नफीस की दूसरी पुस्तक

नफीस की दूसरी पुस्तक

अध्याय 1
लेही की मृत्यु का लेखा-जोखा। नफी के भाइयों ने उसके विरुद्ध विद्रोह किया । प्रभु ने नफी को निर्जन प्रदेश में जाने की चेतावनी दी । निर्जन प्रदेश में उसकी यात्रा, &c.1 और अब ऐसा हुआ कि जब मैं, नफी ने, अपने भाइयों, हमारे पिता, लेही को शिक्षा देना समाप्त कर दिया, ने भी उनसे बहुत कुछ कहा, कि प्रभु ने उनके लिए कितने महान कार्य किए हैं , उन्हें यरूशलेम की भूमि से बाहर लाने में।
2 और उस ने उन से जल के ऊपर उनके विद्रोह, और उनके प्राणोंको बचाकर परमेश्वर की दया के विषय में कहा, कि वे समुद्र में न निगले जाएं।
3 और उसने उनसे उस प्रतिज्ञा के प्रदेश के बारे में भी कहा, जिसे उन्होंने प्राप्त किया था, प्रभु ने हमें चेतावनी दी थी कि हमें यरूशलेम के प्रदेश से भाग जाना चाहिए ।
4 क्योंकि देखो, उस ने कहा, मैं ने एक दर्शन देखा है, जिस में मैं जानता हूं, कि यरूशलेम नाश हो गया है;
5 और यदि हम यरूशलेम में ही रहते, तो भी नाश हो जाते।
6 परन्तु उस ने कहा, कि हमारे क्लेशोंके होते हुए भी हम ने प्रतिज्ञा का देश पा लिया है, जो सब देशोंसे उत्तम है;
7 जो देश यहोवा परमेश्वर ने मुझ से वाचा बान्धी है वह मेरे वंश के निज भाग का देश हो।
8 हां, प्रभु ने इस देश को मुझ से, और मेरी सन्तान से सदा के लिथे वाचा बान्धी है;
9 और उन सभोंको भी, जो यहोवा के हाथ से दूसरे देशोंसे निकाल दिए जाएं।
10 इसलिए, मैं, लेही, आत्मा के कामों के अनुसार जो मुझ में है, भविष्यद्वाणी करता हूं, कि इस प्रदेश में कोई न आने पाएगा, सिवाय उन्हें प्रभु के हाथ से ले आने के ।
11 इसलिए, यह प्रदेश उसके लिए जिसे वह लाएगा, पवित्र किया गया है ।
12 और यदि उस की दी हुई आज्ञाओं के अनुसार वे उसके अधीन हों, तो वह उनके लिथे स्वतंत्र देश ठहरेगा;
13 इसलिए, उन्हें कभी भी बंधुआई में नहीं लाया जाएगा: यदि हां, तो यह अधर्म के कारण होगा:
14 क्योंकि यदि अधर्म अधिक होगा, तो देश उनके निमित्त शापित होगा;
15 परन्तु धर्मियों पर सदा की आशीष बनी रहेगी।
16 और देखो, यह बुद्धिमानी है कि यह प्रदेश अब तक अन्य जातियों के ज्ञान से बचा रहे;
17 क्योंकि देखो, बहुत सी जातियां उस देश पर अधिकार कर लेंगी, कि उसके निज भाग का कोई स्थान न रहेगा।
18 इसलिए, मैं, लेही, ने एक प्रतिज्ञा प्राप्त की है, कि जितने अधिक प्रभु परमेश्वर यरूशलेम के प्रदेश से बाहर निकालेंगे, वे उसकी आज्ञाओं को मानेंगे, वे इस प्रदेश में समृद्ध होंगे;
19 और वे सब जातियोंसे अलग रखे जाएं, जिस से वे इस देश के अधिकारी हो जाएं।
20 और यदि वे उसकी आज्ञाओं को मानें, तो वे इस देश में आशीष पाएंगे,
21 और कोई उनको छेड़ने वाला न हो, और उनके निज भाग का देश छीनने वाला न हो; और वे सदा के लिये निडर बसेंगे।
22 परन्तु देखो, जब समय आएगा कि वे प्रभु के हाथ से इतनी बड़ी आशीष प्राप्त करने के बाद अविश्वास में कम हो जाएंगे; पृथ्वी की सृष्टि और सब मनुष्यों का ज्ञान रखनेवाला, और जगत की सृष्टि से लेकर यहोवा के बड़े और अद्भुत कामों को जानकर; उन्हें विश्वास से सब कुछ करने की शक्ति दी गई है; आरम्भ से ही सब आज्ञाओं को पाकर, और अपनी अपरिमित भलाई के द्वारा प्रतिज्ञा के इस अनमोल देश में पहुंचाए गए;
23 देखो, मैं कहता हूं, कि यदि वह दिन आएगा कि वे इस्राएल के पवित्र एक, सच्चे मसीहा, उनके मुक्तिदाता और उनके परमेश्वर को अस्वीकार कर देंगे, तो देखो, जो धर्मी है उसका न्याय उन पर टिका होगा;
24 हां, वह अन्य राष्ट्रों को उनके पास लाएगा, और वह उन्हें अधिकार देगा, और वह उनकी संपत्ति के प्रदेशों को उनसे छीन लेगा, और वह उन्हें तितर-बितर और नष्ट कर देगा ।
25 वरन जब एक पीढ़ी दूसरी पीढ़ी को जाती है, तब उनके बीच खून-खराबा और बड़े-बड़े हादसे होते रहेंगे;
26 इसलिए, मेरे पुत्रों, मैं चाहता हूं कि तुम स्मरण रखो; हां, मैं चाहता हूं कि तुम मेरी बातों पर ध्यान दो ।
27 भला होता कि तुम जागते; गहरी नींद से जागो, हां, नरक की नींद से भी, और उन भयानक जंजीरों को दूर करो जिनसे तुम बंधे हो, जो जंजीरें हैं जो मनुष्यों के बच्चों को बांधती हैं, कि उन्हें बंदी बनाकर अनंत की खाड़ी में ले जाया जाता है दुख और वाह!
28 जागो! और मिट्टी में से उठ, और थरथराते हुए माता पिता की बातें सुन, जिनके अंगोंको तुम शीघ्र ही ठण्डी और खामोश कब्र में लेट जाओगे, जहां से कोई मुसाफिर लौट न सकेगा; कुछ दिन और, और मैं सारी पृय्वी के मार्ग पर चलता हूं।
29 परन्तु देखो, यहोवा ने मेरे प्राण को अधोलोक से छुड़ा लिया है; मैं ने उसका तेज देखा है, और मैं उसके प्रेम की गोद में सदा के लिए घिरा हुआ हूं।
30 और मैं चाहता हूं, कि तुम यहोवा की विधियोंऔर नियमोंको स्मरण रखना; देखो, मेरे मन में आरम्भ से यही चिन्ता बनी रही है।
31 मेरा मन समय-समय पर दु:ख से दबा हुआ है; क्योंकि मुझे डर है, कहीं ऐसा न हो कि तुम्हारे मन की कठोरता के कारण तुम्हारा परमेश्वर यहोवा तुम पर अपना कोप भड़काकर निकल आए, कि तुम नाश और सदा के लिये नाश हो जाओ;
32 या कि पीढ़ी पीढ़ी पीढ़ी तक तुझ पर शाप पड़े; और तुम पर तलवार, और अकाल पड़ता है, और तुम से बैर किया जाता है, और शैतान की इच्छा, और बन्धुआई के अनुसार तुम्हारी अगुवाई की जाती है।
33 हे मेरे पुत्रों, कि ये बातें तुम पर न आएं, परन्तु इसलिये कि तुम यहोवा के प्रिय और प्रिय प्रजा ठहरो!
34 परन्तु देखो, उसकी इच्छा पूरी हो गई है, क्योंकि उसके मार्ग सदा के धर्मी हैं; और उस ने कहा है, कि जब तक तुम मेरी आज्ञाओं का पालन करोगे, तब तक देश में उन्नति करना; परन्तु जब तक तुम मेरी आज्ञाओं को न मानोगे, तब तक मेरे साम्हने से नाश किया जाएगा।
35 और अब कि मेरा मन तुम से आनन्द करे, और मेरा मन तुम्हारे कारण इस जगत को आनन्द से छोड़ दे; कि मुझे शोक और शोक के साथ कब्र में न उतारा जाए,
36 हे मेरे पुत्रों, मिट्टी में से उठ, और मनुष्य बन, और एक मन और सब बातों में एक हो जाने के लिये दृढ़ हो, कि तुम बन्धुआई में न आने पाओ; जिस से तुम घोर शाप से शापित न हो;
37 और यह भी, कि तुम पर धर्मी परमेश्वर की नाराजगी न हो, विनाश के लिए, हां, आत्मा और शरीर दोनों का शाश्वत विनाश ।
38 हे मेरे पुत्रों, जाग, धर्म के हथियार बान्ध लो।
39 जिन जंजीरों से तुम बन्धे हो उन्हें तोड़ दो, और अन्धकार में से निकल आओ, और मिट्टी में से उठो।
40 अपने उस भाई के विरुद्ध फिर से बलवा न करना, जिसके विचार प्रतापमय हैं, और जिस ने हमारे यरूशलेम से निकलने के समय से आज्ञाओं का पालन किया है, और जो हमें प्रतिज्ञा के देश में लाने में परमेश्वर के निमित्त बना है;
41 क्‍योंकि यदि उसका न होता तो हम जंगल में भूखे मर जाते;
42 तौभी तुम ने उसका प्राण लेने का यत्न किया; हाँ, और तुम्हारे कारण उसे बहुत दुख हुआ है।
43 और मैं तुम्हारे कारण बहुत डरता और कांपता हूं, ऐसा न हो कि वह फिर दु:ख उठाए;
44 क्योंकि देखो, तुम ने उस पर यह दोष लगाया है कि वह तुम पर अधिकार और अधिकार चाहता है;
45 परन्तु मैं जानता हूं, कि उस ने न तो तुझ पर अधिकार की इच्छा की और न अधिकार की खोज की; परन्तु उस ने परमेश्वर की महिमा, और तुम्हारा अनन्त कल्याण चाहा है।
46 और तुम कुड़कुड़ाते हो, क्योंकि वह तुम से सीधा सीधा है।
47 तुम कहते हो, कि उस ने तीक्ष्णता का प्रयोग किया है; तुम कहते हो कि वह तुम पर क्रोधित हुआ है।
48 परन्तु देखो, उसका तेज परमेश्वर के वचन की शक्ति का तेज था, जो उस में था;
49 और जिसे तुम क्रोध कहते हो, वही सत्य था, जो परमेश्वर में है, जिसे वह रोक न सका, और तुम्हारे अधर्म के कामोंके विषय में निडरता से प्रगट हुआ।
50 और यह आवश्यक है कि परमेश्वर की शक्ति उसके पास होनी चाहिए, यहां तक कि उसकी आज्ञा के अनुसार, कि तुम उसका पालन करना चाहिए।
51 परन्तु देखो, यह वह नहीं था, परन्तु यहोवा का आत्मा जो उस में था, उस ने उसका मुंह खोला, कि वह उसे बन्द न कर सका।
52 और अब मेरा पुत्र लमान और लमूएल और सैम, और मेरे पुत्र जो इश्माएल के पुत्र हैं, देखो, यदि तुम नफी की बात मानोगे, तो तुम नष्ट नहीं होगे ।
53 और यदि तुम उसकी सुनोगे, तो मैं तुम्हारे लिए एक आशीष छोड़ूंगा, हां, यहां तक कि मेरी पहली आशीष भी ।
54 परन्तु यदि तुम उसकी न मानो, तो मैं अपनी पहली आशीष, हां, अपना आशीर्वाद भी छीन लेता हूं, और वह उसी पर टिकी रहेगी ।
55 और अब हे जोराम, मैं तुझ से कहता हूं, देख, तू लाबान का दास है; फिर भी, आपको यरूशलेम के प्रदेश से बाहर लाया गया है, और मैं जानता हूं कि आप मेरे पुत्र नफी के हमेशा के लिए सच्चे मित्र हैं ।
56 इस कारण, क्योंकि तू विश्वासयोग्य है, तेरे वंश को उसके वंश की आशीष मिलेगी, कि वे इस देश में बहुत दिन तक समृद्धि से बसे रहेंगे;
57 और कोई बात नहीं, केवल उनके बीच अधर्म ही रहेगा, इस देश में उनकी समृद्धि को सदा के लिए हानि न पहुंचाएगा और न बिगाड़ देगा।
58 इसलिए, यदि तुम यहोवा की आज्ञाओं को मानोगे, तो यहोवा ने इस देश को मेरे पुत्र के वंश के साथ तुम्हारे वंश की रक्षा के लिए पवित्र किया है ।
59 और अब, हे याकूब, मैं तुझ से कहता हूं: जंगल में मेरे क्लेश के दिनोंमें तू मेरा पहिलौठा है।
60 और देखो, बचपन में तू ने अपके भाइयोंकी अशिष्टता के कारण क्लेश और बहुत दु:ख भोगा है।
61 तौभी हे याकूब, हे मेरे पहिलौठे, जो जंगल में उत्पन्न हुआ है, तू परमेश्वर की महानता को जानता है; और वह तेरे दु:खोंको तेरे लाभ के लिथे पवित्र करेगा।
62 इसलिए तुम्हारी आत्मा को आशीष मिलेगी, और तुम अपने भाई नफी के साथ सुरक्षित रूप से निवास करोगे; और तेरे दिन अपके परमेश्वर की उपासना में व्यतीत होंगे।
63 इसलिए, मैं जानता हूं कि तू अपने छुड़ाने वाले की धार्मिकता के कारण छुड़ाया गया है: क्योंकि तू ने देखा है, कि वह समय की परिपूर्णता में मनुष्यों का उद्धार करने के लिए आता है ।
64 और तू ने अपनी जवानी में उसका तेज देखा है; इसलिए, तुम उन लोगों के समान धन्य हो जिनकी वह देह में सेवा करेगा:
65 क्योंकि आत्मा कल, आज और युगानुयुग एक ही है।
66 और मनुष्य के पतन से मार्ग तैयार हो गया है, और उद्धार नि:शुल्क है।
67 और मनुष्योंको पर्याप्त शिक्षा दी जाती है, कि वे भलाई को बुराई से जानते हैं।
68 और व्यवस्था मनुष्योंको दी जाती है।
69 और व्यवस्था से कोई प्राणी धर्मी नहीं, वा व्यवस्या के द्वारा मनुष्य नाश किए जाते हैं।
70 हां, अस्थायी व्यवस्था के द्वारा, वे नाश किए गए; और आत्मिक व्यवस्था से भी वे भलाई से नाश हो जाते हैं, और सदा के लिये दुखी हो जाते हैं।
71 इसलिए, पवित्र मसीहा में और उसके द्वारा छुटकारे का आगमन होता है: क्योंकि वह अनुग्रह और सच्चाई से परिपूर्ण है।
72 देखो, वह उन सभोंके लिथे जिनका मन टूटा हुआ और पछताया है, व्यवस्या के अन्त का उत्तर देने के लिथे पाप के लिथे अपके आप को बलिदान चढ़ाता है; और किसी और के लिए व्यवस्था के सिरों का उत्तर नहीं दिया जा सकता है।
73 इसलिए, इन बातों को पृथ्वी के निवासियों को बताना कितना महत्वपूर्ण है, ताकि वे जान सकें कि कोई भी मांस नहीं है जो परमेश्वर की उपस्थिति में निवास कर सकता है, केवल गुणों, और दया, और अनुग्रह के द्वारा पवित्र मसीहा,

74 जो शरीर के अनुसार अपना प्राण देता है, और आत्मा के सामर्थ से उसे फिर ले लेता है,
75 कि वह सबसे पहिले जी उठकर मरे हुओं का पुनरुत्थान करे।
76 इसलिए, वह परमेश्वर के लिए पहला फल है, क्योंकि वह सभी मनुष्यों के लिए विनती करेगा;
77 और जो उस पर विश्वास करेंगे, वे उद्धार पाएंगे।
78 और सब के लिथे बिनती के कारण सब मनुष्य परमेश्वर के पास आते हैं;
79 इस कारण वे उसके साम्हने खड़े हैं, कि उस में सच्चाई और पवित्रता के अनुसार उसका न्याय किया जाए।
80 इसलिए, व्यवस्था का अंत जो पवित्र व्यक्ति ने दिया है, जो सजा दी गई है, जो सजा दी गई है, प्रायश्चित के सिरों का उत्तर देने के लिए, जो सजा दी गई है, वह खुशी के विरोध में है;
81 क्योंकि यह अवश्य है, कि सब बातों में विरोध हो।
82 यदि ऐसा न होता, तो मेरा पहिलौठा जंगल में उत्पन्न हुआ, वह धार्मिकता न हो सकी; न तो दुष्टता; न पवित्रता न दुख; न अच्छा न बुरा।
83 इसलिए, सभी चीजों को एक में मिश्रित होना चाहिए;
84 इसलिए, यदि यह एक शरीर होना चाहिए, तो उसे मृत के रूप में रहने की आवश्यकता है, जिसमें न जीवन है, न मृत्यु है, न भ्रष्टाचार है, न भ्रष्टाचार है, न सुख है न दुख है, न इंद्रिय है और न ही संवेदनहीनता है।
85 इसलिए, इसे व्यर्थ वस्तु के लिए सृजा गया होगा;
86 इसलिए, इसके निर्माण के अंत में कोई उद्देश्य नहीं रहा होगा।
87 इसलिए, इस बात के लिए अवश्य है कि परमेश्वर की बुद्धि, और उसके अनन्तकाल के उद्देश्‍यों को नष्ट कर दें; और यह भी, शक्ति, और दया, और परमेश्वर का न्याय।
88 और यदि तुम कहोगे कि व्यवस्था नहीं है, तो तुम भी कहोगे कि पाप नहीं।
89 और यदि तुम कहोगे कि पाप नहीं है, तो तुम भी कहोगे कि धार्मिकता नहीं है।
90 और यदि धर्म न हो, तो सुख भी न रहे।
91 और यदि न धार्मिकता है और न सुख, तो न दण्ड और न दुख।
92 और यदि ये बातें नहीं हैं, तो कोई परमेश्वर नहीं है।
93 और यदि परमेश्वर नहीं है, तो हम भी नहीं हैं, न ही पृथ्वी, क्योंकि न तो वस्तुओं की सृष्टि हो सकती थी, न कार्य करने के लिए और न ही उन पर कार्य करने के लिए; इसलिए, सभी चीजें गायब हो गई होंगी।
94 और अब हे मेरे पुत्र, मैं तेरे लाभ और विद्या के लिथे ये बातें तुझ से कहता हूं:
95 क्योंकि एक परमेश्वर है, और उसी ने आकाश और पृथ्वी, और जो कुछ उन में है, सब कुछ बनाया है;
96 काम करने की दोनों बातें, और करने योग्य बातें;
97 और मनुष्य के अंत में उसके अनन्त उद्देश्यों को पूरा करने के लिए, जब उसने हमारे पहले माता-पिता, और मैदान के जानवरों और आकाश के पक्षियों को बनाया था, और अच्छी तरह से, सभी चीजों को बनाया गया था, यह होना चाहिए एक विरोध था;
98 जीवन के वृक्ष के साम्हने वर्जित फल भी; एक मीठा और दूसरा कड़वा;
99 इसलिए, प्रभु परमेश्वर ने मनुष्य को दिया, कि वह अपने लिए कार्य करे ।
100 इसलिए, मनुष्य अपने लिए कार्य नहीं कर सकता, सिवाय इसके कि वह एक या दूसरे के द्वारा बहकाया गया हो ।
101 और मैं, लेही, जो कुछ मैंने पढ़ा है, उसके अनुसार यह मान लेना चाहिए कि परमेश्वर का एक दूत, जो लिखा है, उसके अनुसार स्वर्ग से गिर गया था;
102 इस कारण वह शैतान बन गया, जो परमेश्वर की दृष्टि में बुराई की खोज में था।
103 और क्योंकि वह स्वर्ग से गिर गया था, और हमेशा के लिए दुखी हो गया था, उसने सभी मानव जाति के दुख को भी खोजा।
104 इसलिए, उसने हव्वा से कहा, हां, वह पुराना सांप, जो शैतान है, जो सब झूठों का पिता है; इसलिए उसने कहा, निषिद्ध फल में से भाग लो, और तुम न मरोगे, परन्तु तुम भले और बुरे को जानकर परमेश्वर के समान हो जाओगे ।
105 और जब आदम और हव्वा ने मना किया हुआ फल खा लिया, तब वे अदन की बारी से निकालकर भूमि पर खेती करने के लिथे निकाल दिए गए।
106 और वे सन्तान उत्‍पन्‍न हुए हैं; हाँ, सारी पृथ्वी का परिवार भी।
107 और मनुष्योंकी आयु परमेश्वर की इच्छा के अनुसार लम्बी की गई, कि वे शरीर में रहते हुए मन फिराएं;
108 इसलिए, उनका राज्य परिवीक्षा की स्थिति बन गया, और उनका समय उन आज्ञाओं के अनुसार बढ़ाया गया, जो प्रभु परमेश्वर ने मनुष्यों को दी थीं ।
109 क्योंकि उस ने आज्ञा दी, कि सब मनुष्य मन फिराएं;
110 क्‍योंकि उस ने सब मनुष्योंको दिखाया, कि अपके माता पिता के अपराध के कारण वे खो गए हैं।
111 और अब देखो, यदि आदम ने अपराध न किया होता, तो वह गिर न पड़ता; परन्तु वह अदन की वाटिका में रहता।
112 और जितनी वस्तुएं सृजी गईं, वे उसी दशा में रहेंगी, जैसी वे सृजी गईं, और उनके सृजे जाने के बाद भी; और वे सदा तक बने रहें, और उनका अन्त न था।
113 और उनके कोई सन्तान न होता; इसलिए, वे बिना किसी आनंद के, निर्दोष अवस्था में बने रहते, क्योंकि वे कोई दुख नहीं जानते थे; भलाई नहीं की, क्योंकि वे कोई पाप नहीं जानते थे।
114 परन्तु देखो, जो सब कुछ जानता है उसकी बुद्धि से सब कुछ किया गया है।
115 आदम गिर गया, कि मनुष्य हों; और मनुष्य हैं, कि वे आनन्दित हों।
116 और मसीह समय की परिपूर्णता में आता है, कि वह मनुष्य के बच्चों को पतन से छुड़ाए।
117 और इस कारण कि वे पतन से छुड़ाए गए हैं, वे भलाई को बुराई से जानकर, सदा के लिए स्वतंत्र हो गए हैं;
118 जो आज्ञाएं परमेश्वर ने दी हैं, उनके अनुसार बड़े और अन्तिम दिन के दिन यहोवा के दण्ड के सिवाय उन पर काम न करने के लिथे उन पर कुछ न किया जाए।
119 इस कारण मनुष्य शरीर के अनुसार स्वतंत्र हैं; और सब कुछ उन्हें दिया जाता है जो मनुष्य के लिए समीचीन हैं।
120 और वे सब मनुष्योंकी बड़ी मध्यस्थता के द्वारा स्वतन्त्रता और अनन्त जीवन को चुनने के लिथे स्वतन्त्र हैं, या शैतान की बन्धुआई और सामर्थ के अनुसार बन्धुआई और मृत्यु को चुनने के लिथे स्वतन्त्र हैं।
121 क्योंकि वह चाहता है, कि सब मनुष्य अपके समान दुखी हों।
122 और अब, मेरे पुत्रों, मैं चाहता हूं कि तुम महान मध्यस्थ की ओर दृष्टि करके उसकी महान आज्ञाओं को सुनो;
123 और उसकी बातों पर विश्वास रखो, और उसके पवित्र आत्मा की इच्छा के अनुसार अनन्त जीवन को चुन लो,
124 और शरीर की इच्छा और उस में की बुराई के अनुसार अनन्त मृत्यु को न चुन,
125 जो शैतान की आत्मा को वश में करके तुम्हें अधोलोक में गिराने की शक्ति देता है, कि वह अपने ही राज्य में तुम पर राज्य करे।
126 हे मेरे पुत्रों, मैं ने अपनी परीक्षा के अन्तिम दिनोंमें तुम सब से ये थोड़े ही वचन कहे हैं;
127 और भविष्यद्वक्ता के वचन के अनुसार मैं ने अच्छे भाग को चुन लिया है।
128 और मेरे पास और कोई ध्येय नहीं है, केवल तुम्हारे प्राणों का चिरस्थायी कल्याण हो। तथास्तु।

 

2 नफी, अध्याय 2
1 और अब मैं तुझ से कहता हूं, हे मेरे अंतिम जन्म यूसुफ।
2 तू मेरे क्लेशोंके जंगल में उत्पन्न हुआ है; हां, मेरे सबसे बड़े दुख के दिनों में तेरी माता ने तुझे सहा था ।
3 और यहोवा इस देश को, जो अत्याधिक बहुमूल्य देश है, तेरे निज भाग और तेरे भाइयोंके वंश के भाग के लिथे तेरी सुरक्षा के लिथे सदा के लिथे पवित्र करे, यदि ऐसा हो कि तू उसकी आज्ञाओं को मान इस्राएल का पवित्र एक।
4 और अब हे यूसुफ, जो मेरा अन्तिम जन्म है, जिसे मैं ने अपके क्लेशोंके जंगल से निकाल लाया है, यहोवा तुझे सदा आशीष दे, क्योंकि तेरा वंश पूरी रीति से नाश न होगा।
5 क्योंकि देख, तू मेरी कमर का फल है; और मैं यूसुफ का वंशज हूं, जो बंधुआई में मिस्र में ले जाया गया था।
6 और यहोवा की जो वाचाएं उस ने यूसुफ से बान्धी थीं वे बड़े बड़े थे; इसलिए, यूसुफ ने वास्तव में हमारे दिन को देखा।
7 और उस ने यहोवा की यह प्रतिज्ञा प्राप्त की, कि यहोवा परमेश्वर इस्राएल के घराने के लिथे एक धर्मी डाली को अपक्की अपक्की कमर के फल में से उठाएगा;
8 मसीह नहीं, परन्तु एक डाली जिसे तोड़ा जाना था; फिर भी, यहोवा की वाचाओं में स्मरण किए जाने के लिए,
9 कि मसीह उन पर अन्तिम दिनों में, सामर्थ की आत्मा में, उन्हें अन्धकार में से उजियाले की ओर लाने के लिए प्रगट किया जाए; हां, छिपे हुए अंधेरे से और कैद से आजादी की ओर ।
10 क्‍योंकि यूसुफ ने सच्‍ची गवाही दी, कि मेरा परमेश्वर यहोवा एक दर्शी खड़ा करेगा, जो मेरी कमर के फल का उत्तम ददर्शी ठहरेगा।
11 हां, यूसुफ ने सच कहा, यहोवा ने मुझ से योंकहा है: मैं तेरी कमर के फल में से एक उत्तम ददर्शी उत्पन्‍न करूंगा; और वह तेरी कमर के फल में बहुत प्रतिष्ठित होगा।
12 और मैं उसको आज्ञा दूंगा, कि वह अपके भाइयोंके लिथे अपके अपके अपके भाइयोंके लिथे ऐसा काम करे, जो उन के लिथे बड़ा फल हो, अर्थात जो वाचाएं मैं ने बान्धी हैं, उन को वे पूरी करें। अपने पितरों के साथ।
13 और मैं उसको आज्ञा दूंगा, कि जिस काम की आज्ञा मैं उसे दूंगा उसके सिवा वह और कोई काम न करे।
14 और मैं उसे अपक्की दृष्टि में बड़ा करूंगा, क्योंकि वह मेरा काम करेगा।
15 और वह मूसा के समान महान होगा, जिसके विषय में मैं ने कहा है, कि मैं अपक्की प्रजा को छुड़ाने के लिथे तेरे लिथे खड़ा करूंगा, हे इस्राएल के घराने।
16 और मैं मूसा को खड़ा करूंगा, कि तेरी प्रजा को मिस्र देश से छुड़ाऊं।
17 परन्तु मैं तेरी कमर के फल में से एक दशीं उत्पन्न करूंगा; और मैं अपके वचन को तेरी सन्तान तक पहुँचाने का अधिकार उसी को दूंगा;
18 और न केवल मेरे वचन को पूरा करने के लिए, यहोवा की यही वाणी है, परन्तु उन्हें मेरे वचन के प्रति आश्वस्त करने के लिए, जो उनके बीच पहले ही निकल चुका होगा।
19 इसलिथे तेरी कमर का फल लिखे; और यहूदा की कमर का फल लिखे;
20 और जो तेरी कमर के फल से लिखा जाएगा, और जो यहूदा की कमर के फल से लिखा जाएगा, वह सब एक साथ बढ़ेगा,
21 इसलिथे कि फूठे धर्मसिद्धान्तोंके टलने, और वाद विवाद करने, और अपक्की कमर के फल में मेल मिलाप करने के लिथे,
22 और अन्त के दिनोंमें उनको उनके पुरखाओं का ज्ञान कराना;
23 और मेरी वाचाओं को जानने के लिये भी, यहोवा की यही वाणी है।
24 और वह दुर्बलता में से उस समय दृढ़ किया जाएगा, जब मेरा काम मेरी सारी प्रजा के बीच में, हे इस्राएल के घराने, तुझे फेर देने के लिथे आरम्भ होगा, यहोवा की यही वाणी है।
25 तब यूसुफ ने यह भविष्यद्वाणी की, कि देख, यहोवा उस दर्शी को आशीष देगा;
26 और जो उसे नाश करना चाहते हैं, वे लज्जित होंगे;
27 क्‍योंकि यह वचन, जो मैं ने यहोवा से प्राप्त किया है, अर्थात तेरी कमर के फल से पूरा किया जाएगा।
28 देख, मैं इस प्रतिज्ञा के पूरा होने का निश्चय करता हूं।
29 और उसका नाम मेरे नाम पर रखा जाएगा; और वह उसके पिता के नाम पर हो।
30 और वह मेरे तुल्य ठहरेगा; क्योंकि जो कुछ यहोवा अपने हाथ से उत्पन्न करेगा, वह यहोवा की शक्ति से मेरी प्रजा का उद्धार करेगा;
31 हां, यूसुफ ने इस प्रकार भविष्यद्वाणी की, मुझे इस बात का यक़ीन है, जैसा कि मूसा की प्रतिज्ञा के विषय में मुझे पूरा भरोसा है: क्योंकि यहोवा ने मुझ से कहा है, कि मैं तेरे वंश को युगानुयुग सुरक्षित रखूंगा।
32 और यहोवा ने कहा है, मैं एक मूसा को खड़ा करूंगा; और मैं उसे डण्डे के समान अधिकार दूंगा;
33 और मैं उसे लिखित में न्याय दूँगा।
34 तौभी मैं उसकी जीभ न खोलूंगा, कि वह अधिक बोले, क्योंकि मैं उसको बोलने में सामर्थी न बनाऊंगा।
35 परन्तु मैं अपके ही हाथ की उँगली से अपक्की व्यवस्या उस को लिखूंगा; और मैं उसके लिथे एक प्रवक्ता ठहराऊंगा।
36 और यहोवा ने मुझ से भी कहा, मैं तेरी कमर के फल के लिथे उठा करूंगा, और उसके लिथे एक प्रवक्ता ठहराऊंगा।
37 और मैं देख, मैं उसको दूंगा, कि वह तेरी कमर के फल का लेख तेरी कमर के फल के लिथे लिखे; और तेरी कमर का प्रवक्‍ता इसका प्रचार करेगा।
38 और जो वचन वह लिखे, वे वही हों, जो मेरी बुद्धि के लिये समीचीन हों, और वे तेरी कमर के फल की ओर बढ़ें ।
39 और ऐसा होगा मानो तेरी कमर का फल मिट्टी में से उन को पुकारा हो; क्योंकि मैं उनका विश्वास जानता हूं।
40 और वे मिट्टी में से दोहाई देंगे; हां, यहां तक कि उनके द्वारा कई पीढ़ियों के बीत जाने के बाद भी अपने भाइयों से पश्चाताप किया ।
41 और ऐसा होगा कि उनका रोना उनके शब्दों की सरलता के अनुसार ही चलेगा ।
42 उनके विश्वास के कारण, उनकी बातें मेरे मुंह से उनके भाइयों तक, जो तेरी कमर के फल हैं, निकलेंगे;
43 और मैं उनके वचनोंकी निर्बलता को उनके विश्वास में दृढ़ करूंगा, और उस वाचा को स्मरण करूंगा जो मैं ने तुम्हारे पुरखाओं से बान्धी थी।
44 और अब देखो, मेरे पुत्र यूसुफ, मेरे पिता ने पुरानी भविष्यद्वाणी इसी रीति से की है ।
45 इसलिए, इस वाचा के कारण तू धन्य है: तेरा वंश नष्ट नहीं होगा, क्योंकि वे पुस्तक की बातों को मानेंगे ।
46 और उन में से एक शूरवीर खड़ा होगा, जो वचन और काम दोनोंमें बहुत भलाई करेगा, और परमेश्वर के हाथ में अत्याधिक विश्वास के साथ निमित्त बने रहेगा।
47 और बड़े बड़े काम करना, और वह काम करना जो परमेश्वर की दृष्टि में महान है, कि इसलिथे इस्राएल के घराने और अपके भाइयोंके वंश को बहुत अधिक सुधार हो।
48 और अब, हे यूसुफ, तू धन्य है।
49 देख, तू छोटा है; इसलिए, अपने भाई नफी की बातों को सुनो, और यह तुम्हारे लिए किया जाएगा, यहां तक कि मेरे द्वारा कही गई बातों के अनुसार ।
50 अपने मरते हुए पिता की बातें स्मरण कर। तथास्तु।

