एक्सोदेस

एक्सोदेस

अध्याय 1

इस्राएल के बच्चे, हालांकि उत्पीड़ित, गुणा करते हैं।

1 इस्त्राएलियोंके नाम जो मिस्र में आए, उनके नाम ये हैं; जो अपने अपने घराने के अनुसार याकूब के संग आए।

2 रूबेन, शिमोन, लेवी, और यहूदा,

3 इस्साकार, जबूलून, और बिन्यामीन,

4 दान, नप्ताली, गाद और आशेर।

5 और जितने जीव याकूब की देह से निकले वे सब सत्तर प्राणी थे; क्योंकि यूसुफ पहले से ही मिस्र में था।

6 और यूसुफ, और उसके सब भाई, और उस पीढ़ी के सब लोग मर गए।

7 और इस्राएली फूले-फले, और बहुत बढ़ते, और बढ़ते गए, और बहुत बलवन्त होते गए; और भूमि उन से भर गई।

8 मिस्र पर एक नया राजा उदय हुआ, जो यूसुफ को नहीं जानता था।

9 और उस ने अपक्की प्रजा से कहा, सुन, इस्राएली हम से अधिक और पराक्रमी हैं;

10 आओ, हम उन से बुद्धिमानी से व्यवहार करें; ऐसा न हो कि वे गुणा करें, और ऐसा हो, कि जब कोई युद्ध हो, तब वे हमारे शत्रुओं से भी मिल जाएं, और हम से लड़ें, और इसलिथे उन्हें देश से निकाल ले जाएं।

11 इसलिथे उन्होंने उन पर बोझ डालने के लिथे काम करनेवाले ठहराए। और उन्होंने फिरौन के लिए पिथोम और रामसेस नाम के खजाने के नगर बनाए।

12 परन्तु जितना अधिक उन्होंने उन्हें दु:ख दिया, वे उतने ही बढ़ते गए। और वे इस्त्राएलियोंके कारण शोकित हुए।

13 और मिस्रियोंने इस्राएलियोंको कठोरता से सेवा करने के लिथे बनाया;

14 और उन्होंने अपने जीवन को गारे, और ईंटों, और सब प्रकार की सेवकाई में कठोर दासता से कठोर किया; उनकी सारी सेवा, जिसमें उन्होंने उन्हें सेवा दी थी, कठोरता के साथ थी।

15 और मिस्र के राजा ने इब्री दाइयों से कहा, जिन में से एक का नाम शिप्रा, और दूसरी का पूआ है;

16 और उस ने कहा, जब तू इब्री स्त्रियोंके लिथे दाई का काम करे, और उन्हें गद्दी पर बैठे देखे, यदि वह पुत्र हो, तो उसे घात करना; परन्तु यदि पुत्री हो तो वह जीवित रहेगी।

17 परन्तु दाइयों ने परमेश्वर का भय माना, और मिस्र के राजा की आज्ञा के अनुसार नहीं, वरन उन पुरूषोंको जीवित बचाया।

18 तब मिस्र के राजा ने दाइयों को बुलाकर उन से कहा, तुम ने ऐसा काम क्योंकर किया, और उन पुरूषोंको जीवित बचाया है?

19 और दाइयों ने फिरौन से कहा, इब्री स्त्रियां मिस्री स्त्रियोंके समान नहीं हैं; क्योंकि वे जीवित हैं, और जब दाइयों उनके पास आती हैं, तो वे छुड़ाई जाती हैं।

20 इस कारण परमेश्वर ने दाइयों के साथ अच्छा व्यवहार किया; और लोग बढ़ते गए, और बहुत बलवन्त होते गए।

21 और ऐसा हुआ, कि दाइयां परमेश्वर का भय मानती या, इसलिथे उस ने उनके लिये घर बनवाए।

22 और फिरौन ने अपक्की सारी प्रजा को आज्ञा दी, कि जितने पुत्र उत्पन्न हों उन को तुम महानद में डाल देना, और एक एक बेटी को जीवित बचाना।

अध्याय 2

मूसा का जन्म, दत्तक ग्रहण, उड़ान और विवाह।

1 और लेवी के घराने में से एक पुरूष ने जाकर लेवी की एक बेटी ब्याह ली।

2 और वह स्त्री गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और जब उस ने उसे देखा, कि वह अच्छा लड़का है, तब उस ने उसे तीन महीने तक छिपा रखा।

3 और जब वह उसे और छिपा न सकी, तब उस ने उसके लिथे सरपंचोंका एक सन्दूक लिया, और उस पर कीचड़ और डण्डे से रंगकर उस में बालक को डाल दिया; और उस ने उसे नदी के किनारे झंडोंमें रखा।

4 और उसकी बहिन दूर खड़ी रही, कि उस पर क्या किया जाए, यह जानने के लिथे।

5 और फिरौन की बेटी महानद के पास स्नान करने को आई; और उसकी कुमारियां नदी के किनारे चलीं; और झंडों के बीच सन्दूक देखकर उस ने अपक्की दासी को उसे लाने के लिथे भेजा।

6 और खोलकर उस ने बालक को देखा; और देखो, बालक रोया। और उस पर तरस खाकर कहा, यह इब्रियोंकी सन्तान में से एक है।

7 तब उसकी बहिन ने फिरौन की बेटी से कहा, क्या मैं जाकर इब्री स्त्रियोंकी एक धाई को तेरे पास बुलाऊं, कि वह तेरे लिथे बालक को दूध पिलाए?

8 फिरौन की बेटी ने उस से कहा, जा। और नौकरानी ने जाकर बच्चे की माँ को बुलाया।

9 फिरौन की बेटी ने उस से कहा, इस बालक को ले जाकर मेरे लिथे दूध पिला, तब मैं तुझे मजदूरी दूंगी। और उस स्त्री ने बालक को लेकर उसका पालन-पोषण किया।

10 और बच्चा बड़ा हुआ, और वह उसे फिरौन की बेटी के पास ले गई, और वह उसका पुत्र हुआ। और उसने उसका नाम मूसा रखा; और उस ने कहा, क्‍योंकि मैं ने उसको जल में से निकाला है।

11 और उन दिनों में जब मूसा बड़ा हुआ, तब वह अपके भाइयोंके पास निकलकर उनके भार पर दृष्टि करने लगा; और उस ने एक मिस्री का भेद लिया, जो उसके एक इब्री को मार रहा था, जो उसके भाइयोंमें से एक था।

12 और उस ने इधर उधर दृष्टि करके देखा, कि कोई पुरूष नहीं, तब उस ने मिस्री को घात करके बालू में छिपा दिया।

13 और दूसरे दिन जब वह निकला, तो क्या देखा, कि इब्री में से दो पुरूष आपस में झगड़ रहे हैं; और उस ने उस से कहा, जो अधर्म करता है, तू अपने साथी को क्यों मारता है?

14 उस ने कहा, तुझे किस ने हमारा प्रधान और न्यायी ठहराया है? जैसा तू ने मिस्री को मार डाला, वैसा ही तू भी मुझे मार डालना चाहता है? तब मूसा ने डरकर कहा, निश्चय यह बात मालूम है।

15 यह बात सुनकर फिरौन ने मूसा को घात करना चाहा। परन्तु मूसा फिरौन के साम्हने से भागा, और मिद्यान देश में रहने लगा; और वह एक कुएं के पास बैठ गया।

16 मिद्यान के याजक की सात बेटियां थीं; और उन्होंने आकर जल भरवाया, और अपने पिता की भेड़-बकरियोंको पानी पिलाने के लिथे हौदोंमें भर दिया।

17 और गड़ेरियोंने आकर उन्हें भगा दिया; परन्तु मूसा ने उठकर उनकी सहायता की, और उनकी भेड़-बकरियोंको सींचा।

18 और जब वे अपके पिता रूएल के पास आए, तब उस ने कहा, क्या कारण है कि आज तुम इतनी जल्दी आ गए?

19 उन्होंने कहा, एक मिस्री ने हम को चरवाहोंके हाथ से छुड़ाया, और हमारे लिथे जल भरकर भेड़-बकरियोंको सींचा।

20 और उस ने अपक्की बेटियोंसे कहा, वह कहां है? ऐसा क्यों है कि तुमने उस आदमी को छोड़ दिया है? उसे बुलाओ, कि वह रोटी खाए।

21 और मूसा उस मनुष्य के संग रहने से प्रसन्न हुआ; और उस ने मूसा सिप्पोरा को अपक्की बेटी दी।

22 और उस से उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ, और उस ने उसका नाम गेर्शोम रखा; क्‍योंकि उस ने कहा, मैं पराए देश में परदेशी हूं।

23 और समय के साथ ऐसा हुआ, कि मिस्र का राजा मर गया; और इस्त्राएलियों ने बन्धन के कारण देखा, और वे दोहाई देने लगे, और उनकी दोहाई दासता के कारण परमेश्वर के पास पहुंची।

24 और परमेश्वर ने उनका कराहना सुना, और परमेश्वर ने इब्राहीम, इसहाक और याकूब के साथ अपनी वाचा को याद किया।

25 और परमेश्वर ने इस्राएलियों पर दृष्टि की, और परमेश्वर उन पर दृष्टि रखता या।

अध्याय 3

मूसा ने यित्रो की भेड़-बकरियों की रक्षा की - परमेश्वर जलती हुई झाड़ी में उसे दिखाई देता है - उसने उसे इस्राएल को छुड़ाने के लिए भेजा।

1 मूसा ने अपके ससुर यित्रो की भेड़-बकरी की जो मिद्यान का याजक या, उसकी रखवाली की; और वह भेड़-बकरियोंको जंगल के पीछे की ओर ले गया, और परमेश्वर के पर्वत पर होरेब तक पहुंचा।

2 और फिर, प्रभु की उपस्थिति एक झाड़ी के बीच में आग की ज्वाला के रूप में उसे दिखाई दी; और उस ने दृष्टि की, और क्या देखा, कि झाड़ी आग से जल गई, और झाड़ी भस्म न हुई।

3 तब मूसा ने कहा, मैं अब मुड़कर यह बड़ा दृश्य देखूंगा, कि झाड़ी क्यों न मिटती है।

4 जब यहोवा ने देखा, कि वह देखने को मुड़ गया है, तब परमेश्वर ने उसे झाड़ी के बीच में से पुकारकर कहा, हे मूसा, हे मूसा। उस ने कहा, मैं यहां हूं।

5 उस ने कहा, यहां मत आना; अपके पांवों से अपके जूते उतार दे; क्योंकि जिस स्यान में तू खड़ा है वह पवित्र भूमि है।

6 फिर उस ने कहा, मैं तेरे पिता का परमेश्वर, इब्राहीम का परमेश्वर, इसहाक का परमेश्वर और याकूब का परमेश्वर हूं। और मूसा ने अपना मुंह छिपा लिया; क्योंकि वह परमेश्वर की ओर देखने से डरता था।

7 और यहोवा ने कहा, मैं ने निश्चय अपक्की प्रजा के लोग जो मिस्र में रहते हैं, देखा है, और अपके काम करनेवालोंके कारण उनकी दोहाई सुनी है; क्योंकि मैं उनके दु:खोंको जानता हूं;

8 और मैं उन्हें मिस्रियोंके हाथ से छुड़ाने, और उस देश से निकालकर एक अच्छे और बड़े देश में ले आने को आया हूं, जिस में दूध और मधु की धाराएं बहती हैं; कनानियों, हित्ती, एमोरियों, परिज्जियों, हिव्वी, और यबूसियों के स्यान तक।

9 इसलिथे अब इस्त्राएलियोंकी दोहाई मुझ तक पहुंची है; और मैं ने उस अन्धेर को भी देखा है जो मिस्री उन पर अन्धेर करते हैं।

10 सो अब आ, और मैं तुझे फिरौन के पास भेजूंगा, कि तू मेरी प्रजा इस्राएलियोंको मिस्र से निकाल ले आए।

11 तब मूसा ने परमेश्वर से कहा, मैं कौन हूं, कि मैं फिरौन के पास जाऊं, और इस्राएलियोंको मिस्र से निकालूं?

12 उस ने कहा, निश्चय मैं तेरे संग रहूंगा; और जो मैं ने तुझे भेजा है वह तेरे लिथे एक चिन्ह ठहरे; जब तू उन लोगों को मिस्र से निकाल ले आए, तब इस पहाड़ पर परमेश्वर की उपासना करना।

13 तब मूसा ने परमेश्वर से कहा, सुन, जब मैं इस्राएलियोंके पास आकर उन से कहूं, कि तुम्हारे पितरोंके परमेश्वर ने मुझे तुम्हारे पास भेजा है; और वे मुझ से कहेंगे, उसका नाम क्या है? मैं उनसे क्या कहूं?

14 और परमेश्वर ने मूसा से कहा, मैं हूं, जो मैं हूं; और उस ने कहा, तू इस्त्राएलियोंसे योंकहना, कि मैं ने मुझे तेरे पास भेजा है।

15 और परमेश्वर ने मूसा से यह भी कहा, तू इस्राएलियोंसे योंकहना, कि तेरे पितरोंके परमेश्वर यहोवा, इब्राहीम के परमेश्वर, इसहाक के परमेश्वर और याकूब के परमेश्वर ने मुझे तुम्हारे पास भेजा है; यह मेरा नाम सदा के लिए है, और यह पीढ़ी पीढ़ी के लिए मेरा स्मारक है।

16 तब जाकर इस्राएल के पुरनियोंको इकट्ठा करके उन से कहो, कि तेरे पितरोंका परमेश्वर यहोवा, इब्राहीम, इसहाक और याकूब का परमेश्वर मुझ को दिखाई दिया, और कहा, मैं ने निश्चय तेरी सुधि ली है, और यह देखा है कि जो मिस्र में तुम्हारे साथ किया जाता है;

17 और मैं ने कहा है, कि मैं तुम को मिस्र के क्लेश से निकालकर कनानियों, हित्ती, एमोरी, परिज्जियों, हिव्वी, और यबूसियोंके देश में उस देश में पहुंचाऊंगा, जहां दूध की धारा बहती है, और शहद।

18 और वे तेरी सुनेंगे; और तू इस्राएल के पुरनियों समेत मिस्र के राजा के पास आकर उस से कहना, कि इब्रियोंके परमेश्वर यहोवा ने हम से भेंट की है; और अब हम तुम से बिनती करते हैं, कि जंगल में तीन दिन का मार्ग हो, कि हम अपके परमेश्वर यहोवा के लिथे बलिदान करें।

19 और मैं निश्चय जानता हूं, कि मिस्र का राजा तुझे जाने न देगा, और न बलवन्त हाथ से जाने देगा।

20 और मैं अपना हाथ बढ़ाकर मिस्र को अपके सब आश्चर्यकर्मोंसे जो मैं उसके बीच में करूंगा, उन से नाश करूंगा; और उसके बाद वह तुम्हें जाने देगा।

21 और मैं इस प्रजा पर मिस्रियोंका अनुग्रह करूंगा; और ऐसा होगा कि जब तुम जाओगे तो खाली न जाना;

22 परन्तु अपक्की अपक्की और अपके घर में रहनेवाली अपक्की स्त्री से उधार ले; चाँदी के गहने, और सोने के गहने, और वस्त्र; और उन्हें अपके पुत्रोंऔर बेटियोंको पहिनाना; और तुम मिस्रियोंको नाश करोगे।

अध्याय 4

मूसा को शक्ति की छड़ी दी गई है - वह भेजा जाने वाला लोथ है - हारून को बुलाया जाता है - फिरौन को भगवान का संदेश - सिप्पोरा अपने बेटे का खतना करता है - हारूनिस कहा जाता है।

1 मूसा ने उत्तर देकर कहा, परन्तु देखो, वे मेरी प्रतीति न करेंगे, और न मेरी बात मानेंगे; क्योंकि वे कहेंगे, यहोवा ने तुझे दर्शन नहीं दिया।

2 और यहोवा ने उस से कहा, यह तेरे हाथ में क्या है? और उसने कहा, एक छड़ी।

3 उस ने कहा, उसको भूमि पर गिरा दे। और उस ने उसे भूमि पर फेंका, और वह सर्प बन गया; और मूसा उसके साम्हने से भाग गया।

4 तब यहोवा ने मूसा से कहा, अपना हाथ बढ़ाकर पूंछ से पकड़। और उस ने हाथ बढ़ाकर उसे पकड़ लिया, और वह उसके हाथ में लाठी बन गई;

5 कि वे विश्वास करें, कि यहोवा, उनके पितरोंका परमेश्वर, इब्राहीम का परमेश्वर, इसहाक का परमेश्वर, और याकूब का परमेश्वर, तुझे दिखाई दिया है।

6 और यहोवा ने उस से और कहा, अपक्की छाती पर हाथ रख। और उस ने अपक्की छाती पर हाथ रखा; और जब उस ने उसे निकाला, तो क्या देखा, कि उसका हाथ हिम के समान कोढ़ जैसा है।

7 उस ने कहा, अपना हाथ फिर अपनी छाती पर लगा ले। और उसने अपना हाथ फिर अपनी गोद में रखा; और उसे अपनी गोद में से निकाल लिया, और देखो, वह फिर उसके दूसरे शरीर के समान हो गया है।

8 और ऐसा होगा, कि यदि वे तेरी प्रतीति न करें, और पहिले चिन्ह की बात न मानें, तो दूसरे चिन्ह की बात की प्रतीति करें।

9 और यदि वे इन दोनों चिन्होंकी प्रतीति न करें, और तेरी बात न मानें, तो तू महानद के जल में से कुछ लेकर सूखी भूमि पर उण्डेल देना; और जो जल तू महानद में से निकाल ले वह सूखी भूमि पर लोहू ठहरे।

10 तब मूसा ने यहोवा से कहा, हे मेरे प्रभु, मैं वाक्पटु नहीं हूं, न अब तक, और न जब से तू ने अपके दास से बातें की हैं; परन्‍तु मैं बोलने में धीमा, और धीमी जीभ का हूं।

11 और यहोवा ने उस से कहा, मनुष्य का मुंह किस ने बनाया है? या कौन गूंगा, या बहरा, या देखने वाला, या अन्धा बनाता है? क्या मैं यहोवा नहीं हूँ?

12 सो अब जा, और मैं तेरे मुंह के संग रहूंगा, और जो कुछ तू कहना चाहे वह तुझे सिखाऊंगा।

13 उस ने कहा, हे मेरे रब, जिस को तू भेजे, उसके हाथ से भेज दे।

14 तब यहोवा का कोप मूसा पर भड़का, और उस ने कहा, क्या तेरा भाई हारून लेवीय लेवीय नहीं है? मुझे पता है कि वह अच्छा बोल सकता है। और यह भी, कि वह तुझ से भेंट करने को निकला है; और जब वह तुझे देखेगा, तब उसका मन आनन्दित होगा।

15 और उस से बातें करना, और उसके मुंह से बातें करना; और मैं तेरे मुंह और उसके मुंह के संग संग रहूंगा, और जो कुछ तुझे करना है वह तुझे सिखाऊंगा।

16 और वह लोगों के लिथे तेरा प्रवक्ता ठहरे; और वह तेरे लिथे मुंह के बदले ठहरेगा, और परमेश्वर के बदले तू उसके लिथे ठहरेगा।

17 और इस लाठी को अपके हाथ में लेना, जिस से तू चिन्ह दिखाना।

18 तब मूसा ने जाकर अपके ससुर यित्रो के पास लौटकर उस से कहा, मुझे जाने दे, और अपके भाइयोंके पास जो मिस्र में हैं फिर जाकर देख कि वे अब तक जीवित हैं या नहीं। और यित्रो ने मूसा से कहा, कुशल से जाओ।

19 तब यहोवा ने मिद्यान में मूसा से कहा, जा, मिस्र को लौट; क्‍योंकि जितने पुरूष तेरे प्राण के खोजी थे वे सब मर गए हैं।

20 तब मूसा ने अपक्की पत्नी और अपके पुत्रोंको ब्याह करके गदहे पर बिठाया, और वह मिस्र देश को लौट गया; और मूसा ने परमेश्वर की छड़ी को अपने हाथ में लिया।

21 और यहोवा ने मूसा से कहा, जब तू मिस्र को लौट जाने को जाए, तब उन सब कामोंको फिरौन के साम्हने देखना, जिन्हें मैं ने तेरे हाथ में कर दिया है, और मैं तेरा भला करूंगा; परन्तु फिरौन अपके मन को कठोर करेगा, और लोगोंको जाने न देगा।

22 और फिरौन से कहना, यहोवा योंकहता है, कि इस्राएल मेरा पुत्र, वरन मेरा जेठा भी है;

23 और मैं तुझ से कहता हूं, कि मेरे पुत्र को जाने दे, कि वह मेरी उपासना करे; और यदि तू उसे जाने न दे, तो देख, मैं तेरे पुत्र वरन तेरे पहलौठे को भी घात करूंगा।

24 और ऐसा हुआ, कि प्रभु मार्ग में, सराय के पास जैसे ही उसे दिखाई दिया । और यहोवा मूसा पर क्रोधित हुआ, और उसका हाथ उसको घात करने के लिथे उस पर गिर पड़ा; क्योंकि उस ने अपके पुत्र का खतना नहीं किया था।

25 तब सिप्पोरा ने एक चोखा पत्यर लेकर अपके बेटे का खतना किया, और पत्यर को उसके पांवोंपर डालकर कहा, निश्चय तू मेरे लिथे खूनी पति है।

26 और यहोवा ने मूसा को छोड़ दिया, और उसे जाने दिया, क्योंकि उसकी पत्नी सिप्पोरा ने बालक का खतना किया था। उस ने कहा, तू खूनी पति है। तब मूसा ने लज्जित होकर यहोवा से मुंह फेर लिया, और कहा, मैं ने यहोवा के साम्हने पाप किया है।

27 तब यहोवा ने हारून से कहा, मूसा से भेंट करने को जंगल में जा, और वह जाकर परमेश्वर के पहाड़ पर उस से मिला; उस पर्वत पर जहां परमेश्वर उसे दिखाई दिया; और हारून ने उसे चूमा।

28 तब मूसा ने हारून को यहोवा की सारी बातें, जिस ने उसे भेजा था, और जितने चिन्ह उस ने उसको आज्ञा दी या, वे सब बता दिए।

29 तब मूसा और हारून ने जाकर इस्राएलियोंके सब पुरनियोंको इकट्ठा किया;

30 और जितने वचन यहोवा ने मूसा से कहे थे उन सभोंको हारून ने कहा, और लोगोंके साम्हने चिन्ह दिखाए।

31 और लोगों ने विश्वास किया; और जब उन्होंने सुना कि यहोवा ने इस्राएलियोंकी सुधि ली है, और उस ने उनके दु:ख पर दृष्टि की है, तब वे सिर झुकाकर दण्डवत करने लगे।

अध्याय 5

फिरौन इस्राएलियों के काम को बढ़ाता है - वह उनकी शिकायतों की जांच करता है मूसा ने इस्राएल के लिए भगवान को पुकारा।

1 तब मूसा और हारून ने भीतर जाकर फिरौन से कहा, इस्राएल का परमेश्वर यहोवा योंकहता है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे जंगल में मेरे लिथे जेवनार करें।

2 फिरौन ने कहा, यहोवा कौन है, कि मैं उसकी बात मानूं, कि इस्राएल को जाने दे? मैं यहोवा को नहीं जानता, और न इस्राएल को जाने दूंगा।

3 उन्होंने कहा, इब्रियों का परमेश्वर हम से मिला है; तीन दिन के मार्ग में जंगल में जाकर हम चलें, और अपके परमेश्वर यहोवा के लिथे बलिदान करें; कहीं ऐसा न हो कि वह हम पर मरी या तलवार से मारे।

4 और मिस्र के राजा ने उन से कहा, हे मूसा और हारून, तुम लोगोंको उनके कामोंसे क्यों दूर करते हो? आपको अपने बोझ पर ले आओ।

5 फिरौन ने कहा, सुन, इस देश के लोग अब बहुत हो गए हैं, और तुम उनको उनके बोझ से छुड़ाते हो।

6 और फिरौन ने उसी दिन प्रजा के काम करनेवालोंऔर उनके हाकिमोंको यह आज्ञा दी,

7 तुम लोगों को पहिले की नाईं फिर ईंट बनाने के लिथे भूसा न देना; वे जाकर अपने लिये भूसा बटोरें।

8 और जो ईंटें उन्होंने अब से पहिले बनाई या, उन की कहानी तुम उन पर लगाना; तुम उसमें से कुछ भी कम नहीं करना; क्योंकि वे बेकार हैं; इसलिथे वे यह कहते हुए चिल्लाते हैं, कि आओ, हम चलें, और अपके परमेश्वर के लिथे बलिदान करें।

9 और मनुष्योंको और काम दिया जाए, कि वे उस में परिश्र्म करें; और वे व्यर्थ की बातों पर ध्यान न दें।

10 तब प्रजा के काम करनेवाले और अपके हाकिम निकल गए, और लोगोंसे कहने लगे, कि फिरौन योंकहता है, कि मैं तुझे भूसा न दूंगा।

11 तुम जाकर अपना भूसा जहां से पाओ, वहां ले जाओ; तौभी तेरा कुछ काम छोटा न होगा।

12 इसलिथे वे लोग तित्तर बित्तर करके सारे मिस्र देश में तित्तर बित्तर हो गए, कि पुआल के बदले पराली बटोरें।

13 और काम करनेवालोंने फुर्ती से कहा, अपके कामोंऔर नित्य के कामोंको ऐसा पूरा करो जैसे भूसा हुआ करता था।

14 और इस्राएलियोंके जिन हाकिमोंको फिरौन के काम करनेवालोंने उन पर ठहराया या, वे पीटकर पूछने लगे, कि तुम ने पहिले की नाई कल और आज के दिन ईंट बनाने का अपना काम क्योंकर पूरा नहीं किया?

15 तब इस्राएलियोंके हाकिमोंने आकर फिरौन की दोहाई दी, और कहा, तू ने अपके दासोंके साथ ऐसा क्योंव्यवहार किया?

16 तेरे दासों को कोई भूसा नहीं दिया जाता, और वे हम से कहते हैं, कि ईंट बनाओ; और देखो, तेरे दास पीटे गए हैं; परन्तु दोष अपने ही लोगों में है।

17 परन्तु उस ने कहा, तुम तो निकम्मे हो, और निकम्मा हो; इसलिथे तुम कहते हो, आओ, हम चलें और यहोवा के लिथे बलिदान करें।

18 सो अब जाकर काम कर; क्योंकि तुम्हें भूसा न दिया जाएगा, तौभी तुम ईंटों की कथा सुनाना।

19 और इस्त्राएलियोंके हाकिमोंने यह कहा, कि अपके नित्य के काम की ईटोंमें से कुछ घटा न करना, कि वे बुरी दशा में हैं।

20 और वे मूसा और हारून से मिले, जो फिरौन के पास से निकलते हुए मार्ग में खड़े थे;

21 उन्होंने उन से कहा, यहोवा तुम पर दृष्टि करके न्याय कर; क्‍योंकि तुम ने हमारे कारण फिरौन और उसके कर्मचारियोंके साम्हने घिन करने का काम किया है, कि हम को घात करने के लिथे उनके हाथ में तलवार रखे।

22 तब मूसा ने यहोवा के पास लौटकर कहा, हे प्रभु, तू ने इन लोगोंके साथ ऐसा बुरा व्यवहार क्योंकरा है? तूने मुझे क्यों भेजा है?

23 क्योंकि जब से मैं तेरा नाम लेने को फिरौन के पास आया हूं, उस ने इन लोगोंके साथ बुरा किया है; न तो तू ने अपक्की प्रजा को कभी छुड़ाया है।

अध्याय 6

परमेश्वर ने अपनी प्रतिज्ञा का नवीनीकरण किया - रूबेन, शिमोन और लेवी की वंशावली।

1 तब यहोवा ने मूसा से कहा, अब तू देखेगा कि मैं फिरौन से क्या क्या करूंगा; क्योंकि वह उन्हें बलवन्त हाथ से जाने देगा, और वह उन्हें अपके देश में से बलवन्त हाथ से निकाल देगा।

2 और परमेश्वर ने मूसा से कहा, मैं यहोवा हूं;

3 और मैं इब्राहीम, इसहाक, और याकूब को दिखाई दिया। मैं सर्वशक्तिमान यहोवा परमेश्वर हूँ; यहोवा यहोवा। और क्या मेरा नाम उन्हें मालूम न था?

4 हां, और मैं ने उनके साथ अपनी वाचा भी स्थिर की है, जो मैं ने उनके साथ की थी, कि उन्हें कनान देश, उनकी तीर्थ यात्रा का देश, जहां वे परदेशी थे, दे दें ।

5 और मैं ने इस्राएलियोंका कराहना भी सुना है, जिन्हें मिस्री दासत्व में रखते हैं; और मैं ने अपक्की वाचा को स्मरण किया है।

6 सो इस्त्राएलियों से कहो, कि मैं यहोवा हूं, और तुम को मिस्रियोंके वश में से निकालूंगा, और तुम को उनके दासत्व से छुड़ाऊंगा, और बढ़ाई हुई भुजा से तुम को छुड़ाऊंगा, और महान निर्णयों के साथ;

7 और मैं तुझे अपने पास एक प्रजा के लिथे ले जाऊंगा, और मैं तेरे लिथे परमेश्वर ठहरूंगा; और तुम जान लोगे कि मैं तुम्हारा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुम्हें मिस्रियोंके बोझ तले से निकालता है।

8 और मैं तुम को उस देश में पहुंचाऊंगा, जिसके विषय में मैं ने इब्राहीम, इसहाक और याकूब को देने की शपय खाई या; और मैं उसको निज भाग करके तुझे दूंगा; मैं यहोवा करूँगा।

9 और मूसा ने इस्राएलियोंसे ऐसा ही कहा; परन्तु उन्होंने आत्मा की पीड़ा, और क्रूर दासता के कारण मूसा की नहीं सुनी।

10 और यहोवा ने मूसा से कहा,

11 मिस्र के राजा फिरौन से भीतर जाकर कह, कि उस ने इस्राएलियोंको अपके देश से निकल जाने दिया।

12 तब मूसा ने यहोवा के साम्हने कहा, सुन, इस्राएलियोंने मेरी न सुनी; तो फिरौन मेरी सुन, जो खतनारहित होठों का है, क्‍योंकर?

