उत्पत्ति

उत्पत्ति

अध्याय 1

सृष्टि का इतिहास।

1 और ऐसा हुआ, कि प्रभु ने मूसा से कहा, देख, मैं तुम्हें इस आकाश और इस पृथ्वी के विषय में प्रकट करता हूं; मैं जो शब्द बोलता हूं उसे लिखो।

2 आदि और अन्त मैं ही हूं; सर्वशक्तिमान परमेश्वर। अपने द्वारा ही मैंने इन चीजों को बनाया है।

3 वरन आरम्भ में मैं ने आकाश और उस पृथ्वी को बनाया जिस पर तू खड़ा है।

4 और पृय्वी निराकार और शून्य थी; और मैं ने गहिरे देश पर अन्धेरा उत्पन्न किया।

5 और मेरी आत्मा जल के ऊपर उठी, क्योंकि मैं परमेश्वर हूं।

6 और मैं, परमेश्वर ने कहा, उजियाला हो, और उजियाला हो।

7 और मैं, परमेश्वर ने ज्योति को देखा, और वह प्रकाश अच्छा था। और मैं, परमेश्वर, ने प्रकाश को अन्धकार से अलग किया।

8 और मैं परमेश्वर ने उजियाले को दिन और अन्धकार को रात कहा। और यह मैं ने अपक्की सामर्थ के वचन के द्वारा किया; और जैसा मैंने कहा, वैसा ही किया गया। और शाम और सुबह पहले दिन थे।

9 और फिर, मैं, परमेश्वर ने कहा, जल के बीच में एक आकाश हो; और यह वैसा ही था, जैसा मैं बोल रहा था। और मैं ने कहा, वह जल को जल में से अलग कर दे; और यह किया गया था।

10 और मैं ने परमेश्वर ने आकाश को बनाया, और जल को बांट लिया; हां, आकाश के नीचे का बड़ा जल, जो आकाश के ऊपर के जल से निकला है; और यह वैसा ही था, जैसा मैं बोल रहा था।

11 और मैं, परमेश्वर, ने आकाश को स्वर्ग कहा। और शाम और सुबह दूसरे दिन थे।

12 और मैं, परमेश्वर ने कहा, आकाश के नीचे का जल एक स्थान पर इकट्ठा हो जाए; और ऐसा था। और मैं, परमेश्वर ने कहा, सूखी भूमि हो; और ऐसा था।

13 और मैं परमेश्वर ने सूखी भूमि को पृय्वी कहा; और जल के समूह ने मुझे समुद्र कहा।

14 और मैं परमेश्वर ने देखा, कि जो कुछ मैं ने बनाया है वह सब अच्छा है।

15 और मैं ने परमेश्वर से कहा, पृय्वी से घास उत्पन्न हो; जड़ी बूटी देने वाला बीज; फलदार वृक्ष अपनी जाति के अनुसार फल देता है; और फल देने वाला वृक्ष, जिसका बीज पृथ्वी पर अपने आप में होना चाहिए; और यह वैसा ही था, जैसा मैं बोल रहा था।

16 और पृय्वी से घास उत्पन्न हुई; हर एक जड़ी-बूटी जो अपनी जाति के अनुसार बीज देती है; और फल देने वाला वृक्ष, जिसका बीज अपनी जाति के अनुसार अपने आप में होना चाहिए।

17 और मैं परमेश्वर ने देखा, कि जो कुछ मैं ने बनाया है वह सब अच्छा है। और सांझ और भोर तीसरे दिन थे।

18 और मैं परमेश्वर ने कहा, दिन को रात से अलग करने के लिथे आकाश के अन्तर में ज्योतियां हों; और वे चिन्हों और समयों, और दिनों और वर्षों के लिए हों, और वे ज्योतियों के लिए आकाश के आकाश में, पृथ्वी पर प्रकाश देने के लिए हों; और ऐसा था।

19 और मैं परमेश्वर ने दो बड़ी ज्योतियां बनाईं; दिन पर शासन करने के लिए अधिक से अधिक प्रकाश, और रात पर शासन करने के लिए कम प्रकाश; और जितना बड़ा प्रकाश सूर्य था, और उतना ही कम प्रकाश चंद्रमा था।

20 और तारे भी मेरे वचन के अनुसार बनाए गए; और मैं, परमेश्वर ने उन्हें पृथ्वी पर प्रकाश देने के लिये स्वर्ग के आकाश में स्थापित किया है; और सूर्य दिन पर प्रभुता करेगा, और चन्द्रमा रात पर प्रभुता करेगा, और उजियाले को अन्धकार से अलग करेगा।

21 और मैं, परमेश्वर ने देखा, कि जो कुछ मैं ने बनाया था वह सब अच्छा था। और शाम और भोर चौथे दिन थे।

22 और मैं, परमेश्वर ने कहा, जल, जीवित प्राणी, और जीवित पक्षी, और पृथ्वी पर उड़नेवाले पक्षी, आकाश के खुले आकाश में बहुतायत से उत्पन्न हों।

23 और मैं ने, परमेश्वर ने, बड़ी बड़ी मछलियां, और सब रेंगनेवाले जन्तु उत्पन्न किए, जिन को जल अपनी जाति के अनुसार बहुतायत से उत्पन्न करता है; और हर एक पंख वाले पक्षी, अपनी जाति के अनुसार।

24 और मैं परमेश्वर ने देखा, कि जो कुछ मैं ने बनाया है वह सब अच्छा है; और मैं परमेश्वर ने उन्हें यह कहकर आशीष दी, कि फूलो-फलो, और समुद्र के जल में भर जाओ, और पक्षी पृथ्वी पर बहुत बढ़ जाएं। और साँझ और भोर पाँचवाँ दिन थे।

25 और मैं ने परमेश्वर से कहा, पृय्वी पर उसके जाति के अनुसार जीवित प्राणी उत्पन्न हो; गाय-बैल और रेंगनेवाले जन्तु, और पृय्वी के जन्तु अपनी जाति के अनुसार; और ऐसा था।

26 और मैं परमेश्वर ने पृय्वी के पशुओं को उनकी जाति के अनुसार बनाया; और उनकी तरह के बाद मवेशी; और जो कुछ पृथ्वी पर रेंगता है, उसकी जाति के अनुसार। और मैं, परमेश्वर ने देखा, कि ये सब बातें अच्छी हैं।

27 और मैं परमेश्वर ने अपके एकलौते से कहा, जो आरम्भ से मेरे संग था, हम मनुष्य को अपके स्वरूप के अनुसार अपके स्वरूप के अनुसार बनाएं; और ऐसा था।

28 और मैं, परमेश्वर ने कहा, वे समुद्र की मछलियों, और आकाश के पक्षियों, और घरेलू पशुओं, और सारी पृय्वी पर, और सब रेंगनेवाले जन्तुओं पर जो पृय्वी पर रेंगते हैं, प्रभुता करें।

29 और मैं ने, परमेश्वर ने मनुष्य को अपके ही स्वरूप के अनुसार उत्पन्न किया, अपने ही स्वरूप के अनुसार मैं ने उसको उत्पन्न किया; नर और नारी ने मुझे बनाया।

30 और मैं परमेश्वर ने उन्हें आशीष दी, और उन से कहा, फूलो-फलो, और बढ़ो, और पृय्वी में भर जाओ, और उसको अपने वश में कर लो; और समुद्र की मछलियों, और आकाश के पक्षियों, और पृय्वी पर रेंगनेवाले सब जन्तुओं पर अधिकार रखो।

31 और मैं, परमेश्वर ने मनुष्य से कहा, देख, मैं ने हर एक जड़ी-बूटी का बीज दिया है, जो सारी पृय्वी पर व्याप्त है; और जिस जिस वृक्ष में बीज हों, वह सब किसी वृक्ष का फल हो; तुम्हारे लिये वह मांस के लिये होगा।

32 और पृय्वी के सब पशुओं, और आकाश के सब पक्की, और पृय्वी पर रेंगनेवाले जन्तुओं को, जिन में मैं जीवन देता हूं, उन सभोंको मांस के लिथे सब शुद्ध घास दी जाए; और यह वैसा ही था, जैसा मैं बोल रहा था।

33 और मैं ने परमेश्वर ने जो कुछ बनाया, वह सब देखा, और क्या देखा, कि जो कुछ मैं ने बनाया है वह सब बहुत अच्छा है। और साँझ और भोर छठा दिन था।

अध्याय 2

सृष्टि का इतिहास जारी रहा - विवाह की स्थापना - विश्राम का दिन।

1 इस प्रकार आकाश और पृय्वी और उनकी सारी सेना समाप्त हो गई।

2 और सातवें दिन मैं परमेश्वर ने अपना काम और सब कुछ जो मैं ने बनाया था, समाप्त कर दिया; और सातवें दिन मैं ने अपके सब कामोंसे विश्राम किया; और जो कुछ मैं ने बनाया था वह सब पूरा हो गया। और मैं, परमेश्वर, ने देखा कि वे अच्छे थे।

3 और मैं परमेश्वर ने सातवें दिन को आशीष दी, और उसे पवित्र किया, क्योंकि उस में मैं ने अपके सब कामोंसे विश्राम किया, जिन्हें मैं परमेश्वर ने रचा और बनाया था।

4 और अब देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि आकाश और पृय्वी की ये ही पीढ़ियां हैं, जिस दिन मैं यहोवा परमेश्वर ने आकाश और पृय्वी, और मैदान के सब पौधे बनाए, पहिले वह पृय्वी पर और मैदान की सब जडी-बूटी उसके बढ़ने से पहिले होती;

5 क्योंकि मैं यहोवा परमेश्वर ने उन सब वस्तुओं की सृष्टि की, जिनकी चर्चा मैं ने आत्मिक रीति से की है, पहिले कि वे स्वाभाविक रूप से पृय्वी पर उत्पन्न हुई थीं; क्योंकि मैं यहोवा परमेश्वर ने पृय्वी पर वर्षा नहीं कराई थी।

6 और मैं, परमेश्वर यहोवा ने सब मनुष्योंको उत्पन्न किया, परन्तु अब तक मनुष्य को भूमि जोतने के लिये नहीं बनाया, क्योंकि मैं ने उन्हें स्वर्ग में ही उत्पन्न किया, और न तो पृथ्वी पर मांस था, न जल में, और न ही भूमि में। हवा;

7 परन्तु मैं, परमेश्वर यहोवा, ने कहा, और पृय्वी पर कोहरा छा गया, और सारी भूमि पर सींचा।

8 और मैं यहोवा परमेश्वर ने मनुष्य को भूमि की मिट्टी से रचा, और उसके नथनोंमें जीवन का श्वास फूंक दिया; और मनुष्य एक जीवित आत्मा बन गया; पृथ्वी पर पहिला मांस, पहिला मनुष्य भी;

9 तौभी सब वस्तुएं पहिले सृजी गईं, परन्‍तु आत्मिक रूप से मेरे वचन के अनुसार सृजी गईं और बनाई गईं।

10 और मैं यहोवा परमेश्वर ने पूर्व की ओर अदन में एक वाटिका लगाई; और वहां मैं ने उस पुरूष को रखा जिसे मैं ने रचा था।

11 और मैं ने यहोवा परमेश्वर को भूमि में से हर एक वृक्ष को जो मनुष्य की दृष्टि में मनभावन है, उगा दिया, और मनुष्य उसे देखता, और वह जीवता भी बन गया; क्योंकि जिस दिन मैं ने उसे बनाया, उस दिन वह आत्मिक था; क्योंकि यह उस क्षेत्र में रहता है जिसमें मैं, परमेश्वर ने इसे बनाया है; हां, यहां तक कि वे सभी चीजें जिन्हें मैंने मनुष्य के उपयोग के लिए तैयार किया था; और मनुष्य ने देखा कि वह खाने में अच्छा है।

12 और मैं यहोवा परमेश्वर ने जीवन का वृक्ष भी बाटिका के बीच में लगाया; और भले और बुरे के ज्ञान का वृक्ष भी।

13 और मैं, यहोवा परमेश्वर, ने अदन से एक नदी निकलकर उस वाटिका को सींचा; और वहां से वह अलग हो गया, और उसके चार सिर हो गए।

14 और मैं यहोवा परमेश्वर ने पहिले पिसन का नाम रखा, और उस ने हवीला के सारे देश को घेर लिया है, जहां मैं यहोवा ने बहुत सोना बनाया है; और उस देश का सोना अच्छा था, और वहां बडेलियम, और गोमेद भी था।

15 और दूसरी नदी का नाम गीहोन रखा गया, जो कूश के सारे देश को घेरे हुए है।

16 और तीसरी नदी का नाम हिद्देकेल है, जो अश्शूर के पूर्व की ओर जाती है।

17 और चौथी नदी फरात थी।

18 और मैं यहोवा परमेश्वर ने उस मनुष्य को लेकर अदन की बारी में रख दिया, कि उसके वस्त्र पहिनें, और उसकी रक्षा करें।

19 और मैं यहोवा परमेश्वर ने उस मनुष्य को यह आज्ञा दी, कि बारी के सब वृक्षोंका फल तू बेझिझक खा सकता है;

20 परन्तु भले या बुरे के ज्ञान के जो वृक्ष का वृक्ष है, उसका फल न खाना;

21 तौभी तू अपके लिथे चुन ले, क्योंकि वह तुझे दिया गया है; लेकिन याद रखना कि मैंने इसे मना किया है;

22 क्योंकि जिस दिन तू उसका फल खाए उसी दिन निश्चय मर जाएगा।

23 और मैं, परमेश्वर यहोवा, ने अपके एकलौते पुत्र से कहा, कि मनुष्य का अकेला रहना अच्छा नहीं;

24 इसलिथे मैं उसके लिथे सहायता भेंट करूंगा।

25 और मैं यहोवा परमेश्वर ने भूमि में से मैदान के सब पशु, और आकाश के सब पक्की उत्पन्न किए; और आज्ञा दी कि वे आदम के पास आकर देखें कि वह उन्हें क्या बुलाएगा।

26 और वे भी जीवित प्राणी थे; क्योंकि मैं परमेश्वर ने उन में जीवन का श्वास फूंका, और आज्ञा दी, कि जो कुछ आदम सब जीवित प्राणियोंको कहे, वही उसका नाम हो।

27 और आदम ने सब पशुओं, और आकाश के पक्षियों, और सब पशुओं के नाम रखे; परन्तु आदम के लिथे कोई सहायक न मिला।

28 और मैं यहोवा परमेश्वर ने आदम को गहरी नींद दिलाई, और वह सो गया, और मैं ने उसकी एक पसली लेकर उसके बदले मांस को बन्द कर दिया; और जिस पसली को मैं यहोवा परमेश्वर ने पुरूष से ले लिया या, उस ने मुझे स्त्री बना कर पुरूष के पास ले आया।

29 तब आदम ने कहा, मैं अब यह जानता हूं, कि यह मेरी हड्डियोंमें की हड्डी, और मेरे मांस में का मांस है। वह स्त्री कहलाएगी, क्योंकि वह पुरूष में से निकाली गई है।

30 इस कारण पुरूष अपके माता पिता को छोड़कर अपक्की पत्नी से मिला रहेगा; और वे एक तन हों।

31 और वे पुरूष और उसकी पत्नी दोनों नंगे थे, और लज्जित न हुए।

अध्याय 3

शैतान का विद्रोह - मनुष्य की एजेंसी, प्रलोभन और पतन।

1 और मैं, परमेश्वर यहोवा, ने मूसा से कहा, कि जिस शैतान को तू ने मेरे इकलौते जन्म के नाम से आज्ञा दी है, वह वही है जो आरम्भ से था;

2 और वह मेरे साम्हने आकर कहने लगा, सुन, मैं तेरा पुत्र हूंगा, और मैं सब मनुष्योंको छुड़ाऊंगा, ऐसा न हो कि एक प्राण खो जाए, वरन मैं वह करूंगा; इसलिए, मुझे अपना सम्मान दो।

3 परन्तु देखो, मेरे प्रिय पुत्र, जो मेरा प्रिय था और आरम्भ से ही चुना हुआ था, ने मुझ से कहा: पिता, तेरी इच्छा पूरी हो, और तेरी महिमा सदा बनी रहे ।

4 इस कारण, कि शैतान ने मुझ से बलवा किया, और मनुष्य के उस दल को नाश करना चाहा, जिसे मैं, यहोवा परमेश्वर ने उसको दिया था; और यह भी कि मैं उसे अपना अधिकार दे दूं; अपने ही बल से मैं ने उत्पन्न किया, कि वह गिरा दिया जाए; और वह शैतान बन गया।

5 हां, यहां तक कि सब झूठों का पिता, शैतान, और अन्धे लोगों को धोखा देने के लिए, और उनकी इच्छा पर उन्हें बंदी बनाने के लिए, यहां तक कि बहुत से लोगों ने मेरी आवाज नहीं सुनी ।

6 और अब, सर्प मैदान के किसी भी पशु से अधिक सूक्ष्म था, जिसे मैं, प्रभु परमेश्वर ने बनाया था ।

7 और शैतान ने उसे सांप के मन में डाल दिया, क्योंकि उस ने बहुतोंको अपके पीछे खींच लिया था; और उसने हव्वा को बहकाने का भी प्रयास किया, क्योंकि वह परमेश्वर का मन नहीं जानता था; इसलिए, उसने दुनिया को नष्ट करने की कोशिश की।

8 उस ने स्त्री से कहा, हां, परमेश्वर ने कहा है, कि बाटिका के सब वृक्षोंमें से कुछ न खाना। और वह सांप के मुंह से बोला।

9 और उस स्त्री ने सांप से कहा, हम बाटिका के वृक्षोंके फल खा सकते हैं; परन्तु उस वृक्ष के फल के विषय में जो तू ने बाटिका के बीच में देखा है, परमेश्वर ने कहा है, कि उसका फल न खाना, और न छूना, ऐसा न हो कि मर जाओ।

10 और सर्प ने स्त्री से कहा, तुम निश्चय न मरोगी; क्योंकि परमेश्वर जानता है, कि जिस दिन तुम उसका फल खाओगे, उसी दिन तुम्हारी आंखें खुल जाएंगी, और तुम भले बुरे का ज्ञान पाकर देवताओं के समान हो जाओगे।

11 और जब उस स्त्री ने देखा, कि वह वृक्ष खाने में अच्छा, और देखने में मनभाऊ, और बुद्धि देने के लिये चाहने योग्य भी है, तब उस ने उसका फल तोड़कर खाया; और उसके साथ उसके पति को भी दिया, और उस ने खाया।

12 और उन दोनोंकी आंखें खुल गईं, और वे जान गए, कि वे नंगे हैं; और उन्होंने अंजीर के पत्तों को आपस में सिल लिया, और अपके पटटे बनाए।

13 और जब वे दिन के ठण्डे समय में बाटिका में टहल रहे थे, तब उन्होंने परमेश्वर यहोवा का शब्द सुना।

14 और आदम और उसकी पत्नी उस वाटिका के वृक्षोंके बीच परमेश्वर यहोवा के साम्हने छिपने को गए।

15 और मैं यहोवा परमेश्वर ने आदम को बुलाकर उस से कहा, तू कहां जाता है? उस ने कहा, मैं ने बाटिका में तेरा शब्द सुना, और डर गया, क्योंकि मैं ने देखा, कि मैं नंगा हूं, और छिप गया।

16 और मैं यहोवा परमेश्वर ने आदम से कहा, तुझ से किसने कहा कि तू नंगा है? क्या तू ने उस वृक्ष में से कुछ खाया है जिसकी मैं ने तुझे आज्ञा दी थी कि तू न खाना, यदि ऐसा है तो निश्चय ही मर जाना?