——————————————————————————–

2 नफी, अध्याय 3
1 और अब मैं, नफी, उन भविष्यवाणियों के बारे में बोलता हूं जिनके बारे में मेरे पिता ने यूसुफ के बारे में कहा है, जो मिस्र ले जाया गया था:
2 क्योंकि देखो, उसने अपने सारे वंश के विषय में सचमुच भविष्यवाणी की थी ।
3 और जो भविष्यद्वाणियां उस ने लिखीं, वे अधिक बड़ी नहीं हैं।
4 और उस ने हमारे और हमारी आने वाली पीढ़ी के विषय में भविष्यद्वाणी की;
5 और वे पीतल की पट्टियों पर लिखे हुए हैं।
6 इसलिए, जब मेरे पिता ने यूसुफ की भविष्यवाणियों के बारे में बोलना समाप्त कर दिया, तो उसने लमान के बच्चों, उसके पुत्रों और बेटियों को बुलाया, और उनसे कहा,
7 देखो, मेरे बेटे-बेटियां, जो मेरे पहिलौठे के बेटे-बेटियां हैं, मैं चाहता हूं, कि तुम मेरी बातोंको मानो:
8 क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने कहा है, कि जितनी मेरी आज्ञाओं को मानोगे, देश में उन्नति करते जाओगे;
9 और यदि तुम मेरी आज्ञाओं को न मानोगे, तो मेरे साम्हने से नाश किए जाओगे।
10 परन्तु देखो, मेरे बेटे-बेटियों, मैं अपक्की कब्र पर नहीं जा सकता, केवल तुम पर आशीष छोड़ूं।
11 क्योंकि देखो, मैं जानता हूं, कि यदि तुम जिस मार्ग में पले-बढ़े हो उसी में पाले जाओगे, तो उस से न हटोगे।
12 इसलिए, यदि तुम शापित हो, तो देखो, मैं तुम पर अपना आशीर्वाद छोड़ता हूं, कि शाप तुम से लिया जाए, और तुम्हारे माता-पिता के सिर पर उत्तर दिया जाए ।
13 इसलिए, मेरे आशीर्वाद के कारण, प्रभु परमेश्वर आपको नाश होने से नहीं सहेगा; इसलिए, वह तुम पर और तुम्हारे वंश पर सदा दया करेगा ।
14 और ऐसा हुआ कि जब मेरे पिता ने लमान के पुत्रों और पुत्रियों से बात करना समाप्त कर दिया, तो उसने लमूएल के पुत्रों और पुत्रियों को अपने सामने लाया ।
15 और उस ने उन से कहा, देखो, मेरे बेटे बेटियां, जो मेरे दूसरे बेटे के बेटे बेटियां हैं;
16 देखो, मैं तुम पर वही आशीष छोड़ता हूं जो मैंने लमान के पुत्रों और पुत्रियों पर छोड़ी थी; इसलिए, तुम पूरी तरह से नष्ट नहीं हो जाओगे; परन्तु अन्त में तेरा वंश आशीष पाएगा।
17 और ऐसा हुआ कि जब मेरे पिता ने उनसे बात करना समाप्त कर दिया, देखो, उसने इश्माएल के पुत्रों, हां, और यहां तक कि अपने सारे घराने से भी बात की ।
18 और जब वह उन से बातें कर चुका, तब उस ने सैम से कहा,
19 धन्य है तू और तेरा वंश; क्योंकि तू अपने भाई नफी के समान देश का अधिकारी होगा।
20 और तेरा वंश उसके वंश समेत गिना जाए;
21 और तू अपके भाई के समान, और तेरा वंश उसके वंश के समान हो जाएगा; और तू अपने सब दिनोंमें आशीषित रहेगा।
22 और ऐसा हुआ कि जब मेरे पिता लेही ने अपने सारे घराने से अपने मन की भावनाओं, और प्रभु की आत्मा के अनुसार जो उस में था, कहा, वह बूढ़ा हो गया ।
23 और ऐसा हुआ कि वह मर गया, और उसे मिट्टी दी गई ।
24 और ऐसा हुआ कि उसकी मृत्यु के कुछ दिनों बाद ही, लमान और लमूएल, और इश्माएल के पुत्र, प्रभु की चेतावनियों के कारण मुझ पर क्रोधित हुए:
25 क्योंकि मैं, नफी, उसके वचन के अनुसार उनसे बात करने के लिए विवश था ।
26 क्योंकि मैं ने उन से और अपके पिता को भी उसके मरने से पहिले बहुत सी बातें कहीं;
27 और उन में से बहुत सी बातें, मेरी दूसरी पट्टियों पर लिखी हुई हैं; क्योंकि मेरी और परातों पर और भी इतिहास का एक भाग लिखा हुआ है।
28 और उन पर मैं अपके प्राण की बातें, और बहुत से वचन जो पीतल की पट्टियोंपर खुदे हुए हैं, लिखता हूं:
29 क्योंकि मेरा मन पवित्रशास्त्र से प्रसन्न होता है, और मेरा मन उन पर विचार करता है, और उन्हें अपने बच्चों की विद्या और लाभ के लिथे लिखता है।
30 देख, मेरा मन यहोवा की बातोंसे प्रसन्न रहता है; और जो कुछ मैं ने देखा और सुना है, उन पर मेरा मन निरन्तर विचार करता रहता है।
31 तौभी यहोवा की बड़ी भलाई, अपके बड़े और अद्‌भुत काम मुझे दिखाकर, मेरा मन चिल्लाता है, हे अभागे मनुष्य, कि मैं हूं; हां, मेरे शरीर के कारण मेरा हृदय शोकित है।
32 मेरा मन अपके अधर्म के कामोंके कारण शोक करता है।
33 मैं उन परीक्षाओं और पापों के कारण घेरे हुए हूं, जो मुझे इतनी आसानी से घेर लेती हैं।
34 और जब मैं आनन्द करना चाहता हूं, तब मेरा मन अपके पापोंके कारण कराहता है; फिर भी, मैं जानता हूं कि मैंने किस पर भरोसा किया है।
35 मेरा परमेश्वर मेरा सहारा रहा है; उस ने जंगल में मेरे दु:खोंमें मेरी अगुवाई की; और उस ने मुझे बड़े गहिरे जल के ऊपर सुरक्षित रखा है।
36 उस ने मुझे अपक्की प्रीति से भर दिया, यहां तक कि मेरा मांस खाने तक भी।
37 उस ने मेरे शत्रुओं को मेरे साम्हने कांपने का कारण बना दिया है।
38 देखो, उस ने दिन को मेरी दोहाई सुनी है, और रात को उस ने मुझे दर्शनोंके द्वारा ज्ञान दिया है।
39 और मैं प्रति दिन उसके साम्हने बड़ी प्रार्थना में निडर होता गया; वरन मैं ने ऊँचे पर अपनी आवाज़ बुलंद की है; और फ़रिश्तों ने आकर मेरी सेवा की।
40 और मेरी देह उसके आत्मा के पंखोंपर ऊंचे ऊंचे पहाड़ोंपर उठाई गई है
41 और मेरी आंखों ने बड़ी बड़ी बातें देखी हैं; हाँ, मनुष्य के लिए भी बहुत महान; इसलिए मुझ से कहा गया कि मैं उन्हें न लिखूं।
42 सो यदि मैं ने ऐसी बड़ी बड़ी बातें देखी हों; यदि प्रभु ने मनुष्यों के प्रति अपनी कृपालुता में मुझ पर इतनी दया की है, तो मेरा हृदय क्यों रोता है, और मेरी आत्मा दु: ख की घाटी में रहती है, और मेरा मांस नष्ट हो जाता है, और मेरी शक्ति कमजोर हो जाती है, मेरे कारण क्लेश?
43 और मैं अपने शरीर के कारण पाप के आगे क्यों झुकूं?
44 हां, मैं क्यों परीक्षाओं में फंसूं, कि वह दुष्ट मेरे हृदय में जगह ले ले, कि मेरी शान्ति को नाश करे, और मेरे प्राण को दु:ख दे?
45 मैं अपके शत्रु के कारण क्‍यों क्रोधित हूं?
46 हे मेरे प्राण, जाग! अब पाप में मत डूबो।
47 हे मेरे मन आनन्दित हो, और मेरे प्राण के शत्रु को फिर स्थान न दे।
48 मेरे शत्रुओं के कारण फिर क्रोध न करना।
49 मेरे दु:खों के कारण मेरा बल कम न करना।
50 हे मेरे मन आनन्दित हो, और यहोवा की दोहाई दे, और कह, हे यहोवा, मैं तेरी स्तुति सदा करता रहूंगा; हे मेरे परमेश्वर, हे मेरे परमेश्वर, और मेरे उद्धार की चट्टान के कारण मेरा मन आनन्दित होगा।
51 हे यहोवा, क्या तू मेरे प्राण को छुड़ा लेगा?
52 क्या तू मुझे मेरे शत्रुओं के हाथ से छुड़ाएगा?
53 क्या तू मुझे ऐसा बना देगा कि मैं पाप का रूप देखकर कांप सकूं?
54 क्या मेरे साम्हने अधोलोक के फाटक सदा बन्द किए जाएं, क्योंकि मेरा मन टूट गया है, और मेरी आत्मा पक्की है?
55 हे यहोवा, क्या तू अपके धर्म के फाटकोंको मेरे साम्हने बन्द न करेगा, कि मैं तराई के मार्ग पर चलूं, कि मैं तराई के मार्ग में कठोर होऊं?
56 हे यहोवा, क्या तू अपके धर्म के वस्त्र पहिने हुए मुझे घेर लेगा?
57 हे यहोवा, क्या तू मेरे शत्रुओं के साम्हने मेरे बचने का मार्ग बनाएगा?
58 क्या तू मेरे साम्हने मेरा मार्ग सीधा करेगा?
59 क्या तू मेरे मार्ग में ठोकर का कारण नहीं खड़ा करेगा?
60 परन्तु इसलिथे कि तू मेरे साम्हने मेरा मार्ग खोल दे, और मेरे मार्ग को नहीं परन्तु मेरे शत्रु के मार्ग को बाड़े।
61 हे यहोवा, मैं ने तुझ पर भरोसा रखा है, और सदा तुझ पर भरोसा रखूंगा।
62 मैं मांस की भुजा पर भरोसा नहीं रखूंगा; क्योंकि मैं जानता हूं, कि शापित है वह, जो मांस की भुजा पर भरोसा रखता है।
63 हां, शापित है वह जो मनुष्य पर भरोसा रखता है, वा अपने हाथ को मांस बनाता है।
64 हां, मैं जानता हूं कि जो कोई मांगेगा उसे परमेश्वर उदारता से देगा ।
65 यदि मैं कुछ न मांगूं, तो मेरा परमेश्वर मुझे देगा; हां, हे मेरे परमेश्वर, मैं तेरी दोहाई दूंगा, हे मेरे परमेश्वर, मेरी धार्मिकता की चट्टान ।
66 देख, मेरा शब्द अपक्की अपक्की चट्टान, और मेरा अनन्तकाल का परमेश्वर, सदा अपके पास चढ़ता रहेगा। तथास्तु।

 

2 नफी, अध्याय 4
1 देखो, ऐसा हुआ कि मैं, नफी ने, अपने भाइयों के क्रोध के कारण, अपने परमेश्वर यहोवा की बहुत दुहाई दी ।
2 परन्तु देखो, उनका कोप मुझ पर भड़क उठा; इतना कि उन्होंने मेरी जान लेने की कोशिश की।
3 हां, उन्होंने यह कहकर मुझ पर बड़बड़ाया: हमारा छोटा भाई हम पर प्रभुता करने की सोचता है; और हम पर उसके कारण बहुत परीक्षा हुई है; इसलिए, अब हम उसे घात करें, कि उसके वचनों के कारण हमें और अधिक कष्ट न सहना पड़े ।
4 क्‍योंकि देखो, हम उसे अपना अधिपति न होने देंगे; क्‍योंकि इन लोगों पर प्रभुता करने के लिथे ज्येष्ठ भाई हमारा ही है।
5 अब मैं इन पट्टियों पर वे सब बातें नहीं लिखता, जो वे मुझ पर कुड़कुड़ाते थे।
6 परन्तु मेरे लिए इतना ही कहना काफ़ी है कि उन्होंने मेरे प्राण लेने का यत्न किया।
7 और ऐसा हुआ कि प्रभु ने मुझे चेतावनी दी, कि मैं, नफी, उनके पास से चला जाऊं, और निर्जन प्रदेश में भाग जाऊं, और वे सभी जो मेरे साथ जाएंगे ।
8 इसलिए, ऐसा हुआ कि मैं, नफी, अपने परिवार, और जोराम और उसके परिवार, और सैम, मेरे बड़े भाई, और उसके परिवार, और याकूब, और यूसुफ, मेरे छोटे भाइयों, और मेरी बहनों को भी ले गया, और वे सब जो मेरे साथ जाएंगे।
9 और जितने मेरे संग जाएंगे, वे सब परमेश्वर की चेतावनियोंऔर प्रकटोंपर विश्वास करने वाले थे; इसलिए, उन्होंने मेरी बातों पर ध्यान दिया ।
10 और हमने अपने तंबू और जो कुछ हमारे लिए संभव था, ले लिया, और बहुत दिनों तक निर्जन प्रदेश में यात्रा की ।
11 और बहुत दिन तक यात्रा करने के बाद, हम ने अपने तंबू लगाए।
12 और मेरे लोग चाहते थे कि हम उस स्थान का नाम नफी रखें; इसलिए, हमने इसे नफी कहा था ।
13 और वे सभी जो मेरे साथ थे, उन्होंने स्वयं को नफी के लोग कहने के लिए उन्हें ग्रहण किया ।
14 और हम ने सब बातोंमें मूसा की व्यवस्था के अनुसार नियमों, विधियों, और यहोवा की आज्ञाओं का पालन करने का पालन किया।
15 और यहोवा हमारे संग रहा; और हम ने बहुत उन्नति की: क्योंकि हम ने बीज बोया, और फिर बहुतायत से काटा।
16 और हम भेड़-बकरी, और गाय-बैल, और सब प्रकार के पशु चराने लगे।
17 और मैं, नफी, उन अभिलेखों को भी लाया था जो पीतल की पट्टियों पर खुदे हुए थे; और वह गोला वा कंकड़ भी जो मेरे पिता के लिथे यहोवा के हाथ से लिखा हुआ है, उसके अनुसार तैयार किया गया है।
18 और ऐसा हुआ कि हम अत्यधिक समृद्ध होने लगे, और प्रदेश में बहुत बढ़ गए ।
19 और मैं, नफी, ने लाबान की तलवार ली, और उसके तरीके के अनुसार कई तलवारें बनाईं, कहीं ऐसा न हो कि जो लोग अब लमनाई कहलाते हैं, वे हम पर आक्रमण करें और हमें नष्ट कर दें:
20 क्‍योंकि मैं ने उन से और अपके बालकोंसे, और जो मेरी प्रजा कहलाते हैं, उन से बैर को जान लिया है।
21 और मैं ने अपक्की प्रजा को भवन बनाना, और सब प्रकार की लकड़ी, और लोहे, और ताम्र, और पीतल, और स्टील, और सोना, और चान्दी, और बहुमूल्य अयस्कोंका काम करना सिखाया, जो प्रचुर मात्रा में थे।
22 और मैं, नफी, ने एक मंदिर का निर्माण किया; और मैं ने उसको सुलैमान के मन्दिर के समान बनाया, परन्तु वह इतनी बहुमूल्य वस्तुओं से न बनाया गया था।
23 क्योंकि वे देश में पाए जाने वाले न थे;
24 इसलिए, इसे सुलैमान के मंदिर के समान नहीं बनाया जा सका ।
25 परन्तु निर्माण की रीति सुलैमान के मन्दिर के समान थी; और उसकी कारीगरी बढ़िया से अधिक थी।
26 और ऐसा हुआ कि मैं, नफी, ने अपने लोगों को मेहनती बना दिया, और उनके हाथों से परिश्रम किया ।
27 और ऐसा हुआ कि वे चाहते थे कि मैं उनका राजा बनूं ।
28 परन्तु मैं, नफी, चाहता था कि उनका कोई राजा न हो; तौभी जो कुछ मेरे वश में था, उसके अनुसार मैं ने उनके लिथे किया।
29 और देखो, प्रभु के वे वचन मेरे भाइयों से पूरे हो गए थे, जो उसने उनके विषय में कहे थे, कि मैं उनका शासक और शिक्षक बनूं;
30 इसलिए, जब तक वे मेरे प्राण लेने का प्रयास नहीं करते, तब तक मैं प्रभु की आज्ञा के अनुसार उनका शासक और शिक्षक रहा।
31 इसलिए, प्रभु का वह वचन पूरा हुआ, जो उसने मुझ से कहा था: कि जब तक वे तेरी बातें न मानें, तब तक प्रभु के साम्हने से नाश किए जाएंगे ।
32 और देखो वे उसके साम्हने से नाश किए गए ।
33 और उसने उन पर शाप दिया था, हां, उनके अधर्म के कारण उन्हें घोर श्राप दिया था ।
34 क्योंकि देखो, उन्होंने उसके विरुद्ध अपने हृदय कठोर कर लिए थे, कि वे चकमक पत्थर के समान हो गए थे;
35 इसलिए, जब वे गोरे थे, और अति सुंदर और मनोहर थे, ताकि वे मेरी प्रजा के प्रति मोह में न पड़ें, प्रभु परमेश्वर ने उन पर एक काले रंग की खाल उतारी ।
36 और यहोवा परमेश्वर योंकहता है, कि वे अपके अधर्म के कामोंसे मन फिराएं, तो मैं तेरी प्रजा से उन से घृणा करूंगा।
37 और उसका वंश जो अपके वंश में मिलाए, शापित हो; क्योंकि वे उसी शाप से भी शापित होंगे।
38 और यहोवा ने कहा, और हो गया।
39 और उनके शाप के कारण, जो उन पर था, वे शरारत और चालाकी से भरे हुए एक बेकार लोग बन गए, और जंगल में शिकार के जानवरों की तलाश की ।
40 और यहोवा परमेश्वर ने मुझ से कहा, वे तेरे वंश के लिथे कोड़े का कारण होंगे, कि उन्हें मेरे स्मरण में उभारें;
41 और जब तक वे मुझे स्मरण न रखेंगे, और मेरी बातें नहीं मानेंगे, तब तक वे उन्हें नाश होने तक कोड़े से मारेंगे।
42 और ऐसा हुआ कि मैं, नफी ने, याकूब और यूसुफ को समर्पित किया, ताकि वे मेरे लोगों के प्रदेश के याजक और शिक्षक बनें ।
43 और ऐसा हुआ कि हम खुशी के ढंग के अनुसार जिए ।
44 और जब हम यरूशलेम से निकले तब से तीस वर्ष बीत चुके थे।
45 और मैं, नफी, ने अब तक अपनी पट्टियों पर अभिलेखों को रखा था, जिन्हें मैंने अपने लोगों से बनाया था ।
46 और ऐसा हुआ कि प्रभु परमेश्वर ने मुझसे कहा, अन्य पट्टियां बनाओ; और अपक्की प्रजा के लाभ के लिथे उन पर बहुत सी वस्तुएं जो मेरी दृष्टि में अच्छी हों, खुदवाना।
47 इसलिए, मैं, नफी, प्रभु की आज्ञाओं का पालन करने के लिए गया, और ये पट्टियां बनाईं जिन पर मैंने इन चीजों को खुदा है ।
48 और जो परमेश्वर को भाता है उसे मैं ने खुदा ।
49 और यदि मेरी प्रजा परमेश्वर की बातों से प्रसन्न होगी, तो वे मेरी खुदी हुई वस्तुओं से जो इन पट्टियों पर हैं, प्रसन्न होंगी।
50 और यदि मेरी प्रजा के लोग मेरी प्रजा के इतिहास के और अधिक विशेष भाग को जानना चाहते हैं, तो वे मेरी अन्य पट्टियों में खोज करें।
51 और मेरे लिए यह कहना काफ़ी है कि चालीस वर्ष बीत चुके थे, और हम अपने भाइयों के साथ युद्ध और विवाद कर चुके थे ।

 