13 और यहोवा ने मूसा और हारून से कहा, और इस्राएलियोंको, और मिस्र के राजा फिरौन को आज्ञा दी, कि इस्राएलियोंको मिस्र देश से निकाल ले आओ।

14 अपके पितरोंके घरानोंके मुख्य मुख्य पुरूष ये हैं: इस्राएल के जेठे रूबेन के पुत्रा; हनोक, पल्लू, हेस्रोन, कर्म्मी; रूबेन के कुल ये ही हैं।

15 और शिमोन के पुत्र; यमूएल, यामीन, ओहद, याकीन, सोहर, और कनानी स्त्री का पुत्र शाऊल; ये शिमोन के परिवार हैं।

16 और लेवी के पुत्रोंके नाम उनकी पीढ़ी पीढ़ी के अनुसार ये हैं; गेर्शोन, कहात, और मरारी; और लेवी के जीवन के वर्ष एक सौ सैंतीस वर्ष थे।

17 गेर्शोन के पुत्र; लिब्नी, और शिमी, अपके कुलोंके अनुसार।

18 और कहात के पुत्र; अम्राम, यिजश्हार, हेब्रोन, और उज्जीएल; और कहात की अवस्या एक सौ तैंतीस वर्ष की हुई।

19 और मरारी के पुत्र; महली और मुशी; लेवी के कुल ये ही उनकी पीढ़ी पीढ़ी के अनुसार हैं।

20 और अम्राम अपके पिता की बहिन योकेबेद को ब्याह ले गया; और उस से हारून और मूसा उत्पन्न हुए; और अम्राम की अवस्या एक सौ सैंतीस वर्ष की हुई।

21 और यिसहार के पुत्र; कोरह, और नेपेग, और जिक्री।

22 और उज्जीएल के पुत्र; मीशाएल, एलसापान, और जित्री।

23 और हारून ने नाशोन की बहिन अम्मीनादाब की बेटी एलीशेबा को ब्याह लिया; और उस से नाबाद और अबीहू, एलीआजर और ईतामार उत्पन्न हुए।

24 और कोरह के पुत्र; अस्सीर, एल्काना, अबियासाप; ये कोरहियों के परिवार हैं।

25 और हारून के पुत्र एलीआजर ने पुतील की एक बेटी को ब्याह लिया; और उस से पीनहास उत्पन्न हुआ; लेवियों के पितरों के पितरों के घरानों के अनुसार वे मुख्य मुख्य पुरूष थे।

26 हारून के पुत्र अपके कुलोंके अनुसार ये हुए। और इस्त्राएलियोंके कुलोंके मुख्य मुख्य पुरूषोंके अनुसार जो यहोवा ने हारून और मूसा से कहा या, वे अपके अपके सेना के अनुसार मिस्र देश से निकाल ले आएं, ये सब के नाम ये हैं।

27 ये वे हैं जिनके विषय में यहोवा ने मिस्र के राजा फिरौन से कहा, कि वह उन्हें जाने दे। और उस ने मूसा और हारून को इस्त्राएलियोंको मिस्र से निकालने के लिथे भेजा।

28 और जिस दिन यहोवा ने मिस्र देश में मूसा से बातें की, उस दिन यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी, कि वह मिस्र के राजा फिरौन से यह कह, कि मैं यहोवा फिरौन से ऐसा ही करूंगा, मिस्र के राजा, वह सब जो मैं तुझ से कहता हूं।

29 तब मूसा ने यहोवा के साम्हने कहा, देख, मैं हठ का, और बोलने में धीरा हूं; फिरौन मेरी किस प्रकार सुनेगा?

अध्याय 7

मूसा को प्रोत्साहित किया जाता है - उसकी उम्र - उसकी छड़ी को सर्प में बदल दिया जाता है - नदी रक्त में बदल जाती है।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा, देख, मैं ने तुझे फिरौन का भविष्यद्वक्ता ठहराया है; और तेरा भाई हारून तेरा प्रवक्ता ठहरे।

2 जो कुछ मैं तुझे आज्ञा दूं वह सब तू अपके भाई से कहना; और तेरा भाई हारून फिरौन से यह कहना, कि वह इस्राएलियोंको अपके देश में से भेजे।

3 और जैसा मैं ने तुझ से कहा था, तब फिरौन अपके मन को कठोर करेगा; और तू मिस्र देश में मेरे चिन्हों, और मेरे आश्चर्यकर्मोंको बहुत बढ़ा देगा।

4 परन्तु फिरौन ने तेरी न सुनी, इसलिथे मैं मिस्र पर हाथ बढ़ाकर अपक्की प्रजा इस्राएलियोंको बड़े दण्ड देकर मिस्र देश से निकाल ले आऊंगा।

5 और जब मैं मिस्र पर हाथ बढ़ाकर इस्राएलियोंको उनके बीच में से निकालूंगा, तब मिस्री जान लेंगे कि मैं यहोवा हूं।

6 तब मूसा और हारून ने यहोवा की इस आज्ञा के अनुसार किया, कि उन्होंने वैसा ही किया।

7 और जब वे फिरौन से बातें करने लगे तब मूसा साठ वर्ष का या, और हारून साठ वर्ष का या।

8 और यहोवा ने मूसा और हारून से कहा,

9 जब फिरौन तुझ से कहेगा, कि कोई चमत्कार दिखा, कि मैं तुझे जानूं; तब हारून से कहना, अपक्की लाठी लेकर फिरौन के साम्हने डाल दे, कि वह सर्प हो जाए।

10 तब मूसा और हारून ने फिरौन के पास जाकर यहोवा की आज्ञा के अनुसार किया; और हारून ने अपक्की लाठी को फिरौन और अपके कर्मचारियोंके साम्हने गिरा दिया, और वह सर्प बन गई।

11 तब फिरौन ने पण्डितों और टोन्होंको भी बुलाया; मिस्र के जादूगरों ने भी अपके जादू से वैसा ही किया।

12 क्‍योंकि उन्‍होंने अपके अपके अपके लाठी को ढा दिया, और वे सांप बन गए; परन्तु हारून की लाठी ने उनकी लाठियोंको निगल लिया।

13 और फिरौन ने अपके मन को ऐसा कठोर कर लिया, कि उस ने उन की न मानी; जैसा कि यहोवा ने कहा था।

14 तब यहोवा ने मूसा से कहा, फिरौन का मन कठोर हो गया है, वह लोगोंको जाने देने से इन्कार करता है।

15 बिहान को फिरौन के पास ले जाना; देखो, वह जल के पास निकल जाता है; तब तू महानद के किनारे उसके साम्हने खड़ा रहना; और वह डण्डा जो सर्प के लिये फेर दिया गया हो, उसे अपके हाथ में लेना।

16 और उस से कहना, कि इब्रियोंके परमेश्वर यहोवा ने मुझे तेरे पास यह कहला भेजा है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे जंगल में मेरी उपासना करें; और देखो, अब तक तू ने न सुनी होगी।

17 यहोवा योंकहता है, इस से तुम जान लोगे कि मैं यहोवा हूं; देख, मैं अपके हाथ की छड़ी से महानद के जल पर ऐसा मारूंगा, कि वे लोहू हो जाएंगे।

18 और महानद की मछलियां मर जाएंगी, और महानद से बदबू आएगी; और मिस्री महानद का जल पीने से घृणा करेंगे।

19 और यहोवा ने मूसा से कहा, हारून से कह, अपक्की लाठी ले, और अपना हाथ मिस्र के जल पर, और उनकी नदियोंपर, और उनकी नदियोंपर, और उनके तालाबोंपर, और उनके सब जलाशयोंपर बढ़ा, कि वे खून बन सकता है; और यह कि सारे मिस्र देश में काठ और पत्यर के पात्रोंमें लोहू हो।

20 और मूसा और हारून ने यहोवा की आज्ञा के अनुसार वैसा ही किया; और उस ने लाठी को उठाकर महानद के जल को फिरौन और उसके कर्मचारियोंके साम्हने मारा; और नदी का सारा जल लोहू हो गया।

21 और जो मछलियां महानद में थीं, वे मर गईं; और नदी से बदबू आने लगी, और मिस्री नदी का जल न पी सके; और सारे मिस्र देश में लोहू फैल गया।

22 और मिस्र के जादूगरों ने अपके जादू से वैसा ही किया; और फिरौन का मन कठोर हो गया, और उस ने उनकी न सुनी; जैसा कि यहोवा ने कहा था।

23 और फिरौन मुड़ा, और अपके घर को गया, और इस बात पर भी मन न लगाया।

24 और सब मिस्रियोंने पीने के जल के लिथे नदी के चारोंओर खुदाई की; क्योंकि वे नदी का पानी नहीं पी सकते थे।

25 और उसके सात दिन पूरे हुए, जब यहोवा ने महानद को मारा था।

अध्याय 8

मेंढ़क भेजे गए, और मूसा ने उन्हें प्रार्थना के द्वारा दूर किया - धूल जूँ बन गई - मक्खियों के झुंड।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा, फिरौन के पास जाकर उस से कह, यहोवा योंकहता है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे मेरी उपासना करें।

2 और यदि तू उन्हें जाने न दे, तो देख, मैं तेरे सब सिवानोंको मेंढ़कोंसे नाश करूंगा;

3 और नदी मेंढ़े बहुतायत से निकलेंगे, जो चढ़कर तेरे भवन, और तेरे बिछौने, और बिछौने पर, और तेरे कर्मचारियोंके घर, और तेरी प्रजा, और तेरे भट्ठोंमें, और भीतर आ जाएंगे। तेरा सानना कुंड;

4 और मेंढ़क तुझ पर, और तेरी प्रजा, और तेरे सब कर्मचारियोंपर चढ़ आएंगे।

5 और यहोवा ने मूसा से कहा, हारून से कह, अपक्की छड़ी से अपना हाथ नालोंपर, और नदियों, और तालाबोंके ऊपर बढ़ा, और मेंढ़कोंको मिस्र देश पर चढ़ा दे।

6 और हारून ने मिस्र के जल पर हाथ बढ़ाया; और मेंढ़कों ने चढ़कर मिस्र देश को ढांप लिया।

7 और जादूगरों ने अपके जादू से वैसा ही किया, और मेंढ़कोंको मिस्र देश में ले आए।

8 तब फिरौन ने मूसा और हारून को बुलवाकर कहा, यहोवा से बिनती कर, कि वह मेंढ़कोंको मुझ से और मेरी प्रजा से दूर करे; और मैं लोगोंको जाने दूंगा, कि वे यहोवा के लिथे बलिदान करें।

9 तब मूसा ने फिरौन से कहा, मेरी महिमा हो; मैं कब तुझ से, और तेरे दासों, और तेरी प्रजा के लिथे बिनती करूंगा, कि तेरे और तेरे घरानोंमें से मेंढकोंको नाश करूं, कि वे केवल महानद में रहें?

10 उस ने कहा, कल। उस ने कहा, तेरे वचन के अनुसार हो; ताकि तुम जान सको कि हमारे परमेश्वर यहोवा के तुल्य कोई दूसरा नहीं।

11 और मेंढ़क तेरे पास से, और तेरे घरानों, और तेरे कर्मचारियों, और तेरी प्रजा के पास से चले जाएंगे; वे केवल नदी में ही रहेंगे।

12 तब मूसा और हारून फिरौन के पास से निकल गए; और मूसा ने उन मेंढकों के कारण जो वह फिरौन के विरुद्ध ले आए थे, यहोवा की दोहाई दी।

13 और यहोवा ने मूसा के वचन के अनुसार किया; और मेंढ़क घरों, गांवों और खेतों में से मर गए।

14 और उन्होंने उन्हें ढेर पर इकट्ठा किया; और भूमि स्तम्भ।

15 परन्तु जब फिरौन ने देखा, कि चैन हो गया, तब उस ने अपना मन कठोर किया, और उनकी न मानी; जैसा कि यहोवा ने कहा था।

16 तब यहोवा ने मूसा से कहा, हारून से कह, अपक्की लाठी को बढ़ा, और देश की धूल पर ऐसा मार, कि वह सारे मिस्र देश में जूठियां बन जाएं।

17 और उन्होंने वैसा ही किया; क्योंकि हारून ने लाठी से हाथ बढ़ाकर पृय्वी की धूल पर ऐसा मारा कि वह मनुष्य और पशु दोनोंमें जूएं बन गईं; मिस्र के सारे देश में भूमि की सारी धूल जूँ बन गई।

18 और जादूगरों ने जूएं निकालने के लिथे अपके अपके मन्त्रोंसे वैसा ही किया, परन्तु न कर सके; सो मनुष्य, और पशु दोनों पर जूंएं निकलीं।

19 तब जादूगरों ने फिरौन से कहा, यह तो परमेश्वर की उंगली है; और फिरौन का मन कठोर हो गया, और उस ने उनकी न मानी; जैसा कि यहोवा ने कहा था।

20 और यहोवा ने मूसा से कहा, भोर को सवेरे उठकर फिरौन के साम्हने खड़ा हो; देखो, वह जल के पास निकल आया है; और उस से कहना, यहोवा योंकहता है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे मेरी उपासना करें।

21 और यदि तू मेरी प्रजा को जाने न देगा, तो देख, मैं तुझ पर, और तेरे कर्मचारियों, और तेरी प्रजा और तेरे घरोंमें झुण्डोंके झुण्ड भेजूंगा; और मिस्रियोंके घर मक्खियोंके झुण्ड से, और जिस भूमि में वे रहते हैं उस से भर जाएंगे।।

22 और उस समय मैं गोशेन देश को, जिस में मेरी प्रजा रहती है, नाश कर डालूंगा, कि वहां मक्खियोंके झुण्ड न होंगे; अन्त तक तू जान सकेगा, कि पृय्वी के बीच में मैं यहोवा हूं।

23 और मैं अपक्की प्रजा और तेरी प्रजा के बीच फूट डालूंगा; कल यह चिन्ह होगा।

24 और यहोवा ने वैसा ही किया; और फिरौन के घराने, और उसके कर्मचारियोंके घरोंमें, और सारे मिस्र देश में मक्खियोंका घोर झुण्ड आ गया; मक्खियों के झुंड के कारण भूमि भ्रष्ट हो गई थी।

25 तब फिरौन ने मूसा और हारून को बुलवाकर कहा, जा, अपके परमेश्वर के लिथे देश में बलि चढ़ा।

26 मूसा ने कहा, ऐसा करना उचित नहीं; क्‍योंकि हम अपके परमेश्वर यहोवा के लिथे मिस्रियोंके घिनौने काम को बलि करेंगे; क्या हम मिस्रियोंके घिनौने काम को उनकी आंखोंके साम्हने बलि करें, और क्या वे हम पर पत्यरवाह न करें?

27 हम जंगल में तीन दिन के मार्ग पर चलेंगे, और अपने परमेश्वर यहोवा के लिथे उसकी आज्ञा के अनुसार बलिदान करेंगे, जिस के वह हम को आज्ञा दें।

28 फिरौन ने कहा, मैं तुझे जाने दूंगा, कि तू जंगल में अपके परमेश्वर यहोवा के लिथे बलिदान करना; केवल तुम बहुत दूर न जाना; मेरे लिए विनती करो।

29 तब मूसा ने कहा, सुन, मैं तेरे पास से निकलूंगा, और यहोवा से बिनती करूंगा, कि कल फिरौन, और उसके कर्मचारियोंऔर उसकी प्रजा के पास से मक्खियोंके झुण्ड निकल जाएं; परन्तु फिरौन फिरौन से छल न करने पाए, कि प्रजा को यहोवा के लिथे बलि चढ़ाने न जाने दे।

30 तब मूसा ने फिरौन के पास से निकलकर यहोवा से बिनती की।

31 और यहोवा ने मूसा के वचन के अनुसार किया; और उसने फिरौन, और उसके कर्मचारियों, और उसकी प्रजा पर से झुण्डोंको दूर किया; एक नहीं रह गया।

32 और फिरौन ने इस समय भी अपना मन कठोर किया, और लोगोंको जाने न दिया।

अध्याय 9

फोड़े, मूरैन और ओलों की विपत्तियाँ।

1 तब यहोवा ने मूसा से कहा, फिरौन के पास जाकर उस से कह, कि इब्रियोंका परमेश्वर यहोवा योंकहता है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे मेरी उपासना करें।

2 क्‍योंकि यदि तू उन्‍हें जाने न दे, और उन्‍हें रोके रखे,

3 देख, यहोवा का हाथ तेरे पशुओं पर, जो मैदान में हैं, और घोड़ों, गदहों, ऊंटों, बैलों, और भेड़-बकरियों पर; एक बहुत ही गंभीर मूर्रेन होगा।

4 और यहोवा इस्त्राएलियोंऔर मिस्रियोंके पशुओं के बीच में फूट डाले, और जितने इस्राएली हों, उन सभोंमें से कुछ भी न मरेगा।

5 और यहोवा ने एक समय ठहराया, कि कल यहोवा देश में यह काम करेगा।

6 और दूसरे दिन यहोवा ने वह काम किया, और मिस्र के सब पशु मर गए; परन्तु इस्राएलियों के पशुओं में से एक भी न मरा।

7 और फिरौन ने यह कहला भेजा, कि इस्राएलियोंके पशुओं में से एक भी मरा न गया।। और फिरौन का मन कठोर हो गया, और उसने लोगोंको जाने न दिया।

8 और यहोवा ने मूसा और हारून से कहा, भट्ठी की राख में से एक मुट्ठी अपके पास ले, और मूसा उसे फिरौन के साम्हने आकाश की ओर छिड़क दे।

9 और वह सारे मिस्र देश में धूलि हो जाएगी, और सारे मिस्र देश में मनुष्य, क्या पशु, सब पर फोड़े-फुंसी से फूटने वाले फोड़े हो जाएंगे।

10 और वे भट्ठी की राख लेकर फिरौन के साम्हने खड़े हो गए; और मूसा ने उसे आकाश की ओर छिड़का; और वह एक फोड़ा बन गया, और मनुष्य और पशु दोनों पर कलंक फूट पड़ा।

11 और जादूगर फोड़े के कारण मूसा के साम्हने खड़े न रह सके; क्योंकि फोड़ा जादूगरों और सब मिस्रियों पर था।

12 और फिरौन ने अपना मन कठोर किया, और उस ने उनकी न मानी; जैसा कि यहोवा ने मूसा से कहा था।

13 और यहोवा ने मूसा से कहा, भोर को सवेरे उठ, और फिरौन के साम्हने खड़े होकर उस से कह, कि इब्रियोंका परमेश्वर यहोवा योंकहता है, कि मेरी प्रजा को जाने दे, कि वे मेरी उपासना करें।

14 क्योंकि मैं इस समय अपक्की सारी विपत्तियां तेरे मन पर, और तेरे कर्मचारियोंपर, और तेरी प्रजा पर भेजूंगा; कि तू जान ले, कि सारी पृय्वी पर मेरे तुल्य कोई नहीं है।

15 क्योंकि अब मैं अपना हाथ बढ़ाकर तुझे और तेरी प्रजा को मरी से मारूंगा; और तू पृय्वी पर से नाश किया जाएगा।

16 और मैं ने इसी काम के कारण तुझे जिलाया है, कि तुझे अपना सामर्थ दिखाऊं; और मेरा नाम सारी पृय्वी पर प्रगट किया जाए।

17 इसलिथे जो आज्ञा मैं तुझ को सुनाता हूं, वह फिरौन से कह, जो अब तक बड़ा है, कि उनको जाने न देगा।

18 सुन, कल इसी समय मैं ऐसा भारी ओले बरसाऊंगा, जैसा मिस्र में उसकी उत्पत्ति से लेकर अब तक न हुआ या।

19 सो अब भेज, और अपक्की अपक्की गाय-बैल, और जो कुछ तेरे पास मैदान में है, सब को बटोर ले; क्‍योंकि सब जन क्‍या पशु जो मैदान में पाए जाएं और जो घर में न लाए जाएं, उन पर ओले गिरेंगे, और वे मर जाएंगे।

20 जिस ने फिरौन के कर्मचारियोंमें से यहोवा के वचन का भय माना या, उस ने अपके दासोंऔर अपके पशुओं को अपके घर में भगा दिया;

21 और जिस ने यहोवा के वचन पर ध्यान न दिया, उसने अपके सेवकोंऔर पशुओं को मैदान में छोड़ दिया।

22 और यहोवा ने मूसा से कहा, अपना हाथ आकाश की ओर बढ़ा, कि मिस्र देश भर में मनुष्य, क्या पशु, और सब सब प्रकार के घास-फूस पर ओले गिरें।

23 और मूसा ने अपक्की लाठी को आकाश की ओर बढ़ाया; और यहोवा ने गरज और ओले बरसाए, और आग भूमि पर फैल गई; और यहोवा ने मिस्र देश पर ओले बरसाए।

24 तब ओले और ओलों के संग आग लगी, जो बहुत ही भयानक या, क्योंकि मिस्र देश के जब से वह एक जाति हो गई, तब से उसके समान कोई न हुआ।

25 और क्या मनुष्य क्या पशु क्या सब मिस्र देश में ओले गिरे; और ओलों ने मैदान की सब जडी-बूटी को मार डाला, और मैदान के सब वृझोंको तोड़ डाला।

26 केवल गोशेन देश में जहां इस्राएली थे, वहां ओले नहीं पड़े।

27 तब फिरौन ने मूसा और हारून को बुलवाकर उन से कहा, इस बार मैं ने पाप किया है; यहोवा धर्मी है, और मैं और मेरी प्रजा दुष्ट है।

28 यहोवा से बिनती करो (क्योंकि यह काफ़ी है) कि फिर गरज और ओले न हों; और मैं तुझे जाने दूंगा, और तुम फिर न रहोगे।

29 मूसा ने उस से कहा, नगर से निकलते ही मैं यहोवा की ओर हाथ फैलाऊंगा; और गरजना बन्द हो जाएगा, और फिर ओले न बरसेंगे; जिस से तू जान ले, कि पृय्वी यहोवा की है।

30 परन्तु मैं जानता हूं, कि तुम और तुम्हारे कर्मचारी अब तक यहोवा परमेश्वर का भय नहीं मानेंगे।

31 और सन और जव मारे गए; क्‍योंकि जव कान में था, और सन का सिला हुआ था।

32 परन्तु गेहूँ और राई नष्ट न हुए; क्योंकि वे बड़े नहीं हुए थे।

33 तब मूसा फिरौन के पास से नगर से निकल गया, और यहोवा की ओर अपके हाथ फैलाए; और गरज और ओले थम गए, और पृय्वी पर मेंह न बरसा।

34 और जब फिरौन ने देखा, कि मेंह, ओले और गरज थम गए हैं, तब उस ने और भी पाप किया, और अपके कर्मचारियों समेत अपने मन को कठोर कर लिया।

35 और फिरौन का मन कठोर हो गया, और उस ने इस्राएलियोंको जाने न दिया; जैसा कि यहोवा ने मूसा से कहा था।

अध्याय 10

टिड्डियों की विपत्तियाँ, और अन्धकार की विपत्तियाँ।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा, फिरौन के पास जाओ; क्योंकि उस ने अपके अपके दासोंके मन और अपके मन को कठोर किया है, इसलिथे मैं अपके ये चिन्ह उसके साम्हने दिखाऊंगा;

2 और तू अपके पुत्र, और अपके पुत्र के साम्हने बतलाना कि मैं ने मिस्र में क्या क्या काम किए हैं, और अपके जो चिन्ह मैं ने उनके बीच किए हैं; ताकि तुम जान सको कि मैं यहोवा हूं।

3 तब मूसा और हारून ने फिरौन के पास आकर उस से कहा, इब्रियोंका परमेश्वर यहोवा योंकहता है, कि तू कब तक मेरे साम्हने अपने आप को दीन करने से इन्कार करेगा? मेरी प्रजा को जाने दो, कि वे मेरी उपासना करें।

4 और यदि तू मेरी प्रजा को जाने न दे, तो देख, कल मैं टिड्डियोंको तेरे तट पर ले आऊंगा;

5 और वे पृय्वी के मुख को ढांपे होंगे, कि कोई पृय्वी को देख न सकेगा; और जो ओलों में से तुम्हारे लिये बचा रहे, उस में से जो कुछ तुम्हारे लिये मैदान में उगेगा उन सब को वे खा जाएंगे;

6 और वे तेरे घरोंको, और तेरे सब कर्मचारियोंके घरोंको, और सब मिस्रियोंके घरोंमें भर दें; जिसे न तो तेरे पुरखाओं ने देखा, और न तेरे पुरखाओं ने उस दिन से जब से वे पृय्वी पर थे, आज तक नहीं देखे।। और वह मुड़ा और फिरौन के पास से निकल गया।

7 फिरौन के कर्मचारियोंने उस से कहा, यह मनुष्य कब तक हमारे लिथे फंदा बना रहेगा? पुरुषों को जाने दो, कि वे अपने परमेश्वर यहोवा की उपासना करें; क्या तू अब तक नहीं जानता, कि मिस्र का नाश हो गया है?

8 और मूसा और हारून को फिरौन के पास फिर लाया गया; और उस ने उन से कहा, जा, अपके परमेश्वर यहोवा की उपासना कर; परन्तु वे कौन हैं जो जाएंगे?

9 तब मूसा ने कहा, हम अपके बच्चों, और बूढ़ोंके संग, और अपके बेटे-बेटियोंके संग, अपक्की भेड़-बकरी और गाय-बैल समेत चलेंगे; क्‍योंकि हमें यहोवा के लिथे जेवनार करना है।

10 उस ने उन से कहा, यहोवा तुम्हारे संग वैसा ही रहे, जैसा मैं तुम को और तुम्हारे बालबच्चोंको भी जाने दूंगा; इसे देखो; क्योंकि बुराई तुम्हारे सामने है।

11 ऐसा नहीं; अब तुम जो मनुष्य हो जाओ, और यहोवा की उपासना करो; उसके लिए तुमने इच्छा की। और वे फिरौन के साम्हने से खदेड़ दिए गए।

12 तब यहोवा ने मूसा से कहा, टिड्डियोंके लिथे मिस्र देश पर अपना हाथ बढ़ा, कि वे मिस्र देश पर चढ़ जाएं, और उस देश के सब सब भांति के जड-बूटी को खा जाएं, वरन ओलोंसे बचा हुआ सब कुछ खा जाएं।

13 तब मूसा ने अपक्की लाठी को मिस्र देश पर बढ़ाया, और यहोवा ने उस देश में दिन भर और रात भर पुरवाई चलाई; और भोर होते ही पुरवाई टिड्डियां ले आई।

14 और टिड्डियां मिस्र देश के सारे देश पर चढ़ गईं, और मिस्र के सब देश देश में विश्राम करने लगीं; वे बहुत गंभीर थे; उन से पहिले ऐसी न तो टिड्डियां आईं, और न उनके बाद ऐसी होंगी।

15 क्‍योंकि उन्‍होंने सारी पृय्‍वी को ऐसा ढांप लिया, कि देश में अन्‍धकार हो गया; और उन्होंने उस देश के सब छोटे-छोटे जडोंको, और जितने वृझोंके ओलोंको छोड़े थे, उन सभोंको उन्होंने खा लिया; और मिस्र के सारे देश में वृक्षों, वा मैदान की जड़ी-बूटियोंमें कोई हरी वस्तु न रही।

16 तब फिरौन ने फुर्ती से मूसा और हारून को बुलवा लिया; और उस ने कहा, मैं ने तेरे परमेश्वर यहोवा और तेरे विरुद्ध पाप किया है।

17 सो अब हे मेरे पाप को केवल एक बार क्षमा कर, और अपने परमेश्वर यहोवा से बिनती कर, कि वह केवल इस मृत्यु को मुझ से दूर करे।

18 और वह फिरौन के पास से निकलकर यहोवा से बिनती करने लगा।

19 और यहोवा ने पच्छिम की प्रचण्ड आँधी चलाई, जिस ने टिड्डियोंको दूर ले जाकर लाल समुद्र में डाल दिया; मिस्र के सब देशों में एक भी टिड्डी न रही।

20 तौभी फिरौन ने अपके मन को ऐसा कठोर कर लिया, कि वह इस्राएलियोंको जाने न दिया।।

21 और यहोवा ने मूसा से कहा, अपना हाथ स्वर्ग की ओर बढ़ा, कि मिस्र देश पर अन्धकार हो, और अन्धकार का अनुभव हो।

22 तब मूसा ने अपना हाथ आकाश की ओर बढ़ाया; और तीन दिन तक सारे मिस्र देश में घोर अन्धकार छाया रहा;

23 वे तीन दिन तक एक दूसरे को न देखे, और न अपके स्थान से उठे; परन्‍तु सब इस्‍त्राएलियोंके घर में उजियाला था।

24 तब फिरौन ने मूसा को बुलाकर कहा, जा, यहोवा की उपासना कर; केवल अपनी भेड़-बकरी और गाय-बैल ही रहने दें; अपने छोटों को भी अपने साथ जाने दो।

25 तब मूसा ने कहा, तू हमें मेलबलि और होमबलि भी देना, कि हम अपके परमेश्वर यहोवा के लिथे बलिदान करें।

26 हमारे पशु भी हमारे संग चलेंगे; कोई खुर न छूटे; उसके लिए हमें अपके परमेश्वर यहोवा की उपासना करनी चाहिए; और जब तक हम वहां न पहुंचें, तब तक हम नहीं जानते कि किस से यहोवा की उपासना करनी है।

27 परन्तु फिरौन ने अपना मन कठोर कर लिया, और उन्हें जाने न दिया।

28 फिरौन ने उस से कहा, मुझ से दूर हो जा, अपक्की चौकसी कर, मेरा मुख फिर न देखना; क्‍योंकि उस दिन तू मेरे मुख का दर्शन करेगा, तू मरेगा।

29 तब मूसा ने कहा, तू ने भला कहा है, मैं फिर तेरे मुख का दर्शन नहीं करूंगा।

अध्याय 11

इस्राएली गहने उधार लेते हैं — मूसा ने फिरौन को पहलौठे की मृत्यु की धमकी दी।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा, तौभी मैं फिरौन और मिस्र पर एक और विपत्ति डालूंगा; बाद में वह तुम्हें जाने देगा; जब वह तुझे जाने देगा, तब निश्चय तुझे इसलिथे पूरी रीति से निकाल देगा।

2 अब लोगों से कह, और अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की पड़ोसी से, और अपक्की अपक्की पड़ोसिन की स्त्री से, चान्दी के जेवर, और सोने के जेवर उधार ले।

3 और यहोवा ने मिस्रियोंके साम्हने प्रजा पर अनुग्रह किया। और मूसा मिस्र देश में फिरौन के दासों, और प्रजा की दृष्टि में बहुत महान था।

4 तब मूसा ने कहा, यहोवा योंकहता है, मैं आधी रात के निकट मिस्र के बीच में निकल जाऊंगा;

5 और मिस्र देश के सब पहिलौठे मर जाएंगे, अर्यात्‌ फिरौन के पहिलौठे से जो उसके सिंहासन पर विराजमान है, वरन चक्की के पीछे की दासी के पहिलौठे तक; और पशुओं के सब पहिलौठे।

6 और सारे मिस्र देश में ऐसा कोलाहल मचेगा, कि उसके तुल्य न तो कोई था, और न उसके समान फिर कभी होगा।

7 परन्तु इस्त्राएलियोंमें से किसी के साम्हने कोई कुत्ता अपनी जीभ मनुष्य वा पशु पर न हिलाए; जिस से तुम जान सको कि यहोवा मिस्रियोंऔर इस्राएलियोंके बीच भेद कैसे करता है।