17 उस पुरूष ने कहा, जिस स्त्री को तू ने मुझे दिया है, और मेरे संग रहने की आज्ञा दी है, उस ने उस वृक्ष के फल में से मुझे दिया, और मैं ने खाया।

18 और मैं यहोवा परमेश्वर ने उस स्त्री से कहा, यह क्या काम है जो तू ने किया है?

19 और उस स्त्री ने कहा, सांप ने मुझे बहकाया, और मैं ने खाया।

20 और मैं यहोवा परमेश्वर ने सर्प से कहा, तू ने ऐसा किया है, इसलिये तू सब पशुओं, और सब पशुओं से अधिक शापित होगा; अपके पेट के बल चलना, और जीवन भर मिट्टी ही खाते रहना;

21 और मैं तेरे और इस स्त्री के बीच में बैर उत्पन्न करूंगा; तेरे बीज और उसके बीज के बीच; और वह तेरे सिर को डसेगा, और तू उसकी एड़ी को डसेगा।

22 उस स्त्री से, मैं यहोवा परमेश्वर ने कहा, मैं तेरे दु:ख और तेरे गर्भ को बहुत बढ़ाऊंगा; तू दु:ख में सन्तान उत्‍पन्‍न करेगा, और तेरा अभिलाषा अपके पति पर होगी, और वह तुझ पर प्रभुता करेगा।

23 और आदम से, मैं, परमेश्वर यहोवा, ने कहा, क्योंकि तू ने अपक्की पत्नी की बात मानी है, और उस वृक्ष का फल जिसे मैं ने तुझे आज्ञा दी है, खा लिया है, कि तू उस में से न खाना, शापित है तेरे निमित्त भूमि होगी; तू उस में से जीवन भर दु:ख में खाया करना;

24 वह तेरे लिये काँटे और खड़खड़ियाँ भी निकालेगा; और मैदान की जडी-बूटी खा लेना;

25 तू अपके मुंह के पसीने से रोटी खाया करना, जब तक कि तू भूमि पर फिर न मिल जाए, क्योंकि तू निश्चय मर जाएगा; क्योंकि उस में से तू ले लिया गया है, क्योंकि मिट्टी को तू ने उजाड़ दिया है, और फिर मिट्टी में मिल जाएगा।

26 और आदम ने अपनी पत्नी का नाम हव्वा रखा, क्योंकि वह सब प्राणियोंकी माता थी; क्‍योंकि मैं ने, जो परमेश्वर यहोवा है, सब स्त्रियां जो बहुत हैं, उन में पहिले को बुलाया है।

27 क्या मैं ने आदम और उसकी पत्नी के लिये भी, यहोवा परमेश्वर ने खालों के अंगरखे बनाकर उन्हें पहिना दिए।

28 और मैं, परमेश्वर यहोवा, ने अपके एकलौते से कहा, देखो, मनुष्य भले बुरे का ज्ञान पाने के लिथे हम में से एक के समान हो गया है; और अब, ऐसा न हो कि वह हाथ बढ़ाकर जीवन के वृक्ष का भागी हो, और खाकर सदा जीवित रहे;

29 इसलिथे मैं यहोवा परमेश्वर उसको अदन की बारी में से निकालकर उस भूमि पर भेज दूंगा जहां से वह उठा लिया गया था;

30 क्योंकि जैसे मैं यहोवा परमेश्वर जीवित हूं, वैसे ही मेरे वचन व्यर्थ नहीं हो सकते, क्योंकि जब वे मेरे मुंह से निकलते हैं, तो अवश्य ही पूरी होनी चाहिए।

31 तब मैं ने उस पुरूष को निकाल दिया, और अदन की बारी के पूर्व की ओर करूब, और एक धधकती हुई तलवार, जो जीवन के वृक्ष के मार्ग की रक्षा करने के लिथे चारों ओर मुड़ती थी, रख दी।

32 (और जो बातें मैं ने अपके दास मूसा से कही थीं वे ये हैं, और वे मेरी इच्छा के अनुसार सत्य हैं।

33 और मैं ने उन्हें तुम से कहा है । जब तक मैं तुझे आज्ञा न दूँ, तब तक उन्हें किसी को न दिखाना, सिवाय उनके जो विश्वास करते हैं।) आमीन।

अध्याय 4

आदम से पैदा हुए बेटे और बेटियाँ — बलिदान की भेंट — छुटकारे की घोषणा — शैतान मनुष्य को परमेश्वर से अलग कर देता है।

1 और ऐसा हुआ, कि जब मैं, परमेश्वर यहोवा, ने उन्हें निकाल दिया, तब आदम पृय्वी पर जोतने लगा, और मैदान के सब पशुओं पर प्रभुता करने लगा, और अपके पसीने से अपनी रोटी खाने लगा। जैसे मैं ने यहोवा की आज्ञा के अनुसार उस को दी थी, वैसे ही उसकी पत्नी हव्वा ने भी उसके साथ परिश्र्म किया।

2 और आदम अपक्की पत्नी को जानता या, और उस से उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई, और वे बढ़ने लगे, और पृय्वी में भर जाने लगे।

3 उस समय से आदम के बेटे-बेटियां देश में, और भूमि में जोतने, और भेड़-बकरियां चराने के लिथे बांटने लगे; और उनके भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुईं।

4 और आदम ने यहोवा से, और हव्वा को भी, जो उसकी पत्नी है, दोहाई दी; और उन्होंने यहोवा का शब्द अदन की बारी के मार्ग से उन से बातें करते सुना, और उन्होंने उसे न देखा; क्योंकि वे उसके साम्हने से बन्द थे।

5 और उस ने उनको आज्ञा दी, कि वे अपके परमेश्वर यहोवा की उपासना करें; और अपक्की भेड़-बकरियोंके पहिलौठोंको यहोवा के लिथे भेंट के लिथे चढ़ाए।

6 और आदम यहोवा की आज्ञाओं का आज्ञाकारी रहा । और बहुत दिनों के बाद, यहोवा का एक दूत आदम को दिखाई दिया, और कहा, तू यहोवा को बलिदान क्यों चढ़ाता है? और आदम ने उस से कहा, मैं नहीं जानता, केवल यहोवा ने मुझे आज्ञा दी है।

7 तब स्वर्गदूत ने कहा, यह बात पिता के एकलौते के बलिदान की समानता है, जो अनुग्रह और सच्चाई से भरपूर है;

8 इस कारण जो कुछ तू करे वह पुत्र के नाम से करना । और तू मन फिराएगा, और परमेश्वर को पुत्र के नाम से युगानुयुग पुकारते रहेंगे।

9 और उस दिन, पवित्र आत्मा आदम पर उतरा, जो पिता और पुत्र का अभिलेख रखता है, और कहता है, मैं ही आदि से, अब से और युगानुयुग पिता का एकलौता पुत्र हूं; कि जैसे तू गिर गया है, वैसे ही तू छुड़ाया जाए, और सारी मनुष्यता, यहां तक कि जितने चाहें उतने छुड़ाए जाएं।

10 और उस दिन आदम ने परमेश्वर को आशीष दी, और तृप्त हुआ, और पृय्वी के सब कुलोंके विषय में भविष्यद्वाणी करने लगा; कहा, परमेश्वर का नाम धन्य है, क्योंकि मेरे अपराध के कारण मेरी आंखें खुल गई हैं, और मैं इस जीवन में आनन्दित रहूंगा, और शरीर में फिर से परमेश्वर को देखूंगा।

11 और उसकी पत्नी हव्वा ने ये सब बातें सुनीं, और यह कहकर आनन्दित हुईं, कि यदि हम का अपराध न होता, तो हम न तो बीज रखते, और न भले बुरे को, और हमारे छुटकारे के आनन्द का, और अनन्तकाल का, कभी न जान पाते जीवन जो परमेश्वर सभी आज्ञाकारी को देता है।

12 और आदम और हव्वा ने परमेश्वर के नाम पर आशीष दी; और उन्होंने अपके बेटे-बेटियोंको सब बातें बता दीं।

13 और शैतान उन के बीच में आकर कहने लगा, मैं भी परमेश्वर का पुत्र हूं, और उस ने उन्हें आज्ञा दी, कि विश्वास न करो। और उन्होंने यह नहीं माना; और वे परमेश्वर से अधिक शैतान से प्रेम करते थे। और उस समय से मनुष्य कामुक, कामुक और शैतानी होने लगे।

अध्याय 5

शैतान मनुष्य को परमेश्वर से अलग करता है — उद्धार का उपदेश दिया — कैन और हाबिल का जन्म — गुप्त संयोग — हाबिल मारा गया, कैन शापित — लेमेक की पत्नियों द्वारा प्रकट किए गए रहस्य — पृथ्वी शापित।

1 और यहोवा परमेश्वर ने सब स्थानोंमें पवित्र आत्मा के द्वारा मनुष्योंको बुलाया, और उन्हें आज्ञा दी, कि मन फिराओ;

2 और जितने पुत्र पर विश्वास करते थे, और अपने पापों से मन फिराते थे, वे उद्धार पाएं। और जितने लोगों ने विश्वास नहीं किया, और पश्चाताप नहीं किया, उन्हें शापित होना चाहिए। और वचन परमेश्वर के मुंह से एक दृढ़ आदेश के रूप में निकले थे, इसलिए उन्हें पूरा होना चाहिए।

3 और आदम ने परमेश्वर को पुकारना न छोड़ा; और हव्वा भी उसकी पत्नी।

4 और आदम अपक्की पत्नी हव्वा को जानता या, और वह गर्भवती हुई और कैन को जन्म दिया, और कहा, मुझे यहोवा से एक पुरूष मिला है; इसलिए वह अपने शब्दों को अस्वीकार नहीं कर सकता है। पर कैन ने भी यह न माना, कि यहोवा कौन है, कि मैं उसे जानूं?

5 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके भाई हाबिल को जन्म दिया। और हाबिल ने यहोवा की बात सुनी। और हाबिल तो भेड़ों का चरवाहा था, परन्तु कैन भूमि जोतने वाला था।

6 और कैन परमेश्वर से अधिक शैतान से प्रेम करता था। और शैतान ने उसे यह आज्ञा दी, कि यहोवा के लिथे भेंट चढ़ा। और समय के बीतने पर कैन भूमि की उपज में से यहोवा के लिथे भेंट ले आया।

7 और हाबिल अपक्की भेड़-बकरियोंके पहिलौठोंमें से, और उनकी चरबी में से भी ले आया; और यहोवा ने हाबिल और उसकी भेंट का तो आदर किया, परन्तु कैन और उसकी भेंट का उस ने आदर नहीं किया।

8 अब शैतान यह जान गया, और इस से वह प्रसन्न हुआ। और कैन बहुत क्रोधित हुआ, और उसका चेहरा गिर गया।

9 और यहोवा ने कैन से कहा, तू क्यों क्रोधित है? तेरा मुख क्यों गिरा है? यदि तू भला करे, तो ग्रहण किया जाएगा, और यदि तू भला न करे, तो पाप द्वार पर पड़ा रहता है; और शैतान तुझे पाना चाहता है, और यदि तू मेरी आज्ञाओं को न माने, तो मैं तुझे पकड़वा दूंगा, और वह तेरी इच्छा के अनुसार तुझे मिलेगा; और तू उस पर प्रभुता करेगा, क्योंकि अब से तू उसके झूठ का पिता होगा।

10 तू विनाश कहलाएगा, क्योंकि तू भी जगत के साम्हने था, और आनेवाले समय में कहा जाएगा, कि ये घिनौने काम कैन की ओर से हुए थे, क्योंकि उस ने उस बड़ी युक्ति को जो परमेश्वर की ओर से दी गई थी, तुच्छ जाना; और यह एक शाप है जो मैं तुझ पर डालूंगा, सिवाय इसके कि तू मन फिराए।

11 और कैन का क्रोध भड़क उठा, और उसने फिर यहोवा की बात न मानी, और न अपने भाई हाबिल की, जो यहोवा के साम्हने पवित्रता से चलता या।

12 और आदम और उसकी पत्नी ने भी कैन और उसके भाइयोंके कारण यहोवा के साम्हने विलाप किया।

13 और ऐसा हुआ कि कैन ने अपने भाई की एक बेटी को ब्याह लिया, और वे शैतान को परमेश्वर से अधिक प्रेम करने लगे।

14 और शैतान ने कैन से कहा, अपके कंठ की शपय खाकर मुझ से शपय खा, और यदि तू कहे, तो तू मर जाएगा; और अपके भाइयोंके सिर और जीवते परमेश्वर की शपय खाओ, कि वे कुछ न कहें; क्योंकि यदि वे कहें तो निश्चय मर जाएंगे; और यह कि तेरा पिता यह न जान सके; और आज के दिन मैं तेरे भाई हाबिल को तेरे हाथ में कर दूंगा।

15 और शैतान ने कैन की शपय खाई, कि वह उसकी आज्ञा के अनुसार करेगा। और ये सब काम गुपचुप तरीके से किए गए।

16 और कैन ने कहा, सचमुच मैं महान हूं, जो इस बड़े भेद का स्वामी हूं, कि हत्या करूं और लाभ पाऊं। इसलिए कैन को मास्टर महान कहा गया; और उस ने अपक्की दुष्टता पर बड़ाई की।

17 और कैन मैदान में गया, और कैन ने अपके भाई हाबिल से बातें की; और ऐसा हुआ कि जब वे मैदान में थे, तब कैन ने अपके भाई हाबिल पर चढ़ाई करके उसे घात किया।

18 और कैन ने अपने किए हुए कामोंकी बड़ाई करके कहा, मैं स्वतंत्र हूं; निश्चय मेरे भाई की भेड़-बकरियां मेरे हाथ में पड़ जाएंगी।

19 और यहोवा ने कैन से कहा, तेरा भाई हाबिल कहां है? उस ने कहा, मैं नहीं जानता, क्या मैं अपके भाई का रखवाला हूं?

20 और यहोवा ने कहा, तू ने क्या किया है? तेरे भाई के लोहू का शब्द भूमि पर से मेरी दोहाई देता है।

21 और अब तू उस पृथ्वी पर से शापित होगा जिस ने तेरे भाई का लोहू तेरे हाथ से लेने के लिथे अपना मुंह खोला है।

22 जब तू भूमि को जोतेगा, तब से वह तुझ को अपना बल न देने पाएगी; तू पृथ्वी पर भगोड़ा और आवारा होगा।

23 कैन ने यहोवा से कहा, मेरे भाई की भेड़-बकरियोंके कारण शैतान ने मेरी परीक्षा की; और मैं भी क्रोधित हुआ, क्योंकि उस की भेंट को तू ने ग्रहण किया, परन्तु मेरी नहीं।

24 मेरा दण्ड जितना मैं सह सकता हूँ उससे कहीं अधिक है। देख, तू ने आज के दिन मुझे यहोवा के साम्हने से निकाल दिया है, और मैं तेरे साम्हने से छिपा रहूंगा; और मैं पृय्वी पर भगोड़ा और आवारा ठहरूंगा; और ऐसा होगा कि जो कोई मुझे पाएगा वह मेरे अधर्म के कामोंके कारण मुझे घात करेगा, क्योंकि ये बातें यहोवा से छिपी नहीं हैं।

25 और मैं यहोवा ने उस से कहा, जो कोई तुझे घात करे, उस से सात गुणा पलटा लिया जाएगा; और मैं यहोवा ने कैन पर एक चिन्ह लगाया, ऐसा न हो कि कोई उसे पाकर मार डाले।

26 और कैन यहोवा के साम्हने से बन्द कर दिया गया, और अपक्की पत्नी और बहुत से भाइयोंके संग नोद नाम देश में, जो अदन के पूर्व की ओर है, रहने लगा।

27 और कैन अपक्की पत्नी को जानता या, और वह गर्भवती हुई और उसके हनोक उत्पन्न हुआ, और उसके और भी बहुत से बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और उस ने एक नगर बनाया, और उस ने अपके पुत्र हनोक के नाम पर उस नगर का नाम रखा।

28 और हनोक से ईराद और और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुईं, और ईराद से महूयाएल और और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुईं।

29 और महूयाएल से मतूशाएल और और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुईं। और मतूसुएल से लेमेक उत्पन्न हुआ।

30 और लेमेक ने दो स्त्रियां ब्याह लीं, एक का नाम आदा, और दूसरी का नाम जिल्ला।

31 और आदा से याबाल उत्पन्न हुआ; वह उन लोगों का पिता था जो तम्बुओं में रहते थे, और वे पशुपालक थे; और उसके भाई का नाम यूबाल था, जो वीणा बजानेवालोंके सब का पिता या।

32 और सिल्‍लाह से तूबल कैन भी उत्‍पन्न हुआ, जो पीतल और लोहे के सब कारीगरोंका सिखाने वाला या; और तूबल कैन की बहन का नाम नामा था।

33 तब लेमेक ने अपक्की पत्नियोंसे कहा, हे आदा और सिल्ला, हे लेमेक की पत्नियों, मेरा शब्द सुनो; मेरी बात पर कान लगा, क्योंकि मैं ने अपके घायल होने के लिथे एक पुरूष को, और अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की जवानी को मार डाला है।

34 यदि कैन का सात गुणा पलटा लिया जाएगा, तो लेमेक का पलटा सत्तर गुणा होगा।

35 क्योंकि, लेमेक ने कैन की रीति के अनुसार शैतान के साथ वाचा बान्धी, जिसमें वह महान महान, उस महान रहस्य का स्वामी बना, जिसे शैतान ने कैन को दिया था;

36 और हनोक का पुत्र ईराद उन का भेद जान कर आदम की सन्तान पर प्रगट करने लगा; इसलिए, लेमेक ने क्रोधित होकर, लाभ पाने के लिए उसे अपने भाई हाबिल की तरह नहीं मार डाला; परन्तु उस ने शपय के निमित्त उसको घात किया;

37 क्योंकि कैन के दिनों से एक गुप्त मेल होता था, और उनके काम अन्धेरे में होते थे, और वे अपने अपने भाई को पहचानते थे।

38 इस कारण यहोवा ने लेमेक और उसके घराने को, और उन सब को, जिन्होंने शैतान के साथ वाचा बान्धी थी, शाप दिया; क्योंकि उन्होंने परमेश्वर की आज्ञाओं को नहीं माना। और उस ने परमेश्वर को अप्रसन्न किया, और उस ने उन की सेवा न की।

39 और उनके काम घिनौने थे, और सब मनुष्योंमें फैलने लगे। और यह पुरुषों के पुत्रों में से था।

40 और मनुष्योंकी बेटियोंमें से ये बातें न कही गईं; क्योंकि लेमेक ने यह भेद अपक्की पत्नियोंसे कहा था, और उन्होंने उस से बलवा किया, और इन बातोंका प्रचार किया, और उन पर तरस न खाया।

41 इस कारण लेमेक तुच्छ जाना गया, और निकाल दिया गया, और मनुष्योंके बीच में न आया, ऐसा न हो कि वह मर जाए।

42 और इस प्रकार सब मनुष्यों पर अन्धकार के काम प्रबल होने लगे।

43 और परमेश्वर ने पृय्वी को घोर शाप दिया, और उन सब मनुष्योंसे, जिन्हें उस ने बनाया या, दुष्टोंसे क्रोधित हुआ, क्योंकि उन्होंने उसकी न सुनी, और न उसके एकलौते पुत्र पर, यहां तक कि उस पर भी, जिसे वह घोषित समय के मध्याह्न में आना चाहिए; जो जगत की उत्पत्ति के पहिले से तैयार किया गया था।

44 और इस प्रकार परमेश्वर की उपस्थिति से भेजे गए पवित्र स्वर्गदूतों द्वारा घोषित किए जाने के बाद, शुरू से ही सुसमाचार का प्रचार किया जाने लगा; और अपनी ही आवाज से, और पवित्र आत्मा के वरदान से।