2 नफी, अध्याय 5
1 नफी के भाई याकूब का वह वचन, जो उसने नफी के लोगों से कहा था ।
2 देखो, मेरे प्रिय भाइयों, मैं, याकूब, परमेश्वर की ओर से बुलाया गया है, और उसकी पवित्र व्यवस्था के अनुसार ठहराया गया है,
3 और मेरे भाई, नफी द्वारा, जिसे तुम राजा या रक्षक के रूप में देखते हो, और जिस पर तुम सुरक्षा के लिए निर्भर रहते हो, पवित्र किए जाने के बाद,
4 देखो, तुम जानते हो कि मैं ने तुम से बहुत सी बातें कही हैं;
5 तौभी मैं तुम से फिर बातें करता हूं; क्‍योंकि मैं तेरे प्राणों का भला चाहता हूं।
6 वरन मेरी चिन्ता तेरे लिथे बड़ी है; और तुम आप ही जानते हो, कि ऐसा कभी होता आया है।
7 क्‍योंकि मैं ने पूरी यत्न से तुझे उपदेश दिया है; और मैं ने अपके पिता की बातें तुझे सिखाई हैं;
8 और मैं ने तुम से उन सब बातोंके विषय में कहा है जो जगत की सृष्टि से लिखी हुई हैं ।
9 और अब, देखो, जो बातें हैं, और जो आनेवाली हैं, उनके विषय में मैं तुम से बातें करूंगा;
10 इसलिए, मैं तुम्हें यशायाह के वचन पढ़ूंगा।
11 और ये वे शब्द हैं जो मेरे भाई ने चाहा कि मैं तुम से कहूं ।
12 और मैं उन्हें तुम्हारे निमित्त तुम से कहता हूं, कि तुम सीखो और अपने परमेश्वर के नाम की महिमा करो।
13 और अब जो वचन मैं पढ़ूंगा, वे वही हैं, जो यशायाह ने इस्राएल के सारे घराने के विषय में कहीं;
14 इसलिए, वे तुम्हारे समान हो सकते हैं; क्योंकि तुम इस्राएल के घराने से हो।
15 और ऐसी बहुत सी बातें हैं जो यशायाह ने कही हैं, जिनकी तुलना तुम से की जा सकती है, क्योंकि तुम इस्राएल के घराने से हो।
16 और अब, ये शब्द हैं:
17 परमेश्वर यहोवा यों कहता है; देख, मैं अन्यजातियों पर हाथ उठाऊंगा, और प्रजा के लिथे अपना जलयान खड़ा करूंगा;
18 और वे तेरे पुत्रोंको अपक्की गोद में ले आएंगे, और तेरी बेटियां अपके कन्धे पर उठाई जाएंगी।
19 और राजा तेरे दूध पिलाने वाले पिता, और उनकी रानियां तेरी दूध पिलानेवाली माताएं होंगी;
20 वे पृय्वी की ओर मुंह करके तुझे दण्डवत करेंगे, और तेरे पांवोंकी धूल चाटेंगे;
21 और तू जान लेगा कि मैं यहोवा हूं; क्योंकि जो मेरी बाट जोहते हैं, वे लज्जित न होंगे।
22 और अब मैं, याकूब, इन वचनों के विषय में कुछ कहूंगा: क्योंकि देखो, यहोवा ने मुझे दिखाया है कि जो यरूशलेम में थे, जहां से हम आए थे, वे मारे गए और बंधुआई में ले गए हैं;
23 फिर भी, प्रभु ने मुझे दिखाया है कि उन्हें फिर से लौटना चाहिए ।
24 और उस ने मुझे यह भी दिखाया है, कि इस्राएल का पवित्र परमेश्वर यहोवा उन पर शरीर रूप में अपने आप को प्रगट करे;
25 और उसके प्रकट होने के बाद, जिस स्वर्गदूत ने मुझ से यह कहा था, उसके अनुसार वे उसे कोड़े और क्रूस पर चढ़ाएं।
26 और जब वे अपने हृदय कठोर कर लेंगे और इस्राएल के पवित्र के विरुद्ध अपनी गर्दनें कठोर कर लेंगे, तब देखो, इस्राएल के पवित्र का न्याय उन पर आ पड़ेगा।
27 और वह दिन आता है कि वे मारे जाएंगे और पीड़ित होंगे।
28 इसलिए, जब उन्हें इधर-उधर भगाया जाएगा, क्योंकि स्वर्गदूत इस प्रकार कहता है, बहुत से लोग शरीर में पीड़ित होंगे और नष्ट नहीं होंगे, विश्वासियों की प्रार्थनाओं के कारण, वे तितर-बितर हो जाएंगे, और मारे जाएंगे, और घृणा की जाएगी। ;
29 तौभी, यहोवा उन पर दया करेगा, कि जब वे अपके छुड़ानेवालेको पहिचानेंगे, तब अपके निज भाग में फिर से इकट्ठे हो जाएंगे।
30 और धन्य हैं वे अन्यजाति, जिनके विषय में भविष्यद्वक्ता ने लिखा है:
31 क्योंकि देखो, यदि ऐसा हो कि वे पश्चाताप करें और सिय्योन से न लड़ें, और अपने आप को उस महान और घृणित गिरजे में न मिलाएं, तो वे उद्धार पाएंगे:
32 क्योंकि यहोवा परमेश्वर अपक्की उन वाचाओं को पूरा करेगा जो उस ने अपक्की सन्तान से बान्धी हैं; और इस कारण भविष्यद्वक्ता ने ये बातें लिखी हैं।
33 इसलिथे जो सिय्योन और यहोवा की वाचा से लड़ने वाले हैं, वे अपके पांवोंकी धूल चाटेंगे;
34 और यहोवा की प्रजा लज्जित न होगी।
35 क्योंकि यहोवा की प्रजा वही हैं जो उसकी बाट जोहते हैं, क्योंकि वे अब भी मसीह के आने की बाट जोहते हैं।
36 और देखो, भविष्यद्वक्ता के वचनों के अनुसार, मसीह उन्हें फिर से छुड़ाने के लिथे दूसरी बार फिर खड़ा होगा;
37 इसलिए, जब वह उस पर विश्वास करेंगे, तब वह उनके शत्रुओं के विनाश के लिए स्वयं को उनके सामने सामर्थ और महान महिमा के साथ प्रकट करेगा;
38 और जो उस पर विश्वास करते हैं, उन्हें वह किसी को नाश न करेगा।
39 और जो उस पर विश्वास नहीं करेंगे, वे आग, और आंधी, और भूकम्प, और रक्तपात, और महामारी, और अकाल के द्वारा नष्ट किए जाएंगे।
40 और वे जान लेंगे कि यहोवा इस्राएल का पवित्र परमेश्वर परमेश्वर है:
41 क्‍योंकि क्या शूरवीरोंके हाथ से शिकार छीन लिया जाएगा, वा बन्धुआई से छुड़ाया जाएगा?
42 परन्तु यहोवा यों कहता है; यहां तक कि शूरवीरों के बंधुआ भी ले लिए जाएंगे, और भयानक का शिकार छुड़ाया जाएगा: क्योंकि पराक्रमी परमेश्वर अपनी वाचा के लोगों को छुड़ाएगा।
43 क्योंकि यहोवा योंकहता है, कि जो तुझ से झगड़ते हैं उन से मैं वाद विवाद करूंगा, और जो तुझ पर अन्धेर करते हैं उनको मैं उन्हीं के मांस से चराऊंगा;
44 और वे अपके ही लोहू से ऐसे मतवाले होंगे, मानो मीठे दाखमधु से हो;
45 और सब प्राणी जानेंगे कि मैं यहोवा तेरा उद्धारकर्ता और तेरा छुड़ानेवाला, याकूब का पराक्रमी हूं।
46 हां, क्योंकि यहोवा यों कहता है: क्या मैं ने तुझे दूर कर दिया है, या मैं ने तुझे सदा के लिए त्याग दिया है?
47 क्योंकि यहोवा यों कहता है, तेरी माता के त्यागपत्र का बिल कहां है?
48 मैं ने तुझे किस से दूर किया है, वा अपके किस लेनदार के हाथ मैं ने तुझे बेच दिया है?
49 हां, मैं ने तुम्हें किसके हाथ बेच दिया है?
50 देखो, तुम ने अपके अधर्म के कामोंके लिथे अपके आप को बेच डाला, और अपके अपराधोंके लिथे तेरी माता दूर की गई है;
51 इस कारण जब मैं आया, तो कोई मनुष्य न था; जब मैंने पुकारा, हाँ, उत्तर देने वाला कोई नहीं था।
52 हे इस्राएल के घराने, क्या मेरा हाथ इतना छोटा हो गया है कि वह छुड़ा नहीं सकता, वा मुझे छुड़ाने का अधिकार नहीं है?
53 देख, मैं अपक्की डांट से समुद्र को सुखा देता हूं, मैं उनकी नदियोंको जंगल और उनकी मछलियोंको दुर्गंध देता हूं, क्योंकि जल सूख गया है; और वे प्यास से मर जाते हैं।
54 मैं आकाश को अन्धकार से ओढ़ता हूं, और टाट को उनके ओढ़ने के लिए पहिनाता हूं।
55 यहोवा परमेश्वर ने मुझे ज्ञानियों की जीभ दी है, कि हे इस्राएल के घराने, मैं समय पर तुझ से कुछ कहना सीखूं।
56 जब तुम थके हुए होते हो, तो वह भोर को भोर को जागता है।
57 वह मेरे कान को ज्ञानी के समान सुनने के लिए जगाता है।
58 यहोवा परमेश्वर ने मेरा ध्यान ठहराया है, और मैं ने न तो बलवा किया, और न पीछे हट गया।
59 मैं ने अपनी पीठ मारनेवाले को, और अपके गाल बाल तोड़नेवालोंको दिए।
60 मैं ने लज्जा और थूकने से अपना मुंह न छिपाया, क्योंकि यहोवा परमेश्वर मेरी सहायता करेगा; इसलिथे मैं लज्जित न होऊंगा।
61 इस कारण मैं ने अपना मुंह चकमक पत्थर के समान किया है, और मैं जानता हूं, कि मैं लज्जित न होऊंगा; और यहोवा निकट है, और वह मुझे धर्मी ठहराता है।
62 कौन मुझ से झगड़ेगा?
63 आओ हम एक संग खड़े हों।
64 मेरा विरोधी कौन है?
65 वह मेरे निकट आए, और मैं उसे अपके मुंह के बल से मारूंगा; क्योंकि यहोवा परमेश्वर मेरी सहायता करेगा।
66 और जितने मुझे दोषी ठहराएंगे, वे सब वस्त्र की नाईं पुराने हो जाएंगे, और कीड़ा उनको खा जाएगा।
67 तुम में से कौन है जो यहोवा का भय मानता हो; जो अपके दास की बात मानता है; जो अन्धकार में चलता है, और उसके पास प्रकाश नहीं है?
68 देखो, तुम सब जो आग जलाते हैं, जो अपने आप को चिंगारियों से घेरते हैं, अपनी आग की रोशनी में, और उन चिंगारियों में चलते हैं जो तुमने जलाई हैं।
69 मेरे हाथ से यह तुम्हारे पास होगा: तुम शोक में लेट जाओगे।
70 हे धर्म के पीछे चलनेवालों, मेरी सुनो: उस चट्टान पर जहां से तुम खोदे गए हो, और उस गड़हे की ओर जहां से तुम खोदे गए हो, देखो।
71 अपके पिता इब्राहीम और सारा की ओर जो तुझे उत्पन्‍न करनेवाली है, उस पर दृष्टि कर; क्योंकि मैं ने उसे अकेला बुलाया, और उसे आशीष दी।
72 क्योंकि यहोवा सिय्योन को शान्ति देगा, वह उसके सब खण्डहरोंको शान्ति देगा;
73 और वह उसके जंगल को अदन के समान, और उसके जंगल को यहोवा की बारी के समान बना देगा।
74 उस में आनन्द और आनन्द, धन्यवाद, और माधुर्य का शब्द होगा।
75 हे मेरी प्रजा, मेरी सुनो; और हे मेरी जाति, मेरी ओर कान लगा;
76 क्‍योंकि मेरी ओर से व्‍यवस्‍था उत्‍पन्‍न होगी, और मैं लोगोंके लिथे उजियाला ठहराने का निर्णय करूंगा।
77 मेरा धर्म निकट है; मेरा उद्धार हुआ है, और मेरी भुजा प्रजा का न्याय करेगी।
78 टापू मेरी बाट जोहेंगे, और वे मेरी बांह पर भरोसा रखेंगे।
79 अपक्की आंखें आकाश की ओर उठा, और पृय्वी पर दृष्टि कर।
80 क्योंकि आकाश धूएं की नाईं मिट जाएगा, और पृय्वी वस्त्र की नाईं पुरानी हो जाएगी; और जो उस में बसेंगे, वे उसी रीति से मरेंगे।
81 परन्तु मेरा उद्धार सदा बना रहेगा; और मेरी धार्मिकता समाप्त न होगी।
82 हे धर्म के जानने वालों, जिन लोगों के मन में मैं ने अपनी व्यवस्था लिखी है, मेरी सुनो;
83 मनुष्यों की नामधराई से मत डरो; न उनकी निन्दा से डरना;
84 क्योंकि कीड़ा उन्हें वस्त्र की नाईं खा जाएगा, और कीड़ा उन्हें ऊन की नाईं खा जाएगा।
85 परन्तु मेरा धर्म सदा बना रहेगा; और पीढ़ी से पीढ़ी तक मेरा उद्धार।
86 जागो, जागो! हे यहोवा की भुजा बल पर रखो: प्राचीन दिनों की तरह जागो।
87 क्या तू ही नहीं जिस ने राहाब को घात किया, और अजगर को घायल किया है?
88 क्या तू वह नहीं जिसने समुद्र को, अर्यात् गहिरे जल को सुखा दिया है;
89 उस ने समुद्र की गहराइयों को छुड़ौती के पार जाने का मार्ग बना दिया है?
90 इसलिथे यहोवा के छुड़ाए हुए लोग लौटकर जयजयकार करते हुए सिय्योन में आएंगे; और उनके सिर पर सदा का आनन्द और पवित्रता बनी रहेगी;
91 और वे आनन्द और आनन्द प्राप्त करेंगे; शोक और शोक दूर हो जाएंगे।
92 मैं वह हूं; हां, मैं वह हूं जो तुम्हें दिलासा देता है:
93 देख, तू कौन है, कि तू मनुष्य से जो मर जाएगा, और मनुष्य के पुत्र से जो घास के समान हो जाएगा, डरेगा;
94 और अपके कर्ता यहोवा को भूल जा, जिस ने आकाश को तानकर पृय्वी की नेव डाली है;
95 और क्या वह हर दिन अन्धेर करनेवाले के जलजलाहट से ऐसा डरता है, मानो वह नाश करने को तैयार हो?
96 और ज़ुल्म करनेवाले का कोप कहाँ है?
97 बंधुआई फुर्ती करता है, कि वह छूट जाए, और वह गड़हे में न मरे, और न उसकी रोटी घटे।
98 परन्तु मैं तेरा परमेश्वर यहोवा हूं, जिसकी लहरें गरजती हैं: मेरा नाम सेनाओं का यहोवा है।
99 और मैं ने अपक्की बातें तेरे मुंह में डाल दी हैं, और अपके हाथ की छाया में तुझे ढांप लिया है, कि मैं आकाश को लगाऊं, और पृय्वी की नेव डालूं, और सिय्योन से कहूं, देख, तू मेरी प्रजा है।
100 हे यरूशलेम, जाग, जाग, उठ, जिस ने यहोवा के जलजलाहट के प्याले को पीया है;
101 तू ने थरथराते हुए प्याले का मैल पी लिया है;
102 और जितने पुत्र उत्पन्न हुए हैं उन सभोंमें उसका मार्गदर्शन करनेवाला कोई न था;
103 और उसके जितने पुत्र उत्पन्न हुए हैं उन सभोंमें से वह उसका हाथ न पकड़े।
104 ये दोनों पुत्र तेरे पास आए हैं; जो तुझ पर तरस खाएगा; तेरा उजाड़ और नाश, और अकाल और तलवार;
105 और मैं तुझे किसके द्वारा शान्ति दूं?
106 इन दोनों को छोड़ तेरे पुत्र मूर्छित हो गए हैं; वे सब चौकोंके सिरोंके साम्हने जंगल के बछड़े की नाईं जाल में पड़े रहते हैं; वे यहोवा के कोप और तेरे परमेश्वर की घुड़की से भरे हुए हैं।
107 सो अब यह सुनो, कि तुम दु:खी और मतवाले हो, पर दाखमधु के साथ नहीं।
108 तेरा यहोवा यों कहता है, यहोवा और तेरा परमेश्वर अपक्की प्रजा के लिथे वाद विवाद करते हैं:
109 देख, मैं ने अपके हाथ से थरथरानेवाला कटोरा, और अपके जलजलाहट के कटोरे का मैल तेरे हाथ से निकाल लिया है; तू इसे फिर कभी न पीना।
110 परन्‍तु मैं उसको तेरे दु:खियोंके वश में कर दूंगा; जिन्होंने तेरे प्राण से कहा है, झुक जा, कि हम पार जाएं।
111 और तू ने अपक्की देह को भूमि की नाईं, और उन के लिये सड़क की नाईं धर दिया है, जो उस पार जाते थे।
112 हे सिय्योन, जाग, जाग, अपना बल पहिन ले; हे पवित्र नगर, हे यरूशलेम, अपके सुन्दर वस्त्र पहिन ले।
113 क्‍योंकि अब से खतनारहित और अशुद्ध, तेरे पास फिर कभी न आने पाएगा।
114 अपने आप को मिट्टी में से हिलाओ; हे यरूशलेम, उठ, बैठ, हे सिय्योन की बन्धुवाई, अपक्की गर्दन की बन्धन से मुक्त हो।

 

2 नफी, अध्याय 6
1 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, मैंने इन बातों को पढ़ा है कि तुम प्रभु की वाचाओं के विषय में जान सको; कि उस ने इस्राएल के घराने से वाचा बान्धी है;
2 यह कि उस ने अपने पवित्र भविष्यद्वक्ताओं के द्वारा आदि से ले कर पीढ़ी-दर-पीढ़ी यहूदियों से बातें कीं, जब तक कि वे परमेश्वर की सच्ची कलीसिया और गढ़ में फिर से न आ जाएं;
3 जब वे अपके अपके निज भाग के देश में जाकर बस जाएं, और अपके सब प्रतिज्ञा के देश में स्थिर किए जाएं।
4 देखो, मेरे प्रिय भाइयों, मैं तुम से ये बातें इसलिये कहता हूं, कि तुम आनन्दित रहो, और अपने सिर सदा के लिए ऊंचा करो, क्योंकि उन आशीषों के कारण जो यहोवा परमेश्वर तुम्हारे बच्चों को देगा।
5 क्योंकि मैं जानता हूं, कि तुम में से बहुतों ने आनेवाली बातों को जानने के लिथे बहुत कुछ खोजा है;
6 इसलिए मैं जानता हूं कि तुम जानते हो कि हमारा शरीर नाश होकर मर जाएगा;
7 तौभी हम अपने शरीर में परमेश्वर को देखेंगे।
8 हां, मैं जानता हूं कि तुम जानते हो, कि वह देह के द्वारा अपने आप को उन लोगों पर प्रकट करेगा जो यरूशलेम में जहां से हम आए हैं;
9 क्योंकि यह समीचीन है कि वह उनके बीच में रहे;
10 क्योंकि महान सृष्टिकर्ता का यह काम है कि वह शरीर में मनुष्य के अधीन हो जाए, और सब मनुष्यों के आधीन हो जाए, कि सब मनुष्य उसके अधीन हो जाएं।
11 क्योंकि जैसे मृत्यु सब मनुष्यों पर हो गई है, वैसे ही महान सृष्टिकर्ता की दयालु योजना को पूरा करने के लिए पुनरुत्थान की शक्ति की आवश्यकता होगी,
12 और पतन के कारण मनुष्य का पुनरुत्थान अवश्य ही आना चाहिए;
13 और अपराध के कारण गिर पड़ा;
14 और मनुष्य के गिर जाने के कारण वे यहोवा के साम्हने से नाश किए गए;
15 इसलिए, इसे अनंत प्रायश्चित की आवश्यकता होगी;
16 सिवाय इसके कि यह एक अनंत प्रायश्चित होना चाहिए, यह भ्रष्टाचार अविनाशी नहीं हो सकता।
17 इसलिए, पहला न्याय जो मनुष्य पर आया, उसकी आवश्यकता अनंत काल तक बनी रहनी चाहिए।
18 और यदि ऐसा है, तो यह मांस सड़ने के लिए पड़ा होगा, और अपनी धरती माता के पास उखड़ जाएगा, ताकि फिर कभी न उठे।
19 हे परमेश्वर की बुद्धि! उसकी दया और कृपा!
20 क्योंकि देखो, यदि शरीर फिर न उठे, तो हमारी आत्माएं उस दूत के आधीन हो जाएंगी, जो अनन्त परमेश्वर के साम्हने से गिर गया, और शैतान बन गया, कि फिर न जी उठे।
21 और हमारी आत्माएं उसके समान हो गई होंगी, और हम दुष्टात्मा, और शैतान के दूत हो जाएंगे, कि अपके परमेश्वर के साम्हने से दूर रहें, और अपके ही समान दुख में झूठ के पिता के पास रहें;
22 हां, उस प्राणी को जिसने हमारे पहिले माता-पिता को बहकाया;
23 वह अपने आप को ज्योति के दूत के रूप में बदल लेता है, और मानव संतानों को हत्या के गुप्त संयोजनों, और अंधेरे के सभी प्रकार के गुप्त कार्यों के लिए उभारता है।
24 हे हमारे परमेश्वर की भलाई कितनी बड़ी है, जो इस भयानक राक्षस के हाथ से हमारे बचने का मार्ग तैयार करता है;
25 हां, वह राक्षस, मृत्यु और नरक, जिसे मैं शरीर की मृत्यु और आत्मा की मृत्यु भी कहता हूं ।
26 और हमारे परमेश्वर इस्राएल के पवित्र के छुटकारे के मार्ग के कारण, यह मृत्यु, जिसके विषय में मैं ने कहा है, जो लौकिक है, अपके मरे हुओं को, जो मृत्यु कब्र है, छुड़ा लेगी।
27 और यह मृत्यु जिसके विषय में मैं ने कहा है, जो आत्मिक मृत्यु है, वह अपके मुर्दे को छुड़ा लेगी; कौन सी आध्यात्मिक मृत्यु नरक है;
28 इस कारण मृत्यु और अधोलोक को उनके मरे हुओं को वश में करना होगा, और अधोलोक को अपनी बंधुआई में आत्माओं को छुड़ाना होगा,
29 और कब्र अपक्की बंधी हुई लोथों को सौंप दे, और मनुष्य के शरीर और आत्मा एक दूसरे को फेर दिए जाएंगे;
30 और यह इस्राएल के पवित्र के जी उठने की शक्ति से है।
31 हे हमारे परमेश्वर की युक्ति क्या ही बड़ी है! क्‍योंकि दूसरी ओर, परमेश्वर के स्‍वर्ग में धर्मियों की आत्माओं को, और कब्र को धर्मियों के शरीरों को छुड़ाना होगा;
32 और आत्मा और शरीर फिर से अपने आप में बहाल हो जाते हैं, और सभी मनुष्य अविनाशी, और अमर हो जाते हैं, और वे जीवित प्राणी हैं, जिनके पास शरीर में हमारे समान सिद्ध ज्ञान है;
33 ऐसा न हो कि हमारा ज्ञान सिद्ध हो जाए;
34 इसलिए, हमें अपने सारे अपराध, और अपनी अशुद्धता, और अपनी नग्नता का पूर्ण ज्ञान होगा;
35 और धर्मी लोग पवित्रता से पहिने हुए, हां, धार्मिकता के बागे के साथ अपने आनंद और अपनी धार्मिकता का पूर्ण ज्ञान रखेंगे ।
36 और ऐसा होगा, कि जब सब मनुष्य इस पहिली मृत्यु से पार होकर जीवित हो जाएंगे, यहां तक कि वे अमर हो जाएंगे, तब वे इस्राएल के पवित्र के न्याय आसन के साम्हने हाजिर हों;
37 और फिर न्याय आता है; और तब उनका न्याय परमेश्वर के पवित्र न्याय के अनुसार होना चाहिए।
38 और निश्चय यहोवा के जीवन की शपथ, क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने यह कहा है, और यह उसका शाश्वत वचन है, जो टल नहीं सकता, कि जो धर्मी हैं वे धर्मी बने रहेंगे, और जो मलिन हैं वे अशुद्ध बने रहेंगे;
39 इसलिए, जो गंदे हैं वे शैतान और उसके दूत हैं;
40 और वे उनके लिथे तैयार होकर सदा की आग में चले जाएंगे; और उनकी पीड़ा आग और गन्धक की झील के समान है, जिसकी लपटें युगानुयुग ऊपर उठती रहती हैं; और उसका कोई अंत नहीं है।
41 हे हमारे परमेश्वर की महानता और न्याय! क्‍योंकि वह अपके सब वचनों को पूरा करता है, और वे उसके मुंह से निकली हैं, और उसकी व्‍यवस्‍था अवश्य पूरी होगी।
42 परन्तु देखो, इस्राएल के पवित्र के धर्मी, पवित्र लोग, जो इस्राएल के पवित्र पर विश्वास करते हैं; जिन्होंने जगत के क्रूसों को सह लिया, और उस की लज्जा को तुच्छ जाना; वे परमेश्वर के राज्य के वारिस होंगे, जो जगत की उत्पत्ति से उनके लिये तैयार किया गया था; और उनका आनन्द युगानुयुग बना रहेगा।
43 हे हमारे परमेश्वर, इस्राएल के पवित्र की दया की महानता! क्योंकि वह अपने संतों को उस भयानक राक्षस शैतान, और मृत्यु, और नरक, और आग और गंधक की उस झील से बचाता है, जो अंतहीन पीड़ा है।
44 हे हमारे परमेश्वर की पवित्रता कितनी महान है! क्योंकि वह सब कुछ जानता है, और कुछ भी नहीं जानता, सिवाय इसके कि वह जानता है।
45 और वह जगत में इसलिये आता है, कि यदि वे उसकी सुनें, तो सब मनुष्योंका उद्धार करें;
46 क्योंकि देखो, वह सब मनुष्यों की पीड़ा भोगता है, वरन आदम के घराने के क्या पुरुष क्या क्या स्त्री क्या बच्चे क्या सब जीवित प्राणियोंकी पीड़ा भोगते हैं ।
47 और वह यह सहता है, कि पुनरुत्थान सब मनुष्योंमें हो जाए, कि सब बड़े और न्याय के दिन उसके साम्हने खड़े हों।
48 और वह सब मनुष्योंको आज्ञा देता है, कि वे मन फिराएं, और इस्राएल के पवित्र पर पूरा विश्वास रखते हुए उसके नाम से बपतिस्मा लें, नहीं तो परमेश्वर के राज्य में उनका उद्धार नहीं हो सकता।
49 और यदि वे मन फिराकर उसके नाम पर विश्वास न करें, और उसके नाम से बपतिस्मा लें, और अन्त तक धीरज धरें, तो वे शापित होंगे;
50 क्योंकि इस्राएल के पवित्र परमेश्वर यहोवा ने यह कहा है;
51 इसलिथे उस ने व्यवस्या दी है; और जहां कोई कानून नहीं दिया गया है वहां कोई दंड नहीं है;
52 और जहां दण्ड नहीं, वहां दण्ड नहीं;
53 और जहां दण्ड की आज्ञा नहीं, वहां प्रायश्चित्त के कारण इस्राएल के पवित्र की करूणा उन पर होती है:
54 क्योंकि वे उसके वश से छुड़ाए गए हैं, क्योंकि प्रायश्चित्त उसके न्याय की मांग को उन सभोंको पूरा करता है, जिन को व्यवस्था नहीं दी गई है, कि वे उस भयानक राक्षस, मृत्यु और नरक, और शैतान से छुड़ाए गए हैं, और आग और गंधक की झील, जो अंतहीन पीड़ा है;
55 और जिस परमेश्वर ने उन्हें श्वास दी, जो इस्राएल का पवित्र है, उस परमेश्वर के पास वे फिर मिल गए।
56 परन्तु हाय उस पर जिसके पास व्यवस्था है; हां, जिसके पास हमारे समान परमेश्वर की सारी आज्ञाएं हैं, और जो उनका उल्लंघन करता है, और जो उसकी परिवीक्षा के दिनों को बर्बाद करता है; क्योंकि उसकी दशा भयानक है!
57 हे दुष्ट की वह धूर्त युक्ति!
58 हे व्यर्थता, और निर्बलताओं, और मनुष्यों की मूर्खता!
59 जब वे सीखे हुए होते हैं, तो समझते हैं कि हम बुद्धिमान हैं, और उन्होंने परमेश्वर की सम्मति को नहीं माना, क्योंकि उन्होंने अपने आप को जानकर उसे टाल दिया;
60 इस कारण उनकी बुद्धि मूढ़ता है, और इससे उन्हें कुछ लाभ नहीं। और वे नाश हो जाएंगे।
61 परन्तु यदि वे परमेश्वर की युक्‍तियों को मानें, तो सीखा जाना अच्छा है।
62 परन्तु धनवानों पर हाय, जो जगत के धनी हैं।
63 क्योंकि वे धनी हैं, वे कंगालों को तुच्छ जानते हैं, और दीनों को सताते हैं, और उनका मन उनके भण्डार पर लगा रहता है; इस कारण उनका धन उनका परमेश्वर है।
64 और देखो, उनके साथ उनका धन भी नष्ट हो जाएगा।
65 और उन बहरों पर हाय जो न सुनेंगे, क्योंकि वे नाश हो जाएंगे।
66 धिक्कार है अन्धों पर, जो नहीं देखेंगे; क्योंकि वे भी नाश होंगे।
67 धिक्कार है मन के खतनारहितों पर; क्योंकि अन्तिम दिन उनके अधर्म के कामों का ज्ञान होने पर वे उन्हें मारेंगे।
68 धिक्कार है उस झूठे पर, क्योंकि वह अधोलोक में डाला जाएगा।
69 धिक्कार है उस हत्यारे पर, जो जान-बूझकर हत्या करता है, क्योंकि वह मर जाएगा।
70 धिक्कार है उन पर जो व्यभिचार करते हैं, क्योंकि वे नरक में डाले जाएंगे।
71 हां, उन पर हाय, जो मूरतों को पूजते हैं, क्योंकि सब दुष्टात्माओं का शैतान उन से प्रसन्न होता है।
72 और उन सब पर जो अपके पापोंके कारण मर जाते हैं, उन पर हाय; क्योंकि वे परमेश्वर के पास फिरेंगे, और उसका दर्शन करेंगे, और अपके पापोंमें बने रहेंगे।
73 हे मेरे प्यारे भाइयों, उस पवित्र परमेश्वर के विरुद्ध उल्लंघन करने में भयानकता को याद करो, और उस चालाक के प्रलोभनों के आगे झुकने की भयावहता को भी याद करो।
74 स्मरण रहे, देह पर मन लगाना, मृत्यु है, और आत्मिक मन होना, अनन्त जीवन है।
75 हे मेरे प्रिय भाइयो, मेरी बातों पर कान लगा।
76 इस्राएल के पवित्र की महानता को स्मरण करो।
77 यह न कहना कि मैं ने तेरे विरुद्ध कठोर बातें कहीं; क्‍योंकि यदि तुम ऐसा करते हो, तो सत्‍य की निन्दा करोगे; क्‍योंकि मैं ने तेरे कर्त्ता की बातें कही हैं।
78 मैं जानता हूं, कि सत्य की बातें सब प्रकार की अशुद्धता पर कठोर होती हैं; परन्तु धर्मी उन से नहीं डरते, क्योंकि वे सत्य से प्रीति रखते हैं, और हिलाए नहीं जाते।
79 हे मेरे प्रिय भाइयों, यहोवा के पास आओ, जो पवित्र है।
80 स्मरण रहे कि उसके मार्ग धर्म के हैं।
81 देखो, मनुष्य का मार्ग संकरा है, परन्तु वह उसके साम्हने सीधा पड़ा है, और फाटक का रक्षक इस्राएल का पवित्र है; और वह वहां कोई दास नहीं रखता;
82 और और कोई मार्ग नहीं, केवल फाटक के पास, क्योंकि वह धोखा नहीं खा सकता; क्योंकि उसका नाम यहोवा परमेश्वर है।
83 और जो कोई उसके लिये खटखटाएगा, वह उसे खोलेगा; और बुद्धिमान, और विद्वान, और वे जो धनी हैं, जो अपनी विद्या, और अपनी बुद्धि, और अपने धन के कारण फूले हुए हैं; हां, वे वे हैं, जिन्हें वह तुच्छ जानता है;
84 और यदि वे इन वस्तुओं को फेंक दें, और परमेश्वर के साम्हने अपने आप को मूर्ख समझें, और दीनता की गहराइयोंमें उतरें, तो वह उनके लिये कुछ न खोलेगा।
85 परन्तु ज्ञानियों और बुद्धिमानों की बातें उन से युगानुयुग छिपी रहेंगी; हाँ, वह सुख जो संतों के लिए तैयार किया जाता है।
86 हे मेरे प्रिय भाइयों, मेरे वचनों को स्मरण रखो: देख, मैं अपके वस्त्र उतारकर तेरे साम्हने हिलाता हूं।
87 मैं अपने उद्धारकर्ता परमेश्वर से प्रार्यना करता हूं, कि वह मुझे अपनी पूरी खोजी आंख से देखे;
88 इस कारण तुम अंतिम दिन में जानोगे, जब सब मनुष्यों का उनके कामों के अनुसार न्याय किया जाएगा, कि इस्राएल के परमेश्वर ने साक्षी दी है कि मैं ने तुम्हारे अधर्म के कामों को अपने प्राण से दूर कर दिया, और मैं उसके साम्हने तेज के साथ खड़ा हूं, और उस से छुटकारा पा गया हूं। तुम्हारा खून।
89 हे मेरे प्रिय भाइयों, अपने पापों से दूर हो जाओ; उस की जंजीरें तोड़ देना, जो तुझे तेजी से बांधे;
90 उस परमेश्वर के पास आओ जो तुम्हारे उद्धार की चट्टान है।
91 अपने प्राणों को उस महिमामय दिन के लिये तैयार करो, जब धर्मियों का न्याय किया जाएगा; यहाँ तक कि न्याय के दिन भी, कि तुम भयानक भय से न सिकुड़ो;
92 ताकि तुम अपने भयानक अपराध को पूर्णता में याद न रखना, और यह कहने के लिए विवश हो, हे सर्वशक्तिमान यहोवा, पवित्र, पवित्र तेरे निर्णय हैं।
93 परन्‍तु मैं अपके दोष को जानता हूं; मैं ने तेरी व्यवस्था का उल्लंघन किया, और मेरे अपराध मेरे हैं; और शैतान ने मुझे पकड़ लिया है, कि मैं उसके भयानक दुख का शिकार हूं।
94 परन्तु देखो, मेरे भाइयों, क्या यह उचित है कि मैं तुम्हें इन बातों की भयानक सच्चाई से अवगत कराऊं?
95 यदि तेरी बुद्धि शुद्ध होती, तो क्या मैं तेरे प्राणोंको कष्ट देता?
96 यदि तुम पाप से मुक्त हो गए, तो क्या मैं तुम से सत्य की सच्चाई के अनुसार स्पष्ट कहूं?
97 देखो, यदि तुम पवित्र होते, तो मैं तुम से पवित्रता की बातें कहता; परन्तु जैसा कि तुम पवित्र नहीं हो, और मुझे एक शिक्षक के रूप में देखते हो, यह उचित होगा कि मैं तुम्हें पाप के परिणामों की शिक्षा दूं।
98 देख, मेरा मन पाप से घृणा करता है, और मेरा मन धर्म से प्रसन्न होता है; और मैं अपके परमेश्वर के पवित्र नाम की स्तुति करूंगा।
99 हे मेरे भाइयों, जो कोई प्यासा हो, जल के पास आओ; और जिसके पास रूपया न हो, आकर मोल ले, और खा; हाँ, आओ बिना पैसे और बिना दाम के दाखमधु और दूध मोल लो।
100 इसलिए, उस के लिए पैसा खर्च न करें जो किसी मूल्य का नहीं है, और न ही अपने श्रम को उसके लिए जो संतुष्ट नहीं कर सकता है।
101 मेरी बात मन से सुनो, और जो बातें मैं ने कही हैं उन्हें स्मरण रखो; और इस्राएल के पवित्र के पास आओ,
102 और उस पर भोज करो जो नाश न हो, और न बिगाड़ा जा सके, और अपके मन को मोटापे से आनन्दित होने दो।
103 देख, मेरे प्रिय भाइयो, अपने परमेश्वर के वचनों को स्मरण कर; दिन में नित्य उस से प्रार्थना करना, और रात को उसके पवित्र नाम का धन्यवाद करना।
104 तुम्हारे मन आनन्दित हों, और देखो, यहोवा की वाचाएं कितनी बड़ी हैं, और मनुष्योंके प्रति उसकी कितनी बड़ी कृपा है;
105 और अपनी महानता, और अपने अनुग्रह और दया के कारण, उस ने हम से प्रतिज्ञा की है, कि हमारा वंश शरीर के अनुसार पूरी रीति से नाश न होगा, परन्तु यह कि वह उनकी रक्षा करेगा; और आनेवाली पीढ़ी में वे इस्राएल के घराने के लिथे धर्मी डाली ठहरेंगे।
106 और अब, हे मेरे भाइयों, मैं तुम से और बातें करूंगा; परन्तु अपनी शेष बातें मैं कल तुम्हें बताऊंगा। तथास्तु।

