच गया लमनाइयों को नफी के लोगों के विरुद्ध क्रोधित किया, इतना अधिक कि लमनाइयों के राजा ने अपने पूरे प्रदेश में, अपने सभी लोगों के बीच एक घोषणा भेजी, कि वे नफाइयों के विरुद्ध युद्ध करने के लिए फिर से एकत्रित हों ।
79 और ऐसा हुआ कि जब उनके बीच घोषणा की गई, तो वे बहुत डर गए; हां, वे राजा को अप्रसन्न करने से डरते थे, और वे नफाइयों के विरुद्ध युद्ध में जाने से भी डरते थे, कहीं ऐसा न हो कि वे अपनी जान गंवा दें ।
80 और ऐसा हुआ कि उन्होंने, या उनमें से अधिकांश ने, राजा की आज्ञाओं का पालन नहीं किया ।
81 और अब ऐसा हुआ कि उनकी अवज्ञा के कारण राजा क्रोधित हो गया; इसलिए उसने अमालिकिया को अपनी सेना के उस हिस्से की आज्ञा दी जो उसकी आज्ञाओं का पालन करता था, और उसे आज्ञा दी कि वह आगे जाकर उन्हें हथियारों के लिए मजबूर करे।
82 अब देखो, यह अमालिकिया की इच्छा थी: क्योंकि वह बुराई करने के लिए एक बहुत ही सूक्ष्म व्यक्ति था, इसलिए उसने लमनाइयों के राजा को पदच्युत करने की योजना अपने हृदय में रख ली ।
83 और अब उसे लमनाइयों के उन हिस्सों की कमान मिल गई थी जो राजा के पक्ष में थे; और वह उन लोगों का अनुग्रह प्राप्त करना चाहता था जो आज्ञाकारी नहीं थे;
84 इसलिए वह उस स्थान की ओर बढ़ गया जो ओनिदा कहलाता था, क्योंकि वहां सभी लमनाई भाग गए थे; क्योंकि उन्होंने देखा कि सेना आ रही है, और यह समझकर कि वे उन्हें नष्ट करने के लिए आ रहे हैं, वे ओनिदा को भाग गए, जो हथियारों के स्थान पर थे।
85 और उन्होंने एक व्यक्ति को राजा और उनके ऊपर एक नेता के रूप में नियुक्त किया था, उनके मन में एक दृढ़ संकल्प के साथ तय किया गया था कि वे नफाइयों के खिलाफ जाने के अधीन नहीं होंगे ।
86 और ऐसा हुआ कि वे युद्ध की तैयारी के लिए अंतीपास नामक पर्वत की चोटी पर एकत्रित हुए ।
87 अब अमालिकिया का यह इरादा नहीं था कि वह राजा की आज्ञाओं के अनुसार उन्हें युद्ध करे; लेकिन देखो, उसका इरादा लमनाइयों की सेनाओं पर अनुग्रह प्राप्त करने का था, ताकि वह स्वयं को उनके सिर के बल खड़ा कर सके, और राजा को गद्दी से उतार सके, और राज्य पर अधिकार कर सके ।
88 और देखो, ऐसा हुआ कि उसने अपनी सेना को अंतिपास पर्वत के निकट की घाटी में उनके तंबू लगाने के लिए कहा ।
89 और ऐसा हुआ कि जब रात हो गई, तो उसने अंतिपास पर्वत पर एक गुप्त दूतावास भेजा, यह चाहते हुए कि पर्वत पर रहने वालों का नेता, जिसका नाम लेहोंटी था, वह पर्वत की तलहटी में उतरे , क्योंकि वह उस से बात करना चाहता था।
90 और ऐसा हुआ कि जब लेहोंटी ने संदेश प्राप्त किया, तो उसे पहाड़ की तलहटी तक जाने का साहस नहीं हुआ ।
91 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने दूसरी बार उसे नीचे आने की इच्छा के साथ भेजा । और ऐसा हुआ कि लेहोंटी ने ऐसा नहीं किया: और उसने तीसरी बार फिर से भेजा ।
92 और ऐसा हुआ कि जब अमालिकिया ने पाया कि वह लेहोंटी को पर्वत से नीचे नहीं उतार सकता, तो वह पर्वत पर चढ़ गया, लगभग लहोंटी की छावनी के पास; और उस ने चौथी बार अपना सन्देश लेहोंटी को भेजा, कि वह उतरे, और अपके रक्षकोंको साथ ले आए।
93 और ऐसा हुआ कि जब लहोंटी अपने रक्षकों के साथ अमालिकिया के पास आया, तब अमालिकिया ने चाहा कि वह रात के समय अपनी सेना के साथ उतरे, और उन लोगों को उनकी छावनी में घेर ले, जिनके ऊपर राजा ने उसे आज्ञा दी थी, और वह उन्हें लहोंटी के हाथ में कर देगा, यदि वह उसे (अमालिकिया को) सारी सेना का दूसरा प्रधान बना दे,
94 और ऐसा हुआ कि लेहोंटी अपने आदमियों के साथ नीचे आया, और अमालिकिया के आदमियों को घेर लिया, ताकि वे दिन के भोर में जागे, वे लेहोंटी की सेनाओं से घिरे हुए थे ।
95 और ऐसा हुआ कि जब उन्होंने देखा कि वे चारों ओर से घिरे हुए हैं, तो उन्होंने अमालिकिया से याचना की कि वह उन्हें उनके भाइयों के साथ गिरने दे ताकि वे नष्ट न हों ।
96 अब यही वही था जो अमालिकिया ने चाहा था। और ऐसा हुआ कि उसने राजा की आज्ञा के विपरीत अपने आदमियों को छुड़ाया ।
97 अब अमालिकिया की यही इच्छा थी, कि वह राजा को सिंहासन से हटाने की अपनी मंशा पूरी करे।
98 अब लमनाइयों के बीच यह प्रथा थी कि यदि उनका प्रमुख नेता मारा जाता है, तो दूसरे नेता को उनका प्रमुख नेता नियुक्त किया जाता है ।
99 अब ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने अपने एक सेवक से लेहोंटी को कुछ मात्रा में जहर पिलाया, जिससे वह मर गया ।
100 अब जब लेहोंटी मर गया, तो लमनाइयों ने अमालिकिया को अपना नेता और प्रधान सेनापति नियुक्त किया ।
101 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने अपनी सेना के साथ चढ़ाई की (क्योंकि उसने अपनी इच्छा पूरी कर ली थी) नफी के प्रदेश तक, नफी के नगर तक, जो कि मुख्य नगर था ।
102 और राजा अपने रक्षकों के साथ उससे भेंट करने के लिए निकला; क्योंकि उसने माना कि अमालिकिया ने उसकी आज्ञाओं को पूरा कर दिया है, और अमालिकिया ने इतनी बड़ी सेना इकट्ठी कर ली है कि वह नफाइयों से युद्ध करने जाए।
103 परन्तु देखो, जब राजा उस से भेंट करने को निकला, तब अमालिकिया ने अपने कर्मचारियोंको राजा से भेंट करने को निकलवाया।
104 और वे जाकर राजा के साम्हने दण्डवत करने लगे, मानो उसकी महानता के कारण उसका आदर करें।
105 और ऐसा हुआ कि राजा ने उन्हें उठाने के लिए अपना हाथ आगे बढ़ाया, जैसा कि लमनाइयों की प्रथा थी, शांति के प्रतीक के रूप में, जिसे उन्होंने नफाइयों से लिया था ।
106 और ऐसा हुआ कि जब उसने पहिले को भूमि पर से उठा लिया, तो देखो उसने राजा के हृदय में छुरा घोंपा; और वह भूमि पर गिर पड़ा।
107 अब राजा के सेवक भाग गए; और अमालिकिय्याह के सेवकों ने चिल्लाकर कहा, सुन, राजा के कर्मचारियों ने उसके मन में वार किया है, और वह गिर गया है, और वे भाग गए हैं; देखो, आओ और देखो।
108 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने आज्ञा दी कि उसकी सेना आगे बढ़े, और देखें कि राजा के साथ क्या हुआ था:
109 और जब वे उस स्थान पर पहुंचे, और राजा को अपने गोर में पड़ा हुआ पाया, तब अमालिकिया ने क्रोधित होने का नाटक किया, और कहा, जो कोई राजा से प्रेम रखता है, वह निकलकर अपने सेवकों का पीछा करे, कि वे मारे जाएं।
110 और ऐसा हुआ कि जब वे सब जो राजा से प्रेम करते थे, इन बातों को सुनकर, आगे आए और राजा के सेवकों का पीछा करने लगे ।
111 जब राजा के सेवकों ने एक सेना को उनका पीछा करते देखा, तो वे फिर डर गए, और जंगल में भाग गए, और जराहेमला प्रदेश में आए, और अम्मोनियों के साथ मिल गए;
112 और जो सेना उनका पीछा करती थी, वे व्यर्थ ही उनका पीछा करते हुए लौट गईं: और इस प्रकार अमालिकिया ने अपने छल से लोगों का मन जीत लिया।
113 और ऐसा हुआ कि अगले दिन, उसने अपनी सेना के साथ नफी नगर में प्रवेश किया, और नगर पर अधिकार कर लिया ।
114 और अब ऐसा हुआ कि जब रानी ने सुना कि राजा मारा गया है: क्योंकि अमालिकिया ने रानी के पास एक दूत भेजा था, यह सूचित करते हुए कि राजा को उसके सेवकों ने मार डाला है; कि उस ने अपक्की सेना समेत उनका पीछा किया, परन्तु सब कुछ व्यर्थ रहा, और वे भाग निकले थे,
115 इसलिथे जब रानी को यह सन्देश मिला, तब उस ने अमालिकिया के पास यह कहला भेजा, कि वह नगर के लोगोंको छोड़ दे; और उस ने उस से यह भी चाहा, कि वह उसके पास आए; और उस ने उस से यह भी चाहा, कि वह अपके संग साक्षी लाए, कि राजा की मृत्यु के विषय में गवाही दे।
116 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने उसी दास को, जिसने राजा को और उसके साथ के सभी लोगों को मार डाला था, लेकर रानी के पास उस स्थान पर गया जहां वह बैठी थी;
117 और उन सब ने उस को चितौनी दी, कि राजा अपके ही दासोंके द्वारा मारा गया; और उन्होंने यह भी कहा, वे भाग गए हैं; क्या यह उनके विरुद्ध गवाही नहीं देता?
118 और इस प्रकार उन्होंने राजा की मृत्यु के विषय में रानी को संतुष्ट किया।
119 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने रानी का अनुग्रह चाहा, और उसे अपने पास ब्याह लिया; और इस प्रकार अपने धोखे से, और अपने चालाक सेवकों की सहायता से, उसने राज्य प्राप्त किया;
120 हां, पूरे प्रदेश में, लमनाइयों के सभी लोगों में, जो लमनाइयों, और लमूएलियों, और इश्माएलियों, और नफाइयों के सभी विरोधियों से, नफी के शासन से लेकर वर्तमान समय।
121 अब ये विरोध करने वाले, नफाइयों के समान शिक्षा और समान जानकारी रखने वाले; हां, प्रभु के समान ज्ञान की शिक्षा पाने के बाद; फिर भी, यह कहना अजीब है कि, उनके मतभेदों के कुछ ही समय बाद, वे लमनाइयों की तुलना में अधिक कठोर और कठोर, और अधिक जंगली, दुष्ट और क्रूर हो गए;
122 लमनाइयों की परंपराओं के साथ शराब पीना, आलस्य, और हर प्रकार की कामुकता का मार्ग प्रशस्त करना; हाँ, अपने परमेश्वर यहोवा को पूरी तरह से भूल जाना।
123 और अब ऐसा हुआ कि जैसे ही अमालिकिया ने राज्य प्राप्त किया, उसने नफी के लोगों के विरुद्ध लमनाइयों के हृदयों को प्रेरित करना शुरू कर दिया; हां, उसने लमनाइयों को उनके गुम्मटों से नफाइयों के विरुद्ध बोलने के लिए नियुक्त किया था;
124 और इस प्रकार उसने नफाइयों के प्रति उनके हृदय को इतना प्रेरित किया, कि न्यायियों के शासन के उन्नीसवें वर्ष के उत्तरार्ध में, उसने अब तक अपनी योजनाओं को पूरा कर लिया; हां, लमनाइयों पर राजा बनने के बाद, उसने पूरे प्रदेश पर शासन करने की भी कोशिश की;
125 हां, और प्रदेश में रहने वाले सभी लोग, नफाइयों के साथ-साथ लमनाइयों ने, इसलिए उसने अपनी योजना पूरी कर ली थी, क्योंकि उसने लमनाइयों के हृदयों को कठोर कर दिया था, और उनके दिमागों को अंधा कर दिया था, और उन्हें क्रोधित कर दिया था, इतना अधिक कि उसने नफाइयों के विरुद्ध युद्ध के लिए जाने के लिए बहुत सी सेना इकट्ठी कर ली थी, क्योंकि उसने अपने लोगों की बड़ी संख्या के कारण नफाइयों को पराजित करने, और उन्हें गुलामी में लाने के लिए ठान लिया था;
126 और इस प्रकार उसने जोरामाइयों के प्रमुखों को नियुक्त किया, वे नफाइयों की ताकत, और उनके आश्रय स्थलों, और उनके नगरों के सबसे कमजोर हिस्सों से सबसे अधिक परिचित थे; इसलिथे उस ने उनको अपक्की सेना का प्रधान करने के लिथे नियुक्‍त किया।
127 और ऐसा हुआ कि उन्होंने अपनी छावनी ली, और निर्जन प्रदेश में जराहेमला प्रदेश की ओर चल पड़े ।
128 अब ऐसा हुआ कि जब अमालिकिया इस प्रकार धोखे और छल से शक्ति प्राप्त कर रहा था, दूसरी ओर, मोरोनी लोगों के मन को अपने परमेश्वर यहोवा के प्रति वफादार रहने के लिए तैयार कर रहा था;
129 हां, वह नफाइयों की सेना को मजबूत कर रहा था, और छोटे किलों, या आश्रय स्थलों का निर्माण कर रहा था; उसकी सेना को घेरने के लिथे चारोंओर पृय्वी के किनारे फूंक दिए, और उनके नगरों और देश के सिवानोंके चारोंओर चारोंओर पत्यर की शहरपनाह बना दी; हां, देश के चारों ओर;
130 और उनके सबसे कमजोर गढ़ों में, उसने बहुत से आदमियों को रखा; और इस प्रकार उसने उस प्रदेश को दृढ़ और दृढ़ किया जिस पर नफाइयों का कब्जा था ।
131 और इस प्रकार वह उनकी स्वतंत्रता, उनकी भूमि, उनकी पत्नियों, और उनके बच्चों, और उनकी शांति का समर्थन करने की तैयारी कर रहा था, और कि वे अपने परमेश्वर यहोवा के लिए जीवित रह सकें, और वे उसे बनाए रख सकें जिसे उनके शत्रुओं ने कारण कहा था। ईसाइयों के।
132 और मोरोनी एक बलवान और पराक्रमी व्यक्ति था; वह एक सिद्ध समझ का आदमी था; वरन वह मनुष्य जो रक्तपात से प्रसन्न नहीं होता; एक आदमी जिसकी आत्मा ने अपने देश की स्वतंत्रता और स्वतंत्रता में आनंद लिया, और उसके भाइयों ने बंधन और दासता से;
133 हां, एक ऐसा व्यक्ति जिसका हृदय अपने परमेश्वर को धन्यवाद देने से फूला हुआ था, क्योंकि उसने अपने लोगों को अनेक विशेषाधिकार और आशीषें दी थीं; एक व्यक्ति जिसने अपने लोगों के कल्याण और सुरक्षा के लिए अत्यधिक श्रम किया:
134 हां, और वह एक ऐसा व्यक्ति था जो मसीह के विश्वास में दृढ़ था, और उसने अपने लोगों, अपने अधिकारों, और अपने देश और अपने धर्म की रक्षा करने की शपथ खाई थी, यहां तक कि उसके खून की हानि भी।
135 अब नफाइयों को सिखाया गया था कि यदि आवश्यक हो तो वे अपने शत्रुओं से अपना बचाव करें, यहां तक कि लहू बहाने तक;
136 हां, और उन्हें यह भी सिखाया गया था कि कभी अपराध न करें; हां, और कभी भी तलवार न उठाना, जब तक कि वह शत्रु के विरुद्ध न हो, जब तक कि वह उनके प्राणों की रक्षा न करे;
137 और उनका विश्वास यह था, कि ऐसा करने से परमेश्वर उन्हें देश में सुफल करेगा; या दूसरे शब्दों में, यदि वे परमेश्वर की आज्ञाओं को मानने में विश्वासयोग्य थे, कि वह उन्हें देश में समृद्ध करेगा; हां, उन्हें उनके खतरे के अनुसार भाग जाने, या युद्ध की तैयारी करने की चेतावनी दें;
138 और यह भी कि परमेश्वर उन्हें यह बताएगा, कि वे अपके शत्रुओं से अपनी रक्षा के लिथे किधर जाएं; और ऐसा करने के द्वारा, प्रभु उन्हें बचाएगा, और यह मोरोनी का विश्वास था;
139 और उसके मन ने उस में घमण्ड किया; खून बहाने में नहीं, परन्तु भलाई करने में, और अपनी प्रजा की रक्षा करने में; हां, परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने में; हाँ, और अधर्म का विरोध करना।
140 हां, सच में, मैं तुमसे सच कहता हूं, यदि मोरोनी की तरह सभी लोग होते, और होते थे, और होते रहेंगे, देखो, नरक की शक्तियां हमेशा के लिए हिल गई होतीं; हां, मानव संतान के हृदयों पर शैतान का अधिकार कभी नहीं होगा ।
141 देखो, वह मुसायाह के पुत्र अम्मोन के समान एक मनुष्य था, हां, और मुसायाह के अन्य पुत्र भी; हां, और अलमा और उसके पुत्र भी, क्योंकि वे सभी परमेश्वर के लोग थे ।
142 अब देखो, हिलामन और उसके भाई मोरोनी की तुलना में लोगों की सेवा करने योग्य कम नहीं थे; क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के वचन का प्रचार किया था, और उन्होंने पश्चाताप करने के लिए बपतिस्मा दिया था, वे सभी लोग जो उनकी बातों का ध्यान रखते थे ।
143 और इस प्रकार वे आगे बढ़े, और लोगों ने उनकी बातों के कारण अपने आप को इतना दीन किया, कि उन पर प्रभु का बहुत अनुग्रह हुआ; और इस प्रकार वे आपस में युद्धों और झगड़ों से मुक्त हो गए; हाँ, चार साल के अंतराल के लिए भी।
144 परन्तु जैसा मैं उन्नीसवीं के अन्त में कह चुका हूं; हां, आपस में शांति के बावजूद, वे अनिच्छा से अपने भाइयों, लमनाइयों से संघर्ष करने के लिए विवश थे;
145 हां, और ठीक है, लमनाइयों के साथ उनकी बहुत अनिच्छा के बावजूद, कई वर्षों तक उनके युद्ध कभी नहीं रुके ।
146 अब उन्हें लमनाइयों के विरुद्ध हथियार उठाने के लिए खेद हुआ, क्योंकि वे लहू बहाने से प्रसन्न नहीं थे; हाँ, और यह सब कुछ नहीं था; अपने परमेश्वर से मिलने के लिए तैयार न होने वाले अनन्त संसार में अपने इतने सारे भाइयों को इस दुनिया से बाहर भेजने का माध्यम बनने के लिए उन्हें खेद था;
147 फिर भी, उन्हें अपनी जान देने का कष्ट नहीं उठाना पड़ा, कि उनकी पत्नियों और उनके बच्चों को उन लोगों की बर्बर क्रूरता से मार डाला जाए जो कभी उनके भाई थे, हां, और अपने गिरजे से अलग हो गए थे, और उन्हें छोड़ दिया था, और लमनाइयों के साथ मिल कर उनका नाश करने गया;
148 हां, वे यह सहन नहीं कर सकते थे कि उनके भाई नफाइयों के लहू पर आनन्द मनाएं, जब तक कि परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करने वाले कोई थे, क्योंकि प्रभु की प्रतिज्ञा थी, यदि वे उसकी आज्ञाओं का पालन करें, तो उन्हें भूमि में समृद्ध हो।
149 और अब ऐसा हुआ कि उन्नीसवें वर्ष के ग्यारहवें महीने में, महीने के दसवें दिन, लमनाइयों की सेना को अम्मोनिहा के प्रदेश की ओर जाते देखा गया ।
150 और देखो, शहर का पुनर्निर्माण किया गया था, और मोरोनी ने शहर की सीमाओं पर एक सेना तैनात की थी, और उन्होंने लमनाइयों के तीरों और पत्थरों से उन्हें बचाने के लिए चारों ओर मिट्टी डाली थी: क्योंकि देखो, वे लड़े थे पत्थरों से, और तीरों से।
151 देखो, मैं ने कहा था कि अम्मोनिहा नगर फिर से बनाया गया है। मैं तुमसे कहता हूं, हां, कि इसका आंशिक रूप से पुनर्निर्माण किया गया था, और क्योंकि लोगों के अधर्म के कारण लमनाइयों ने इसे एक बार नष्ट कर दिया था, उन्होंने सोचा कि यह फिर से उनके लिए आसान शिकार बन जाएगा ।
152 परन्तु देखो, उनकी निराशा कितनी बड़ी थी; क्योंकि देखो, नफाइयों ने अपने चारों ओर मिट्टी की एक पहाड़ी खोदी थी, जो इतना ऊंचा था कि लमनाइयों ने उन पर अपने पत्थर और तीर नहीं फेंके, ताकि वे प्रभावी हो सकें, न ही वे उन पर आ सकें, सिवाय इसके कि उनके प्रवेश का स्थान।
153 अब इस समय, लमनाइयों के मुख्य सेनापति अपने सुरक्षा स्थानों को तैयार करने में नफाइयों की बुद्धिमत्ता के कारण बहुत चकित थे ।
154 अब लमनाइयों के अगुवों ने उनकी संख्या की अधिकता के कारण अनुमान लगाया था; हां, उनका मानना था कि उन्हें उन पर आने का विशेषाधिकार प्राप्त होना चाहिए जैसा कि उन्होंने अब तक किया था;
155 वरन उन्होंने भी ढालें, और चपरासें लिए हुए अपने आप को तैयार किया था; और उन्होंने खालों के वस्त्र पहिने हुए थे; हाँ, बहुत मोटे वस्त्र, ताकि उनका नंगापन ढाँप सके।
156 और इस प्रकार तैयार होने के कारण, उन्होंने सोचा कि वे आसानी से अपने भाइयों को वश में कर लें और अपने भाइयों को दासता के अधीन कर लें, या उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें मार डालें और उनका नरसंहार करें।
157 लेकिन देखो, वे अपने पूर्ण विस्मय के साथ उनके लिए इस प्रकार तैयार किए गए थे, जैसा कि लेही के सभी बच्चों में कभी नहीं जाना गया था ।
158 अब वे मोरोनी के निर्देशों के अनुसार, लमनाइयों के लिए युद्ध के लिए तैयार किए गए थे ।
159 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों, या अमालिकियाइयों ने युद्ध की तैयारी के अपने तरीके से अत्यधिक चकित किया ।
160 अब यदि राजा अमालिकिया अपनी सेना के प्रमुख के रूप में नफी के प्रदेश से बाहर आया होता, तो शायद वह लमनाइयों से अम्मोनिहा के नगर में नफाइयों पर आक्रमण करवा देता; क्योंकि देखो, उस ने अपके लोगोंके लोहू की चिन्ता नहीं की।
161 परन्तु देखो, अमालिकिया स्वयं युद्ध करने नहीं आया।
162 और देखो, उसके प्रमुख सेनापतियों ने अम्मोनिहा शहर में नफाइयों पर हमला करने का साहस नहीं किया, क्योंकि मोरोनी ने नफाइयों के बीच मामलों के प्रबंधन को इतना बदल दिया था कि लमनाइयों को अपने पीछे हटने के स्थानों में निराशा हुई, और वे उन पर आक्रमण नहीं कर सके;
163 इसलिए वे निर्जन प्रदेश में पीछे हट गए, और अपनी छावनी ले ली, और नूह के प्रदेश की ओर कूच कर गए, यह समझकर कि उनके लिए नफाइयों के खिलाफ आने का अगला सबसे अच्छा स्थान होगा;
164 क्योंकि वे नहीं जानते थे कि मोरोनी ने चारों ओर के सभी नगरों के लिए गढ़वाले किले बनाए थे या सुरक्षा के किले बनाए थे ।
165 इसलिथे वे दृढ़ निश्चय करके नूह के देश की ओर बढ़े; हां, उनके प्रधान सेनापति आगे आए, और शपथ ली कि वे उस नगर के लोगों को नष्ट कर देंगे ।
166 लेकिन देखो, उनके आश्चर्य के लिए, नूह का शहर, जो अब तक एक कमजोर स्थान था, अब मोरोनी के माध्यम से मजबूत हो गया था; हां, यहां तक कि अम्मोनिहा नगर की शक्ति से भी अधिक होने के लिए ।
167 और अब देखो, मोरोनी में यही बुद्धि थी; क्योंकि उसने सोचा था कि वे अम्मोनिहा नगर से भयभीत होंगे; और जैसा कि नूह का नगर अब तक देश का सबसे निर्बल भाग रहा था, इस कारण वे वहां युद्ध करने के लिये कूच करते थे; और इस प्रकार, उसकी इच्छा के अनुसार था।
168 और देखो, मोरोनी ने लेही को उस नगर के लोगों का प्रधान सेनापति नियुक्त किया था; और यह वही लेही था जिसने सीदोन नदी के पूर्व की घाटी में लमनाइयों से युद्ध किया था ।
169 और अब देखो, ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने पाया कि लेही ने नगर पर शासन किया, तो वे फिर से निराश हो गए, क्योंकि वे लेही से अत्यधिक डरते थे; तौभी, उनके प्रधान सेनापतियों ने नगर पर चढ़ाई करने की शपथ खाई थी; इसलिथे वे अपक्की सेना ले आए।
170 अब देखो, लमनाइयों ने अपने सुरक्षा के किलों में प्रवेश नहीं किया, प्रवेश द्वार के अलावा किसी अन्य तरीके से, तट की ऊंचाई के कारण, जिसे फेंक दिया गया था, और खाई की गहराई जिसे चारों ओर खोदा गया था, इसे बचाओ प्रवेश द्वार से थे।
171 और इस प्रकार नफाई उन सभी को नष्ट करने के लिए तैयार थे जो किसी अन्य तरीके से किले में प्रवेश करने के लिए चढ़ने का प्रयास करते थे, उन पर पत्थर और तीर फेंक कर ।
172 इस प्रकार वे तैयार किए गए; हां, तलवारों और गुलेलों के साथ उनके सबसे बलवानों का एक शरीर, जो उन सभी को मार डालेंगे, जो अपनी सुरक्षा के स्थान में प्रवेश करने का प्रयास करते हैं; और इस प्रकार वे लमनाइयों से अपना बचाव करने के लिए तैयार थे ।
173 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों के सेनापतियों ने अपनी सेना को प्रवेश के स्थान के सामने लाया, और नफाइयों से युद्ध करने लगे, ताकि वे अपने सुरक्षित स्थान पर पहुंच सकें;
174 परन्तु देखो, समय-समय पर उन्हें इतना पीछे धकेल दिया जाता था कि वे भारी वध के साथ मारे जाते थे ।
175 अब जब उन्होंने पाया कि वे दर्रे के द्वारा नफाइयों पर अधिकार प्राप्त नहीं कर सकते हैं, तो उन्होंने अपनी जमीन के किनारों को खोदना शुरू कर दिया, ताकि वे अपनी सेना के लिए एक मार्ग प्राप्त कर सकें, ताकि उन्हें लड़ने का समान अवसर मिल सके;
176 परन्तु देखो, इन प्रयासों में, वे उन पत्थरों और तीरों से जो उन पर फेंके गए थे, नष्ट हो गए; और वे अपके गड्ढोंको पृय्वी के किनारोंको खींचकर भरने के बदले, अपक्की लोथोंऔर घायल लोथोंसे भर गए।
177 इस प्रकार नफाइयों का अपने शत्रुओं पर पूर्ण अधिकार था; और इस प्रकार लमनाइयों ने नफाइयों को तब तक नष्ट करने का प्रयास किया, जब तक कि उनके सभी प्रमुख सेनापति मारे नहीं गए;
178 हां, और एक हजार से अधिक लमनाई मारे गए थे; जबकि दूसरी ओर, मारे गए नफाइयों की एक भी आत्मा नहीं थी ।
179 वहां लगभग पचास घायल हुए थे, जो रास्ते से होकर लमनाइयों के तीरों के सामने आ गए थे, लेकिन उनकी ढालों, और उनके कवचों, और उनके सिर की पट्टियों से उनकी रक्षा की गई थी, इतना अधिक कि उनके घाव उनके पैरों पर थे: जिनमें से कई बेहद गंभीर थे।
180 और ऐसा हुआ, कि जब लमनाइयों ने देखा कि उनके सभी प्रमुख सेनापति मारे गए हैं, तो वे निर्जन प्रदेश में भाग गए ।
181 और ऐसा हुआ कि वे अपने राजा, अमालिकिया, जो जन्म से नफाई थे, को अपने बड़े नुकसान के बारे में सूचित करने के लिए नफी के प्रदेश लौट आए ।
182 और ऐसा हुआ कि वह अपने लोगों से अत्यधिक क्रोधित हो रहा था, क्योंकि उसने नफाइयों पर अपनी अभिलाषा प्राप्त नहीं की थी; उसने उन्हें दासता के जूए में नहीं डाला था;
183 हां, उसका क्रोध बहुत बढ़ गया था, और उसने परमेश्वर को, और मोरोनी को भी श्राप दिया, और शपथ खाकर कि वह उसका लहू पीएगा; और ऐसा इसलिए क्योंकि मोरोनी ने अपने लोगों की सुरक्षा की तैयारी में परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन किया था ।
184 और ऐसा हुआ, कि दूसरी ओर, नफी के लोगों ने अपने परमेश्वर यहोवा का धन्यवाद किया, क्योंकि उसने अपने शत्रुओं के हाथों से उन्हें छुड़ाने में अपनी अतुलनीय शक्ति का उपयोग किया था ।
185 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के उन्नीसवें वर्ष का अंत हुआ; हां, और उनके बीच लगातार शांति बनी रही, और गिरजे में अत्यधिक समृद्धि थी, क्योंकि उन्होंने परमेश्वर के वचन पर ध्यान दिया और परिश्रम किया, जिसके बारे में हिलामन, शिब्लोन, और कोरियंटन, और अम्मोन ने उन्हें बताया था, और उसके भाई, आदि;
186 हां, और उन सभी के द्वारा जिन्हें परमेश्वर की पवित्र व्यवस्था के अनुसार नियुक्त किया गया था, पश्चाताप के लिए बपतिस्मा दिया गया था, और लोगों के बीच प्रचार करने के लिए भेजा गया था, आदि ।