8 और फिरौन के सब कर्मचारी मेरे पास आकर मेरे साम्हने दण्डवत् करेंगे, और कहगे, कि अपके सब लोगों समेत निकल जाओ; और उसके बाद मैं बाहर जाऊंगा।

9 तब यहोवा ने मूसा से कहा, फिरौन तेरी न सुनेगा; इस कारण मेरे आश्चर्यकर्म मिस्र देश में बहुत बढ़ेंगे।

10 और मूसा और हारून ने ये सब चमत्कार फिरौन के साम्हने किए, और वे फिरौन के पास से निकल गए, और वह बहुत क्रोधित हुआ। और फिरौन ने अपने मन को कठोर कर लिया, कि वह इस्राएलियोंको अपके देश से बाहर न जाने दे।

अध्याय 12

वर्ष की शुरुआत बदल गई - फसह की स्थापना की - पहला जन्म मारा गया - इस्राएलियों को बाहर निकाल दिया गया।

1 और यहोवा ने मिस्र देश में मूसा और हारून से कहा,

2 यह महीना तुम्हारे लिये महीनों का आरम्भ ठहरेगा; वह तुम्हारे लिये वर्ष का पहला महीना होगा।

3 इस्राएल की सारी मंडली को कहो, कि इस महीने के दसवें दिन में वे हर व्यक्ति को एक भेड़ का बच्चा ले जाएंगे, एक घर के लिए एक भेड़ का बच्चा;

4 और यदि घराने में मेम्ने के लिथे कुछ न हो, तो वह अपके घर के पास के पड़ोसी समेत प्राणोंकी गिनती के अनुसार ले ले; हर एक मनुष्य अपके अपके खाने के लिथे अपके अपके मेम्ने के लिथे गिन ले।

5 तेरा मेम्ना निष्कलंक, अर्थात पहिले वर्ष का नर हो; उसे भेड़-बकरियों में से वा बकरियों में से निकालना;

6 और उसी महीने के चौदहवें दिन तक उसकी रक्षा करना; और इस्त्राएल की मण्डली की सारी मण्डली सांफ को उसको घात करे।

7 और वे उस लोहू में से लेकर अपक्की अलंगोंऔर घरोंके ऊपर की चौखट पर मारें, जिस में वे उसे खाएं।

8 और वे उसका मांस उसी रात को आग, और अखमीरी रोटी भूनकर खाएं; और वे उसे कड़वे सागपात समेत खाएंगे।

9 उस में से न तो कच्चा खाना, और न जल में भिगोकर खाना, वरन आग में भूनना; उसका सिर उसके पैरों के साथ, और उसके शुद्धिकरण के साथ।

10 और उस में से कुछ बिहान तक न रहने देना; और जो कुछ भोर तक उसमें से बचा रहे, उसे तुम आग में जलाना।

11 और उसको इस प्रकार खाना; कमर बान्धे हुए, पांवों में जूते, और हाथ में लाठी लिए हुए; और तुम उसे फुर्ती से खाओगे; यह यहोवा का फसह है।

12 क्योंकि मैं आज रात को मिस्र देश में से होकर निकलूंगा, और मिस्र देश के सब पहिलौठोंको क्या मनुष्य क्या पशु मारूंगा; और मैं मिस्र के सब देवताओं का न्याय करूंगा; मैं प्रभु हूँ।

13 और जिस घर में तुम हो वहां लोहू तुम्हारे लिथे चिन्ह ठहरेगा; और जब मैं लोहू को देखूंगा, तब तुम्हारे ऊपर से होकर निकलूंगा, और जब मैं मिस्र देश को मारूंगा, तब मरी तुम पर न पड़ेगी।

14 और आज का दिन तेरे लिथे स्मरण के लिथे होगा; और अपक्की पीढ़ी पीढ़ी तक यहोवा के लिथे उसका पर्ब्ब मानना; तुम इसे सदा के लिये विधि के द्वारा पर्ब्ब मानना।

15 सात दिन तक अखमीरी रोटी खाना; पहिले दिन तक अपके अपके घरोंमें से खमीर उठना; क्योंकि जो कोई पहिले दिन से सातवें दिन तक खमीरी रोटी खाए, वह इस्त्राएल में से नाश किया जाए।

16 और पहिले दिन पवित्र सभा हो, और सातवें दिन तुम्हारी पवित्र सभा हो; उन में किसी प्रकार का काम न किया जाए, केवल उस को छोड़ जो हर एक मनुष्य खाए, कि केवल तुझ से किया जाए।

17 और अखमीरी रोटी का पर्ब्ब मानना; क्योंकि मैं उसी दिन तेरी सेना को मिस्र देश से निकाल लाया हूं; इस कारण तुम अपनी पीढ़ी पीढ़ी में इस दिन को सदा की विधि के अनुसार मानना।

18 पहले महीने के चौदहवें दिन को सांफ को तुम अखमीरी रोटी खाना, अर्थात महीने के एक बीसवें दिन की सांझ तक खाना।

19 सात दिन तक तेरे घरों में कोई खमीर न रहने पाए; क्योंकि जो कोई खमीरी वस्तु खाए, वह जीव इस्राएल की मण्डली में से नाश किया जाए, चाहे वह परदेशी हो, वा देश में उत्पन्न हुआ हो।

20 तुम खमीरी वस्तु न खाना; अपके सब निवासोंमें अखमीरी रोटी खाना।

21 तब मूसा ने इस्त्राएल के सब पुरनियोंको बुलवाकर उन से कहा, अपके अपके कुलोंके अनुसार एक मेम्ना निकालकर ले, और फसह को बलि करना।

22 और जूफा का एक गुच्छा लेकर उस लोहू में जो हौले में है डुबाना, और उस लोहू से जो हौले में है, उसके दोनों अलंगोंपर लगाना; और तुम में से कोई बिहान तक अपके घर के द्वार से बाहर न निकले।

23 क्योंकि यहोवा मिस्रियोंको मारने को वहां से निकलेगा; और जब वह लोहू को चौखट और दोनों अलंगों पर देखे, तब यहोवा द्वार के ऊपर से होकर जाएगा, और नाश करनेवाले को तेरे घर में तुझे मारने के लिथे आने न देगा।

24 और तुम इस बात को अपके और अपके पुत्रोंके लिथे सदा के लिथे नियम के लिथे मानना।

25 और ऐसा होगा, कि जब तुम उस देश में पहुंचोगे, जिसे यहोवा अपनी प्रतिज्ञा के अनुसार तुम्हें देगा, तब तुम इस सेवा का पालन करना।

26 और ऐसा होगा, कि जब तुम्हारे लड़केबाले तुम से कहेंगे, इस सेवा से तुम्हारा क्या तात्पर्य है ?

27 तब तुम कहना, कि यह यहोवा के फसह का बलिदान है, जिस ने मिस्रियोंको मारकर हमारे घरोंको छुड़ाने के समय मिस्र में इस्राएलियोंके घरोंको पार किया। और लोगों ने सिर झुकाकर प्रणाम किया।

28 तब इस्राएली चले गए, और यहोवा की इस आज्ञा के अनुसार जो मूसा और हारून को दी गई या, उन्होंने वैसा ही किया।

29 और ऐसा हुआ कि आधी रात को यहोवा ने मिस्र देश में सिंहासन पर विराजने वाले फिरौन के पहलौठे से लेकर बंदीगृह में रहने वाले बन्धुए के पहिलौठोंको मार डाला; और पशुओं के सब पहिलौठे।

30 और फिरौन रात को अपके सब कर्मचारियों समेत सब मिस्रियों समेत उठ खड़ा हुआ; और मिस्र देश में बड़ा कोलाहल मच गया; क्‍योंकि ऐसा कोई घर न था जहां एक की मृत्यु न हुई हो।

31 और उस ने रात को मूसा और हारून को बुलवाकर कहा, उठ, और इस्त्राएलियोंको मेरी प्रजा के बीच में से निकाल ले; और जाओ, जैसा तुम ने कहा है, यहोवा की उपासना करो।

32 और अपक्की भेड़-बकरियां और गाय-बैल, जैसा तू ने कहा है, ले जा, और चला जा; और मुझे भी आशीर्वाद दो।

33 और मिस्रियोंने प्रजा पर चढ़ाई की, कि वे उन्हें फुर्ती से देश से बाहर भेज दें; क्‍योंकि उन्‍होंने कहा, हम ने अपके पहलौठे को सब मरा हुआ पाया है; इसलिथे तुम इस देश से निकल जाओ, ऐसा न हो कि हम भी मर जाएं।

34 और लोगों ने अपना आटा खमीर होने से पहिले लिया, और अपके गूथे हुए कुंड अपके कपड़ो में अपके कन्धोंपर बन्धे हुए थे।

35 और इस्राएलियोंने मूसा के वचन के अनुसार किया; और उन्होंने मिस्रियोंसे चान्दी, और सोने के जेवर, और वस्त्र उधार लिए;

36 और यहोवा ने मिस्रियोंकी प्रजा पर ऐसी कृपा की, कि उन्होंने उन को अपनी इच्छा के अनुसार कुछ दिया; और उन्होंने मिस्रियोंको लूट लिया।

37 और इस्त्राएलियोंने रामसेस से सुक्कोत को कूच किया, और स्त्रियों और बालकोंको छोड़ कोई छ: लाख पुरूष पैदल ही चल पड़े।

38 और उनके संग मिली-जुली भीड़ भी चढ़ गई; और भेड़-बकरी, और गाय-बैल, यहां तक कि बहुत से पशु भी।

39 और उस आटे की अखमीरी रोटियां, जो वे मिस्र से निकाल लाए थे, वे पके हुए थे, क्योंकि वह खमीर नहीं था; क्योंकि वे मिस्र से निकाले गए थे, और ठहर नहीं सकते थे, और न उन्होंने अपने लिये कुछ भोजन तैयार किया था।

40 मिस्र में रहनेवाले इस्राएलियोंका परदेश चार सौ तीस वर्ष का हुआ।

41 और जिस दिन ऐसा हुआ, कि चार सौ तीस वर्ष के बीतने पर यहोवा की सारी सेना मिस्र देश से निकल गई।

42 वह उन्हें मिस्र देश से निकालने के लिये यहोवा के लिथे अत्याधिक मनाई जानेवाली रात है; यह यहोवा की वह रात है जो सब इस्राएलियोंके पीढ़ी पीढ़ी में मानी जाएगी।

43 तब यहोवा ने मूसा और हारून से कहा, फसह की विधि यह है; कोई परदेशी उसका भोजन न करे;

44 परन्तु हर एक का दास जो रुपयोंके लिथे मोल लिया जाए, जब तू उसका खतना कराए, तब वह उस में से खाए।

45 कोई परदेशी और भाड़े का दास उसका कुछ न खाए।

46 वह एक ही घर में खाया जाए; मांस में से कुछ भी घर से बाहर न ले जाना; और न उसकी कोई हड्डी तोड़ना।

47 इस्राएल की सारी मण्डली उसकी रक्षा करे।

48 और जब कोई परदेशी तेरे संग रहकर यहोवा के लिथे फसह को माने, तब उसके सब पुरूषोंका खतना किया जाए, तब वह समीप आकर उसको माने; और वह उस के समान होगा जो उस देश में उत्पन्न हुआ है; क्योंकि कोई खतनारहित मनुष्य उस में से कुछ न खाए।

49 जो घर में उत्पन्न हो, उसके लिये एक व्यवस्था हो, और उस परदेशी के लिये जो तुम्हारे बीच में रहता है।

50 सब इस्राएलियोंने ऐसा ही किया; जैसा यहोवा ने मूसा और हारून को आज्ञा दी थी, वैसा ही उन्होंने भी किया।

51 और ऐसा हुआ कि उसी दिन यहोवा इस्राएलियोंको उनकी सेना के द्वारा मिस्र देश से निकाल ले आया।

अध्याय 13

पहिलौठा पवित्र किया गया - फसह की आज्ञा - मिस्र से भागना - बादल, और आग का एक खंभा।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा,

2 क्या मनुष्य क्या पशु क्या इस्त्राएलियोंके सब पहिलौठों को मेरे लिथे पवित्र करना; यह मेरा है।

3 तब मूसा ने लोगोंसे कहा, आज के दिन को स्मरण रखो, जिस में तुम बन्धुआई के घर में से मिस्र से निकल आए; क्योंकि यहोवा तुझे अपने हाथ के बल से इस स्थान से निकाल लाया है; कोई खमीरी रोटी न खाई जाए।

4 आज का दिन अबीब महीने में निकला।

5 और जब यहोवा तुझ को कनानियों, हित्ती, एमोरियों, हिब्बियों, और यबूसियोंके देश में पहुंचाएगा, जिसके विषय में उस ने तेरे पुरखाओं से तुझे देने की शपय खाई थी, उस देश में दूध की धारा बहती है, हे प्रिये, कि तू इस सेवा को इसी महीने में करना।

6 सात दिन तक अखमीरी रोटी खाना, और सातवें दिन यहोवा का पर्ब्ब मानना।

7 अखमीरी रोटी सात दिन तक खाई जाए; और तेरे पास खमीरी रोटी न रहने पाए, और न तेरे सब तिमाहियोंमें खमीर उठे।

8 और उस दिन अपके पुत्र को यह कहकर दिखाना, कि यह उस काम के कारण हुआ है जो यहोवा ने मेरे मिस्र से निकलने के समय मुझ से किया था।

9 और वह तेरे लिथे तेरे लिथे एक चिन्ह, और तेरी आंखोंके बीच यादगार ठहरे, जिस से यहोवा की व्यवस्या तेरे मुंह में बनी रहे; क्योंकि यहोवा तुझ को बलवन्त हाथ से मिस्र देश से निकाल ले आया है।

10 सो तू इस नियम को उसके समय पर प्रति वर्ष मानना।

11 और जब यहोवा अपके अपके पुरखाओं से शपय खाकर तुझे कनानियोंके देश में पहुंचाएगा, और तुझे दे देगा,

12 कि तू यहोवा के लिथे उन सभोंको अलग करना, जो उस गूदे को खोलते हैं, और जितने पहिलौठे तेरे पास हैं उन को यहोवा के लिथे अलग करना; वह पुरुष यहोवा का हो।

13 और गदही के सब पहिलौठोंको एक एक मेम्ना देकर छुड़ाना; और यदि तू उसे छुड़ाना न चाहे, तो उसका गला तोड़ देना; और अपक्की सन्तान में से सब पहिलौठोंको छुड़ाना।

14 और आनेवाले समय में जब तेरा पुत्र तुझ से पूछे, कि यह क्या है? कि तू उस से कहना, यहोवा हम को अपने हाथ के बल से बन्धुआई के घर से मिस्र देश से निकाल लाया है;

15 और जब फिरौन ने हमें जाने न दिया, तब यहोवा ने मिस्र देश के सब पहिलौठोंको, क्या मनुष्य के जेठे, क्या पशु के जेठे, सब को मार डाला; इसलिथे मैं यहोवा के लिथे वह सब बलि चढ़ाता हूं, जो गूदे को खोलता है, अर्थात पुरुष हैं; परन्तु मैं अपके सब पहिलौठोंको छुड़ाता हूं।

16 और वह अपके हाथ का चिन्ह, और अपक्की आंखोंके बीच के लट्ठोंके लिथे ठहरे; क्योंकि यहोवा हम को हाथ के बल से मिस्र से निकाल लाया है।

17 और जब फिरौन ने लोगोंको जाने दिया, तब परमेश्वर उन्हें पलिश्तियोंके देश के मार्ग में न ले गया, वरन वह निकट था; क्‍योंकि परमेश्वर ने कहा, ऐसा न हो कि प्रजा के लोग युद्ध देखकर मन फिराएं, और मिस्र को लौट जाएं;

18 परन्तु परमेश्वर लोगोंको लाल समुद्र के जंगल के मार्ग में ले गया; और इस्त्राएलियोंके लिथे मिस्र देश से निकल गए।

19 तब मूसा यूसुफ की हड्डियोंको अपके साथ ले गया; क्योंकि उस ने इस्राएलियोंको सीधी शपय खाई या, कि परमेश्वर निश्चय तेरी सुधि लेगा; और तुम मेरी हड्डियों को यहां से अपने साथ ले जाना।

20 और उन्होंने सुक्कोत से कूच करके जंगल के छोर पर एताम में डेरे खड़े किए।

21 और यहोवा दिन को बादल के खम्भे में होकर उनके आगे आगे चला, कि उन्हें मार्ग दिखाए; और रात को आग के खम्भे में उन को उजियाला देने के लिथे; दिन-रात जाना।

22 उस ने न तो बादल के खम्भे को दिन को, और न आग के खम्भे को रात को लोगों के साम्हने से हटाया।

अध्याय 14

परमेश्वर इस्राएलियों को निर्देश देता है - फिरौन उनका पीछा करता है - इस्राएली लाल समुद्र से गुजरते हैं।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा,

2 इस्त्राएलियों से कह, कि वे फिरकर पीहहीरोत के साम्हने, मिगदोल और समुद्र के बीच बालसपोन के साम्हने डेरे खड़े करें; उसके साम्हने समुद्र के किनारे डेरे खड़े करना।

3 क्‍योंकि फिरौन इस्राएलियोंके विषय में कहेगा, वे देश में उलझे हुए हैं, और जंगल ने उनको बन्द कर रखा है।

4 तब फिरौन अपके मन को कठोर करेगा, और वह उनके पीछे हो लेगा; और फिरौन और उसकी सारी सेना पर मेरी महिमा होगी; ताकि मिस्री जान लें कि मैं यहोवा हूं। और उन्होंने ऐसा किया।

5 और मिस्र के राजा को यह समाचार मिला, कि वे लोग भाग गए; और फिरौन और उसके कर्मचारियों का मन प्रजा के विरुद्ध हो गया, और वे कहने लगे, कि हम ने ऐसा क्यों किया है, कि इस्राएल को अपक्की उपासना करने से जाने दिया है?

6 और उस ने अपना रथ तैयार किया, और अपक्की प्रजा को अपके संग ले लिया;

7 और उस ने छ: सौ चुने हुए रथ, और मिस्र के सब रथों को, और उन में से एक एक के प्रधान ले लिया।

8 तब फिरौन ने अपना मन कठोर किया, और इस्त्राएलियोंका पीछा किया; और इस्राएली हाथ बढ़ाकर निकल गए।

9 परन्तु मिस्रियोंने उनका पीछा किया, और फिरौन के सब घोड़ों, और रथों, और सवारों, और उसकी सेना को, और पीहहीरोत के पास, बालसपोन के साम्हने समुद्र के किनारे डेरे डाले हुए उन्हें पकड़ लिया।

10 और जब फिरौन निकट आया, तब इस्राएलियोंने आंखे उठाई, और क्या देखा, कि मिस्री उनके पीछे पीछे चल रहे हैं; और वे बहुत डरे हुए थे; और इस्राएलियोंने यहोवा की दोहाई दी।

11 और उन्होंने मूसा से कहा, मिस्र में कब्रें न होने के कारण क्या तू हमें जंगल में मरने के लिथे ले गया है? तू ने हम से ऐसा व्यवहार क्यों किया, कि हम को मिस्र से निकाल ले?

12 क्या यह वह वचन नहीं जो हम ने मिस्र में तुझ से कहा या, कि हम को छोड़, कि हम मिस्रियोंकी उपासना करें? क्योंकि मिस्रियों की सेवा करना हमारे लिथे अच्छा था, कि हम जंगल में मर जाएं।

13 तब मूसा ने लोगोंसे कहा, मत डरो, खड़े रहो, और यहोवा के उस उद्धार को देखो जो वह आज तुम को दिखाएगा; क्‍योंकि जिन मिस्रियोंको तुम ने आज देखा है, उनको तुम फिर कभी न देखोगे।

14 यहोवा तुम्हारे लिथे युद्ध करेगा, और तुम शान्ति से रहोगे।

15 तब यहोवा ने मूसा से कहा, तू मेरी दोहाई क्योंकरता है? इस्राएलियों से कहो कि वे आगे बढ़ें;

16 परन्तु अपक्की लाठी को उठाकर समुद्र के ऊपर अपना हाथ बढ़ाकर उसे बांट लेना; और इस्राएली समुद्र के बीच में सूखी भूमि पर चले जाएंगे।

17 और मैं तुम से कहता हूं, कि मिस्रियोंके मन कठोर हो जाएंगे, और वे उनके पीछे हो लेंगे; और मैं फिरौन, और उसकी सारी सेना, और उसके रथों, और उसके सवारोंपर अपनी महिमा पाऊंगा।

18 और जब फिरौन, और उसके रथों, और सवारोंपर मैं ने अपक्की महिमा की, तब मिस्री जान लेंगे कि मैं यहोवा हूं।

19 और परमेश्वर का दूत, जो इस्राएल की छावनी के साम्हने चलता या, वह हटकर उनके पीछे पीछे चला गया; और बादल का खम्भा उनके साम्हने से हटकर उनके पीछे खड़ा हो गया;

20 और वह मिस्रियोंकी छावनी और इस्राएल की छावनी के बीच में आया; और वह मिस्रियोंके लिथे बादल और अन्धियारा था, परन्तु उस ने इस्राएलियोंको रात को ऐसा उजियाला दिया कि एक रात भर दूसरे के निकट न रहा।

21 तब मूसा ने अपना हाथ समुद्र के ऊपर बढ़ाया; और यहोवा ने रात भर प्रचण्ड पुरवाई से समुद्र को लौटा दिया, और समुद्र को सुखा डाला, और जल दो भागोंमें बंट गया।

22 और इस्त्राएलियोंने समुद्र के बीच में सूखी नदी पर चले गए

ज़मीन; और जल उनकी दहिनी और बायीं ओर शहरपनाह ठहरे।

23 और मिस्रियोंने उनका पीछा किया, और उनका पीछा करके समुद्र के बीच में चले गए, वरन फिरौन के सब घोड़े, और उसके रथ, और सवार भी।

24 और ऐसा हुआ कि भोर को यहोवा ने आग के खम्भे और बादल में से मिस्रियोंकी सेना पर दृष्टि की, और मिस्रियोंकी सेना को व्याकुल किया।

25 और उनके रथोंके पहियोंको उतार दिया, कि वे उनको बहुत भगाने लगे; और मिस्री कहने लगे, हम इस्राएलियोंके साम्हने से भाग जाएं; क्योंकि यहोवा उनके लिथे मिस्रियोंसे लड़ता है।

26 और यहोवा ने मूसा से कहा, अपना हाथ समुद्र के ऊपर बढ़ा, कि जल मिस्रियों, और उनके रथों, और सवारोंपर फिर चढ़ जाए।

27 तब मूसा ने अपना हाथ समुद्र पर बढ़ाया, और भोर होते ही समुद्र अपने बल पर लौट आया; और मिस्री उसके साम्हने भागे; और यहोवा ने मिस्रियोंको समुद्र के बीच में उलट दिया।

28 और जल लौट आया, और रय, और सवार, और फिरौन की सारी सेना जो उनके पीछे समुद्र में आई या, उन पर पानी फिर गया; उनमें से एक के रूप में इतना नहीं रहा।

29 परन्तु इस्राएली समुद्र के बीच में सूखी भूमि पर चले; और जल उनकी दहिनी और बायीं ओर शहरपनाह ठहरे।

30 इस प्रकार यहोवा ने उस दिन इस्राएलियोंको मिस्रियोंके हाथ से छुड़ाया; और इस्राएलियों ने मिस्रियों को समुद्र के किनारे मरा हुआ देखा।

31 और इस्राएल ने उस बड़े काम को देखा जो यहोवा ने मिस्रियोंसे किया था; और लोग यहोवा का भय मानते, और यहोवा और उसके दास मूसा की प्रतीति करते थे।

अध्याय 15

मूसा का गीत - मारा में जल।

1 तब मूसा और इस्त्राएलियोंने यहोवा के लिथे यह गीत गाया, और कहा, मैं यहोवा का गाऊंगा, क्योंकि उस ने प्रताप से जय पाई है; घोड़े और उसके सवार को उस ने समुद्र में डाल दिया है।

2 यहोवा मेरा बल और गीत है, और वही मेरा उद्धारकर्ता है; वह मेरा परमेश्वर है, और मैं उसका निवास स्थान तैयार करूंगा; मेरे पिता का परमेश्वर, और मैं उसे ऊंचा करूंगा।

3 यहोवा योद्धा है; यहोवा उसका नाम है।

4 फिरौन के रथों समेत अपक्की सेना को उस ने समुद्र में डाल दिया है; उसके चुने हुए सेनापति भी लाल समुद्र में डूब गए हैं।

5 गहिरे स्थान ने उनको ढांप लिया है; वे तल में पत्थर की नाईं दब गए।

6 हे यहोवा, तेरा दहिना हाथ सामर्थ में प्रतापी हो गया है; हे यहोवा, तेरा दहिना हाथ शत्रु को चकनाचूर कर देता है।

7 और अपके महामहिम के कारण जो तुझ पर चढ़ाई करते हैं उनको तू ने उलट दिया है; तू ने अपना कोप भड़काया, जिस से वे खूंटी की नाईं भस्म हो गए।

8 और तेरे नथनों के झोंके से जल इकट्ठा हो गया, और जल-प्रलय ढेर की नाईं सीधा खड़ा हो गया, और समुद्र के बीच में गहिरा गहिरा ठहर गया।

9 शत्रु ने कहा, मैं पीछा करूंगा, मैं आगे निकल जाऊंगा, मैं लूट को बांट दूंगा; मेरी लालसा उन पर तृप्त होगी; मैं अपनी तलवार खींचूंगा, मेरा हाथ उन्हें नष्ट कर देगा।

10 तू ने अपक्की आँधी उड़ाई, और समुद्र ने उन्हें ढांप लिया; वे बड़े जल में सीसे की नाईं डूब गए।

11 हे यहोवा, देवताओं में तेरे तुल्य कौन है? तेरे तुल्य कौन है, जो पवित्रता में प्रतापी है, स्तुति में भययोग्य है, और अद्भुत काम करता है?

12 तू ने अपना दहिना हाथ बढ़ाया, पृय्वी ने उनको निगल लिया।

13 तू ने अपक्की करूणा से उन लोगोंको आगे बढ़ाया है जिन्हें तू ने छुड़ा लिया है; तू ने उन्हें अपके बल से अपके पवित्र निवासस्थान तक पहुंचाया है।

14 लोग सुनेंगे, और डरेंगे; फ़िलिस्तीन के बाशिंदों पर मातम छा जाएगा।

15 तब एदोम के प्रधान चकित होंगे; मोआब के शूरवीर थरथराते हुए उन को पकड़ लेंगे; कनान के सब निवासी गल जाएंगे।

16 उन पर भय और भय छा जाएगा; तेरी भुजा के प्रताप से वे पत्यर के तुल्य ठहरेंगे; जब तक प्रजा पार न हो जाए, हे यहोवा, जब तक प्रजा के लोग पार न हो जाएं, जिसे तू ने मोल लिया है।

17 और उनको भीतर ले जाकर अपके निज भाग के पहाड़ पर उस स्यान में लगाना, जिस में हे यहोवा, जिसे तू ने अपने रहने के लिथे बनाया है; पवित्रस्थान में, हे यहोवा, जिसे तेरे हाथ ने दृढ़ किया है।

18 यहोवा युगानुयुग राज्य करेगा।

19 क्योंकि फिरौन का घोड़ा अपके रथोंऔर सवारोंके संग समुद्र में गया, और यहोवा ने उन पर समुद्र का जल फिर लाया; परन्तु इस्राएली समुद्र के बीच में सूखी भूमि पर चले गए।

20 और हारून की बहिन मरियम भविष्यद्वक्ता ने अपके हाथ में डफ लिया; और सब स्त्रियां डकारें और नाचती हुई उसके पीछे पीछे निकल गईं।

21 मरियम ने उन को उत्तर दिया, कि यहोवा का गीत गाओ, क्योंकि उस ने प्रताप से जय पाई है; घोड़े और उसके सवार को उस ने समुद्र में डाल दिया है।

22 तब मूसा इस्राएलियोंको लाल समुद्र से निकाल ले आया, और वे शूर नाम जंगल में निकल गए; और वे तीन दिन तक जंगल में गए, और उन्हें जल न मिला।

23 और जब वे मारा में आए, तो मारा का जल न पी सके, क्योंकि वे कड़वे थे; इसलिए उसका नाम मारा रखा गया।

24 तब वे लोग मूसा पर बुड़बुड़ाने लगे, और कहने लगे, हम क्या पीएं?

25 और उस ने यहोवा की दोहाई दी; और यहोवा ने उसे एक वृक्ष दिखाया, जिस को उस ने जल में डालने से जल मीठा हो गया; वहाँ उस ने उनके लिये एक विधि और एक विधि बनाई, और वहां उस ने उन्हें प्रमाणित किया।

26 और कहा, यदि तू अपके परमेश्वर यहोवा की वाणी पर मन लगाकर वह करे जो उसकी दृष्टि में ठीक है, और उसकी आज्ञाओं पर कान लगाए, और उसकी सब विधियोंको माने, तो मैं इन में से कोई रोग न लगाऊंगा। जो मैं ने मिस्रियोंसे तुझ पर लाद दिया है; क्योंकि मैं तुम्हारा चंगा करने वाला यहोवा हूं।

27 और वे एलीम को आए, जहां जल के बारह कुएं, और साठ दस खजूर के वृझ थे; और उन्होंने जल के किनारे डेरे खड़े किए।

अध्याय 16

बटेर और मन्ना भेजा।

1 और उन्होंने एलीम से कूच किया, और इस्राएलियोंकी सारी मण्डली मिस्र देश से निकलने के दूसरे महीने के पन्द्रहवें दिन को सीन नाम जंगल में, जो एलीम और सीनै के बीच में है, आ गई।

2 और इस्राएलियों की सारी मण्डली जंगल में मूसा और हारून पर कुड़कुड़ाने लगी;

3 इस्त्राएलियोंने उन से कहा, क्या हम मिस्र देश में यहोवा के हाथ से उस समय मरते, जब हम मांस के पात्र के पास बैठे, और भरपेट रोटी खाते थे; क्योंकि तुम हमें इस जंगल में इसलिथे निकाल लाए हो, कि इस सारी मण्डली को भूख से मार डालो।

4 तब यहोवा ने मूसा से कहा, सुन, मैं तेरे लिथे आकाश से रोटियां बरसाऊंगा; और वे लोग निकलकर प्रति दिन एक निश्चित दाम बटोरेंगे, कि मैं उनको परख लूंगा, कि वे मेरी व्यवस्या पर चलेंगे वा नहीं।

5 और ऐसा होगा, कि छठवें दिन जो कुछ वे लाएं, उसे तैयार करें; और जितना वे प्रतिदिन बटोरते हैं, उसका दुगुना हो।

6 तब मूसा और हारून ने सब इस्राएलियोंसे कहा, सांफ को तुम जान लोगे कि यहोवा तुम को मिस्र देश से निकाल ले आया है;

7 और भोर को तुम यहोवा का तेज देखोगे; क्योंकि वह यहोवा के विरुद्ध तेरा कुड़कुड़ाना सुनता है; और हम क्या हैं, कि तुम हम पर कुड़कुड़ाते हो?