 

2 नफी, अध्याय 7
1 और अब मैं, याकूब, मेरे प्रिय भाइयों, उस धर्मी शाखा के विषय में, जिसके विषय में मैं ने कहा है, फिर से तुम से बातें करता हूं।
2 क्योंकि देखो, जिन प्रतिज्ञाओं को हम ने प्राप्त किया है, वे शरीर के अनुसार हमसे की गई प्रतिज्ञाएं हैं;
3 इसलिए, जैसा कि मुझे दिखाया गया है कि अविश्वास के कारण हमारे बहुत से बच्चे शरीर में नाश हो जाएंगे, फिर भी परमेश्वर बहुतों पर दया करेगा;
4 और हमारी सन्तान फेर दी जाएगी, कि वे उसके पास आ सकें, जो उन्हें अपके छुड़ानेवालेका सच्चा ज्ञान दे।
5 इसलिए, जैसा कि मैंने तुमसे कहा था, यह समीचीन होगा कि मसीह (पिछली रात में स्वर्गदूत ने मुझसे कहा कि यह उसका नाम होना चाहिए) यहूदियों के बीच, उन लोगों के बीच आना चाहिए जो अधिक दुष्ट हैं दुनिया;
6 और वे उसे क्रूस पर चढ़ाएंगे, क्योंकि यह हमारे परमेश्वर का व्यवहार है;
7 और पृय्वी पर और कोई जाति नहीं जो अपके परमेश्वर को क्रूस पर चढ़ाए।
8 क्‍योंकि यदि पराए जातियोंमें सामर्थ के आश्‍चर्य दिखाए जाते हैं, तो वे मन फिराएंगे, और जान लेंगे कि वही उनका परमेश्वर है;
9 परन्तु याजक के कामों और अधर्म के कामोंके कारण वे यरूशलेम में उसके विरुद्ध हठ करेंगे, कि वह क्रूस पर चढ़ाया जाए।
10 इस कारण उनके अधर्म के कामों के कारण उन पर विनाश, अकाल, महामारी और रक्तपात होगा;
11 और जो नाश न होंगे, वे सब जातियोंमें तित्तर बित्तर किए जाएंगे।
12 लेकिन देखो, प्रभु परमेश्वर यों कहता है: जब वह दिन आएगा कि वे मुझ पर विश्वास करेंगे, कि मैं मसीह हूं, तब मैंने उनके पूर्वजों के साथ वाचा बांधी है, कि वे शरीर में, पृथ्वी पर, प्रदेशों में फिर से स्थापित किए जाएंगे। उनकी विरासत का।
13 और ऐसा होगा कि वे समुद्र के द्वीपों से, और पृथ्वी के चारों भागों से अपने लंबे फैलाव से एकत्रित किए जाएंगे;
14 और अन्यजातियोंकी जातियां मेरी दृष्टि में बड़ी होंगी, परमेश्वर की यह वाणी है, कि उन्हें अपके निज भाग के देश में पहुंचा दे।
15 वरन अन्यजातियों के राजा उनके पिता ठहरेंगे, और उनकी रानियां दूध पिलाने वाली माताएं होंगी;
16 इसलिथे यहोवा की प्रतिज्ञाएं अन्यजातियोंके लिथे बड़ी हैं, क्योंकि उस ने कहा है, और कौन विवाद कर सकता है?
17 परन्तु देखो, परमेश्वर की यह वाणी है, यह देश तेरे निज भाग का देश होगा; और अन्यजातियों को देश पर आशीष दी जाएगी।
18 और यह देश अन्यजातियोंके लिथे स्वतन्त्र हो जाएगा; और उस देश पर कोई राजा न होगा, जो अन्यजातियोंके लिथे जिलाए।
19 और मैं इस देश को और सब जातियोंके साम्हने दृढ़ करूंगा;
20 और जो सिय्योन से लड़े, वह नाश हो जाएगा, परमेश्वर की यही वाणी है; क्योंकि जो कोई मेरे विरुद्ध राजा खड़ा करेगा, वह नाश हो जाएगा।
21 क्योंकि मैं यहोवा, स्वर्ग का राजा, उनका राजा रहूंगा; और जो मेरी बातें सुनते हैं, उनके लिये मैं सदा उजियाला बना रहूंगा।
22 इसलिए, इस कारण से, कि मेरी वाचाएं पूरी हों, जो मैंने मानव संतानों से की हैं, कि मैं उनके शरीर में रहते हुए उनके साथ करूंगा, मुझे अंधेरे और हत्याओं के गुप्त कार्यों को नष्ट करने की आवश्यकता है , और घृणा की;
23 इसलिए, जो यहूदी और अन्यजातियों, दोनों बंधुआ और स्वतंत्र, क्या नर और नारी दोनों सिय्योन से लड़ेगा, नाश हो जाएगा:
24 क्योंकि वे ही सारी पृय्वी की वेश्या हैं;
25 क्योंकि जो मेरे पक्ष में नहीं हैं, वे मेरे विरुद्ध हैं, हमारे परमेश्वर की यही वाणी है।
26 क्योंकि मैं ने अपनी उन प्रतिज्ञाओं को पूरा करूंगा, जो मैं ने मनुष्योंसे की हैं, कि जब तक वे शरीर में हैं, तब तक उन से पूरी करूंगा।
27 इसलिए, मेरे प्रिय भाइयों, हमारा परमेश्वर यों कहता है: मैं तुम्हारे वंश को अन्यजातियों के द्वारा दु:ख दूंगा;
28 तौभी मैं अन्यजातियों के मन को नरम करूंगा, कि वे उनके पिता के समान ठहरेंगे;
29 इस कारण अन्यजाति आशीष पाएंगे और इस्राएल के घराने में गिने जाएंगे ।
30 इसलिथे मैं इस देश को तेरे वंश के लिथे, और जो तेरे वंश में गिने जाएंगे, अपके निज भाग के देश के लिथे सदा के लिथे पवित्र करूंगा;
31 क्योंकि वह सब देशों से बढ़कर उत्तम देश है, परमेश्वर मुझ से कहता है;
32 इसलिथे उस में रहनेवाले सब पुरूष मेरे लिथे होंगे, कि वे मेरी उपासना करें, परमेश्वर की यही वाणी है।
33 और अब, मेरे प्रिय भाइयो, यह देखकर कि हमारे दयालु परमेश्वर ने हमें इन बातों के विषय में इतना बड़ा ज्ञान दिया है, हम उसे स्मरण करें, और अपने पापों को त्याग दें, और अपना सिर न झुकाएं, क्योंकि हम त्यागे नहीं गए हैं;
34 तौभी हम अपके निज भाग के देश से निकाल दिए गए हैं; लेकिन हमें एक बेहतर भूमि पर ले जाया गया है:
35 क्योंकि यहोवा ने समुद्र को हमारा मार्ग बनाया है, और हम समुद्र के एक टापू पर हैं।
36 परन्तु यहोवा की प्रतिज्ञाएं समुद्र के द्वीपों के लोगों से बड़ी हैं;
37 इसलिए, जैसा कि द्वीपों में कहा गया है, इस से अधिक की आवश्यकता होगी; और उनमें हमारे भाई भी बसे हुए हैं।
38 क्योंकि देखो, यहोवा परमेश्वर समय-समय पर अपनी इच्छा और इच्छा के अनुसार इस्राएल के घराने से दूर ले गया है।
39 और अब, देखो, यहोवा उन सभोंको स्मरण करता है जो टूट गए हैं; इसलिए, वह हमें भी याद करता है।
40 इसलिथे अपके मन को आनन्‍दित करो, और स्‍मरण रखो, कि तुम अपके लिथे काम करने को स्‍वतंत्र हो; अनन्त मृत्यु का मार्ग, या अनन्त जीवन का मार्ग चुनने के लिए।
41 इसलिए, मेरे प्रिय भाइयों, अपने आप को परमेश्वर की इच्छा से मेल कर लो, न कि शैतान और मांस की इच्छा से;
42 और परमेश्वर से मेल मिलाप करने के बाद स्मरण रखना, कि केवल परमेश्वर के अनुग्रह में ही और उसके द्वारा ही तुम्हारा उद्धार हुआ है।
43 इसलिए, परमेश्वर तुम्हें मृत्यु से, पुनरुत्थान की शक्ति से, और हमेशा की मृत्यु से भी, प्रायश्चित की शक्ति से जिला सकता है,
44 कि तुम परमेश्वर के अनन्त राज्य में ग्रहण किए जाओ, कि परमेश्वर के अनुग्रह से उसकी स्तुति करो। तथास्तु।

 

2 नफी, अध्याय 8
1 उस समय याकूब ने मेरी प्रजा से और भी बहुत सी बातें कहीं; तौभी मैं ने केवल इन्हीं बातों को लिखा है; क्योंकि जो बातें मैं ने लिखी हैं, वे मेरे लिये काफ़ी हैं।
2 और अब मैं, नफी, यशायाह के शब्दों को और लिखता हूं; क्योंकि मेरी आत्मा उसके वचनों से प्रसन्न होती है।
3 क्योंकि मैं उसकी बातें अपक्की प्रजा के साम्हने करूंगा; और मैं उन्हें अपके सब बालकोंके लिथे भेजूंगा; क्योंकि उस ने मेरे छुड़ानेवालेको ठीक वैसे ही देखा, जैसे मैं ने उसको देखा है।
4 और मेरे भाई याकूब ने भी उसे वैसा ही देखा है जैसा मैं ने उसे देखा है; इसलिए, मैं उनके शब्दों को अपने बच्चों को भेजूंगा, ताकि उन्हें यह साबित कर सकूं कि मेरे शब्द सत्य हैं ।
5 इसलिए, परमेश्वर ने तीन बातों के द्वारा कहा है, मैं अपना वचन दृढ़ करूंगा ।
6 तौभी परमेश्वर और गवाह भेजता है; और वह अपके सब वचन सिद्ध करता है।
7 देखो, मेरी आत्मा अपने लोगों को मसीह के आने की सच्चाई को साबित करने में प्रसन्न है:
8 क्योंकि मूसा की व्यवस्था इसी के लिये दी गई है:
9 और जो कुछ परमेश्वर की ओर से जगत के आरम्भ से मनुष्य को दिया गया है, वह उसी का प्रतीक है।
10 और यहोवा की उन वाचाओं से भी जो उस ने हमारे पुरखाओं से बान्धी हैं, मेरा मन प्रसन्न है;
11 हां, मेरी आत्मा उसके अनुग्रह, और उसके न्याय, और शक्ति, और दया से, मृत्यु से छुटकारे की महान और अनन्त योजना से प्रसन्न है ।
12 और मेरा प्राण अपके लोगोंके साम्हने यह प्रमाणित करके प्रसन्न होता है, कि मसीह के सिवाय सब मनुष्य नाश हो जाएं।
13 क्‍योंकि यदि मसीह न होता, तो परमेश्वर न होता; और यदि परमेश्वर नहीं होता, तो हम नहीं होते, क्योंकि कोई सृष्टि नहीं हो सकती थी।
14 परन्तु एक परमेश्वर है, और वह मसीह है; और वह अपने समय की परिपूर्णता में आता है।
15 और अब मैं यशायाह के कुछ वचन लिखता हूं, कि जो कोई मेरी प्रजा में से इन वचनोंको देखे, वह अपना मन ऊंचा करे, और सब मनुष्योंके लिथे आनन्द करे।
16 अब, ये वचन हैं; और तुम उन्हें अपके, और सब मनुष्योंसे समान कर सकते हो।
17 यह बात जो आमोस के पुत्र यशायाह ने यहूदा और यरूशलेम के विषय में देखी,
18 और अन्त के दिनों में जब यहोवा के भवन का पर्वत सब पहाड़ों पर दृढ़ किया जाएगा, और उस पहाड़ से ऊंचा किया जाएगा, और सब जातियां उस की ओर बहेंगी,
19 और बहुत से लोग जाकर कहेंगे, आ, और हम यहोवा के पर्वत पर चढ़कर याकूब के परमेश्वर के भवन को जाएं; और वह हमें अपके मार्ग की शिक्षा देगा, और हम उसके मार्ग पर चलेंगे; क्योंकि व्यवस्या और यहोवा का वचन यरूशलेम से सिय्योन में से निकलेगा।
20 और वह अन्यजातियोंमें न्याय करेगा, और बहुत से लोगोंको डांटेगा; और वे अपक्की तलवारोंको पीटकर हल के टुकड़े, और अपके भालोंको कांटोंके लिथे पीटेंगे; राष्ट्र राष्ट्र के विरुद्ध तलवार नहीं उठाएगा, न ही वे फिर युद्ध सीखेंगे।
21 हे याकूब के घराने, आओ, हम यहोवा की ज्योति में चलें; हां, आओ, क्योंकि तुम सब भटक गए हो, और हर एक अपके दुष्ट मार्ग पर चला गया है ।
22 इस कारण, हे यहोवा, तू ने अपनी प्रजा याकूब के घराने को त्याग दिया है, क्योंकि वे पूरब से भर गए हैं, और पलिश्तियोंके समान भविष्यद्वाणी करनेवालोंकी सुनते हैं, और वे परदेशियोंके साम्हने प्रसन्न होते हैं।
23 उनका देश भी चान्दी सोने से भरा हुआ है, और उनके भण्डार का कोई छोर नहीं है; उनका देश भी घोड़ों से भरा है, और उनके रथों का कोई छोर नहीं;
24 उनका देश भी मूरतोंसे भरा है; वे अपके ही हाथोंके काम को दण्डवत् करते हैं, अर्थात जिसे अपक्की उँगलियोंने बनाया है।
25 और तुच्छ मनुष्य न झुकता, और न बड़ा मनुष्य अपने आप को दीन करता है, सो उसे क्षमा न करना।
26 हे दुष्टों, चट्टान में प्रवेश कर, और मिट्टी में छिप जाओ, क्योंकि यहोवा का भय मानना, और उसके प्रताप का तेज तुझे कुचलेगा।
27 और ऐसा होगा कि मनुष्य के ऊँचे रूप को नीचा दिखाया जाएगा, और मनुष्यों के अभिमान को दण्डित किया जाएगा, और उस दिन केवल प्रभु ही महान होगा ।
28 क्योंकि सेनाओं के यहोवा का दिन शीघ्र ही सब जातियों पर आने वाला है; हाँ, हर एक पर; हां, घमण्डियों और ऊँचे लोगों पर, और ऊँचे उठनेवालों पर; और वह नीचा किया जाएगा;
29 और लबानोन के सब देवदारोंपर यहोवा का दिन आ पड़ेगा, क्योंकि वे ऊंचे और ऊंचे हैं; और बाशान के सब बांज वृक्षों पर,
30 और सब ऊँचे पहाड़ों पर, और सब पहाड़ियों पर, और सब जातियों पर, जो ऊँचे हैं,
31 और सब लोगों पर, और सब ऊंचे गुम्मट पर, और सब गढ़ी हुई शहरपनाह पर,
32 और समुद्र के सब जहाजों पर, और तर्शीश के सब जहाजों पर, और सब मनभावन चित्रों पर।
33 और मनुष्य का घमण्ड दण्डवत् किया जाएगा, और मनुष्यों का घमण्ड कम किया जाएगा; और उस दिन केवल यहोवा ही ऊंचा किया जाएगा।
34 और वह मूरतोंको सत्यानाश कर दे।
35 और वे चट्टानों के गड्ढों में, और पृय्वी की गुफाओं में जाएंगे, क्योंकि यहोवा का भय उन पर छा जाएगा; और जब वह पृय्वी को बहुत हिलाने को उठेगा, तब उसके प्रताप का तेज उन पर प्रहार करेगा।
36 उस समय मनुष्य अपक्की चांदी की मूरतें, और अपक्की सोने की मूरतें, जिन्हें उस ने अपके अपके लिथे दण्डवत् करने के लिथे बनवाया है, मोलोंऔर चमगादड़ोंके साम्हने डाली जाए;
37 और चट्टानों की दरारों में, और चकनाचूर चट्टानों की चोटियों में जाओ, क्योंकि यहोवा का भय उन पर छा जाएगा, और जब वह पृथ्वी को बहुत अधिक हिलाने के लिए उठेगा, तब उसके तेज का प्रताप उन्हें मारेगा।
38 जिस मनुष्य की श्वास उसके नथनों में है, उस से दूर रहो; उसका हिसाब कहाँ दिया जाए?
39 क्योंकि देखो, सेनाओं का यहोवा यहोवा, यरूशलेम और यहूदा से ठहरने की लाठी, और रोटी की सारी लाठी, और जल का सारा बचा, दूर करता है।
40 पराक्रमी, और योद्धा, न्यायी, और भविष्यद्वक्ता, और बुद्धिमान, और प्राचीन,
41 पचास का प्रधान, और प्रधान, और युक्ति करने वाला, और धूर्त धूर्त, और वाक्पटु वाक्पटु।
42 और मैं उनको उनके हाकिम होने के लिये सन्तान दूंगा, और बालक उन पर प्रभुता करेंगे।
43 और प्रजा के लोग एक दूसरे पर, और एक एक अपके पड़ोसी पर अन्धेर किए जाएंगे; बालक प्राचीनोंके साम्हने घमण्ड करे, और पांव बड़े लोगोंके साम्हने घमण्ड करे।
44 जब कोई अपके पिता के घराने के भाई को पकड़कर कहे, कि तेरे पास वस्त्र है, तू हमारा प्रधान हो, और यह खण्डहर तेरे वश में न हो;
45 उस दिन वह यह कहकर शपय खाएगा, कि मैं हाकिम न होऊंगा; क्‍योंकि मेरे घर में न तो रोटी और न वस्त्र है; मुझे प्रजा पर प्रधान न बना।
46 क्योंकि यरूशलेम नाश हो गया है, और यहूदा गिर गया है; क्योंकि उनकी जीभ और उनके काम यहोवा के विरुद्ध उसके तेज की आंखोंको भड़काने के लिथे हुए हैं।
47 उनका मुख उनके विरुद्ध साक्षी देता है, और उनका पाप सदोम के समान बताता है, और वे उसे छिपा नहीं सकते। उनकी आत्मा पर धिक्कार है, क्योंकि उन्होंने अपने लिए बुराई का प्रतिफल दिया है।
48 धर्मियों से कह, कि उनका भला हुआ है; क्योंकि वे अपके किए हुए कामोंका फल खाएंगे।
49 दुष्टों पर हाय! क्योंकि वे नाश हो जाएंगे, क्योंकि उनके हाथ का प्रतिफल उन पर होगा।
50 और हे मेरी प्रजा, बालक उन पर अन्धेर करनेवाले हैं, और स्त्रियां उन पर प्रभुता करती हैं। हे मेरी प्रजा, जो तेरी अगुवाई करते हैं, वे तुझे भटकाते हैं, और तेरे मार्गोंके मार्ग को नाश करते हैं।
51 यहोवा याचना करने को खड़ा होता है, और प्रजा का न्याय करने को खड़ा होता है।
52 यहोवा अपक्की प्रजा के पुरनियोंसे और उसके हाकिमोंसे न्याय करेगा; क्योंकि तुम ने दाख की बारी और अपके घरोंके कंगालोंकी लूट को खा लिया है।
53 तुम्हारा क्या मतलब है? सेनाओं के परमेश्वर यहोवा की यही वाणी है, कि तुम ने मेरी प्रजा के टुकड़े टुकड़े कर डाले, और कंगालोंके मुंह पीस डाले।
54 फिर यहोवा योंकहता है, कि सिय्योन की बेटियां घमण्डी हैं, और लम्बी गरदनें और टेढ़ी आंखोंके साथ चलती हैं, और चलते-चलते टहलती और कीमा बनाती हैं, और अपने पांवोंसे झुनझुनाहट करती हैं।
55 इसलिथे यहोवा सिय्योन की पुत्रियोंके सिर के मुकुट पर खुरचेगा, और यहोवा उनके गुप्त अंगोंका पता लगाएगा।
56 उस समय यहोवा उनके चहकते हुए गहनों, और दुम के समान, और चन्‍द्रमा के समान गोल टायरों का शौर्य छीन लेगा,
57 जंजीरें और कंगन, और मफलर,
58 बोनट, और टाँगों के आभूषण, और सिरों की पट्टियां, और तख्तियां, और कर्णक,
59 अंगूठियां, और नाक के जेवर,
60 परिवर्तनशील वस्त्र, और पटियां, और चोंच, और कुरकुरे-पिन,
61 शीशे, और उत्तम मलमल, और टोपियां, और परदे।
62 और वह सुगन्ध के बदले दुर्गन्ध निकलेगी; और एक करधनी के बजाय, एक किराया; और अच्छी तरह से सेट बालों के बजाय, गंजापन; और पेट भरनेवाले के बदले टाट का बन्धन; सुंदरता के बजाय जलना।
63 तेरे जन तलवार से मारे जाएंगे; और युद्ध में तेरा पराक्रमी।
64 और उसके फाटक विलाप और विलाप करेंगे; और वह उजाड़ हो जाएगी, और भूमि पर बैठेगी।
65 और उस दिन सात स्त्रियां एक पुरूष को पकड़कर कहेंगी, कि हम अपक्की ही रोटी खाएंगी, और अपके ही वस्त्र पहिनेंगी; केवल हम ही अपके नाम से पुकारे जाएं, जिस से अपक्की नामधराई दूर हो।
66 उस समय यहोवा की डाली सुन्दर और महिमामय होगी; पृय्वी की उपज उत्तम और उन को सुहावनी है जो इस्राएल से बच निकले हैं।
67 और जो सिय्योन में बचे रहें, और यरूशलेम में रहें, वे सब पवित्र कहलाएं, जो यरूशलेम के जीवितोंमें से लिखे हुए हैं;
68 जब यहोवा सिय्योन की पुत्रियों की मलिनता को धो डालेगा, और यरूशलेम के लोहू को उसके बीच में से न्याय की आत्मा और जलने की आत्मा से शुद्ध करेगा।
69 और यहोवा सिय्योन पर्वत के सब निवासस्थानों पर, और उसकी सभाओं पर दिन को बादल और धूंआ, और रात को धधकती हुई आग का प्रकाश उत्पन्न करेगा; क्योंकि सिय्योन के सारे तेज से बचाव होगा।
70 और दिन के समय उष्णता से छाया रहने के लिथे एक निवास, और शरणस्थान, और आँधी और मेंह से आड़ हो।
71 और तब मैं अपके प्रियतम के लिथे उसकी दाख की बारी को छूते हुए अपके प्रिय का गीत गाऊंगा। मेरे प्रिय के पास एक बहुत ही फलदायी पहाड़ी में एक दाख की बारी है:
72 और उस ने उसकी बाड़ लगाई, और उसके पत्यर इकट्ठे किए, और उत्तम दाखलता के साथ लगाया, और उसके बीच में एक गुम्मट बनाया, और उस में दाखरस का कुण्ड भी बनाया; और उस से जंगली अंगूर निकले।
73 और अब, हे यरूशलेम के निवासियों, और यहूदा के लोगों, न्याय करो, मैं तुम से प्रार्थना करता हूं, मेरे और मेरी दाख की बारी के बीच।
74 मेरी दाख की बारी का और क्या कर सकता था, कि मैं ने उस में नहीं किया? इसलिए, जब मैंने देखा कि उस से अंगूर निकलने चाहिए, तो उस से जंगली अंगूर निकले।
75 और अब जाओ; मैं तुम को बताऊंगा कि मैं अपक्की दाख की बारी का क्या करूंगा; मैं उसकी बाड़ को उठाकर खा जाएगा; और मैं उसकी शहरपनाह को तोड़ डालूंगा, और वह रौंदा जाएगा।
76 और मैं उसको उजाड़ दूंगा; वह न तो काटा जाए और न खोदा जाए; परन्तु कँटीली झाड़ियाँ उठेंगी, और मैं बादलोंको भी आज्ञा दूंगा, कि उस पर फिर कभी न बरसें।
77 क्योंकि इस्राएल का घराना सेनाओं के यहोवा की दाख की बारी है, और यहूदा के लोग उसका मनभावन पौधा है; और वह न्याय की बाट जोहता, और अन्धेर देखता है; धार्मिकता के लिए, परन्तु एक रोना निहारना।
78 धिक्कार है उन पर जो घर-घर में मिलाते हैं, जब तक कि कोई स्थान न रह जाए, कि वे पृथ्वी के बीच में अकेले रखे जाएं!
79 सेनाओं के यहोवा की यह वाणी है, मेरी दृष्टि में बहुत से घर उजाड़ हो जाएंगे, और बड़े और सुन्दर नगर उजाड़ हो जाएंगे।
80 वरन दस एकड़ की दाख की बारी से एक बत, और होमेर के बीज से एक एपा उत्पन्न होगा।
81 उन पर जो भोर को तड़के उठते हैं, कि वे मदिरा के पीछे हो लें; जो रात तक चलती है, और दाखमधु उनमें जलता है!
82 और उनके पर्ब्बोंमें वीणा, बाण, ताबीज, और दाखमधु, और दाखमधु हैं; परन्तु वे यहोवा के कामों पर विचार नहीं करते, और न उसके हाथों के कामों पर विचार करते हैं।
83 इस कारण मेरी प्रजा बंधुआई में चली गई है, क्योंकि वे कुछ भी नहीं जानते: और उनके रईस लोग भूखे हैं, और उनकी भीड़ प्यास से सूख गई है।
84 इस कारण अधोलोक ने अपना विस्तार किया है, और अपना मुंह बिना नाप के खोल दिया है:
और उनका तेज, और उनकी भीड़, और उनका वैभव, और जो आनन्दित होगा, वह उस में उतरेगा।
85 और तुच्छ मनुष्य गिराया जाएगा, और शूरवीर दीन किया जाएगा, और ऊंच-नीच की आंखें नीची की जाएंगी;
86 परन्तु सेनाओं का यहोवा न्याय के विषय में ऊंचा किया जाएगा, और पवित्र परमेश्वर धर्म से पवित्र किया जाएगा।
87 तब भेड़ के बच्चे अपके चालचलन के अनुसार चरेंगे, और परदेशियोंके कूड़ाघर खाएंगे।
88 उन पर जो अधर्म को व्यर्थ रस्सियों से, और पाप को गाड़ी-रस्सी से खींचते हैं;
89 और यह कहना, कि वह फुर्ती करे, और अपना काम फुर्ती करे, कि हम उसे देखें; और इस्राएल के पवित्र की युक्ति निकट आए, कि हम उसे जान लें।
90 हाय उन पर जो बुरे को भला और भले को बुरा कहते हैं; जो अन्धकार को प्रकाश, और उजियाले को अन्धकार में बदल देता है; जो कड़वे को मीठे, और मीठे को कड़वे में डाल देते हैं!
91 धिक्कार है उन की दृष्टि में बुद्धिमानों पर, और उनकी दृष्टि में विवेकपूर्ण!
92 धिक्कार है उन वीरों पर जो दाखमधु पीते हैं, और शूरवीरों को जो तीक्ष्ण पेय मिलाते हैं:
93 जो प्रतिफल के लिथे दुष्ट को धर्मी ठहराते हैं, और धर्मी का धर्म उस से छीन लेते हैं!
94 इस कारण जैसे आग भूसी को भस्म करती है, और ज्वाला भूसी को भस्म करती है, वैसे ही उनकी जड़ सड़ जाएगी, और उनके फूल धूल की नाईं ऊपर उठेंगे; क्योंकि उन्होंने सेनाओं के यहोवा की व्यवस्था को टाल दिया, और इस्राएल के पवित्र के वचन को तुच्छ जाना।
95 इस कारण यहोवा का कोप अपक्की प्रजा पर भड़क उठा, और उस ने उन पर हाथ बढ़ाकर उनको मारा है; और पहाड़ कांप उठे, और उनकी लोथें सड़कोंके बीच में फाड़ डाली गईं। इस सब के कारण उसका कोप थमा नहीं, वरन उसका हाथ बढ़ा हुआ है।
96 और वह अन्यजातियोंके लिथे दूर से एक झण्डा खड़ा करेगा, और पृय्वी की छोर से उनकी ओर फूंकेगा; और देखो, वे फुर्ती से आएंगे;
97 उन में से कोई थका हुआ न होगा और न ठोकर खाएगा; कोई न सोएगा, न सोएगा; न तो उनकी कमर का बन्धन खुलेगा, और न उनके जूतों की कुंडी टूटेगी;
98 और उनके तीर नुकीले हों, और उनके सब धनुष मुड़े हुए हों, और उनके घोड़ोंके खुर चकमक पत्थर के समान, और उनके पहिये बवंडर के समान, और उनका गरजना सिंह के समान गिना जाए।
99 वे जवान सिंहों की नाईं गरजेंगे; वरन वे गरजेंगे, और अहेर को पकड़ लेंगे, और सुरक्षित ले जाएंगे, और कोई छुड़ानेवाला न होगा।
100 और उस समय वे समुद्र के गरजने के समान गरजेंगे; और यदि वे देश की ओर दृष्टि करें, तो देखो, अन्धकार और शोक, और उजियाला उसके आकाश में अन्धेरा है।