 

अल्मा, अध्याय 22

1 और अब ऐसा हुआ कि मोरोनी ने युद्ध की तैयारी करना, या लमनाइयों से अपने लोगों की रक्षा करना बंद नहीं किया; क्योंकि उसने अपनी सेना को न्यायियों के शासन के बीसवें वर्ष के प्रारंभ में शुरू करने का आदेश दिया था, कि वे सभी नगरों के चारों ओर, नफाइयों के कब्जे वाले पूरे देश में, मिट्टी के ढेर खोदना शुरू कर दें;
2 और उस ने पृय्वी की इन टीलोंकी चोटी पर लकड़ियां लगाईं; वरन नगरों के चारों ओर लकड़ियों की गढ़ी हुई कृतियां मनुष्य की ऊंचाई तक बनाई गई हैं।
3 और उस ने उन लकडिय़ोंके कामोंके लिथे चारोंओर लकडिय़ोंके ऊपर धरने का एक ढाँचा बनवाया; और वे बलवन्त और ऊंचे थे; और उस ने गुम्मट बनवाए, जो धरने के उन कामोंके ऊपर दिखाई देते थे;
4 और उसने उन मीनारों पर सुरक्षा के स्थान बनवाए, ताकि लमनाइयों के पत्थर और तीर उन्हें चोट न पहुंचा सकें ।
5 और वे तैयार थे, कि वे अपक्की इच्छा और शक्ति के अनुसार उसके ऊपर से पत्थर फेंके, और जो कोई नगर की शहरपनाह के निकट आने का प्रयत्न करे, उसे घात करें।
6 इस प्रकार मोरोनी ने अपने शत्रुओं के आने के विरुद्ध गढ़ तैयार किए, पूरे प्रदेश के हर शहर के चारों ओर ।
7 और ऐसा हुआ कि मोरोनी ने अपनी सेना को पूर्वी निर्जन प्रदेश में भेजा; हां, और वे आगे बढ़े, और उन सभी लमनाइयों को खदेड़ दिया जो पूर्वी निर्जन प्रदेश में थे, उनके अपने प्रदेशों में, जो जराहेमला प्रदेश के दक्षिण में थे;
8 और नफी का प्रदेश पूर्वी समुद्र से पश्चिम की ओर एक सीधी दिशा में चलता था ।
9 और ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने सभी लमनाइयों को पूर्वी निर्जन प्रदेश से, जो उनके अपने प्रदेश के उत्तर में था, खदेड़ दिया, तो उसने उन निवासियों को जो जराहेमला प्रदेश में थे, और उसके आसपास के प्रदेश में , पूर्व जंगल में, यहां तक कि सीमाओं तक, समुद्र के किनारे तक, और भूमि के अधिकारी होना चाहिए।
10 और उस ने दक्खिन की ओर उनकी सम्पत्ति के सिवानोंमें भी सेना खड़ी की, और उनके लिए गढ़ बनवाए, कि वे उनकी सेना और अपनी प्रजा को उनके शत्रुओं के हाथ से बचा सकें।
11 और इस प्रकार उसने पूर्वी जंगल में लमनाइयों के सभी गढ़ों को काट दिया: हां, और पश्चिम में भी, नफाइयों और लमनाइयों के बीच, जराहेमला प्रदेश और नफी के प्रदेश के बीच की रेखा को मजबूत करते हुए; पश्चिम समुद्र से, सीदोन नदी के सिर से बह रहा है;
12 उत्तर दिशा के सारे प्रदेश के अधिकारी नफाई; हां, यहां तक कि वह सारी भूमि जो उस देश के उत्तर की ओर उनकी इच्छा के अनुसार भरपूर है ।
13 इस प्रकार मोरोनी, अपनी सेनाओं के साथ, जो सुरक्षा के आश्वासन के कारण प्रतिदिन बढ़ती गई, जो उसके कार्यों ने उन्हें प्रदान की थी; इसलिए उन्होंने अपनी संपत्ति के प्रदेशों से लमनाइयों की शक्ति और शक्ति को समाप्त करने का प्रयास किया, ताकि उनकी संपत्ति के प्रदेशों पर उनका कोई अधिकार न हो ।
14 और ऐसा हुआ कि नफाइयों ने एक नगर की नींव डाली; और उन्होंने उस नगर का नाम मोरोनी रखा; और वह पूर्वी समुद्र के किनारे था; और यह लमनाइयों की संपत्ति की सीमा के दक्षिण में था ।
15 और उन्होंने मोरोनी नगर और हारून नगर के बीच एक नगर की नींव डाली, जो हारून और मोरोनी की सीमाओं से मिला हुआ था; और उन्होंने उस नगर या प्रदेश का नाम नफीहा रखा।
16 और उसी वर्ष उन्होंने उत्तर की ओर बहुत से नगर बनाने लगे; एक विशेष तरीके से जिसे वे लेही कहते थे, जो उत्तर में समुद्र के किनारे की सीमाओं से लगा हुआ था। और इस प्रकार बीसवां वर्ष समाप्त हुआ।
17 और नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के इक्कीसवें वर्ष के प्रारंभ में, इन समृद्ध परिस्थितियों में नफी के लोग थे ।
18 और वे बहुत समृद्ध हुए, और वे बहुत अधिक धनी हो गए; हां, और उन्होंने गुणा किया, और प्रदेश में मजबूत हुए ।
19 और इस प्रकार हम देखते हैं कि मनुष्यों के प्रति उसके सभी वचनों को पूरा करने के लिए प्रभु के सभी व्यवहार कितने दयालु और न्यायपूर्ण हैं;
20 हां, हम देख सकते हैं कि उसकी बातें इस समय भी प्रमाणित हुई हैं, जिसे उसने लेही से कहा था, धन्य है तू और तेरी सन्तान; और वे आशीष पाएं; क्योंकि वे मेरी आज्ञाओं को मानेंगे, वे देश में समृद्ध होंगे।
21 परन्तु स्मरण रखना, कि यदि वे मेरी आज्ञाओं को न मानें, तो यहोवा के साम्हने से नाश किए जाएंगे।
22 और हम देखते हैं कि नफी के लोगों से इन प्रतिज्ञाओं की पुष्टि हो गई है; क्योंकि यह उनके झगड़े और उनके विवाद, हां, उनकी हत्याएं, और उनकी लूट, उनकी मूर्तिपूजा, उनकी व्यभिचार, और उनके घिनौने काम थे, जो उनके बीच में थे, जो उन पर उनके युद्धों और उनके विनाश का कारण बने ।
23 और जो लोग प्रभु की आज्ञाओं का पालन करने में विश्वासयोग्य थे, उन्हें हर समय बचाया गया, जबकि उनके हजारों दुष्ट भाइयों को गुलामी में डाल दिया गया, या तलवार से नष्ट कर दिया गया, या अविश्वास में खो दिया गया, और लमनाइयों के साथ मिल गए .
24 लेकिन देखो, नफी के लोगों के बीच मोरोनी के दिनों की तुलना में नफी के दिनों से अधिक खुशी का समय कभी नहीं था; हां, इस समय भी, न्यायियों के शासन के इक्कीसवें वर्ष में ।
25 और ऐसा हुआ कि न्यायियों के शासन का बाईसवां वर्ष भी शांतिपूर्ण ढंग से समाप्त हुआ; हाँ, और तेईसवें वर्ष भी।
26 और ऐसा हुआ कि न्यायियों के शासन के चौबीसवें वर्ष के प्रारंभ में, नफी के लोगों के बीच भी शांति रही होगी, यदि उनके बीच प्रदेश को लेकर कोई विवाद नहीं हुआ होता लेही, और मोरियंटन की भूमि, जो लेही की सीमाओं पर मिलती थी; जो दोनों समुद्र के किनारे की सीमाओं पर थे।
27 क्योंकि देखो, जिन लोगों के पास मोरियंटन प्रदेश था, उन्होंने लेही प्रदेश के एक हिस्से पर दावा किया था; इस कारण उनके बीच इतना तीखा झगड़ा होने लगा कि मोरियंटन के लोगों ने अपने भाइयों के विरुद्ध हथियार उठा लिए, और उन्होंने तलवार से उन्हें मार डालने का निश्चय किया।
28 लेकिन देखो, वे लोग जिनके पास लेही का प्रदेश था, मोरोनी की छावनी में भाग गए, और उससे सहायता की गुहार लगाई; क्योंकि देखो, वे गलत नहीं थे।
29 और ऐसा हुआ कि जब मोरियंटन के लोगों ने, जो मोरियंटन नाम के एक व्यक्ति के नेतृत्व में थे, पाया कि लेही के लोग मोरोनी की छावनी में भाग गए थे, तो वे अत्यधिक भयभीत हो गए थे कि कहीं मोरोनी की सेना आक्रमण न कर दे उन्हें, और उन्हें नष्ट कर;
30 इसलिए, मोरियंटन ने उनके मन में यह विचार किया कि वे उस देश में भाग जाएं जो उत्तर की ओर था, जो पानी के बड़े जलाशयों से ढका हुआ था, और उस भूमि पर अधिकार कर लिया जो उत्तर की ओर थी।
31 और देखो, उन्होंने इस योजना को लागू किया होगा, (जिसके कारण शोक हुआ होगा), लेकिन देखो, मोरियंटन, बहुत जुनूनी व्यक्ति होने के कारण, इसलिए वह अपनी एक दासी पर क्रोधित हो गया था, और वह उस पर गिर पड़ा, और उसे बहुत पीटा।
32 और ऐसा हुआ कि वह भाग गई, और मोरोनी की छावनी में आई, और मोरोनी को मामले के बारे में सब कुछ बताया; और उत्तर की ओर देश में भागने के उनके इरादे के बारे में भी।
33 अब देखो, जो लोग समृद्ध प्रदेश में थे, या यों कहें कि मोरोनी को डर था कि वे मोरियंटन की बातों को मानेंगे, और उसके लोगों के साथ मिल जाएंगे, और इस प्रकार वह प्रदेश के उन हिस्सों पर कब्जा कर लेगा, जो नफी के लोगों के बीच गंभीर परिणामों की नींव; हां, जिसके परिणाम उनकी स्वतंत्रता को समाप्त कर देंगे;
34 इसलिथे मोरोनी ने अपनी छावनी समेत एक सेना भेजी, कि वे मोरियंटन के लोगोंका नेतृत्व करें, कि वे उत्तर की ओर देश की ओर भागें।
35 और ऐसा हुआ कि जब तक वे उजाड़ प्रदेश की सीमाओं तक नहीं पहुंच गए, तब तक वे उनका नेतृत्व नहीं करते थे: और वहां वे उनका नेतृत्व करते थे, उस संकरे रास्ते से जो समुद्र के द्वारा उत्तर की ओर प्रदेश में जाता था; हां, समुद्र के किनारे, पश्चिम में, और पूर्व में ।
36 और ऐसा हुआ कि मोरोनी द्वारा भेजी गई सेना, जिसका नेतृत्व टियंकम नाम का एक व्यक्ति कर रहा था, मोरियंटन के लोगों से मिली;
37 और मोरियंटन के लोग इतने हठी थे, (उसकी दुष्टता और उसके चापलूसी भरे शब्दों से प्रेरित होकर), कि उनके बीच एक लड़ाई शुरू हुई, जिसमें टियंकम ने मोरियंटन को मार डाला, और उसकी सेना को हरा दिया, और उन्हें बंदी बना लिया, और वापस लौट आया मोरोनी का शिविर।
38 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के चौबीसवें वर्ष का अंत हुआ । और इस प्रकार मोरियंटन के लोगों को वापस लाया गया ।
39 और शांति बनाए रखने की उनकी वाचा के अनुसार, वे मोरियंटन प्रदेश में बहाल किए गए, और उनके और लेही के लोगों के बीच एक मिलन हुआ; और वे भी अपके देश में फेर दिए गए।
40 और ऐसा हुआ कि उसी वर्ष जब नफी के लोगों ने उन्हें शांति प्रदान की, तब दूसरा मुख्य न्यायाधीश नफीहा मर गया, जिसने न्याय आसन को परमेश्वर के सामने पूरी ईमानदारी से भर दिया;
41 फिर भी, उसने अलमा को उन अभिलेखों और उन चीजों को अपने अधिकार में लेने से मना कर दिया था जिन्हें अलमा और उसके पिता सबसे पवित्र मानते थे; इसलिए अलमा ने उन्हें अपने पुत्र हिलामन को प्रदान किया था ।
42 देखो, ऐसा हुआ कि नफीहा के पुत्र को उसके पिता के स्थान पर न्याय आसन पर बैठने के लिए नियुक्त किया गया; हां, उसे मुख्य न्यायाधीश, और लोगों पर राज्यपाल नियुक्त किया गया था, एक शपथ, और पवित्र अध्यादेश के साथ कि वह धार्मिक रूप से न्याय करेगा, और लोगों की शांति, और स्वतंत्रता बनाए रखेगा, और उन्हें प्रभु की पूजा करने के लिए उनके पवित्र विशेषाधिकार प्रदान करेगा। उनके भगवान;
43 वरन उसके जीवन भर परमेश्वर के मुकद्दमे को सहारा देना और उसकी रक्षा करना, और दुष्टों को उनके अपराध के अनुसार न्याय दिलाना । अब देखो, उसका नाम पहोरन था।
44 और पहोरन ने अपने पिता का स्थान ग्रहण किया, और चौबीसवें वर्ष के अंत में, नफी के लोगों पर अपना राज्य प्रारंभ किया ।