45 और इस प्रकार एक पवित्र विधि के द्वारा आदम के लिए सब कुछ पक्का हो गया; और सुसमाचार प्रचार किया; और एक आज्ञा भेजी गई, कि वह जगत में उसके अन्त तक रहे; और इस प्रकार यह था। तथास्तु।

अध्याय 6

आदम लोगों को पश्चाताप करने की चेतावनी देता है - सेठ का जन्म होता है - पौरोहित्य दिखाया जाता है - पीढ़ियों की पुस्तक रखी जाती है - शैतान का प्रभुत्व होता है - हनोक के लिए भगवान का वादा - हनोक का दर्शन - उसका उपदेश।

1 तब आदम ने परमेश्वर की बात मानकर अपके पुत्रोंको मन फिराने को कहा।

2 और आदम अपक्की पत्नी को फिर जान गया, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ, और उस ने उसका नाम शेत रखा।

3 और आदम ने परमेश्वर के नाम की बड़ाई की, क्योंकि उस ने कहा, परमेश्वर ने मेरे लिये हाबिल के स्थान पर जिसे कैन ने घात किया, दूसरा वंश ठहराया है।

4 और परमेश्वर ने अपने आप को शेत पर प्रगट किया, और उस ने बलवा न किया, वरन अपके भाई हाबिल के समान मनभावने बलिदान चढ़ाए। और उसके एक पुत्र भी उत्पन्न हुआ, और उस ने उसका नाम एनोस रखा।

5 तब वे लोग यहोवा से प्रार्थना करने लगे; और यहोवा ने उन्हें आशीष दी; और स्मरण की एक पुस्तक उस में रखी गई, जो आदम की भाषा में लिखी गई थी, क्योंकि यह उन लोगों को दी गई थी, जिन्हें प्रेरणा की आत्मा से लिखने के लिए परमेश्वर को बुलाया गया था;

6 और उनके द्वारा उनके बालकोंको पढ़ना-लिखना सिखाया गया, और उनकी भाषा शुद्ध और निर्मल थी।

7 अब वही याजकपद जो आदि में था, जगत के अन्त में भी होगा।

8 अब यह भविष्यवाणी आदम ने पवित्र आत्मा के द्वारा प्रेरित होकर की थी।

9 और परमेश्वर की सन्तान की एक वंशावली रखी गई। और आदम की पीढ़ियों की यह पुस्तक यह थी, कि जिस दिन परमेश्वर ने मनुष्य को उत्पन्न किया, (उस ने परमेश्वर की समानता के अनुसार उसे बनाया), उसी दिन नर और नारी करके उस ने उन्हें उत्पन्न किया, और उन्हें आशीष दी , और उनका नाम आदम रखा, जिस दिन वे बनाए गए थे, और जीवित प्राणी बन गए, देश में, भगवान के चरणों की चौकी पर।

10 और आदम एक सौ तीस वर्ष जीवित रहा, और उसके अपने स्वरूप के अनुसार एक पुत्र उत्पन्न हुआ, और उसका नाम शेत रखा गया।

11 और शेत के जन्म के पश्चात् आदम की अवस्या आठ सौ वर्ष की हुई। और उसके बहुत से बेटे और बेटियां उत्पन्न हुई। और आदम की कुल अवस्या नौ सौ तीस वर्ष की हुई; और वह मर गया।

12 और शेत एक सौ पांच वर्ष जीवित रहा, और एनोस को उत्‍पन्‍न किया, और उसके जीवन भर नबूवत करता रहा, और अपके पुत्र एनोस को परमेश्वर के मार्ग की शिक्षा देता रहा। इसलिए एनोस ने भी भविष्यवाणी की थी। और एनोस के जन्म के पश्चात्‌ शेत आठ सौ सात वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बहुत से बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।

13 और पूरे देश में मनुष्योंकी संख्या बहुत अधिक थी। और उन दिनों में, शैतान का मनुष्यों में बड़ा प्रभुत्व था, और उनके मन में क्रोध करता था; और उसके बाद से युद्ध और रक्तपात हुआ।

14 और एक मनुष्य का हाथ अपके ही भाई के विरुद्ध हुआ, कि वह गुप्त कामोंके कारण, जो सामर्थ की खोज में थे, मार डाला। और शेत की कुल अवस्या नौ सौ बारह वर्ष की हुई; और वह मर गया।

15 और एनोस नब्बे वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा केनान उत्पन्न हुआ। और एनोस और परमेश्वर की प्रजा के बचे हुए लोग शूलोन नाम के देश से निकलकर प्रतिज्ञा के देश में रहने लगे, जिसे उस ने अपके पुत्र के नाम पर, जिसका नाम उस ने केनान रखा या, रहने लगा।

16 और केनान के जन्म के पश्चात्‌ एनोस आठ सौ पंद्रह वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बहुत से बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और एनोस की कुल अवस्या नौ सौ पांच वर्ष की हुई; और वह मर गया।

17 और केनान सत्तर वर्ष का हुआ, और उससे महललेल उत्पन्न हुआ।

18 और महललेल के जन्म के पश्चात्‌ केनान आठ सौ चालीस वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और केनान की कुल अवस्या नौ सौ दस वर्ष की हुई; और वह मर गया।

19 और महललेल पैंसठ वर्ष का हुआ, और उससे येरेद उत्पन्न हुआ।

20 और येरेद के जन्म के पश्चात् महललेल आठ सौ तीस वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और महललेल की कुल अवस्या आठ सौ पंचानवे वर्ष की हुई; और वह मर गया।

21 और येरेद एक सौ बासठ वर्ष जीवित रहा, और उसके द्वारा हनोक उत्पन्न हुआ।

22 और हनोक के जन्म के पश्चात् येरेद आठ सौ वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और येरेद ने हनोक को परमेश्वर के सब मार्ग सिखाए।

23 और आदम की सन्तान की वंशावली यह है, जो परमेश्वर का पुत्र था, और जिस से परमेश्वर आप ही बातें करता या।

24 और वे धर्म के प्रचारक थे, और बोलते और भविष्यद्वाणी करते थे, और सब जगह के सब मनुष्योंको मन फिराने को कहते थे। और पुरुषों के बच्चों को विश्वास सिखाया गया था।

25 और येरेद की कुल अवस्या नौ सौ बासठ वर्ष की हुई; और वह मर गया।

26 और हनोक पैंसठ वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा मतूशेलह उत्पन्न हुआ। और ऐसा हुआ कि हनोक लोगों के बीच प्रदेश में चला गया; और जब उस ने कूच किया, तब परमेश्वर का आत्मा स्वर्ग से उतरा, और उस पर निवास किया;

27 और उस ने स्वर्ग से यह शब्द सुना, कि हे मेरे पुत्र, हनोक, इन लोगोंसे भविष्यद्वाणी करके उन से कह, मन फिराओ, क्योंकि यहोवा योंकहता है, कि मैं इस प्रजा पर क्रोधित हूं, और मेरा कोप उन पर भड़का है; क्योंकि उनके मन कठोर हो गए हैं, और उनके कान सुनने से मूढ़ हो गए हैं, और उनकी आंखें दूर से नहीं देख सकतीं।

28 और जब से मैं ने इनकी सृष्टि की है, तब से ये बहुत पीढ़ी के लोग भटक गए हैं, और मेरा इन्कार किया है, और अन्धेरे में अपक्की युक्ति ढूंढ़ते रहे हैं; और उन्होंने अपके घिनौने कामोंमें हत्या की युक्ति की है, और जो आज्ञाएं मैं ने उनके पिता आदम को दी थीं उनको नहीं माना।

29 इस कारण उन्होंने अपके आप को त्याग दिया है, और अपक्की शपय के द्वारा अपने आप को मार डाला है ।

30 और यदि वे मन फिरा न करें, तो मैं ने उनके लिथे नरक तैयार किया है;

31 और जो आज्ञा मैं ने जगत के आदि में अपके ही मुंह से, और उसकी नेव से, यह आज्ञा दी है; और मैं ने अपके दासोंके द्वारा तेरे पुरखाओं को यह आज्ञा दी है; जैसा कि यह दुनिया में भेजा जाएगा, इसके अंत तक।

32 जब हनोक ने ये बातें सुनीं, तब यहोवा के साम्हने भूमि पर दण्डवत् किया, और यहोवा के साम्हने कहने लगा, कि मुझ पर तेरी कृपा का कारण क्या है, और मैं बालक और सारी प्रजा हूं। मुझ से बैर, क्योंकि मैं बोलने में धीमा हूँ; मैं तेरा दास क्यों हूँ?

33 और यहोवा ने हनोक से कहा, निकल जा, और जैसा मैं ने तुझे आज्ञा दी है वैसा ही कर, और कोई तुझे बेध न करेगा।

34 अपना मुंह खोल, तो वह भर जाएगा, और मैं तुझे वचन दूंगा; क्योंकि सब प्राणी मेरे हाथ में है, और जैसा मुझे अच्छा लगेगा वैसा ही करूंगा।

35 इन लोगों से कहो, आज के दिन चुन लो कि तुम यहोवा परमेश्वर की उपासना करो जिस ने तुम्हें बनाया है।

36 देख, मेरा आत्मा तुझ पर है; इस कारण मैं तेरे सब वचनों को धर्मी ठहराऊंगा, और पहाड़ तेरे साम्हने से भाग जाएंगे, और नदियां अपने मार्ग से फिर जाएंगी; और तू मुझ में बना रहेगा, और मैं तुझ में; इसलिए मेरे साथ चलो।

37 तब यहोवा ने हनोक से कहा, अपक्की आंखोंका मिट्टी से अभिषेक कर, और उन्हें धो, तब तू देख सकेगा; और उसने ऐसा किया।

38 और उसने उन आत्माओं को देखा जिन्हें परमेश्वर ने बनाया था, और उन चीजों को भी देखा जो प्राकृतिक आंखों से दिखाई नहीं दे रही थीं; और उसके बाद से देश में यह कहावत फैल गई, कि यहोवा ने अपक्की प्रजा के लिथे एक दर्शी को जिलाया है।

39 और ऐसा हुआ, कि हनोक देश में, लोगोंके बीच, पहाड़ोंपर, और ऊंचे स्थानोंपर खड़ा हुआ, और ऊंचे शब्द से चिल्लाया, और उनके कामोंके विरुद्ध गवाही दी।

40 और सब मनुष्य उसके कारण क्रोधित हुए; और वे ऊंचे स्थानों पर उसकी सुनने को निकले, और डेरे के रखवालों से कहने लगे, कि तुम यहीं ठहरो, और जब हम उस दर्शी को देखने को जाएं, तब डेरे की रखवाली करो, क्योंकि वह भविष्यद्वाणी करता है; और देश में एक विचित्र बात है, हमारे बीच एक जंगली मनुष्य आ गया है।

41 और ऐसा हुआ कि जब उन्होंने उसकी बात सुनी, तब किसी ने उस पर हाथ न रखा, क्योंकि जितने उसके सुनते थे, उन सब पर भय छा गया, क्योंकि वह परमेश्वर के साथ चलता था।

42 और उसके पास महिय्याह नाम एक पुरूष आया, और उस से कहा, हम को स्पष्ट बता, कि तू कौन है, और कहां से आता है।

43 उस ने उन से कहा, मैं अपके पुरखाओं के देश केनान से निकलकर आज तक धार्मिकता का देश निकला हूं; और मेरे पिता ने मुझे परमेश्वर के सभी मार्गों में सिखाया।

44 और जब मैं केनान देश से पूर्व की ओर समुद्र के किनारे कूच किया, तो मुझे एक दर्शन दिखाई दिया; और देखो, जो आकाश मैं ने देखा, और यहोवा ने मुझ से बातें की, और मुझे आज्ञा दी; इसलिए इस कारण से, आज्ञा का पालन करने के लिए, मैं ये शब्द कहता हूं ।

45 और हनोक ने अपनी बात जारी रखी, और कहा, यहोवा जिस ने मुझ से बातें की, वही स्वर्ग का परमेश्वर है, और वही मेरा परमेश्वर और तुम्हारा परमेश्वर है, और तुम मेरे भाई हो; और तुम क्यों सम्मति करते हो, और स्वर्ग के परमेश्वर का इन्कार करते हो?

46 जो आकाश उस ने बनाया है; पृय्वी उसके चरणों की चौकी है, और उसकी नेव उसकी है; देखो, उस ने उसे रखा, और उसके ऊपर बहुत से मनुष्योंको ले आया है।

47 और हमारे पुरखाओं पर मृत्यु आ पड़ी है; फिर भी, हम उन्हें जानते हैं, और इनकार नहीं कर सकते, और यहां तक कि सबसे पहले हम जानते हैं, यहां तक कि आदम को भी; हम ने स्मरण की एक पुस्तक के लिथे परमेश्वर की उँगली के नमूने के अनुसार हमारे बीच में लिखा है; और यह हमारी अपनी भाषा में दिया गया है।

48 और जब हनोक ने परमेश्वर का वचन सुनाया, तब लोग कांपने लगे और उसके साम्हने खड़े न रह सके।

49 उस ने उन से कहा, कि आदम के गिरने के कारण हम हैं; और उसके गिरने से मृत्यु आई, और हम विपत्ति और हाय के सहभागी हो गए।

50 देखो, शैतान मनुष्यों के बीच में आकर उन्हें अपनी उपासना करने की परीक्षा में पड़ा है; और मनुष्य शारीरिक, कामुक, और शैतानी हो गए हैं, और परमेश्वर के साम्हने से दूर हो गए हैं।

51 परन्तु परमेश्वर ने हमारे पुरखाओं पर प्रगट किया है, कि सब मनुष्योंको मन फिराओ।

52 और उस ने हमारे पिता आदम को अपके ही शब्द से पुकारकर कहा, कि मैं परमेश्वर हूं; मैंने संसार को और मनुष्यों को उनके शरीर में होने से पहले बनाया।

53 और उस ने उस से यह भी कहा, यदि तू चाहे, तो मेरी ओर फिरकर मेरी सुन, और विश्वास कर, और अपके सब अपराधोंसे मन फिरा, और मेरे एकलौते पुत्र के नाम से जल से बपतिस्मा ले जो अनुग्रह और सच्चाई से भरा हुआ, जो कि यीशु मसीह है, एकमात्र नाम जो स्वर्ग के नीचे दिया जाएगा, जिसके द्वारा मनुष्यों के बच्चों के लिए उद्धार आएगा; और तुम पवित्र आत्मा का वरदान पाओगे, और सब कुछ उसके नाम से मांगोगे, और जो कुछ तुम मांगोगे वह तुम्हें दिया जाएगा।

54 और हमारे पिता आदम ने यहोवा से कहा, मनुष्य को मन फिराकर जल का बपतिस्मा क्यों लेना चाहिए?

55 और यहोवा ने आदम से कहा, देख, मैं ने अदन की बारी में तेरा अपराध क्षमा किया है।

56 इसलिथे परदेश में यह कहा गया, कि परमेश्वर के पुत्र ने मूल अपराध का प्रायश्चित्त किया है, जिस में माता-पिता के पापोंका उत्तर बालकोंके सिर पर नहीं दिया जा सकता, क्योंकि वे जगत की उत्पत्ति से ही चंगे हैं।

57 और यहोवा ने आदम से कहा, जब तेरी सन्तान पाप के गर्भ में पड़ी है, तब जब वे बड़े होने लगेंगे, तब उनके मन में पाप का गर्भ होगा, और वे कड़वा स्वाद चखेंगे, कि भले ही वे भलाई करना जान सकें।

58 और उन्हें बुराई में से भलाई जानने की दी गई है; इसलिए, वे स्वयं के एजेंट हैं।

59 और मैं ने तुम्हें एक और व्यवस्था और आज्ञा दी है; इसलिए अपने बच्चों को यह शिक्षा दो, कि सब मनुष्यों को, हर जगह, पश्चाताप करना चाहिए, या वे किसी भी तरह से परमेश्वर के राज्य के वारिस नहीं हो सकते ।

60 क्योंकि कोई अशुद्ध वस्तु वहां नहीं रह सकती, और न उसके साम्हने निवास कर सकती है; क्योंकि, आदम की भाषा में, उसका नाम परम पावन है; और उसके एकलौते का नाम मनुष्य का पुत्र है, यहां तक कि यीशु मसीह, एक धर्मी न्यायी, जो समय के मध्य में आएगा।

61 इसलिथे मैं तुम को यह आज्ञा देता हूं, कि तुम अपके बालकोंको ये बातें खुलकर सिखाओ, कि अपराध के कारण गिरना, और गिरने से मृत्यु आती है; और जितना जल और लोहू, और उस आत्मा के द्वारा जो मैं ने बनाया है, जगत में तुम उत्पन्न हुए, और इस प्रकार मिट्टी से जीवित प्राणी बन गए;

62 वैसे ही तुम्हें स्वर्ग के राज्य में, जल और आत्मा के राज्य में नया जन्म लेना चाहिए, और लोहू के द्वारा शुद्ध किया जाना चाहिए, यहां तक कि मेरे एकलौते के लोहू से भी; कि तुम सब पापों से पवित्र किए जाओ; और इस संसार में अनन्त जीवन के वचनों का, और आने वाले जगत में अनन्त जीवन का आनन्द लो; अमर महिमा भी।

63 क्योंकि तुम जल के द्वारा आज्ञा मानते हो; आत्मा के द्वारा तुम धर्मी ठहरे हो; और लोहू के द्वारा तुम पवित्र किए जाते हो।

64 इसलिथे तुझे दिया गया है, कि स्वर्ग का लेखा, और शान्ति देनेवाला, अमर महिमा की शान्तिमय वस्तुएं, सब वस्तुओं का सत्य, जो सब वस्तुओं को जिलाने से सब कुछ जीवित करता है, और जो सब कुछ जानता है, और उसके पास है बुद्धि, दया, सच्चाई, न्याय और न्याय के अनुसार सारी शक्ति।

65 और अब, देखो, मैं तुम से कहता हूं, कि मेरे इकलौते जन्म के लहू के द्वारा, जो समय के मध्य में आनेवाले हैं, सब मनुष्योंके लिथे उद्धार की योजना यह है ।

66 और देखो, सब वस्तुएं अपनी समानता में हैं; और सब वस्‍तुएं सृजी गईं और मेरे विषय में लिखी गई हैं; दोनों चीजें जो अस्थायी हैं, और जो चीजें आध्यात्मिक हैं; जो चीजें ऊपर के आकाश में हैं, और जो चीजें पृथ्वी पर हैं, और जो चीजें पृथ्वी पर हैं, और जो चीजें ऊपर और नीचे पृथ्वी के नीचे हैं, वे सभी चीजें मेरे पास हैं।

67 और ऐसा हुआ कि जब यहोवा ने हमारे पिता आदम से बातें की, तब आदम ने यहोवा की दोहाई दी, और वह प्रभु के आत्मा के द्वारा पकड़ लिया गया, और जल में ले जाया गया, और जल के नीचे रखा गया , और जल में से निकाला गया; और इस प्रकार उसने बपतिस्मा लिया।

68 और परमेश्वर का आत्मा उस पर उतरा, और इस प्रकार वह आत्मा से उत्पन्न हुआ, और भीतर के मनुष्य में जिलाया गया।

69 और उस ने स्वर्ग से यह शब्द सुना, कि तू ने आग और पवित्र आत्मा से बपतिस्मा लिया है; यह पिता और पुत्र का इतिहास है, अब से और हमेशा के लिए;

70 और तू उसी की रीति पर है, जो अनादि दिनोंसे और न वर्षों के अन्त से, और न अनादिकाल से लेकर युगानुयुग तक रहा।