8 तब मूसा ने कहा, यह तब होगा, जब यहोवा सांफ को मांस खाने को, और भोर को भरपेट रोटी तुझे देगा; क्योंकि जो कुड़कुड़ाना तुम उस पर कुड़कुड़ाते हो उस पर यहोवा सुनता है; और हम क्या हैं? तेरा कुड़कुड़ाना हमारे विरुद्ध नहीं, वरन यहोवा के विरुद्ध है।

9 तब मूसा ने हारून से कहा, इस्राएलियोंकी सारी मण्डली से कह, यहोवा के साम्हने निकट आओ; क्योंकि उस ने तेरा कुड़कुड़ाना सुना है।

10 और जब हारून इस्राएलियोंकी सारी मण्डली से कहने लगा, कि उन्होंने जंगल की ओर दृष्टि करके देखा, तब यहोवा का तेज बादल पर दिखाई दिया।

11 और यहोवा ने मूसा से कहा,

12 मैं ने इस्त्राएलियोंका कुड़कुड़ाना सुना है; उन से कहो, सांफ को तुम मांस खाओगे, और भोर को रोटी से तृप्त हो जाओगे; और तुम जान लोगे कि मैं तुम्हारा परमेश्वर यहोवा हूं।

13 और ऐसा हुआ कि साम्हने बटेरोंने चढ़कर छावनी को ढांप दिया; और भोर को मेज़बान के चारों ओर ओस पड़ी।

14 और जब ओस गिर गई, तब क्या देखा, कि जंगल के मुंह पर एक छोटी सी गोल वस्तु पड़ी है, जो भूमि पर कर्कश पाले के समान छोटी है।

15 यह देखकर इस्राएलियोंने आपस में कहा, यह तो मन्ना है; क्योंकि वे नहीं जानते कि यह क्या था। और मूसा ने उन से कहा, यह वह रोटी है जो यहोवा ने तुम को खाने को दी है।

16 जिस बात की आज्ञा यहोवा ने दी है वह यह है, कि अपके अपके अपके अपके खाने के लिथे अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके लिथे ओमेर बटोर ले; अपके अपके डेरे में रहने वालोंके लिथे अपके अपके अपके लिथे ले लो।

17 और इस्राएलियोंने वैसा ही किया, और कोई अधिक, कोई कम।

18 और जब वे उस से ओमेर से मिले, तो उसके बहुत बटोरने वाले के पास कुछ न रहा, और जिस के थोड़ा बटोरने को घटी न हुई; उन्होंने हर एक को उसके खाने के अनुसार इकट्ठा किया।

19 मूसा ने कहा, भोर तक कोई उसमें से निकलने न पाए।

20 तौभी उन्होंने मूसा की न मानी; परन्तु उन में से कितने उस में से बिहान तक छोड़े रहे, और उस में कीड़े पड़ गए, और उनमें से दुर्गंध आने लगी; और मूसा उन पर क्रोधित हुआ।

21 और वे उसे भोर को अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अप न अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके ले ले; और जब सूरज गर्म हो गया, तो वह पिघल गया।

22 और ऐसा हुआ, कि छठे दिन उन्होंने एक मनुष्य के लिथे दुगनी रोटियां बटोरीं, अर्थात दो ओमर्स; और मण्डली के सब हाकिमोंने आकर मूसा को समाचार दिया।

23 उस ने उन से कहा, यह वह है जो यहोवा ने कहा है, कि कल यहोवा के लिथे पवित्र विश्रामदिन का विश्राम है; जिसे आज तुम पकाओगे, उसे सेंकना, और देखना कि तुम देखना; और जो कुछ बचा है, वह तुम्हारे लिये भोर तक रखे रहने के लिये रखा है।

24 और मूसा के कहने के अनुसार उन्होंने उसे बिहान तक रखा; और उस में न तो बदबू थी, और न उस में कोई कीड़ा था।

25 तब मूसा ने कहा, आज वह खा; क्योंकि आज का दिन यहोवा के लिथे विश्राम का दिन है; आज तुम उसे मैदान में नहीं पाओगे।

26 छ: दिन तक उसको बटोरना; परन्तु सातवें दिन, जो विश्रामदिन है, उस में कोई न होना।

27 और ऐसा हुआ, कि सातवें दिन प्रजा में से कितने लोग बटोरने को निकले, और उन्हें कोई न मिला।

28 और यहोवा ने मूसा से कहा, तुम कब तक मेरी आज्ञाओं और मेरी व्यवस्था को मानने से इन्कार करते रहे?

29 देख, क्योंकि यहोवा ने तुझे विश्रामदिन दिया है, इस कारण छठे दिन वह तुझे दो दिन की रोटी देता है; तुम अपके अपके स्यान में रहो, और सातवें दिन कोई अपके स्यान से निकल न जाए।

30 तब लोगों ने सातवें दिन विश्राम किया।

31 और इस्राएल के घराने ने उसका नाम मन्ना रखा; और वह धनिये के बीज के समान सफेद या; और उसका स्वाद मधु की बनी हुई लोई के समान था।

32 फिर मूसा ने कहा, यहोवा की आज्ञा यह है, कि उस में से एक ओमेर भरकर अपक्की पीढ़ी पीढ़ी के लिथे रखा जाए; कि जब मैं तुम को मिस्र देश से निकाल लाया, तब वे उस रोटी को देखें, जिससे मैं ने जंगल में तुझे खिलाई थी।

33 तब मूसा ने हारून से कहा, एक हौदा ले, और उस में एक ओमेर भरकर यहोवा के साम्हने रख दे, कि वह तेरी पीढ़ी पीढ़ी के लिथे सुरक्षित रहे।

34 जिस प्रकार यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी, वैसे ही हारून ने उसे साक्षी के साम्हने रख दिया, कि वह रखा जाए।

35 और इस्त्राएलियोंने चालीस वर्ष तक मन्ना खाया, जब तक वे बसे हुए देश में न पहुंच गए; जब तक वे कनान देश के सिवाने तक न पहुंचे, तब तक वे मन्ना खाते रहे।

36 अब ओमेर एपा का दसवां भाग है।

अध्याय 17

होरेब की चट्टान पर पानी — मूसा के हाथ थामे हुए — मूसा ने एक वेदी बनाई।

1 और इस्राएलियों की सारी मण्डली यहोवा की आज्ञा के अनुसार सीन जंगल से कूच करके कूच करके रपीदीम में डेरे खड़े किए; और लोगों के पीने के लिए पानी नहीं था।

2 इसलिथे लोगोंने मूसा से डांटा, और कहा, हम को पानी पिला, कि हम पीएं। तब मूसा ने उन से कहा, तुम मुझ से क्यों झगड़ते हो? तुम यहोवा की परीक्षा क्यों लेते हो?

3 और वहां के लोग जल के प्यासे थे; और लोग मूसा पर बुड़बुड़ा कर कहने लगे, कि तू हमें मिस्र से क्यों निकाल लाया है, कि हम को और हमारे लड़केबालोंऔर हमारे पशुओं को प्यासा मार डालें?

4 तब मूसा ने यहोवा की दोहाई दी, और कहा, मैं इन लोगोंसे क्या करूं? वे मुझ पर पथराव करने के लिए लगभग तैयार हैं।

5 तब यहोवा ने मूसा से कहा, लोगोंके आगे आगे चल, और इस्राएल के पुरनियोंमें से अपके संग ले जा; और जिस लाठी से तू ने महानद को जीत लिया है, उसे हाथ में लेकर चल।

6 सुन, मैं वहां तेरे साम्हने होरेब की चट्टान पर खड़ा रहूंगा; और उस चट्टान को मारना, और उस में से पानी निकलेगा, कि लोग पीएं। और मूसा ने इस्राएल के पुरनियों के साम्हने वैसा ही किया।

7 और उस ने उस स्यान का नाम मस्सा और मरीबा रखा, इसलिथे कि इस्त्राएलियोंने उस ललकार के कारण यहोवा की परीक्षा ली या, कि क्या यहोवा हमारे बीच में है वा नहीं?

8 तब अमालेक आए, और रपीदीम में इस्राएल से लड़े।

9 तब मूसा ने यहोशू से कहा, हम में से मनुष्योंको चुन, और निकलकर अमालेकियोंसे युद्ध कर; कल मैं अपने हाथ में परमेश्वर की छड़ी लिए हुए पहाड़ी की चोटी पर खड़ा रहूंगा।

10 तब यहोशू ने मूसा के कहने के अनुसार किया, और अमालेकियोंसे लड़ा; और मूसा, हारून और हूर पहाड़ी की चोटी पर चढ़ गए।

11 और ऐसा हुआ कि जब मूसा ने अपना हाथ थाम लिया, तब इस्राएल प्रबल हो गया; और जब उसने अपना हाथ छोड़ा, तब अमालेक प्रबल हुआ।

12 परन्तु मूसा के हाथ भारी थे; और उन्होंने एक पत्यर लेकर उसके नीचे रख दिया, और वह उस पर बैठ गया; और हारून और हूर अपके अपके हाथ अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके कर् । और उसके हाथ सूर्य के अस्त होने तक स्थिर रहे।

13 और यहोशू ने अमालेक और उसकी प्रजा को तलवार से ढांप दिया।

14 तब यहोवा ने मूसा से कहा, स्मरण के लिथे इस को पुस्तक में लिख, और यहोशू को सुना दे; क्योंकि मैं अमालेक का स्मरण आकाश के नीचे से सत्यानाश कर डालूंगा।

15 और मूसा ने एक वेदी बनाई, और उसका नाम यहोवा-निस्सी रखा;

16 क्योंकि उस ने कहा, यहोवा ने यह शपय खाई है, कि यहोवा अमालेकियोंसे पीढ़ी पीढ़ी तक युद्ध करता रहेगा।

अध्याय 18

यित्रो मूसा के पास आता है - उसकी सलाह स्वीकार की जाती है।

1 जब मूसा के ससुर मिद्यान के महायाजक यित्रो ने सुना, कि परमेश्वर ने मूसा और अपक्की प्रजा इस्राएल के लिथे क्या क्या किया, और यहोवा इस्राएल को मिस्र देश से निकाल ले आया है;

2 तब मूसा के ससुर यित्रो ने मूसा की पत्नी सिप्पोरा को उसके फेर में भेज दिया,

3 और उसके दो पुत्र; जिनमें से एक का नाम गेर्शोम या; क्योंकि उस ने कहा, मैं पराए देश में परदेशी हुआ हूं;

4 और दूसरे का नाम एलीएजेर था; क्योंकि मेरे पिता के परमेश्वर ने कहा, वह मेरा सहायक है, और उसने मुझे फिरौन की तलवार से छुड़ाया;

5 और मूसा का ससुर यित्रो अपके पुत्रोंऔर पत्नी समेत जंगल में मूसा के पास आया, जहां उस ने परमेश्वर के पहाड़ पर डेरे खड़े किए;

6 उस ने मूसा से कहा, मैं तेरा ससुर यित्रो, और तेरी पत्नी और उसके दोनो पुत्र तेरे पास आया हूं।

7 तब मूसा अपके ससुर से भेंट करने को निकल गया, और दण्डवत करके उसको चूमा; और उन्होंने एक दूसरे से उनका हालचाल पूछा; और वे तम्बू में आए।

8 तब मूसा ने अपके ससुर को जो कुछ यहोवा ने इस्राएल के लिथे फिरौन और मिस्रियोंसे किया या, और जो विपत्ति मार्ग में उन पर आई, और यहोवा ने उनको किस रीति से छुड़ाया, सब बता दिया।

9 और यित्रो उस सब भलाई के कारण जो यहोवा ने इस्राएलियोंके साथ की या, जिन्हें उस ने मिस्रियोंके हाथ से छुड़ाया या, आनन्द किया।।

10 और यित्रो ने कहा, धन्य है यहोवा, जिस ने तुझे मिस्रियोंके हाथ से, और फिरौन के हाथ से छुड़ाया, जिस ने लोगोंको मिस्रियोंके हाथ से छुड़ाया है।

11 अब मैं जान गया हूं कि यहोवा सब देवताओं से बड़ा है; क्‍योंकि जिस बात में वे घमण्‍ड करते थे, वह उन से ऊपर था।

12 तब मूसा के ससुर यित्रो ने परमेश्वर के लिथे होमबलि और मेलबलि किए; और हारून और इस्राएल के सब पुरनिये परमेश्वर के साम्हने मूसा के ससुर के साथ रोटी खाने को आए।

13 और दूसरे दिन ऐसा हुआ, कि मूसा लोगोंका न्याय करने को बैठा; और लोग भोर से सांझ तक मूसा के पास खड़े रहे।

14 जब मूसा के ससुर ने देखा, कि वह लोगोंसे क्या करता है, तब उस ने कहा, तू लोगोंसे यह क्या करता है? तू क्यों अकेला बैठा है, और सब लोग भोर से सांझ तक तेरे पास खड़े हैं?

15 तब मूसा ने अपके ससुर से कहा, क्योंकि लोग परमेश्वर से पूछने मेरे पास आते हैं;

16 जब उनकी कोई बात होती है, तो वे मेरे पास आते हैं; और मैं एक दूसरे के बीच न्याय करता हूं, और मैं उन्हें परमेश्वर की विधियों, और उसके नियमों से अवगत कराता हूं।

17 तब मूसा के ससुर ने उस से कहा, जो काम तू करता है वह अच्छा नहीं।

18 तू निश्चय वरन अपके संगी प्रजा को भी नाश करेगा; क्‍योंकि यह बात तेरे लिथे बहुत भारी है; आप अकेले इसे करने में सक्षम नहीं हैं।

19 अब मेरी सुन, मैं तुझे सम्मति दूंगा, और परमेश्वर तेरे संग रहेगा; तू प्रजा के लिथे परमेश्वर के साम्हने हो, कि तू उन कारणोंको परमेश्वर के पास पहुंचा दे;

20 और तू उन्हें विधि और व्यवस्था की शिक्षा देना, और जिस मार्ग में उन्हें चलना है, और जो काम उन्हें करना है वह उन्हें भी दिखाना।

21 और सब लोगोंमें से ऐसे योग्य पुरूषोंको देना, जो परमेश्वर का भय माननेवाले, और सच्चे लोग, और लोभ से बैर रखनेवाले हों; और ऐसे लोगों को उन पर नियुक्त करो, कि वे हजारों के अधिकारी हों, और सैकड़ों के शासक, पचास के शासक, और दसियों के शासक हों;

22 और वे हर समय लोगोंका न्याय करें; और यह होगा कि वे सब बड़े मसलोंको तेरे पास ले आएं, वरन सब छोटी बातोंका न्याय करें; तब तेरे लिये यह सहज हो जाएगा, और वे तेरे साय यह भार उठाएंगे।

23 यदि तू ऐसा काम करे, और परमेश्वर तुझे ऐसी आज्ञा दे, तो तू धीरज धर सकेगा, और ये सब लोग भी कुशल से अपके स्यान को जाएंगे।

24 तब मूसा ने अपके ससुर की बात मानकर जो कुछ उस ने कहा या, वह किया।

25 तब मूसा ने सब इस्राएलियोंमें से योग्य पुरूषोंको चुन लिया, और उन्हें प्रजा पर प्रधान, अर्थात् सहस्त्रोंपति, शतपतियोंपर, पचास-पचासोंके हाकिमों, और दसियोंके प्रधान ठहरा दिया।

26 और वे सब समयोंमें लोगोंका न्याय करते थे; वे कठिन मुकद्दमे को मूसा के पास ले आए, तौभी वे सब छोटे-छोटे कामों का न्याय अपने आप ही करते थे।

27 तब मूसा ने अपके ससुर को जाने दिया; और वह अपके देश में चला गया।

अध्याय 19

सीनै के लोगों के साथ परमेश्वर का व्यवहार।

1 तीसरे महीने में, जब इस्राएली मिस्र देश से निकल गए, उसी दिन वे सीनै के जंगल में आए।

2 क्योंकि वे रपीदीम से कूच करके सीनै के जंगल में आए, और जंगल में डेरे खड़े किए थे; और वहीं इस्राएलियोंने पर्वत के साम्हने डेरे डाले।

3 तब मूसा परमेश्वर के पास गया, और यहोवा ने उसे पहाड़ पर से पुकारकर कहा, कि तू याकूब के घराने से योंकहना, और इस्त्राएलियोंसे कहना;

4 तुम ने देखा है कि मैं ने मिस्रियोंसे क्या क्या क्या क्या क्या उकाबोंके पंखोंपर तुम को उत्पन्न किया, और तुम को अपके पास ले आया।

5 इसलिथे अब यदि तुम निश्चय मेरी बात मानोगे, और मेरी वाचा को मानोगे, तो सब लोगोंमें से मेरे लिये निज धन ठहरोगे; क्योंकि सारी पृथ्वी मेरी है;

6 और तुम मेरे लिये याजकों का राज्य, और पवित्र जाति ठहरोगे। जो वचन तू इस्त्राएलियों से कहेगा वे ये हैं।

7 तब मूसा ने आकर प्रजा के पुरनियोंको बुलवाकर वे सब बातें जो यहोवा ने उसको आज्ञा दी थीं, उनके साम्हने रख दीं।

8 तब सब लोगोंने एक साथ उत्तर देकर कहा, जो कुछ यहोवा ने कहा है वह सब हम करेंगे। और मूसा ने लोगों की बातें यहोवा को लौटा दीं।

9 और यहोवा ने मूसा से कहा, सुन, मैं घोर बादल पर तेरे पास आता हूं, कि जब मैं तुझ से बातें करूं, तब लोग सुनें, और तेरी प्रतीति सदा के लिए करें। और मूसा ने लोगों की बातें यहोवा को सुनाईं।

10 तब यहोवा ने मूसा से कहा, लोगोंके पास जाकर आज और कल उन्हें पवित्र करना, और वे अपके वस्त्र धो लें,

11 और तीसरे दिन के साम्हने तैयार रहो; तीसरे दिन यहोवा सब लोगों के साम्हने सीनै पर्वत पर उतरेगा।

12 और चारोंओर के लोगोंके लिथे बान्धकर कहना, अपक्की चौकसी करना, कि पहाड़ पर चढ़कर उसके सिवाने को न छू लेना; जो कोई पर्वत को छूए वह निश्चय मार डाला जाए;

13 कोई उसका हाथ न छुए, वरन वह निश्चय पत्यरवाह किया जाएगा, वा मार डाला जाएगा; चाहे पशु हो वा मनुष्य, वह जीवित न रहेगा; और जब तुरही फूंकी जाए, तब वे पर्वत पर चढ़ जाएं।

14 तब मूसा ने पहाड़ पर से उतरकर प्रजा के पास जाकर प्रजा को पवित्र किया; और उन्होंने अपने कपड़े धोए।

15 उस ने लोगों से कहा, तीसरे दिन के साम्हने तैयार रहो; अपनी पत्नियों के पास मत आओ।

16 और तीसरे दिन भोर को ऐसा हुआ, कि गरज और बिजली चमकी, और पहाड़ पर घोर बादल छा गया, और नरसिंगा का बड़ा शब्द हुआ; और सब लोग जो छावनी में थे थरथरा उठे।

17 तब मूसा लोगोंको छावनी से निकालकर परमेश्वर से भेंट करने को निकला; और वे पर्वत के नीचे की ओर खड़े हुए।

18 और सीनै पर्वत धूएं पर छाया रहा, क्योंकि यहोवा आग में उस पर उतरा; और उसका धुआँ भट्टी के धुएँ की नाईं चढ़ गया, और सारा पहाड़ कांप उठा।

19 और जब नरसिंगा का शब्द बड़ा हुआ, और अधिक से अधिक बढ़ता गया, तब मूसा ने कहा, और परमेश्वर ने उसे एक शब्द सुनाया।

20 और यहोवा सीनै पर्वत पर, जो पहाड़ की चोटी पर है, उतरा; और यहोवा ने मूसा को पहाड़ की चोटी पर बुलाया; और मूसा ऊपर गया।

21 तब यहोवा ने मूसा से कहा, नीचे जा, लोगोंको आज्ञा दे, ऐसा न हो कि वे यहोवा की ओर भेदकर दृष्टि करें, और उन में से बहुतेरे नाश हो जाएं।

22 और जो याजक यहोवा के निकट आते हैं वे भी अपने आप को पवित्र करें, ऐसा न हो कि यहोवा उन पर टूट पड़े।

23 तब मूसा ने यहोवा से कहा, लोग सीनै पर्वत पर चढ़ नहीं सकते; क्योंकि तू ने हम पर यह आरोप लगाया है, कि पर्वत के चारोंओर बान्धकर उसे पवित्र कर।

24 तब यहोवा ने उस से कहा, उतर, उतर, और हारून समेत चढ़ाई करना; परन्‍तु याजक और प्रजा के लोग यहोवा के पास आने के लिथे भेदन न करें, ऐसा न हो कि वह उन पर टूट पड़े।

25 तब मूसा ने लोगोंके पास जाकर उन से बातें की।

अध्याय 20

दस हुक्मनामे।

1 और परमेश्वर ने ये सब बातें कही, और कहा,

2 मैं तेरा परमेश्वर यहोवा हूं, जो तुझे मिस्र देश से दासत्व के घर से निकाल लाया है।

3 मेरे साम्हने कोई दूसरा देवता न रखना।

4 अपने लिये कोई खुदी हुई मूरत न बनाना, वा किसी वस्तु के समान जो ऊपर आकाश में, वा नीचे पृथ्वी पर वा पृथ्वी के नीचे के जल में हो;

5 तू उनके साम्हने दण्डवत् न करना, और न उनकी उपासना करना; क्योंकि मैं तेरा परमेश्वर यहोवा ईर्ष्यालु परमेश्वर हूं, जो मुझ से बैर रखनेवालोंकी तीसरी और चौथी पीढ़ी के पितरोंके अधर्म का प्रायश्चित करता है;

6 और जो मुझ से प्रेम रखते हैं, और मेरी आज्ञाओं को मानते हैं उन हजारों पर दया करते हैं।

7 अपके परमेश्वर यहोवा का नाम व्यर्थ न लेना; क्योंकि जो उसका नाम व्यर्थ लेता है, यहोवा उसे निर्दोष न ठहराएगा।

8 सब्त के दिन को स्मरण रखना, कि वह पवित्र रहे।

9 छ: दिन तक परिश्रम करना, और अपना सब काम करना;

10 परन्तु सातवें दिन तेरे परमेश्वर यहोवा का विश्रामदिन है; उस में तू न तो कुछ काम करना, न तेरा बेटा, न तेरी बेटी, न तेरा दास, न तेरी दासी, न तेरा मवेशी, और न तेरा परदेशी जो तेरे फाटकों के भीतर है;

11 क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश और पृथ्वी, और समुद्र, और जो कुछ उन में है, सब को बनाया, और सातवें दिन विश्राम किया; इसलिए यहोवा ने सब्त के दिन को आशीष दी, और उसे पवित्र किया।

12 अपके पिता और अपक्की माता का आदर करना; जिस देश में तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे देता है उस में तेरी आयु लम्बी हो।

13 तू हत्या न करना।

14 तू व्यभिचार न करना।

15 तू चोरी न करना।

16 तू अपके पड़ोसी के विरुद्ध झूठी गवाही न देना।

17 अपने पड़ोसी के घर का लालच न करना, न अपने पड़ोसी की पत्नी का, न उसके दास का, न उसकी दासी का, न उसके बैल का, न उसकी गदही का, और न अपने पड़ोसी की किसी वस्तु का लालच करना।

18 और सब लोगों ने गरज, और बिजली, और नरसिंगा का शब्द, और पर्वत धूम्रपान करते देखा; और लोगों ने यह देखकर दूर जाकर दूर खड़े हो गए।

19 और उन्होंने मूसा से कहा, तू हम से बात कर, तो हम सुनेंगे; परन्तु परमेश्वर हम से बातें न करे, ऐसा न हो कि हम मर जाएं।

20 तब मूसा ने लोगोंसे कहा, मत डर; क्योंकि परमेश्वर तुम्हें परखने आया है, और उसका भय तुम्हारे साम्हने बना रहे, कि तुम पाप न करो।

21 और लोग दूर खड़े रहे, और मूसा उस घोर अन्धकार के निकट पहुंचा जहां परमेश्वर था।

22 और यहोवा ने मूसा से कहा, तू इस्त्राएलियोंसे योंकहना, कि तुम ने देखा है, कि मैं ने तुम से आकाश में बातें की हैं।

23 तुम अपने लिये चाँदी के देवता न बनाना, और न अपने लिये सोने के देवता बनाना।

24 तू मेरे लिथे पृय्वी की एक वेदी बनाना, और उस पर अपके होमबलि, और मेलबलि, और अपक्की भेड़-बकरियां, और बैल बलि करना; जिन स्थानों में मैं अपना नाम लिखूंगा, वहां मैं तेरे पास आऊंगा, और तुझे आशीर्वाद दूंगा।

25 और यदि तू मेरे लिये पत्यर की वेदी बनाना चाहे, तो उसे तराशे हुए पत्यरोंसे न बनाना; क्‍योंकि यदि तू अपना औज़ार उस पर उठाए, तो तू ने उसे अशुद्ध किया है।

26 और मेरी वेदी के पास सीढ़ियां चढ़कर न जाना, ऐसा न हो कि उस पर तेरा नंगापन पड़े।

अध्याय 21

विविध कानून।

1 अब जो न्यायदण्ड तू उनके साम्हने ठहराना वे ये हैं।

2 यदि तू इब्री दास को मोल ले, तो वह छ: वर्ष तक सेवा करेगा; और सातवें में वह नि:शुल्क निकलेगा।

3 यदि वह अपके ही भीतर आए, तो अपके ही निकल जाए; यदि वह विवाहित है, तो उसकी पत्नी उसके साथ बाहर जाए।

4 यदि उसके स्वामी ने उसे एक पत्नी दी हो, और उस से उसके बेटे वा बेटियां उत्पन्न हुई हों; पत्नी और उसके बच्चे उसके स्वामी के हों, और वह अकेला निकल जाए।

5 और यदि दास स्पष्ट कह दे, कि मैं अपके स्वामी, और अपक्की पत्नी, और अपक्की सन्तान से प्रीति रखता हूं; मैं मुक्त नहीं जाऊंगा;

6 तब उसका स्वामी उसे न्यायियोंके पास ले आए; वह उसे अपके द्वार पर वा चौखट के पास ले जाए; और उसका स्वामी चील फूंककर उसका कान लगाए; और वह सदा उसकी सेवा करेगा।

7 और यदि कोई अपक्की बेटी को दासी होने के लिथे बेच दे, तो वह दासियोंकी नाई बाहर न जाए।

8 यदि वह अपके स्वामी को, जिस ने अपके अपके ब्याही ली है, उसे प्रसन्न न करे, तो वह उसे छुड़ा ले, कि पराई जाति के हाथ न बेच डाले; उसे ऐसा करने का अधिकार न होगा, क्योंकि उस ने उसके साथ छल किया है।

9 और यदि उस ने अपके पुत्र से ब्याह किया हो, तो वह उसके साथ पुत्रियोंके अनुसार व्यवहार करे।

10 यदि वह उस से दूसरी पत्नी ले ले, तो उसका भोजन, उसके वस्त्र, और उसके ब्याह का कर्तव्य, वह कम न होने पाए।

11 और यदि वह इन तीनोंको उसके पास न करे, तो वह नि:शुल्क निकल जाए।

12 जो कोई मनुष्य को ऐसा मारे कि वह मर जाए, वह निश्चय मार डाला जाए।

13 और यदि कोई घात में न पड़े, परन्तु परमेश्वर उसे उसके हाथ में कर दे, तो मैं तुझे वह स्थान ठहराऊंगा, जहां से वह भाग जाएगा।

14 परन्तु यदि कोई अपके पड़ोसी पर घमण्ड करने को आए, कि उसे छल से घात करे; उसे मेरी वेदी पर से उठा लेना, कि वह मर जाए।

15 और जो अपके पिता वा अपनी माता को मारे, वह निश्चय मार डाला जाए।

16 और जो कोई किसी को चुराकर बेच डाले, वा उसके हाथ में मिले, तो वह निश्चय मार डाला जाए।

17 और जो अपके पिता वा अपनी माता को श्राप दे, वह निश्चय मार डाला जाए।

18 और यदि मनुष्य आपस में यत्न करें, और कोई एक दूसरे को पत्यर वा मुट्ठी से मारे, और वह न मरे, वरन अपके बिछौने की रक्षा करे;

19 यदि वह फिर उठे, और अपक्की लाठी पर सवार होकर परदेश चले, तो जो उसका घात करे वह छोड़ दिया जाए; केवल वह अपने समय के नुकसान के लिए भुगतान करेगा, और उसे पूरी तरह से चंगा कर देगा।

20 और यदि कोई अपके दास वा दासी को बेंत से मारे, और वह उसके हाथ तले मर जाए; वह निश्चय मार डाला जाएगा।

21 तौभी यदि वह एक दो दिन तक बना रहे, और ठीक हो जाए, तो वह मार डाला न जाए, क्योंकि वह उसका दास है।

22 यदि पुरुष प्रयत्न करें, और किसी गर्भवती स्त्री को ऐसी चोट पहुंचाएं कि उसका फल उस पर से छूट जाए, और फिर भी कोई विपत्ति न आए; वह निश्चय दण्ड पाएगा, जैसा उस स्त्री का पति उस पर लगाए, और जैसा न्यायी ठहराए, वैसा ही वह चुकाएगा।

23 और यदि कोई विपत्ति आए, तो तू जीवन भर प्राण देना,

24 आंख की सन्ती आंख, दांत की सन्ती दांत, हाथ की सन्ती हाथ, पांव की सन्ती पांव,

25 जलने के लिए जलन, घाव के लिए घाव, पट्टी के लिए पट्टी।

26 और यदि कोई अपके दास वा अपनी दासी की आंख पर ऐसा लगे कि वह नाश हो जाए; वह अपक्की आंख के निमित्त उसे जाने दे।

27 और यदि वह अपके दास वा अपक्की दासी का दांत मारे; वह अपके दांत के निमित्त उसे जाने दे।

28 यदि कोई बैल किसी पुरूष वा स्त्री को लगे, कि वे मर जाएं; तब वह बैल निश्चय पत्यरवाह किया जाए, और उसका मांस न खाया जाए; परन्तु बैल का स्वामी छोड़ दिया जाए।

29 परन्तु यदि बैल पहिले ही अपके सींग से धक्का देना चाहे, और उसके स्वामी को यह गवाही दी गई हो, और उस ने उसे भीतर न रखा हो, परन्‍तु उस ने किसी पुरूष वा स्त्री को मार डाला हो; बैल पत्यरवाह किया जाएगा, और उसका स्वामी भी मार डाला जाएगा।