 

2 नफी, अध्याय 9
1 जिस वर्ष उज्जिय्याह राजा मरा, उस वर्ष मैं ने यहोवा को ऊंचे और ऊंचे सिंहासन पर विराजमान देखा, और उसकी गाड़ी से मन्दिर भर गया।
2 उसके ऊपर साराप खड़े थे; प्रत्येक के छ: पंख थे; उसने दो से अपना मुंह ढांप लिया, और दो के साथ उसने अपने पैरों को ढँक लिया, और दो के साथ वह उड़ गया।
3 और एक ने दूसरे की दोहाई दी, और कहा, पवित्र, पवित्र, पवित्र सेनाओं का यहोवा है; सारी पृथ्वी उसकी महिमा से भरी हुई है।
4 और उसके दोहाई देनेवाले के शब्द से द्वार के खम्भे हिल गए, और घर धूएं से भर गया।
5 तब मैं ने कहा, मुझ पर हाय! क्योंकि मैं नष्ट हो गया हूं; क्योंकि मैं अशुद्ध होंठवाला मनुष्य हूं; और मैं अशुद्ध होंठवाले लोगोंके बीच में बसा हूं; क्योंकि मेरी आंखों ने सेनाओं के यहोवा राजा को देखा है।
6 तब एक साराप अपके हाथ में जीवित अंगारे लिये हुए, जिसे उस ने चिमटे समेत वेदी पर से ले लिया या, मेरे पास उड़ा दिया;
7 और उस ने मेरे मुंह पर रख कर कहा, सुन, यह तेरे होठोंको छू गया है; और तेरा अधर्म दूर हो गया, और तेरा पाप दूर हो गया।
8 फिर मैं ने यहोवा का यह शब्द भी सुना, कि मैं किस को भेजूं, और हमारी ओर से कौन जाएगा? तब मैं ने कहा, मैं यहां हूं; मुझे भेजें।
9 उस ने कहा, जा, और इन लोगोंसे कह, सुन, परन्‍तु वे न समझे; और देखते भी रहे, परन्तु उन्होंने नहीं देखा।
10 इन लोगों का मन मोटा कर, और इनके कान भारी कर, और इनकी आंखें बन्द कर; ऐसा न हो कि वे आंखों से देखें, और कानों से सुनें, और मन से समझें, और फिरें, और चंगे हो जाएं।
11 तब मैं ने कहा, हे प्रभु, कब तक? और उस ने कहा, जब तक नगर निर्जन न हो जाएं, और घर बिना मनुष्य के उजाड़ हो जाएं, और देश पूरी रीति से उजाड़ न हो जाए;
12 और यहोवा ने मनुष्योंको दूर दूर किया है, क्योंकि देश के बीच में बड़ा त्याग होगा
13 तौभी उस में दसवां अंश रहे, और वे लौटकर खा जाएं; जैसे तेल के वृझ, और बांजवृझ की नाईं, जब वे पत्ते डालेंगे, तब उनका फल होगा; उसका पदार्थ।
14 और यहूदा के राजा उज्जिय्याह के पोते योताम के पुत्र आहाज के दिनों में अराम का राजा रसीन और इस्राएल का राजा रमल्याह का पुत्र पेकह युद्ध करने के लिथे यरूशलेम को गया या। इसके खिलाफ, लेकिन इसके खिलाफ प्रबल नहीं हो सका।
15 और दाऊद के घराने को यह समाचार दिया गया, कि अराम एप्रैम से मिला हुआ है। और उसका हृदय, और उसके लोगों का हृदय, जैसे लकड़ी के पेड़ हवा से हिलते हैं, हिल गए।
16 तब यहोवा ने यशायाह से कहा, अपके पुत्र आहाज और अपके पुत्र शियर-यासूब से मिलने के लिथे आगे निकल जा, जो ऊपर के कुण्ड की नालियोंके सिरे पर फुलर के खेत के मार्ग पर है;
17 और उस से कहो, चौकस रहो, और चुप रहो; डरो मत, और इन धूम्रपान करने वाली आग की दो पूंछों के लिए निराश मत हो, अराम के साथ रेजिन के उग्र क्रोध के लिए, और रमल्याह के पुत्र के लिए।
18 क्योंकि अराम, एप्रैम और रमल्याह के पुत्र ने तेरे विरुद्ध यह कहकर बुरी युक्ति की है,
19 आओ हम यहूदा पर चढ़ाई करें, और उस में फूट डालें, और उसके बीच में एक राजा ठहराएं, वरन ताबेल के पुत्र,
20 परमेश्वर यहोवा यों कहता है, वह न तो स्थिर रहेगा, और न कभी होगा।
21 क्योंकि अराम का प्रधान दमिश्क है; और दमिश्क का सिर रसीन; और साठ पांच वर्ष के भीतर एप्रैम ऐसा नाश हो जाएगा, कि वह प्रजा न हो जाए।
22 और एप्रैम का प्रधान शोमरोन है, और शोमरोन का प्रधान रमल्याह का पुत्र है। यदि आप विश्वास नहीं करेंगे, तो निश्चित रूप से आप स्थापित नहीं होंगे।
23 फिर यहोवा ने आहाज से फिर कहा,
24 अपके परमेश्वर यहोवा का कोई चिन्ह तुझ से मांग; इसे या तो गहराई में, या ऊपर की ऊंचाइयों में पूछें।
25 परन्तु आहाज ने कहा, मैं न मांगूंगा, और न यहोवा की परीक्षा करूंगा।
26 उस ने कहा, हे दाऊद के घराने, अब सुन; क्या तुम्हारे लिए मनुष्यों को थका देना छोटी बात है, परन्तु क्या तुम मेरे परमेश्वर को भी थका दोगे?
27 इसलिथे यहोवा तुम को एक चिन्ह देगा: देखो, एक कुंवारी गर्भवती होगी, और उसके एक पुत्र उत्पन्न होगा, और उसका नाम इम्मानुएल रखा जाएगा।
28 वह मक्खन और मधु खाए, जिस से वह बुराई को त्यागना, और भलाई को चुनना जान सके।
29 क्‍योंकि इससे पहिले कि बालक बुराई को ठुकराना और अच्‍छी को चुन लेना जानता है, जिस देश से तू घृणा करता है वह उसके दोनोंराजाओं में से त्याज्य हो जाएगा।
30 जिस दिन से एप्रैम अश्शूर के राजा यहूदा से चला गया, उस दिन से यहोवा तुझ पर, और तेरी प्रजा पर, और तेरे पिता के घराने पर भी उन दिनों को ले आएगा, जो न आए।
31 और उस समय यहोवा उस मक्खी के लिथे जो मिस्र देश की छोर पर है, और उस मधुमक्खी के लिथे जो अश्शूर देश में है, फुफकारेगा।
32 और वे आकर उन सभोंको उजाड़ तराई में, और चट्टानोंकी गड्ढोंमें, और सब कांटोंपर, और सब झाड़ियों पर विश्राम देंगे।
33 उसी दिन यहोवा अश्शूर के राजा अश्शूर के राजा के द्वारा भाड़े पर रखे गए उस्तरे से जो उनके सिर पर है, और वह दाढ़ी भी भस्म करेगा।
34 और उस समय एक पुरूष एक गाय और दो भेड़-बकरियोंका पालन-पोषण करेगा;
35 और वह जितना दूध दे, उसको वह मक्खन खाए; क्‍योंकि देश में जो कुछ बचा हो वह मक्खन और मधु खाएगा।
36 और उस समय हर एक स्थान होगा, जहां एक हजार लताएं और एक हजार चान्दी होंगी, जो कंटीली और कांटोंके लिथे होंगी।
37 मनुष्य तीर और धनुष लिए हुए वहां आएंगे; क्योंकि सारा देश कंटीली और कंटीली हो जाएगी।
38 और जितने पहाडिय़ां लट्ठे समेत खोदी जाएं, उन में कांटों और कांटों का भय न होने पाए; परन्तु वह बैलों के भेजने, और छोटे पशुओं को रौंदने के लिये हो।
39 फिर यहोवा का यह वचन मुझ से कहता है, कि एक बड़ी लोई लेकर उस में महर्षलाल-हाशबज के विषय में मनुष्य की कलम से लिख।
40 और मैं ने ऊरिय्याह याजक, और यबेरेक्याह के पुत्र जकर्याह को अभिलेख करने के लिथे विश्‍वासयोग्य गवाह अपने पास ले लिए।
41 और मैं भविष्यद्वक्ता के पास गया; और वह गर्भवती हुई और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ। तब यहोवा ने मुझ से कहा, उसका नाम महर्षलाल-हशबाज़ रख।
42 क्योंकि देखो, हे मेरे पिता, और मेरी माता, दमिश्क की दौलत और शोमरोन की लूट के साम्हने अश्शूर के राजा के साम्हने से बच्चे को दोहाई देने का ज्ञान न होगा।
43 फिर यहोवा ने मुझ से फिर कहा,
44 क्‍योंकि यह लोग शीलो के जल को ठुकरा देते हैं, जो धीरे से बहते हैं, और रसीन और रमल्याह के पुत्र के कारण मगन होते हैं;
45 इसलिथे अब यहोवा अश्शूर के राजा, अर्यात् अश्शूर के राजा, और बहुत से महानदी का जल उन पर चढ़ाएगा, और वह अपके सब नालोंपर चढ़कर अपके सब तट को पार करेगा;
46 और वह यहूदा से होकर गुजरेगा; और वह लहूलुहान होकर पार हो जाएगा, वह गले तक पहुंच जाएगा; और हे इम्मानुएल, तेरे देश में उसके पंख फैले हुए हैं।
47 हे प्रजा, अपके संग संग रहो, तो तुम टुकड़े टुकड़े हो जाओगे; और दूर देश के सब देशवासियोंका कान लगाओ; और कमर बान्ध लो, और तुम टुकड़े टुकड़े किए जाओगे; अपनी कमर बाँध लो, और तुम टुकड़े टुकड़े हो जाओगे।
48 एक साथ सम्मति करना, तो वह निष्फल हो जाएगा; वचन कहो, और वह स्थिर न रहेगा; क्योंकि परमेश्वर हमारे संग है
49 क्योंकि यहोवा ने बलवन्त हाथ से मुझ से योंकहा कहा, और मुझे यह आज्ञा दी, कि मैं इन लोगोंकी सी चाल न चलूं, और कहा,
50 तुम उन सभों से जिन्हें यह लोग कहें, एक संघ न कहो, वह एक संघ है; तुम उनके भय से मत डरो, और न डरो।
51 सेनाओं के यहोवा को स्वयं पवित्र करो, और वह तुम्हारा भय बने, और वह तुम्हारा भय बने।
52 और वह पवित्रस्यान ठहरे; परन्तु ठोकर खाने के पत्थर और चट्टान के लिथे
इस्त्राएल के दोनों घरानों के लिथे अपराध का, और यरूशलेम के निवासियोंके लिथे जिन और फन्दे के लिथे।
53 और उन में से बहुतेरे ठोकर खाकर गिर जाएंगे, और टूट जाएंगे, और फंस जाएंगे, और पकड़े जाएंगे।
54 मेरे चेलों के बीच गवाही को बान्ध, व्यवस्था पर मुहर लगा दे।
55 और मैं यहोवा की बाट जोहूंगा, जो याकूब के घराने से अपना मुंह फेर लेगा, और मैं उसकी खोज में रहूंगा।
56 देख, मैं और वे बालक जिन्हें यहोवा ने मुझे दिया है, इस्राएल में सिय्योन पर्वत पर वास करने वाले सेनाओं के यहोवा की ओर से चिन्ह और चमत्कार हैं।
57 और जब वे तुम से कहें, अपके अपके परमेश्वर को ढूंढ़ो, और अपके अपके परमेश्वर की खोज में न हो? जीवित लोगों के लिए मरे हुओं में से सुनने के लिए?
58 व्‍यवस्‍था और साझी के विषय में: और यदि वे इस वचन के अनुसार न कहें, तो यह इस कारण है कि उन में ज्योति नहीं।
59 और वे उस में से हठीले और भूखे होकर गुजरेंगे; और ऐसा होगा, कि जब वे भूखे होंगे, तब घबराएंगे, और अपके राजा और अपके परमेश्वर को श्राप देंगे, और ऊपर की ओर दृष्टि करेंगे।
60 और वे पृय्वी की ओर दृष्टि करेंगे; और देखो संकट, और अन्धकार, और वेदना का अंधकार, और अन्धकार में धकेल दिया जाएगा।
61 तौभी वह सन्नाटा वैसा न होगा, जैसा उस ने पहिले जबूलून के देश और नप्ताली के देश को हल्का किया, और उसके बाद यरदन के पार लाल समुद्र के मार्ग में गलील के गलील में और भी अधिक दु:ख दिया। राष्ट्र।
62 जो लोग अन्धकार में चले थे, उन्होंने एक बड़ी ज्योति देखी है: वे जो मृत्यु की छाया के देश में रहते हैं, उन पर ज्योति चमकी है।
63 तू ने जाति को बढ़ाया, और आनन्द को बढ़ाया है; वे कटनी के आनन्द के अनुसार तेरे साम्हने आनन्द करते हैं, और जैसे लोग लूट को बांटते हैं, वैसे ही आनन्दित होते हैं।
64 क्योंकि तू ने उसके बोझ का जूआ, और उसके कंधे की लाठी, अर्यात् उस पर अन्धेर करनेवाले की लाठी को तोड़ डाला है।
65 क्‍योंकि शूरवीर की हर एक लड़ाई में हड़बड़ाहट का, और लोहू में लिपटे हुए वस्त्र; परन्तु यह जलने और आग के ईंधन के साथ होगा।
66 क्‍योंकि हमारे लिथे एक बालक उत्‍पन्‍न हुआ है, और हमें एक पुत्र दिया गया है; और सरकार उसके कन्‍धे पर होगी; और उसका नाम अद्‍भुत, युक्ति करनेवाला, पराक्रमी परमेश्वर, अनन्तकाल का पिता, और शान्ति का राजकुमार रखा जाएगा।
67 दाऊद की राजगद्दी और उसके राज्य की बढ़ती हुई सरकार और मेल का कोई अन्त नहीं है, कि उसका आदेश दे, और उसे न्याय और न्याय के साथ आगे से युगानुयुग स्थिर करता रहे। सेनाओं के यहोवा का जोश यह करेगा।
68 यहोवा ने अपना वचन याकूब के पास भेजा, और उस ने इस्राएल पर प्रकाश डाला है।
69 और एप्रैम और शोमरोन के निवासियों, जो घमण्ड और हियाव से कहते हैं, सब लोग जान लेंगे,
70 ईटें गिरी हैं, परन्तु हम तराशे हुए पत्यरों से बनाएंगे; गूलर काट डाले जाते हैं, परन्तु हम उन्हें देवदारों से बदल देंगे।
71 इस कारण यहोवा रसीन के द्रोहियोंको उसके विरुद्ध खड़ा करेगा, और उसके शत्रुओं को मिला देगा;
72 पहिले अरामी, और पीछे पलिश्ती, और वे मुंह खोलकर इस्राएल को भस्म करेंगे। इस सब के कारण उसका कोप थमा नहीं, वरन उसका हाथ बढ़ा हुआ है।
73 क्योंकि लोग मारनेवाले की ओर फिरते नहीं, और न सेनाओं के यहोवा को ढूंढ़ते हैं।
74 इस कारण यहोवा इस्राएल में से सिर और पूंछ, डालियां और भाग को एक ही दिन में नाश करेगा।
75 जो प्राचीन है, वही प्रधान है; और जो भविष्यद्वक्ता झूठ की शिक्षा देता है, वही पूंछ है।
76 क्‍योंकि इन प्रजा के प्रधान उनको भटकाते हैं; और जो उनकी अगुवाई करते हैं वे नाश किए जाते हैं।
77 इस कारण यहोवा उनके जवानोंके कारण आनन्दित न होगा, और न उनके अनाथोंऔर विधवाओं पर दया करेगा; क्योंकि उन में से हर एक पाखंडी और दुष्ट है, और सब मुंह से मूढ़ता की बातें करते हैं। इस सब के कारण उसका कोप थमा नहीं, वरन उसका हाथ बढ़ा हुआ है।
78 क्योंकि दुष्टता आग की नाईं जलती रहती है; वह झाड़ियों और काँटों को खा जाएगा, और घने जंगलों में भड़क उठेगा, और वे धूएं की नाईं चढ़ेंगे।
79 सेनाओं के यहोवा के कोप के कारण देश में अन्धेरा हो गया है, और प्रजा आग के ईंधन के समान हो जाएगी; कोई अपने भाई को नहीं बख्शेगा।
80 और वह दहिनी ओर झपटे, और भूखा रहेगा; और वह बायीं ओर से खाएगा, और वे तृप्त न होंगे; वे अपके ही हाथ का मांस खाएंगे;
81 मनश्शे, एप्रैम; और एप्रैम, मनश्शे; वे सब मिलकर यहूदा के विरुद्ध होंगे। इस सब के कारण उसका कोप थमा नहीं, वरन उसका हाथ बढ़ा हुआ है।
82 धिक्कार है उन पर, जो अधर्म की चितौनी करते हैं, और जो वे चिट्ठी लिखते हैं, जिसे उन्होंने ठहराया है;
83 कि दरिद्रों को न्याय से दूर कर, और मेरी प्रजा के कंगालों से उसका अधिकार छीन ले, कि विधवाएं उनकी शिकार हों, और अनाथोंको लूट लें;
84 और दण्ड देने के दिनोंमें और दूर से आनेवाली उजाड़ के दिनोंमें तुम क्या करोगे? तुम किसकी सहायता के लिथे भागोगे? और तुम अपनी महिमा कहां छोड़ोगे?
85 मेरे बिना वे बन्दियों के नीचे दण्डवत् करेंगे, और वे मारे गए लोगों के नीचे गिरेंगे। इस सब के कारण उसका कोप थमा नहीं, वरन उसका हाथ बढ़ा हुआ है।
86 हे अश्शूर, मेरे क्रोध की छड़ी, और उनके हाथ में लाठी उनका क्रोध है।
87 मैं उसे कपटी जाति के विरुद्ध भेजूंगा, और अपक्की जलजलाहट के साम्हने उसको आज्ञा दूंगा, कि लूट ले, और अहेर कर लूं, और सड़कोंकी कीचड़ की नाईं उन्हें रौंद दूं।
88 तौभी वह ऐसा नहीं सोचता, और न उसका मन ऐसा सोचता है; परन्तु उसके मन में यह है कि वह कुछ जातियों को नाश और नाश करे।
89 क्योंकि वह कहता है, क्या मेरे हाकिम पूर्णतया राजा नहीं होते?
90 क्या काल्नो कर्कमिश के समान नहीं है? क्या हमात अर्पाद के समान नहीं है? क्या सामरिया दमिश्क के समान नहीं है?
91 जैसे मेरे हाथ ने मूरतोंके राज्य को दृढ़ किया है, और उनकी खुदी हुई मूरतें यरूशलेम और शोमरोन में से उन से श्रेष्ठ हैं;
92 क्या मैं ने शोमरोन और उसकी मूरतोंसे जैसा किया है वैसा ही यरूशलेम और उसकी मूरतोंसे भी न करूंगा?
93 इस कारण ऐसा होगा, कि जब यहोवा सिय्योन पर्वत पर और यरूशलेम पर अपना सब काम पूरा कर लेगा, तब मैं अश्शूर के राजा के कठोर मन का फल, और उसके प्रताप की महिमा का दण्ड दूंगा।
94 क्योंकि वह कहता है, कि मैं ने अपने हाथ के बल और अपनी बुद्धि से ये काम किए हैं, क्योंकि मैं समझदार हूं; और मैं ने प्रजा के सिवाने को फेर दिया, और उनका भण्डार लूट लिया है, और रहनेवालोंको मैं ने वीर की नाईं गिरा दिया है;
95 और मेरे हाथ ने प्रजा का धन घोसला सा पाया है; और जैसे किसी ने बचे हुए अण्डे बटोर लिए, वैसे ही मैं ने सारी पृय्वी को बटोर लिया, और न कोई पंख हिलाने वाला, और न मुंह खोलने वाला, और न झांकने वाला।
96 क्या कुल्हाड़ा अपने काटनेवाले पर घमण्ड करे? क्या आरी अपने को हिलाने वाले के विरुद्ध बढ़ाए? मानो डण्डा अपके ऊपर उठानेवालोंके साम्हने हिल जाए, वा लाठी अपके ऊपर उठ जाए, मानो वह लकड़ी ही न हो?
97 इसलिथे सेनाओं का यहोवा यहोवा अपके मोटे लोगोंके बीच में दुबलापन भेजेगा, और अपक्की महिमा के साम्हने आग की लपटोंके समान आग जलाएगा।
98 और इस्त्राएल की ज्योति आग के लिथे, और उसका पवित्रा ज्वाला के लिथे ठहरे, और वह एक ही दिन में जलकर उसके कांटोंऔर उसकी झाड़ियोंको भस्म कर देगा;
99 और अपके वन, और अपक्की देह और प्राण दोनोंकी शोभा को भस्म कर देगा; और जब मानक ढोनेवाला मूर्छित हो जाए, तब वे वैसे ही होंगे।
100 और उसके वन के सब वृझ थोड़े ही रह जाएंगे, जिस से बालक उन्हें लिखे।
101 और उस दिन ऐसा होगा, कि इस्राएल के बचे हुए लोग, और जो याकूब के घराने से बच गए हैं, वे उसके मारने वाले पर फिर कभी नहीं रहेंगे; परन्तु यहोवा, जो उसका पवित्र है, पर बना रहेगा। इज़राइल, सच में।
102 बचे हुए लोग, हां, याकूब के बचे हुओं को, पराक्रमी परमेश्वर के पास लौट आएंगे ।
103 क्योंकि तेरी प्रजा इस्राएल भले ही समुद्र की बालू के समान हो, तौभी उनमें से बचे हुए लोग लौट आएंगे; घोषित उपभोग धार्मिकता के साथ बह जाएगा।
104 क्‍योंकि सेनाओं का परमेश्वर यहोवा सारे देश में दृढ़ निश्चय करके खा जाएगा।
105 इसलिथे सेनाओं का परमेश्वर यहोवा योंकहता है, हे मेरी प्रजा, जो सिय्योन में रहती है, अश्शूर से मत डर; वह तुझे लाठी से मारेगा, और मिस्र की नाईं अपक्की लाठी तेरे विरुद्ध उठाएगा।
106 क्‍योंकि बहुत ही थोड़े समय में, और मेरा कोप, और मेरा कोप उनके नाश होने के कारण शान्त हो जाएगा।
107 और सेनाओं का यहोवा उसके लिथे मिद्यानियोंके वध के अनुसार ओरेब नाम चट्टान पर एक कोप उभारेगा, और जैसे उसकी लाठी समुद्र के ऊपर लगी या, वैसे ही वह उसे मिस्र की नाईं उठा ले।
108 और उस समय उसका बोझ तेरे कन्धे पर से, और उसका जूआ तेरी गर्दन पर से उतर जाएगा, और अभिषेक के कारण उसका जूआ नाश हो जाएगा।
109 वह ऐयात को आया, वह मिग्रोन को गया; उस ने मिकमाश में अपक्की गाडिय़ां रखी हैं;
110 वे मार्ग के ऊपर से निकल गए हैं; उन्होंने गेबा में अपना ठिकाना बना लिया है; रामथ डरता है; शाऊल का गिबा भाग गया।
111 हे गल्लीम की पुत्री, वाणी उठा, हे कंगाल अनातोत, लैश की बात सुन।
112 मदमेना हटा दिया गया है: गेबीम के निवासी भागने के लिए खुद को इकट्ठा करते हैं।
113 वह उस दिन नोब में रहेगा; वह सिय्योन की बेटी के पहाड़ पर, जो यरूशलेम का पहाड़ है, हाथ मिलाएगा।
114 देख, सेनाओं का यहोवा यहोवा टट को भय से काटेगा; और ऊंचे कद के लोग काट डाले जाएंगे, और अभिमानी दीन हो जाएंगे।
115 और वह जंगल के घने जंगल को लोहे से ढाएगा, और लबानोन एक शूरवीर से गिराया जाएगा।
116 और यिशै के तने में से एक छड़ी निकलेगी, और उसकी जड़ में से एक डाली निकलेगी;
117 और यहोवा का आत्मा उस पर, और बुद्धि और समझ की आत्मा, युक्ति और पराक्रम की आत्मा, ज्ञान की आत्मा, और यहोवा का भय मानने की आत्मा उस पर टिकी रहेगी;
118 और वह यहोवा का भय मानकर उसे फुर्ती से समझ ले, और वह अपक्की आंखोंके साम्हने न्याय न करे, और न अपके कानोंके सुनने के कारण ताड़ना करे;
119 परन्तु वह कंगालों का न्याय धर्म से करेगा, और पृय्वी के नम्र लोगोंको सत्य से ताड़ना देगा; और वह पृय्वी को अपके मुंह के डंडे से मारेगा, और अपके होठोंके फूंक से दुष्ट को घात करेगा।
120 और धर्म उसकी कमर का बन्धन, और सच्चाई उसकी लगाम की पटिया होगी।
121 भेड़िये भी भेड़ के बच्चे के संग रहेंगे, और चीता बालक के संग सोएगा; और बछड़ा, और जवान सिंह, और पाला-पोसा एक संग; और एक छोटा बालक उनकी अगुवाई करेगा।
122 और गाय और भालू चरेंगे; उनके बच्चे एक संग लेटे रहेंगे; और सिंह बैल की नाईं भूसा खाएगा।
123 और दूध पिलाने वाला बच्चा सांप के छेद पर खेलेगा, और दूध छुड़ाया हुआ बच्चा मुर्गे की मांद पर अपना हाथ रखेगा।
124 मेरे सारे पवित्र पर्वत पर न तो कोई हानि करेगा, और न नष्ट करेगा; क्योंकि पृय्वी यहोवा के ज्ञान से ऐसी भर जाएगी जैसा जल समुद्र में भरा रहता है।
125 उस समय यिशै की एक जड़ प्रजा के चिन्ह के लिये ठहरेगी; अन्यजाति उसके खोजी होंगे, और उसका विश्राम महिमामय होगा।
126 और उस दिन ऐसा होगा, कि यहोवा अपनी प्रजा के बचे हुओं को जो अश्शूर, और मिस्र, और पत्रोस, और कूश, और एलाम से, और शिनार से, और हमात से, और समुद्र के द्वीपों से।
127 और वह अन्यजातियोंके लिथे एक झण्डा खड़ा करेगा, और इस्राएल के बहिष्कृत लोगोंको इकट्ठा करेगा, और यहूदा के बिखरे हुए लोगोंको पृय्वी के चारोंकोनोंसे इकट्ठा करेगा।
128 एप्रैम की डाह दूर हो जाएगी, और यहूदा के बैरी नाश किए जाएंगे; एप्रैम यहूदा से डाह न करेगा, और न यहूदा एप्रैम को डाह करेगा।
129 परन्तु वे पलिश्तियोंके कन्धोंपर पश्चिम की ओर उड़ेंगे; वे उन्हें पूर्व के लोगों को एक साथ लूट लेंगे; वे एदोम और मोआब पर हाथ रखेंगे; और अम्मोनी उनकी बात मानेंगे।
130 और यहोवा मिस्री समुद्र की जीभ को सत्यानाश करेगा; और अपक्की तेज आँधी से महानद पर अपना हाथ हिलाएगा, और उसे सात नालोंमें मार डालेगा, और मनुष्योंको सूखी घास के पार ले जाएगा।
131 और उसकी प्रजा के बचे हुओं के लिथे एक ऐसा राजमार्ग होगा, जो अश्शूर से वैसा ही रहेगा, जैसा उस दिन इस्राएल के लिथे हुआ या, जब वह मिस्र देश से निकला था।
132 और उस दिन तू कहना, हे यहोवा, मैं तेरी स्तुति करूंगा; यद्यपि तू ने मुझ से क्रोध किया, तौभी तेरा कोप दूर हो गया, और तू ने मुझे शान्ति दी।
133 देख, परमेश्वर मेरा उद्धार है; मैं भरोसा करूंगा, और न डरूंगा; क्योंकि यहोवा मेरा बल और मेरा गीत यहोवा है; वह भी मेरा उद्धारकर्ता बन गया है।
134 इस कारण तुम आनन्द के साथ उद्धार के कुओं में से जल निकालोगे।
135 और उस दिन वह कहेगा, यहोवा की स्तुति करो, उसका नाम पुकारो, लोगोंके बीच उसके कामोंका बखान करो, उसका नाम ऊंचा करो।
136 यहोवा का गीत गाओ; क्योंकि उस ने उत्तम काम किए हैं: यह बात सारी पृथ्वी पर प्रगट है।
137 हे सिय्योन के रहने वालों, चिल्लाकर जयजयकार करो; क्योंकि तेरे बीच में इस्राएल का पवित्र महान है।