71 देख, तू मुझ में एक है, और परमेश्वर का पुत्र है; और इस प्रकार सब मेरे पुत्र बनें। तथास्तु।

अध्याय 7

हनोक की भविष्यवाणी, उसका उपदेश - स्वर्ग रोता है - बाकी ने पृथ्वी का वादा किया - सिय्योन भाग गया - मतूशेलह में वाचा जारी रही।

1 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने अपनी बात जारी रखी, कि देखो, हमारे पिता आदम ने ये बातें सिखाईं, और बहुतों ने विश्वास किया, और परमेश्वर के पुत्र बने; और बहुतों ने विश्वास नहीं किया, और अपने पापों के कारण नष्ट हो गए हैं, और डर के मारे तड़पते हुए देख रहे हैं, कि परमेश्वर का कोप उन पर भड़केगा।

2 उस समय से हनोक लोगों से यह भविष्यद्वाणी करने लगा, कि जब मैं यात्रा कर रहा या, और महुजा के स्थान पर खड़ा होकर यहोवा की दोहाई दी, तब स्वर्ग से यह शब्द निकला, कि तुम मुड़ो और शिमोन पर्वत पर चढ़ जाओ।

3 और ऐसा हुआ, कि मैं मुड़कर पहाड़ पर चढ़ गया; और जब मैं पर्वत पर खड़ा हुआ, तो मैं ने आकाश को खुला हुआ देखा, और मैं महिमा से ओढ़े हुए था।

4 और मैं ने यहोवा को देखा, और वह मेरे साम्हने खड़ा रहा, और जिस प्रकार मनुष्य आपस में आमने-सामने बातें करता है, वैसे ही वह मुझ से बातें करता रहा; और उस ने मुझ से कहा, देख, मैं जगत को युग युग की पीढ़ी तक तुझे दिखाता रहूंगा।

5 और ऐसा हुआ, कि मैं ने शूम की तराई में देखा, और देखो! एक महान लोग जो तंबुओं में रहते थे, जो शूम के लोग थे।

6 फिर यहोवा ने मुझ से कहा, देख, मैं ने उत्तर की ओर दृष्टि करके केनानियोंको जो तंबू में रहते थे, देखा।

7 और यहोवा ने मुझ से कहा, भविष्यद्वाणी कर; और मैंने यह कहते हुए भविष्यवाणी की,

8 देखो, केनान के बहुत से लोग शूम के लोगों के विरुद्ध पांति बान्धकर निकलेंगे, और उन्हें घात करेंगे, कि वे सत्यानाश हो जाएंगे।

9 और केनान के लोग देश में बांट लेंगे, और भूमि बंजर और अनुपजाऊ हो जाएगी, और केनान के लोगों को छोड़ और कोई व्यक्ति वहां नहीं रहेगा; क्‍योंकि देखो, यहोवा देश को बहुत गर्मी से शाप देगा, और उसका उजाड़ सदा बना रहेगा।

10 और केनान के सब बच्चों पर ऐसा कालापन छा गया, कि वे सब लोगोंमें तुच्छ जाने लगे।

11 और ऐसा हुआ, कि यहोवा ने मुझ से कहा, देख, मैं ने दृष्टि की, और मैं ने शारोन का देश, और हनोक का देश, और ओम्नेर का देश, और हेनी का देश, और का देश देखा। शेम, और हनेर का देश, और हनन्निहा का देश, और उसके सब निवासी।

12 तब यहोवा ने मुझ से कहा, इन लोगोंके पास जा, और उन से कह, मन फिरा; कहीं ऐसा न हो कि मैं निकलकर उन्हें शाप दे, और वे मर जाएं।

13 और उसने मुझे एक आज्ञा दी, कि मैं पिता और पुत्र के नाम से, जो अनुग्रह और सच्चाई से परिपूर्ण है, और पवित्र आत्मा के नाम से बपतिस्मा दूं, जो पिता और पुत्र का अभिलेख रखता है ।

14 और ऐसा हुआ, कि केनान के लोगों को छोड़ केवल हनोक सब लोगों को पश्चाताप करने के लिए पुकारता रहा ।

15 और हनोक का विश्वास इतना अधिक था, कि वह परमेश्वर की प्रजा का नेतृत्व किया, और उनके शत्रु उन से लड़ने को आए, और उस ने यहोवा का वचन सुनाया, और पृय्वी कांप उठी, और उसके अनुसार पहाड़ भाग गए। आदेश।

16 और जल की नदियां अपने मार्ग से निकल गईं, और जंगल में से सिंहोंकी दहाड़ सुनाई दी।

17 और सब जातियां बहुत डर गईं, हनोक का वचन इतना शक्तिशाली था, और जो भाषा परमेश्वर ने उसे दी थी उसकी शक्ति इतनी अधिक थी।

18 समुद्र की गहराइयों में से एक देश भी निकला; और परमेश्वर की प्रजा के शत्रुओं का भय इतना अधिक बढ़ गया, कि वे भागकर दूर खड़े हो गए, और उस देश पर चढ़ गए जो समुद्र की गहराइयों में से निकला था।

19 और पृय्वी के रत्थे भी दूर खड़े रहे; और उन सब लोगों पर जो परमेश्वर से लड़े थे, शाप निकला।

20 और उस समय से, युद्ध होते रहे, और उनके बीच रक्तपात हुआ; परन्तु यहोवा आकर अपक्की प्रजा के संग रहने लगा, और वे धर्म से रहने लगे।

21 और यहोवा का भय सब जातियों पर था, यहोवा का तेज अपनी प्रजा पर इतना बड़ा था।

22 और यहोवा ने देश को आशीष दी, और वे पहाड़ोंऔर ऊंचे स्थानोंपर आशीष पाए, और फलते-फूलते रहे।

23 और यहोवा ने अपक्की प्रजा को सिय्योन कहा, क्योंकि वे एक मन और एक ही मन की थीं, और धर्म में रहती थीं; और उनमें कोई गरीब न था।

24 और हनोक ने परमेश्वर की प्रजा को धर्म से अपना प्रचार करना जारी रखा।

25 और उसके दिनोंमें ऐसा हुआ, कि उस ने एक नगर का निर्माण किया, जो पवित्र नगर, सिय्योन कहलाता है।

26 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने यहोवा से बातें की, और उस ने यहोवा से कहा, निश्चय सिय्योन निडर बसा रहेगा । परन्तु यहोवा ने हनोक से कहा, मैं ने सिय्योन को आशीष दी है, परन्तु शेष प्रजा को मैं ने शाप दिया है।

27 और ऐसा हुआ, कि यहोवा ने पृय्वी के सब निवासियोंको हनोक को दिखाया, और उसने क्या देखा, और देखो! समय के साथ सिय्योन स्वर्ग में उठा लिया गया।

28 और यहोवा ने हनोक से कहा, निहारना मेरा निवास सदा के लिए है।

29 और हनोक ने आदम की सन्तान के बचे हुओं को भी देखा, और कैन के वंश को छोड़ वे आदम के सारे वंश से मिले हुए थे; क्योंकि कैन का वंश काला था, और उन में स्थान न पाया था।

30 और जब सिय्योन स्वर्ग पर उठा लिया गया, तब हनोक ने क्या देखा, कि पृय्वी की सारी जातियां उसके साम्हने हैं; और पीढ़ी दर पीढ़ी आती रही।

31 और हनोक पिता और मनुष्य के पुत्र की गोद में ऊंचा और ऊंचा था; और, देखो, शैतान की शक्तियाँ पूरी पृथ्वी पर व्याप्त थीं; और उस ने स्वर्गदूतों को स्वर्ग से उतरते देखा, और उस ने एक बड़ा शब्द सुना, कि हाय! हाय! पृथ्वी के निवासियों के लिए हो!

32 और उस ने शैतान को देखा, और उसके हाथ में एक बड़ी जंजीर थी, और उस ने सारी पृय्वी को अन्धकार से ढक दिया था; और उस ने आंख उठाकर हंसा, और उसके दूत आनन्‍दित हुए।

33 और हनोक ने स्वर्गदूतों को स्वर्ग से उतरते देखा, जो पिता और पुत्र की गवाही देते थे।

34 और पवित्र आत्मा बहुतों पर गिरा, और वे स्वर्ग की शक्तियों के द्वारा सिय्योन में उठा लिए गए।

35 और ऐसा हुआ, कि स्वर्ग के परमेश्वर ने लोगोंके बचे हुओं पर दृष्टि करके रोया; और हनोक ने इसका लेखा जोखा, और कहा, क्या बात है कि आकाश रोता है, और पहाड़ोंपर वर्षा की नाईं आंसू बहाता है? और हनोक ने यहोवा से कहा, तू क्योंकर रोता है, कि तू पवित्र है, और सदा से अनन्तकाल तक है?

36 और क्या यह संभव था कि मनुष्य पृथ्वी के कणों को गिन सके, हां, और लाखों पृथ्वी को इस तरह से गिन सके, यह आपकी सृष्टि की संख्या की शुरुआत नहीं होगी;

37 और तेरे परदे फैले हुए हैं, और तू वहीं है, और तेरी छाती वहीं है; और तू धर्मी और सदा का करूणामय भी है;

38 तू ने सिय्योन को अपक्की गोद में लिया है, और अपक्की सारी सृष्टि से लेकर युग युग तक, और शान्ति, न्याय और सच्चाई के सिवा कुछ नहीं, तेरे सिंहासन का निवास स्थान है; और करूणा तेरे सम्मुख बनी रहेगी, और उसका अन्त न होगा। तुम कैसे रो सकते हो?

39 यहोवा ने हनोक से कहा, देख, ये तेरे भाई हैं, ये मेरे ही हाथ के बनाए हुए हैं, और जिस दिन मैं ने इनकी सृष्टि की, उसी दिन मैं ने उनको उनकी बुद्धि दी।

40 और मैं ने अदन की बारी में मनुष्य को उसका अधिकारी दिया; और मैं ने तेरे भाइयोंसे कहा है, और आज्ञा भी दी है, कि वे एक दूसरे से प्रेम रखें; और वे मुझे अपना पिता चुनें।

41 परन्तु देखो, उन में प्रीति नहीं, और वे अपके ही लोहू से बैर रखते हैं; और मेरे क्रोध की आग उन पर भड़क उठी है; और मैं अपके क्रोध में आकर उन पर जल-प्रलय भेजूंगा; क्योंकि मेरा क्रोध उन पर भड़क उठा है।

42 देख, मैं परमेश्वर हूं; मेरा नाम पवित्र पुरुष है; परामर्शदाता मेरा नाम है; और अनन्त और अनन्त मेरा नाम भी है। इसलिथे मैं अपके हाथ बढ़ाकर सब सृष्टियोंको जो मैं ने रची हैं, और मेरी आंख उनको भी छिदवा सकती है।

43 और मेरे हाथ की सारी कारीगरी में इतनी बड़ी दुष्टता नहीं हुई जितनी तेरे भाइयोंमें हुई; परन्तु देखो, उनके पाप उनके पुरखाओं के सिर पर होंगे; शैतान उनका पिता होगा, और दुख उनका विनाश होगा; और सारा आकाश उन पर रोएगा, यहां तक कि मेरे हाथ की सारी कारीगरी भी।

44 क्यों न स्वर्ग रोए, यह देखकर कि वे दु:ख उठाएंगे? परन्तु देखो, जिन पर तेरी आंखें लगी हैं, वे जलप्रलय में नाश हो जाएंगे; और देख, मैं उनको बन्द कर दूंगा; मैं ने उनके लिथे बन्दीगृह तैयार किया है, और जिसे मैं ने चुना है, उस ने मेरे साम्हने याचना की है;

45 इस कारण जिस दिन मेरा चुना हुआ मेरी ओर फिरेगा, उस दिन वह उनके पापोंके लिथे भोगेगा, जितना वे मन फिराएंगे; और उस दिन तक वे पीड़ा में रहेंगे।

46 इसलिए इसके लिए आकाश, हां, और मेरे हाथों की सारी कारीगरी रोएगी ।

47 और ऐसा हुआ, कि यहोवा ने हनोक से कहा, और हनोक को मनुष्योंके सब काम बता दिए।

48 इस कारण हनोक उनकी दुष्टता और उनकी दुर्दशा को जानता और देखता था; और रोया, और अपनी बाहों को बढ़ाया, और उसका दिल अनंत काल की तरह चौड़ा हो गया, और उसकी आंतें तरस गईं, और सब कुछ हिल गया।

49 और हनोक ने नूह और उसके परिवार को भी देखा, कि नूह के सभी पुत्रों की पीढ़ी को हमेशा के लिए बचाया जाना चाहिए।

50 इसलिथे हनोक ने देखा, कि नूह ने एक सन्दूक बनाया, और यहोवा ने उस पर हंसकर अपके हाथ से उसे थाम लिया; परन्तु दुष्टों के बचे हुओं पर जल-प्रलय आकर उन्हें निगल गया।

51 और जैसा हनोक ने यों देखा, उसके मन में कड़वाहट आ गई, और वह अपके भाइयोंके लिथे रोया, और आकाश से कहा, मैं शान्ति न पाऊंगा।

52 परन्तु यहोवा ने हनोक से कहा, अपके मन को उठा और मगन हो, और देख। और ऐसा हुआ कि हनोक ने दृष्टि की, और नूह से लेकर पृय्वी के सब कुलोंको देखा, और उस ने यहोवा की दोहाई दी, और कहा, यहोवा का दिन कब आएगा? धर्मी का लोहू कब बहाया जाएगा, कि जितने विलाप करते हैं वे सब पवित्र किए जाएं, और अनन्त जीवन पाएं?

53 और यहोवा ने कहा, वह समय के मध्य में होगा; दुष्टता और प्रतिशोध के दिनों में।

54 और देखो, हनोक ने मनुष्य के पुत्र के आने का दिन देह में होकर देखा; और उसका जी यह कहकर आनन्दित हुआ, कि धर्मी ऊंचे पर चढ़ जाता है; और मेम्ना जगत की उत्पत्ति से घात किया गया; और विश्वास के द्वारा मैं पिता की गोद में हूं; और निहारना, सिय्योन मेरे साथ है!

55 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने पृय्वी पर दृष्टि की, और उस की अन्तड़ियोंमें से यह शब्द सुना, कि हाय! हाय! मैं हूँ, पुरुषों की माँ! मैं दु:खी हूं, मैं अपने बच्चों की दुष्टता के कारण थक गया हूं! मैं कब विश्राम करूंगा, और उस मलिनता से जो मुझ में से निकली है, शुद्ध होऊंगा? मेरा सिरजनहार कब मुझे पवित्र करेगा, कि मैं विश्राम करूं, और धर्म मेरे मुख पर छाया रहे?

56 और जब हनोक ने पृय्वी को विलाप करते सुना, तब वह रोया, और यहोवा की दोहाई दी, कि हे यहोवा, क्या तू पृथ्वी पर दया न करेगा? क्या तू नूह की सन्तान को आशीष नहीं देगा?

57 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने प्रभु से यह कहते हुए अपनी दोहाई दी, कि हे प्रभु, मैं तुझ से बिनती करता हूं, हे प्रभु, तेरे एकलौते, यहां तक कि यीशु मसीह के नाम से, कि तू नूह और उसके वंश पर दया करेगा, कि पृथ्वी फिर कभी बाढ़ से ढकी नहीं हो सकती है।

58 और यहोवा न रोक सका; और उस ने हनोक से वाचा बान्धी, और उस से शपय खाई, कि वह जलप्रलय को दूर करेगा; कि वह नूह की सन्तान को पुकारे; और उस ने एक अटल आज्ञा भेजी, कि उसके वंश में से कुछ सब जातियोंमें सर्वदा पाए जाएं, जब तक कि पृय्वी स्थिर रहे।

59 और यहोवा ने कहा, क्या ही धन्य है वह, जिसके वंश के द्वारा मसीह आएगा; क्‍योंकि वह कहता है, मैं सिय्योन का राजा मसीह हूं, जो स्वर्ग की चट्टान है, जो सदा की नाईं चौड़ी है; और जो कोई फाटक से भीतर आए, और मेरे पास से चढ़े, वह कभी न गिरेगा।

60 इस कारण वे धन्य हैं जिनके विषय में मैं ने कहा है, क्योंकि वे सदा के आनन्द के गीत गाते हुए निकलेंगे।

61 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने यहोवा की दोहाई दी, और कहा, जब मनुष्य का पुत्र शरीर रूप में आएगा, तब पृथ्वी विश्राम करेगी? मैं प्रार्थना करता हूं कि आप मुझे ये चीजें दिखाएं।

62 तब यहोवा ने हनोक से कहा, देख; और उस ने दृष्टि की, और क्या देखा, कि मनुष्य का पुत्र मनुष्योंकी नाईं क्रूस पर चढ़ा हुआ है।

63 और उस ने एक बड़ा शब्द सुना, और आकाश पर परदा पड़ गया; और परमेश्वर की सारी सृष्टि विलाप करने लगी, और पृथ्वी कराह उठी; और चट्टानें किराए पर थीं; और पवित्र लोग उठे, और मनुष्य के पुत्र की दहिनी ओर महिमा के मुकुट धारण किए गए।

64 और जितनी आत्माएं बंदीगृह में थीं, वे निकलकर परमेश्वर की दहिनी ओर खड़ी हो गईं। और बचे हुए लोग उस बड़े दिन के न्याय तक अन्धकार की जंजीरों में बंध गए थे।

65 और हनोक फिर रोया, और यहोवा की दोहाई दी, और कहा, पृथ्वी कब विश्राम करेगी?

66 और हनोक ने मनुष्य के पुत्र को पिता के पास ऊपर जाते देखा; और उस ने यहोवा को पुकारकर कहा, क्या तू फिर पृथ्वी पर न आएगा? क्योंकि तू परमेश्वर है, और मैं तुझे जानता हूं, और तू ने मुझ से शपथ खाकर आज्ञा दी है, कि मैं तेरे एकलौते के नाम से मांगूं; तू ने मुझे बनाया है, और अपके सिंहासन का अधिकार मुझे दिया है, और मेरी ओर से नहीं, परन्‍तु अपके ही अनुग्रह से; और मैं तुझ से क्यों पूछता हूं, कि क्या तू फिर पृथ्वी पर न आने पाएगा?