30 और यदि उस पर कुछ रकम रखी जाए, तो वह अपके जीवन की छुड़ौती के लिथे जो कुछ उस पर दिया जाए वह दे।

31 चाहे उस ने पुत्र उत्पन्न किया हो, वा बेटी उत्पन्न की हो, उसी के अनुसार उसका न्याय किया जाएगा।

32 यदि बैल किसी दास वा दासी को धक्का दे; और वह उनके स्वामी को तीस शेकेल चान्दी दे, और वह बैल पत्यरवाह किया जाए।

33 और यदि कोई गड़हा खोले, वा कोई गड़हा खोदकर न ढाए, और उस में कोई बैल वा गदहा गिरे;

34 गड़हे का स्वामी उसको अच्छा करके उसके स्वामी को रुपया दे; और मरा हुआ पशु उसी का होगा।

35 और यदि एक मनुष्य का बैल दूसरे को चोट पहुंचाए, तो वह मर जाए; तब वे जीवित बैल को बेचकर उसका रूपया बांट लें; और वे मरे हुए बैल को भी बाँट लें।

36 वा यदि यह मालूम हो, कि पहिले से बैल धक्का देता या, और उसके स्वामी ने उसे भीतर न रखा हो; वह निश्चय बैल के बदले बैल चुकाएगा; और मरे हुए उसी के होंगे।

अध्याय 22

विविध कानून।

1 यदि कोई मनुष्य किसी बैल वा भेड़ को चुराकर घात करे, वा बेच डाले; वह एक बैल के बदले पांच बैल, और भेड़ के बदले चार भेड़-बकरियां लौटाए।

2 यदि कोई चोर चोरी करते हुए पकड़ा जाए, और ऐसा मारा जाए कि वह मर जाए, तो उसके लिथे किसी प्रकार का लोहू न बहाया जाए।

3 यदि सूर्य उदय हो, तो उसका लोहू बहाया जाएगा; क्‍योंकि वह पूरा बदला चुकाएगा; यदि उसके पास कुछ न हो, तो वह उसकी चोरी के लिथे बिक जाए।

4 यदि चोरी उसके हाथ में जीवित पाई जाए, चाहे वह बैल, वा गदहा, वा भेड़-बकरी हो; वह दोहरा बहाल करेगा।

5 यदि कोई किसी खेत वा दाख की बारी खिलाकर अपके पशु में से किसी के खेत में चराए; वह अपके ही उत्तम खेत में से और अपक्की अपक्की दाख की बारी की उत्तम से अच्छी बारी करे।

6 यदि आग भड़क उठे, और कांटोंमें लग जाए, कि अन्न की ढेरियां वा खड़ी फसल वा खेत जलकर भस्म हो जाएं; जिस ने आग सुलगाई है, वह निश्चय क्षतिपूर्ति करेगा।

7 यदि कोई अपके पड़ोसी को रुपया वा सामान रखने को दे, और वह अपके घर में से चुरा लिया जाए; यदि चोर मिल जाए, तो वह दुगना भुगतान करे।

8 यदि चोर न मिले, तो घर का स्वामी न्यायियों के पास ले जाए, कि उस ने अपके पड़ोसी की सम्पत्ति पर हाथ लगाया है या नहीं।

9 चाहे बैल, गदहे, भेड़-बकरी, वस्त्र वा किसी प्रकार की खोई हुई वस्तु के सब प्रकार के अपराध हों, जिन्हें कोई दूसरा अपना ठहराए, दोनों पक्षों का मुकद्दमा न्यायियों के साम्हने आएगा; और जिसे न्यायी दोषी ठहराए, वह अपके पड़ोसी को दुगना दाम दे।

10 यदि कोई अपके पड़ोसी के पास गदहा वा बैल वा भेड़ वा भेड़ वा किसी पशु को पालने के लिथे दे; और वह मर जाता है, या घायल हो जाता है, या दूर हो जाता है, उसे कोई नहीं देखता;

11 तब उन दोनों के बीच यहोवा की यह शपय रहे, कि उस ने अपके पड़ोसी की सम्पत्ति पर हाथ न लगाया; और उसका स्वामी उसको ग्रहण करे, और वह उसे अच्छा न करे।

12 और यदि वह उसके पास से चुराई जाए, तो वह उसके स्वामी को बदला दे।

13 यदि वह फाड़ा जाए, तो वह उसे गवाही के लिथे ले आए, और जो फटा हुआ है उसे वह ठीक न करे।

14 और यदि कोई अपके पड़ोसी में से कुछ उधार ले, और वह घायल हो जाए, वा मर जाए, तो उसका स्वामी उसके साथ न हो, तो वह उसे निश्चय अच्छा करे।

15 परन्तु यदि उसका स्वामी उसके संग रहे, तो वह उसको उत्तम न करे; यदि वह किराये की वस्तु है, तो वह उसके भाड़े पर आई है।

16 और यदि कोई पुरूष किसी ऐसी दासी को, जिसकी ब्याह न हो, बहकाकर उसके साथ सोए, तो वह उसे निश्चय अपनी पत्नी ठहराए।

17 यदि उसका पिता उसे देने से पूरी तरह इन्कार करे, तो वह कुँवारियों के दहेज के अनुसार रुपये देगा।

18 किसी कातिल को जीवित न रहने देना।

19 जो कोई पशु के संग सोए वह निश्चय मार डाला जाए।

20 जो कोई केवल यहोवा के सिवा किसी देवता के लिथे बलिदान करे, वह सत्यानाश किया जाएगा।

21 तू परदेशी को न सताना, और न उस पर अन्धेर करना; क्योंकि तुम मिस्र देश में परदेशी थे।

22 किसी विधवा वा अनाथ बालक को दु:ख न देना।

23 यदि तू उन्हें किसी रीति से दु:ख दे, और वे मेरी कुछ भी दुहाई दें, तो मैं निश्चय उनकी दोहाई सुनूंगा;

24 और मेरा कोप भड़क उठेगा, और मैं तुझे तलवार से मार डालूंगा; और तेरी पत्नियां विधवाएं हों, और तेरे लड़केबाल अनाथ हों।

25 यदि तू मेरी प्रजा के किसी कंगाल को उधार दे, तो उसका सूदखोर न होना, और उस पर सूद न देना।

26 यदि तू अपके पड़ोसी के वस्त्र को बन्धक करके कुछ भी ले, तो उसे उस को सौंप देना, जिस से सूर्य अस्त हो जाए;

27 क्योंकि उसका ओढ़ना वही है, उसकी खाल के लिथे उसका वस्त्र है; वह कहाँ सोएगा? और जब वह मेरी दोहाई देगा, तब मैं सुनूंगा; क्योंकि मैं अनुग्रहकारी हूँ।

28 तू परमेश्वर की निन्दा न करना, और न अपक्की प्रजा के प्रधान को शाप देना।

29 अपके पहिले पके फल, और दाखमधु को चढ़ाने में देर न करना; अपके पुत्रोंमें से पहिलौठा मुझ को देना।

30 इसी प्रकार अपके बैलोंऔर अपक्की भेड़-बकरियोंके संग भी करना; उसके बांध के साथ सात दिन रहे; आठवें दिन तू उसे मुझे देना।

31 और तुम मेरे लिये पवित्र मनुष्य ठहरोगे; और जो पशु मैदान में फाड़े गए हों, उन का मांस न खाना; तुम उसे कुत्तों के आगे फेंक देना।

अध्याय 23

विविध कानून - एक स्वर्गदूत ने वादा किया था।

1 तू झूठा समाचार न देना; दुष्टों पर हाथ न लगाना कि वे अधर्मी गवाह हों।

2 तू बुराई करने के लिथे भीड़ के पीछे न चलना; न तो बहुतों के पीछे दण्ड पाने के लिये अस्वीकार करने का कारण बोलना;

3 किसी दुष्ट को उसके काम में हाथ न लगाना।

4 यदि तू अपके शत्रु का बैल वा गदहा भटकता हुआ मिले, तो उसको निश्चय उसके पास फिर ले आना।

5 यदि तू अपके बैरी के गदहे को उसके बोझ तले पड़ा हुआ देखे, और उसकी सहायता करना न छोड़े, तो निश्चय उसकी सहायता करना।

6 तू अपके कंगाल का न्याय उसके वश में न करना।

7 झूठी बात से दूर रहना; और निर्दोष और धर्मी को न घात करना; क्योंकि मैं दुष्टों को धर्मी नहीं ठहराऊंगा।

8 और कोई भेंट न लेना; क्योंकि वरदान बुद्धिमानों को अन्धा करता है, और धर्मियों की बातों को बिगाड़ देता है।

9 और परदेशी पर अन्धेर न करना; क्‍योंकि तुम परदेशी का मन जानते हो, क्‍योंकि तुम मिस्र देश में परदेशी थे।

10 और छ: वर्ष तक अपके देश में बोना, और उसकी उपज बटोरना;

11 परन्‍तु सातवें वर्ष तक उसे विश्रम करना और लेटे रहना; ताकि तेरी प्रजा के कंगाल खा सकें; और जो कुछ वे मैदान के पशुओं को छोड़ दें वे खाएंगे। इसी प्रकार अपक्की दाख की बारी, और जलपाई के साथ भी व्यवहार करना।

12 छ: दिन तक अपना काम करना, और सातवें दिन विश्राम करना; कि तेरा बैल और तेरा गदहा आराम करें, और तेरी दासी का पुत्र और परदेशी तरोताजा हो जाएं।

13 और जो कुछ मैं ने तुम से कहा है उन सभोंमें चौकस रहना; और पराए देवताओं का नाम न लेना, और न अपके मुंह से सुना जाए।

14 वर्ष में तीन बार मेरे लिये पर्ब्ब मानना।

15 अखमीरी रोटी का पर्ब्ब मानना; (तू मेरी आज्ञा के अनुसार अबीब महीने के ठहराए हुए समय में सात दिन तक अखमीरी रोटी खाना, क्योंकि उस में तू मिस्र से निकला है, और कोई मेरे साम्हने खाली न दिखाई देगा;)

16 और कटनी का पर्ब्ब, अर्यात् अपके परिश्रम का पहिला फल, जो तू ने खेत में बोया है; और बटोरने का पर्ब्ब, जो उस वर्ष के अन्त में होगा, जब तू अपके परिश्र्मोंको मैदान में से बटोर लेगा।

17 तेरे सब पुरूष वर्ष में तीन बार यहोवा परमेश्वर के साम्हने उपस्थित हों।

18 मेरे बलिदान के लोहू को खमीरी रोटी समेत न चढ़ाना; मेरे बलिदान की चर्बी भोर तक न रहेगी।

19 अपके देश की पहिली उपज में से पहिली उपज अपके परमेश्वर यहोवा के भवन में पहुंचाना। किसी बालक को उसकी माता के दूध में न देखना।

20 सुन, मैं तेरे आगे आगे एक दूत भेजता हूं, कि मार्ग में तेरी रक्षा करूं, और उस स्यान में जिसे मैं ने तैयार किया है तुझे ले आए।

21 उस से सावधान रहना, और उसकी बात मानना, उसे रिसना न देना; क्योंकि वह तेरे अपराधों को क्षमा न करेगा; क्योंकि मेरा नाम उस में है।

22 परन्तु यदि तू सचमुच उसकी बात माने, और जो कुछ मैं कहता हूं वह सब करे; तब मैं तेरे शत्रुओं का शत्रु, और तेरे द्रोहियोंका बैरी ठहरूंगा।

23 क्योंकि मेरा दूत तेरे आगे आगे चलकर तुझे एमोरियों, हित्ती, परिज्जियों, कनानी, हिव्वी, और यबूसियोंके पास पहुंचाएगा; और मैं उन्हें काट डालूंगा।

24 उनके देवताओं को दण्डवत न करना, और न उनकी उपासना करना, और न उनके कामोंके अनुसार करना; परन्तु तू उन्हें सत्यानाश कर देगा, और उनकी मूरतोंको ढा देगा।

25 और तुम अपके परमेश्वर यहोवा की उपासना करना, और वह तेरी रोटी और जल को आशीष देगा; और मैं तेरे बीच में से रोग दूर करूंगा।

26 तेरे देश में कोई उनके बच्चे न छोड़े, और न बांझ हों; जितने दिन मैं तेरे दिनों को पूरा करूंगा।

27 मैं अपके भय को तेरे आगे आगे भेजूंगा, और जितने लोगोंके पास तू आएगा उन सभोंको मैं नाश करूंगा; और मैं तेरे सब शत्रुओं को तेरी ओर फेर दूंगा।

28 और मैं तेरे आगे आगे सींग भेजूंगा, जो हिव्वी, कनानी, और हित्ती को तेरे साम्हने से निकाल डालेंगे।

29 मैं उन्हें एक वर्ष में तेरे साम्हने से न निकालूंगा; कहीं ऐसा न हो कि देश उजाड़ हो जाए, और मैदान का पशु तेरे साम्हने बढ़ जाए।

30 और थोड़ा-थोड़ा करके मैं उनको तेरे साम्हने से तब तक निकाल दूंगा, जब तक कि तू बढ़ कर देश के अधिकारी न हो जाए।

31 और मैं लाल समुद्र से लेकर पलिश्तियोंके समुद्र तक, और जंगल से लेकर महानद तक तेरे सिवाने बान्धूंगा; क्योंकि मैं देश के निवासियोंको तेरे हाथ में कर दूंगा; और तू उन्हें अपके साम्हने से निकाल देना।

32 और न उन से वाचा बान्धना, और न उनके देवताओं से।

33 वे तेरे देश में रहने न पाएंगे, ऐसा न हो कि वे तुझ से मेरे विरुद्ध पाप कराएं; क्योंकि यदि तू उनके देवताओं की उपासना करे, तो वह निश्चय तेरे लिथे फन्दा ठहरेगा।

अध्याय 24

मूसा को पहाड़ पर बुलाया गया है, जहां वह चालीस दिन और चालीस रात तक रहता है।

1 और उस ने मूसा से कहा, हे हारून, नादाब, और अबीहू, और इस्राएल के सत्तर पुरनियों, यहोवा के पास चढ़ आओ; और दूर से तेरी उपासना करना।

2 और केवल मूसा ही यहोवा के निकट आएगा; परन्तु वे निकट न आयें; न लोग उसके संग चढ़ेंगे।

3 तब मूसा ने आकर लोगोंको यहोवा की सब बातें, और सब नियम सुनाए; और सब लोगों ने एक स्वर में उत्तर देकर कहा, जितनी बातें यहोवा ने कही हैं वे सब हम मानेंगे।

4 तब मूसा ने यहोवा की सब बातें लिखकर भोर को तड़के उठकर पहाड़ी के नीचे एक वेदी बनाई, और इस्राएल के बारह गोत्रोंके अनुसार बारह खम्भे बनाए।

5 और उस ने इस्राएलियोंके जवानोंको भेजा, जो होमबलि और मेलबलि यहोवा के लिथे चढ़ाते थे।

6 तब मूसा ने लोहू का आधा भाग लेकर कटोरे में रखा; और आधा लोहू उस ने वेदी पर छिड़का।

7 और उस ने वाचा की पुस्तक लेकर लोगोंको सुनाई; और उन्होंने कहा, जो कुछ यहोवा ने कहा है वह सब हम करेंगे, और उसकी आज्ञा मानेंगे।

8 तब मूसा ने लोहू लेकर लोगोंपर छिड़का, और कहा, वाचा का लोहू जो यहोवा ने इन सब बातोंके विषय में तुझ से बान्धी है, देख।

9 तब मूसा, हारून, नादाब, अबीहू, और इस्राएल के सत्तर पुरनियोंपर चढ़ाई की;

10 और उन्होंने इस्राएल के परमेश्वर को देखा; और उसके पांवों के नीचे नीलम के पत्यर के तराशे हुए, और उसकी पवित्रता में स्वर्ग की देह मानो उसके पांवों के नीचे थे।

11 और इस्त्राएलियोंके रईसोंपर उस ने हाथ न लगाया; और उन्होंने परमेश्वर को देखा, और खाया-पीया।

12 तब यहोवा ने मूसा से कहा, मेरे पास पहाड़ पर चढ़कर वहां हो; और मैं तुझे पत्यर की पटियाएं, और व्यवस्था, और आज्ञाएं जो मैं ने लिखी हैं, दूंगा; कि तू उन्हें सिखा सके।

13 तब मूसा अपके अपके सेवक यहोशू समेत उठ खड़ा हुआ; और मूसा परमेश्वर के पर्वत पर चढ़ गया।

14 उस ने पुरनियों से कहा, जब तक हम फिर तुम्हारे पास न आएं तब तक हमारे लिथे यहीं ठहरे रहो; और देखो, हारून और हूर तुम्हारे संग हैं; यदि किसी को कोई काम करना हो, तो वह उनके पास आए।

15 और मूसा पर्वत पर चढ़ गया, और बादल ने पर्वत को ढक लिया।

16 और यहोवा का तेज सीनै पर्वत पर रहा, और बादल छ: दिन तक उस पर छाए रहा; और सातवें दिन उसने मूसा को बादल के बीच में से पुकारा।

17 और यहोवा का तेज इस्त्राएलियोंकी दृष्टि में पर्वत की चोटी पर भस्म करनेवाली आग के समान था।

18 तब मूसा ने बादल के बीच में जाकर उसे पहाड़ पर चढ़ा दिया; और मूसा पर्वत पर चालीस दिन और चालीस रात रहा।

अध्याय 25

निवासस्थान, प्रायश्चित का आसन, करूब, मेज़ और दीवट।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा,

2 इस्त्राएलियों से कह, कि वे मेरे लिथे भेंट ले आएं; जो कोई अपके अपके मन से उसको चाहे, उस में से तुम मेरी भेंट ले लेना।

3 और जो भेंट तुम उन में से लेना, वह यह है; सोना, और चाँदी, और पीतल,

4 और नीले, बैंजनी, और लाल रंग का, और उत्तम मलमल, और बकरियोंके बाल,

5 और लाल रंग से रंगी हुई मेढ़ों की खालें, और बकरों की खालें, और बबूल की लकड़ी,

6 ज्योति के लिथे तेल, और अभिषेक के तेल के लिथे सुगन्धि, और सुगन्धित धूप के लिथे,

7 एपोद और चपरास में गोमेद के मणि, और मणि रखे जाएं।

8 और वे मेरे लिये पवित्रस्थान बनाएं; कि मैं उनके बीच रहूं।

9 जो कुछ मैं तुझे दिखाता हूं, उसके अनुसार निवास का नमूना, और उसके सब साज-सामान का नमूना वैसा ही बनाना।

10 और वे बबूल की लकड़ी का एक सन्दूक बनाएं; उसकी लम्बाई ढाई हाथ, और चौड़ाई डेढ़ हाथ, और ऊंचाई डेढ़ हाथ हो।

11 और उसको चोखे सोने से मढ़ना, और भीतर और बाहर उसे मढ़वाना, और उस पर चारोंओर सोने का मुकुट बनाना।

12 और उसके लिथे सोने के चार कड़े ढालकर उसके चारोंकोनोंमें लगाना; और उसकी एक अलंग में दो कडिय़ां हों, और उसकी दूसरी ओर भी दो कड़े हों।

13 और बबूल की लकड़ी के डण्डे बनवाना, और उन्हें सोने से मढ़वाना।

14 और डण्डोंको सन्दूक की दोनों ओर के कड़ोंमें रखना, जिस से सन्दूक उनके पास रखा जाए।

15 वे डण्डे सन्दूक के कड़ोंमें हों; वे उस में से न लिए जाएं।

16 और जो साक्षीपत्र मैं तुझे दूंगा उसे तू सन्दूक में रखना।

17 और प्रायश्चित का आसन चोखे सोने का बनवाना; उसकी लम्बाई ढाई हाथ और चौड़ाई डेढ़ हाथ की हो।

18 और प्रायश्चित्त के ढकने के दोनों सिरों पर दो करूब सोने के बनवाना, और कूटने के काम से बनाना।

19 और एक करूब एक सिरे पर, और दूसरा करूब दूसरे सिरे पर बनाना; प्रायश्चित के आसन के दोनों सिरों पर करूब बनवाना।

20 और करूब अपने पंख ऊंचे पर फैलाएंगे, और प्रायश्चित के आसन को अपके पंखोंसे ढांपे होंगे, और उनके मुंह एक दूसरे की ओर होंगे; करूबों के मुख प्रायश्चित के आसन की ओर हों।

21 और प्रायश्चित के आसन को सन्दूक के ऊपर रखना; और जो साक्षीपत्र मैं तुझे दूंगा उसे तू सन्दूक में रखना।

22 और वहां मैं तुझ से भेंट करूंगा, और प्रायश्चित्त के ढकने के ऊपर से उन दो करूबोंके बीच से जो साक्षीपत्र के सन्दूक के ऊपर हैं, उन सब वस्तुओं के विषय में जो मैं तुझे इस्त्राएलियोंको देने की आज्ञा दूंगा, तुझ से बातें करूंगा। .

23 और बबूल की लकड़ी की एक मेज भी बनाना; उसकी लम्बाई दो हाथ, और चौड़ाई एक हाथ, और ऊंचाई डेढ़ हाथ की हो।

24 और उसको चोखे सोने से मढ़वाना, और उसके चारोंओर सोने का मुकुट बनवाना।

25 और उसके चारोंओर हाथ की चौखट का सिवाना बनवाना, और उसके सिवाने पर चारोंओर सोने का मुकुट बनवाना।

26 और उसके लिथे सोने के चार कड़े बनवाना, और उन चारोंकोनोंको जो उसके चारोंपाँवोंपर हों, उनमें लगाना।

27 सरहद के साम्हने कडिय़ां खाने के लिथे डंडोंके स्थान के लिथे हों।

28 और डण्डोंको बबूल की लकड़ी के बनवाना, और उन्हें सोने से मढ़वाना, जिस से मेज़ उनके साथ उठाई जाए।

29 और उसके पात्र, और चम्मच, और ओढ़े, और कटोरियां, उन पर से ढकने के लिथे बनाना; उन्हें चोखे सोने से बनाना।

30 और तू सर्वदा मेरे साम्हने मेज पर भेंट की रोटी रखना।

31 और चोखे सोने की एक दीवट बनाना; पीटा हुआ काम का दीवट बनाया जाए; उसकी टहनी, और उसकी डालियां, उसके कटोरे, गांठें, और उसके फूल एक ही के हों।

32 और उसकी अलंगों से छ: डालियां निकले; एक ओर से दीवट की तीन डालियां, और दूसरी ओर से दीवट की तीन डालियां;

33 बादाम के समान तीन कटोरियां, और एक टहनी में एक गांठ और एक फूल बना हुआ; और दूसरी डाली पर बादाम के समान तीन कटोरे, और एक गांठ और एक फूल भी; इस प्रकार दीवट से निकलने वाली छ: डालियों में।

34 और दीवट में बादाम के समान चार कटोरे हों, और उनकी गांठें और फूल हों।

35 और दीवट में से निकलनेवाली छ: डालियोंके अनुसार एक ही की दो डालियोंके नीचे एक गांठ, और एक ही की दो डालियोंके तले एक गांठ, और एक ही की दो डालियोंके नीचे एक गांठ हो।

36 उनकी गांठें और डालियां एक ही की हों; वह सब चोखे सोने का एक ही गढ़ा हुआ काम हो।

37 और उसके सात दीपकों को बनवाना; और वे उसके दीपक जलाएंगे, जिस से वे उस पर प्रकाश डाल सकें।

38 और उसके चिमटे और सूंघने के पात्र चोखे सोने के हों।

39 वह इन सब पात्रों समेत एक किक्कार चोखा सोना बनवाए।

40 और देखो, उन्हें उनके उस नमूने के अनुसार बनाना, जो पर्वत पर तुझे दिखाया गया था।

अध्याय 26

तम्बू का फर्नीचर।

1 फिर निवासस्थान को सुसन्धी सनी के मलमल, और नीले, बैंजनी, और लाल रंग के वस्त्रोंके दस पटोंसे बनवाना; उन्हें धूर्त कामों के करूबों से बनाना।

2 एक परदे की लम्बाई अट्ठाईस हाथ, और एक परदे की चौड़ाई चार हाथ की हो; और हर एक परदे का एक नाप हो।

3 वे पांच परदे आपस में जुड़े रहें; और अन्य पांच परदे आपस में जुड़े रहें।

4 और एक ही परदे की एक किनार पर जो कुण्डली के बीच में है, उस पर से नीले रंग की लोईयां बनवाना; और इसी प्रकार एक और परदे के सिरे में भी दूसरे के बन्धन में बनवाना।

5 एक एक परदे में पचास लट्ठे, और दूसरे परदे के सिरे में पचास लट्ठे बनवाना; ताकि लूप एक दूसरे को पकड़ सकें।

6 और तुम पचास तनके सोना बनवाना, और पटोंके साथ परदोंको भी जोड़ देना; और वह एक ही निवास हो।

7 और बकरियोंके बाल के परदे बनवाना, कि निवास के ऊपर ओढ़ना; ग्यारह परदे बनवाना।

8 एक परदे की लम्बाई तीस हाथ, और एक परदे की चौड़ाई चार हाथ की हो; और ग्यारह परदे एक ही नाप के हों।

9 और पांच परदों को अलग, और छ: परदों को अलग करना, और छठवें परदे को निवास के आगे के भाग में दुगना करना।

10 और उस एक परदे के सिरे पर जो जोड़ में सबसे बाहर हो, पचास फावड़े, और उस परदे के सिरे पर जो दूसरे को जोड़ेगा, पचास फावड़े बनवाना।

11 और पीतल के पचास टुकड़े बनवाना, और तंतुओं को टहनियोंमें लगाना, और डेरे को मिला देना, कि वह एक हो जाए।

12 और जो बचे हुए लोग तम्बू के परदोंमें से रह जाएं, अर्यात् जो आधा परदा रह जाए, वह निवास की पिछली अलंग पर लटका रहे।

13 और तम्बू के परदों की लम्बाई में से एक हाथ एक हाथ और दूसरी ओर लटका रहे, वह निवास की दोनों अलंगों पर, इस ओर और उस अलंग पर लटका रहे, कि वे ढांपें। यह।

14 और तम्बू के लिथे लाल रंग से रंगी हुई मेढ़ोंकी खालों का एक ओढ़ना, और उसके ऊपर बिच्छुओं की खालों का भी एक ओढ़ना बनाना।

15 और बबूल की लकड़ी के निवास के लिथे खड़े होकर तख्त बनवाना।

16 एक तख्ते की लम्बाई दस हाथ की हो, और एक तख्ते की चौड़ाई डेढ़ हाथ की हो।

17 एक तख़्ते में दो तख्त हों, जो एक दूसरे के साम्हने हों; निवास के सब तख़्तों के लिये इस प्रकार बनाना।

18 और निवास के लिथे तख्तोंको दक्षिण की ओर बीस तख्ते बनवाना।

19 और उन बीस तख्तोंके नीचे चान्दी की चालीस कुसिर्यां बनवाना; उसके दो पटरे के लिथे एक तख्ते के नीचे दो कुर्सियां, और दूसरे तख्ते के तले उसके दो पटोंके लिथे दो कुर्सियां।

20 और निवास की दूसरी अलंग के लिथे उत्तर अलंग के लिथे बीस तख्ते हों।

21 और उनकी चालीस कुसिर्यां चान्दी की; एक बोर्ड के नीचे दो सॉकेट और दूसरे बोर्ड के नीचे दो सॉकेट।

22 और निवास की अलंगोंके लिथे पच्छिम की ओर छ: तख्ते बनवाना।

23 और निवास के दोनों अलंगोंके कोनोंके लिथे दो तख्ते बनवाना।

24 और वे नीचे से आपस में जुड़े हों, और वे उसके सिरोंके ऊपर एक ही अँगूठे तक एक दूसरे से जुड़े रहें; उन दोनों के लिए ऐसा ही होगा; वे दोनों कोनों के लिये हों।

25 और वे आठ तख्ते हों, और उनकी कुसिर्यां चान्दी की सोलह कुसिर्यां हों; एक बोर्ड के नीचे दो सॉकेट और दूसरे बोर्ड के नीचे दो सॉकेट।

26 और बबूल की लकड़ी के बेंड़े बनवाना; निवास की एक अलंग के तख्तों के लिथे पांच,

27 और निवास की दूसरी अलंग के तख्तोंके लिथे पांच बेंड़े, और निवास की अलंग की अलंगोंके लिथे पश्‍चिम की ओर पांच बेंड़े।

28 और तख़्तों के बीच में बीच का बेड़ा एक छोर से दूसरे छोर तक पहुंचे।

29 और तख्तोंको सोने से मढ़वाना, और बेंड़ोंके लिथे उनके कड़े सोने के बनवाना; और बेंड़ों को सोने से मढ़वाना।

30 और निवासस्थान की उस रीति के अनुसार जो तुझे पहाड़ पर दिखाई गई है, खड़ा करना।

31 और नीले, बैंजनी, और लाल रंग का परदा, और धूर्त धूर्त मलमल का धूर्त काम का वस्त्र बनवाना; वह करूबों के साथ बनाया जाए।

32 और उसको सोने से मढ़े हुए बबूल की लकड़ी के चार खम्भोंपर टांगना; उनकी घुंडियां सोने की हों, और वे चारों कुर्सियां चान्दी की हों।

33 और परदे को तंतुओं के तले टांगना, कि उस परदे के भीतर साक्षीपत्र का सन्दूक भीतर ले आना; और परदा तुम्हारे लिये पवित्र स्थान और परमपवित्र स्थान के बीच बांट देगा।

34 और प्रायश्चित के ढकने को साझी के सन्दूक के ऊपर परमपवित्र स्थान में रखना।

35 और मेज़ को परदे के बाहर, और दीवट को निवास की अलंग की मेज़ के साम्हने दक्खिन की ओर रखना; और मेज़ को उत्तर की ओर रखना।

36 और तम्बू के द्वार के लिथे नीले, बैंजनी, और लाल रंग के और सुतली से गढ़ी हुई सूक्ष्म सनी के मलमल का एक पर्दा बनवाना।

37 और उसके लम्हे के लिथे बबूल की लकड़ी के पांच खम्भे बनवाना, और उन्हें सोने से मढ़वाना, और उनकी घुंडियां सोने की हों; और उनके लिथे पीतल की पांच कुसिर्यां बनवाना;

अध्याय 27

वेदी, और उसके पात्र - निवास का आंगन।

1 और पांच हाथ लम्बी और पांच हाथ चौड़ी बबूल की लकड़ी की एक वेदी बनाना; वेदी चौगुनी हो; और उसकी ऊंचाई तीन हाथ की हो।

2 और उसके चारों कोनों पर उसके सींग बनाना; उसके सींग उसी के हों; और उसे काँसे से मढ़ना।