 

अल्मा, अध्याय 23

1 और अब ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के पच्चीसवें वर्ष के प्रारंभ में, उन्होंने लेही के लोगों और मोरियंटन के लोगों के बीच अपने प्रदेशों के संबंध में शांति स्थापित कर ली, और शांति में पच्चीसवां वर्ष;
2 तौभी, वे अधिक दिन तक उस देश में मेल नहीं रखते थे, क्योंकि लोगोंमें मुख्य न्यायी पहोरान के विषय में विवाद होने लगा; क्योंकि देखो, कुछ लोग थे जो चाहते थे कि कानून के कुछ विशेष बिंदुओं में परिवर्तन किया जाए।
3 परन्तु देखो, पहोरन न तो बदलेगा, और न ही व्यवस्था को बदलने का कष्ट उठाएगा; इसलिथे उस ने उन की न सुनी, जिन्होंने व्यवस्था में परिवर्तन के विषय में अपक्की बिनती करके अपक्की बिनती की थी;
4 इसलिथे जो लोग चाहते थे, कि व्यवस्था में परिवर्तन किया जाए, वे उस से क्रुद्ध हुए, और चाहते थे कि वह फिर से देश का प्रधान न्यायी न रहे; इसलिए इस मामले को लेकर एक गर्मागर्म विवाद खड़ा हो गया; लेकिन रक्तपात तक नहीं।
5 और ऐसा हुआ कि जो लोग चाहते थे कि पहोरन को न्याय आसन से हटा दिया जाए, वे राजा-पुरुष कहलाते थे, क्योंकि वे चाहते थे कि स्वतंत्र सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए, और एक स्थापित करने के लिए कानून में बदलाव किया जाए। भूमि पर राजा।
6 और जो चाहते थे, कि पहोरान देश का मुख्य न्यायी बने, उन्होंने उन से स्वतंत्र लोगोंका नाम लिया; और इस प्रकार उनके बीच विभाजन था; क्योंकि स्वतंत्र लोगों ने एक स्वतंत्र सरकार द्वारा अपने अधिकारों और अपने धर्म के विशेषाधिकारों को बनाए रखने की शपथ ली थी या अनुबंध किया था।
7 और ऐसा हुआ कि उनके विवाद का मामला लोगों की आवाज से सुलझ गया ।
8 और ऐसा हुआ कि लोगों की आवाज स्वतंत्र लोगों के पक्ष में आई, और पहोरन न्याय आसन पर कायम रहा, जिससे पहोरन के भाइयों और स्वतंत्रता के लोगों में से कई लोगों में बहुत खुशी हुई; जिन्होंने राजा-पुरूषों को भी चुप करा दिया, कि वे विरोध करने का साहस न करें, लेकिन स्वतंत्रता के कारण को बनाए रखने के लिए बाध्य थे।
9 जो लोग राजाओं के पक्ष में थे, वे ऊंचे वंश के थे; और वे राजा बनना चाहते थे; और उन्हें उन लोगों का समर्थन प्राप्त था जो लोगों पर अधिकार और अधिकार चाहते थे।
10 लेकिन देखो, नफी के लोगों के बीच इस तरह के विवाद के लिए यह एक महत्वपूर्ण समय था; क्योंकि देखो, अमालिकिया ने फिर से नफाइयों के लोगों के खिलाफ लमनाइयों के लोगों के दिलों में हलचल मचा दी थी, और वह अपने प्रदेश के सभी हिस्सों से सैनिकों को इकट्ठा कर रहा था, और उन्हें हथियारों से लैस कर रहा था, और पूरे परिश्रम के साथ युद्ध की तैयारी कर रहा था। , क्योंकि उसने मोरोनी का खून पीने की शपथ ली थी ।
11 परन्तु देखो, हम देखेंगे कि उसका जो वचन उस ने किया था, वह उतावला था; फिर भी, उसने नफाइयों के विरुद्ध युद्ध के लिए आने के लिए स्वयं को और अपनी सेना को तैयार किया ।
12 अब उसकी सेना इतनी बड़ी नहीं थी जितनी पहले थी, नफाइयों के हाथों मारे गए हजारों लोगों के कारण;
13 परन्तु उनके बड़े नुकसान के बावजूद, अमालिकिया ने एक अद्भुत बड़ी सेना इकट्ठी की थी, इतना अधिक कि उसे जराहेमला के प्रदेश में आने का डर नहीं था।
14 हां, यहां तक कि अमालिकिया भी लमनाइयों के सिरहाने उतर आया ।
15 और यह न्यायियों के राज्य के पच्चीसवें वर्ष में था; और यह उसी समय हुआ जब उन्होंने पहोरन के प्रधान न्यायाधीश के विषय में अपने विवादों का निपटारा करना शुरू कर दिया था।
16 और ऐसा हुआ कि जब राजा-पुरुष कहलाने वाले लोगों ने सुना कि लमनाई उनके खिलाफ युद्ध करने के लिए नीचे आ रहे हैं, तो वे अपने हृदय में प्रसन्न हुए, और उन्होंने हथियार उठाने से इनकार कर दिया; क्‍योंकि वे प्रधान न्‍यायाधीश और स्‍वतंत्र लोगों पर इतना क्रोधित थे कि अपने देश की रक्षा के लिए शस्त्र नहीं उठाते थे।
17 और ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने यह देखा, और यह भी देखा कि लमनाई प्रदेश की सीमाओं में आ रहे हैं, तो वह उन लोगों के हठ के कारण अत्यधिक क्रोधित हो गया था, जिन्हें बचाने के लिए उसने इतनी मेहनत की थी ; हाँ, वह अत्यधिक क्रोधित था; उसका मन उन पर क्रोध से भर गया।
18 और ऐसा हुआ कि उसने लोगों की आवाज के साथ प्रदेश के राज्यपाल के पास एक याचिका भेजी, जिसमें वह चाहता था कि वह इसे पढ़े, और उसे [मोरोनी] शक्ति दे कि वह उन विरोधियों को अपने देश की रक्षा करने के लिए बाध्य करे, या उन्हें मौत के घाट उतार देना;
19 क्योंकि लोगों के बीच ऐसे झगड़ों और झगड़ों को समाप्त करना उसका पहला काम था; क्योंकि देखो, यह अब तक उनके सभी विनाश का कारण बना था ।
20 और ऐसा हुआ कि लोगों की आवाज के अनुसार इसे प्रदान किया गया ।
21 और ऐसा हुआ कि मोरोनी ने आज्ञा दी कि उसकी सेना को उन राजाओं के खिलाफ जाना चाहिए, ताकि उनके अभिमान और कुलीनता को कम किया जा सके, और उन्हें पृथ्वी से समतल किया जा सके, या वे हथियार उठाकर स्वतंत्रता के कार्य का समर्थन करें ।
22 और ऐसा हुआ कि सेना उनके विरुद्ध आगे बढ़ी; और उन्होंने अपने घमंड और कुलीनता को इतना नीचे गिरा दिया कि जैसे ही उन्होंने मोरोनी के लोगों से लड़ने के लिए अपने युद्ध के हथियार उठाए, उन्हें काट दिया गया, और पृथ्वी पर समतल कर दिया गया ।
23 और ऐसा हुआ कि विरोध करने वालों में से चार हजार थे, जिन्हें तलवार से काट दिया गया; और उनके अगुवों में से जो युद्ध में मारे नहीं गए थे, ले जाकर बन्दीगृह में डाल दिए गए, क्योंकि इस समय उन पर परीक्षाओं का समय न रहा;
24 और जो विरोध करनेवाले बचे थे, वे तलवार से मारे जाने के बजाय, स्वतंत्रता के स्तर के आगे झुक गए, और अपने गुम्मटों पर और अपने नगरों में स्वतंत्रता की उपाधि फहराने के लिए मजबूर हुए, और देश की रक्षा में हथियार।
25 और इस प्रकार मोरोनी ने उन राजाओं को समाप्त कर दिया, कि कोई भी राजा-पुरुषों के पद से ज्ञात नहीं था; और इस प्रकार उस ने हठ, और उन लोगोंके घमण्ड को दूर किया, जो कुलीनोंका लोहू मानते थे;
26 परन्तु वे अपने आप को अपने भाइयों के समान दीन करने, और दासत्व से अपनी स्वतन्त्रता के लिये वीरता से लड़ने के लिये नीचे लाए गए।
27 देखो, ऐसा हुआ कि जब मोरोनी इस प्रकार अपने ही लोगों के बीच युद्धों और विवादों को तोड़ रहा था, और उन्हें शांति और सभ्यता के अधीन कर रहा था, और लमनाइयों के विरुद्ध युद्ध की तैयारी के लिए नियम बना रहा था, देखो, लमनाइयों ने आक्रमण किया था मोरोनी की भूमि, जो समुद्र के किनारे की सीमाओं में थी।
28 और ऐसा हुआ कि मोरोनी नगर में नफाई पर्याप्त रूप से शक्तिशाली नहीं थे; इसलिए अमालिकिया ने बहुतों को मारते हुए उन्हें खदेड़ दिया।
29 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने नगर पर अधिकार कर लिया; हाँ, उनके सभी दुर्गों पर अधिकार।
30 और जो मोरोनी नगर से भाग गए, वे नफीहा नगर में आए; और लेही शहर के लोग भी इकट्ठे हुए, और तैयारी की, और लमनाइयों से युद्ध करने के लिए तैयार थे ।
31 लेकिन ऐसा हुआ कि अमालिकिया ने लमनाइयों को नफीहा के नगर पर युद्ध करने के लिए जाने के लिए मना नहीं किया, बल्कि उन्हें समुद्र के किनारे नीचे रख दिया, जिससे प्रत्येक नगर में उसके रख-रखाव और बचाव के लिए पुरुषों को छोड़ दिया;
32 और इस प्रकार उसने बहुत से नगरों पर अधिकार कर लिया: नफीहा नगर, लेही नगर, मोरियंटन नगर, ओम्नेर नगर, गिद नगर, और मूलेक नगर, जो पूर्व की सीमा पर समुद्र के किनारे थे।
33 और इस प्रकार लमनाइयों ने अमालिकिया की धूर्तता से, अपने असंख्य यजमानों द्वारा इतने सारे नगर प्राप्त कर लिए थे, जिनमें से सभी को मोरोनी के दुर्गों के अनुसार दृढ़ किया गया था; जिनमें से सभी लमनाइयों के गढ़ थे ।
34 और ऐसा हुआ कि वे संपन्न प्रदेश की सीमाओं तक पहुंचे, नफाइयों को उनके सामने से भगाया, और बहुतों को मार डाला ।
35 लेकिन ऐसा हुआ कि उनकी मुलाकात टियंकम से हुई, जिसने मोरियंटन को मार डाला था, और उसके लोगों को उसकी उड़ान में ले गया था ।
36 और ऐसा हुआ कि जब वह अपनी असंख्य सेना के साथ आगे बढ़ रहा था, तब भी वह अमालिकिया का नेतृत्व कर रहा था, ताकि वह संपन्न प्रदेश, और उत्तर की ओर के प्रदेश पर भी अधिकार कर सके ।
37 लेकिन देखो, टियंकम और उसके आदमियों द्वारा खदेड़ दिए जाने के कारण, उसे निराशा हुई, क्योंकि वे महान योद्धा थे: क्योंकि टियंकम के प्रत्येक व्यक्ति ने लमनाइयों को उनकी ताकत में, और युद्ध के अपने कौशल में, इतना अधिक हासिल किया कि उन्होंने हासिल किया लैमनाइट्स पर लाभ।
38 और ऐसा हुआ कि उन्होंने उन्हें इतना परेशान किया कि अंधेरा होने तक उन्होंने उन्हें मार डाला ।
39 और ऐसा हुआ कि टियंकम और उसके लोगों ने संपन्न प्रदेश की सीमा पर अपने तंबू लगाए; और अमालिकिय्याह ने अपने डेरे समुद्र के किनारे समुद्र के किनारे की सीमाओं में लगाए, और वे इसी रीति से खदेड़ दिए गए।
40 और ऐसा हुआ कि जब रात हुई, टियंकम और उसका सेवक रात को चोरी करके अमालिकिया की छावनी में गए; और देखो, उनकी अत्याधिक थकान के कारण, जो परिश्रम और दिन की गर्मी के कारण हुई थी, नींद ने उन्हें प्रबल कर दिया था।
41 और ऐसा हुआ कि टियंकम ने राजा के तंबू में चोरी कर ली, और उसके हृदय में एक भाला रख दिया; और उस ने तुरन्त राजा को ऐसा मरवा डाला, कि उस ने अपके कर्मचारियोंको न जगाया।।
42 और वह फिर अपके अपके डेरे को अपके अपके डेरे को लौट गया, और क्या देखा, कि उसके जन सो गए हैं; और उस ने उन्हें जगाया, और जो कुछ उस ने किया या, वह सब उनको बता दिया।
43 और उसने अपनी सेना को तैयार रहने के लिए कहा, कहीं ऐसा न हो कि लमनाई जाग जाएं, और उन पर आक्रमण कर दें ।
44 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के पच्चीसवें वर्ष का अंत हुआ; और इस प्रकार अमालिकिया के दिन समाप्त हो गए।

 