67 और यहोवा ने हनोक से कहा, जैसा मैं जीवित हूं, वैसा ही मैं अन्त के दिनोंमें दुष्टता और पलटा लेनेके दिनोंमें उस शपय को पूरा करने के लिथे जो मैं ने नूह की सन्तान के विषय में तुझ से खाई थी, पूरा करने को आऊंगा।

68 और वह दिन आएगा कि पृथ्वी विश्राम करेगी। परन्तु उस दिन से पहिले आकाश अन्धेरा हो जाएगा, और पृय्वी पर अन्धकार का परदा छाया रहेगा; और आकाश डोल उठेगा, और पृय्वी भी डोल उठेगी।

69 और मनुष्योंमें बड़े क्लेश होंगे, परन्तु मैं अपक्की प्रजा की रक्षा करूंगा; और धर्म को मैं स्वर्ग से उतारूंगा, और सत्य को पृय्वी पर से निकालूंगा, कि अपके एकलौते के विषय में गवाही दूं; मरे हुओं में से उसका पुनरुत्थान; हां, और सभी मनुष्यों का पुनरुत्थान भी।

70 और धर्म और सच्चाई मैं पृय्वी को जल-प्रलय की नाईं उड़ा दूंगा, और अपके चुने हुओं को पृय्वी के चारोंओर में से उस स्थान में जिसे मैं तैयार करूंगा, इकट्ठा करूंगा; एक पवित्र नगर, जिस से मेरी प्रजा कमर बान्धे, और मेरे आने के समय की बाट जोहती रहे; क्योंकि मेरा तम्बू वहीं होगा, और उसका नाम सिय्योन होगा; एक नया यरूशलेम।

71 तब यहोवा ने हनोक से कहा, तब तू अपके सारे नगर समेत वहां उन से भेंट करना; और हम उन्हें अपनी गोद में ले लेंगे; और वे हम को देखेंगे, और हम उनकी गर्दनोंके बल गिरेंगे, और वे हमारी गर्दनोंके बल गिरेंगे, और हम एक दूसरे को चूमेंगे;

72 और मेरा निवास स्थान होगा, और वह सिय्योन होगा, जो मेरी बनाई हुई सारी सृष्टि में से निकलेगा; और पृय्वी हजार वर्ष तक विश्राम करेगी।

73 और ऐसा हुआ, कि हनोक ने मनुष्य के पुत्र के आने के दिन को देखा, अर्थात अन्त के दिनोंमें, कि वह एक हजार वर्ष तक धार्मिकता के साथ पृथ्वी पर निवास करे।

74 परन्तु उस दिन से पहिले उस ने दुष्टोंके बीच बड़ा क्लेश देखा; और उस ने समुद्र को भी देखा, कि वह व्याकुल हो गया है, और मनुष्योंका मन उन पर टूट पड़ता है, और वह सर्वशक्तिमान परमेश्वर के उस न्याय की बाट जोहता है, जो दुष्टों पर आनेवाला है।

75 और यहोवा ने हनोक को जगत के अन्त तक सब कुछ दिखाया। और उस ने धर्मियों का दिन, उनके छुटकारे का समय देखा, और भरपूर आनन्द प्राप्त किया।

76 और सिय्योन की कुल अवस्था हनोक की अवस्था में तीन सौ पैंसठ वर्ष की हुई।

77 और हनोक और उसके सब लोग परमेश्वर के संग चले, और वह सिय्योन के बीच में रहने लगा।

78 और ऐसा हुआ, कि सिय्योन नहीं रहा, क्योंकि परमेश्वर ने उसे अपक्की गोद में ले लिया; और वहां से यह कहावत निकली, सिय्योन भाग गया है। और हनोक की कुल अवस्था चार सौ तीस वर्ष की हुई।

79 और ऐसा हुआ, कि हनोक का पुत्र मतूशेलह न लिया गया, कि यहोवा की जो वाचाएं उस ने हनोक से बान्धी थीं, वे पूरी हों; क्योंकि उस ने सचमुच हनोक से वाचा बान्धी, कि नूह उसकी कमर का फल होगा।

80 और ऐसा हुआ, कि मतूशेलह ने भविष्यद्वाणी की, कि पृय्वी के सब राज्य उसी की कमर से उत्पन्न होंगे; (नूह के द्वारा) और उस ने अपनी बड़ाई की।

81 और उस देश में एक बड़ा अकाल पड़ा, और यहोवा ने पृय्वी को घोर शाप दिया, और उसके बहुत से निवासी मर गए।

82 और मतूशेलह एक सौ सत्तासी वर्ष जीवित रहा, और उसके द्वारा लेमेक उत्पन्न हुआ; और लेमेक के जन्म के पश्चात्‌ मतूशेलह सात सौ बयासी वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और मतूशेलह की कुल अवस्या नौ सौ उनसठ वर्ष की हुई, और वह मर गया।

83 और लेमेक एक सौ बयासी वर्ष जीवित रहा, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ, और उस ने उसका नाम नूह रखा, और कहा, यह पुत्र हमारे कामों, और हमारे हाथों के परिश्रम के विषय में हमें शान्ति देगा, क्योंकि उस भूमि के कारण जिसे यहोवा ने शाप दिया है .

84 और नूह के जन्म के पश्चात् लेमेक पांच सौ पंचानवे वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई। और लेमेक की कुल अवस्या सात सौ सत्तर वर्ष की हुई; और वह मर गया। 85 और नूह चार सौ पचास वर्ष का या, और उसके द्वारा येपेत उत्पन्न हुआ, और बयालीस वर्ष के बाद उस से शेम उत्पन्न हुआ, जो येपेत की माता या, और जब वह पांच सौ वर्ष का हुआ, तब उससे हाम उत्पन्न हुआ।

अध्याय 8

परमेश्वर अप्रसन्न हुआ क्योंकि नूह की बेटियाँ स्वयं को बेच देती हैं — नूह ने सुसमाचार की घोषणा की — हिंसा से भरी हुई पृथ्वी — जलप्रलय की भविष्यवाणी की — सन्दूक बनाया — नूह की आज्ञा — दो-दो करके, नर और उसकी मादा ने बचा लिया — सन्दूक विश्राम करता है, जल कम हो जाता है।

1 और नूह और उसके पुत्रों ने यहोवा की सुनी, और उस पर ध्यान दिया; और वे परमेश्वर के पुत्र कहलाए।

2 और जब ये पुरूष पृय्वी पर बढ़ने लगे, और उनके बेटियां उत्पन्न हुई, तब मनुष्य के पुत्रोंने देखा, कि उनकी बेटियां गोरी हैं, और उन्होंने अपनी इच्छानुसार ब्याह लिया।

3 और यहोवा ने नूह से कहा, तेरे पुत्रोंकी बेटियां अपके आप को बेच चुकी हैं, क्योंकि देखो, मेरा कोप मनुष्योंपर भड़का है, क्योंकि उन्होंने मेरी न सुनी।

4 और ऐसा हुआ, कि नूह ने भविष्यद्वाणी की, और जैसा वह आरम्भ में था, वैसा ही परमेश्वर की बातें भी सिखाया।

5 और यहोवा ने नूह से कहा, मेरा आत्मा मनुष्य से सदा यत्न न करेगा, क्योंकि वह जान लेगा कि सब प्राणी मर जाएंगे, तौभी उसकी आयु एक सौ बीस वर्ष की होगी; और यदि मनुष्य मन फिरा न करें, तो मैं उन पर जल प्रलय भेजूंगा।

6 उन दिनों में पृय्वी पर दानव थे, और उन्होंने नूह को ढूंढ़ा, कि उसका प्राण ले ले;

7 परन्तु यहोवा नूह के संग या, और यहोवा की शक्ति उस पर थी; और यहोवा ने नूह को उसकी ही आज्ञा के अनुसार ठहराया, और उसे आज्ञा दी, कि वह निकल कर मनुष्योंको अपना सुसमाचार सुनाए, जैसा हनोक को दिया गया था।

8 और ऐसा हुआ कि नूह ने मानव संतान को बुलाया, कि वे पश्चाताप करें, लेकिन उन्होंने उसकी बात नहीं मानी ।

9 और यह भी, कि उसकी बात सुनकर उसके साम्हने चढ़कर कहने लगे, कि हम तो परमेश्वर की सन्तान हैं, क्या हम ने मनुष्योंकी पुत्रियोंको अपने पास नहीं रखा ? और क्या हम खाते-पीते नहीं, और ब्याह करके ब्याह नहीं करते? और हमारी पत्नियां हम से सन्तान उत्पन्न करती हैं, और वे ही शूरवीर हैं, जो उनके पुरनियोंके समान बड़े ख्यातिप्राप्त पुरुष हैं। और उन्होंने नूह की बातें नहीं मानीं।

10 और परमेश्वर ने देखा, कि मनुष्य की दुष्टता पृथ्वी पर बढ़ गई है; और हर एक मनुष्य अपके मन के विचार के विषय में ऊंचा उठ गया; लगातार केवल बुराई होना।

11 और ऐसा हुआ, कि नूह ने लोगों को अपना प्रचार करना जारी रखा, और कहा, सुनो और मेरी बातों पर ध्यान दो, विश्वास करो और अपने पापों से पश्चाताप करो और परमेश्वर के पुत्र यीशु मसीह के नाम से बपतिस्मा लो, यहां तक कि हमारी तरह पिताओं ने किया, और तुम पवित्र आत्मा को प्राप्त करोगे, कि तुम सब कुछ प्रकट कर सकते हो;

12 और यदि तू ऐसा न करे, तो जल-प्रलय तुझ पर आ पड़ेगा; फिर भी, उन्होंने नहीं सुना।

13 और उस ने नूह का मन फिराया, और उसका मन दुखी हुआ, कि यहोवा ने मनुष्य को पृय्वी पर बनाया, और उस ने उसके मन में शोक डाला।

14 और यहोवा ने कहा, मैं मनुष्य को, जिसे मैं ने रचा है, पृय्वी पर से, क्या मनुष्य क्या पशु, क्या रेंगने वाले जन्तु, क्या आकाश के पझियां, नाश कर डालूंगा।

15 क्‍योंकि नूह को इस बात का पश्‍चाताप होता है कि मैं ने उन्‍हें बनाया, और कि मैं ने उन्‍हें बनाया; और उस ने मुझे पुकारा है, क्योंकि उन्होंने उसके प्राण की खोज की है।

16 और इस प्रकार नूह ने यहोवा की दृष्टि में अनुग्रह पाया; क्‍योंकि नूह धर्मी और अपके पीढ़ी में सिद्ध पुरूष था; और वह परमेश्वर के संग चला, और उसके तीन पुत्र शेम, हाम और येपेत भी चले।

17 परमेश्वर के साम्हने पृय्वी भ्रष्ट हो गई; और वह हिंसा से भर गया। और परमेश्वर ने पृय्वी पर दृष्टि की, और क्या देखा, कि वह भ्रष्ट है, क्योंकि सब प्राणियोंने पृथ्वी पर अपनी चाल बिगड़ी है।

18 और परमेश्वर ने नूह से कहा, सब प्राणियोंका अन्त मेरे साम्हने आ पहुंचा है; क्‍योंकि पृय्‍वी उपद्रव से भर गई है, और देखो, मैं पृय्‍वी पर से सब प्राणियोंको नाश कर डालूंगा।

19 सो अपके लिये गोपेर की लकड़ी का एक सन्दूक बनाना; सन्दूक में कोठरियां बनवाना, और भीतर और बाहर दोनों ओर घड़ा लगाना;

20 और सन्दूक की लम्बाई तीन सौ हाथ की हो; उसकी चौड़ाई पचास हाथ; और उसकी ऊंचाई तीस हाथ की है।

21 और सन्दूक के लिथे खिड़कियाँ बनवाना, और उसे ऊपर से एक हाथ का बनाना; और सन्दूक का द्वार उसकी अलंग में रखना; उस में नीचे, दूसरे और तीसरे कोठरियां बनाना।

22 और देखो, मैं पृय्वी पर जल का जलप्रलय लाऊंगा, कि सब प्राणियोंको जिन में जीवन का प्राण है, स्वर्ग के नीचे से नाश कर डालूंगा; जो कुछ पृथ्वी पर रहता है वह सब मर जाएगा।

23 परन्‍तु जिस प्रकार मैं ने तेरे पिता हनोक से शपय खाई है, उसी के अनुसार मैं अपक्की वाचा बान्धूंगा, कि तेरे वंश में से सब जातियां आएंगी।

24 और तू अपके पुत्रों, और अपक्की पत्नी, और अपके पुत्रोंकी पत्नियों समेत सन्दूक में आना।

25 और सब प्राणियोंके सब प्राणियोंमें से एक एक जाति के दो दो, अपके संग जीवित रहने के लिथे सन्दूक में ले आना; वे नर और मादा हों।

26 अपक्की जाति के पक्की, और अपक्की जाति के पशु, और पृय्वी के सब रेंगनेवाले जन्तुओं में से एक जाति के अनुसार; तू जीवित रहने के लिथे हर एक प्रकार के दो को सन्दूक में ले जाना।

27 और जो कुछ खाया जाए उन में से सब कुछ अपके पास ले जाना, और सन्दूक में अपके लिये सब प्रकार के फल बटोरना, और वह तेरे और उनके लिथे भोजन ठहरे।

28 नूह ने जो कुछ परमेश्वर ने उसे आज्ञा दी थी, उसके अनुसार वैसा ही किया।

29 तब यहोवा ने नूह से कहा, तू अपके सारे घराने समेत सन्दूक में आ; क्‍योंकि मैं ने अपके साम्हने धर्मी को ही इस पीढ़ी में देखा है।

30 हर एक शुद्ध पशु में से सात सात नर, और उसकी मादा अपके पास ले जाना; और जो पशु शुद्ध न हों, उनमें से दो नर और मादा;

31 आकाश के पक्षियों में से भी सात-सात नर नर और मादा; धरती पर बीज को जीवित रखने के लिए।

32 क्योंकि अभी सात दिन और मैं पृय्वी पर चालीस दिन और चालीस रात जल बरसाऊंगा; और जितने जीवित पदार्थ मैं ने बनाए हैं उन सभोंको मैं पृय्वी पर से सत्यानाश करूंगा।

33 और नूह ने यहोवा की आज्ञा के अनुसार किया। और जब पृय्वी पर जल-प्रलय आया तब नूह छ: सौ वर्ष का या।

34 और नूह और उसके बेटे, और उसकी पत्नी, और अपक्की पत्नियां अपके संग जलप्रलय के जल के कारण सन्दूक में गए।

35 शुद्ध पशु, और निर्मल पशु, और पझियों, और पृय्वी पर रेंगनेवाले सब जन्तुओं में से दो दो दो होकर नूह के पास सन्दूक पर चढ़ गए, अर्थात्‌ नर और मादा, जैसा परमेश्वर ने आज्ञा दी थी, नूह।

36 और ऐसा हुआ कि सात दिन के बाद जल-प्रलय का जल पृय्वी पर छा गया। नूह के जीवन के छ: सौवें वर्ष में, दूसरे महीने में, और महीने के सत्रहवें दिन, उसी दिन बड़े गहिरे सोते के सब सोते टूट गए, और आकाश की खिड़कियाँ खोल दी गईं, और मेंह बरस पड़ा। पृथ्वी चालीस दिन और चालीस रातें।

37 उसी दिन नूह, शेम, हाम, और नूह के पुत्र येपेत आए; और नूह की पत्नी और उसके पुत्रों की तीनों स्त्रियां उनके साथ सन्दूक में गई; और हर एक जाति के पशु, और सब पशु अपके जाति के अनुसार, और सब रेंगनेवाले जन्तु जो पृय्वी पर अपके जाति के अनुसार रेंगते हैं, और सब प्रकार के पक्षी, और सब प्रकार के पक्षी;

38 और वे नूह के पास सन्दूक में गए, जो सब मांस में से दो और दो, जिस में जीवन का प्राण है; और जो भीतर गए, वे सब मांस के नर और नारी होकर गए, जैसा परमेश्वर ने उस को आज्ञा दी या, और यहोवा ने उसे बन्द कर दिया।

39 और जल-प्रलय पृय्वी पर चालीस दिन तक रहा, और जल बढ़ता गया, और सन्दूक ऊपर उठा, और वह पृय्वी पर ऊपर उठा।

40 और जल प्रबल होकर पृय्वी पर बहुत बढ़ गया, और सन्दूक जल के ऊपर चढ़ गया।

41 और जल पृय्वी पर बहुत प्रबल हो गया, और सारे ऊंचे पहाड़, अर्यात् सारे आकाश के तले ढंप गए। जल पन्द्रह हाथ और ऊपर प्रबल हुआ; और पहाड़ ढके हुए थे।

42 और पक्की, क्या पशु, क्या पशु, और सब रेंगनेवाले जन्तु जो पृय्वी पर रेंगते हैं, क्या पृय्वी पर के सब जीव-जंतु मर गए।

43 वे सब जिनके नथनों से यहोवा ने प्राण फूंक दिए थे, और जितने सूखी भूमि पर थे, वे सब मर गए।

44 और क्या मनुष्य क्या क्या पशु, क्या रेंगने वाले जन्तु, क्या आकाश के पक्की भूमि पर के सब जीवित प्राणी नष्ट हो गए; और वे पृय्वी पर से नाश किए गए;

45 और केवल नूह ही रह गया, और वे जो उसके संग जहाज में थे।

46 और जल एक सौ पचास दिन तक पृथ्वी पर प्रबल रहा।

47 और परमेश्वर ने नूह की, और जितने उसके संग जहाज में थे, उन सभोंकी सुधि ली। और परमेश्वर ने पृय्वी के ऊपर से चलने के लिथे वायु की, और जल शांत हो गया।

48 और गहिरे सोते के सोते, और आकाश की खिड़कियाँ बन्द कर दी गईं, और आकाश से मेंह थम गई; और जल पृय्वी पर से लौट आया।

49 और एक सौ पचास दिन के बीतने पर जल उतर गया। और सातवें महीने के सत्रहवें दिन को सन्दूक अरारात नाम पहाड़ पर पड़ा।

50 और जल दसवें महीने तक घट गया; और दसवें महीने के पहले दिन को पहाड़ों की चोटियां दिखाई दीं।

51 और ऐसा हुआ कि चालीस दिन के बीतने पर नूह ने अपने बनाए हुए सन्दूक की खिड़की खोली, और एक कौवा भेजा, जो इधर-उधर तब तक जाता रहा, जब तक कि उसका जल नदी के ऊपर से सूख न गया। धरती।

52 फिर उस ने अपने पास से एक कबूतरी को यह देखने के लिये भेजा, कि जल भूमि पर से उतर गया है या नहीं; परन्तु कबूतरी को अपने पांव के तलवे पर चैन न मिला, और वह उसके पास सन्दूक में लौट गई, क्योंकि जल सारी पृय्वी पर से कम न हुआ था; तब उस ने हाथ बढ़ाकर उसे ले लिया, और अपने पास सन्दूक में खींच लिया।

53 और वह और सात दिन तक रहा, और उस ने कबूतरी को सन्दूक में से फिर भेजा, और सांफ को वह कबूतर उसके पास भीतर आई; और देखो, उसके मुंह में जलपाई का एक पत्ता तोड़ा गया; सो नूह जान गया कि जल पृथ्वी पर से उतर गया है।

54 और वह और सात दिन तक रहा, और एक कबूतरी को भेजा, जो फिर उसके पास फिर न लौटी।

55 और छ: सौ पहले वर्ष के पहिले महीने के पहिले दिन का जल पृय्वी पर से सूख गया।

56 और नूह ने सन्दूक का ओढ़ना हटाकर क्या देखा, कि भूमि सूखी है। और दूसरे महीने के सातवें बीसवें दिन को पृय्वी सूख गई।

अध्याय 9

नूह ने एक वेदी का निर्माण किया - रक्त न बहाने की आज्ञा - परमेश्वर की वाचा, उसका प्रतीक जो बादलों में रखा गया है - नूह की मूर्खता, उसके परिणाम।

1 और परमेश्वर ने नूह से कहा, तू अपक्की पत्नी, और अपके पुत्रों, और अपके पुत्रोंकी पत्नियोंसमेत सन्दूक में से निकल जाओ।

2 सब प्राणियों, क्या पक्षियों, क्या घरेलू पशुओं, और सब रेंगनेवाले जन्तुओं जो पृथ्वी पर रेंगते हैं, सब को अपने संग ले आना; कि वे पृय्वी में बहुतायत से उत्पन्न हों, और फूलें-फलें, और पृय्वी पर बढ़ें।

3 और नूह, और उसके पुत्र, और उसकी पत्नी, और अपके पुत्रोंकी पत्नियां अपके संग निकल गए। और सब जन्तु, सब रेंगनेवाले जन्तु, और पृय्वी पर के सब पक्की अपनी जाति के अनुसार सन्दूक में से निकल गए।

4 और नूह ने यहोवा के लिथे एक वेदी बनाई, और सब शुद्ध पशु, और सब शुद्ध पक्षियों में से कुछ लेकर वेदी पर होमबलि चढ़ाई; और यहोवा का धन्यवाद किया, और उसके मन में आनन्द किया।