 

2 नफी, अध्याय 10
1 बाबुल का भार जिसे आमोस के पुत्र यशायाह ने देखा था।
2 ऊंचे पहाड़ पर झण्डा खड़ा करना, उनका शब्द ऊंचा करना, हाथ हिलाना, कि वे रईसोंके फाटकोंमें जाएं।
3 मैं ने अपके पवित्र किए हुओं को आज्ञा दी है, मैं ने अपके वीरोंको भी बुलाया है, क्योंकि मेरा कोप उन पर नहीं जो मेरे प्रताप से मगन हैं।
4 पहाड़ों पर भीड़ का ऐसा कोलाहल मानो बड़ी प्रजा हो; राष्ट्रों के राज्यों का एक कोलाहलपूर्ण कोलाहल एक साथ इकट्ठा हुआ: सेनाओं का यहोवा युद्ध के यजमानों को इकट्ठा करता है।
5 वे दूर देश से, स्वर्ग की छोर से, हां, यहोवा, और उसके क्रोध के शस्त्रों समेत सारे देश को नाश करने के लिथे आए हैं।
6 तुम हाहाकार करो; क्योंकि यहोवा का दिन निकट है, वह सर्वशक्तिमान की ओर से विनाश की नाईं आएगा।
7 इस कारण सब के हाथ ढीले पड़ जाएंगे, और सब का मन पिघल जाएगा;
8 और वे डरेंगे; वेदना और दु:ख उन्हें पकड़ लेंगे; वे एक दूसरे पर चकित होंगे; उनके मुख आग की लपटों के समान होंगे:
9 देख, यहोवा का वह दिन आ रहा है, जब वह जलजलाहट और कोप समेत क्रूर है, कि देश को उजाड़ दे, और वह उसके पापियोंको उस में से नाश करे।
10 क्योंकि आकाश के तारे और उसके बड़े बड़े नक्षत्र अपना प्रकाश न देंगे; उसके निकलते समय सूर्य अन्धेरा हो जाएगा, और चन्द्रमा अपना प्रकाश न चमकाएगा।
11 और मैं जगत को उनके अधर्म का दण्ड दूंगा, और दुष्टोंको उनके अधर्म का दण्ड दूंगा; मैं घमण्डियों का घमण्ड दूर करूंगा, और भयानक के घमण्ड को दूर करूंगा;
12 मैं एक मनुष्य को चोखे सोने से भी अधिक अनमोल बनाऊंगा; यहाँ तक कि ओपीर की सोने की कील से भी एक आदमी।
13 इस कारण मैं आकाश को कंपकंपाऊंगा, और पृय्वी अपने स्थान से दूर हो जाएगी, यह सेनाओं के यहोवा के कोप और उसके भयंकर कोप के दिन होगा।
14 और वह पीछा की हुई रो, और भेड़-बकरियोंकी नाईं जिन्हें कोई ले न उठाए; वे अपक्की अपक्की प्रजा की ओर फिरें, और अपके अपके देश को भाग जाएं।
15 जो घमण्ड करे, वह चकनाचूर हो जाएगा; हां, और जितने दुष्ट के संग हों, वे तलवार से मारे जाएंगे ।
16 उनके लड़केबाल भी उनकी आंखोंके साम्हने चकनाचूर किए जाएंगे; उनके घर उजाड़ दिए जाएंगे, और उनकी पत्नियां उजाड़ दी जाएंगी।
17 सुन, मैं मादियों को उनके विरुद्ध उभारूंगा, जो न तो चान्दी और न सोने की सुधि लेंगे, और न वे उस से प्रसन्न होंगे।
18 उनके धनुष भी जवानोंको चकनाचूर कर देंगे; और वे गर्भ के फल पर तरस न खाएंगे; उनकी आंखें बच्चों को नहीं बख्शेंगी।
19 और बाबुल, जो राज्यों का तेज है, और कसदी के प्रताप का शोभा ऐसा होगा, जैसे परमेश्वर ने सदोम और अमोरा को उलट दिया था।
20 वह कभी न बसेगा, और न वह पीढ़ी से पीढ़ी तक बसेगा; और न अरब के लोग वहां डेरे खड़े करेंगे; और न गड़ेरिये वहां अपनी भेड़शाला बनाएंगे;
21 परन्तु जंगल के पशु वहां पड़े रहेंगे; और उनके घर करूणामय प्राणियों से भरे होंगे; और वहाँ उल्लू वास करेंगे, और व्यंग्यकार वहाँ नाचेंगे।
22 और द्वीपों के वनपशु अपके उजाड़ घरोंमें, और अजगर अपके मनभावने भवनोंमें दोहाई देंगे; और उसका समय निकट है, और उसका दिन अधिक न रहेगा। क्योंकि मैं उसे शीघ्र नष्ट कर दूंगा; हां, क्योंकि मैं अपने लोगों पर दया करूंगा; परन्तु दुष्ट नाश हो जाएंगे।
23 क्योंकि यहोवा याकूब पर दया करेगा, और इस्राएल को चुनकर उन्हीं के देश में बसाएगा; और परदेशी उनके संग मिल जाएंगे, और वे याकूब के घराने से लगे रहेंगे।
24 और लोग उनको लेकर अपके स्यान पर पहुंचाएंगे; हां, दूर से पृथ्वी के छोर तक; और वे अपके वचन के देश को लौट जाएंगे। और इस्राएल का घराना उनका अधिकारी होगा, और यहोवा का देश दासोंऔर दासियोंके लिथे रहेगा; और जिस के वे बन्धुआई में थे, उन्हें वे बन्धुआई में ले लेंगे; और वे अपके अन्धेर करनेवालोंपर प्रभुता करेंगे।
25 और उस समय यहोवा तुझे तेरे शोक, और तेरे भय, और उस कठिन दासता से, जिस में तू सेवा करने के लिथे ठहराया गया या, विश्राम देगा।।
26 और उस समय ऐसा होगा कि तू बाबुल के राजा के विरुद्ध यह कहावत सुनाएगा, और कहेगा, कि अन्धेर करनेवाला कैसे न रहा, सोने का नगर न रहा!
27 यहोवा ने दुष्टों की लाठी को, अर्थात हाकिमों के राजदण्डों को तोड़ डाला है।
28 जो प्रजा को जलजलाहट में निरन्तर मारता रहता है, वह जाति जाति पर क्रोध करनेवाला राज्य करता है, वह सताया जाता है, और कोई बाधा नहीं डालता।
29 सारी पृय्वी चैन में है, और चुप है; वे जयजयकार करते हैं।
30 वरन देवदार के वृझ तेरे कारण और लबानोन के देवदारोंके कारण यह कहते हुए आनन्‍दित होते हैं, कि जब से तू गिराया गया है, तब से कोई काटने वाला हम पर चढ़ाई नहीं करता।
31 अधोलोक नीचे से उठा है, कि तेरे आने पर तुझ से मिलें; वह तेरे लिये मरे हुओं को, वरन पृय्वी के सब प्रधानोंको भी उभारता है; उस ने जाति जाति के सब राजाओं को अपके सिंहासन पर से जिलाया है।
32 वे सब तुझ से कहें, कि क्या तू भी हमारी नाईं निर्बल हो गया है? क्या तू हमारे समान हो गया है?
33 तेरा वैभव कब्र पर गिराया गया है; तेरे अधर्म का शब्द सुनाई नहीं पड़ता, कीड़ा तेरे तले फैला है, और कीड़े तुझे ढांपते हैं।
34 हे भोर के पुत्र, तू स्वर्ग से कैसे गिर पड़ा है! क्या तू ने भूमि को काट डाला, जिस से जाति जाति निर्बल हो गई!
35 क्‍योंकि तू ने अपके मन में कहा है, कि मैं स्‍वर्ग पर चढ़ूंगा, और अपके सिंहासन को परमेश्वर के तारागणोंसे भी ऊंचा करूंगा; मैं मण्डली के पहाड़ पर भी उत्तर दिशा में विराजूंगा;
36 मैं बादलों की ऊंचाइयों से भी ऊपर चढ़ूंगा; मैं सबसे उच्च जैसा हो जाऊंगा।
37 तौभी तू अधोलोक में, अर्यात् गड़हे के किनारे तक पहुंचा दिया जाएगा।
38 जो तुझे देखेंगे वे तेरी ओर ध्यान से देखेंगे, और तुझ पर विचार करेंगे, और कहेंगे, क्या यह वही मनुष्य है जिस ने पृथ्वी को थरथराया, जिस ने राज्य को हिलाया,
39 और जगत को जंगल बना दिया, और उसके नगरोंको नाश कर डाला, और अपके बन्दियोंके घर को न खोला?
40 अन्यजातियों के सब राजा, वरन वे सब के सब अपने अपने घर में महिमा के लिथे सोए हैं।
41 परन्तु तू अपक्की कब्र में से घिनौनी डाली की नाईं निकाल दिया गया है, और बचे हुओं को तलवार से मार डाला गया है, जो गड़हे के पत्थरों पर गिर पड़े हैं; जैसे पांवों तले रौंदा गया शव।
42 तू उनके साथ दफ़नाया न जाना, क्योंकि तू ने अपके देश को नाश किया, और अपक्की प्रजा को घात किया है; दुष्टोंका वंश कभी न मिटेगा।
43 अपके पितरोंके अधर्म के कामोंके लिथे उसके पुत्रोंके लिथे वध की तैयारी करो; कि वे न जी उठेंगे, और न भूमि के अधिकारी होंगे, और न जगत में नगरोंसे भरेंगे।
44 क्योंकि मैं उन पर चढ़ाई करूंगा, सेनाओं के यहोवा की यह वाणी है, और बाबुल में से जो नाम बचे हुए हैं, और जो पुत्र और भतीजे हैं, उनको मैं नाश करूंगा, यहोवा की यही वाणी है।
45 मैं उसको कड़वे और जल के सोतोंके लिथे निज भाग कर दूंगा; और मैं उसको नाश के कण से मिटा दूंगा, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।
46 सेनाओं के यहोवा ने यह शपय खाई है, निश्चय जैसा मैं ने सोचा है, वैसा ही होगा; और जैसा मैं ने ठाना है, वैसा ही स्थिर रहेगा:
47 कि मैं अश्शूर को अपके देश में ले आऊंगा, और अपके पहाड़ोंपर उसे पांवोंसे रौंदूंगा; तब उसका जूआ उन पर से उतर जाएगा, और उसका बोझ उनके कन्धोंपर से उतर जाएगा।
48 सारी पृय्वी पर यह युक्ति की गई है, और यह वह हाथ है जो उस ने सब जातियोंपर बढ़ाया है।
49 क्योंकि सेनाओं के यहोवा ने युक्ति की है, और कौन टालेगा? और उसका हाथ बढ़ा हुआ है, और कौन उसे फेरेगा?
50 जिस वर्ष राजा आहाज मरा, वह यही भार था।
51 हे पूरे पलिश्तीना, आनन्दित न हो, क्योंकि उसके मारने वाले का डण्डा टूट गया है; क्योंकि सर्प की जड़ में से एक मुर्ग निकलेगा, और उसका फल जलता हुआ सर्प होगा।
52 और कंगालों में से पहिलौठे चराएंगे, और दरिद्र निडर बैठे रहेंगे; और मैं तेरी जड़ को अकाल से मार डालूंगा, और वह तेरे बचे हुओं को घात करेगा।
53 हाउल, हे द्वार; रोओ, हे शहर; तू, सारा फिलिस्तीन, भंग हो गया: क्योंकि उत्तर से एक धुआँ उठेगा, और कोई भी अपने नियत समय में अकेला नहीं होगा।
54 तब अन्यजातियों के दूतों को क्या उत्तर दें? कि यहोवा ने सिय्योन को स्थिर किया है, और उसकी प्रजा के कंगाल उस पर भरोसा रखेंगे।

 

2 नफी, अध्याय 11
1 अब मैं, नफी, उन शब्दों के बारे में कुछ बोलता हूं जो मैंने लिखे हैं, जो यशायाह के मुंह से बोले गए हैं ।
2 क्योंकि देखो, यशायाह ने बहुत सी ऐसी बातें कही हैं जिन्हें समझ पाना मेरे बहुत से लोगों के लिए कठिन था; क्योंकि वे यहूदियों के बीच भविष्यद्वाणी करने के ढंग के विषय में नहीं जानते।
3 क्योंकि मैं, नफी, ने उन्हें यहूदियों के व्यवहार के विषय में बहुत सी बातें नहीं सिखाई हैं; क्योंकि उनके काम अन्धकार के थे, और उनके काम घिनौने काम थे।
4 इसलिए, मैं अपनी प्रजा को उन सभों को लिखता हूं, जो इन बातों को जो मैं लिखता हूं, भविष्य में ग्रहण करेंगे, कि वे परमेश्वर के न्याय को जान सकें, कि वे सब जातियों पर उस वचन के अनुसार आएं जो उस ने कहा है ।
5 इसलिथे हे मेरी प्रजा, जो इस्राएल के घराने के हैं, सुन, और मेरी बातों पर कान लगा; क्योंकि यशायाह की बातें तुझ से सीधी नहीं हैं, तौभी उन सब के लिथे जो आत्मा से भरे हुए हैं, सीधी हैं। भविष्यवाणी
6 परन्तु उस आत्मा के अनुसार जो मुझ में है, मैं तुझे एक भविष्यद्वाणी देता हूं; इसलिए मैं उस स्पष्टता के अनुसार भविष्यद्वाणी करूंगा जो मेरे पिता के साथ यरूशलेम से निकलने के समय से मेरे साथ रही है।
7 क्योंकि देखो, मेरा मन अपनी प्रजा के साम्हने प्रसन्नता से प्रसन्न होता है, कि वे सीखें;
8 हां, यशायाह की बातों से मेरा मन प्रसन्न होता है, क्योंकि मैं यरूशलेम से निकल आया हूं, और अपनी आंखों से यहूदियों की बातें देखी हैं, और मैं जानता हूं, कि यहूदी भविष्यद्वक्ताओं की बातें समझते हैं, और दूसरा कोई नहीं जो लोग यहूदियों से कही गई बातों को समझते हैं, वे उनके समान हैं, सिवाय इसके कि उन्हें यहूदियों की शिक्षा के अनुसार सिखाया जाता है।
9 लेकिन देखो, मैं, नफी, ने अपने बच्चों को यहूदियों के अनुसार नहीं सिखाया है; परन्तु देखो, मैं तो आप ही यरूशलेम में रहता हूं, इसलिथे चारोंओर के देश के विषय में जानता हूं;
10 और जो कुछ यशायाह ने कहा है, उसके अनुसार मैं ने अपक्की सन्तान को परमेश्वर के उन न्यायदंडोंका वर्णन किया है जो यहूदियोंमें घटित हुए हैं, और जो कुछ यशायाह ने कहा है, उसका वर्णन मैं ने नहीं किया।
11 परन्तु देखो, मैं अपक्की ही भविष्यद्वाणी पर अपनी स्पष्टता के अनुसार चलता हूं; जिसमें मैं जानता हूं, कि कोई भूल नहीं कर सकता;
12 तौभी जब यशायाह की भविष्यद्वाणियाँ पूरी होंगी, तब मनुष्य निश्चय जान लेंगे कि वे कब पूरे होंगे;
13 इसलिए, वे मानव संतानों के लिए मूल्यवान हैं, और जो यह समझता है कि वे नहीं हैं, मैं उनसे विशेष रूप से कहूंगा, और शब्दों को अपने ही लोगों तक सीमित रखूंगा:
14 क्योंकि मैं जानता हूं, कि अन्त के दिनों में वे उनके लिये बहुत मूल्यवान होंगे; क्योंकि उस दिन वे उन्हें समझेंगे; इसलिए, मैंने उन्हें उनकी भलाई के लिए लिखा है।
15 और जैसे यहूदियोंमें से एक पीढ़ी अधर्म के कारण नाश हुई, वैसे ही वे भी अपके अधर्म के कामोंके अनुसार पीढ़ी से पीढ़ी तक नाश हुए;
16 और उन में से किसी का भी नाश न हुआ, केवल यहोवा के भविष्यद्वक्ताओं द्वारा की गई भविष्यवाणी के।
17 इसलिए, मेरे पिता के यरूशलेम छोड़ने के तुरंत बाद उन पर जो विनाश आने वाला था, उसके बारे में उन्हें बताया गया है;
18 तौभी उन्होंने अपने मन कठोर किए; और मेरी भविष्यद्वाणी के अनुसार वे नाश हो गए हैं, केवल उनको छोड़ जो बन्धुआई में बाबुल को ले गए हैं।
19 और अब मैं यह उस आत्मा के कारण कहता हूं जो मुझ में है।
20 और चाहे वे उठा लिए गए हों, तौभी वे फिर लौट आएंगे, और यरूशलेम के देश के अधिकारी होंगे; इस कारण वे अपने निज भाग के देश में फिर से फिर से मिल जाएंगे।
21 परन्तु देखो, उनके बीच युद्ध और लड़ाइयों की चर्चा होगी; और जब वह दिन आएगा कि पिता का एकलौता पुत्र, हां, यहां तक कि स्वर्ग और पृथ्वी का पिता, अपने आप को उनके सामने देह में प्रकट करेगा, देखो, वे अपने अधर्म के कारण, और अपनी कठोरता के कारण उसे अस्वीकार कर देंगे। दिल, और उनकी गर्दन की कठोरता।
22 देखो, वे उसे क्रूस पर चढ़ाएंगे, और जब वह तीन दिन तक कब्र में रखा जाएगा, तब वह मरे हुओं में से जी उठेगा, और उसके पंख चंगे होंगे, और जितने उसके नाम पर विश्वास करेंगे, वे सब उद्धार पाएंगे, परमेश्वर का राज्य;
23 इस कारण मेरा मन उसके विषय में भविष्यद्वाणी करने से प्रसन्न होता है, क्योंकि मैं ने उसका दिन देखा है, और मेरा मन उसके पवित्र नाम की बड़ाई करता है ।
24 और देखो, ऐसा होगा, कि जब मसीहा मरे हुओं में से जी उठा, और जितने लोग उसके नाम पर विश्वास करेंगे, उसके सामने स्वयं को प्रकट कर दिया, देखो, यरूशलेम फिर से नष्ट हो जाएगा: क्योंकि उन पर हाय जो परमेश्वर और उसके चर्च के लोगों के खिलाफ लड़ते हैं।
25 इस कारण यहूदी सब जातियों में तित्तर बित्तर हो जाएंगे; हां, और बाबुल भी नाश किया जाएगा; इसलिए, यहूदियों को अन्य राष्ट्रों द्वारा तितर-बितर कर दिया जाएगा;
26 और जब वे तितर-बितर हो गए, और प्रभु परमेश्वर ने उन्हें कई पीढ़ियों के लिए अन्य राष्ट्रों द्वारा कोड़े मारे, हां, यहां तक कि पीढ़ी से पीढ़ी तक, जब तक कि वे परमेश्वर के पुत्र, मसीह में विश्वास करने के लिए राजी नहीं हो जाते, और प्रायश्चित, जो सभी मानव जाति के लिए अनंत है;
27 और जब वह दिन आएगा, कि वे मसीह पर विश्वास करें, और शुद्ध मन और शुद्ध हाथों से पिता को दण्डवत करें, और किसी और मसीह की बाट न देखें, तब वह दिन आएगा। कि यह समीचीन होना चाहिए कि वे इन बातों पर विश्वास करें,
28 और यहोवा अपनी प्रजा को उनकी खोई हुई और पतित अवस्था से फिर छुड़ाने के लिथे दूसरी बार हाथ लगाएगा।
29 इस कारण वह मनुष्यों के बीच अद्‌भुत काम, और अजूबा काम करेगा।
30 इसलिए, वह अपने वचन उन तक पहुंचाएगा, जो अंतिम दिन में उनका न्याय करेंगे;
31 क्योंकि वे उन्हें उस सच्चे मसीह के विषय में विश्वास दिलाने के लिये दिए जाएंगे, जिसे उन्होंने ठुकरा दिया था;
32 और उन्हें यह विश्वास दिलाया जाए कि उन्हें किसी मसीहा के आने की और प्रतीक्षा करने की आवश्यकता नहीं है,
33 क्योंकि कोई न आए, केवल झूठा मसीहा है, जो लोगों को भरमाएगा;
34 क्योंकि एक ही मसीह है जिसके विषय में भविष्यद्वक्ताओं ने कहा है, और वह मसीहा है, जो यहूदियों में से तुच्छ जाना जाए।
35 क्योंकि भविष्यद्वक्ताओं के वचन के अनुसार मेरे पिता के यरूशलेम से निकलने के छ: सौ वर्ष में मसीह आ जाएगा;
36 और भविष्यद्वक्ताओं की और परमेश्वर के दूत के वचन के अनुसार उसका नाम परमेश्वर का पुत्र यीशु मसीह होगा।
37 और अब हे मेरे भाइयो, मैं ने सीधी बात कह दी है, कि तुम भूल न करोगे;
38 और यहोवा परमेश्वर के जीवन की शपय, जिस ने इस्राएल को मिस्र देश से निकाल लाया, और मूसा को यह अधिकार दिया, कि वह जाति जाति के लोगोंको विषैले सांपोंके डसने के बाद चंगा करे, यदि वे अपनी आंखें सर्प पर डालें जिसे उस ने उनके साम्हने खड़ा किया, और उसे यह भी अधिकार दिया कि वह चट्टान पर ऐसा मार करे, और जल निकल जाए;
39 हां, देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि ये बातें सच हैं, और प्रभु परमेश्वर के जीवन की शपथ, स्वर्ग के नीचे और कोई दूसरा नाम नहीं दिया गया, केवल इसी यीशु मसीह के विषय में जिसके विषय में मैं ने कहा है, जिसके द्वारा मनुष्य का उद्धार हो सकता है .
40 इसलिए, इस कारण से प्रभु परमेश्वर ने मुझसे प्रतिज्ञा की है कि जो कुछ मैं लिखता हूं, रखा जाएगा और संरक्षित किया जाएगा, और पीढ़ी से पीढ़ी तक मेरे वंश को सौंप दिया जाएगा, ताकि यूसुफ से की गई प्रतिज्ञा पूरी हो सके, कि उसका वंश जब तक पृथ्वी खड़ी रहे, तब तक कभी नाश नहीं होना चाहिए।
41 इस कारण, जब तक पृय्वी बनी रहेगी, तब तक ये बातें पीढ़ी-दर-पीढ़ी चलती रहेंगी; और वे परमेश्वर की इच्छा और इच्छा के अनुसार जाएंगे;
42 और वे जातियां जो उनके अधिकारी होंगी, उनके विषय में लिखी हुई बातों के अनुसार न्याय किया जाएगा;
43 क्‍योंकि हम लिखने के लिथे परिश्रम करते हैं, और अपके लड़केबालोंऔर भाइयोंको भी समझाते हैं, कि मसीह पर विश्वास करें, और परमेश्वर से मेल कर लें;
44 क्‍योंकि हम जानते हैं, कि हम जो कुछ कर सकते हैं, उस अनुग्रह से ही हमारा उद्धार हुआ है।
45 और तौभी हम मसीह पर विश्वास करते हैं, तौभी हम मूसा की व्यवस्था को मानते हैं, और उस की बाट जोहते रहते हैं, जब तक कि व्यवस्था पूरी न हो जाए; क्योंकि व्यवस्था इसी के लिये दी गई थी;
46 इस कारण व्यवस्था हमारे लिये मर गई, और हम अपने विश्वास के कारण मसीह में जिलाए गए हैं;
47 तौभी हम व्यवस्था को आज्ञाओं के कारण मानते हैं;
48 और हम मसीह की चर्चा करते हैं, हम मसीह में आनन्द करते हैं, हम मसीह का प्रचार करते हैं, हम मसीह की भविष्यद्वाणी करते हैं, और हम अपनी भविष्यवाणियों के अनुसार लिखते हैं, कि हमारे बच्चे जान सकें कि वे अपने पापों की क्षमा के लिए किस स्रोत से देख सकते हैं।
49 इसलिए, हम व्यवस्था के विषय में बात करते हैं, ताकि हमारे बच्चे व्यवस्था की मृत्यता को जान सकें;
50 और वे व्यवस्या की मृत्य को जानकर उस जीवन की बाट जोहते रहें, जो मसीह में है, और जानें कि व्यवस्था किस प्रयोजन के लिए दी गई थी।
51 और जब व्यवस्या मसीह में पूरी हो जाए, तब जब व्यवस्या समाप्त की जानी चाहिए, तब उसके विरुद्ध अपना मन कठोर न करना पड़े।
52 और अब देखो, हे मेरी प्रजा, तुम हठीले लोग हो; इसलिए, मैंने तुमसे सीधी बात की है, कि तुम गलत नहीं समझ सकते ।
53 और जो बातें मैं ने कही हैं वे तेरे साम्हने साक्षी ठहरें; क्योंकि वे किसी भी मनुष्य को सही मार्ग सिखाने के लिए पर्याप्त हैं:
54 क्योंकि सही मार्ग यह है कि मसीह पर विश्वास किया जाए और उसका इन्कार न किया जाए; क्‍योंकि तुम उसका इन्‍कार करके नबियों और व्‍यवस्‍था का भी इन्‍कार करते हो।
55 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि मसीह में विश्वास करना, और उसका इन्कार न करना सही है; और मसीह इस्राएल का पवित्र है:
56 इसलिथे तुम उसके साम्हने दण्डवत् करना, और अपक्की सारी शक्ति, और बुद्धि, और अपने सारे प्राण से उसको दण्डवत् करना, और यदि ऐसा करो, तो किसी भी रीति से न निकाले जाने पाओगे।
57 और जब तक वह समीचीन हो, तब तक परमेश्वर के कामों और विधियोंका पालन करना, जब तक कि वह व्यवस्था पूरी न हो जाए जो मूसा को दी गई थी।
58 और जब मसीह मरे हुओं में से जी उठेगा, तो हे मेरे लड़केबालों, और मेरे प्रिय भाइयों, अपने आप को तुम पर प्रगट करेगा;
59 और जो वचन वह तुझ से कहे, वही व्यवस्या ठहरे, जिस पर तुझे चलना होगा।
60 क्योंकि देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि मैं ने देखा है, कि पीढ़ी पीढ़ी जाती रहेगी, और मेरी प्रजा के बीच बड़े बड़े युद्ध और विवाद होंगे ।
61 और मसीह के आने के बाद मेरी प्रजा को उसके जन्म के चिन्ह, और उसकी मृत्यु और पुनरुत्थान के भी चिन्ह दिखाई देंगे;
62 और वह दिन दुष्टोंके लिथे बड़ा और भयानक होगा; क्योंकि वे नाश हो जाएंगे;
63 और वे नाश हो गए क्योंकि उन्होंने भविष्यद्वक्ताओं और पवित्र लोगों को निकाल दिया, और उन्हें पत्थरवाह किया, और उन्हें मार डाला;
64 इस कारण पवित्र लोगों के लोहू की दोहाई भूमि पर से परमेश्वर के पास उठकर उनके विरुद्ध उठेगी।
65 इसलिथे जितने घमण्ड करनेवाले और दुष्ट काम करनेवाले हों, वे सब आनेवाले दिन उनको भस्म करें, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है, क्योंकि वे भूसे के समान ठहरेंगे;
66 और जो भविष्यद्वक्ताओं और पवित्र लोगों को घात करेंगे, वे पृय्वी के गहिरे स्थान को निगल जाएंगे, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है:
67 और पहाड़ उनको ढांप देंगे, और बवण्डर उन्हें उड़ा ले जाएंगे, और भवन उन पर गिरेंगे, और उन्हें चूर-चूर कर चूर-चूर कर देंगे;
68 और वे गरजने, और बिजली, और भूकम्प, और सब प्रकार के विनाश के द्वारा उन पर चढ़ाई करेंगे;
69 क्योंकि यहोवा के कोप की आग उन पर भड़केगी, और वे ठूंठ के समान ठहरेंगे, और आने वाला दिन उन्हें भस्म कर देगा, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है।
70 हे मेरी प्रजा के मारे हुओं की हानि के कारण मेरे प्राण की पीड़ा, और वेदना!
71 क्योंकि मैं, नफी, ने इसे देखा है, और यह मुझे प्रभु के साम्हने भस्म कर देता है: परन्तु मुझे अपने परमेश्वर से दोहाई देनी होगी, तेरे मार्ग धर्मी हैं ।
72 परन्तु देखो, धर्मी, जो भविष्यद्वक्ताओं की बातें मानते हैं, और उन्हें नष्ट नहीं करते हैं, परन्तु जो चिन्ह दिए जाते हैं, उन पर सब प्रकार के अत्याचारों के बावजूद दृढ़ता के साथ मसीह की बाट जोहते रहते हैं; निहारना वे वे हैं जो नाश नहीं होंगे ।