अल्मा, अध्याय 24

1 और अब ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के छब्बीसवें वर्ष में, देखो, जब लमनाइयों ने पहले महीने की पहली सुबह को जगाया, देखो, उन्होंने पाया कि अमालिकिया अपने ही घर में मर गया था। तम्बू; और उन्होंने यह भी देखा, कि उस दिन टियंकम उन से युद्ध करने को तैयार है।
2 और अब जब लमनाइयों ने यह देखा, तो वे डर गए; और उन्होंने उत्तर की ओर देश की ओर बढ़ने की अपनी योजना को त्याग दिया, और अपनी सारी सेना के साथ मुलेक नगर में पीछे हट गए, और अपने गढ़ों में सुरक्षा की मांग की।
3 और ऐसा हुआ कि अमालिकिया के भाई को लोगों का राजा नियुक्त किया गया; और उसका नाम अम्मोरोन था; इस प्रकार राजा अमालिकिया के भाई राजा अम्मोरोन को उसके स्थान पर राज्य करने के लिए नियुक्त किया गया।
4 और ऐसा हुआ कि उसने आज्ञा दी कि उसके लोग उन नगरों की रक्षा करें जिन्हें उन्होंने खून बहाकर ले लिया था; क्योंकि उन्होंने और कोई नगर नहीं लिया था, सिवाय इसके कि उन्होंने बहुत खून खो दिया था।
5 और अब टियंकम ने देखा कि लमनाइयों ने उन नगरों को, जिन पर उन्होंने कब्जा कर लिया था, और प्रदेश के उन हिस्सों को बनाए रखने के लिए दृढ़संकल्प थे जिन पर उन्होंने कब्जा कर लिया था;
6 और उनकी संख्या की विशालता को देखते हुए, टियंकम ने सोचा कि यह उचित नहीं है कि वह उनके किलों में उन पर आक्रमण करने का प्रयास करे; परन्‍तु वह अपके जनोंको चारोंओर ऐसे रखता या, मानो युद्ध की तैयारी कर रहा हो;
7 हां, और वास्तव में वह चारों ओर शहरपनाह बनाकर, और आश्रय स्थल तैयार करके, उनके विरुद्ध अपना बचाव करने की तैयारी कर रहा था ।
8 और ऐसा हुआ कि जब तक मोरोनी ने अपनी सेना को मजबूत करने के लिए बड़ी संख्या में लोगों को नहीं भेजा, तब तक वह युद्ध की तैयारी करता रहा;
9 और मोरोनी ने उसके पास यह आदेश भी भेजा, कि वह उन सब बन्धुओं को जो उसके हाथ में पड़ गए थे, अपने पास रखे; क्योंकि लमनाइयों ने बहुत से बंदी बना लिए थे, इसलिए वह लमनाइयों के सभी बंदियों को लमनाइयों के लिए छुड़ौती के रूप में रखेगा ।
10 और उसने उसे आदेश भी भेजे, कि वह समृद्ध प्रदेश को दृढ़ करे, और उस संकरे मार्ग को सुरक्षित करे जो उत्तर की ओर प्रदेश की ओर जाता है, ऐसा न हो कि लमनाइयों को वह स्थान प्राप्त हो जाए, और उन्हें हर तरफ से परेशान करने की शक्ति प्राप्त हो ।
11 और मोरोनी ने उसे यह इच्छा करते हुए भी भेजा कि वह प्रदेश के उस हिस्से को बनाए रखने में विश्वासयोग्य रहेगा, और वह उस क्षेत्र में लमनाइयों को मारने के लिए हर अवसर की तलाश करेगा, जितना उसके अधिकार में था,
12 कि शायद वह उन नगरों को, जो उनके हाथ से छीन लिए गए थे, चाल-चलन वा किसी और रीति से फिर ले ले; और यह कि वह चारों ओर के उन नगरों को भी दृढ़ और दृढ़ करेगा जो लमनाइयों के हाथ में नहीं आए थे ।
13 और उसने उससे यह भी कहा, मैं तुम्हारे पास आऊंगा, परन्तु देखो, लमनाइयों ने पश्चिमी समुद्र के किनारे प्रदेश की सीमाओं पर हम पर आक्रमण किया है; और देखो, मैं उन पर चढ़ाई करता हूं, इसलिथे मैं तुम्हारे पास नहीं आ सकता।
14 अब राजा (अम्मोरोन) जराहेमला प्रदेश से निकल गया था, और रानी को अपने भाई की मृत्यु के बारे में बता दिया था, और बड़ी संख्या में लोगों को इकट्ठा किया था, और नफाइयों के खिलाफ कूच किया था। पश्चिमी समुद्र की सीमाएँ;
15 और इस प्रकार वह नफाइयों को परेशान करने और उनकी सेना के एक हिस्से को प्रदेश के उस हिस्से में ले जाने का प्रयास कर रहा था, जबकि उसने उन लोगों को आज्ञा दी थी जिन्हें उसने अपने कब्जे में लिए हुए नगरों पर अधिकार करने के लिए छोड़ दिया था, कि वे भी उन्हें परेशान करें। पूर्वी समुद्र की सीमाओं पर नफाई; और उनकी सेना के अधिकार के अनुसार जितनी भूमि उनके अधिकार में थी उतनी ही वे अपने अधिकार में लें।
16 और नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के छब्बीसवें वर्ष के अंत में, उन खतरनाक परिस्थितियों में नफाई इस प्रकार थे ।
17 लेकिन देखो, ऐसा हुआ कि न्यायियों के शासन के सत्ताईसवें वर्ष में, मोरोनी की आज्ञा से, टियंकम ने, जिसने प्रदेश की दक्षिणी और पश्चिमी सीमाओं की रक्षा के लिए सेना की स्थापना की थी, अपनी यात्रा शुरू कर दी थी भूमि समृद्ध है, कि वह अपने लोगों के साथ टियंकम की सहायता कर सकता है, उन शहरों को वापस लेने में जिन्हें उन्होंने खो दिया था।
18 और ऐसा हुआ कि टियंकम को मूलेक शहर पर हमला करने और यदि संभव हो तो उसे वापस लेने का आदेश मिला ।
19 और ऐसा हुआ कि टियंकम ने मुलेक के नगर पर आक्रमण करने की तैयारी की, और अपनी सेना के साथ लमनाइयों पर चढ़ाई की; परन्तु उसने देखा कि जब तक वे उनके गढ़ोंमें थे तब तक उन पर अधिकार करना नामुमकिन था;
20 इसलिए उसने अपनी योजनाओं को त्याग दिया, और मोरोनी के आने की प्रतीक्षा करने के लिए फिर से समृद्ध नगर में लौट आया, ताकि वह अपनी सेना को शक्ति प्राप्त कर सके ।
21 और ऐसा हुआ कि नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के सत्ताईसवें वर्ष के उत्तरार्ध में, मोरोनी अपनी सेना के साथ संपन्न प्रदेश में पहुंचा ।
22 और अट्ठाईसवें वर्ष के प्रारंभ में, मोरोनी और टियंकम, और कई प्रमुख सेनापतियों ने युद्ध की एक सभा आयोजित की, कि लमनाइयों को उनके विरुद्ध लड़ने के लिए उन्हें क्या करना चाहिए;
23 या कि वे किसी रीति से उनके गढ़ोंमें से उनकी चापलूसी करें, कि वे उन पर लाभ उठाएं, और मूलक नगर को फिर ले लें।
24 और ऐसा हुआ कि उन्होंने लमनाइयों की सेना के पास दूतावास भेजे, जिसने मूलेक नगर की रक्षा की, अपने नेता के पास, जिसका नाम याकूब था, वह चाहता था कि वह मैदानों में उनसे मिलने के लिए अपनी सेना के साथ बाहर आए, दो शहरों के बीच।
25 परन्तु देखो, याकूब जो जोरामी था, अपनी सेना के साथ मैदानों में उन से भेंट करने के लिये बाहर न आया।
26 और ऐसा हुआ कि मोरोनी को उनसे उचित आधार पर मिलने की कोई उम्मीद नहीं थी, इसलिए उसने एक योजना बनाने का फैसला किया कि वह लमनाइयों को उनके गढ़ों से बाहर निकाल सके ।
27 इसलिथे उस ने टियंकम को चंद आदमियोंको लेकर समुद्र के तट के निकट कूच करने को कहा; और रात में मोरोनी और उसकी सेना, मुलेक शहर के पश्चिम में, जंगल में चले गए;
28 और इस प्रकार, अगले दिन, जब लमनाइयों के पहरेदारों ने टियंकम का पता लगाया, तो वे दौड़े और अपने नेता याकूब को इसकी सूचना दी ।
29 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों की सेना ने टियंकम के खिलाफ यह मान लिया कि उनकी संख्या कम होने के कारण टियंकम पर विजय प्राप्त करने के लिए उनकी सेना आगे बढ़ी ।
30 और जैसे ही टियंकम ने लमनाइयों की सेना को अपने विरुद्ध आते देखा, वह समुद्र के किनारे उत्तर की ओर पीछे हटने लगा ।
31 और ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने देखा कि वह भागना शुरू कर दिया है, तो उन्होंने साहस किया और जोश के साथ उनका पीछा किया ।
32 और जब टियंकम इस प्रकार उन लमनाइयों को दूर ले जा रहा था जो व्यर्थ में उनका पीछा कर रहे थे, देखो, मोरोनी ने आज्ञा दी कि उसकी सेना का एक हिस्सा जो उसके साथ था, शहर में प्रवेश करे, और उस पर कब्जा कर ले ।
33 और उन्होंने ऐसा ही किया, और उन सभोंको मार डाला जो नगर की रक्षा करने के लिथे रह गए थे; हां, वे सभी जो युद्ध के अपने हथियार नहीं छोड़ेंगे ।
34 और इस प्रकार मोरोनी ने अपनी सेना के एक हिस्से के साथ, मुलेक शहर पर कब्जा कर लिया था, जबकि वह शेष के साथ लमनाइयों से मिलने के लिए कूच कर रहा था, जब वे टियंकम का पीछा करके लौटेंगे ।
35 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों ने टियंकम का पीछा तब तक किया जब तक कि वे संपन्न शहर के पास नहीं आ गए, और फिर लेही, और एक छोटी सेना से उनका सामना हुआ, जो कि संपन्न नगर की रक्षा के लिए छोड़ी गई थी ।
36 और अब देखो, जब लमनाइयों के मुख्य सेनापतियों ने लेही को अपनी सेना के साथ उन पर आक्रमण करते हुए देखा, तो वे बहुत असमंजस में भाग गए, कहीं ऐसा न हो कि वे मूलेक नगर को प्राप्त न कर लें, इससे पहले कि लेही उन्हें पकड़ ले; क्योंकि वे अपनी चढ़ाई के कारण थके हुए थे, और लेही के लोग ताजा थे।
37 अब लमनाइयों को यह नहीं पता था कि मोरोनी उनकी सेना के साथ उनके पीछे था; और वे सब से डरते थे, लेही और उसके आदमी थे।
38 अब जब तक वे मोरोनी और उसकी सेना से नहीं मिल जाते, तब तक लेही उनसे आगे निकलने का इच्छुक नहीं था ।
39 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों के दूर जाने से पहले, वे नफाइयों से घिरे हुए थे; एक ओर मोरोनी के लोगों द्वारा, और दूसरी ओर लेही के पुरुषों द्वारा, जिनमें से सभी ताजा और ताकत से भरे हुए थे; लेकिन लमनाइयों की लंबी यात्रा के कारण वे थके हुए थे ।
40 और मोरोनी ने अपने आदमियों को आज्ञा दी कि वे उन पर तब तक गिरें जब तक कि वे अपने युद्ध के हथियार न छोड़ दें ।
41 और ऐसा हुआ कि याकूब, उनका नेता होने के नाते, जोरामाई भी था, और एक अजेय आत्मा होने के कारण, उसने मोरोनी के विरुद्ध अत्यधिक क्रोध के साथ लमनाइयों को युद्ध के लिए आगे बढ़ाया ।
42 मोरोनी उनकी यात्रा के दौरान था, इसलिए याकूब ने उन्हें मार डालने, और मूलेक नगर में अपना रास्ता काटने की ठानी ।
43 परन्तु देखो, मोरोनी और उसके लोग अधिक शक्तिशाली थे; इसलिए उन्होंने लमनाइयों को रास्ता नहीं दिया ।
44 और ऐसा हुआ कि वे दोनों हाथों से अत्यधिक जलजलाहट के साथ लड़े; और दोनों ओर से बहुत से लोग मारे गए; हां, और मोरोनी घायल हो गया था, और याकूब मारा गया था ।
45 और लेही ने अपने बलवन्तों के साथ उनकी पीठ पर ऐसा क्रोध किया, कि पीछे के लमनाइयों ने अपने युद्ध के हथियार सौंप दिए; और उनमें से बाकी, बहुत भ्रमित होने के कारण, नहीं जानते थे कि जाना है या हड़ताल करना है।
46 अब मोरोनी ने उनकी व्याकुलता को देखकर उन से कहा, यदि तुम अपने युद्ध के हथियार लाकर उन्हें सौंप दोगे, तो देखो हम तुम्हारा लोहू बहाना सहन नहीं करेंगे ।
47 और ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने इन बातों को सुना, तो उनके मुख्य सेनापति, वे सभी जो मारे नहीं गए थे, आगे आए और अपने युद्ध के हथियारों को मोरोनी के चरणों में फेंक दिया, और अपने लोगों को आज्ञा दी कि वे ऐसा करें वही:
48 परन्तु देखो, बहुत से ऐसे थे जो नहीं चाहते थे; और जो अपनी तलवारें नहीं देना चाहते थे, उन्हें पकड़कर बांध दिया गया, और उनके युद्ध के हथियार उनसे छीन लिए गए, और उन्हें अपने भाइयों के साथ संपन्न देश में जाने के लिए मजबूर किया गया।
49 और अब पकड़े गए बन्धुओं की संख्या मारे गए लोगों की संख्या से अधिक हो गई; हां, उन लोगों से भी अधिक जो दोनों ओर से मारे गए थे ।
50 और ऐसा हुआ कि उन्होंने लमनाइयों के बंदियों पर पहरा बैठा दिया, और उन्हें बाहर जाने और उनके मृतकों को दफनाने के लिए विवश किया; हां, और मारे गए नफाइयों के मृत भी; और मोरोनी ने उनकी रक्षा के लिए उन पर पुरुषों को रखा, जब वे अपना श्रम कर रहे थे ।
51 और मोरोनी लेही के साथ मूलेक नगर को गया, और नगर की आज्ञा ले कर लेही को दे दिया।
52 अब देखो यह लेही एक ऐसा व्यक्ति था जो मोरोनी के साथ उसके अधिकांश युद्धों में रहा था; और वह मोरोनी के समान एक व्यक्ति था; और वे एक दूसरे की सुरक्षा में आनन्दित हुए; हां, वे एक दूसरे के प्रिय थे, और नफी के सभी लोगों के प्रिय भी थे ।
53 और ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने अपने मरे हुओं को, और नफाइयों के मृतकों को भी दफनाना समाप्त कर दिया, तो उन्हें समृद्ध प्रदेश में वापस ले जाया गया;
54 और मोरोनी के आदेश से टियंकम ने देश या समृद्ध नगर के चारों ओर एक खाई खोदने का काम शुरू किया;
55 और उस ने खाई के भीतरी किनारे पर लकड़ियों की चपरास बनवाया; और उन्होंने गड़हे में से लकड़ी की छावनियोंके साम्हने मिट्टी डाली;
56 और इस प्रकार उन्होंने लमनाइयों से तब तक परिश्रम करवाया, जब तक कि उन्होंने लकड़ियों और मिट्टी की एक मजबूत दीवार के साथ चारों ओर से भरपूर नगर को अत्यधिक ऊंचाई तक घेर नहीं लिया ।
57 और यह नगर सदा के लिये अत्याधिक दृढ़ गढ़ बन गया; और इस नगर में उन्होंने लमनाइयों के बंदियों की रखवाली की; हां, यहां तक कि एक दीवार के भीतर भी, जिसे उन्होंने अपने हाथों से बनवाया था ।
58 अब मोरोनी को लमनाइयों को श्रम करने के लिए मजबूर किया गया था, क्योंकि उनके श्रम के दौरान उनकी रक्षा करना आसान था; और जब वह लमनाइयों पर आक्रमण करे, तब उसने अपनी सारी सेना को चाहा ।
59 और ऐसा हुआ कि इस प्रकार मोरोनी ने लमनाइयों की सबसे बड़ी सेनाओं में से एक पर विजय प्राप्त कर ली थी, और मुलेक नगर पर अधिकार कर लिया था, जो नफी के प्रदेश में लमनाइयों के सबसे मजबूत गढ़ों में से एक था; और इस प्रकार उसने अपने बंदियों को रखने के लिए एक गढ़ भी बनाया था।
60 और ऐसा हुआ कि उस वर्ष उसने लमनाइयों के साथ युद्ध करने का फिर कभी प्रयास नहीं किया; लेकिन उसने युद्ध की तैयारी में अपने लोगों को नियुक्त किया: हां, और लमनाइयों से बचाव के लिए किलेबंदी करने में; हां, और अपनी महिलाओं और अपने बच्चों को अकाल और विपत्ति से छुड़ाना, और उनकी सेनाओं के लिए भोजन उपलब्ध कराना ।
61 और अब ऐसा हुआ कि लमनाइयों की सेना ने, पश्चिमी समुद्र में, दक्षिण में, जबकि मोरोनी की अनुपस्थिति में, नफाइयों के बीच किसी साज़िश के कारण, जिसके कारण उनके बीच विवाद हुआ था, नफाइयों पर कुछ अधिकार कर लिया था , हां, इतना अधिक कि उन्होंने अपने कई
देश के उस भाग के नगर;
62 और इस प्रकार आपस में अधर्म के कारण, हां, आपस में मतभेद और साज़िश के कारण, उन्हें सबसे खतरनाक परिस्थितियों में रखा गया ।
63 और अब देखो, मुझे अम्मोन के लोगों के बारे में कुछ कहना है, जो शुरुआत में लमनाई थे; परन्तु अम्मोन और उसके भाइयों के द्वारा, या यों कहें कि परमेश्वर की शक्ति और वचन के द्वारा, वे प्रभु में परिवर्तित हो गए थे;
64 और उन्हें जराहेमला प्रदेश में उतारा गया था, और तब से नफाइयों द्वारा उनकी रक्षा की गई थी; और अपनी शपथ के कारण वे अपके भाइयोंके विरुद्ध शस्त्र न उठाने पाए;
65 क्योंकि उन्होंने शपय खाई या, कि वे फिर कभी लोहू न बहाएंगे; और अपक्की शपय के अनुसार वे नाश हो जाते; हां, यदि अम्मोन और उसके भाइयों के प्रति उनके मन में दया और अपार प्रेम न होता तो वे अपने भाइयों के हाथों में पड़ जाते;
66 और इसी कारण वे जराहेमला प्रदेश में लाए गए; और वे हमेशा नफाइयों द्वारा संरक्षित किए गए थे ।
67 लेकिन ऐसा हुआ कि जब उन्होंने खतरे को देखा, और नफाइयों ने अपने लिए कई कष्टों और कष्टों को देखा, तो वे करुणा से भर उठे, और अपने देश की रक्षा में हथियार उठाने के इच्छुक थे ।
68 परन्तु देखो, जब वे अपने युद्ध के हथियार लेने ही पर थे, हिलामन और उसके भाइयों के समझाने से वे प्रबल हो गए, क्योंकि वे उस शपथ को तोड़ने ही वाले थे जो उन्होंने बनाई थी;
69 और हिलामन को इस बात का भय था कि ऐसा करने से वे अपने प्राण खो दें; इसलिए जिन लोगों ने इस वाचा में प्रवेश किया था, वे इस समय अपने भाइयों को उनके कष्टों से, उनकी खतरनाक परिस्थितियों में, आगे बढ़ते हुए देखने के लिए विवश थे।
70 लेकिन देखो, ऐसा हुआ कि उनके कई बेटे थे, जिन्होंने यह करार नहीं किया था कि वे अपने शत्रुओं से अपनी रक्षा के लिए युद्ध के हथियार नहीं लेंगे;
71 इस कारण जितने शस्त्र उठाने के योग्य थे, वे उसी समय इकट्ठे हुए; और उन्होंने अपने आप को नफाई कहा;
72 और उन्होंने नफाइयों की स्वतंत्रता के लिए लड़ने के लिए एक करार किया; हां, उनके प्राण देने तक देश की रक्षा करने के लिए;
73 हां, यहां तक कि उन्होंने अनुबंध किया था कि वे अपनी स्वतंत्रता को कभी नहीं छोड़ेंगे, लेकिन वे नफाइयों और स्वयं को बंधन से बचाने के लिए सभी मामलों में लड़ेंगे ।
74 अब देखो, उन जवानों में से दो हजार थे जिन्होंने इस वाचा में प्रवेश किया था, और अपने देश की रक्षा के लिए युद्ध के हथियार ले लिए थे ।
75 और अब देखो, जैसा कि वे अब तक नफाइयों के लिए नुकसानदेह नहीं रहे थे, वे अब इस समय भी एक महान सहारा बन गए, क्योंकि उन्होंने अपने युद्ध के हथियार ले लिए, और वे चाहते थे कि हिलामन उनका नेता हो ।
76 और वे सब जवान पुरूष थे, और वे हियाव, और शक्‍ति और काम के भी बड़े वीर थे; लेकिन देखो, यह सब कुछ नहीं था: वे लोग थे जो हर समय सच्चे थे, जो कुछ भी उन्हें सौंपा गया था;
77 हां, वे सत्य और संयमी व्यक्ति थे, क्योंकि उन्हें परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन करना, और उसके आगे सीधे चलना सिखाया गया था ।
78 और अब ऐसा हुआ कि हिलामन ने अपने दो हजार सैनिकों के सिर पर चढ़कर लोगों की सहायता के लिए दक्षिण में पश्चिमी समुद्र के किनारे के प्रदेश की सीमाओं पर चढ़ाई की ।
79 और इस प्रकार नफी, आदि के लोगों पर न्यायियों के शासन के अट्ठाईसवें वर्ष का अंत हुआ ।

