मॉर्मन के शब्द

मॉर्मन के शब्द

अध्याय 1

1 और अब मैं, मॉरमन, जो अभिलेख मैं बना रहा हूं, उसे अपने पुत्र मोरोनी के हाथों में सौंपने जा रहा हूं, देखो, मैंने अपने लोगों, नफाइयों के लगभग सभी विनाश को देखा है ।
2 और मसीह के आने के कई सौ वर्ष हो गए हैं, कि मैं इन अभिलेखोंको अपके पुत्र के हाथ सौंप देता हूं; और मेरी समझ में यह है कि वह मेरी प्रजा के सारे विनाश का गवाह बनेगा।
3 परन्तु परमेश्वर यह करे कि वह उन से बच जाए, कि वह उनके विषय में कुछ और कुछ मसीह के विषय में लिखे, कि किसी दिन वह उन्हें लाभ पहुंचाए।
4 और अब, जो कुछ मैंने लिखा है, उसके बारे में मैं कुछ बोल रहा हूं: क्योंकि नफी की पट्टियों से इस राजा बिन्यामीन के शासन तक, जिसके बारे में अमालेकी ने बात की थी, संक्षिप्त कर दिया था,
5 मैंने उन अभिलेखों में खोज की जो मेरे हाथों में सौंपे गए थे, और मुझे ये पट्टियां मिलीं, जिनमें याकूब से लेकर इस राजा बिन्यामीन तक के भविष्यवक्ताओं का यह छोटा विवरण था: और नफी के कई वचन भी ।
6 और जो कुछ इन पट्टियों पर हैं, वे मसीह के आने की भविष्यद्वाणियोंके कारण मुझे प्रसन्न करते हैं; और मेरे पुरखा जानते थे, कि उन में से बहुतेरे पूरे हो चुके हैं;
7 हां, और मैं यह भी जानता हूं कि जितनी बातें आज तक हमारे विषय में भविष्यद्वाणी की गई हैं, वे पूरी हुई हैं; और जितने लोग आज के दिन के पार जाते हैं, वे अवश्य ही बीतेंगे;
8 इसलिए, मैंने इन चीजों को चुना है, उन पर अपना अभिलेख समाप्त करने के लिए, जिसे मैं अपने अभिलेख के शेष भाग को नफी की पट्टियों से लूंगा; और मैं अपक्की प्रजा की बातोंका सौवां भाग नहीं लिख सकता।
9 लेकिन देखो, मैं इन पट्टियों को ले लूंगा, जिनमें ये भविष्यवाणियां और रहस्योद्घाटन हैं, और उन्हें अपने शेष अभिलेख के साथ रखूंगा, क्योंकि वे मेरे लिए उपयुक्त हैं; और मैं जानता हूं कि वे मेरे भाइयोंके लिथे प्रिय होंगे ।
10 और यह मैं बुद्धिमानी से करता हूं; क्योंकि वह मुझ में यहोवा के आत्मा के कामोंके अनुसार फुसफुसाता है।
11 और अब, मैं सब कुछ नहीं जानता; परन्तु यहोवा आनेवाली सब बातें जानता है; इसलिए, वह मुझ में अपनी इच्छा के अनुसार कार्य करने के लिए कार्य करता है ।
12 और परमेश्वर से मेरी प्रार्थना मेरे भाइयोंके विषय में है, कि वे फिर से परमेश्वर की पहिचान में आ जाएं; हाँ, मसीह का छुटकारे; कि वे एक बार फिर आनंदमय लोग बनें।
13 और अब मैं, मॉरमन, अपने अभिलेख को समाप्त करने के लिए आगे बढ़ रहा हूं, जिसे मैं नफी की पट्टियों से लेता हूं; और जो ज्ञान और समझ परमेश्वर ने मुझे दी है, उसके अनुसार मैं उसे बनाता हूं।
14 इसलिए, ऐसा हुआ कि जब अमालेकी ने इन पट्टियों को राजा बिन्यामीन के हाथ में कर दिया, तब उसने उन्हें ले लिया और अन्य पट्टियों के साथ रख दिया, जिसमें अभिलेखों को रखा गया था, जो राजाओं द्वारा पीढ़ी-दर-पीढ़ी सौंपे गए थे, राजा बिन्यामीन के दिनों तक;
15 और वे राजा बिन्यामीन के पास से पीढ़ी-दर-पीढ़ी, जब तक वे मेरे हाथ में न पड़ जाएं, तब तक देते रहे।
16 और मैं, मॉरमन, परमेश्वर से प्रार्थना करता हूं कि वे अब से सुरक्षित रहें ।
17 और मैं जानता हूं, कि वे सुरक्षित रखे जाएंगे; क्योंकि उन पर बड़ी बड़ी बातें लिखी हुई हैं, जिन में से मेरी प्रजा और उनके भाइयोंका न्याय उस महान और अंतिम दिन में किया जाएगा, जो परमेश्वर के लिखे हुए वचन के अनुसार होगा।
18 और अब, इस राजा बिन्यामीन के विषय में: अपके ही लोगोंके बीच उसका कुछ वाद-विवाद हुआ।
19 और ऐसा भी हुआ, कि लमनाइयों की सेना नफी के प्रदेश से बाहर निकली, ताकि उसके लोगों से युद्ध किया जा सके ।
20 परन्तु देखो, राजा बिन्यामीन ने अपक्की सेना इकट्ठी की, और वह उनके साम्हने खड़ा हुआ; और वह अपक्की ही भुजा के बल से लाबान की तलवार से लड़ा;
21 और प्रभु की शक्ति में उन्होंने अपने शत्रुओं से तब तक संघर्ष किया, जब तक कि उन्होंने हजारों लमनाइयों को मार नहीं दिया ।
22 और ऐसा हुआ कि उन्होंने लमनाइयों से तब तक संघर्ष किया, जब तक कि उन्होंने उन्हें उनके भाग के सभी प्रदेशों से निकाल नहीं दिया ।
23 और ऐसा हुआ कि झूठे मसीह होने के बाद, और उनके मुंह बंद कर दिए गए थे, और उन्होंने अपने अपराधों के अनुसार दण्ड दिया;
24 और जब लोगोंमें झूठे भविष्यद्वक्ता, और झूठे उपदेशक और उपदेशक हुए, और इन सब को अपके अपके अपराधोंके अनुसार दण्ड दिया गया;
25 और लमनाइयों के बीच बहुत विवाद और कई विवाद होने के बाद, देखो, ऐसा हुआ कि राजा बिन्यामीन ने पवित्र भविष्यवक्ताओं की सहायता से जो उसके लोगों में थे; क्योंकि देखो, राजा बिन्यामीन एक पवित्र व्यक्ति था, और वह अपने लोगों पर धार्मिकता से राज्य करता था।
26 और उस देश में बहुत से पवित्र पुरुष थे; और उन्होंने सामर्थ और अधिकार के साथ परमेश्वर का वचन सुनाया; और लोगों के हठीले होने के कारण उन्होंने बहुत तेज काम किया;
27 इसलिए, इन की सहायता से, राजा बिन्यामीन ने, अपने शरीर की सारी शक्ति और अपनी पूरी आत्मा की शक्ति से, और भविष्यद्वक्ताओं ने भी, एक बार फिर प्रदेश में शांति स्थापित की ।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

scripture

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।