73 परन्तु धर्म का पुत्र उन्हें दिखाई देगा; और वह उनको चंगा करे, और वे उसके साथ मेल रखें, जब तक कि तीन पीढ़ी न बीत जाएं, और चौथी पीढ़ी में से बहुतेरे धर्म से मर न जाएं।
74 और जब ये बातें पूरी हो जाएंगी, तब मेरी प्रजा का शीघ्र विनाश होगा; क्‍योंकि मैं ने अपके मन की वेदना होते हुए भी उसे देखा है; इसलिए, मैं जानता हूं कि ऐसा होगा;
75 और वे अपने आप को व्यर्थ बेच देते हैं; क्‍योंकि अपके घमण्ड और मूर्खता का प्रतिफल पाकर वे विनाश की कटनी काटेंगे;
76 क्योंकि वे शैतान के साम्हने झुक जाते हैं, और उजियाले से बढ़कर अन्धकार के कामों को चुन लेते हैं; इसलिए उन्हें नरक में जाना होगा, क्योंकि प्रभु की आत्मा हमेशा मनुष्य के साथ संघर्ष नहीं करेगी।
77 और जब आत्मा मनुष्य से यत्न करना छोड़ दे, तब शीघ्र नाश हो जाता है; और यह मेरी आत्मा को दुखी करता है।
78 और जब मैं ने यहूदियों के विश्वास के विषय में कहा, कि यीशु ही मसीह है, तो यह आवश्यक है कि अन्यजातियों को भी विश्वास हो, कि यीशु ही मसीह, अनन्त परमेश्वर है; और यह कि वह अपने आप को उन सब पर प्रकट करता है जो उस पर विश्वास करते हैं, पवित्र आत्मा की शक्ति के द्वारा;
79 वरन हर एक जाति, जाति, और भाषा, और लोग, जो मनुष्योंके बीच अपने विश्वास के अनुसार बड़े बड़े आश्‍चर्यकर्म, चिन्ह और अद्भुत काम करते हैं।
80 परन्तु देखो, मैं तुम से अन्तिम दिनों के विषय में भविष्यद्वाणी करता हूं; उन दिनों के विषय में जब यहोवा परमेश्वर इन बातों को मनुष्यों के लिये आगे बढ़ाएगा।
81 मेरे वंश के बाद, और मेरे भाइयों के वंश अविश्वास में घट गए होंगे, और अन्यजातियों द्वारा मारे गए होंगे;
82 और जब यहोवा परमेश्वर उनके विरुद्ध चारोंओर छावनी डालेगा, और एक पहाड़ से उन को घेर लेगा, और उनके साम्हने किलोंको खड़ा करेगा;
83 और जब वे मिट्टी में नीचे गिर जाएंगे, यहां तक कि वे भी नहीं हैं, तब भी धर्मियों के शब्द लिखे जाएंगे, और विश्वासयोग्य की प्रार्थना सुनी जाएगी, और वे सभी जो अविश्वास में घट गए हैं, भुलाया नहीं जा सकता;
84 क्‍योंकि जो नाश किए जाएंगे, वे भूमि में से उन से बातें करें, और उनकी बातें धूल में ढली रहेंगी, और उनका शब्‍द ऐसा हो जाएगा कि जिस में कोई जान हो;
85 क्योंकि यहोवा परमेश्वर उसको सामर्थ देगा, कि वह उनके विषय में ऐसा फुसफुसाए, जैसे वह भूमि में से निकली हो; और उनकी वाणी धूल में से फुसफुसाएगी।
86 क्योंकि परमेश्वर यहोवा यों कहता है, जो काम उनके बीच में किया जाएगा, वे लिखेंगे, और वे पुस्तक में लिखे और मुहरबन्द किए जाएंगे, और जो अविश्वास में घट गए हैं, वे उनके पास नहीं होंगे, क्योंकि वे विनाश की खोज में हैं। भगवान की बातें;
87 इसलिथे जो नाश किए गए हैं, वे फुर्ती से नाश किए गए हैं; और उनके भयानक जनोंकी भीड़ मिटती भूसी के समान होगी।
88 हां, परमेश्वर यहोवा यों कहता है: यह तुरन्त, अचानक होगा।
89 और ऐसा होगा, कि जो अविश्वास में घट गए हैं, वे अन्यजातियों के हाथ से मारे जाएंगे।
90 और अन्यजाति अपनी दृष्टि के घमण्ड से ऊंचे उठे हैं, और अपनी बड़ी ठोकर के कारण ठोकर खाई है, कि उन्होंने बहुत सी कलीसियाएं बनाई हैं;
91 तौभी वे परमेश्वर की सामर्थ और चमत्कारों को ढा देते हैं, और अपक्की बुद्धि और विद्या का प्रचार अपके लिथे करते हैं, कि लाभ प्राप्त करें, और कंगालोंपर पीसें;
92 और बहुत से गिरजे बनाए गए हैं जो डाह, और कलह, और द्वेष का कारण बनते हैं;
93 और शैतान के गठजोड़ के अनुसार पुराने समय की नाईं गुप्त मेल भी हैं, क्योंकि वह इन सब वस्तुओं का मूल है; हां, हत्या की नींव, और अन्धकार के काम;
94 वरन वह उन्हें सन की डोरी से उनके गले में तब तक ले चलता है, जब तक कि वह उन्हें अपक्की दृढ़ रस्सियोंसे सदा के लिये बान्ध न ले।
95 क्योंकि देखो, मेरे प्रिय भाइयों, मैं तुम से कहता हूं, कि परमेश्वर यहोवा अन्धकार में काम नहीं करता।
96 वह संसार के लाभ के सिवा कुछ नहीं करता; क्योंकि वह जगत से प्रेम रखता है, यहां तक कि अपना प्राण भी देता है, कि सब मनुष्योंको अपनी ओर खींच ले।
97 इसलिए, वह किसी को आज्ञा नहीं देता कि वे उसके उद्धार में भाग न लें ।
98 सुन, क्या वह किसी से पुकार कर कहता है, कि मेरे पास से चला जा?
99 देखो, मैं तुम से कहता हूं, नहीं; परन्तु उस ने कहा, हे पृय्वी के छोर तक मेरे पास आओ, दूध और मधु मोल ले बिना रूपए और दाम के।
100 देखो, क्या उस ने किसी को आज्ञा दी है, कि वे आराधनालयोंमें से या उपासना के घरोंमें से निकल जाएं?
101 देख, मैं तुझ से कहता हूं, नहीं।
102 क्या उस ने किसी को आज्ञा दी है, कि वे उसके उद्धार में भागी न हों?
103 देख, मैं तुझ से कहता हूं, नहीं; परन्तु उस ने सब मनुष्योंके लिथे नि:शुल्क दिया है; और उस ने अपक्की प्रजा को आज्ञा दी है, कि सब मनुष्योंको मन फिराव के लिथे समझाए।
104 देखो, क्या यहोवा ने किसी को आज्ञा दी है कि वे उसकी भलाई में भाग न लें?
105 सुन, मैं तुझ से कहता हूं, नहीं; परन्तु सब मनुष्यों को एक दूसरे के समान विशेषाधिकार प्राप्त हैं, और कोई भी वर्जित नहीं है।
106 वह आज्ञा देता है, कि याजक काम न करना; क्योंकि देखो, याजक के काम हैं, कि लोग प्रचार करें, और जगत के लिये ज्योति होने के लिथे अपने आप को स्थापित करें, कि वे लाभ पाएं, और जगत की स्तुति करें; परन्तु वे सिय्योन का कल्याण नहीं चाहते।
107 देख, यहोवा ने इस बात को मना किया है; इसलिए, भगवान भगवान ने एक आज्ञा दी है, कि सभी पुरुषों को दान करना चाहिए, जो दान प्रेम है ।
108 और जब तक उनके पास दान नहीं होना चाहिए, वे कुछ भी नहीं थे: इसलिए, यदि उनके पास दान होना चाहिए, तो वे सिय्योन के मजदूर को नष्ट नहीं होने देंगे ।
109 परन्तु सिय्योन का मजदूर सिय्योन के लिये परिश्र्म करे; क्‍योंकि यदि वे धन के लिथे परिश्रम करें, तो वे नाश हो जाएंगे।
110 और, फिर से, यहोवा परमेश्वर ने आज्ञा दी है कि मनुष्य हत्या न करें; कि वे झूठ न बोलें; कि वे चोरी न करें; कि वे अपके परमेश्वर यहोवा का नाम व्यर्थ न लें; कि वे ईर्ष्या न करें; कि उनमें द्वेष न हो; कि वे आपस में विवाद न करें; कि वे व्यभिचार न करें; और यह कि वे इनमें से कोई भी काम न करें;
111 क्योंकि जो कोई उन्हें करेगा वह नाश हो जाएगा; क्योंकि इन में से कोई भी अधर्म यहोवा की ओर से नहीं आता; क्योंकि वह वही करता है जो मनुष्योंमें भला है;
112 और वह मनुष्य के सन्तान के सिवा कुछ भी नहीं करता;
113 और वह उन सब को अपने पास आने, और उसकी भलाई में भागी होने का न्यौता देता है;
114 और वह अपने पास आनेवालोंको, चाहे वे श्वेत हों या गोरे, क्या बन्धुआ और स्वतन्त्र, क्या पुरुष क्या स्त्री किसी को भी वह इन्कार नहीं करता;
115 और वह अन्यजातियों को स्मरण करता है, और सब परमेश्वर के समान हैं, क्या यहूदी क्या अन्यजाति भी।
116 परन्तु देखो, अन्तिम दिनों में या अन्यजातियों के दिनों में; हां, अन्यजातियों के सभी राष्ट्रों को देखें, और यहूदियों को भी, जो इस प्रदेश पर आएंगे, और वे भी जो अन्य प्रदेशों में आएंगे; हां, यहां तक कि पृथ्वी के सारे देशों में भी; देखो, वे अधर्म और सब प्रकार के घिनौने कामोंमें मतवाले होंगे;
117 और जब वह दिन आएगा, तब वे गरजने और भूकम्प, और बड़े कोलाहल, और आँधी और आँधी, और भस्म करनेवाली आग की ज्वाला के साथ सेनाओं के यहोवा की सुधि लेंगे;
118 और जितने देश सिय्योन से लड़ेंगे, और जो उसको संकट में डालेंगे, वे सब रात के दर्शन के स्वप्न सा ठहरेंगे;
119 वरन उन पर ऐसा होगा जैसे कोई भूखा मनुष्य स्वप्न देखता है, और देखता है कि खाता तो है, परन्तु जागता और उसका प्राण खाली रहता है;
120 वा उस प्यासे के समान जो स्वप्न देखता है, और देखता है कि पीता है, परन्तु जागता है, और क्या देखता है, कि वह मूर्छित है, और उसके प्राण को भूख है।
121 हां, ऐसा ही सब जातियोंकी भीड़ सिय्योन पर्वत से लड़ने वाली होगी:
122 क्योंकि देखो, तुम सब जो अधर्म करते हो, ठहरे रहो और अचम्भा करो; क्योंकि तुम दोहाई दोगे, और दोहाई दोगे, हां, मतवाले तो होगे, परन्तु दाखमधु से नहीं; तुम डगमगाओगे, परन्तु पेय से नहीं;
123 क्योंकि देखो, यहोवा ने तुम पर गहरी नींद की आत्मा उण्डेल दी है।
124 क्योंकि देखो, तुम ने आंखें मूंद ली हैं, और भविष्यद्वक्ताओं और हाकिमों को ठुकरा दिया है, और दर्शी लोगों को उस ने तुम्हारे अधर्म के कारण ढांप लिया है।
125 और ऐसा होगा, कि प्रभु परमेश्वर तुम्हारे लिए एक पुस्तक की बातें सुनाएगा, और वे उनके वचन ठहरेंगे जो सो गए हैं।
126 और देखो, पुस्तक पर मुहर लगाई जाएगी, और उस पुस्तक में जगत के आदि से लेकर उसके अन्त तक परमेश्वर की ओर से एक प्रकाशन होगा।
127 इसलिए, जिन बातों पर मुहर लगाई गई है, वे लोगों की दुष्टता और घिनौने कामों के दिन में छुड़ाई न जाएंगी।
128 इस कारण पुस्तक उनके पास से रखी जाए।
129 परन्तु पुस्तक मनुष्य के हाथ में दी जाएगी, और वह उस पुस्तक की बातोंको जो उन लोगोंकी बातें हैं जो मिट्टी में मिल गई हैं, सुनाएगा; और वह इन बातों को दूसरे को सुनाएगा; परन्तु जिन बातों पर मुहर लगी हुई है, उन्हें वह न माने, और न पुस्तक को सौंपे।
130 क्योंकि पुस्तक परमेश्वर के सामर्थ से मुहर की जाएगी, और जिस प्रकाशन पर मुहर लगाई गई है, वह उस पुस्तक में तब तक रखा जाएगा, जब तक कि यहोवा का नियत समय न आ जाए, कि वे निकल आएं; क्योंकि देखो, वे सब कुछ प्रगट करते हैं। उसके अंत तक दुनिया की नींव।
131 और वह दिन आता है, कि जिस पुस्तक पर मुहर लगाई गई है, उसकी बातें छतोंपर पढ़ी जाएं; और वे मसीह की सामर्थ से पढ़े जाएंगे;
132 और सब बातें मनुष्यों पर प्रगट की जाएंगी, जो कभी मनुष्यों के बीच में रही हैं, और जो कभी होंगी, यहां तक कि पृथ्वी की छोर तक भी प्रगट होंगी।
133 इस कारण जिस दिन यह पुस्तक उस मनुष्य के हाथ में दी जाएगी, जिसके विषय में मैं ने कहा है, वह पुस्तक जगत की आंखों से छिपी रहेगी, कि तीन गवाहों को छोड़ किसी की आंखें न देखें। यह, परमेश्वर की शक्ति से, उसके अलावा जिसके पास पुस्तक पहुंचाई जाएगी; और वे उस पुस्तक और उस में की बातोंकी सच्चाई की गवाही देंगे।
134 और कोई दूसरा नहीं जो इसे देखेगा, केवल थोड़े ही होंगे, जो परमेश्वर की इच्छा के अनुसार उसके वचन की गवाही मनुष्य के सन्तान को दे; क्योंकि यहोवा परमेश्वर ने कहा है, कि विश्वासयोग्य के वचन ऐसे बोलो मानो वह मरे हुओं में से हो।
135 इसलिए, प्रभु परमेश्वर पुस्तक के वचनों को आगे बढ़ाएगा; और जितने साक्षियोंके मुंह से उसे अच्छा लगे, वही अपके वचन को दृढ़ करेगा; और उस पर हाय जो परमेश्वर के वचन को झुठलाता है।
136 लेकिन देखो, ऐसा होगा कि प्रभु परमेश्वर उस से कहेगा जिसे वह पुस्तक देगा, इन बातों को ले, जिन पर मुहर नहीं लगी है, और उन्हें दूसरे को सौंप दें, ताकि वह उन्हें विद्वानों को यह कहते हुए बताए, इसे पढ़ें, मैं आपसे प्रार्थना करता हूं।
137 और विद्वान कहेंगे, पुस्तक यहां ले आओ, और मैं उन्हें पढ़ूंगा;
138 और अब वे जगत के तेज के कारण और लाभ पाने के लिथे यह कहेंगे, न कि परमेश्वर की महिमा के लिथे।
139 और वह पुरूष कहेगा, कि मैं पुस्तक नहीं ला सकता, क्योंकि उस पर मुहर लगी है।
140 तब विद्वान कहेंगे, मैं उसे नहीं पढ़ सकता।
141 इसलिए, ऐसा होगा, कि प्रभु परमेश्वर उस पुस्तक और उसकी बातों को फिर से उस को सौंप देगा, जो सीखा हुआ नहीं है; और जो सीखा नहीं है, वह कहेगा, मैं विद्वान नहीं हूं।
142 तब परमेश्वर यहोवा उस से कहेगा, कि विद्वान उन्हें न पढ़ेंगे, क्योंकि उन्होंने उनको तुच्छ जाना है, और मैं अपना काम करने के योग्य हूं; इसलिए, तुम उन शब्दों को पढ़ोगे जो मैं तुम्हें दूंगा ।
143 जिन पर मुहर लगी हुई है उन्हें मत छू, क्योंकि मैं उन्हें अपने नियत समय पर निकालूंगा; क्योंकि मैं मनुष्यों को बताऊंगा, कि मैं अपना काम स्वयं कर सकता हूं।
144 इसलिए, जब तू उन वचनों को पढ़कर जिनकी मैं ने तुझे आज्ञा दी है, और उन गवाहों को प्राप्त कर लें, जिनकी प्रतिज्ञा मैं ने तुझ से की है, तो उस पुस्तक पर फिर मुहर लगाना, और उसे मेरे पास छिपा देना, कि मैं उन वचनों को सुरक्षित रखूं जो तू ने कहा है मैं ने तब तक नहीं पढ़ा, जब तक कि मैं अपनी बुद्धि में ठीक न समझ पाऊं, कि सब बातें मनुष्यों पर प्रगट करूं।
145 क्योंकि देखो, मैं परमेश्वर हूं; और मैं चमत्कारों का परमेश्वर हूं; और मैं जगत को बताऊंगा, कि मैं कल, आज और युगानुयुग वही हूं; और मैं मनुष्यों के बीच काम नहीं करता, केवल उनके विश्वास के अनुसार।
146 और फिर ऐसा होगा, कि प्रभु उस से कहेगा जो उन वचनों को पढ़ेगा जो उसे सौंपे जाएंगे, क्योंकि ये लोग अपने मुंह से मेरे निकट आते हैं, और अपने होठों से मेरा आदर करते हैं, परन्तु हटा दिए हैं उनके हृदय मुझ से दूर हैं, और उनका भय मुझ से दूर है, जो मनुष्यों के उपदेशों द्वारा सिखाया जाता है, इसलिए, मैं इन लोगों के बीच एक अद्भुत काम करने के लिए आगे बढ़ूंगा;
147 वरन अद्‌भुत काम और अचम्भा है, क्योंकि उनके बुद्धिमान और विद्वान का ज्ञान नाश हो जाएगा, और उनके विवेक की समझ छिपी रहेगी।
148 और उन पर हाय जो अपक्की युक्ति को यहोवा से छिपाना चाहते हैं।
149 और उनके काम अन्धेरे में हैं; और वे कहते हैं, कि हम को कौन देखता है; और हमें कौन जानता है?
150 और वे यह भी कहते हैं, कि निश्चय तेरी वस्तुएं उलटी करना कुम्हार की मिट्टी की नाईं ठहरेगा।
151 परन्तु देखो, सेनाओं के यहोवा की यह वाणी है, कि मैं उनको दिखाऊंगा, कि मैं उनके सब कामोंको जानता हूं।
152 क्योंकि उसके बनानेवाले के काम क्या कहेंगे, उस ने मुझे नहीं बनाया?
153 वा गढ़ी हुई वस्तु उसके गढ़नेवाले के विषय में कहे, कि उस को समझ नहीं थी?
154 परन्तु देखो, सेनाओं के यहोवा की यह वाणी है, कि मैं मनुष्योंको बताऊंगा, कि अभी थोड़ा ही समय हुआ है, और लबानोन उपजाऊ भूमि में बदल जाएगा; और फलदायी खेत वन के समान समझी जाए।
155 और उस समय बहरे पुस्तक की बातें सुनेंगे; और अन्धों की आंखें अन्धकार में से और अन्धकार में से देख सकेंगी।
156 और नम्र लोग बढ़ेंगे, और उनका आनन्द यहोवा के कारण होगा; और मनुष्य के दरिद्र इस्राएल के पवित्र के कारण आनन्दित होंगे।
157 क्योंकि यहोवा के जीवन की शपय नि:सन्देह, वे देखेंगे, कि वह भयानक नाश किया जाएगा, और ठट्ठा करनेवाला नाश हो जाएगा, और जितने अधर्म के पहरेदार हैं सब नाश किए जाएंगे; और जो किसी बात के कारण मनुष्य को अपराधी ठहराते हैं, और जो निन्दा करते हैं उसके लिथे फाटक में फन्दा लगाते हैं, और धर्मी को व्यर्थ की वस्तु से दूर करते हैं।
158 इसलिथे यहोवा, जिस ने इब्राहीम को याकूब के घराने के विषय में छुड़ा लिया, योंकहता है, कि याकूब अब न लज्जित होगा, और न उसका मुंह पीला होगा।
159 परन्तु जब वह अपक्की सन्तान अर्थात मेरे हाथ के कामोंको उसके बीच में देखे, तब वे मेरे नाम को पवित्र करें, और याकूब के पवित्र को पवित्र करें, और इस्राएल के परमेश्वर का भय मानें।
160 वे भी जो आत्मा में गलती करते हैं, समझ में आ जाएंगे, और वे जो कुड़कुड़ाते हैं वे सिद्धांत सीखेंगे।

 