3 और उसकी राख, और फावड़े, और कटोरे, और उसके मांस के कांटे, और धूपदान पाने के लिये उसके धूपदान बनवाना; और उसके सब पात्र पीतल के बनवाना।

4 और उसके लिथे पीतल के जाल की एक झंझरी बनाना; और जाल के चारों कोनों में पीतल के चार कड़े बनवाना।

5 और उसको वेदी के कंपास के नीचे रखना, जिस से जाल वेदी के बीच में भी बना रहे।

6 और वेदी के लिथे डण्डे बनवाना, और बबूल की लकड़ी के डंडे, और उन्हें पीतल से मढ़वाना।

7 और डंडोंको कड़ोंमें लगाया जाए, और वे डंडे वेदी के दोनोंओर उसके उठाने के लिथे हों।

8 तख़्तों समेत खोखली बनाना; जैसा तुझे पर्वत पर दिखाया गया है, वैसा ही तू बनाना।

9 और निवास के आंगन को बनाना; दक्खिन की अलंग के लिथे आंगन के लिथे एक अलंग के लिथे सौ हाथ लम्बे मलमल के मलमल के पर्दे हों;

10 और उसके बीस खम्भे और उनकी बीस कुर्सियां पीतल की हों; खम्भों की घुंडियां और उनकी छड़ियां चांदी की हों।

11 और इसी प्रकार उत्तर अलंग की लम्बाई भी एक सौ हाथ के पर्दे, और उसके बीस खम्भे और पीतल की बीस कुसिर्यां हों; खम्भों की घुंडियां और उनकी छड़ें चांदी की।

12 और आंगन की चौड़ाई पश्चिम की अलंग के लिथे पचास हाथ के पर्दे हों; उनके खम्भे दस, और उनकी कुर्सियां दस।

13 और आंगन की पूर्व की ओर की चौड़ाई पचास हाथ की हो।

14 फाटक के एक ओर के पर्दे पन्द्रह हाथ के हों; उनके खम्भे तीन, और उनकी कुर्सियां तीन।

15 और दूसरी ओर पन्द्रह हाथ के पर्दे हों; उनके खम्भे तीन, और उनकी कुर्सियां तीन।

16 और आंगन के फाटक के लिथे बीस हाथ नीले, बैंजनी, और लाल रंग के और सुतली से गढ़ी हुई सूक्ष्म सनी के मलमल का फाटक हो; और उनके खम्भे चार हों, और उनकी कुर्सियां चार हों।

17 आंगन के चारोंओर के सब खम्भे चान्दी से मढ़े जाएं; उनकी घुंडियाँ चाँदी की हों, और उनकी कुर्सियाँ पीतल की हों।

18 आंगन की लम्बाई सौ हाथ की हो, और उसकी चौड़ाई चारों ओर पचास हाथ की हो, और उसकी ऊंचाई बंधी हुई मलमल की पांच हाथ की हो, और उनकी कुर्सियां पीतल की हों।

19 निवास के सब पात्र, और उसकी सब सेवा में, और सब खूंटे, और आंगन के सब खूंटे पीतल के हों।

20 और इस्त्राएलियोंको आज्ञा देना, कि वे ज्योति के लिथे कूटे हुए जलपाई का शुद्ध तेल ले आएं, जिस से दीपक सर्वदा जलता रहे।

21 मिलापवाले तम्बू में उस परदे के बाहर जो साझीपत्र के साम्हने है, हारून और उसके पुत्र सांफ से भोर तक यहोवा के साम्हने उसकी आज्ञा दें; वह इस्त्राएलियोंके लिथे उनकी पीढ़ी पीढ़ी के लिथे सदा की विधि ठहरे।

अध्याय 28

हारून और उसके पुत्रोंने याजक के काम के लिथे एपोद अर्यात् चपरास को ऊरीम और तुम्मीम ठहराया।

1 और इस्राएलियोंमें से अपके भाई हारून और उसके पुत्रोंको अपके पास ले जाना, कि वह हारून, नादाब और अबीहू, एलीआजर और ईतामार नाम याजक का पद मेरे लिथे सेवा टहल करे, जो हारून के पुत्र थे।

2 और अपके भाई हारून के लिथे महिमा और शोभा के लिथे पवित्रा वस्त्र बनाना।

3 और उन सब से जो बुद्धिमान हैं, जिन को मैं ने बुद्धि की आत्मा से भर दिया है, उन से बातें करना, कि वे हारून के वस्त्र बनवाकर उसका अभिषेक करें, कि वह याजक का काम मेरी सेवा करे।

4 और जो वस्त्र वे बनायेंगे वे ये हैं; एक चपरास, और एक एपोद, और एक बागा, और एक लहंगा, और एक कुर्ता, और एक कमरबंद; और वे तेरे भाई हारून और उसके पुत्रोंके लिथे पवित्रा वस्त्र बनवाएं, कि वह याजक का काम करके मेरी सेवा टहल करे।

5 और वे सोना, और नीला, और बैंजनी लें; और लाल रंग का, और उत्तम मलमल।

6 और वे एपोद को सोने, और नीले, बैंजनी, लाल रंग के, और सुतली के मलमल का, और चालाकी के कामोंसे बनवाएं।

7 उसके दोनों कन्धे के टुकड़े उसके दोनों सिरों पर जुड़े हुए हों; और इसलिए इसे एक साथ जोड़ा जाएगा।

8 और एपोद का जो कटिबन्ध उस पर लगे वह उसी के काम के अनुसार उसी का हो; सोने का, और नीला, बैंजनी, और लाल रंग का, और सुडौल मलमल का।

9 और दो गोमेद मणि लेकर उन पर इस्त्राएलियोंके नाम खुदवा लेना;

10 उनके नाम में से छ: नाम एक पत्यर पर, और बाकी के छ: नाम दूसरे पत्यर पर, उनके जन्म के अनुसार।

11 और दोनों पत्यरों को इस्त्राएलियों के नाम के साथ खोदकर पत्यर की भांति गढ़ना, जैसे चिन्ह खुदे हुए हों; और उन्हें सोने के कुण्ड में जड़वा देना।

12 और उन दोनों मणियों को एपोद के कन्धों पर रखना, जो इस्त्राएलियोंके लिथे स्मरण के मणि ठहरें; और हारून उनके नाम यहोवा के साम्हने अपके दोनों कन्धोंपर स्मरण के लिथे उठाए रखे।

13 और सोने के पात्र बनवाना;

14 और सिरोंपर चोखे सोने की दो जंजीरें; उन्हें मालाओं के काम से बनवाना, और मालाओं की जंजीरों को टहनियों में जकड़ना।

15 और न्याय की झिलम धूर्त कामोंसे बनवाना; एपोद के काम के अनुसार उसे बनाना; सोना, नीला, बैंजनी, और लाल रंग का, और सुडौल मलमल का, तू बनाना।

16 चौगुना इसे दोगुना किया जाएगा; उसकी लंबाई एक स्पैनी हो, और एक स्पैन उसकी चौड़ाई हो।

17 और उस में पत्यरोंके गढ़े हुए पत्यरोंकी चार कतारें लगाना; पहिली पंक्ति में एक सरदीस, एक पुखराज, और एक लकड़ी का छिलका हो; यह पहली पंक्ति होगी।

18 और दूसरी पंक्ति में पन्ना, नीलमणि और हीरा हो।

19 और तीसरी पंक्ति में एक संयुक्ताक्षर, और सुपारी, और एक नीलम।

20 और चौथी पंक्ति में एक बेरील, एक गोमेद, और एक यशब; वे अपके बाड़ोंमें सोने में रखे जाएं।

21 और वे मणि इस्त्राएलियोंके नाम समेत बारह अपके अपके नाम के अनुसार चिन्ह के खोदने के समान हों; वे बारह गोत्रों के अनुसार अपके नाम के साथ हों।

22 और चपरास के सिरोंपर चोखे सोने की जंजीरें बनवाना।

23 और चपरास पर सोने के दो कड़े बनवाना, और दोनों कडिय़ोंको चपरास के दोनों सिरों पर लगाना।

24 और सोने की दोनों जंजीरें जो चपरास के सिरोंपर हों उन दोनोंके बीच में रखना।

25 और दोनों सिरों के दोनों सिरों को जंजीरों से बान्धना, और उन दोनों को एपोद के कन्धों पर रखना, और उसके आगे एपोद के टुकड़े करना।

26 और सोने के दो कड़े बनवाना, और उन्हें चपरास के दोनों सिरोंपर उसके सिवाने पर लगाना, जो एपोद की भीतरी ओर की ओर हो।

27 और सोने के दो और कड़े भी बनवाना, और एपोद के दोनों किनारों पर उसके नीचे, उसके आगे की ओर, और उसके दूसरे जोड़ के साम्हने, एपोद के काढ़े हुए पटके के ऊपर रखना।

28 और चपरास को उसकी कडिय़ोंके द्वारा एपोद की कडिय़ोंके साम्हने नीले रंग के फीते से बान्धा जाए, जिस से वह एपोद की कुटिल कमर के ऊपर हो, और चपरास एपोद पर से न छूटे।

29 और जब हारून यहोवा के साम्हने स्मरण करने के लिथे पवित्रस्थान में नित्य प्रवेश करे, तब जब हारून न्याय की चपरास पर अपके अपके मन में इस्राएलियोंके नाम रखे।

30 और न्याय की चपरास में ऊरीम और तुम्मीम रखना; और जब हारून यहोवा के साम्हने भीतर जाए, तब वे उसके मन में लगे रहें; और हारून इस्राएलियों का न्याय यहोवा के साम्हने नित्य अपके हृदय पर धारण करेगा।

31 और एपोद के बागे को पूरे नीले रंग का करना;

32 और उसकी चोटी में उसके बीच में एक छेद हो; उसके छेद के चारों ओर बुने हुए काम का एक बंधन होना चाहिए, जैसे कि वह एक हार्गेन का छेद था, कि वह किराए पर न हो।

33 और उसके नीचे के भाग पर उसके चारोंओर नीले, बैंजनी, और लाल रंग के अनार बनाना; और उनके बीच चारोंओर सोने की घंटियां;

34 वस्त्र के चारोंओर चारोंओर एक सोने की घंटी, और एक अनार, एक सोने की घंटी और एक अनार।

35 और वह हारून की सेवा टहल करे; और जब वह यहोवा के साम्हने पवित्रस्थान में जाए, और जब वह निकले, तब उसका शब्द सुना जाए, ऐसा न हो कि वह मर जाए।

36 और चोखे सोने की एक थाली बनवाना, और उस पर अपके चिन्ह के समान खुदे हुए बनाना, जो यहोवा के लिथे पवित्र है।

37 और उसको नीले फीते पर बान्धना, कि वह मिटटी पर लगे; मेटर में सबसे आगे यह होगा।

38 और वह हारून के माथे पर रहे, जिस से हारून उन पवित्र वस्तुओं के अधर्म का भार उठाए, जिन्हें इस्राएली अपके सब पवित्र भेंटोंमें पवित्र करें; और वह सदा उसके माथे पर रहे, जिस से वे यहोवा के साम्हने ग्रहण किए जाएं।।

39 और सूक्ष्म मलमल का अंगरखा कढ़ाई करना, और सूक्ष्म मलमल का मेद बनाना, और सूई की पुतली का पट बनाना।

40 और हारून के पुत्रोंके लिथे अंगरखे बनवाना, और उनके लिथे कमरबन्द बनाना, और उनके लिथे शोभा और शोभा के लिथे बोनट बनाना।

41 और अपके भाई हारून, और उसके पुत्रों समेत अपके अपके पुत्रोंको अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके साय अपके अपके साय रखना; और उनका अभिषेक करके उन्हें पवित्र करना, और उन्हें पवित्र करना, कि वे याजक के काम में मेरी सेवा करें।

42 और उनका तन ढांपने के लिथे उनके लिथे सन की जांघिया बनवाना; वे कमर से जांघों तक पहुंचेंगे;

43 और जब हारून और उसके पुत्र मिलापवाले तम्बू में प्रवेश करें, वा वेदी के पास पवित्रस्थान में सेवा टहल करने को जाएं, तब वे उस पर हों; कि वे अधर्म न सहें, और मर जाएं; वह उसके और उसके बाद उसके वंश की सदा की विधि ठहरे।

अध्याय 29

याजकों का अभिषेक — परमेश्वर का वचन।

1 और उनको पवित्र ठहराने के लिथे जो याजक का काम मेरे लिथे मेरी सेवा टहल करे, वह यह है; एक बछड़ा, और दो निर्दोष मेढ़े ले लो,

2 और अखमीरी रोटी, और तेल से सने हुए अखमीरी रोटियां, और तेल से अभिषिक्त अखमीरी रोटियां; उन्हें गेहूँ के आटे से बनाना।

3 और उन्हें एक टोकरी में रखना, और बछड़े और दोनोंमेढ़ों समेत टोकरी में रखना।

4 और हारून और उसके पुत्रोंको मिलापवाले तम्बू के द्वार पर ले जाकर जल से धोना।

5 और उन वस्त्रों को लेकर हारून को अंगरखा, और एपोद का बागा, और एपोद, और चपरास बान्धना, और एपोद की कुटिल कमरबन्द को बान्धना;

6 और पगड़ी उसके सिर पर रखना, और पवित्र मुकुट को जूती पर रखना।

7 तब अभिषेक का तेल लेकर उसके सिर पर उंडेल देना, और उसका अभिषेक करना।

8 और उसके पुत्रोंको ले जाकर अंगरखे पहिनाना।

9 और हारून और उसके पुत्रोंको अपके पट्ठे बान्धना, और हडि्डयोंको पहिनाना; और याजक का काम सदा की विधि के लिथे उनका ठहरे; और हारून और उसके पुत्रोंको पवित्र करना।

10 और एक बछड़ा मिलापवाले तम्बू के साम्हने ले जाना; और हारून और उसके पुत्र अपके अपके हाथ बछड़े के सिर पर रखे।

11 और उस बछड़े को मिलापवाले तम्बू के द्वार के पास यहोवा के साम्हने बलि करना।

12 और बछड़े के लोहू में से कुछ लेकर अपक्की उंगली से वेदी के सींगोंपर लगाना, और सब लोहू वेदी की तली के पास उंडेल देना।

13 और जितनी चरबी भीतर ढंपती है, और जो कलेजे के ऊपर के कलेजे, और दोनों गुर्दों, और चर्बी को जो उन पर है, सब को लेकर वेदी पर जला देना।

14 परन्तु बछड़े का मांस, और उसकी खाल, और उसका गोबर छावनी के बाहर आग में जलाना; यह पापबलि है।

15 तू एक मेढ़ा भी लेना; और हारून और उसके पुत्र मेढ़े के सिर पर हाथ रखें।

16 और उस मेढ़े को घात करना, और उसका लोहू लेकर वेदी पर चारोंओर छिड़कना।

17 और मेढ़े को टुकड़े टुकड़े करना, और उसके अन्तर्मन और उसके पैरोंको धोकर उसके टुकड़े टुकड़े, और सिर तक करना।

18 और पूरे मेढ़े को वेदी पर जलाना; वह यहोवा के लिथे होमबलि है; यह एक मधुर सुगन्ध है, जो यहोवा के लिथे हव्य का हवन है।

19 और दूसरे मेढ़े को लेना; और हारून और उसके पुत्र मेढ़े के सिर पर हाथ रखें।

20 तब मेढ़े को घात करके उसके लोहू में से कुछ लेकर हारून के दहिने कान के सिरे पर, और उसके पुत्रोंके दहिने कान के सिरे पर, और उनके दाहिने हाथ के अंगूठे पर, और उसके ऊपर लगाना। उनके दाहिने पांव का अंगूठा, और लोहू वेदी पर चारोंओर छिड़कें।

21 और वेदी पर के लोहू और अभिषेक के तेल में से कुछ लेकर हारून, और उसके वस्त्रों, और उसके पुत्रों, और उसके साय उसके पुत्रोंके वस्त्रों पर छिड़कना; और वह पवित्र ठहरेगा, और उसके वस्त्र, और उसके पुत्र, और उसके पुत्रोंके वस्त्र उसके संग पवित्र किए जाएंगे।

22 और मेढ़े में से चरबी, और दुम, और भीतर की चरबी, और कलेजे के ऊपर की कलेजी, और दोनोंगुर्दे, और जो चरबी उन पर पड़े, और दहिने कंधा को भी लेना; क्योंकि वह अभिषेक का मेढ़ा है;

23 और अखमीरी रोटी की उस टोकरी में से जो यहोवा के साम्हने है, एक रोटी, और तेल से सने रोटी की एक टिकिया, और एक रोटी;

24 और सब कुछ हारून और उसके पुत्रोंके हाथ में करना; और हिलाने की भेंट के लिथे यहोवा के साम्हने हिलाना।

25 और उनको उनके हाथ से ग्रहण करके वेदी पर होमबलि के लिथे जलाना, जिस से यहोवा के साम्हने सुगन्ध आ जाए; यह यहोवा के लिथे हवन की भेंट है।

26 और हारून के अभिषेक के मेढ़े की छाती को लेकर हिलाने की भेंट के लिथे यहोवा के साम्हने हिलाना; और वह तेरा भाग होगा।

27 और हिलाने की भेंट की छाती, और हिलाए जाने वाले और उठाई हुई भेंट के कन्धे को पवित्र करना, अर्यात् अभिषेक के मेढ़े का, अर्यात् हारून के लिथे वरन उसका भी, अपने बेटों के लिए;

28 और वह हारून और उसके पुत्रोंके लिथे इस्त्राएलियोंकी ओर से सदा की विधि के अनुसार ठहरे; क्‍योंकि वह भारी भेंट है; और वह इस्त्राएलियोंके लिथे अपके मेलबलियोंके लिथे यहोवा के लिथे अपके होमबलि की एक भारी भेंट ठहरे।

29 और हारून के पवित्रा वस्त्र उसके बाद उसके पुत्रा हों, जिस में उसका अभिषेक किया जाए, और वह उन्हीं में पवित्रा किया जाए।

30 और वह पुत्र जो उसके स्यान पर याजक हो, उन्हें सात दिन तक रखे, जब वह मिलापवाले तम्बू में पवित्रस्थान में सेवा टहल करने को आए।

31 और अभिषेक के मेढ़े को लेकर उसका मांस पवित्रस्यान में देखना।

32 और हारून और उसके पुत्र उस मेढ़े का मांस और टोकरी में की रोटी को मिलापवाले तम्बू के द्वार पर खाएं।

33 और जिस वस्तु से प्रायश्चित्त किया गया, वे वही खाएं; उन्हें पवित्र करना और उन्हें पवित्र करना; परन्तु कोई परदेशी उसका भोजन न करे, क्योंकि वे पवित्र हैं।

34 और यदि अभिषेक के मांस वा रोटी में से कुछ भोर तक रह जाए, तो उस को आग में जलाना; वह खाया न जाए, क्योंकि वह पवित्र है।

35 और जितनी जो आज्ञा मैं ने तुझे दी हैं उन सभोंके अनुसार तू हारून और उसके पुत्रोंसे भी करना; सात दिन तक उन्हें पवित्र करना।

36 और प्रति दिन पापबलि के लिथे प्रायश्चित्त के लिथे एक बछड़ा चढ़ाना; और वेदी को तब शुद्ध करना, जब तू उसके लिथे प्रायश्चित्त कर ले, और उसका अभिषेक करके उसे पवित्र करना।

37 सात दिन तक वेदी के लिथे प्रायश्चित्त करना, और उसे पवित्र करना; और वह वेदी परमपवित्रा ठहरे; जो कुछ वेदी को छूए वह पवित्र ठहरे।

38 अब जो कुछ तू वेदी पर चढ़ाएगा वह यह है; एक एक वर्ष के दो भेड़ के बच्चे नित्य प्रति दिन प्रति दिन।

39 बिहान को एक भेड़ का बच्चा चढ़ाना; और दूसरे मेमने को सांझ के समय चढ़ाना;

40 और एक भेड़ के बच्चे के साथ मैदा का दसवां अंश मैदा, और एक चौथाई हीन कूटा हुआ तेल मिला हुआ हो; और अर्घ के लिथे एक हीन दाखमधु का चौथा भाग।

41 और दूसरे मेमने को सांफ को चढ़ाना, और उसके लिथे भोर के अन्नबलि और अर्घ के अनुसार मीठा सुगन्ध देना, अर्थात यहोवा के लिथे हवन करना।

42 यह तुम्हारी पीढ़ी पीढ़ी में यहोवा के साम्हने मिलापवाले तम्बू के द्वार पर जहां मैं तुम से भेंट करूंगा, वहां तुम से बातें करने को नित्य होमबलि हो।

43 और वहां मैं इस्त्राएलियोंसे मिलूंगा, और निवासस्थान मेरे तेज से पवित्र किया जाएगा।

44 और मैं मिलापवाले तम्बू और वेदी को पवित्र करूंगा; मैं हारून और उसके पुत्रों दोनों को भी पवित्र करूंगा, कि वे याजक के काम में मेरी सेवा करें।

45 और मैं इस्राएलियोंके बीच में वास करूंगा, और उनका परमेश्वर ठहरूंगा।

46 और वे जान लेंगे कि मैं उनका परमेश्वर यहोवा हूं, जो उन्हें मिस्र देश से निकाल लाया, कि मैं उनके बीच निवास करूं; मैं उनका परमेश्वर यहोवा हूं।

अध्याय 30

धूप की वेदी - फिरौती।

1 और धूप जलाने के लिथे एक वेदी बनाना; तू उसे बबूल की लकड़ी से बनाना।

2 उसकी लम्बाई एक हाथ और चौड़ाई एक हाथ हो; चौगुना होगा; और उसकी ऊंचाई दो हाथ की हो; उसके सींग उसी के हों।

3 और उसको चोखे सोने से मढ़वाना, और उसके ऊपर का भाग, और उसके चारोंओर की अलंग, और उसके सींगों को भी मढ़वाना; और उसके लिये चारोंओर सोने का मुकुट बनवाना।

4 और उसके मुकुट के नीचे उसके दोनोंकोनोंके साम्हने सोने के दो कड़े बनवाना; और वे डण्डों के सहने के स्थान होंगे।

5 और डण्डोंको बबूल की लकड़ी के बनवाना, और उन्हें सोने से मढ़वाना।

6 और उसको उस परदे के साम्हने जो साझीपत्र के सन्दूक के पास है, और उस प्रायश्चित के आसन के साम्हने जो साक्षीपत्र के ऊपर है, जहां मैं तुझ से मिलूंगा, रखना।

7 और हारून उस पर भोर को सुगन्धित धूप जलाए; जब वह दीपकोंको पहिन ले, तब उस पर धूप जलाए।

8 और जब हारून सांफ को दीपक जलाए, तब वह उस पर अपक्की पीढ़ी पीढ़ी में यहोवा के साम्हने सदा धूप जलाए।

9 उस पर न तो पराया धूप चढ़ाना, और न होमबलि, और न अन्नबलि; और उस पर अर्घ न उंडेलना।

10 और हारून उसके सींगोंके ऊपर वर्ष में एक बार प्रायश्चित्त के पापबलि के लोहू से प्रायश्चित्त करे; वह वर्ष में एक बार तेरी पीढ़ी पीढ़ी में उस से प्रायश्चित्त करे; वह यहोवा के लिथे परम पवित्र है।

11 और यहोवा ने मूसा से कहा,

12 जब तू इस्त्राएलियोंकी गिनती उनकी गिनती के अनुसार ले, तब वे अपके अपके प्राण के लिथे यहोवा के लिथे छुड़ौती दें, जब तू उन्हें गिन ले; कि जब तू उन्हें गिन ले, तब उन में कोई विपत्ति न आए।

13 वे जितने गिने जाएं, उन सभोंको पवित्रस्थान के शेकेल के अनुसार आधा शेकेल देना; (एक शेकेल बीस गेरा का होता है;) आधा शेकेल यहोवा की भेंट हो।

14 जो कोई बीस वर्ष वा उस से अधिक अवस्या के गिने हुए पुरूष हों, वे यहोवा के लिथे भेंट चढ़ाए।

15 जब वे तेरे प्राणोंके लिथे प्रायश्चित्त करने के लिथे यहोवा को भेंट चढ़ाएं, तब धनी अधिक न दें, और कंगाल आधा शेकेल से भी कम न दें।

16 और इस्त्राएलियोंके प्रायश्चित्त का रुपया लेकर मिलापवाले तम्बू की सेवा में लगाना; कि यह यहोवा के साम्हने इस्त्राएलियोंके लिथे स्मरण रहे, कि अपके प्राणोंके लिथे प्रायश्चित्त करे।।

17 तब यहोवा ने मूसा से कहा,

18 और पीतल की हौदी, और उसका पांव भी पीतल का बनाना, जिस से वे धोए जाएं; और उसको मिलापवाले तम्बू और वेदी के बीच में रखना, और उस में जल डालना।

19 क्योंकि हारून और उसके पुत्र उसी में अपके हाथ पांव धोएंगे;

20 जब वे मिलापवाले तम्बू में जाएं, तब जल से धोए, ऐसा न हो कि वे मरें; या जब वे वेदी के पास सेवा टहल करने के लिथे यहोवा के लिथे होमबलि करने के लिथे आए हों;

21 इसलिथे वे अपके हाथ पांव धोए, ऐसा न हो कि वे मरें; और वह उसके और उसके वंश की पीढ़ी पीढ़ी में सदा की विधि ठहरे।

22 फिर यहोवा ने मूसा से कहा,

23 और मुख्य सुगन्धद्रव्य, अर्थात् पवित्र गंधरस का पांच सौ शेकेल, और आधा मीठा दालचीनी, दो सौ पचास शेकेल, और मीठे कैलेमस में से दो सौ पचास शेकेल ले लेना,

24 और पवित्रस्यान के शेकेल के अनुसार तेजाब का पांच सौ शेकेल, और जैतून का तेल एक हीन;

25 और उसको पवित्रा तेल का तेल, अर्यात्‌ अपसारी की कला के अनुसार मिलावट का मेल करना; वह अभिषेक का पवित्र तेल हो।

26 और उस से मिलापवाले तम्बू का, और साक्षीपत्र के सन्दूक का भी अभिषेक करना,

27 और मेज़ और उसके सब पात्र, और दीवट, और उसके पात्र, और धूप की वेदी,

28 और होमबलि की वेदी और उसके सब पात्र, और हौदी और उसका पांव।

29 और उन्हें पवित्र करना, कि वे परमपवित्र ठहरें; जो कुछ उन्हें छूए वह पवित्र ठहरे।

30 और हारून और उसके पुत्रोंका अभिषेक करना, और उनको पवित्र करना, कि वे याजक का काम मेरे लिथे सेवा टहल करें।

31 और इस्त्राएलियोंसे यह कहना, कि यह तेरी पीढ़ी पीढ़ी में मेरे लिथे अभिषेक का पवित्र तेल ठहरे।

32 वह मनुष्य के मांस पर न उण्डेला जाए, और न उसके समान किसी अन्य को बनाया जाए; वह पवित्र है, और वह तुम्हारे लिये पवित्र ठहरेगा।

33 जो कोई उसके समान किसी को मिलाए, वा उस में से कोई परदेशी पर लगाए, वह अपके लोगोंमें से नाश किया जाए।

34 और यहोवा ने मूसा से कहा, सुगन्धित सुगन्धि, सुगन्धि, ओन्चा, और गिलबनम अपके पास ले; शुद्ध लोबान के साथ ये मीठे मसाले; प्रत्येक का भार एक समान हो;

35 और तू उसको इत्र, अर्थात इत्र बनानेवाले की कला के अनुसार मिष्ठान्न, जो मिला कर शुद्ध और पवित्र हो;

36 और उस में से किसी को बहुत छोटा मारना, और उस में से मिलापवाले तम्बू में जहां मैं तुझ से भेंट करूंगा, साझी के साम्हने रखना; वह तुम्हारे लिये परमपवित्र ठहरेगा।

37 और जो इत्र तू बनाना चाहे, उस की रचना के अनुसार अपके लिथे न बनाना; वह तेरे लिथे यहोवा के लिथे पवित्र ठहरे।

38 जो कोई उस से ऐसा सुगन्ध करे, कि वह सुगन्धि करे, वह अपके लोगोंमें से नाश किया जाए।

अध्याय 31

बसलील और अहोलियाब ने सब्त को दो मेज़ों को बुलाया।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा,

2 देख, मैं ने यहूदा के गोत्र में से ऊरी के पुत्र बसलील को, जो हूर का परपोता या, उसका नाम रखा है;

3 और मैं ने उसे बुद्धि, और समझ, और ज्ञान, और सब प्रकार के कामोंमें परमेश्वर के आत्मा से भर दिया है।

4 चतुराई के कामों की युक्ति करना, और सोने, और चान्दी, और पीतल के काम करना,

5 और पत्यर काटने, और लगाने, और लकडिय़ां तराशने में सब प्रकार के काम करने के लिथे।

6 और देखो, मैं ने उसके संग दान के गोत्र में से अहीसामाक के पुत्र अहोलियाब को भी दे दिया है; और सब बुद्धिमानोंके मन में मैं ने बुद्धि डाली है, कि जितनी आज्ञाएं मैं ने तुझे दी हैं वे सब पूरी करें;

7 मिलापवाले तम्बू, और साक्षीपत्र का सन्दूक, और उस पर का प्रायश्चित्त का आसन, और निवास का सब सामान,

8 और मेज़ और उसका सामान, और शुद्ध दीवट, और उसका सब सामान, और धूप की वेदी,

9 और होमबलि की वेदी अपके सब सामान समेत, और हौदी और उसका पांव,

10 और सेवा के वस्त्र, और हारून याजक के पवित्रा वस्त्र, और उसके पुत्रोंके वस्त्र, जो याजक के पद पर सेवा टहल करने के लिथे,

11 और अभिषेक का तेल, और पवित्र स्थान के लिथे सुगन्धित धूप; जो कुछ मैं ने तुझे आज्ञा दी है उसके अनुसार वे करेंगे।

12 और यहोवा ने मूसा से कहा,

13 तू इस्त्राएलियोंसे भी यह कहना, कि निश्चय मेरे विश्रामदिनोंको मानना; क्‍योंकि यह मेरे और तेरे बीच तेरी पीढ़ी पीढ़ी में एक चिन्‍ह है; ताकि तुम जान सको कि मैं यहोवा हूं जो तुम्हें पवित्र करता है।

14 इसलिथे तुम विश्रामदिन मानना; क्योंकि वह तुम्हारे लिये पवित्र है। जो कोई उसे अशुद्ध करे वह निश्चय मार डाला जाए; क्योंकि जो कोई उस में कुछ काम करे, वह प्राणी अपके लोगोंमें से नाश किया जाए।

15 छ: दिन काम किया जा सकता है; परन्तु सातवें में विश्राम का विश्रामदिन है, जो यहोवा के लिथे पवित्र है; जो कोई सब्त के दिन कोई काम करे, वह निश्चय मार डाला जाए।

16 इस कारण इस्त्राएलियोंको सब्त मानना, कि अपक्की पीढ़ी पीढ़ी में सदा की वाचा के लिथे सब्त मानना।

17 यह मेरे और इस्त्राएलियोंके बीच सदा के लिथे एक चिन्ह है; क्योंकि छ: दिन में यहोवा ने आकाश और पृय्वी को बनाया, और सातवें दिन विश्राम करके तरोताजा हुआ।

18 और जब उस ने सीनै पर्वत पर उस से बातें करना पूरी की, तब उस ने मूसा को परमेश्वर की उँगली से लिखी हुई साझीपत्र की दो पटिया, पत्यर की पटियाएं दीं।

अध्याय 32

हारून ने एक बछड़ा बनाया - मूसा ने मेजों को तोड़ दिया - वह लोगों के लिए प्रार्थना करता है।

1 और जब लोगों ने देखा, कि मूसा को पहाड़ पर से उतरने में देर हो रही है, तब वे हारून के पास इकट्ठे हो गए, और उस से कहने लगे, कि हमारे लिये देवता बना, जो हमारे आगे आगे चलेंगे; क्योंकि मूसा जो हम को मिस्र देश से निकाल ले आया है, वह हम नहीं जानते, कि उसे क्या हुआ।

2 हारून ने उन से कहा, जो सोने की बालियां तुम्हारी पत्नियों, और अपके पुत्रोंऔर बेटियोंके कानोंमें हैं, उन्हें तोड़कर मेरे पास ले आओ।

3 और सब लोगोंने अपके कानोंकी सोने की बालियां तोड़कर हारून के पास ले आईं।

4 और उस ने उनको उनके हाथ से ग्रहण किया, और उसे ढलवाए हुए बछड़े से बना लिया, और उसे ढलवाए हुए बछड़े से गढ़ा; और उन्होंने कहा, हे इस्राएल, जो तुझे मिस्र देश से निकाल ले आए हैं, वे तेरे देवता हैं।

5 और हारून ने यह देखकर उसके साम्हने एक वेदी बनाई; और हारून ने यह घोषणा करके कहा, कल यहोवा का पर्ब्ब है।

6 और दूसरे दिन वे तड़के उठकर होमबलि और मेलबलि ले आए; और वे लोग खाने-पीने बैठ गए, और खेलने को उठे।

7 तब यहोवा ने मूसा से कहा, जा, उतर; क्योंकि तेरी प्रजा के लोग जिन्हें तू मिस्र देश से निकाल ले आया है, वे बिगड़ गए हैं;

8 जिस मार्ग की मैं ने उन्हें आज्ञा दी थी, वे उस से फुर्ती से हट गए हैं, और उन्हें ढला हुआ बछड़ा बनाया है, और उसे दण्डवत किया है, और उसके लिथे बलिदान किया है, और कहा है, हे इस्राएल, तेरे देवता ये हैं, जो तुझे निकाल लाए हैं मिस्र की भूमि से।

9 और यहोवा ने मूसा से कहा, मैं ने इन लोगोंको देखा है, और देखो, यह हठीले लोग हैं;

10 सो अब मुझे छोड़ दे, कि मेरा कोप उन पर भड़क जाए, और मैं उनको भस्म कर दूं; और मैं तुझ से एक बड़ी जाति बनाऊंगा।

11 तब मूसा ने अपके परमेश्वर यहोवा से बिनती करके कहा, हे यहोवा, तेरा कोप अपक्की प्रजा पर, जिसे तू ने बड़ी सामर्य और बलवन्त हाथ से मिस्र देश से निकाल लाया है, क्योंजल भड़क उठा है?