 

अल्मा, अध्याय 25

1 और अब ऐसा हुआ कि न्यायियों के उनतीसवें वर्ष में अम्मोरोन ने मोरोनी को भेजा, कि वह बंदियों को बदलेगा ।
2 और ऐसा हुआ कि इस अनुरोध पर मोरोनी को बहुत खुशी हुई, क्योंकि उसने लमनाइयों के बंदियों की सहायता के लिए, अपने ही लोगों की सहायता के लिए प्रदान किए जाने वाले प्रावधानों की इच्छा की थी; और वह अपनी सेना को मजबूत करने के लिए अपने लोगों को भी चाहता था।
3 अब लमनाइयों ने बहुत सी स्त्रियों और बच्चों को ले लिया था; और मोरोनी के सब बन्धुओं में न तो कोई स्त्री थी और न ही कोई बच्चा; या वे कैदी जिन्हें मोरोनी ले गया था;
4 इसलिए मोरोनी ने लमनाइयों से अधिक से अधिक नफाइयों को बंदी बनाने के लिए, जितना संभव हो सके, एक चाल चलने का संकल्प लिया; इसलिए उसने एक पत्र लिखा, और उसे अम्मोरोन के सेवक द्वारा भेजा, जिसने मोरोनी के लिए एक पत्र लाया था ।
5 अब ये वे शब्द हैं जो उसने अम्मोरोन को यह कहते हुए लिखे, कि देखो, अम्मोरोन, मैंने तुम्हें इस युद्ध के बारे में कुछ लिखा है जो तुमने मेरे लोगों के खिलाफ छेड़ा है, या इसके बजाय जो तुम्हारे भाई ने उनके खिलाफ छेड़ा है, और जो तुम अभी भी हो उनकी मृत्यु के बाद जारी रखने के लिए दृढ़ संकल्प।
6 देखो, मैं तुम्हें परमेश्वर के न्याय के बारे में कुछ बताऊंगा, और उसके सर्वशक्तिमान क्रोध की तलवार, जो तुम पर लटकी हुई है, सिवाय इसके कि तुम पश्चाताप न करो और अपनी सेना को अपने प्रदेशों में, या अपनी संपत्ति के प्रदेशों में वापस ले जाओ, जो कि भूमि है नेफी का; हां, यदि तुम उनकी बात सुनने के योग्य होते तो मैं तुम्हें ये बातें बताता;
7 हां, मैं तुम्हें उस भयानक नरक के बारे में बताऊंगा जो ऐसे हत्यारों को प्राप्त करने की प्रतीक्षा कर रहा है जैसे कि तुम और तुम्हारे भाई थे, सिवाय इसके कि तुम पश्चाताप करो और अपने हत्या के उद्देश्यों को वापस ले लो, और अपनी सेनाओं के साथ अपने देश को लौट जाओ;
8 परन्तु जैसे तुम ने इन बातों को झुठलाया, और यहोवा की प्रजा से लड़ा, वैसे ही मैं आशा करता हूं कि तुम फिर से ऐसा ही करोगे।
9 और अब देखो, हम तुम्हारा स्वागत करने को तैयार हैं; हां, और जब तक तुम अपने उद्देश्यों को वापस नहीं लेते, देखो, तुम उस परमेश्वर के क्रोध को नीचे गिरा दोगे जिसे तुमने अस्वीकार कर दिया है, यहां तक कि तुम्हारा विनाश भी हो जाएगा;
10 परन्तु यहोवा के जीवन की शपय, हमारी सेना तुम पर चढ़ाई करेगी, जब तक तुम पीछे न हटो, और तुम पर शीघ्र ही मृत्यु चढ़ाई जाएगी, क्योंकि हम अपके नगरोंऔर भूमि को अपने वश में कर लेंगे; हाँ, और हम अपने धर्म और अपने परमेश्वर के कारण को बनाए रखेंगे ।
11 परन्तु देखो, मैं समझता हूं कि मैं इन बातों के विषय में तुम से व्यर्थ बातें करता हूं; वा मैं समझता हूं कि तू नर्क की सन्तान है; इसलिथे मैं अपनी पत्री को यह कहकर समाप्त करूंगा, कि मैं बन्दी नहीं बदलूंगा, केवल इस शर्त पर कि तुम एक पुरूष, और उसकी पत्नी, और उसके बालकोंको एक ही बन्धुआई के लिये छोड़ दोगे; यदि ऐसा है कि तुम ऐसा करोगे, तो मैं बदल दूंगा।
12 और देखो, यदि तुम ऐसा नहीं करते, तो मैं अपक्की सेना समेत तुम्हारे विरुद्ध चढ़ाई करूंगा; वरन मैं अपक्की स्त्रियों और बालकोंको भी हथियार बान्धूंगा, और तेरे साम्हने आऊंगा, और तेरे पीछे पीछे होकर तेरे निज देश में जाऊंगा, जो हमारे पहिले निज भाग का देश है; वरन वह लोहू के बदले लहू होगा; हाँ, जीवन के लिए जीवन; और जब तक तू पृय्वी पर से नाश न हो जाए, तब तक मैं तुझे युद्ध करूंगा।
13 देख, मैं अपके क्रोध में हूं, और अपक्की प्रजा भी; तुम ने हमारी हत्या करने का प्रयास किया है, और हमने केवल अपना बचाव करने की कोशिश की है।
14 परन्तु देखो, यदि तुम हमें और अधिक नष्ट करना चाहते हो, तो हम तुम्हें नष्ट करने का प्रयास करेंगे; हां, और हम अपने देश की खोज करेंगे, जो हमारे पहले निज भाग की भूमि है ।
15 अब मैं अपनी पत्री समाप्त करता हूं। मैं मोरोनी हूँ; मैं नफाइयों के लोगों का नेता हूं ।
16 अब ऐसा हुआ कि अम्मोरोन, जब उसने यह पत्र प्राप्त किया, वह क्रोधित हो गया; और उसने मोरोनी को एक और पत्र लिखा; और ये वे शब्द हैं जिन्हें उसने यह कहते हुए लिखा, कि मैं लमनाइयों का राजा अम्मोरोन हूं; मैं अमालिकिया का भाई हूं, जिसे तुम ने मार डाला है।
17 सुन, मैं उसके लहू का बदला तुझ से लूंगा; हां, और मैं अपनी सेना समेत तुम पर चढ़ाई करूंगा, क्योंकि मैं तुम्हारी धमकियों से नहीं डरता ।
18 क्योंकि देखो, तुम्हारे पुरखाओं ने अपने भाइयों के साथ ऐसा अन्याय किया था, कि उन्होंने सरकार से उनका अधिकार छीन लिया था, जबकि वह उनका अधिकार था ।
19 और अब देखो, यदि तुम अपने हथियार डालोगे, और अपने आप को उनके अधीन करोगे जिनके अधीन सरकार सही है, तो क्या मैं अपनी प्रजा से अपने हथियार डालूंगा, और फिर युद्ध नहीं करूंगा ।
20 देखो, तुम ने मुझे और मेरी प्रजा के विरुद्ध बहुत धमकाया है; परन्तु देखो, हम तुम्हारी धमकियों से नहीं डरते;
21 तौभी मैं तेरी बिनती के अनुसार बन्धुओं को बदलने की आज्ञा दूंगा, कि मैं अपके योद्धाओं के लिथे अपके भोजन को सुरक्षित रखूं;
22 और हम एक युद्ध छेड़ेंगे जो अनन्त काल तक रहेगा, या तो नफाइयों को हमारे अधिकार के अधीन करने के लिए, या उनके अनंत काल तक विलुप्त होने के लिए ।
23 और उस परमेश्वर के विषय में जिसे तुम कहते हो कि हम ने तुच्छ जाना है, देखो, हम ऐसे प्राणी को नहीं जानते; तुम भी नहीं; परन्तु यदि ऐसा कोई प्राणी है, तो हम नहीं जानते, कि उसी ने हम को भी तेरे समान बनाया है;
24 और यदि कोई दुष्टात्मा और नरक है, तो क्या वह तुम्हें वहां मेरे भाई के पास रहने के लिथे नहीं भेजेगा, जिसे तुम ने मार डाला है, जिसका तुम ने संकेत किया था, कि वह ऐसी जगह चला गया है? लेकिन देखिए, इन बातों का कोई महत्व नहीं है।
25 मैं अम्मोरोन और जोराम का वंशज हूं, जिसे तुम्हारे पुरखा दबा कर यरूशलेम से निकाल लाए थे। और देखो, अब, मैं एक साहसी लमनाइट हूँ ।
26 देखो, यह युद्ध उनकी गलतियों का बदला लेने, और सरकार को बनाए रखने और उनके अधिकार प्राप्त करने के लिए छेड़ा गया है; और मैं मोरोनी को अपना पत्र समाप्त करता हूं ।
27 अब ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने यह पत्र प्राप्त किया, तो वह और अधिक क्रोधित हुआ, क्योंकि वह जानता था कि अम्मोरोन को अपनी धोखाधड़ी का पूरा ज्ञान था; हां, वह जानता था कि अम्मोरोन जानता था कि यह एक उचित कारण नहीं था जिसके कारण उसने नफी के लोगों के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया था ।
28 और उस ने कहा, सुन, मैं अम्मोरोन के साथ बंदियों का आदान-प्रदान नहीं करूंगा, सिवाय इसके कि वह अपना उद्देश्य वापस ले लेगा, जैसा कि मैंने अपनी पत्री में कहा है; क्योंकि मैं उसे यह नहीं दूंगा कि उसके पास जो कुछ है उससे अधिक शक्ति उसके पास होगी।
29 देखो, मैं उस स्थान को जानता हूं जहां लमनाई मेरे लोगों की रक्षा करते हैं, जिन्हें उन्होंने बंदी बना लिया है; और जैसा अम्मोरोन ने मुझे मेरी पत्री नहीं दी, देखो, मैं उसे अपके वचनोंके अनुसार दूंगा; हां, मैं उनके बीच मृत्यु को ढूंढ़ूंगा, जब तक कि वे मेल के लिए वाद न करें ।
30 और अब ऐसा हुआ कि जब मोरोनी ने इन शब्दों को कह दिया, तो उसने अपने आदमियों के बीच एक खोज की, ताकि शायद उन्हें एक ऐसा व्यक्ति मिल जाए जो उनके बीच लमान का वंशज हो ।
31 और ऐसा हुआ कि उन्हें एक व्यक्ति मिला, जिसका नाम लमन था; और वह राजा के सेवकों में से एक था जिसे अमालिकिया ने मार डाला था।
32 अब मोरोनी ने लमान और उसके कुछ लोगों को उन पहरेदारों के पास जाने के लिए कहा जो नफाइयों पर थे ।
33 अब नफाई गिद के नगर में पहरा दे रहे थे; इसलिए मोरोनी ने लमान को नियुक्त किया, और उसके साथ कम संख्या में लोगों को जाने के लिए कहा ।
34 और जब सांझ हुई, तब लमान नफाइयों के पहरेदारों के पास गया, और देखो, उन्होंने उसे आते देखा, और उन्होंने उसकी प्रशंसा की ।
35 परन्तु उस ने उन से कहा, मत डरो। निहारना, मैं एक लमनाइट हूँ । देखो हम नफाइयों से बच निकले हैं, और वे सो गए हैं; और देखो, हम ने उनका दाखमधु ले कर अपने साथ ले लिया है।
36 अब जब लमनाइयों ने इन बातों को सुना, तो उन्होंने खुशी से उसका स्वागत किया । और उन्होंने उस से कहा, अपक्की दाखमधु में से हमें दे, कि हम पीएं; हम आनन्‍दित हैं कि तुम इस प्रकार अपने साथ दाखमधु ले गए, क्‍योंकि हम थके हुए हैं।