5 और यहोवा ने नूह से बातें की, और उस ने उसको आशीष दी। और नूह ने सुगन्ध का सुगन्ध पाया, और मन ही मन कहने लगा;

6 मैं यहोवा से प्रार्थना करूंगा, कि वह मनुष्य के कारण फिर भूमि को शाप न देगा, क्योंकि मनुष्य का मन बचपन से ही बुरा सोचता है; और जब तक पृय्वी बनी रहे, तब तक वह अपनी नाईं सब जीवित प्राणियोंको फिर न मारेगा, जैसा उस ने किया है;

7 और वह बीज-समय और फसल, और ठंड और गर्मी, और गर्मी और सर्दी, और दिन और रात, मनुष्य के साथ समाप्त नहीं हो सकता है।

8 और परमेश्वर ने नूह और उसके पुत्रोंको आशीर्वाद देकर कहा, फूलो-फलो, और पृथ्वी में भर जाओ। और पृय्वी के सब पशु, और आकाश के सब पक्की, और पृय्वी पर के सब रेंगनेवाले, और समुद्र की सब मछिलयोंपर तेरा भय, और तेरा भय होगा; वे तुम्हारे हाथ में सौंप दिए गए हैं।

9 सब जीवित जन्तु तेरे लिथे मांस ठहरेंगे; जैसा कि मैं ने हरी घास के समान सब कुछ तुझे दिया है।

10 परन्तु जितने मांस का लोहू मैं ने तुम को मांस के लिथे दिया है उसका लोहू भूमि पर बहाया जाए, जो उसके प्राण ले लेते हैं, और उसका लोहू तुम न खाना।

11 और निश्चय तुम्हारे प्राणोंके उद्धार के लिथे केवल मांस के लिथे लोहू न बहाया जाए; और मैं तेरे हाथों सब पशुओं का लोहू मांगूंगा।

12 और जो कोई मनुष्य का लोहू बहाए उसका लोहू मनुष्य के द्वारा बहाया जाए; क्योंकि मनुष्य मनुष्य का लोहू नहीं बहाएगा।

13 क्योंकि मैं यह आज्ञा देता हूं, कि अपके अपके भाई मनुष्य के प्राण की रक्षा करें, क्योंकि मैं ने मनुष्य को अपके ही स्वरूप के अनुसार बनाया है।

14 और मैं तुम को आज्ञा देता हूं, कि तुम फूलो-फलो और बढ़ो; पृथ्वी पर बहुतायत से लाओ, और उसमें गुणा करो।

15 और परमेश्वर ने नूह और उसके पुत्रोंसे जो उसके संग थे, कहा, सुन, मैं अपक्की वाचा को जो मैं ने तेरे पिता हनोक से, तेरे बाद तेरे वंश के विषय में बान्धी, स्थिर करूंगा।

16 और ऐसा होगा, कि जितने जीवित प्राणी तुम्हारे संग हों, उन में से पक्की, और घरेलू पशु, और पृय्वी के पशु जो तुम्हारे संग हों, जो सन्दूक में से निकल जाएं, वे सब पूरी रीति से नाश न हों; ; और सब प्राणी फिर जलप्रलय के जल से नाश न होंगे; और फिर पृथ्वी को नाश करने के लिये जल-प्रलय न होगा।

17 और जो वाचा मैं ने तेरे वंश के बचे हुओं के विषय में हनोक से बान्धी है, उसे मैं तुझ से स्थिर करूंगा।

18 और परमेश्वर ने नूह के साथ एक वाचा बान्धी, और कहा, यह उस वाचा का चिह्न होगा जो मैं तुम्हारे और तुम्हारे बीच, और तुम्हारे साथ के सभी जीवित प्राणियों के लिए, पीढ़ी पीढ़ी के लिए बना रहा हूं;

19 मैं अपना धनुष बादल पर रखूंगा; और वह मेरे और पृय्वी के बीच वाचा का चिन्ह ठहरे।

20 और जब मैं पृय्वी पर बादल लाऊंगा, तब बादल में धनुष दिखाई देगा; और मैं अपक्की वाचा को स्मरण करूंगा, जो मैं ने अपने और तेरे बीच में सब प्राणियोंके सब जीवित प्राणियोंके लिथे बान्धी है। और जल फिर कभी जलप्रलय न बनेगा, कि सब प्राणियोंको नाश करे।

21 और धनुष बादल में रहे; और मैं उस पर दृष्टि करूंगा, कि मैं उस सदा की वाचा को स्मरण रखूं, जो मैं ने तेरे पिता हनोक से बान्धी थी; कि जब मनुष्य मेरी सब आज्ञाओं को मानें, तब सिय्योन फिर पृथ्वी पर आए, अर्थात हनोक का नगर जिसे मैं ने अपक्की पकड़ लिया है।

22 और यह मेरी सदा की वाचा है, कि जब तेरा वंश सत्य को अपनाएगा, और ऊपर की ओर देखेगा, तब सिय्योन नीचे की ओर देखेगा, और सारा आकाश हर्ष से कांपेगा, और पृथ्वी आनन्‍द से कांप उठेगी;

23 और पहिलौठों की कलीसिया की महासभा स्वर्ग से उतरेगी, और पृय्वी के अधिकारी होगी, और अन्त आने तक उसका स्थान रहेगा। और यह मेरी सदा की वाचा है, जो मैं ने तेरे पिता हनोक से बान्धी है।

24 और धनुष बादल में रहेगा, और जो वाचा मैं ने अपने और तेरे बीच में पृय्वी पर रहनेवाले सब प्राणियोंके सब प्राणियोंके लिथे बान्धी है, वह तुझ से स्थिर करूंगा।

25 तब परमेश्वर ने नूह से कहा, जो वाचा मैं ने अपके और तेरे बीच में बान्धी है, उसकी यह निशानी है; सभी मांस के लिए जो पृथ्वी पर होंगे।

26 और नूह के जो पुत्र सन्दूक में से निकले, वे थे शेम, हाम, और येपेत; और हाम कनान का पिता था। ये नूह के तीन पुत्र थे, और उनमें से सारी पृथ्वी फैल गई थी।

27 और नूह पृय्वी पर खेती करने लगा, और वह किसान या; और उस ने दाख की बारी लगाई, और दाखमधु पीकर मतवाला हो गया; और वह अपके डेरे के भीतर खुला हुआ या;

28 और कनान के पिता हाम ने अपके पिता का नंगापन देखा, और अपके बाहर के भाइयोंको बता दिया; और शेम और येपेत ने वस्त्र लेकर अपने दोनों कन्धों पर रखा, और पीछे जाकर अपके पिता का तन ढांपा, और उन्होंने अपके पिता का तन न देखा।

29 तब नूह अपने दाखमधु से जागा, और जान गया कि उसके छोटे पुत्र ने उस से क्या क्या किया है, और कहा, कनान शापित हो; वह अपके भाइयोंके लिथे दासोंका दास हो।

30 उस ने कहा, शेम का परमेश्वर यहोवा धन्य है; और कनान उसका दास होगा, और उसे अन्धकार का परदा ढांपेगा, जिस से वह सब मनुष्योंमें प्रसिद्ध होगा

31 परमेश्वर येपेत को बड़ा करे, और वह शेम के डेरों में बसे; और कनान उसका दास होगा।

32 और जलप्रलय के पश्चात् नूह साढ़े तीन सौ वर्ष जीवित रहा। और नूह की कुल अवस्या नौ सौ पचास वर्ष की हुई; और वह मर गया।

अध्याय 10

नूह के पुत्रों की वंशावली।

1 नूह के वंश के वंश ये थे; शेम, हाम, और येपेत; और जलप्रलय के बाद उनके पुत्र उत्पन्न हुए।

2 येपेत के पुत्र; गोमेर, और मागोग, मदाई, और यवन, और तूबल, और मेशेक, और तिरास।

3 और गोमेर के पुत्र ये हैं; अशकनज, रिपत, और तोगर्मा। और यावान के पुत्र; एलीशा, और तर्शीश, कित्ती, और दोदानी। इसी से अन्यजातियों के द्वीप अपने-अपने देश में बांटे गए; एक ही जीभ के बाद, अपने परिवारों के बाद, अपने राष्ट्रों में।

4 और हाम के पुत्र; कूश, मिजरैम, फूत, और कनान। और कूश के पुत्र; सबा, हवीला, सबता, रामा, और सब्तका। और रामा के पुत्र; शेबा, और ददान।

5 और कूश से निम्रोद उत्पन्न हुआ; वह पृथ्वी पर पराक्रमी होने लगा। वह देश में एक शक्तिशाली शिकारी था। इसलिए कहा जाता है; निम्रोद के रूप में भी, भूमि में शक्तिशाली शिकारी।

6 और उसने एक राज्य आरम्भ किया, और उसके राज्य का आरम्भ शिनार देश में बाबेल, एरेक, अक्कद, और कल्ने से हुआ।

7 उस देश में से अश्शूर निकलकर नीनवे, और रहोबोत नगर, कालाह, और नीनवे और काला के बीच में रेसेन को दृढ़ किया; वही एक महान शहर था।

8 और मिजरैम से लुदीम, अनामीम, लहाबीम, नप्तूहीम, पत्रूसीम, और कसलूही उत्पन्न हुए, जिनमें से पलिश्ती और कप्तोरीम उत्पन्न हुए।

9 और कनान से उसका जेठा सीदोन, हेत, यबूसी, एमोरी, गिर्गाशी, हिव्वी, अर्की, सीनी, अर्वादी, समारी, और हमाती उत्पन्न हुए; और उसके बाद कनानियोंके कुल विदेश में फैले हुए थे।

10 और जब तू गरार से गाजा तक पहुंचे, तब कनानियोंका सिवाना सीदोन से निकला; जैसा तू सदोम और अमोरा, और अदमा, और सबोईम को जाता है, यहाँ तक कि लाशा तक।

11 हाम के पुत्र अपके कुलोंके अनुसार, और अपके देश, और अपक्की जाति में एक ही भाषा के अनुसार हुए।

12 शेम के भी जो ज्येष्ठ था, उसके बच्चे उत्पन्न हुए; और उसी से एबेर उत्पन्न हुआ, और उसके पुत्र उत्पन्न हुए।

13 और शेम की सन्तान ये हैं; एबेर, एलाम, अश्शूर, अर्पक्षद, लूद, अराम।

14 और ये अराम की सन्तान थे; हम, और हूल, और गेथर, और मश।

15 अर्पक्षद से सलाहा और सलाहा से एबेर उत्पन्न हुआ। और एबेर के दो पुत्र उत्पन्न हुए; एक का नाम, पेलेग, दूसरे का जोकतान।

16 और पेलेग एक पराक्रमी व्यक्ति था, क्योंकि उसके दिनों में पृथ्वी विभाजित हो गई थी।

17 और योक्तान से अलमोदाद, शेलेप, हसरमावेत, यरह, हदोराम, ऊजाल, दिकला, ओबाल, अबीमाएल, शेबा, ओपर, हवीला, और योबाब उत्पन्न हुए; और योक्तान के ये पुत्र हुए।

18 और उनका निवास मेशा से हुआ, जैसे तू सफार तक जाता या, जो पूर्व का पहाड़ है।

1 ये शेम के पुत्र थे, उनके परिवारों के बाद, उनकी भाषाओं के बाद, उनके देशों में, उनके देशों के बाद।

20 नूह के वंश के कुल ये ही अपके अपके राष्ट्रोंमें हुए; और जलप्रलय के पश्‍चात् पृय्‍वी पर जातियां इन्हीं से विभाजित हुईं।

अध्याय 11

बाबेल का निर्माण — उलझी हुई भाषा — शेम की पीढ़ी — अब्राम का जन्म; विवाहित, और कनान में चला जाता है।

1 और सारी पृथ्वी एक ही भाषा, और एक ही बोली की थी। और ऐसा हुआ कि बहुतेरे पूर्व से कूच करके पूर्व से कूच करके शिनार के देश में एक अराबा पाए, और वहां शिनार के अराबा में रहने लगे।

2 वे आपस में कहने लगे, आ, जा, हम ईंटें बना कर भली भांति जला दें। और उनके पास पत्यर के लिथे ईट, और गारे के लिथे कीचड़ था।

3 उन्होंने कहा, आओ, हमारे पास एक नगर और एक गुम्मट बना लें, जिसकी चोटी स्वर्ग के निकट ऊंची होगी; और हम अपना नाम करें, ऐसा न हो कि हम सारी पृय्वी पर फैल जाएं।

4 और यहोवा ने उतरकर उस नगर और उस गुम्मट को देखा जिसे मनुष्य बनाते थे;

5 और यहोवा ने कहा, सुन, लोग एक ही हैं, और सबकी भाषा एक ही है; और इस गुम्मट को वे बनाना आरम्भ करते हैं, और जिस बात की उन्होंने कल्पना की है, उस से कुछ भी न रोका जाएगा, केवल मैं यहोवा ने उनकी भाषा को ऐसा उलझाया है, कि वे एक दूसरे की बात को न समझ सकें। इसलिथे मैं यहोवा उनको वहां से लेकर सारे देश और पृय्वी के कोने-कोने में तितर-बितर करूंगा।

6 और वे लज्जित हुए, और नगर को बनाने के लिथे छोड़ दिए गए, और उन्होंने यहोवा की न सुनी, इस कारण उसका नाम बाबेल रखा गया, क्योंकि यहोवा उनके कामोंसे अप्रसन्न हुआ, और क्या वहां सब की भाषा में गड़बड़ी हुई धरती; और वहीं से यहोवा ने उन्हें उसके ऊपर तितर-बितर कर दिया।

7 और शेम के वंश के ये ही वंश थे। और शेम सौ वर्ष का हुआ, और जलप्रलय के दो वर्ष के पश्चात् अर्पक्षद उत्पन्न हुआ; और अर्पक्षद के जन्म के पश्चात्‌ शेम पांच सौ वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।।

8 और अर्पक्षद साढ़े पांच वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा सलाहा उत्पन्न हुआ; और सलाहा के जन्म के पश्चात्‌ अर्पक्षद चार सौ तीन वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।।

9 और सलाहा तीस वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा एबेर उत्पन्न हुआ; और एबेर के जन्म के पश्चात्‌ सलाहा चार सौ तीन वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।

10 और एबेर साढ़े चार वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा पेलेग उत्पन्न हुआ; और पेलेग के जन्म के पश्चात्‌ एबेर चार सौ तीस वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।

11 और पेलेग तीस वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा रू उत्पन्न हुआ; और रू के जन्म के पश्चात्‌ पेलेग दो सौ नौ वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।

12 और रू बाईस वर्ष जीवित रहा, और उसके द्वारा सरूग उत्पन्न हुआ; और सरूग के जन्म के पश्चात्‌ रू दो सौ सात वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।।

13 और सरूग तीस वर्ष का हुआ, और उससे नाहोर उत्पन्न हुआ; और नाहोर के जन्म के पश्चात्‌ सरूग दो सौ वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।।

14 और नाहोर नौ और बीस वर्ष जीवित रहा, और तेरह को जन्म दिया; और तेरह के जन्म के पश्चात्‌ नाहोर एक सौ उन्नीस वर्ष जीवित रहा, और उसके और भी बेटे बेटियां उत्पन्न हुई।

15 और तेरह सत्तर वर्ष का हुआ, और उसके द्वारा अब्राम, नाहोर और हारान उत्पन्न हुए।

16 तेरह के वंश के ये ही वंश थे; तेरह से अब्राम, नाहोर और हारान उत्पन्न हुए; और हारान से लूत उत्पन्न हुआ।

17 और हारान अपके पिता तेरह के साम्हने अपके जन्म के देश कसदियोंके ऊर में मर गया।

18 और अब्राम और नाहोर ने उन को ब्याह लिया; और अब्राम की पत्नी का नाम सारै था; और नाहोर की पत्नी का नाम मिल्का, जो हारान की बेटी, और मिल्का का पिता और इस्का का पिता था; परन्तु सारै बांझ थी, और उसके कोई सन्तान न थी।

19 और तेरह ने अपके पुत्र अब्राम को, और हारान के पुत्र लूत को, जो उसके पोते के पोते थे, और अपनी बहू सारै को, जो अपके पुत्र अब्राम की पत्नी या; और उनके संग कसदियोंके ऊर से निकलकर कनान देश में चला गया; और वे हारान में आए, और वहीं रहने लगे।

20 और तेरह की अवस्था दो सौ पांच वर्ष की हुई; और तेरह हारान में मर गया।

अध्याय 12

अब्राम को परमेश्वर की आज्ञा - वह विश्वास से पालन करता है - अब्राम के साथ वाचा - फिरौन ने सारै के लिए त्रस्त किया।

1 अब यहोवा ने अब्राम से कहा, अपके देश, और अपके कुटुम्ब, और अपके पिता के घराने से निकलकर उस देश में चला जा जो मैं तुझे दिखाऊंगा;

2 और मैं तुझ से एक बड़ी जाति बनाऊंगा, और तुझे आशीष दूंगा, और तेरे नाम को बड़ा करूंगा; और तू आशीष ठहरेगा; और जो तुझे आशीर्वाद दें उनको मैं आशीष दूंगा, और जो तुझे शाप देंगे उनको मैं शाप दूंगा; और पृय्वी के कुलोंके घराने तुझ से आशीष पाएंगे।

3 तब अब्राम चला गया, जैसा यहोवा ने उस से कहा था; और लूत उसके साथ चला गया। और जब अब्राम हारान से निकला, तब वह पचहत्तर वर्ष का या।

4 और अब्राम ने अपक्की पत्नी सारै, और अपके भाई के पुत्र लूत को, और जो कुछ उन्होंने इकट्ठा किया था, और जो प्राणी उन्होंने हारान में प्राप्त किए थे, उन सब को भी ले लिया; और वे कनान देश में जाने को निकले; और वे कनान देश में आए।

5 और अब्राम देश से होते हुए शकेम और मोरे के अराबा तक पहुंचा। और उस समय कनानी उस देश में थे।

6 तब यहोवा ने अब्राम को दर्शन देकर कहा, यह देश मैं तेरे वंश को दूंगा। और वहां उस ने यहोवा के लिथे एक वेदी बनाई, जो उसे दिखाई दिया।

7 और वहां से कूच करके उस ने बेतेल के पूर्व की ओर एक पहाड़ पर जाकर अपना तम्बू खड़ा किया, और बेतेल को पच्छिम में छोड़ दिया, और हैई पूर्व की ओर था। और वहां उस ने यहोवा के लिथे एक वेदी बनाई, और यहोवा से प्रार्थना की। और अब्राम दक्खिन की ओर कूच करता गया।

8 और उस देश में अकाल पड़ा; और अब्राम मिस्र में रहने को गया; क्योंकि देश में अकाल भारी पड़ गया था।

9 जब वह मिस्र में प्रवेश करने के लिथे निकट आया, तब उस ने अपक्की पत्नी सारै से कहा, सुन, अब मैं तुझ को देखनेवाली सुन्दर स्त्री जानता हूं; इस कारण जब मिस्री तुझ को देखेंगे, तब कहेंगे, कि यह उसकी पत्नी है; और वे मुझे मार डालेंगे, परन्तु वे तुझे जीवित बचाएंगे; उन से कहो, कि मैं उसकी बहिन हूं; कि तेरे निमित्त मेरा भला हो; और मेरा प्राण तेरे कारण जीवित रहेगा।

10 और ऐसा हुआ कि जब अब्राम मिस्र में आया, तब मिस्रियोंने उस स्त्री को देखा, कि वह बहुत सुन्दर है।

11 फिरौन के हाकिमोंने भी उसे देखकर आज्ञा दी, कि वह फिरौन के साम्हने ले जाए; और उस स्त्री को फिरौन के घर ले जाया गया।