12 मिस्री क्यों बोलकर कहें, कि क्या वह उनको विपत्ति के कारण पहाड़ों पर घात करने, और पृय्वी पर से भस्म करने के लिथे निकाल लाया है? अपने भयंकर क्रोध से फिरो। तेरी प्रजा इस विपत्ति से मन फिराएगी; इसलिथे तू उनके साम्हने न निकल।

13 इब्राहीम, इसहाक और इस्राएल को, अपके दासोंको, जिन से तू ने अपक्की शपय खाकर कहा या, कि मैं तेरे वंश को आकाश के तारोंके नाईं बढ़ाऊंगा, और यह सारा देश जिसके विषय में मैं ने कहा है, उसको मैं दूंगा तेरा वंश, और वे इसे हमेशा के लिए विरासत में लेंगे।

14 तब यहोवा ने मूसा से कहा, यदि वे अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की साय मन फिराएं, तो मैं उनको छोड़ दूंगा, और अपक्की जलजलाहट को दूर करूंगा; परन्‍तु जो कोई आज के दिन इस विपत्ति से पश्‍चाताप न करेगा, उन सभों का न्याय तू करना। इसलिथे देखो, कि जो आज्ञा मैं ने तुझे दी है वह तू करे, वा जो कुछ मैं ने अपक्की प्रजा से करने का विचार किया था, उसे मैं पूरा करूंगा।

15 तब मूसा मुड़ा, और पहाड़ पर से उतर गया, और साझीपत्र की वे दो पटियां उसके हाथ में थीं; दोनों ओर मेजें लिखी हुई थीं; एक ओर और दूसरी ओर वे लिखे हुए थे।

16 और पटियाएं परमेश्वर की कृति थीं, और वह लेख परमेश्वर की ओर से लिखा हुआ था, जो पटियाओं पर खुदा हुआ था।

17 और जब यहोशू ने लोगोंके चिल्लाने का शब्द सुना, तब उस ने मूसा से कहा, छावनी में युद्ध का कोलाहल है।

18 उस ने कहा, न तो अधिकार की जयजयकार करने वालों की, और न जय पाने की दोहाई देने वालों की आवाज है; परन्तु जो गाते हैं उनका शब्द मैं सुनता हूं।

19 और जब वह छावनी के निकट पहुंचा, तब उस ने बछड़े और नाचते हुए को देखा; और मूसा का कोप भड़क उठा, और उस ने पटियाओं को अपके हाथ से पटक कर पहाड़ के नीचे तोड़ डाला।

20 और उस ने अपके बनाए हुए बछड़े को लेकर आग में फूंक दिया, और पीसकर जल पर छिटक दिया, और इस्त्राएलियोंको पिलाया।

21 तब मूसा ने हारून से कहा, इन लोगोंने तुझ से क्या किया, कि तू ने उन पर ऐसा बड़ा पाप किया है?

22 हारून ने कहा, मेरे प्रभु का कोप भड़कने न पाए; तू लोगों को जानता है, कि वे उपद्रव में लिप्त हैं।

23 क्योंकि उन्होंने मुझ से कहा, हमारे लिये देवता बना, जो हमारे आगे आगे चलेंगे; क्योंकि मूसा जो हम को मिस्र देश से निकाल ले आया है, वह हम नहीं जानते, कि उसे क्या हुआ।

24 और मैं ने उन से कहा, जिस किसी के पास सोना हो, वह उसे तोड़ दे। सो उन्होंने मुझे दिया; तब मैं ने उसको आग में झोंक दिया, और वह बछड़ा निकला।

25 और जब मूसा ने देखा, कि वे लोग नंगे हैं, (क्योंकि हारून ने उनको उनके शत्रुओं के बीच उनकी लज्जा के लिथे नंगा किया या,)

26 तब मूसा ने छावनी के फाटक पर खड़े होकर कहा, यहोवा की ओर कौन है? उसे मेरे पास आने दो। और लेवी के सब पुत्र उसके पास इकट्ठे हो गए।

27 और उस ने उन से कहा, इस्राएल का परमेश्वर यहोवा योंकहता है, अपक्की अपक्की अपक्की तलवार अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की छावनी में रख, और अपके अपके भाई और अपके अपके संगी को घात कर, अपके अपके भाई को घात कर। और हर आदमी उसका पड़ोसी।

28 और लेवीवंशियोंने मूसा के वचन के अनुसार किया; और उस दिन कोई तीन हजार मनुष्य मारे गए।

29 क्योंकि मूसा ने कहा था, कि आज अपके अपके अपके पुत्र और अपके भाई के लिथे अपके अपके अपके अपके को यहोवा के लिथे पवित्र कर; कि वह आज के दिन तुझे आशीष दे।

30 और दूसरे दिन ऐसा हुआ, कि मूसा ने लोगोंसे कहा, तुम ने बड़ा पाप किया है; और अब मैं यहोवा के पास चढ़ूंगा; मैं तुम्हारे पाप का प्रायश्चित करूंगा।

31 तब मूसा ने यहोवा के पास लौटकर कहा, हे इन लोगोंने बहुत बड़ा पाप किया है, और उनको सोने का देवता बनाया है।

32 तौभी अब यदि तू उनका पाप क्षमा करे; और यदि नहीं, तो अपनी लिखी हुई पुस्तक में से मुझे काटो।

33 और यहोवा ने मूसा से कहा, जिस किसी ने मेरे विरुद्ध पाप किया है, उसका नाम मैं अपनी पुस्तक में से काट दूंगा।

34 इसलिथे अब जाकर लोगोंको उस स्यान में ले चलो जिसके विषय में मैं ने तुम से कहा है; देख, मेरा दूत तेरे आगे आगे चलेगा; तौभी जिस दिन मैं भेंट करूंगा, उस दिन मैं उन पर उनके पाप का दण्ड दूंगा।

35 और यहोवा ने प्रजा पर विपत्ति डाली, क्योंकि वे हारून के बनाए हुए बछड़े को दण्डवत करते थे।

अध्याय 33

लोग बड़बड़ाते हैं - तम्बू हटा दिया जाता है - यहोवा मूसा से बात करता है।

1 तब यहोवा ने मूसा से कहा, चला जा, और उन लोगों समेत, जिन्हें तू मिस्र देश से निकाल ले आया है, उस देश में जहां दूध और मधु की धाराएं बहती हैं, उस देश में जहां मैं ने इब्राहीम से इसहाक से शपथ खाई थी, चढ़ जा। और याकूब से कहा, मैं तेरे वंश को दूंगा;

2 और मैं तेरे आगे आगे एक दूत भेजूंगा; और मैं कनानी, एमोरी, हित्ती, परिज्जी, हिव्वी, और यबूसी को निकाल दूंगा;

3 उस देश में जहां दूध और मधु की धाराएं बहती हैं; क्योंकि मैं तेरे बीच में नहीं चढ़ूंगा; क्योंकि तू हठीले प्रजा है; कहीं ऐसा न हो कि मैं तुझे मार्ग में भस्म कर दूं।

4 जब लोगों ने यह बुरा समाचार सुना, तो वे विलाप करने लगे; और किसी ने अपके जेवर उस पर न पहिनाए।

5 क्योंकि यहोवा ने मूसा से कहा था, इस्त्राएलियोंसे कह, कि तुम हठीले लोग हो; मैं क्षण भर में तेरे बीच में चढ़कर तुझे भस्म कर दूंगा; इसलिथे अब अपके जेवर अपके पास से उतार दे, कि मैं जानूं कि तुझ से क्या करूं।

6 और इस्त्राएलियोंने होरेब पर्वत के पास अपके अपके आभूषण उतार दिए।

7 तब मूसा ने निवास को ले जाकर छावनी के बाहर, छावनी से दूर खड़ा किया, और मिलापवाला तम्बू कहा। और ऐसा हुआ, कि जो कोई यहोवा को ढूंढ़ता था, वह मिलापवाले तम्बू के पास, जो छावनी के बाहर था, निकल गया।

8 और जब मूसा निवास को निकल गया, तब सब लोग उठकर अपके अपके डेरे के द्वार पर खड़े हुए, और जब तक वह निवास में न गया तब तक मूसा की चौकसी करते रहे।।

9 और जब मूसा निवास में प्रवेश किया, तब बादल का खम्भा उतरकर निवास के द्वार पर खड़ा हुआ, और यहोवा ने मूसा से बातें की।

10 और सब लोगों ने देखा कि बादल का खम्भा निवास के द्वार पर खड़ा है; और सब लोगों ने उठकर अपके अपके डेरे के द्वार पर दण्डवत की।

11 और यहोवा ने मूसा से आमने-सामने बातें की, जैसे कोई मनुष्य अपके मित्र से बातें करता है। और वह फिर छावनी में चला गया; परन्तु उसका दास नून का पुत्र यहोशू जो एक जवान या, निवास से बाहर न गया।

12 तब मूसा ने यहोवा से कहा, देख, तू मुझ से कहता है, इन लोगोंको ले आ; और तू ने मुझे नहीं बताया, कि तू मेरे संग किसके पास भेजेगा। तौभी तू ने कहा है, कि मैं तुझे नाम से जानता हूं, और तू ने मेरी दृष्टि में अनुग्रह भी पाया है।

13 सो अब यदि मुझ पर तेरे अनुग्रह की दृष्टि हो, तो मुझे अपना मार्ग दिखा, कि मैं तुझे जानूं, कि तेरे अनुग्रह की दृष्टि मुझ पर हो; और यह समझ लेना कि यह जाति तेरी प्रजा है।

14 उस ने कहा, मेरा साम्हना तेरे संग चलेगा, और मैं तुझे विश्राम दूंगा।

15 उस ने उस से कहा, यदि तेरा साम्हना मेरे संग न चले, तो हम को यहां से न ले जाना।

16 क्‍योंकि यहां पर कहां से प्रगट होगा कि मुझ पर और तेरी प्रजा पर तेरी दृष्टि में अनुग्रह हुआ है? क्या इस से नहीं कि तू हमारे संग जाता है? तो क्या हम और तेरी प्रजा के लोग पृथ्वी भर के सब लोगों से अलग हो जाएँगे।

17 और यहोवा ने मूसा से कहा, जो तू ने कहा है वह मैं भी करूंगा; क्योंकि तू ने मेरी दृष्टि में अनुग्रह पाया है, और मैं तुझे नाम से जानता हूं।

18 उस ने कहा, मैं तुझ से बिनती करता हूं, अपना तेज मुझे दिखा।

19 उस ने कहा, मैं अपक्की सारी भलाई तेरे आगे आगे बढ़ाऊंगा, और तेरे साम्हने यहोवा के नाम का प्रचार करूंगा; और जिस पर मैं अनुग्रह करूंगा उस पर अनुग्रह करूंगा, और जिस पर दया करूंगा उस पर दया करूंगा।

20 और उस ने मूसा से कहा, तू इस समय मेरा मुंह नहीं देख सकता, ऐसा न हो कि मेरा कोप तुझ पर भी भड़के, और मैं तुझे और तेरी प्रजा को नाश करूं; क्योंकि उनमें से कोई मनुष्य इस समय मुझे देखकर जीवित न रहेगा, क्योंकि वे बड़े पापी हैं। और कोई पापी मनुष्य कभी न होगा, और न कोई पापी मनुष्य कभी होगा, जो मेरे दर्शन करके जीवित रहे।

21 और यहोवा ने कहा, देख, तू एक चट्टान पर खड़ा होगा, और मैं तेरे लिथे अपने पास एक स्थान तैयार करूंगा।

22 और जब तक मेरा तेज आगे बढ़ता जाएगा, तब तक मैं तुझे चट्टान की दरार में डालूंगा, और जब मैं वहां से निकलूं, तब तुझे अपने हाथ से ढांपूंगा।

23 और मैं अपना हाथ उठाऊंगा, और तू मेरे पहिले को तो देख सकेगा, पर पहिले की नाई मेरे मुख का दर्शन न पाएगा; क्योंकि मैं अपनी प्रजा इस्राएल पर क्रोधित हूं।

अध्याय 34

मेज़ों का नवीनीकरण हुआ—मूसा मेज़ों के साथ नीचे आया—उसका मुख चमक उठा।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा, पहिले के समान पत्यर की और भी दो पटियाएं तराशें, और मैं उन पर व्यवस्था की बातें भी लिखूंगा, जैसे वे पहिले पहिले उन पटियाओं पर लिखी गई थीं जिन्हें तू ने तोड़ा था; परन्तु पहिले के अनुसार न हो, क्योंकि मैं उनके बीच में से याजकपद को दूर कर दूंगा; इस कारण मेरी पवित्र व्यवस्था और उसके नियम उनके आगे आगे न चलने पाए; क्योंकि मेरा साम्हना उनके बीच में न चढ़ेगा, ऐसा न हो कि मैं उन्हें नाश कर दूं।

2 परन्तु मैं उन्हें पहिले के समान व्यवस्या दूंगा, परन्तु वह शारीरिक आज्ञा की व्यवस्था के अनुसार होगी; क्योंकि मैं ने अपके जलजलाहट की शपय खाई है, कि अपके तीर्थ के दिनोंमें वे मेरे साम्हने मेरे विश्रामस्थान में प्रवेश न करने पाएंगे। इसलिए जैसा मैं ने तुझे आज्ञा दी है वैसा ही करो, और भोर को तैयार रहो, और भोर को सीनै पर्वत पर चढ़ो, और वहां अपने आप को पहाड़ की चोटी पर मेरे सामने उपस्थित करो।

3 और न कोई तेरे संग चढ़ेगा, और न सारे पहाड़ पर कोई मनुष्य दिखाई दे; उस पर्वत के आगे भेड़-बकरियां और गाय-बैल न चरें।

4 और मूसा ने पहिली के समान पत्यर की दो पटिया गढ़ी; और भोर को सबेरे उठकर यहोवा की आज्ञा के अनुसार सीनै पर्वत पर चढ़ गया, और पत्यर की दोनों पटिया अपने हाथ में ले लिया।

5 और यहोवा बादल पर उतरा, और वहां उसके संग खड़ा हुआ, और यहोवा के नाम का प्रचार किया।

6 और यहोवा उसके आगे आगे से चला, और यह प्रचार किया, कि यहोवा, यहोवा परमेश्वर, दयालु और अनुग्रहकारी, धीरजवन्त, और भलाई और सच्चाई से भरपूर,

7 सहस्त्रों पर दया करना, अधर्म, और अपराध, और पाप को क्षमा करना, और उस से बलवा करनेवाले कभी शुद्ध न होंगे; तीसरी और चौथी पीढ़ी तक पितरोंके अधर्म का दण्ड बच्चों पर, और सन्तानोंके पुत्रों पर पड़ता है।

8 तब मूसा ने फुर्ती करके पृय्वी की ओर सिर झुकाकर दण्डवत् किया।

9 और उस ने कहा, हे यहोवा, यदि अब मुझ पर तेरा अनुग्रह हो, तो मेरे प्रभु, मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि हमारे बीच चला जाए; क्योंकि वह हठीले लोग हैं; और हमारे अधर्म और पाप को क्षमा कर, और हमें अपना निज भाग कर ले।

10 उस ने कहा, सुन, मैं वाचा बान्धता हूं; मैं तेरी सारी प्रजा के साम्हने ऐसे अचम्भे करूंगा, जो न तो सारी पृथ्वी पर, और न किसी जाति में किए गए हैं; और जितने प्रजा के बीच तू है वे सब यहोवा के काम को देखेंगे; क्‍योंकि मैं तेरे साथ भयानक काम करूंगा।

11 जो आज्ञा मैं आज तुझे सुनाता हूं उन पर ध्यान देना; देख, मैं तेरे आगे से एमोरी, कनानी, हित्ती, परिज्जी, हिव्वी, और यबूसी को निकालता हूं।

12 अपक्की चौकसी करना, ऐसा न हो कि जिस देश में तू जाता है उसके निवासियोंसे वाचा बान्धे, ऐसा न हो कि वह तेरे बीच में फन्दा ठहरे;

13 परन्तु उनकी वेदियोंको नाश करना, और उनकी मूरतोंको तोड़ देना, और उनके अशेरोंको ढा देना;

14 क्‍योंकि किसी दूसरे देवता की उपासना न करना; क्योंकि यहोवा जिसका नाम यहोवा है, वह जलता हुआ परमेश्वर है।

15 ऐसा न हो कि तू उस देश के निवासियोंसे वाचा बान्धे, और वे अपके देवताओं के पीछे व्यभिचार करके अपके देवताओं के लिथे बलिदान करें, और कोई तुझे पुकारे, और तू उसके बलिदान में से कुछ खाए;

16 और उनकी बेटियोंमें से अपके पुत्रोंके लिथे ब्याह करना, और उनकी बेटियां अपके देवताओं के पीछे व्यभिचार करना, और अपके पुत्रोंको अपके देवताओं के पीछे व्यभिचार करना।

17 तू अपने को ढला हुआ देवता न बनाना।

18 अखमीरी रोटी का पर्व मानना। अबीब महीने के समय में मेरी आज्ञा के अनुसार सात दिन तक अखमीरी रोटी खाना; क्योंकि तू अबीब महीने में मिस्र से निकला था।

19 जो कुछ जाल को खोलता है वह सब मेरा है; और तेरे पशुओं में सब पहिलौठा, चाहे वह बैल हो, वा भेड़-बकरी, वह नर है।

20 परन्तु गदही के पहिलौठे को भेड़ का बच्चा देकर छुड़ाना; और यदि तू उसे न छुड़ाए, तो उसका गला तोड़ देना। अपने पुत्रों में से सब पहिलौठों को छुड़ाना। और कोई भी मेरे सामने खाली दिखाई न दे।

21 छ: दिन तो काम तो करना, परन्तु सातवें दिन विश्राम करना; कटाई के समय और कटनी के समय विश्राम करना।

22 और तुम हफ़्तों का पर्ब्ब अर्थात गेहूं की कटनी की पहिली उपज का पर्ब्ब, और वर्ष के अन्त में बटोरने का पर्ब्ब मानना।

23 वर्ष में तीन बार तेरे सब पुरूष इस्राएल के परमेश्वर यहोवा परमेश्वर के साम्हने उपस्थित होंगे।

24 क्योंकि मैं अन्यजातियोंको तेरे साम्हने से निकाल दूंगा, और तेरे सिवाने को बढ़ा दूंगा; और जब तू वर्ष में तीन बार अपके परमेश्वर यहोवा के साम्हने चढ़ाई करने को चढ़े, तब कोई तेरे देश का अभिलाषी न हो।

25 मेरे बलिदान के लोहू को खमीर समेत न चढ़ाना; और फसह के पर्व की बलि भोर तक न रहने दी जाए।

26 अपके देश की पहिली उपज अपके परमेश्वर यहोवा के भवन में ले आना। बालक को उसकी माता के दूध में न देखना।

27 तब यहोवा ने मूसा से कहा, ये बातें लिख ले; क्योंकि इन वचनों की अवधि के अनुसार मैं ने तुझ से और इस्राएल से वाचा बान्धी है।

28 और वह वहां यहोवा के पास चालीस दिन और चालीस रात रहा; उस ने न तो रोटी खाई, और न पानी पीया। और उस ने पटियाओं पर वाचा के वचन, अर्थात दस आज्ञाएं लिखीं।

29 और ऐसा हुआ, कि जब मूसा उन दोनों साझीपत्रोंके साथ मूसा के हाथ में सीनै पर्वत से उतरा, और पहाड़ से उतरा, तब मूसा ने नहीं देखा, कि उसके साथ बातें करते समय उसके चेहरे की त्वचा चमक उठी।

30 और जब हारून और सब इस्राएलियोंने मूसा को देखा, तब क्या देखा, कि उसके मुख का भाग चमकने लगा; और वे उसके पास आने से डरते थे।

31 और मूसा ने उन को पुकारा; और हारून और मण्डली के सब हाकिम उसके पास लौट आए; और मूसा ने उन से बातें की।

32 इसके बाद सब इस्राएली निकट आए; और जो कुछ यहोवा ने सीनै पर्वत पर उस से कहा या, वह सब उस ने उनको आज्ञा के अनुसार दिया।

33 और जब तक मूसा उन से बातें कर चुका, तब तक उस ने अपके मुंह पर परदा डाला।

34 परन्तु जब मूसा यहोवा से बातें करने को उसके साम्हने भीतर गया, तब उस ने परदे को तब तक उतार रखा, जब तक वह बाहर न आ गया। और वह निकलकर इस्राएलियों से जो आज्ञा दी गई थी, कहलाने लगा।

35 और इस्राएलियोंने मूसा के मुख का दर्शन किया, कि मूसा के मुख का भाग चमक उठा; और मूसा ने उस परदे को फिर अपके मुंह पर तब तक रखा, जब तक वह यहोवा से बातें करने को भीतर न गया।

अध्याय 35

सब्त - निवास के लिए मुफ्त उपहार - लोगों की पेशकश करने की तैयारी।

1 तब मूसा ने इस्राएलियोंकी सारी मण्डली को इकट्ठी करके उन से कहा, जो आज्ञा यहोवा ने दी है वे ये हैं, कि उन के अनुसार करना।

2 छ: दिन तो काम तो किया जाए, परन्तु सातवें दिन तुम्हारे लिथे एक पवित्र दिन और यहोवा के लिथे विश्राम का विश्राम दिन हो; जो कोई उसमें काम करे वह मार डाला जाए।

3 सब्त के दिन अपने अपने निवासोंमें आग न लगाना।

4 तब मूसा ने इस्राएलियोंकी सारी मण्डली से कहा, जिस बात की आज्ञा यहोवा ने दी है वह यह है,

5 अपके बीच में से यहोवा के लिथे भेंट ले लेना; जो कोई इच्छुक हो, वह यहोवा की भेंट ले आए; सोना, और चाँदी, और पीतल,

6 और नीले, बैंजनी, और लाल रंग का, और उत्तम मलमल, और बकरियोंके बाल,

7 और लाल रंग से रंगी हुई मेढ़ों की खालें, और बकरों की खालें, और बबूल की लकड़ी,

8 और ज्योति के लिथे तेल, और अभिषेक के तेल के लिथे सुगन्धद्रव्य, और सुगन्धित धूप के लिथे,

9 और एपोद और चपरास के लिथे सुलेमानी मणि, और मणि भी रखे जाएं।

10 और तुम में से हर एक बुद्धिमान आकर वह सब कुछ बनाओ जिसकी आज्ञा यहोवा ने दी है;

11 निवासस्थान, उसका डेरे, और ओढ़ना, उसके तंतु, और तख्ते, बेंड़े, और खम्भे, और कुर्सियां;

12 सन्दूक और उसके डंडे, और प्रायश्चित का आसन, और ओढ़ने का परदा;

13 मेज, और उसके डंडे, और उसके सब पात्र, और भेंट की रोटी;

14 दीवट, और दीवट, और उसका सामान, और दीपक, और ज्योति के तेल के लिथे;

15 और धूप की वेदी, और उसके डंडे, और अभिषेक का तेल, और सुगन्धित धूप, और निवास के द्वार पर का टांग;

16 होमबलि की वेदी, और पीतल की जाली, और डंडों, और सब पात्र समेत हौदी और उसका पांव;

17 आंगन के पर्दे, और उसके खम्भे, और कुर्सियां, और आंगन के द्वार का टांग;

18 निवास की सुइयां, और आंगन की सुइयां, और उनकी रस्सियां;

19 सेवा के वस्त्र, पवित्र स्थान में सेवा करने के लिए, और हारून याजक के पवित्र वस्त्र, और उसके पुत्रों के वस्त्र, जो याजक के कार्य में सेवा करने के लिए हैं।

20 और इस्राएलियों की सारी मण्डली मूसा के साम्हने से निकल गई।

21 और जितनोंके मन ने उसको उभारा, और जितनोंको उसकी आत्मा ने चाहा, वे आकर मिलापवाले तम्बू के काम, और उसकी सारी सेवा, और पवित्रा वस्त्रोंके लिथे यहोवा की भेंट ले आए।

22 और क्या पुरूष क्या स्त्रियां जितने अपक्की इच्छा से आए, वे आए, और कंगन, और बालियां, और अंगूठियां, और पटियाएं, और सब सोने के जेवर ले आए; और जितने मनुष्य चढ़ाए, वे यहोवा के लिथे सोने की भेंट चढ़ाए।

23 और जितने मनुष्य के पास नीले, बैंजनी, और लाल रंग का, और सूक्ष्म मलमल, और बकरियोंके बाल, और मेढ़ोंकी लाल खाल, और बिच्छू की खालें मिलीं, वे उन्हें ले आए।

24 जितनों ने चान्दी और पीतल की भेंट चढ़ाई, वे यहोवा की भेंट ले आए; और जिस किसी के पास उपासना के काम के लिथे लज्जा की लकड़ी पाई गई, वह उसे ले आया।

25 और सब स्त्रियां जो बुद्धिमान थीं, वे हाथ से कातने लगीं, और जो कुछ उन्होंने काते थे, वह नीले, और बैंजनी, और लाल रंग के, और सूक्ष्म मलमल के थे।

26 और जितनी स्त्रियां बुद्धि से उभारी थीं उन सभोंने बकरियोंके बाल काटे।

27 तब हाकिम एपोद और चपरास के लिथे गोमेद पत्यर, और स्थापन करने के लिथे मणि ले आए;

28 और ज्योति के लिथे मसाला, और तेल के लिथे, और अभिषेक के तेल के लिथे, और सुगन्धित धूप के लिथे।

29 इस्त्राएलियोंने यहोवा के लिथे अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपके लिथे अपके अपके मन से सब प्रकार के काम के ल‍िए जो करने की आज्ञा यहोवा ने मूसा के हाथ से करने की आज्ञा दी या।

30 तब मूसा ने इस्त्राएलियोंसे कहा, देख, यहोवा ने यहूदा के गोत्र में से ऊरी के पुत्र बसलील को, जो हूर का पोता, और बसलील कहलाया है;

31 और उस ने उसे बुद्धि, समझ, और ज्ञान, और सब प्रकार के कामोंमें परमेश्वर के आत्मा से भर दिया है;

32 और सोने, और चान्दी, और पीतल के काम करने के लिथे विचित्र काम युक्‍त करना,

33 और पत्यरों को काटने, और उन्हें लगाने, और लकड़ी तराशने में, जिस से किसी प्रकार की धूर्तता का काम हो।

34 और उस ने अपके मन में यह ठाना है, कि वह और दान के गोत्र के अहीसामाक के पुत्र अहोलियाब को भी शिक्षा दे।

35 उस ने खोदने वाले, और धूर्त, और कशीदाकारी करनेवाले, नीले, बैंजनी, लाल रंग के, और उत्तम मलमल, बुनकर, यहाँ तक कि उनमें से जो कोई काम करते हैं, और उनमें से जो चालाकी से काम करते हैं।

अध्याय 36

तम्बू का अलंकरण - खालों का आवरण।

1 तब बसलेल और अहोलीआब को, और उन सब बुद्धिमानोंको, जिन में यहोवा ने ऐसी बुद्धि और समझ दी हो कि पवित्रस्थान की सेवा के लिये सब प्रकार के काम करने का ज्ञान यहोवा की आज्ञा के अनुसार किया करें।

2 और मूसा ने बसलील और अहोलीआब को, और उन सब बुद्धिमानोंको, जिनके मन में यहोवा ने बुद्धि रखी या, वरन जिन सभोंके मन ने उस काम को करने के लिथे आने को उभारा उन्हें बुलवा भेजा;