37 परन्तु लमान ने उन से कहा, जब तक हम नफाइयों से लड़ने को न जाएं, तब तक हम अपना दाखमधु बचा कर रखें । लेकिन इस कहावत ने उन्हें शराब पीने के लिए और अधिक इच्छुक बना दिया।
38 क्योंकि, उन्होंने कहा, हम थके हुए हैं, इसलिए हम दाखमधु को निकाल लें, और धीरे-धीरे हम अपने राशन के लिए दाखमधु प्राप्त करेंगे, जो हमें नफाइयों के खिलाफ जाने के लिए मजबूत करेगा । और लमान ने उन से कहा, तुम अपनी इच्छा के अनुसार कर सकते हो ।
39 और ऐसा हुआ कि उन्होंने शराब का स्वतंत्र रूप से सेवन किया, और यह उनके स्वाद के लिए सुखद था; इसलिए उन्होंने इसे और अधिक स्वतंत्र रूप से लिया; और वह बलवन्त था, और उसके बल पर तैयार किया गया था।
40 और ऐसा हुआ कि उन्होंने शराब पी और मौज-मस्ती की, और धीरे-धीरे वे सभी नशे में धुत थे ।
41 और अब जब लमान और उसके आदमियों ने देखा कि वे सब नशे में धुत थे, और गहरी नींद में थे, वे मोरोनी लौट आए, और जो कुछ हुआ था उसे बताया । और अब यह मोरोनी के डिजाइन के अनुसार था ।
42 और मोरोनी ने अपने लोगों को युद्ध के हथियारों से तैयार किया था; और जब लमनाई गहरी नींद में थे, तब उसने गिद नगर भेजा, और नशे में धुत थे, और युद्ध के हथियारों को बंदियों पर डाल दिया, इतना अधिक कि वे सभी हथियारों से लैस थे; हां, यहां तक कि उनकी महिलाओं के लिए, और उनके सभी बच्चों के लिए, जितने युद्ध के हथियार का उपयोग करने में सक्षम थे; जब मोरोनी ने उन कैदियों को हथियारबंद कर दिया था।
43 और वे सब काम घोर मौन में किए गए। लेकिन अगर उन्होंने लमनाइयों को जगाया होता, तो देखो वे नशे में थे और नफाई उन्हें मार सकते थे ।
44 परन्तु देखो, यह मोरोनी की इच्छा नहीं थी । वह हत्या या रक्तपात से प्रसन्न नहीं हुआ; परन्तु वह अपनी प्रजा को विनाश से बचाने से प्रसन्न था; और इस कारण से वह उस पर अन्याय न करे, वह लमनाइयों पर न गिरे और नशे में उन्हें नष्ट न करे ।
45 परन्‍तु उस ने अपक्की अभिलाषाओं को पा लिया था; क्योंकि उसने नफाइयों के उन बंदियों को हथियारबंद कर दिया था जो शहर की शहरपनाह के भीतर थे, और उन्हें उन हिस्सों पर कब्जा करने की शक्ति दी थी जो शहरपनाह के भीतर थे;
46 और फिर उसने उन लोगों से जो उसके साथ थे, उनसे एक गति वापस लेने के लिए कहा, और लमनाइयों की सेना को घेर लिया ।
47 अब देखो, यह रात के समय में किया गया था, ताकि जब लमनाइयों की सुबह उठी, तो उन्होंने देखा कि वे नफाइयों से घिरे हुए हैं, और उनके कैदी हथियारबंद हैं ।
48 और इस प्रकार उन्होंने देखा कि नफाइयों का उन पर अधिकार था; और इन परिस्थितियों में उन्होंने पाया कि यह समीचीन नहीं था कि वे नफाइयों से लड़ें;
49 इसलिए उनके प्रधान सेनापतियों ने उनके युद्ध के हथियारों की मांग की, और वे उन्हें आगे लाए, और दया की याचना करते हुए उन्हें नफाइयों के पांवों पर फेंक दिया । अब देखो, यही मोरोनी की इच्छा थी ।
50 उसने उन्हें युद्धबंदियों में ले लिया, और नगर पर अधिकार कर लिया, और सभी बंदियों को, जो नफाई थे, मुक्त कराया; और वे मोरोनी की सेना में शामिल हुए, और उसकी सेना के लिए एक बड़ी ताकत थे ।
51 और ऐसा हुआ कि उसने लमनाइयों को बंदी बना लिया, जिन्हें उसने बंदी बना लिया था, ताकि वे गिद नगर के चारों ओर की दुर्गों को मजबूत करने का कार्य शुरू करें ।
52 और ऐसा हुआ कि जब उसने अपनी इच्छा के अनुसार गिद नगर को दृढ़ कर लिया, तो उसने अपने बंदियों को संपन्न नगर में ले जाने के लिए कहा ।
53 और उस ने उस नगर की रक्षा भी बड़े बल से की।
54 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों की सभी साज़िशों के बावजूद, उन्होंने उन सभी बंदियों को रखा और उनकी रक्षा की, जिन्हें उन्होंने पकड़ लिया था, और पूरे मैदान और उस लाभ को भी बनाए रखा जिसे उन्होंने वापस लिया था ।
55 और ऐसा हुआ कि नफाई फिर से विजयी होने लगे, और अपने अधिकारों और विशेषाधिकारों को पुनः प्राप्त करने लगे ।
56 कई बार लमनाइयों ने उन्हें रात में घेरने का प्रयास किया, लेकिन इन प्रयासों में उन्होंने कई बंदी खो दिए ।
57 और कई बार उन्होंने नफाइयों को अपना दाखमधु पिलाने का प्रयास किया, ताकि वे उन्हें ज़हर या पियक्कड़पन से नष्ट कर सकें ।
58 लेकिन देखो, नफाइयों ने अपने परमेश्वर यहोवा को इस दुख के समय में याद करने में देर नहीं की ।
59 वे उनके फन्दे में न फँसे; हां, वे अपने दाखमधु का सेवन नहीं करेंगे; हां, वे शराब का सेवन नहीं करेंगे, सिवाय इसके कि उन्होंने पहले कुछ लमनाई कैदियों को दिया था ।
60 और वे इस प्रकार सावधान रहे, कि उनके बीच कोई विष न पिलाया जाए; क्योंकि यदि उनका दाखरस लमनाई को विषैला कर देता, तो वह नफाई को भी विष देता; और इस प्रकार उन्होंने अपनी सारी शराब की कोशिश की।
61 और अब ऐसा हुआ कि मोरोनी के लिए यह समीचीन था कि वह मोरियंटन नगर पर आक्रमण करने की तैयारी करे ।
62 क्योंकि देखो, लमनाइयों ने अपने परिश्रम से, मोरियंटन नगर को तब तक दृढ़ किया था जब तक कि वह एक बहुत बड़ा गढ़ न बन गया था; और वे उस नगर में नित्य नई सेना ला रहे थे, और नई सामग्रियां भी ला रहे थे।
63 और इस प्रकार नफी के लोगों पर न्यायियों के शासन के उनतीसवें वर्ष का अंत हुआ ।

 

अल्मा, अध्याय 26

1 और अब ऐसा हुआ कि न्यायियों के शासन के तीसवें वर्ष के प्रारंभ में, दूसरे दिन, पहले महीने में, मोरोनी ने हिलामन से एक पत्र प्राप्त किया, जिसमें प्रदेश के उस हिस्से में लोगों के मामलों का वर्णन किया गया था। .
2 और ये वे शब्द हैं जिन्हें उसने यह कहते हुए लिखा था, मेरे प्रिय भाई, मोरोनी, साथ ही प्रभु में भी जैसे हमारे युद्ध के क्लेशों में; देख, मेरे प्रिय भाई, मुझे देश के इस भाग में हमारे युद्ध के विषय में कुछ कहना है।
3 देखो, उन आदमियों में से दो हजार पुत्र जिन्हें अम्मोन नफी के प्रदेश से निकाल लाया था ।
4 अब तुम जानते हो कि ये लमान के वंशज थे, जो हमारे पिता लेही का ज्येष्ठ पुत्र था ।
5 अब मुझे उनकी परम्पराओं या उनके अविश्वास के विषय में तुम्हें अभ्यास करने की आवश्यकता नहीं है, क्योंकि तुम इन सब बातों के विषय में जानते हो; इसलिए मुझे लगता है कि मैं तुम से कहता हूं कि इन दो हजार जवानों ने युद्ध के हथियार ले लिए हैं, और चाहते हैं कि मैं उनका नेता बनूं; और हम अपने देश की रक्षा के लिए आगे आए हैं।
6 और अब तुम उस वाचा के विषय में भी जानते हो जो उनके पुरखाओं ने बान्धी थी, कि वे लोहू बहाने के लिथे अपके भाइयोंके विरुद्ध युद्ध के हथियार उठाने न लेंगे ।
7 परन्तु छब्बीसवें वर्ष में जब उन्होंने हमारे दु:ख और हमारे क्लेशोंको देखा, तब वे उस वाचा को तोड़ने पर, जो उन्होंने बान्धी थी, तोड़कर हमारे बचाव में अपने युद्ध के हथियार उठा लिए।
8 परन्तु मैं ने उनको सहा न था, कि वे उस वाचा को जो उन्होंने बान्धी थी, तोड़ दें, यह समझकर कि परमेश्वर हमें ऐसा दृढ़ करेगा, कि जो शपय उन्होंने ली है उसके पूरे होने के कारण हम और अधिक दुख न उठाएं।
9 परन्तु देखो, यहाँ एक बात है जिससे हम बहुत आनन्दित हो सकते हैं ।
10 क्योंकि देखो, छब्बीसवें वर्ष में, मैं हिलामन, इन दो हजार जवानों के सिर पर चढ़कर यहूदिया के नगर की ओर चल पड़ा, ताकि अंतीपस की सहायता की जा सके, जिसे तुम ने उस भाग के लोगों पर प्रधान नियुक्त किया था। भूमि।
11 और मैं अपके दो हजार पुत्रोंके संग मिला (क्योंकि वे पुत्र कहलाने के योग्य हैं) अन्तीपस की सेना में; जिस ताकत में एंटिपस ने बहुत खुशी मनाई; क्योंकि देखो, लमनाइयों ने उसकी सेना को कम कर दिया था क्योंकि उनकी सेना ने हमारे बहुत से लोगों को मार डाला था; जिसके लिए हमें शोक करना पड़ता है।
12 तौभी, हम इस विषय में अपने आप को सांत्वना दे सकते हैं: कि वे अपने देश और अपने परमेश्वर के कारण मरे हैं, हां, और वे आनन्दित हैं ।
13 और लमनाइयों ने भी बहुत से बंदी बनाए थे, जिनमें से सभी प्रधान सेनापति हैं; क्योंकि उन्होंने और किसी को जीवित नहीं छोड़ा।
14 और हम मानते हैं कि वे इस समय नफी के प्रदेश में हैं; ऐसा है यदि वे मारे नहीं गए हैं।
15 और अब ये वे नगर हैं जिन पर लमनाइयों ने हमारे बहुत से शूरवीरों का खून बहाकर कब्जा कर लिया है: मण्टी का प्रदेश, या मण्टी का शहर, और जीजरोम का शहर, और कुमेनी का शहर , और अंतीपारा शहर।