12 और उस ने उसके लिये अब्राम से अच्छी बिनती की; और उसके पास भेड़-बकरी, और बैल, और गदहे, और दास, और दासियां, और वह गदहियां, और ऊंट थे।

13 और अब्राम की पत्नी सारै के कारण यहोवा ने फिरौन और उसके घराने पर बड़ी विपत्तियां डालीं।

14 तब फिरौन ने अब्राम को बुलवाकर कहा, तू ने इस काम में मुझ से क्या किया है? तुमने मुझे क्यों नहीं बताया कि वह तुम्हारी पत्नी थी? तू ने क्यों कहा, वह मेरी बहन है? इसलिथे मैं उसे अपके पास ब्याह ले जाता; अब इसलिथे अब मैं तुझ से कहता हूं, कि अपक्की पत्नी को लेकर चला जा।

15 और फिरौन ने उसके विषय में मनुष्योंको आज्ञा दी; और उन्होंने उसे, और उसकी पत्नी को, और जो कुछ उसका था, उसे विदा किया।

अध्याय 13

अब्राम मिस्र से बाहर चला जाता है - अब्राम और लूत को उनके पदार्थ के साथ अलग करना - अब्राम मम्रे में, लूत सदोम की ओर मैदान में रहता है।

1 और अब्राम अपक्की पत्नी समेत मिस्र से निकलकर दक्खिन की ओर चला गया। और अब्राम पशुओं, चान्दी, और सोने के मामले में बहुत धनी था।

2 और वह दक्खिन से चलकर बेतेल को गया, और उस स्यान को जहां उसका डेरे पहिले से पड़ा या, जो बेतेल और है के बीच में था; वेदी के स्यान तक, जिसे उस ने पहिले उस में बनाया या; और वहाँ अब्राम ने यहोवा से प्रार्थना की।

3 और लूत के पास जो अब्राम के संग चला या, उसके भेड़-बकरी, गाय-बैल, और डेरे थे।

4 और देश उनको सह न सका, कि वे इकट्ठे रहें; क्‍योंकि उनका धन इतना बड़ा था कि वे एक साथ नहीं रह सकते थे। और अब्राम के पशुओं के चरवाहों और लूत के पशुओं के चरवाहों के बीच ऐसा झगड़ा हुआ कि वे एक साथ नहीं रह सकते थे।

5 उस समय कनानी और परिज्जी उस देश में रहते थे।

6 और अब्राम ने लूत से कहा, मेरे और तेरे बीच, और मेरे और तेरे चरवाहोंके बीच में कोई झगड़ा न हो; क्योंकि हम भाई हैं।

7 क्या सारा देश तेरे साम्हने नहीं है? अपने आप को अलग कर, मैं तुझ से प्रार्थना करता हूं, मुझ से; यदि तू बायीं ओर जाए, तो मैं दहिनी ओर जाऊंगा; यदि तू दाहिनी ओर जाता है, तो मैं बाईं ओर जाऊंगा।

8 तब लूत ने आंखें उठाकर यरदन की सारी तराई को देखा, कि जब यहोवा सदोम और अमोरा को मिस्र देश के समान यहोवा की बारी के समान नाश करता है, तब वह सब जगह अच्छी तरह सींचा हुआ है।

9 तब लूत ने उसको यरदन के सारे मैदान में चुन लिया; और लूत पूर्व की ओर चला; और उन्होंने एक को दूसरे से अलग कर लिया।

10 अब्राम कनान देश में रहने लगा, और लूत तराई के नगरोंमें रहने लगा, और अपना तम्बू सदोम के साम्हने खड़ा किया।

11 परन्तु सदोम के लोग पापी होकर यहोवा के साम्हने बहुत दुष्ट थे, यहोवा उन पर क्रोधित हुआ।

12 तब यहोवा ने अब्राम से कहा, जब लूत उसके पास से अलग हो गया, तब अपनी आंखें उठाकर उस स्थान से जहां तू है, उत्तर, दक्खिन, और पूर्व, और पच्छिम की ओर दृष्टि कर;

13 और जो वाचा मैं तुझ से बान्धता हूं उसे स्मरण रखना; क्योंकि वह सदा की वाचा होगी; और अपके पिता हनोक के दिनोंको स्मरण करना;

14 क्‍योंकि जो देश तू को दिखाई देता है वह सब मैं तुझे और तेरे वंश को सदा के लिथे दूंगा; और मैं तेरे वंश को पृय्वी की मिट्टी के समान कर दूंगा; ताकि यदि कोई मनुष्य पृय्वी की मिट्टी को गिन सके, तो तेरा वंश भी गिना जाए।

15 उठ, देश की लम्बाई और चौड़ाई में चल फिर, क्योंकि मैं उसे तुझे दे दूंगा। तब अब्राम ने अपना तम्बू हटा दिया, और मम्रे के अराबा में आकर रहने लगा, जो हेब्रोन में था, और वहां यहोवा के लिथे एक वेदी बनाई।

अध्याय 14

मलिकिसिदक अब्राम को आशीर्वाद देता है, और उसे रोटी और दाखमधु देता है - लूत बंदी बना लिया जाता है, अब्राम द्वारा छुड़ाया जाता है - याजकपद - अब्राम यहोवा के भण्डार के रखवाले मलिकिसिदक को दशमांश देता है।

1 शिनार के राजा अम्रापेल, एल्लासार के राजा अर्योक, एलाम के राजा कदोर्लाओमेर, और राष्ट्रों के राजा टीदल के दिनों में ऐसा हुआ;

2 कि इन राजाओं ने सदोम के राजा बेरा, और अमोरा के राजा बिर्शा, अदमा के राजा शिनाब, और सबोईम के राजा शेमेबेर, और बेला के राजा सोअर से युद्ध किया।

3 ये सब सिद्दीम नाम तराई में जो खारे का समुद्र है, एक साथ मिलाए गए;

4 बारह वर्ष वे कदोर्लाओमेर की सेवा करते रहे, और तेरहवें वर्ष में वे बलवा करते रहे।

5 और चौदहवें वर्ष में कदोर्लाओमेर, और उसके संग के राजा आए, और अशतरोत करनैम में रपाइयोंको, और हाम में जूजियोंको, और शावे किर्यातैम में एमियोंको, और सेईर पर्वत पर होरियोंको एल्परान तक मार लिया, जंगल से था।

6 और वे लौटकर एनमिशपात को, जो कादेश है, और अमालेकियोंके सारे देश को, और एमोरियोंको भी हसेसोनतामार में मार लिया।

7 और सदोम का राजा, और अमोरा का राजा, और अदमा का राजा, और सबोईम का राजा, और बेला का राजा, जो सोअर है, निकल गए;

8 और सिद्दीम नाम तराई में वे उन से लड़ने लगे; एलाम के राजा कदोर्लाओमेर, और राष्ट्रों के राजा ज्वारल, शिनार के राजा अम्रापेल, और एल्लासार के राजा अर्योक के साथ; पाँच के साथ चार राजा।

9 और सिद्दीम की तराई कीचड़ के गड्ढोंसे भर गई; और सदोम और अमोरा के राजा भागकर वहां गिर पड़े; और जो रह गए वे हनबाल नाम पहाड़ पर भाग गए।

10 और वे सदोम और अमोरा का सब माल, और उनका सब भोजन ले कर चल दिए।

11 और वे अब्राम के भाई के पुत्र लूत को, जो सदोम में रहता या, और उसका माल लेकर चले गए।

12 और एक ने आकर जो बच निकला या, और इब्री परमेश्वर के जन अब्राम को यह समाचार दिया, कि वह एशोल के भाई, और आनेर के भाई, एमोरी मम्रे के अराबा में रहता या; और ये अब्राम के संगी थे।

13 और जब अब्राम ने सुना, कि उसके भाई का पुत्र लूत बन्धुआई में है, तब उस ने अपके अपके अपके घर में उत्पन्न हुए तीन सौ अट्ठारह पुरूषोंको हथियार बान्धकर दान का पीछा किया।

14 और उस ने रात को अपके जनों समेत उन से अपने आप को बांट लिया, और उन्हें मार लिया, और होबा तक जो दमिश्क की बाईं ओर था उसका पीछा किया।

15 और वह अपके भाई के पुत्र लूत को, और उसका सारा माल, और स्त्रियों, और लोगोंको भी लौटा ले आया।

16 और सदोम का राजा भी कदोर्लाओमेर और उसके संग के राजाओं के घात से लौटने के बाद शावे नाम तराई में, जो राजा की दली या, उस से भेंट करने को निकला।

17 तब शालेम का राजा मल्कीसेदेक रोटी और दाखमधु लेकर आया; और वह रोटी तोड़कर उस पर आशीष देता है; और वह परमप्रधान परमेश्वर का याजक होकर दाखमधु पिलाता है,

18 और उस ने अब्राम को दिया, और उस ने उसको आशीष दी, और कहा, धन्य अब्राम, तू परमप्रधान परमेश्वर का जन है, और आकाश और पृय्वी का अधिकारी है;

19 और परमप्रधान परमेश्वर का नाम धन्य है, जिस ने तेरे शत्रुओं को तेरे हाथ में कर दिया है।

20 और अब्राम ने जो कुछ ले लिया था उसका दसवां अंश उसे दिया।

21 तब सदोम के राजा ने अब्राम से कहा, वे मनुष्य मुझे दे, और वह माल अपके लिये ले ले।

22 अब्राम ने सदोम के राजा से कहा, मैं ने परमप्रधान परमेश्वर यहोवा की ओर जो आकाश और पृय्वी का स्वामी है, हाथ बढ़ाया है।

23 और शपय खाई है, कि मैं तुझ में से एक धागे से जूती तक न ले लूंगा, और न तेरी कोई वस्तु ले लूंगा, ऐसा न हो कि तू कहे, कि मैं ने अब्राम को धनी बना दिया;

24 केवल वही बचा जो जवानों ने खाया है, और जो भाग मेरे संग चले थे, अर्यात् एनेर, एस्कोल और मम्रे; उन्हें अपना हिस्सा लेने दें।

25 और मलिकिसिदक ने ऊंचे शब्द से अब्राम को आशीर्वाद दिया।

26 मलिकिसिदक विश्वासी व्यक्ति था, जो धर्म के काम करता था; और बालक होकर परमेश्वर का भय मानता, और सिंहोंका मुंह बन्द किया, और आग की आग को बुझाया।

27 और इस प्रकार, परमेश्वर की स्वीकृति पाकर, उस वाचा के अनुसार जो परमेश्वर ने हनोक के साथ की थी, एक महायाजक ठहराया गया,

28 यह परमेश्वर के पुत्र की आज्ञा के अनुसार हुआ है; कौन सा आदेश आया, न तो मनुष्य से, न ही मनुष्य की इच्छा से; न पिता से, न माता से; न तो दिनों की शुरुआत से और न ही वर्षों के अंत से; लेकिन भगवान का;

29 और यह उसकी ही इच्छा के अनुसार, और जितने उसके नाम पर विश्वास करते थे, उसके अपके ही शब्द के बुलाने से मनुष्योंको सौंप दिया गया।

30 क्योंकि परमेश्वर ने हनोक और उसके वंश से अपके अपके ही शपय खाई है; कि हर एक को जो इस आदेश और बुलाहट के अनुसार ठहराया जाए, विश्वास से, पहाड़ों को तोड़ने, समुद्रों को बांटने, जल को सुखा डालने, और उन्हें उनके मार्ग से हटाने की शक्ति प्राप्त हो;

31 अन्यजातियोंकी सेना को ललकारना, और पृय्वी को बांटना, और सब बन्धुओं को तोड़ना, और परमेश्वर के साम्हने खड़े होना; सब कुछ उसकी इच्छा के अनुसार करना, और उसकी आज्ञा के अनुसार प्रधानों और शक्तियों को अपने अधीन करना; और यह परमेश्वर के पुत्र की इच्छा से जो जगत की उत्पत्ति के पहिले से था।

32 और यह विश्वास रखनेवाले मनुष्य परमेश्वर की इस आज्ञा के अनुसार चलकर स्वर्ग पर चढ़ाए गए।

33 और अब मल्कीसेदेक इस रीति का याजक था; इसलिए उसने सलेम में शांति प्राप्त की, और उसे शांति का राजकुमार कहा गया।

34 और उसकी प्रजा ने धर्म का काम किया, और स्वर्ग को प्राप्त किया, और हनोक के उस नगर की खोज की जिसे परमेश्वर ने पहिले ले लिया था, और उसे पृथ्वी पर से अलग कर दिया, और उसे अन्त के दिनोंमें या जगत के अन्त तक सुरक्षित रखा;

35 और उस ने कहा, और शपय खाई है, कि आकाश और पृय्वी एक साथ आ जाएंगे; और परमेश्वर के पुत्रों को आग के समान परखना चाहिए।

36 और यह मलिकिसिदक, इस प्रकार धार्मिकता को स्थापित करके, अपने लोगों द्वारा स्वर्ग का राजा, या, दूसरे शब्दों में, शांति का राजा कहलाया।

37 और उस ने ऊंचे शब्द से बोलकर अब्राम को जो महायाजक और परमेश्वर के भण्डार का रखवाला या, आशीर्वाद दिया;

38 जिसे परमेश्वर ने कंगालों के लिये दशमांश देने के लिये ठहराया है।

39 इसलिए, अब्राम ने जो कुछ उसके पास था, उसका दशमांश उसे दिया, जो उसके पास था, और जो कुछ उसके पास था, जो परमेश्वर ने उसे उसकी आवश्यकता से अधिक दिया था ।

40 और ऐसा हुआ, कि परमेश्वर ने अब्राम को आशीष दी, और उसे धन, और सम्मान, और भूमि सदा की निज भूमि दी; उस वाचा के अनुसार जो उस ने बान्धी या, और जिस आशीष से मलिकिसिदक ने उसे आशीष दी या।

अध्याय 15

परमेश्वर ने अब्राम के साथ वाचा बाँधी — अब्राम का दर्शन — बंधुआई की भविष्यवाणी की।

1 और ऐसा हुआ, कि इन बातोंके पश्‍चात् यहोवा का यह वचन अब्राम के पास दर्शन में पहुंचा, और कहा,

2 हे अब्राम, मत डर; मैं तेरी ढाल बनूंगा; मैं तेरा बहुत बड़ा प्रतिफल बनूंगा। और अपके दास की आशीष के अनुसार मैं तुझे दूंगा।

3 अब्राम ने कहा, हे परमेश्वर यहोवा, तू मुझे क्या देगा, कि मैं निःसंतान हो गया, और दमिश्क का एलीएजेर मेरे घर का भण्डारी ठहराया गया?

4 अब्राम ने कहा, सुन, तू ने मुझे कोई बीज नहीं दिया; और देखो, जो मेरे घर में उत्पन्न हुआ है वह मेरा वारिस है।

5 और देखो, प्रभु का यह वचन फिर उसके पास पहुंचा, कि,

6 यह तेरा वारिस न हो; परन्तु जो तेरे पेट से निकलेगा वही तेरा वारिस होगा।

7 और वह उसे परदेश ले आया, और उस ने कहा, आकाश की ओर दृष्टि करके तारोंको बता, कि क्या तू उन्हें गिन सकता है।

8 उस ने उस से कहा, तेरा वंश वैसा ही होगा।

9 तब अब्राम ने कहा, हे परमेश्वर यहोवा, तू मुझे यह देश क्योंकर सदा की निज भूमि देगा?

10 और यहोवा ने कहा, चाहे तू मर गया, तौभी मैं तुझे दे नहीं सकता?

11 और यदि तू मर भी जाए, तौभी उसका अधिकारी होगा, क्योंकि वह दिन आता है, कि मनुष्य का पुत्र जीवित रहेगा; लेकिन अगर वह मरा नहीं है तो वह कैसे जी सकता है? उसे पहले जल्दी किया जाना चाहिए।

12 और ऐसा हुआ कि अब्राम ने देखा और मनुष्य के पुत्र के दिनों को देखा, और आनन्दित हुआ, और उसकी आत्मा को आराम मिला, और उसने प्रभु में विश्वास किया; और यहोवा ने उसे उसके लिथे धर्म गिना।

13 और यहोवा ने उस से कहा, मैं यहोवा तुझे कसदियोंके ऊर से निकाल लाया, कि यह देश तुझे उसका अधिकारी करने के लिथे दूं।

14 अब्राम ने कहा, हे यहोवा, मैं किस से जानूं कि मैं उसका अधिकारी होऊंगा? तौभी उसने परमेश्वर पर विश्वास किया। और यहोवा ने उस से कहा, मेरे लिये तीन वर्ष की एक बछिया, और तीन वर्ष की एक बकरी, और तीन वर्ष का एक मेढ़ा, और एक पंडुक, और एक कबूतर का बच्चा ले लो।

15 और वह इन सब को अपने पास ले गया, और उन को बीच में बांट दिया, और उस ने एक एक टुकड़े को दूसरे के साम्हने रख दिया; लेकिन पक्षियों ने विभाजित नहीं किया।

16 और जब पक्की लोय पर चढ़ आए, तब अब्राम ने उन्हें दूर भगा दिया। और जब सूर्य अस्त हो रहा था, तब अब्राम को गहरी नींद आई; और, देखो, उस पर अन्धकार का बड़ा भय छा गया।

17 तब यहोवा ने बातें की, और उस ने अब्राम से कहा, निश्चय जान ले, कि तेरा वंश उस देश में परदेशी होगा जो उनका न होगा, और परदेशियोंकी सेवा करेगा; और वे दु:ख उठाकर चार सौ वर्ष तक उनकी उपासना करेंगे; और जिस जाति की वे उपासना करेंगे उसका भी मैं न्याय करूंगा; और उसके बाद वे बड़े सार के साथ निकलेंगे।

18 और तू मर जाएगा, और कुशल से अपके पितरोंके पास चला जाएगा; तू अच्छे बुढ़ापे में दफ़नाया जाएगा।

19 परन्तु वे चौथी पीढ़ी में फिर यहां आएंगे; क्योंकि एमोरियों का अधर्म अभी पूरा नहीं हुआ है।

20 और ऐसा हुआ, कि जब सूर्य अस्त हो गया, और अन्धियारा हो गया, तो क्या देखा, कि एक धधकती भट्टी, और एक जलता हुआ दीपक है, जो उन टुकड़ोंके बीच से होकर गुजरता है जिन्हें अब्राम ने बाँटा था।

21 और उसी दिन यहोवा ने अब्राम से यह वाचा बान्धी, कि यह देश मैं ने मिस्र के महानद से लेकर परात महानदी तक तेरे वंश को दिया है;

22 केनी, कनजी, कदमोनी, हित्ती, परिज्जी, रपाई, एमोरी, कनानी, गिर्गाशी, और यबूसी।

अध्याय 16

अब्राम को सारै का उपहार - भगवान हाजिरा को अब्राम की पत्नी इश्माएल के रूप में स्वीकार नहीं करता है - सारै को एक बच्चे का वादा किया जाता है।

1 अब्राम की पत्नी सारै के कोई सन्तान न हुई। और उसकी एक मिस्री दासी थी, जिसका नाम हाजिरा था।

2 और सारै ने अब्राम से कहा, सुन, यहोवा ने अब मुझे जन्म देने से रोक रखा है; मैं प्रार्थना करता हूं कि तुम मेरी दासी के पास जाओ; हो सकता है कि मैं उसके द्वारा बच्चों को प्राप्त कर सकता हूं। और अब्राम ने सारै की बात सुनी।

3 और अब्राम के कनान देश में दस वर्ष रहने के बाद अब्राम की पत्नी सारै ने अपक्की दासी हाजिरा को ब्याह लिया, और अपके पति अब्राम को ब्याह दिया, कि वह उसकी पत्नी हो।

4 और वह हाजिरा के पास गया, और वह गर्भवती हुई; और जब उस ने देखा, कि मैं गर्भवती हो गई हूं, तो उसकी स्वामिनी उसकी आंखोंमें तुच्छ जाने लगी।।

5 सारै ने अब्राम से कहा, मेरा अधर्म तुझ पर है; मैं ने अपक्की लौंडी को तेरे वश में कर दिया है; और जब उस ने देखा, कि वह गर्भवती हुई है, तो उसकी दृष्टि में मुझे तुच्छ जाना पड़ा; यहोवा मेरे और तेरे बीच न्याय करे।

6 परन्तु अब्राम ने सारै से कहा, सुन, तेरी दासी तेरे हाथ में है; जैसा तुझे अच्छा लगे उसके साथ वैसा ही करो।

7 और जब सारै ने उसके साथ कठिन व्यवहार किया, तब वह उसके साम्हने से भाग गई।

8 और यहोवा के एक दूत ने उसे जंगल में जल के सोते के पास, और शूर के मार्ग में सोते के पास पाया।

9 उस ने कहा, हे सारै की दासी हाजिरा, तू कहां से आई है, और किधर को जाएगी? और उस ने कहा, मैं अपक्की स्वामिनी सारै के साम्हने से भाग गई हूं।

10 तब यहोवा के दूत ने उस से कहा, अपक्की स्वामिनी के पास लौट जा, और अपके अपके आप को उसके हाथ में कर दे।

11 तब यहोवा के दूत ने उस से कहा, यहोवा तेरे वंश को ऐसा बहुत बढ़ा देगा, कि उसकी गिनती बहुत अधिक न होगी।

12 तब यहोवा के दूत ने उस से कहा, सुन, तू गर्भवती है, और तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा, और उसका नाम इश्माएल रखना; क्योंकि यहोवा ने तेरे दु:खोंको सुन लिया है।

13 और वह जंगली मनुष्य ठहरेगा; और उसका हाथ हर एक मनुष्य पर, और एक एक का हाथ उस पर रहेगा; और वह अपके सब भाइयोंके साम्हने वास करेगा।

14 और उसने यहोवा के दूत का नाम रखा।

15 और उस ने उस से कहा, क्या तू जानता है, कि परमेश्वर तुझे देखता है?