2 नफी, अध्याय 12
1 और अब, देखो, मेरे भाइयों, मैं ने तुम से वैसे ही बातें की हैं जैसे आत्मा ने मुझे विवश किया है; इसलिए, मैं जानता हूं कि उन्हें अवश्य ही पूरा करना होगा ।
2 और जो बातें उस पुस्तक में लिखी जाएंगी, वे मनुष्योंके लिथे, और निज करके हमारे वंश के लिथे जो इस्राएल के घराने के बचे हुए हैं, बड़ी मूल्यवान होंगी।
3 क्योंकि उस दिन जो गिरजे बनते हैं, वे यहोवा की ओर से नहीं, वरन बनाए जाते हैं, जब एक दूसरे से कहेगा, कि देख, मैं यहोवा का हूं; और दूसरा कहे, मैं यहोवा का हूं।
4 और हर एक यह कहेगा, कि जिस ने गिरजे बनाए, यहोवा के लिथे नहीं;
5 और वे आपस में झगड़ेंगे; और उनके याजक आपस में झगड़ेंगे; और वे अपनी विद्या से शिक्षा देंगे, और पवित्र आत्मा का इन्कार करेंगे, जो वचन देती है।
6 और वे परमेश्वर की सामर्थ का इन्कार करते हैं, जो इस्राएल का पवित्र है; और वे लोगों से कहते हैं, हमारी सुनो, और हमारा उपदेश सुनो;
7 क्योंकि देखो, आज कोई परमेश्वर नहीं है, क्योंकि यहोवा और छुड़ानेवाले ने अपना काम किया है, और अपनी शक्ति मनुष्यों को दी है।
8 देख, मेरे उपदेश पर कान लगा; यदि वे कहें कि यहोवा के द्वारा कोई चमत्कार हुआ है, तो उसकी प्रतीति न करना; क्योंकि वह आज के दिन चमत्कारों का परमेश्वर नहीं है; उसने अपना काम कर लिया है।
9 हां, और बहुत से लोग होंगे जो कहेंगे, खा, पीओ, और आनन्द मनाओ, क्योंकि कल हम मरेंगे: और हमारा भला होगा।
10 और बहुत से लोग होंगे जो कहेंगे, खा, पीओ, और आनन्द मनाओ; तौभी परमेश्वर का भय मान, वह एक छोटा सा पाप करने में धर्मी ठहराएगा: हां, थोड़ा झूठ बोलो, उसके वचनों के कारण उसका लाभ उठाओ, अपने पड़ोसी के लिए गड्ढा खोदो; इसमें कोई बुराई नहीं है।
11 और ये सब काम करो, क्योंकि कल हम मरेंगे; और यदि हम दोषी ठहरें, तो परमेश्वर हमें कुछ कोड़े मारेगा, और अन्त में परमेश्वर के राज्य में हमारा उद्धार होगा।
12 हां, और बहुत से ऐसे होंगे जो इस रीति से झूठे, और व्यर्थ, और मूढ़ सिद्धांतों की शिक्षा देंगे, और अपने हृदयों में फूले हुए होंगे, और अपनी युक्तियों को प्रभु से छिपाने की खोज में होंगे; और उनके काम अन्धेरे में होंगे; और पवित्र लोगों का लोहू भूमि पर से उनके साम्हने दोहाई देगा।
13 हां, वे सब मार्ग से निकल गए हैं; वे भ्रष्ट हो गए हैं।
14 घमण्ड, और झूठे उपदेशकों, और झूठी शिक्षा के कारण उनकी कलीसियाएं भ्रष्ट हो गई हैं; और उनकी कलीसियाओं को ऊंचा किया जाता है; अभिमान के कारण वे फूले हुए हैं।
15 वे कंगालों को उनके उत्तम पवित्रस्थानों के कारण लूटते हैं; वे कंगालों को उनके उत्तम वस्त्रों के कारण लूटते हैं; और वे दीन को, और कंगालोंको मन से सताते हैं; क्योंकि वे अपने अभिमान में फूले हुए हैं।
16 वे कठोर गरदनें और सिर ऊंचे पहिने हुए हैं; हां, और घमण्ड, और दुष्टता, और घिनौने कामों, और व्यभिचार के कारण, वे सब भटक गए हैं, केवल थोड़े ही हैं, जो मसीह के विनम्र अनुयायी हैं;
17 तौभी उनकी अगुवाई की जाती है, कि वे बहुत से मामलों में भूल करते हैं, क्योंकि वे मनुष्यों के उपदेशों के अनुसार सिखाए जाते हैं।
18 हे बुद्धिमानों, और ज्ञानियों, और धनवानों, जो अपने मन के घमण्ड से फूले हुए हैं, और वे सब जो झूठी शिक्षा देते हैं, और वे सब जो करते हैं
व्यभिचार, और यहोवा का सीधा मार्ग बिगाड़ना; धिक्कार है, उन पर धिक्कार है, सर्वशक्तिमान परमेश्वर यहोवा की यही वाणी है, क्योंकि वे नरक में डाले जाएंगे।
19 धिक्कार है उन पर जो धर्मी को व्यर्थ की वस्तु के लिये फेर देते हैं, और भलाई की निन्दा करते हैं, और कहते हैं कि उसका कोई मूल्य नहीं है:
20 क्योंकि वह दिन आएगा, कि यहोवा परमेश्वर पृय्वी के निवासियोंपर शीघ्र चढ़ाई करेगा; और उस दिन जब वे अधर्म के पके हुए हों, तब वे नाश हो जाएंगे।
21 परन्तु देखो, यदि पृथ्वी के निवासी अपनी दुष्टता और घिनौने कामों से मन फिराएं, तो उनका विनाश न किया जाएगा, सेनाओं के यहोवा की यही वाणी है ।
22 परन्तु देखो, वह महान और घिनौनी कलीसिया, जो सारी पृय्वी की वेश्या है, पृय्वी पर गिर पड़ेगी; और उसका पतन महान होगा:
23 क्योंकि शैतान का राज्य हिलेगा, और उसके जो उसके हैं, उन्हें मन फिराव के लिये उभारा जाना चाहिए, नहीं तो शैतान उन्हें अपनी सदा की जंजीरों से जकड़ लेगा, और वे क्रोधित होकर नाश हो जाएंगे।
24 क्योंकि देखो, उस दिन वह मनुष्योंके मनोंमें क्रोध करेगा, और भलाई के विरोध में उन्हें भड़काएगा;
25 और औरोंको वह शान्त करेगा, और उन्हें देह के वश में कर देगा, और वे कहेंगे, सिय्योन में सब ठीक है; हां, सिय्योन समृद्ध होता है, सब कुशल से है;
26 और इस प्रकार शैतान उनकी आत्माओं को धोखा देता है, और उन्हें सावधानी से नरक में ले जाता है ।
27 और देखो, वह दूसरों की चापलूसी करता है, और उन से कहता है, कि कोई नरक नहीं है; और उस ने उन से कहा, मैं कोई शैतान नहीं, क्योंकि कोई नहीं।
28 और वह उनके कानोंमें यों ही फुसफुसाता है, जब तक कि वह उन्हें अपनी भयानक जंजीरोंसे न पकड़ ले, तब से कोई छुटकारा नहीं।
29 हां, वे मृत्यु और नरक में जकड़े हुए हैं; और मृत्यु, और नरक, और शैतान, और जितने उस से पकड़े गए हैं, वे सब परमेश्वर के सिंहासन के साम्हने खड़े हों, और उनके कामोंके अनुसार उनका न्याय किया जाए, जहां से वे उस स्थान में जाएं जो उनके लिथे तैयार किया गया है, यहां तक कि आग की झील भी और गन्धक, जो अनन्त पीड़ा है।
30 इस कारण उस पर हाय जो सिय्योन में सुखी है।
31 उस पर हाय जो चिल्लाए, सब कुशल से है; हां, उस पर धिक्कार है जो मनुष्यों के उपदेशों को मानता है, और परमेश्वर की शक्ति, और पवित्र आत्मा के उपहार का इन्कार करता है ।
32 हां, उस पर धिक्कार है जो कहता है, कि हम ने पा लिया है, और अब हमें उसकी आवश्यकता नहीं है ।
33 और उन सब पर हाय, जो थरथराते और परमेश्वर की सच्चाई के कारण क्रोधित होते हैं।
34 क्योंकि देखो, जो चट्टान पर बनाया जाता है, वह आनन्द से ग्रहण करता है; और जो बालू की नेव पर बनाया जाता है, वह थरथराता है, कहीं ऐसा न हो कि वह गिर पड़े।
35 उस पर धिक्कार है जो कहेगा, कि हमें परमेश्वर का वचन मिल गया है, और हमें परमेश्वर के वचन की और आवश्यकता नहीं है, क्योंकि हमारे पास पर्याप्त है।
36 क्योंकि देखो, परमेश्वर यहोवा यों कहता है: मैं मनुष्यों को आज्ञा के अनुसार आज्ञा, थोडी, थोडी, लाइन अप लाइन दूंगा;
37 और धन्य हैं वे जो मेरे उपदेशों को मानते हैं, और मेरी युक्ति पर कान लगाते हैं, क्योंकि वे ज्ञान सीखेंगे;
38 क्योंकि जो प्राप्त करेगा, मैं उसे और दूंगा; और जो कहेंगे, हमारे पास बहुत है, वह भी ले लिया जाएगा, जो उनका है।
39 शापित है वह, जो मनुष्य पर भरोसा रखता है, वा अपने हाथ को मांस बनाता है, या मनुष्यों की आज्ञाओं को सुनता है, केवल उनके उपदेश पवित्र आत्मा की शक्ति के द्वारा दिए जाएंगे।
40 अन्यजातियों पर हाय, सेनाओं के परमेश्वर यहोवा की यही वाणी है; तौभी मैं दिन प्रतिदिन अपक्की भुजा उन की ओर बढ़ाऊंगा, तौभी वे मेरा इन्कार करेंगे;
41 तौभी, यदि वे मन फिराकर मेरे पास आएंगे, तो परमेश्वर यहोवा की यही वाणी है, मैं उन पर दया करूंगा; क्योंकि मेरा हाथ दिन भर बढ़ा हुआ है, सेनाओं के परमेश्वर यहोवा की यही वाणी है।
42 परन्तु देखो, उस दिन बहुत से लोग होंगे, जब मैं उनके बीच एक अद्भुत काम करने के लिए आगे बढ़ूंगा, कि मैं अपनी उन वाचाओं को याद रख सकूं जो मैंने मानव संतान से की हैं, कि मैं दूसरी बार अपना हाथ फिर से स्थापित कर सकूं मेरी प्रजा को जो इस्त्राएल का घराना है, फिर से छुड़ाना;
43 और यह भी, कि मैं उन प्रतिज्ञाओं को याद रख सकूं जो मैंने तुमसे, नफी, और तुम्हारे पिता से की हैं, कि मैं तुम्हारे वंश को याद रखूंगा; और तेरे वंश की बातें मेरे मुंह से निकलकर तेरे वंश की ओर बढ़ें।
44 और मेरी बातें पृय्वी की छोर तक सुनाई देंगी, क्योंकि मेरी प्रजा इस्राएल के घराने के लोगोंके लिथे एक झण्डा है।
45 और मेरे वचनोंके सुनने के कारण बहुत से अन्यजाति कहेंगे, एक बाईबल, एक बाईबल, हमारे पास एक बाईबल है, और कोई बाईबल नहीं हो सकती।
46 परन्तु परमेश्वर यहोवा यों कहता है, हे मूर्खों, उनके पास एक बाइबल होगी; और वह यहूदियों से निकलेगा, हे मेरी प्राचीन वाचा के लोग।
47 और जो बाईबल उन्हें उन से मिली, उसके लिथे यहूदियोंका क्या धन्यवाद?
48 हां, अन्यजातियों का क्या अर्थ है?
49 क्या वे अन्यजातियोंका उद्धार करने में यात्रा, और परिश्र्म, और यहूदियोंकी पीड़ा, और मेरे प्रति उनके परिश्रम को स्मरण करते हैं?
50 हे अन्यजातियों, हे मेरी प्राचीन वाचा के लोगों, क्या तुम ने यहूदियोंको स्मरण किया है?
51 नहीं; परन्तु तुम ने उन्हें शाप दिया, और उन से बैर किया, और उन्हें छुड़ाने की चेष्टा नहीं की।
52 परन्तु देखो, मैं ये सब वस्तुएं तेरे ही सिर पर फेर दूंगा; क्योंकि मैं यहोवा अपनी प्रजा को नहीं भूला।
53 हे मूर्ख, जो कहेगा, कि एक बाईबल है, हमारे पास एक बाईबल है, और हमें फिर बाईबल की आवश्यकता नहीं है।
54 क्या तुम्हें कोई बाइबल मिली है, सिवाय यहूदियों के?
55 क्या तुम नहीं जानते कि एक से अधिक जातियां हैं?
56 क्या तुम नहीं जानते, कि मैं, तुम्हारे परमेश्वर यहोवा ने सब मनुष्यों की सृष्टि की है, और जो समुद्र के द्वीपों पर रहते हैं उनको मैं स्मरण करता हूं; और मैं ऊपर के आकाश में, और नीचे की पृथ्वी पर राज्य करता हूं;
57 और मैं अपना वचन मानव संतानों तक पहुंचाता हूं, हां, यहां तक कि पृथ्वी की सारी जातियों पर भी ?
58 इसलिये तुम कुड़कुड़ाते हो, कि तुम मेरे वचन को और ग्रहण करोगे?
59 क्या तुम नहीं जानते, कि दो जातियोंकी गवाही तुम्हारे लिये साक्षी है, कि मैं परमेश्वर हूं, कि मैं एक जाति को दूसरी जाति के समान स्मरण करता हूं?
60 इसलिए, मैं एक राष्ट्र से दूसरे राष्ट्र के समान ही बातें कहता हूं ।
61 और जब दोनों जातियां एक साथ दौड़ेंगी, तब दोनों जातियोंकी गवाही भी साथ-साथ चलेगी।
62 और मैं यह इसलिये करता हूं, कि बहुतोंसे प्रमाणित करूं, कि मैं कल, आज और युगानुयुग वही हूं; और मैं अपक्की इच्छा के अनुसार अपक्की बातें कहता हूं।
63 और जब कि मैं ने एक शब्द कहा है, तो यह न समझना कि मैं दूसरा नहीं बोल सकता; क्योंकि मेरा काम अभी पूरा नहीं हुआ है; मनुष्य के अन्त तक ऐसा न होगा; न तो उस समय से आगे और हमेशा के लिए।
64 इसलिए, क्योंकि तुम्हारे पास बाइबल है, तुम्हें यह मानने की आवश्यकता नहीं है कि उसमें मेरे सारे वचन हैं; न तो तुम्हें यह सोचने की ज़रूरत है कि मैंने और अधिक लिखा नहीं है:
65 क्योंकि मैं पूर्व, और पश्चिम, और उत्तर, दक्खिन, और समुद्र के द्वीपोंमें सब मनुष्योंको आज्ञा देता हूं, कि जो वचन मैं उन से कहूं वे लिख डालें:
66 क्योंकि जो पुस्तकें लिखी जाएंगी, उन में से मैं जगत का न्याय उसके कामोंके अनुसार, और जो लिखा है उसके अनुसार करूंगा।
67 क्योंकि देखो, मैं यहूदियों से बातें करूंगा, और वे उसे लिखेंगे:
68 और मैं नफाइयों से भी बोलूंगा, और वे इसे लिखेंगे;
69 और मैं इस्त्राएल के घराने के अन्य गोत्रोंसे भी जिन को मैं ले चला आया हूं, बातें करूंगा, और वे उसे लिखेंगे;
70 और मैं पृय्वी की सब जातियोंसे भी बातें करूंगा, और वे उसे लिखेंगे।
71 और ऐसा होगा कि यहूदियों के पास नफाइयों की बातें होंगी, और नफाइयों के पास यहूदियों की बातें होंगी:
72 और नफाइयों और यहूदियों के पास इस्राएल के खोए हुए गोत्रों की बातें होंगी; और इस्राएल के खोए हुए गोत्रों के पास नफाइयों और यहूदियों के वचन होंगे ।
73 और ऐसा होगा कि मेरी प्रजा जो इस्राएल के घराने के हैं, अपनी संपत्ति के प्रदेशों में अपने घर इकट्ठे हो जाएंगे; और मेरा वचन भी एक में इकट्ठा किया जाएगा।
74 और जो मेरे वचन और मेरी प्रजा के विरुद्ध लड़ेंगे, जो इस्राएल के घराने के हैं, उन्हें मैं बताऊंगा, कि मैं परमेश्वर हूं, और मैं ने इब्राहीम से वाचा बान्धी है, कि मैं उसके वंश को सदा स्मरण रखूंगा।
75 और अब, देखो, मेरे प्यारे भाइयों, मैं तुमसे बात करूंगा: क्योंकि मैं, नफी, यह नहीं सहूंगा कि तुम यह मानो कि तुम अन्यजातियों से अधिक धर्मी हो ।
76 क्योंकि देखो, जब तक तुम परमेश्वर की आज्ञाओं का पालन नहीं करोगे, वैसे ही तुम सब भी नष्ट हो जाओगे; और जो बातें कही गई हैं, उनके कारण तुम्हें यह समझने की आवश्यकता नहीं है कि अन्यजाति पूरी तरह से नष्ट हो गए हैं ।
77 क्योंकि देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि जितने अन्यजाति मन फिराएंगे, वे यहोवा की वाचा की प्रजा हैं; और जितने यहूदी मन फिराव न करेंगे, उतने ही निकाल दिए जाएंगे;
78 क्योंकि यहोवा किसी से वाचा नहीं बाँधता, केवल उनके साथ जो मन फिराएं और अपने पुत्र पर विश्वास करें, जो इस्राएल का पवित्र है।
79 और अब, मैं यहूदियों और अन्यजातियों के विषय में कुछ और भविष्यवाणी करूंगा ।
80 क्योंकि जिस पुस्तक के विषय में मैं ने कहा है, उसके बाद वे निकलकर अन्यजातियोंके लिथे लिखी जाएंगी, और यहोवा के लिथे उस पर मुहर की जाएंगी, बहुत से ऐसे होंगे जो लिखी हुई बातोंकी प्रतीति करेंगे; और वे उन्हें हमारे वंश के बचे हुओं तक पहुंचाएंगे ।
81 और तब हमारे वंश के बचे हुए लोग हमारे विषय में जानेंगे, कि हम यरूशलेम से कैसे निकले, और वे यहूदियोंके वंशज हैं।
82 और उनके बीच यीशु मसीह का सुसमाचार सुनाया जाएगा; इसलिए, उन्हें उनके पूर्वजों के ज्ञान में, और यीशु मसीह के ज्ञान में भी बहाल किया जाएगा, जो उनके पूर्वजों के बीच था ।
83 तब वे आनन्दित होंगे; क्योंकि वे जान लेंगे कि यह उनके लिये परमेश्वर की ओर से आशीष है;
84 और उन की आंखोंसे अन्धकार की परत गिरने लगेगी, और उनके बीच बहुत पीढ़ी न टलेगी, केवल गोरे और मनोहर प्रजा के लोग होंगे।
85 और ऐसा होगा कि बिखरे हुए यहूदी भी मसीह में विश्वास करने लगेंगे: और वे पूरे प्रदेश में इकट्ठा होने लगेंगे;
86 और जितने लोग मसीह पर विश्वास करेंगे, वे प्रसन्‍न प्रजा बनेंगे।
87 और ऐसा होगा कि प्रभु परमेश्वर पृथ्वी पर अपने लोगों की पुनर्स्थापना करने के लिए सभी राष्ट्रों, जातियों, भाषाओं और लोगों के बीच अपना कार्य प्रारंभ करेगा ।
88 और यहोवा परमेश्वर कंगालोंका न्याय धर्म से करेगा, और पृय्वी के दीन लोगोंको सच्चाई से ताड़ना देगा।
89 और वह अपके मुंह की छड़ी से पृय्वी पर वार करे; और वह अपके होठोंके फूंक से दुष्टोंको घात करेगा;
90 क्योंकि वह समय शीघ्र आता है, कि यहोवा परमेश्वर प्रजा में फूट डालेगा; और दुष्टोंको वह नाश करेगा; और वह अपके लोगोंको छोड़ देगा, हां, चाहे वह दुष्टोंको आग से नाश करे ।
91 और धर्म उसकी कमर का बन्धन, और सच्चाई उसकी लगाम की पटिया होगी।
92 तब भेड़िया भेड़ के बच्चे के संग रहेगा, और चीता उसके बच्चे के संग सोएगा; और बछड़ा, और जवान सिंह, और मोटा-मोटा एक संग; और एक छोटा बालक उनकी अगुवाई करेगा।
93 और गाय और भालू चरेंगे; उनके बच्चे एक संग लेटे रहेंगे, और सिंह बैल की नाईं भूसा खाएगा।
94 और दूध पिलाने वाला बच्चा सांप के छेद पर खेलेगा, और दूध छुड़ाया हुआ बच्चा मुर्गे की मांद पर अपना हाथ रखेगा।
95 मेरे सारे पवित्र पर्वत पर न तो वे हानि पहुंचाएंगे और न नाश करेंगे; क्योंकि पृथ्वी यहोवा के ज्ञान से ऐसी भर जाएगी जैसा जल समुद्र में भरा रहता है।
96 इसलिए, सब जातियों की बातें प्रगट की जाएंगी: हां, सब बातें मनुष्यों पर प्रगट की जाएंगी ।
97 कुछ भी गुप्त नहीं, केवल प्रगट किया जाएगा; अन्धकार का कोई कार्य नहीं है, सिवाय इसे प्रकाश में प्रगट होने के; और कुछ भी नहीं, जो पृय्वी पर मुहरबंद है, केवल वह खुला रहेगा।
98 इसलिए, वह सब बातें जो मानव संतानों पर प्रगट की गई हैं, उसी दिन प्रगट की जाएंगी;
99 और शैतान का मनुष्यों के मनों पर अधिक समय तक अधिकार न रहेगा।
100 और अब मेरे प्रिय भाइयों, मुझे अपनी बातें समाप्त करनी चाहिए।

 

2 नफी, अध्याय 13
1 और अब मैं, नफी, मेरे प्रिय भाइयों, तुम्हारे लिए अपनी भविष्यवाणी को समाप्त करता हूं ।
2 और मैं नहीं लिख सकता, केवल चंद बातें, जो मैं जानता हूं, अवश्य पूरी होंगी; मैं अपने भाई याकूब के कुछ शब्दों को नहीं लिख सकता।
3 इसलिथे कि जो कुछ मैं ने लिखा है, वह मेरे लिये काफ़ी है, केवल चंद बातें जो मुझे मसीह की शिक्षा के विषय में कहनी हैं, वे ही हैं; इसलिए मैं अपनी भविष्यवाणी की स्पष्टता के अनुसार तुमसे स्पष्ट रूप से बात करूंगा ।
4 क्योंकि मेरा मन प्रसन्नता से प्रसन्न होता है, क्योंकि यहोवा परमेश्वर मनुष्योंके बीच इसी रीति से काम करता है।
5 क्योंकि यहोवा परमेश्वर समझ को प्रकाश देता है, क्योंकि वह मनुष्योंसे उनकी भाषा और उनकी समझ के अनुसार बातें करता है।
6 इसलिए, मैं चाहता हूं कि तुम याद रखो कि मैंने तुमसे उस भविष्यवक्ता के बारे में कहा है जिसे प्रभु ने मुझे दिखाया था, जो परमेश्वर के मेम्ने को बपतिस्मा देगा, जो संसार के पाप को दूर करेगा ।
7 और अब, यदि परमेश्वर का मेम्ना, पवित्र होने के कारण, सभी धार्मिकता को पूरा करने के लिए जल से बपतिस्मा लेने की आवश्यकता है, तो ओह, हमें अपवित्र होने के कारण, बपतिस्मा लेने की और क्या आवश्यकता है, हां, पानी से भी ।
8 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, मैं तुम से पूछता हूं, कि परमेश्वर के मेम्ने ने जल से बपतिस्मा लेने के द्वारा सभी धार्मिकता को कहां पूरा किया? क्या तुम नहीं जानते कि वह पवित्र था?
9 परन्तु पवित्र होते हुए भी, वह मनुष्यों को दिखाता है, कि शरीर के अनुसार, वह पिता के सामने अपने आप को दीन करता है, और पिता को गवाही देता है कि वह उसकी आज्ञाओं को मानने में उसका आज्ञाकारी होगा;
10 इसलिए, पानी से बपतिस्मा लेने के बाद, पवित्र आत्मा कबूतर के रूप में उस पर उतरा ।
11 और फिर: वह मनुष्य के बच्चों को मार्ग की सीधीता, और उस फाटक की संकीर्णता, जिसके द्वारा उन्हें प्रवेश करना चाहिए, दिखाता है, वह उनके सामने एक आदर्श प्रस्तुत करता है ।
12 तब उस ने मनुष्योंसे कहा, मेरे पीछे हो ले।
13 इसलिए, मेरे प्रिय भाइयों, क्या हम यीशु का अनुसरण कर सकते हैं, सिवाय इसके कि हम पिता की आज्ञाओं को मानने के लिए तैयार हों?
14 पिता ने कहा, मन फिराओ, मन फिराओ, और मेरे प्रिय पुत्र के नाम से बपतिस्मा लो।
15 और यह भी, कि पुत्र का यह शब्द मेरे पास पहुंचा, कि जो मेरे नाम से बपतिस्मा लेता है, पिता उसे मेरी नाईं पवित्र आत्मा देगा; इसलिए, मेरे पीछे हो लो, और वही काम करो जो तुम ने मुझे करते देखा है ।
16 इसलिए, मेरे प्यारे भाइयों, मैं जानता हूं कि यदि तुम परमेश्वर के सामने कोई कपट और छल नहीं करते, परन्तु सच्चे इरादे से, अपने पापों का पश्चाताप करते हुए, पिता को गवाही देते हुए, पूरे मन से पुत्र का अनुसरण करेंगे, कि तुम तैयार हो बपतिस्मा के द्वारा आप पर मसीह का नाम लेने के लिए; हां, अपने प्रभु और अपने उद्धारकर्ता के पीछे उसके वचन के अनुसार पानी में उतर कर; देखो, तब तुम पवित्र आत्मा प्राप्त करोगे;
17 वरन आग और पवित्र आत्मा का बपतिस्मा आता है; तब तुम स्वर्गदूतों की जीभ से बातें कर सकते हो, और इस्राएल के पवित्र का जयजयकार कर सकते हो।
18 लेकिन देखो, मेरे प्यारे भाइयों, बेटे की आवाज मुझे इस प्रकार सुनाई दी, जब तुमने अपने पापों का पश्चाताप किया है, और पिता को साक्षी दी है कि तुम पानी के बपतिस्मा के द्वारा मेरी आज्ञाओं का पालन करने के इच्छुक हो, और आग और पवित्र आत्मा का बपतिस्मा प्राप्त किया है, और एक नई जीभ के साथ बात कर सकते हैं, हां, यहां तक कि स्वर्गदूतों की जीभ से भी, और इसके बाद, मुझे अस्वीकार करना चाहिए, यह तुम्हारे लिए बेहतर होता, कि तुम मुझे नहीं जानते थे .
19 और मैं ने पिता से यह शब्द सुना, कि हां, मेरे प्रिय की बातें सच और विश्वासयोग्य हैं।
20 जो अन्त तक धीरज धरे रहेगा, उसी का उद्धार होगा।
21 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, मैं इस से जानता हूं, कि जब तक कोई मनुष्य जीवित परमेश्वर के पुत्र के उदाहरण का अनुसरण करते हुए अंत तक धीरज धरेगा, वह उद्धार नहीं पाएगा;
22 सो जो काम मैं ने तुम से कहा है, वही मैं ने देखा है, कि तुम्हारा पालनहार और तुम्हारा छुड़ाने वाला करे:
23 क्‍योंकि वे मुझे इसी कारण बताए गए हैं, कि तुम उस फाटक को जान सको जिस से तुम्हें प्रवेश करना है।
24 क्योंकि जिस फाटक से तुम प्रवेश करोगे वह है मन फिराव और जल का बपतिस्मा, और तब आग और पवित्र आत्मा के द्वारा तुम्हारे पापों की क्षमा आती है।
25 और फिर तुम इस तंग और संकरे रास्ते में हो जो अनन्त जीवन की ओर ले जाता है; हां, तुम फाटक से भीतर आए हो; तुम ने पिता और पुत्र की आज्ञाओं के अनुसार किया है;
26 और तुम ने पवित्र आत्मा को प्राप्त किया है, जो पिता और पुत्र की गवाही देता है, उस प्रतिज्ञा को पूरा करने के लिए जो उसने की है, कि यदि तुम मार्ग से प्रवेश करते हो, तो तुम्हें प्राप्त करना चाहिए ।
27 और अब, मेरे प्यारे भाइयों, जब तुम इस तंग और संकरे रास्ते पर पहुंच जाओगे, तो मैं पूछूंगा, क्या सब कुछ हो गया?
28 देखो, मैं तुम से कहता हूं, नहीं; क्योंकि तुम अब तक नहीं आए हो, केवल मसीह के वचन के द्वारा, उस पर अटल विश्वास के साथ, उसके गुणों पर पूरी तरह से भरोसा करते हुए, जो बचाने में पराक्रमी है;
29 इसलिए, आशा की परिपूर्ण चमक, और परमेश्वर और सब मनुष्यों से प्रेम रखते हुए, तुम मसीह में दृढ़ता के साथ आगे बढ़ते रहो ।
30 इसलिए, यदि तुम मसीह के वचन का आनंद लेते हुए आगे बढ़ते रहो, और अंत तक धीरज धरते रहो, देखो, पिता यों कहता है: तुम्हारे पास अनन्त जीवन होगा ।
31 और अब देखो, मेरे प्रिय भाइयों, मार्ग यह है; और न कोई दूसरा मार्ग है, और न स्वर्ग के नीचे कोई नाम दिया गया है, जिस से मनुष्य परमेश्वर के राज्य में उद्धार पा सके।
32 और अब देखो, यह मसीह का सिद्धांत है, और पिता, और पुत्र, और पवित्र आत्मा का एकमात्र और सच्चा सिद्धांत है, जो एक ही परमेश्वर है, जिसका अन्त नहीं है । तथास्तु।

 

2 नफी, अध्याय 14
1 और अब देखो, मेरे प्रिय भाइयों, मुझे लगता है कि मार्ग में प्रवेश करने के बाद जो कुछ हमें करना चाहिए, उसके विषय में तुम अपने मन में कुछ विचार करोगे ।
2 परन्तु देखो, तुम अपने मन में इन बातों पर क्यों विचार करते हो ? क्या तुम्हें याद नहीं कि मैं ने तुम से कहा था, कि पवित्र आत्मा पाकर तुम स्वर्गदूतों की भाषा बोल सकते हो?
3 और अब, पवित्र आत्मा के बिना, तुम स्वर्गदूतों की जीभ से कैसे बोल सकते थे ? एन्जिल्स पवित्र आत्मा की शक्ति से बोलते हैं; इसलिए, वे मसीह के वचन बोलते हैं।
4 इसलिए, मैं ने तुम से कहा, मसीह के वचनों का पर्व मनाओ; क्योंकि देखो, मसीह के वचन तुम्हें सब कुछ बता देंगे कि तुम्हें क्या करना चाहिए ।
5 इसलिए, अब मेरे इन शब्दों को कहने के बाद, यदि तुम उन्हें नहीं समझ सकते हो, तो यह होगा कि तुम नहीं पूछते, न खटखटाते हो; इसलिए, तुम्हें प्रकाश में नहीं लाया गया है, परन्तु अंधेरे में नष्ट होना है ।
6 क्योंकि देखो, मैं तुम से फिर कहता हूं, कि यदि तुम मार्ग से भीतर प्रवेश करके पवित्र आत्मा को पाओगे, तो वह तुम्हें वह सब कुछ बताएगा जो तुम्हें करना चाहिए।
7 देखो, यह मसीह की शिक्षा है; और तब तक कोई उपदेश न दिया जाएगा, जब तक कि वह शरीर के रूप में तुम पर प्रगट न हो जाए।
8 और जब वह शरीर में अपने आप को तुम पर प्रगट करे, तब जो बातें वह तुम से कहे, उन पर ध्यान देना।
9 और अब मैं, नफी, और अधिक नहीं कह सकता: आत्मा ने मेरा बोलना बंद कर दिया है, और अविश्वास, और दुष्टता, और अज्ञानता, और मनुष्यों की कठोरता के कारण मैं शोक करने के लिए बचा हूं: क्योंकि वे ज्ञान की खोज नहीं करेंगे, और न ही महान ज्ञान को समझ सकते हैं, जब यह उन्हें सीधे शब्दों में दिया जाता है, यहां तक कि शब्द के रूप में स्पष्ट हो सकता है।
10 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, मैं समझता हूं कि तुम अब भी अपने मन में विचार कर रहे हो; और मुझे इस बात का शोक है कि मुझे इस बात के विषय में बोलना अवश्य है।
11 क्योंकि यदि तुम उस आत्मा की सुनोगे जो मनुष्य को प्रार्थना करना सिखाती है, तो जानोगे कि तुम्हें प्रार्थना करनी ही है: क्योंकि दुष्ट आत्मा मनुष्य को प्रार्थना करना नहीं सिखाती, वरन उसे सिखाती है कि प्रार्थना न करना।
12 लेकिन देखो मैं तुमसे कहता हूं, कि तुम्हें हमेशा प्रार्थना करनी चाहिए, और बेहोश नहीं होना चाहिए: कि तुम प्रभु के लिए कुछ भी नहीं करना चाहिए, सिवाय सबसे पहले तुम मसीह के नाम पर पिता से प्रार्थना करो, कि वह तुम्हें पवित्र करे तेरा प्रदर्शन, कि तेरा प्रदर्शन तेरी आत्मा के कल्याण के लिए हो सकता है।

 

2 नफी, अध्याय 15
1 और अब मैं, नफी, उन सभी बातों को नहीं लिख सकता जो मेरे लोगों के बीच सिखाई गई थीं; न ही मैं बोलने में शक्तिशाली हूं, क्योंकि जब कोई व्यक्ति पवित्र आत्मा की शक्ति से बोलता है, तो पवित्र आत्मा की शक्ति उसे पुरुषों के बच्चों के दिलों तक ले जाती है ।
2 परन्तु देखो, बहुत से ऐसे हैं जो पवित्र आत्मा के विरुद्ध अपने हृदयों को कठोर कर देते हैं, कि उसमें उसका कोई स्थान नहीं है; इसलिए, उन्होंने बहुत सी बातों को दूर कर दिया जो लिखी गई हैं, और उन्हें व्यर्थ वस्तुओं के रूप में सम्मान देते हैं ।
3 परन्तु मैं, नफी, ने वह लिखा है जो मैं ने लिखा है; और मैं इसे बहुत मूल्यवान समझता हूं, और विशेष रूप से अपने लोगों के लिए ।
4 क्योंकि मैं दिन को उनके लिथे नित्य प्रार्यना करता हूं, और उनके कारण मेरी आंखें रात को तकिये से सींचती हैं; और मैं विश्वास से अपके परमेश्वर की दोहाई देता हूं, और मैं जानता हूं, कि वह मेरी दोहाई सुनेगा; और मैं जानता हूं कि यहोवा परमेश्वर मेरी प्रार्थनाओं को पवित्र करेगा, क्योंकि
मेरे लोगों का लाभ।
5 और जो बातें मैं ने निर्बलता से लिखी हैं, वही उन को दृढ़ करेगा; क्योंकि यह उन्हें भलाई करने के लिए प्रेरित करता है; यह उन्हें उनके पूर्वजों के बारे में बताता है; और यह यीशु के विषय में बातें करता है, और उन्हें उस पर विश्वास करने, और अन्त तक धीरज धरने के लिए, जो अनन्त जीवन है, ढांढस बंधाता है।
6 और वह सत्य की स्पष्टता के अनुसार पाप के विरुद्ध कठोर बातें करता है; इसलिए, कोई भी व्यक्ति मेरे द्वारा लिखी गई बातों पर क्रोधित नहीं होगा, सिवाय इसके कि वह शैतान की आत्मा का होगा ।
7 मैं स्पष्ट रूप से गौरवान्वित हूं; मैं सत्य में महिमा करता हूँ; मुझे अपने यीशु पर गर्व है, क्योंकि उसने मेरी आत्मा को नरक से छुड़ाया है।
8 मुझे अपक्की प्रजा के लिथे उदारता, और मसीह पर बड़ा विश्वास है, कि मैं उसके न्याय आसन पर बहुत से निष्कलंक प्राणी मिलूंगा।
9 मैं ने यहूदी के लिथे प्रीति की है; मैं यहूदी कहता हूं, क्योंकि मेरा तात्पर्य उन से है जहां से मैं आया हूं। मेरे पास अन्यजातियों के लिए भी दान है।
10 परन्तु देखो, मैं इनमें से किसी की भी आशा नहीं कर सकता, जब तक कि उनका मसीह से मेल न हो जाए, और वे संकरे फाटक में प्रवेश करें, और उस सीधे मार्ग पर चलें, जो जीवन की ओर ले जाता है, और उस मार्ग पर दिन के अंत तक चलते रहें, परिवीक्षा का।
11 और अब, मेरे प्रिय भाइयों, और यहूदी भी, और पृथ्वी के छोर तक के सब लोगों, इन बातों को सुनो, और मसीह पर विश्वास करो; और यदि तुम इन बातों पर विश्वास नहीं करते, तो मसीह पर विश्वास करते हो।
12 और यदि तुम मसीह पर विश्वास करोगे, तो इन बातों पर भी विश्वास करोगे; क्योंकि वे मसीह के वचन हैं, और उस ने उन्हें मुझे दिया है; और वे सब मनुष्योंको शिक्षा देते हैं, कि भलाई करनी चाहिए।
13 और यदि वे मसीह के वचन नहीं हैं, तो उनका न्याय करो: क्योंकि मसीह तुम्हें सामर्थ और बड़ी महिमा के साथ दिखाएगा, कि वे अंतिम दिन के उसके वचन हैं।
14 और तुम और मैं उसके बेंड़े के साम्हने आमने-सामने खड़े होंगे; और तुम जान लोगे, कि अपक्की निर्बलता के होते हुए भी, ये बातें लिखने की आज्ञा मुझे उस से मिली है:
15 और मैं पिता से मसीह के नाम से प्रार्थना करता हूं, कि हम में से बहुत से, यदि सभी नहीं, तो उस महान और अंतिम दिन में उसके राज्य में उद्धार पाएं।
16 और अब हे मेरे प्रिय भाइयों, जितने इस्राएल के घराने के हैं, और पृय्वी के छोर तक के सब लोगों, मैं तुम से यह कहता हूं, कि जो मिट्टी में से दोहाई देता है उसका शब्द है: उस बड़े दिन के आने तक विदा हो;
17 और तुम जो परमेश्वर की भलाई में भागी न हो, और यहूदियों की बातों, और मेरी बातों, और उन वचनों का जो परमेश्वर के मेमने के मुंह से निकलते हों, मानो, देखो, मैं तुम्हें सदा के लिए बोली लगाता हूं विदा हो, क्योंकि ये वचन अन्तिम दिन में तुझे दोषी ठहराएंगे;
18 क्‍योंकि जिस पर मैं पृय्‍वी पर मुहर लगाता हूं, वह न्याय के बेथे में तेरे विरुद्ध लाया जाएगा; क्योंकि यहोवा ने मुझे ऐसी आज्ञा दी है, और मुझे मानना ही होगा। तथास्तु।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

scripture

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।