16 और जब मैं यहूदिया के नगर में पहुंचा, तब जो नगर उनके पास थे वे ये हैं; और मैं ने अन्तिपुस और उसके जनोंको नगर की गढ़वाली करने के लिथे परिश्रम करते पाया;
17 हां, और वे शरीर के साथ-साथ आत्मा में भी उदास थे; क्योंकि वे दिन को वीरता से लड़ते थे, और अपके नगरोंकी रक्षा के लिथे रात को परिश्रम करते थे; और इस प्रकार उन्होंने हर प्रकार के बड़े कष्ट सहे थे ।
18 और अब उन्होंने इस स्थान पर विजय प्राप्त करने, या मरने की ठानी; इसलिए आप अच्छी तरह से मान सकते हैं कि इस छोटी सी शक्ति को जो मैं अपने साथ लाया था, हां, मेरे उन पुत्रों ने उन्हें बड़ी आशा और बहुत आनंद दिया ।
19 और अब ऐसा हुआ कि जब लमनाइयों ने देखा कि अंतीपस ने अपनी सेना को अधिक बल प्राप्त कर लिया है, तो उन्हें अम्मोरोन के आदेशों के अनुसार, यहूदिया के नगर पर आक्रमण नहीं करने, या हमारे विरुद्ध युद्ध करने के लिए बाध्य नहीं किया गया ।
20 और हम पर यहोवा का अनुग्रह इस प्रकार हुआ, क्योंकि यदि वे हमारी इसी दुर्बलता में हम पर चढ़ाई करते, तो शायद हमारी छोटी सेना को नष्ट कर देते; लेकिन इस प्रकार हम संरक्षित थे।
21 अम्मोरोन ने उन्हें उन नगरों की रक्षा करने की आज्ञा दी जिन्हें उन्होंने ले लिया था। और इस प्रकार छब्बीसवाँ वर्ष समाप्त हुआ।
22 और उनतीसवें वर्ष के आरम्भ में, हम ने अपके नगर को और अपने आप को रक्षा के लिथे तैयार किया था।
23 अब हम चाहते थे कि लमनाई हम पर आक्रमण करें; क्योंकि हम उनके गढ़ों में उन पर आक्रमण करना नहीं चाहते थे।
24 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों की गतिविधियों पर नजर रखने के लिए हमने चारों ओर जासूसों को बाहर रखा, ताकि वे न तो रात में, न ही दिन में हमारे पास से गुजरें, ताकि हमारे अन्य शहरों पर हमला कर सकें, जो उत्तर की ओर थे;
25 क्‍योंकि हम जानते थे कि उन नगरोंमें उनका सामना करने के लिथे वे काफ़ी सामर्थी नहीं हैं; सो हम चाहते थे, कि यदि वे हमारे पास से निकल जाएं, तो उन पर अपनी पीठ के बल गिरें, और इस प्रकार उन्हें पीछे ले जाएं, उसी समय वे आगे से मिले।
26 हम ने सोचा था कि हम उन पर अधिकार कर लेंगे; परन्तु देखो, हम अपनी इस इच्छा से निराश थे।
27 वे अपक्की सारी सेना समेत हमारे पास से निकलने का साहस नहीं करते; और वे भाग लेने का साहस न करें, ऐसा न हो कि वे पर्याप्त बलवन्त न हों, और वे गिर जाएं।
28 और जराहेमला नगर पर चढ़ाई करने का साहस न करें; वे नफीहा के नगर तक सीदोन के सिरहाने पार करने का भी साहस नहीं करते।
29 और इस प्रकार, उन्होंने अपनी सेना के साथ उन नगरों की रक्षा करने का निश्चय किया जिन्हें उन्होंने ले लिया था ।
30 और अब ऐसा हुआ कि, इस वर्ष के दूसरे महीने में, मेरे उन दो हजार पुत्रों के पूर्वजों की ओर से बहुत सी वस्तुएं हमारे पास लाई गईं ।
31 और जराहेमला प्रदेश से भी दो हजार पुरूष हमारे पास भेजे गए।
32 और इस प्रकार हम दस हजार पुरूषोंके लिथे, और उनके लिथे भोजन, और उनकी पत्नियों, और उनके बालकोंके लिथे भी तैयार किए गए।
33 और इस प्रकार लमनाइयों ने, इस प्रकार हमारी सेनाओं को प्रतिदिन बढ़ते हुए, और हमारे समर्थन के लिए भोजन की आपूर्ति को आते देख, वे भयभीत होने लगे, और यदि संभव हो तो, हमारे प्राप्त होने वाले प्रावधानों और शक्ति को समाप्त करने के लिए आगे बढ़ना शुरू कर दिया ।
34 अब जब हमने देखा कि इस कारण लमनाइयों को बेचैनी होने लगी है, तो हम उन पर एक छल करना चाहते थे:
35 इसलिए अंतीपस ने आदेश दिया कि मैं अपने छोटे पुत्रों के साथ पड़ोसी शहर की ओर चलूं, मानो हम किसी पड़ोसी शहर में भोजन ले जा रहे हों।
36 और हम अन्तीपारा नगर के समीप ऐसे चले, मानो हम उस पार के नगर को, जो समुद्र के किनारे के सिवानोंमें हों, जा रहे हों।
37 और ऐसा हुआ कि हम उस नगर में जाने के लिए, मानो अपने भोजन के साथ आगे बढ़े ।
38 और ऐसा हुआ कि अंतीपस ने अपनी सेना के एक हिस्से के साथ, शेष को नगर की देखरेख के लिए छोड़ दिया ।
39 परन्तु वह तब तक न चला, जब तक कि मैं अपक्की छोटी सेना समेत निकलकर अंतीपारा नगर के निकट न आ गया।
40 और अब अंतीपारा शहर में, लमनाइयों की सबसे मजबूत सेना तैनात थी; हाँ, सबसे असंख्य।
41 और ऐसा हुआ कि जब उन्हें उनके जासूसों द्वारा सूचित किया गया, तो वे अपनी सेना के साथ आगे आए, और हमारे खिलाफ चढ़ाई की ।
42 और ऐसा हुआ कि हम उनके सामने से उत्तर की ओर भागे ।
43 और इस प्रकार हमने लमनाइयों की सबसे शक्तिशाली सेना को खदेड़ दिया; हां, यहां तक कि काफी दूर तक, यहां तक कि जब उन्होंने देखा कि अंतीपस की सेना अपने पराक्रम के साथ उनका पीछा कर रही है, तो वे न तो दहिनी ओर मुड़े और न ही बायीं ओर, बल्कि हमारे पीछे सीधे अपनी यात्रा का पीछा किया:
44 और, जैसा कि हम समझते हैं, यह उनका इरादा था कि अंतिपस के आगे बढ़ने से पहले हमें मार डालें, और यह कि वे हमारे लोगों से घिरे न रहें ।
45 और अब अंतीपस ने हमारे खतरे को देखते हुए अपनी सेना की गति तेज कर दी ।
46 परन्तु देखो, रात हो गई थी; इसलिथे उन्होंने हम को न पकड़ा, और न अंतीपस ने उन्हें पकड़ा; इसलिथे हम ने रात के लिथे डेरे डाले।
47 और ऐसा हुआ कि भोर होने से पहले, देखो, लमनाई हमारा पीछा कर रहे थे ।
48 अब हम उनसे लड़ने के लिए पर्याप्त रूप से मजबूत नहीं थे; हां, मुझे दुख नहीं होगा कि मेरे छोटे बेटे उनके हाथों में पड़ जाएं; इसलिए हमने अपना मार्च जारी रखा; और हम जंगल में चले गए।
49 अब वे दहिनी और बायीं ओर मुड़ने का साहस करते हैं, कहीं ऐसा न हो कि वे चारों ओर से घिर जाएं; न मैं दहिनी ओर न बाईं ओर फिरूंगा, ऐसा न हो कि वे मुझे पकड़ लें, और हम उनके साम्हने खड़े न रह सकें, वरन मार डाले जाएं। और वे भाग निकलेंगे; और इस प्रकार हम उस पूरे दिन जंगल में भागते रहे, यहां तक कि अंधेरा होने तक।
50 और ऐसा हुआ कि फिर से जब सुबह का प्रकाश आया, हमने लमनाइयों को अपने ऊपर देखा, और हम उनके सामने से भाग गए ।
51 लेकिन ऐसा हुआ कि रुकने से पहले उन्होंने हमारा पीछा नहीं किया; और तीसरे दिन की भोर को सातवें महीने को हुआ।
52 और अब क्या वे अंतिपुस द्वारा पकड़ लिए गए थे, हम नहीं जानते थे; परन्‍तु मैं ने अपके जनोंसे कहा, सुन, हम नहीं जानते, परन्‍तु वे इसलिये रूके हैं, कि हम उन पर चढ़ाई करें, कि वे हम को अपने फन्दे में पकड़ लें; सो हे मेरे पुत्रों, तुम क्या कहते हो, कि क्या तुम उन से लड़ने को जाओगे?
53 और अब मैं तुमसे कहता हूं मेरे प्यारे भाई, मोरोनी, कि मैंने इतना बड़ा साहस कभी नहीं देखा था, नहीं, सभी नफाइयों में से नहीं ।
54 क्योंकि जैसा मैं ने उनको अपके पुत्र कहा था, (क्योंकि वे सब बहुत छोटे थे) वैसे ही उन्होंने मुझ से कहा, हे पिता, सुन, हमारा परमेश्वर हमारे संग है, और वह न सहेगा कि हम गिर जाएं; तो चलो आगे बढ़ते हैं;
55 हम अपके भाइयोंको घात न करते, यदि वे हम को अकेला छोड़ देते; इसलिए आओ, हम चलें, ऐसा न हो कि वे अंतीपस की सेना पर अधिकार कर लें।
56 अब वे कभी नहीं लड़े थे, तौभी वे मृत्यु से नहीं डरते थे; और उन्होंने अपके प्राणोंकी अपेक्षा अपके पितरोंकी स्वतन्त्रता के विषय में अधिक सोचा; हां, उन्हें उनकी माताओं द्वारा सिखाया गया था, कि यदि वे संदेह न करें, कि परमेश्वर उन्हें बचाएगा ।
57 और उन्होंने अपक्की माताओंकी बातें मुझ से सुनीं, और कहा, हमें कोई सन्देह नहीं, कि हमारी माताएं जानती थीं।
58 और ऐसा हुआ कि मैं अपने दो हजार के साथ उन लमनाइयों के विरुद्ध लौट आया जिन्होंने हमारा पीछा किया था ।
59 और अब देखो, अंतिपस की सेना ने उन पर चढ़ाई कर ली है, और एक भयानक युद्ध छिड़ गया है।
60 इतने कम समय में लंबी यात्रा के कारण अंतीपस की सेना थकी हुई थी, लमनाइयों के हाथों में पड़ने वाली थी; और यदि मैं अपके दो हजार के संग न लौटा होता, तो वे अपना प्रयोजन पूरा कर लेते;
61 क्‍योंकि अंतिपुस और उसके बहुतेरे अगुवोंकी थकावट के कारण, जो उनकी चढ़ाई की गति से हुई या, तलवार से मारे गए थे; इसलिए अंतीपस के लोग भ्रमित होकर, अपने नेताओं के पतन के कारण, लमनाइयों के आगे आगे बढ़ने लगे ।
62 और ऐसा हुआ कि लमनाइयों ने साहस किया, और उनका पीछा करने लगे; और इस प्रकार लमनाइयों ने उनका बड़े जोश के साथ पीछा किया, जब हिलामन अपने दो हजार के साथ उनके पीछे आ गया, और उन्हें इतना अधिक मारना शुरू कर दिया, कि लमनाइयों की पूरी सेना रुक गई, और हिलामन पर पलट गई ।
63 अब जब अंतीपस के लोगों ने देखा कि लमनाइयों ने उन्हें घुमा दिया है, तो उन्होंने अपने आदमियों को इकट्ठा किया, और लमनाइयों के पीछे फिर से आ गए ।
64 और अब ऐसा हुआ कि हम, नफी के लोग, अंतीपस के लोग, और मैंने अपने दो हजार लोगों के साथ, लमनाइयों को घेर लिया, और उन्हें मार डाला; हां, इतना अधिक कि वे अपने युद्ध के हथियारों को, और स्वयं को युद्धबंदियों के रूप में देने के लिए बाध्य हुए ।
65 और अब ऐसा हुआ कि जब उन्होंने हमारे सामने आत्मसमर्पण कर दिया, देखो, मैंने उन जवानों की गिनती की जो मेरे साथ लड़े थे, इस डर से कि कहीं उनमें से बहुत से लोग मारे न जाएं ।
66 परन्तु देखो, मेरे बड़े आनन्द के लिथे उन में से एक भी जीव भूमि पर न गिरा; हां, और वे मानो परमेश्वर की शक्ति से लड़े थे; हां, ऐसी चमत्कारी शक्ति के साथ लड़ने वाले लोगों के बारे में कभी नहीं जाना गया था;
67 और वे इतनी शक्तिशाली शक्ति से लमनाइयों पर गिरे, कि उन्होंने उन्हें डरा दिया; और इसी कारण से लमनाइयों ने युद्धबंदियों के रूप में स्वयं को बचा लिया ।
68 और चूंकि हमारे पास अपने बंदियों के लिए कोई जगह नहीं थी, ताकि हम उन्हें लमनाइयों की सेना से बचाने के लिए उनकी रक्षा कर सकें, इसलिए हमने उन्हें जराहेमला प्रदेश, और उन लोगों के एक हिस्से को भेजा जो अंतीपस के मारे नहीं गए थे। उन्हें;
69 और जो कुछ मैं ने ले लिया, और अपके अपके अपके अपक्की अम्मोनियोंके संग मिला लिया, और अपके कूच को यहूदिया के नगर को ले गया।
70 और अब ऐसा हुआ कि मुझ