3 और जो भेंट इस्त्राएलियोंने पवित्रस्यान की उपासना के काम के लिथे उसको सवा देने के लिथे लाई थी, वह सब उन्हें मूसा से मिली। और वे प्रतिदिन भोर को उसके पास नि:शुल्क भेंट लाते थे।

4 और जितने ज्ञानी पुरूष पवित्रस्यान का सारा काम गढ़ते थे, वे सब अपके अपके बनाए हुए काम से निकल आए;

5 और उन्होंने मूसा से कहा, जिस काम के करने की आज्ञा यहोवा ने दी है, उसके लिथे प्रजा आवश्यकता से अधिक ले आती है।

6 और मूसा ने यह आज्ञा दी, और उन्होंने सारी छावनी में इसका प्रचार कराया, कि पवित्रस्थान की भेंट के लिथे न तो पुरुष और न स्त्री फिर काम करें। इसलिए लोगों को लाने से रोक दिया गया।

7 क्‍योंकि जो सामान उनके पास था, वह सब बनाने के काम के लिथे, वरन बहुत अधिक था।

8 और उन में से जितने बुद्धिमान लोग निवास का काम करते थे, उन में से हर एक ने सुतली मलमल, और नीले, और बैंजनी, और लाल रंग के वस्त्रोंके दस परदे बनवाए; उस ने उन्हें धूर्त काम के करूबोंसे बनाया।

9 एक परदे की लम्बाई अट्ठाईस हाथ, और एक परदे की चौड़ाई चार हाथ की थी; परदे सभी एक ही आकार के थे।

10 और उस ने उन पांचोंपरदोंको आपस में जोड़ा; और अन्य पांच पर्दों को उस ने आपस में जोड़ा।

11 और उस ने जोड़ के बीचवाले सेवज में से एक परदे के सिरे पर नीले रंग की गांठें बनाईं; उसी प्रकार उस ने दूसरे परदे के सिरे में, दूसरे के जोड़ में भी बनाया।

12 उस ने एक परदे में पचास फेरियां बनाईं, और उस ने उस परदे के सिरे में जो दूसरे के जोड़ में था, पचास फेरियां बनाईं; छोरों ने एक परदा को दूसरे से पकड़ रखा था।

13 और उस ने पचास मनके सोना बनवाया, और पटोंको पटोंसे आपस में जोड़ा; सो वह एक तम्बू बन गया।

14 और उस ने निवास के ऊपर तम्बू के लिथे बकरियोंके बाल के पट बनवाए; ग्यारह परदे उस ने बनाए।

15 एक परदे की लम्बाई तीस हाथ, और एक परदे की चौड़ाई चार हाथ की या; ग्यारह परदे एक ही नाप के थे।

16 और उस ने पांच परदों को अलग, और छ: परदों को आपस में जोड़ा।

17 और उस ने कपकेले के परदे की छोर पर पचास लट्ठे बनाए, और उस परदे के सिरे पर जो दूसरे को जोड़े रखता है, पचास फावड़े बनवाए।

18 और उस ने तम्बू को जोडने के लिथे पचास तनके पीतल बनवाए, कि वह एक हो जाए।

19 और उस ने तम्बू के लिथे लाल रंग से रंगी हुई मेढ़ोंकी खालों का एक ओढ़ना, और उसके ऊपर बिज्जू की खालों का भी एक ओढ़ना बनाया।

20 और उस ने बबूल की लकड़ी के निवास के लिथे खड़े होकर तख्त बनवाए।

21 एक तख़्ते की लम्बाई दस हाथ और तख़्त की चौड़ाई डेढ़ हाथ की थी।

22 एक तख्ते के दो पटरे एक दूसरे से समान दूर थे; उसने निवास के सब तख्तों के लिये इस प्रकार बनवाया।

23 और उस ने निवास के लिथे तख्ते बनवाए; दक्खिन की ओर दक्षिण की ओर बीस तख्ते;

24 और उन बीस तख्तोंके नीचे उस ने चान्दी की चालीस कुसिर्यां बनाईं; उसके दो पटरे के लिथे एक तख्ते के नीचे दो कुर्सियां, और दूसरे तख्ते के तले उसके दो पटोंके लिथे दो कुर्सियां।

25 और निवास की दूसरी अलंग के लिथे जो उत्तर कोने की ओर है, उस ने बीस तख्ते बनाए,

26 और उनकी चालीस कुसिर्यां चान्दी की; एक बोर्ड के नीचे दो सॉकेट और दूसरे बोर्ड के नीचे दो सॉकेट।

27 और निवास की अलंगोंके लिथे पश्‍चिम की ओर उस ने छ: तख्ते बनाए।

28 और निवास के दोनों अलंगोंके कोनोंके लिथे उस ने दो तख्ते बनवाए।

29 और वे नीचे से एक दूसरे के सिरों पर एक दूसरे से गूंथकर एक ही अँगूठी से बंधी हुई थीं; इस प्रकार उसने उन दोनों के साथ दोनों कोनों में किया।

30 और आठ तख्ते थे; और उनकी कुर्सियाँ चांदी की सोलह कुर्सियाँ हैं, और एक एक तख्ते के नीचे दो दो कुर्सियाँ हैं।

31 और उस ने बबूल की लकड़ी के बेंड़े बनवाए; निवास की एक अलंग के तख्तों के लिथे पांच,

32 और निवास की दूसरी अलंग के तख्तोंके लिथे पांच बेंड़े, और निवास की अलंगोंके लिथे पच्छिम की अलंगोंके लिथे पांच बेंड़े।

33 और उस ने बीच के बेंत को तख़्तोंमें से एक सिरे से दूसरे सिरे तक मारने के लिथे बनवाया।

34 और उस ने तख्तोंको सोने से मढ़ा, और बेंड़ोंके लिथे उनके कड़े सोने के बनवाए, और बेंड़ोंको सोने से मढ़ा।

35 और उस ने नीले, बैंजनी, और लाल रंग के वस्त्रोंका एक परदा बनवाया; करूबों के द्वारा उसने उसे धूर्तता का काम कराया।

36 और उस ने उस में बबूल की लकड़ी के चार खम्भे बनवाकर उन्हें सोने से मढ़ा; उनकी घुंडियाँ सोने की थीं; और उस ने उनके लिथे चान्दी की चार कुसिर्यां डालीं।

37 और उस ने निवास के द्वार के लिथे नीले, बैंजनी, और लाल रंग के वस्त्र, और सुतली के काम के मलमल के सूक्ष्म सनी के कपड़े का एक पर्दा बनवाया;

38 और उसके पांच खम्भे और उनकी घुंडियां; और उस ने उनके गद्दोंऔर उनकी पट्टियोंको सोने से मढ़ा; परन्तु उनकी पाँच कुर्सियाँ पीतल की थीं।

अध्याय 37

तम्बू की साज-सज्जा।

1 और बसलील ने बबूल की लकड़ी का सन्दूक बनाया; उसकी लम्बाई ढाई हाथ, और चौड़ाई डेढ़ हाथ, और ऊंचाई डेढ़ हाथ की थी;

2 और उस ने उसको भीतर और बाहर चोखे सोने से मढ़ा, और उसके चारोंओर सोने का एक मुकुट बनाया।

3 और उस ने उसके लिथे सोने के चार कड़े ढालवाए, जो उसके चारोंकोनोंपर लगाए जाएं; और उसकी एक ओर दो कड़े, और दूसरी ओर दो कड़े।

4 और उस ने बबूल की लकड़ी के डंडे बनाए, और उन्हें सोने से मढ़ा;

5 और उस ने सन्दूक के उठाने के लिथे डंडोंको सन्दूक की दोनों अलंगोंके कड़ोंमें रखा;

6 और उसने प्रायश्चित के आसन को चोखे सोने का बनाया; उसकी लम्बाई ढाई हाथ और चौड़ाई डेढ़ हाथ की थी।

7 और उस ने प्रायश्चित्त के ढकने के दोनों सिरों पर सोने के दो करूब बनवाए, और एक टुकड़े में से पीटकर उन्हें भी बनवाया;

8 एक करूब इस ओर के सिरे पर, और दूसरा करूब इस ओर के छोर पर; उसने प्रायश्चित के आसन में से उसके दोनों सिरों पर करूबों को बनाया।

9 और करूबोंने अपने पंख ऊंचे पर फैलाए, और अपके अपके पंख प्रायश्चित्त के ढकने के ऊपर, और अपके मुख एक दूसरे से ढांपे; करूबों के मुख प्रायश्चित के आसन तक थे।

10 और उस ने बबूल की लकड़ी की मेज़ बनाई; उसकी लम्बाई दो हाथ, और चौड़ाई एक हाथ, और ऊंचाई डेढ़ हाथ की थी;

11 और उस ने उसको चोखे सोने से मढ़ा, और उसके चारोंओर सोने का एक मुकुट बनवाया।

12 फिर उस ने उसके चारोंओर चौखट का सिवाना बनाया; और उसके सिवाने के लिये चारोंओर सोने का मुकुट बनवाया।

13 और उस ने उसके लिथे सोने के चार कड़े ढले, और उन चारोंकोनोंपर जो उसके चारोंपाँवोंमें थे, लगा दिए।

14 सिवाने के साम्हने कडिय़ां थे, और डंडों के खाने के स्थान थे।

15 और उस ने डण्डोंको बबूल की लकड़ी के बनवाया, और उन्हें खाने के लिथे सोने से मढ़ा;

16 और जो पात्र मेज पर थे, और उसके पात्र, और चम्मच, और कटोरे, और ढकने के लिथे उसके ओढ़े चोखे सोने के बनवाए।

17 और उस ने दीवट को चोखे सोने का बनाया; पीटे गए काम ने उसे दीया बनाया; उसकी टहनी, और उसकी डाली, उसके कटोरे, गांठें, और उसके फूल एक ही के थे;

18 और उसकी अलंगों से छ: डालियां निकलीं; दीवट की एक ओर से तीन डालियां, और दूसरी ओर से दीवट की तीन डालियां;

19 एक डाली में बादाम की सी बनी हुई तीन कटोरियां, एक गांठ और एक फूल; और दूसरी डाल में बादाम के समान तीन कटोरे, एक गांठ और एक फूल; इसलिए दीवट से बाहर निकलने वाली छह शाखाओं में।

20 और दीवट में बादाम के समान चार कटोरियां, और उसकी गांठें, और उसके फूल थे;

21 और एक ही की दो डालियोंके नीचे एक गाँठ, और एक ही की दो डालियोंके नीचे एक गाँठ, और एक ही की दो डालियोंके नीचे एक गाँठ, जिस में से छ: डालियां निकलती हों।

22 उनकी गांठें और डालियां एक ही की बनीं; यह सब शुद्ध सोने का एक पीटा हुआ काम था।

23 और उस ने अपक्की सात मशालें, और अपने सुंघे, और अपक्की वस्‍तुएं चोखे सोने की बनाईं।

24 और उस ने उसको और उसके सब पात्रोंको एक किक्कार चोखा सोना बनाया।

25 और उस ने बबूल की लकड़ी की धूप वेदी बनाई; उसकी लम्बाई एक हाथ की थी; और उसकी चौड़ाई एक हाथ की; यह चौकोर था; और उसकी ऊंचाई दो हाथ की या; उसके सींग उसी के थे।

26 और उस ने उसको चोखे सोने से मढ़ा, और उसके ऊपर, और उसके चारोंओर की अलंग, और उसके सींगों को भी मढ़ा; और उसके लिये चारोंओर सोने का मुकुट बनवाया।

27 और उस ने उसके मुकुट के नीचे उसके दोनों ओर सोने के दो कड़े बनवाए, कि वे डंडोंके सहने के स्थान हों।

28 और उस ने बबूल की लकड़ी के डण्डे बनवाए, और उन्हें सोने से मढ़ा।

29 और उस ने अभिषेक के पवित्रा तेल, और सुगन्धित सुगन्धित सुगन्धित सुगन्धि को भस्म करनेवाले के काम के अनुसार बनाया।

अध्याय 38

तम्बू की साज-सज्जा।

1 और उस ने बबूल की लकड़ी की होमबलि की वेदी बनाई; उसकी लम्बाई पांच हाथ और चौड़ाई पांच हाथ की थी; यह चौकोर था; और उसकी ऊंचाई तीन हाथ।

2 और उस ने उसके चारों कोनों पर उसके सींग बनाए; उसके सींग उसी के थे; और उस ने उसको पीतल से मढ़ा।

3 और उस ने वेदी के सब पात्र, और हण्डियां, फावड़े, और हौदियां, और सूतियां, और धूपदानियां बनाईं; उसके सब पात्र पीतल के बने।

4 और उस ने वेदी के लिथे जाली का एक जालीदार जाली बनाया, जो उसके कंपास के नीचे, और नीचे उसके बीच तक बना रहे।

5 और उस ने पीतल की झंझरी के चारों सिरोंके लिथे चार कड़े ढाले, कि वे डंडोंके लिथे हों।

6 और उस ने डण्डोंको बबूल की लकड़ी के बनवाकर पीतल से मढ़ा।

7 और उस ने उन डंडोंको वेदी की अलंगोंके कड़ोंमें लगाया, कि वे वेदी के लिथे उठाए जाएं; उसने वेदी को तख्तों से खोखला कर दिया।

8 और उस ने हौदी को पीतल की, और उसके पांव पीतल के, और मण्डली की मिलापवाले तम्बू के द्वार पर इकट्ठी हुई स्त्रियोंके साम्हने शीशोंके बनवाए।

9 और उस ने आंगन बनाया; दक्खिन अलंग दक्खिन की ओर के आंगन के पर्दे सुतली से सने हुए मलमल के थे, जो सौ हाथ के थे;

10 उनके खम्भे बीस थे, और उनकी पीतल की बीस कुर्सियां; खम्भों की घुंडियां और उनकी छड़ियां चांदी की थीं।

11 और उत्तर अलंग की अलंग के लिथे सौ हाथ के थे, और उनके खम्भे बीस, और उनकी कुर्सियां पीतल की बीस हाथ की थीं; और खम्भों की घुंडियां, और उनकी छड़ियां चांदी की बनीं।

12 और पच्छिम की अलंग के लिथे पचास हाथ के पर्दे थे, और उनके खम्भे दस, और उनकी कुर्सियां दस; खम्भों की घुंडियां और उनकी छड़ें चांदी की।

13 और पूरब की ओर से पूर्व की ओर पचास हाथ।

14 फाटक की एक अलंग के पर्दे पन्द्रह हाथ के थे; उनके खम्भे तीन, और उनकी कुर्सियां तीन।

15 और आंगन के फाटक की दूसरी ओर की इस ओर और उस ओर भी पन्द्रह हाथ के पर्दे थे; उनके खम्भे तीन, और उनकी कुर्सियां तीन।

16 आंगन के चारोंओर के सब पर्दे सुतली के मलमल के बने थे।

17 और खम्भों की कुर्सियां पीतल की बनीं; खम्भों की घुंडियां और उनकी छड़ियां चांदी की; और उनके टुकड़े चांदी के मढ़े गए; और आंगन के सब खम्भे चान्दी से मढ़े गए।

18 और आंगन के फाटक के लिथे पर्दे के लिथे नीले, बैंजनी, और लाल रंग के, और सुतली के मलमल के बने हुए थे; और लम्बाई बीस हाथ की, और ऊंचाई चौड़ाई में पांच हाथ की या, और आंगन के पर्दे के साम्हने उत्तरदायी थे।

19 और उनके खम्भे चार थे, और उनकी कुर्सियां पीतल की थीं; और उनकी घुंडियां चान्दी की, और उनके टुकड़े चांदी से मढ़े गए।

20 और निवास की और चारोंओर के आंगन की सब खूंटी पीतल की बनीं।

21 और हारून याजक के पुत्र ईतामार के द्वारा लेवियोंकी सेवा के लिथे मूसा की उस आज्ञा के अनुसार गिने गए, अर्थात साझी निवास के निवास का कुल योग यह है;

22 और यहूदा के गोत्र में से हूर के पुत्र ऊरी के पुत्र बसलेल ने वह सब बनाया, जो यहोवा ने मूसा को दी थी।

23 और उसके संग दान के गोत्र में से अहीसामाक का पुत्र अहोलीआब था, जो खोदने वाला, और धूर्त कारीगर, और नीले, बैंजनी, और लाल रंग के और सूक्ष्म मलमल का कढ़ाई करने वाला था।

24 और जो सोना पवित्रस्यान के सब काम के काम के लिथे रखा हुआ या, अर्यात् भेंट का वह सोना पवित्रस्यान के शेकेल के अनुसार उनतीस किक्कार, और सात सौ तीस शेकेल का या।

25 और मण्डली के गिने हुए पुरूष पवित्रस्थान के शेकेल के अनुसार एक सौ किक्कार, और एक हजार सात सौ साठ पन्द्रह शेकेल थे;

26 बीस वर्ष वा उस से अधिक अवस्या के जितने पुरूष गिने गए, उनकी गिनती छ: लाख तीन हजार पांच सौ पचास पुरूष के लिथे पवित्रस्यान के शेकेल के अनुसार आधा शेकेल या, .

27 और पवित्रस्यान की कुसिर्यां, और परदे की कुसिर्यां सौ किक्कार चान्दी में से डाली गईं; सौ तोड़े की सौ कुर्सियाँ, और कुण्डली के बदले तोड़ा।

28 और उन हजार सात सौ पचहत्तर शेकेल में से उस ने खम्भोंके लिथे काँटे बनवाए, और उनके गढ़ोंको मढ़ा, और उन्हें पटाया।

29 और भेंट का पीतल सत्तर किक्कार, और दो हजार चार सौ शेकेल का था।

30 और उस ने मिलापवाले निवास के द्वार के लिथे कुर्सियां, और पीतल की वेदी, और उसके लिथे पीतल की जाली, और वेदी के सब पात्र बनवाए,

31 और आंगन के चारोंओर की कुर्सियां, और आंगन के फाटक की कुर्सियां, और निवास के सब खूंटे, और आंगन के चारोंओर के सब खूंटे।

अध्याय 39

सेवा के वस्त्र।

1 और उन्होंने नीले, बैंजनी, और लाल रंग के वस्त्रोंके लिथे पवित्रस्थान में सेवा टहल करने के लिथे उपासना के वस्त्र बनवाए, और हारून के लिथे पवित्रा वस्त्र बनवाए; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

2 और उस ने एपोद को सोने, और नीले, बैंजनी, और लाल रंग के, और सुसन्धित मलमल के सनी का बनाया।

3 और उन्होंने सोने को पीटकर पतली पटियाएं, और तारों में काटा, कि वह नीले, बैंजनी, और लाल रंग के, और सूक्ष्म मलमल में, और चालाकी के काम से गढ़ी जाए।

4 और उन्होंने उसके लिये कन्धे के टुकड़े किए, कि वे उसको जोड़ दें; दो किनारों से इसे एक साथ जोड़ा गया था।

5 और उसके एपोद का जो बाजू बान्धा हुआ पटिया उसके काम के अनुसार उसी का या; सोने, नीले, और बैंजनी, और लाल रंग का, और सुतली का मलमल का; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

6 और उन्होंने सुलेमानी मणियों को सोने के पात्र में गढ़ा, और वे खुदे हुए थे, जैसे चिन्ह खुदे हुए थे, और इस्त्राएलियोंके नाम लिखे हुए थे।

7 और उस ने उनको एपोद के कन्धोंपर रखा, कि वे इस्राएलियोंके लिथे स्मरण के लिथे पत्यर ठहरें; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

8 और उस ने चपरास को एपोद के काम के साम्हने धूर्तता के काम का बनाया; सोने, नीले, और बैंजनी, और लाल रंग के, और सुतली से बँधे हुए मलमल के।

9 वह चौकोर था; उन्होंने चपरास को दुगना कर दिया; उसकी लंबाई एक स्पैन की थी, और एक स्पैन उसकी चौड़ाई को दोगुना कर दिया गया था।

10 और उन्होंने उस में पत्यरोंकी चार कतारें लगाईं; पहली पंक्ति में एक सार्डियस, एक पुखराज और एक कार्बुनकल था; यह पहली पंक्ति थी।

11 और दूसरी पंक्ति में एक पन्ना, एक नीलम और एक हीरा है।

12 और तीसरी पंक्ति में एक संयुक्ताक्षर, और सुपारी, और एक नीलम।

13 और चौथी पंक्ति, एक बेरील, और गोमेद, और एक यशब; वे अपने बाड़ों में सोने के पाउच में बंद थे।

14 और इस्त्राएलियोंके नाम के अनुसार पत्यर, अर्थात् बारह गोत्रोंके अनुसार, उनके नाम के अनुसार बारह, और एक-एक चिन्ह की खुदाई हुई एक एक अपने नाम की खुदी हुई।

15 और उन्होंने चपरास के सिरोंपर चोखे सोने की जंजीरें बनाईं।

16 और उन्होंने सोने के दो कुएं, और सोने के दो कड़े बनवाए, और दोनों कडिय़ोंको चपरास के दोनों सिरोंमें धर दिया।

17 और उन्होंने सोने की दोनों जंजीरें पहनी हुई थीं, जो चपरास के दोनों सिरों पर लगी थीं।

18 और दोनों जंजीरों के दोनों सिरों को उन्होंने दोनों कुओं में बांधकर एपोद के कन्धों पर उसके साम्हने रखा।

19 और उन्होंने सोने के दो कड़े बनवाए, और चपरास के दोनों सिरोंपर उसके सिवाने पर, जो एपोद की भीतरी अलंग पर या, लगा दिया।

20 और उन्होंने सोने की दो और कड़ियां बनाईं, और एपोद के दोनों किनारों पर नीचे की ओर, उसके आगे के भाग पर, और उसके दूसरे जोड़ के साम्हने, एपोद की कटी हुई पटिया के ऊपर रख दीं।

21 और उन्होंने चपरास को उसकी कडिय़ोंके द्वारा एपोद की कडिय़ोंके साम्हने नीले रंग के फीते से बान्धा, कि वह एपोद की कुटिल कमर के ऊपर रहे, और चपरास एपोद पर से न छूटे; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

22 और उस ने एपोद का अंगरखा बुने हुए काम के लिथे सब नीले रंग का बनाया।

23 और चोगा के बीच में एक छेद था, जैसा छेद के छेद के समान होता था, और उस छेद के चारोंओर एक पट्टी होती थी, कि वह फटने न पाए।

24 और उन्होंने वस्त्र के शीर्षोंपर नीले, बैंजनी, और लाल रंग के अनार, और जुड़वा सनी के सनी के अनार बनाए।

25 और उन्होंने चोखे सोने की घंटियां बनाईं, और अनारोंके बीच की घंटियोंको बागे के सिरे पर, अर्यात् अनारोंके चारोंओर, लगा दिया;

26 बागे के सिरे के चारों ओर सेवा टहल करने के लिथे एक घंटी, और एक अनार, एक घंटी और एक अनार; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

27 और उन्होंने हारून और उसके पुत्रोंके लिथे बुने हुए मलमल के उत्तम मलमल के अंगरखे बनाए,

28 और महीन मलमल की एक मेड़, और उत्तम मलमल की अच्छी बोनट, और मलमल के मलमल की सनी की जांघिया,

29 और सूत के काम के मलमल, और नीले, और बैंजनी, और लाल रंग के सूत का एक पटिया; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

30 और उन्होंने पवित्र मुकुट का पट चोखे सोने का बनाया, और उस पर एक चिन्ह के समान एक लिखा हुआ लिखा, जो यहोवा के लिथे पवित्र है।

31 और उन्होंने उस में नीले रंग का एक फीता बान्धा, कि उसे चक्के पर ऊंचे पर बांधे; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

32 इस प्रकार मिलापवाले तम्बू के निवास का सब काम पूरा हुआ; और इस्त्राएलियोंने वह सब किया, जो यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी या, वैसा ही उन्होंने किया।

33 और वे निवासस्थान, और तम्बू, और उसका सब सामान, उसके तंतु, उसके तख्त, उसके बेंड़े, और उसके खम्भे, और उसकी कुर्सियां ले आए;

34 और लाल रंग से रंगी हुई मेढ़ों की खालों का ओढ़ना, और बिच्छुओं की खालों का ओढ़ना, और ओढ़न का परदा;

35 साझी का सन्दूक, और उसके डंडे, और प्रायश्चित का आसन;

36 मेज़, और उसके सब पात्र, और भेंट की रोटी;

37 दीवट, और दीवट, और दीवट, और दीवटें, और सब पात्र, और उजियाला देने का तेल;

38 और सोने की वेदी, और अभिषेक का तेल, और सुगन्धित धूप, और निवास के द्वार का टांग;

39 पीतल की वेदी, और पीतल की उसकी जाली, और उसके डंडे, और उसके सब पात्र, और हौदी और उसका पांव;

40 और मिलापवाले तम्बू के लिथे आंगन के पर्दे, और उसके खम्भे, और कुर्सियां, और आंगन के फाटक, उसकी रस्सियां, और खूंटे, और निवास की सेवा के सब पात्र;

41 पवित्र स्थान में उपासना के वस्त्र, और हारून याजक के पवित्रा वस्त्र, और उसके पुत्रोंके वस्त्र, जो याजक के पद पर सेवा टहल करने के लिथे हों।

42 जितनी जो आज्ञा यहोवा ने मूसा को दी उसी के अनुसार इस्राएलियोंने सब काम किया।

43 और मूसा ने सब काम पर दृष्टि करके देखा, कि उन्होंने यहोवा की आज्ञा के अनुसार किया, और वैसा ही किया; और मूसा ने उन्हें आशीर्वाद दिया।

अध्याय 40

तंबू पाला जाता है - एक बादल उसे ढँक लेता है।

1 और यहोवा ने मूसा से कहा,

2 पहिले महीने के पहिले दिन को मिलापवाले तम्बू के निवास को खड़ा करना।

3 और उस में साक्षीपत्र का सन्दूक रखना, और सन्दूक को परदे से ढक देना।

4 और मेज़ में ले जाकर जो वस्तुएं उस पर रखी जानी हैं उन्हें ठीक करना; और दीवट भीतर ले जाकर उसके दीपक जलाना।

5 और धूप के लिथे सोने की वेदी को साक्षीपत्र के सन्दूक के साम्हने रखना, और निवास के द्वार के पर्दे को लगाना।

6 और होमबलि की वेदी को मिलापवाले तम्बू के निवास के द्वार के साम्हने रखना।

7 और मिलापवाले तम्बू और वेदी के बीच हौदी को रखना, और उस में जल डालना।

8 और आंगन को चारोंओर खड़ा करना, और फाटक को आंगन के फाटक पर टांगना।

9 और अभिषेक के तेल को लेकर निवास और उसके सब कुछ का अभिषेक करना, और उसको और उसके सब पात्र को पवित्र करना; और वह पवित्र ठहरे।

10 और होमबलि की वेदी और उसके सब पात्र का अभिषेक करना, और वेदी को पवित्र करना; और वह वेदी परमपवित्रा ठहरे।

11 और हौदी और उसके पांव का अभिषेक करके उसे पवित्र करना।

12 और हारून और उसके पुत्रोंको मिलापवाले तम्बू के द्वार पर ले जाकर जल से धोना।

13 और हारून को पवित्रा वस्त्र पहिना कर उसका अभिषेक करना, और उसे पवित्र करना; कि वह याजक के पद पर मेरी सेवा टहल करे।

14 और उसके पुत्रोंको ले जाकर अंगरखे पहिनाना;

15 और जैसा तू ने उनके पिता का अभिषेक किया है वैसे ही उनका भी अभिषेक करना, कि वे याजक का काम मेरी सेवा करें, क्योंकि उनका अभिषेक उनकी पीढ़ी पीढ़ी में सदा का याजकपद बना रहेगा।

16 मूसा ने ऐसा ही किया; जितनी जो आज्ञा यहोवा ने उसको दी उसके अनुसार उस ने वैसा ही किया।

17 और दूसरे वर्ष के पहिले महीने के महीने के पहिले दिन को निवास खड़ा किया गया।

18 तब मूसा ने निवास को खड़ा किया, और अपक्की कुर्सियां बांधी, और तख़्तें खड़ी की, और बेंड़ोंमें धर दिया, और अपके खम्भोंको खड़ा किया।

19 और उस ने तम्बू को निवास के ऊपर फैला दिया, और उसके ऊपर तम्बू के ओढ़ने को लगा दिया; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

20 और उस ने साझी को लेकर सन्दूक में रखा, और डंडोंको सन्दूक पर रखा, और प्रायश्चित के आसन को सन्दूक के ऊपर रखा;

21 और वह सन्दूक को निवास में ले गया, और ओढ़ने के परदे को खड़ा किया, और साक्षीपत्र के सन्दूक को ढांप दिया; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

22 और उस ने मिलापवाले तम्बू में, निवास की उत्तर अलंग पर परदे के बाहर मेज़ को रखा।

23 और उस ने उस पर यहोवा के साम्हने रोटियां बनाकर रखीं; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

24 और उस ने मिलापवाले तम्बू में मेज़ के साम्हने निवास की दक्खिन ओर दीवट को रखा।

25 और उस ने यहोवा के साम्हने दीपक जलाए; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

26 और उस ने सोने की वेदी को मिलापवाले तम्बू में परदे के साम्हने रखा;

27 और उस ने उस में मीठी धूप जलाई; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

28 और उस ने निवास के द्वार पर फाँग को खड़ा किया।

29 और उस ने होमबलि की वेदी को मिलापवाले तम्बू के निवास के द्वार के पास रखा, और होमबलि और अन्नबलि को उस पर चढ़ाया; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

30 और उस ने मिलापवाले तम्बू और वेदी के बीच हौदी को रखा, और उस में जल से धोने को रखा।

31 और मूसा और हारून और उसके पुत्रोंने उस में अपके हाथ पांव धोए;

32 और जब वे मिलापवाले तम्बू में गए, और वेदी के निकट पहुंचे, तब वे धोए; जैसा यहोवा ने मूसा को आज्ञा दी थी।

33 और उस ने निवास और वेदी के चारोंओर आंगन को खड़ा किया, और आंगन के फाटक के पर्दे को खड़ा किया। इसलिए मूसा ने काम पूरा किया।

34 तब एक बादल ने मिलापवाले तम्बू को ढांप लिया, और यहोवा का तेज निवास में भर गया।

35 और मूसा मिलापवाले तम्बू में प्रवेश न कर सका, क्योंकि बादल उस पर बना रहा, और यहोवा का तेज निवास में भर गया।

36 और जब बादल निवास के ऊपर से उठा लिया गया, तब इस्राएली अपनी सारी यात्रा में आगे बढ़ते गए;

37 परन्तु यदि बादल न उठा लिया जाता, तो वे उस दिन तक न कूच करते, जब तक वह उठा न लिया जाता।

38 क्योंकि यहोवा का बादल दिन को निवास पर रहता या, और इस्त्राएल के सारे घराने की सारी यात्रा में रात को उस पर आग लगी रहती थी।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

scripture

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।