16 उस ने कहा, मैं जानती हूं, कि परमेश्वर मुझे देखता है, क्योंकि मैं ने यहां भी उसकी सुधि ली है।

17 और कादेश और बेरेद के बीच में एक कुआं था, जिसके निकट हाजिरा ने दूत को देखा था।

18 और उस दूत का नाम बेर-ला-है-रोई था; इसलिए स्मारक के लिए कुएं को बीर-ला-है-रोई कहा जाता था।

19 और हाजिरा से अब्राम का एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और अब्राम ने अपके पुत्र का नाम, जो हाजिरा के पास है, इश्माएल रखा।

20 और जब हाजिरा ने अब्राम से इश्माएल उत्पन्न किया, तब अब्राम छ: वर्ष का या।

अध्याय 17

अब्राम का नया नाम - खतना की स्थापना।

1 जब अब्राम निन्यानवे वर्ष का हुआ, तब यहोवा ने अब्राम को दर्शन देकर कहा, मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर तुझे एक आज्ञा देता हूं; कि तू मेरे साम्हने खरी चाल चल, और सिद्ध हो।

2 और मैं अपके और तेरे बीच अपक्की वाचा बान्धूंगा, और तुझे बहुत बढ़ाऊंगा।

3 और ऐसा हुआ, कि अब्राम मुंह के बल गिरकर यहोवा से प्रार्थना करने लगा।

4 और परमेश्वर ने उस से बातें कीं, कि मेरी प्रजा मेरे उपदेशोंसे भटक गई है, और मेरी विधियोंको जो मैं ने उनके पुरखाओं को दी या, उनका पालन नहीं किया;

5 और उन्होंने मेरे अभिषेक, और गाड़े जाने, वा बपतिस्मे को जिस की आज्ञा मैं ने उन्हें दी थी, नहीं माना;

6 परन्तु आज्ञा से फिरकर बालकों के स्नान, और छिड़काव के लोहू को अपने ऊपर ले लिया है;

7 और कहा है, कि धर्मी हाबिल का लोहू पापोंके लिथे बहाया गया; और नहीं जानते थे, कि वे मेरे साम्हने कहां उत्तरदायी हैं।

8 परन्तु देख, मैं तुझ से वाचा बान्धूंगा, और तू बहुत जातियोंका पिता होगा।

9 और मैं यह वाचा बान्धता हूं, कि तेरे लड़केबाल सब जातियोंमें प्रसिद्ध हों। न तो तेरा नाम फिर अब्राम कहलाएगा, वरन तेरा नाम इब्राहीम रखा जाएगा; क्योंकि मैं ने तुझे बहुत सी जातियों का पिता बनाया है।

10 और मैं तुझ को बहुत फलवन्त करूंगा, और तुझ में से जातियां बनाऊंगा, और तेरे और तेरे वंश से राजा उत्पन्न होंगे।

11 और मैं तेरे साथ खतने की वाचा बान्धूंगा, और वह मेरे और तेरे बीच में, और तेरे बाद तेरे वंश की पीढ़ी पीढ़ी में मेरी वाचा ठहरेगी; कि तू सदा यह जान ले, कि बालक आठ वर्ष के होने तक मेरे साम्हने उत्तरदायी नहीं होते।

12 और मेरी उन सब वाचाओं का पालन करना, जो मैं ने तेरे पुरखाओं से बान्धी थीं, मानना; और जो आज्ञाएं मैं ने अपके मुंह से तुझे दी हैं उनका पालन करना, और मैं तेरा और तेरे पीछे तेरा वंश परमेश्वर ठहरूंगा।

13 और मैं तुझे और तेरे बाद तेरे वंश को एक देश दूंगा, जिस में तू परदेशी है; कनान का सारा देश सदा की निज भूमि के लिथे; और मैं उनका परमेश्वर ठहरूंगा।

14 और परमेश्वर ने इब्राहीम से कहा, इसलिथे तू मेरी वाचा को, और अपके बाद अपके वंश को उनकी पीढ़ी पीढ़ी में मानना।

15 और जो वाचा तुम मेरे और अपके और अपके बाद अपके वंश के बीच में रखना वह मेरी वाचा ठहरे; तुम में से हर एक पुरूष का खतना किया जाएगा।

16 और अपक्की चमड़ी के मांस का खतना करना; और वह मेरे और तुम्हारे बीच वाचा का चिन्ह ठहरे।

17 और तुम में से जो कोई आठ दिन का हो, उसका खतना किया जाए;

18 वह जो घर में उत्पन्न हुआ हो, वा किसी परदेशी से मोल लिया हो, जो तेरे वंश का नहीं है।

19 जो तेरे घर में उत्पन्न हो, और जो तेरे रुपयों से मोल लिया जाए, उसका खतना किया जाए, और मेरी वाचा सदा की वाचा के लिथे तेरे शरीर में बनी रहे।

20 और जिस खतनारहित पुरूष की चमड़ी के मांस का खतना न हुआ हो, वह अपनी प्रजा में से नाश किया जाए, उसी ने मेरी वाचा को तोड़ा है।

21 और परमेश्वर ने इब्राहीम से कहा, तेरी पत्नी सारै के विषय में, तू उसका नाम सारै न रखना, परन्तु सारा का नाम रखना।

22 और मैं उसको आशीर्वाद दूंगा, और उसका एक पुत्र तुझे दूंगा; वरन राष्ट्रों की माता, मैं उसे आशीर्वाद दूंगा, और वह आशीष पाएगी; राजा और लोग उसके होंगे।

23 तब इब्राहीम मुंह के बल गिरकर आनन्दित हुआ, और मन ही मन कहने लगा, कि सौ वर्ष के पुरूष के सन्तान उत्‍पन्‍न होगा, और सारा नब्बे वर्ष की होगी।

24 तब इब्राहीम ने परमेश्वर से कहा, भला इश्माएल तेरे साम्हने सीधा जीवित रहे!

25 और परमेश्वर ने कहा, तेरी पत्नी सारा से तेरे एक पुत्र उत्पन्न होगा, और तू उसका नाम इसहाक रखना; और मैं उसके साथ भी अपनी वाचा बान्धूंगा, क्योंकि उसके बाद उसके वंश के साथ सदा की वाचा होगी।

26 और इश्माएल के विषय में मैं ने तेरी सुनी है; देख, मैं ने उसको आशीष दी है, और फूला करूंगा, और बहुत बढ़ाऊंगा;

27 उस से बारह हाकिम उत्पन्न होंगे, और मैं उसके द्वारा एक बड़ी जाति बनाऊंगा।

28 परन्तु मैं इसहाक के साथ अपनी वाचा बान्धूंगा, जिसे सारा अगले वर्ष के इसी समय पर तुझ से उठाएगी।

29 और उस ने उस से बातें करना छोड़ दिया; और परमेश्वर इब्राहीम के पास से ऊपर गया।

30 और इब्राहीम ने अपके पुत्र इश्माएल को, और जितने उसके घराने में उत्पन्न हुए, और जितने उसके रुपए से मोल लिए गए थे, उन सभोंको, अर्थात् इब्राहीम के घराने के सब पुरूषोंको ले लिया; और जैसा परमेश्वर ने उस से कहा या, उसी दिन उनकी चमड़ी के मांस का खतना किया।

31 और जब इब्राहीम का खतना अपके चमड़ी के मांस से हुआ, तब वह निन्यानवे वर्ष का या।

32 और जब इश्माएल का खतना हुआ, तब वह तेरह वर्ष का या।

33 उसी दिन इब्राहीम और उसके पुत्र इश्माएल का खतना हुआ; और उसके घर के सब पुरूषोंका, जो उसके घर में उत्पन्न हुए, और परदेशियोंके रुपयोंसे मोल लिये गए हों, उनका भी खतना उसके साथ किया गया।

अध्याय 18

प्रभु इब्राहीम को प्रकट होता है - लूत को ईश्वर की चेतावनी दी जाती है, वह भाग जाता है।

1 और मम्रे के अराबा में यहोवा ने इब्राहीम को दर्शन दिए। और वह दिन की तपिश में अपके डेरे के द्वार पर बैठ गया;

2 और उस ने आंखें उठाकर क्या देखा, कि तीन पुरूष उसके पास खड़े हैं; और यह देखकर वह अपके डेरे के द्वार से उन से भेंट करने को दौड़ा, और भूमि की ओर दण्डवत् करके कहा;

3 हे मेरे भाइयो, यदि अब मुझ पर तेरे अनुग्रह की दृष्टि हो, तो दूर न जाना, मैं अपके दास से बिनती करता हूं।

4 और थोड़ा सा जल तुम ले आओ, और अपके पांव धोकर उस वृझ के नीचे विश्राम करो, तब मैं एक टुकड़ा रोटी लाकर तुम्हारे मन को शान्ति दूंगा; उसके बाद तुम आगे बढ़ोगे; क्‍योंकि तुम अपके दास के पास आए हो। उन्होंने कहा, जैसा तू ने कहा है, वैसा ही करो।

5 तब इब्राहीम ने फुर्ती से सारा के पास डेरे में जाकर कहा, तीन सआ उत्तम भोजन फुर्ती से तैयार करना, और गूथना, और चूल्हे पर रोटियां बनाना।

6 तब इब्राहीम भेड़-बकरी के पास दौड़ा, और एक कोमल और अच्छा बछड़ा ले कर एक जवान को दिया, और वह फुर्ती से उसको पहिनने लगा।

7 और उस ने मक्खन और दूध, और बछड़ा जो उस ने पहिनाया या, उन्हें लेकर उनके आगे रखा, और वह उनके पास वृझ के नीचे खड़ा रहा, और वे खाने लगे।

8 और उन्होंने उस से पूछा, तेरी पत्नी सारा कहां है? उस ने कहा, देख, तम्बू में।

9 और उन में से एक ने इब्राहीम को आशीर्वाद दिया, और उस ने कहा, मैं अपनी यात्रा से निश्चय तेरे पास लौटूंगा, और क्या देख, तेरी पत्नी सारा के जीवन के समय के अनुसार एक पुत्र उत्पन्न होगा।

10 और सारा ने डेरे के द्वार पर उसकी सुनी।

11 और अब इब्राहीम और सारा बूढ़े हो गए, और बूढ़े हो गए; इस कारण सारा के साथ स्त्रियों की नाईं न रही;

12 इसलिथे सारा मन ही मन हंसा, और कहने लगी, हे मेरे प्रभु के भी बूढे होने के कारण क्या मैं बूढ़ी हो जाऊंगी?

13 तब यहोवा के दूत ने इब्राहीम से कहा, सारा यह कहकर क्यों हंस पड़ी, कि क्या मैं निश्चय एक बालक उत्पन्न करूंगा, जो बूढ़ा हो गया है? क्या प्रभु के लिए कुछ भी कठिन है?

14 नियत समय पर देख, मैं अपके उस मार्ग से जिसे यहोवा ने मुझे भेजा है, तेरे पास लौट आऊंगा; और जीवन के समय के अनुसार तुम जान सको कि सारा के एक पुत्र होगा।

15 तब सारा ने यह कहकर इन्कार किया, कि मैं नहीं हंसा; क्योंकि वह डरती थी। उस ने कहा, नहीं, परन्तु तू हंसा।

16 तब स्वर्गदूतों ने वहां से उठकर सदोम की ओर दृष्टि की; और इब्राहीम उनके साथ उन्हें मार्ग में ले चलने को गया।

17 और यहोवा के दूत ने कहा, क्या मैं इब्राहीम से वह बात छिपाऊं जो यहोवा उसके लिथे करेगा; यह देखकर कि इब्राहीम निश्चय एक बड़ी और शक्तिशाली जाति बनेगा, और पृथ्वी की सारी जातियां उस में आशीष पाएंगी?

18 क्योंकि मैं उसे जानता हूं, कि वह अपके लड़केबालोंको, और अपके पीछे अपके घराने को भी आज्ञा देगा, और वे न्याय और न्याय करने के लिथे यहोवा के मार्ग पर बने रहेंगे, जिस से जो कुछ यहोवा ने इब्राहीम से उसके विषय में कहा है उसे पूरा करे।

19 और यहोवा के दूत ने इब्राहीम से कहा, यहोवा ने हम से कहा, सदोम और अमोरा की दोहाई बड़ी है, और उनका पाप बड़ा भारी है, इसलिये मैं उनका नाश करूंगा।

20 और मैं तुम्हें भेजूंगा, और तुम अब नीचे जाकर देखोगे कि उनके अधर्म के कामोंका फल उन्हें मिला है।

21 और उस की चिल्लाहट के अनुसार जो मुझ तक पहुंची है, सब काम पूरा कर लेना।

22 और यदि तुम ऐसा न करो, तो वह तुम्हारे सिर पर ठहरेगा; क्‍योंकि मैं उनको नाश करूंगा, और तुम जान लोगे कि मैं यह करूंगा, क्‍योंकि वह तुम्हारी आंखोंके साम्हने होगा।

23 और वे दूत जो पवित्र पुरुष थे, और परमेश्वर की आज्ञा के अनुसार भेजे गए थे, वहां से मुंह फेरकर सदोम की ओर चल दिए।

24 परन्तु इब्राहीम यहोवा के साम्हने खड़ा रहा, और उन बातों को स्मरण करता रहा जो उस से कही गई थीं।

25 तब इब्राहीम सदोम के पास गया, और यहोवा से कहा, कि क्या तू दुष्टोंके संग धर्मी को भी नाश करेगा? क्या तू उन्हें नहीं बख्शेगा?

26 क्या नगर के भीतर पचास धर्मी हों, क्या तू भी उस में के पचास धर्मियोंके लिथे स्थान को नाश न करेगा?

27 भला हो, जो तुझ से दूर रहे, कि इस रीति से करे, कि दुष्ट के संग धर्मी को भी घात करे; और धर्मी दुष्ट के समान हों।

28 हे परमेश्वर, जो तुझ से दूर रहे, क्या सारी पृथ्वी का न्यायी न्याय न करेगा?

29 और यहोवा ने इब्राहीम से कहा, यदि तू सदोम में पचास धर्मी पाए, जो नगर में हों, तो मैं उनके निमित्त सारे स्थान को छोड़ दूंगा।

30 और इब्राहीम ने उत्तर दिया, सुन, अब मैं ने यहोवा से बातें करने को अपने ऊपर ले लिया है, जो नगर को नाश कर सकता है, और सब लोगोंको मिट्टी और राख में डाल सकता है;

31 क्या यहोवा उन्हें उन पचास धर्मियोंमें से पांच की घटी होने के लिथे सदा के लिथे छोड़ देगा; क्या तू उस में पैंतालीस धर्मी पाए जाने पर सारे नगर को उनकी दुष्टता के कारण नाश करेगा?

32 उस ने कहा, मैं नाश न करूंगा, वरन उनको छोड़ दूंगा।

33 और उस ने उस से फिर कहा, क्या क्या वहां चालीस मिलें?

34 उस ने कहा, मैं उसे चालीस के निमित्त नाश न करूंगा।

35 और उस ने फिर यहोवा से कहा, हे यहोवा क्रोधित न हो, और मैं कहूंगा: क्या वहां तीस पाए जाएंगे?

36 उस ने कहा, यदि तुझे वहां तीस मिलें, तो मैं उनको नाश न करूंगा।

37 उस ने कहा, सुन, मैं ने यहोवा से बातें करने को अपने ऊपर ले लिया है; यदि वहाँ बीस मिले हों, तो क्या तू उन्हें नष्ट कर देगा?

38 उस ने कहा, मैं उन्हें बीस के कारण नाश न करूंगा।

39 और इब्राहीम ने यहोवा से कहा, हे यहोवा को क्रोध न करने पाए, और मैं अभी भी कहूंगा, परन्तु यह एक बार, दस अवसर मिलेंगे?

40 और यहोवा ने कहा, मैं दस के कारण उनका नाश न करूंगा। और यहोवा ने इब्राहीम से बातें करना बन्द कर दिया।

41 जब वह यहोवा से बातें करना छोड़ चुका, तब इब्राहीम चला गया।

42 और ऐसा हुआ कि इब्राहीम अपने डेरे को लौट गया ।

अध्याय 19

सदोम और अमोरा को उखाड़ फेंकना — लूत की खराई — परमेश्वर की दया — लूत की उड़ान — लूत की पत्नी का नाश — लूत की बेटियों का अधर्म।

1 और सांफ को तीन दूत सदोम के पास आए; और लूत सदोम नगर में अपके घर के द्वार पर बैठ गया।

2 और लूत स्वर्गदूतों को देखकर उन से भेंट करने को उठा; और वह भूमि की ओर मुंह करके दण्डवत् किया;

3 और उस ने कहा, हे मेरे प्रभुओं, सुन, अपके दास के घर में लौट, और रात भर रह, और अपके पांव धो, तब सवेरे उठकर अपके मार्ग पर चलना।

4 उन्होंने कहा, नहीं; परन्तु हम रात भर गली में रहेंगे।

5 और उस ने उन पर बहुत दबाव डाला; और वे उसकी ओर फिरे, और उसके घर में गए; और उस ने उनके लिये जेवनार की, और अखमीरी रोटी सेंकी, और उन्होंने खाया।

6 परन्तु उनके विश्राम करने के लिथे लेटने से पहिले, सदोम के नगर के पुरूषोंने भवन को चारोंओर से घेर लिया, अर्यात् क्या बूढ़े क्या जवान थे, वरन चारोंओर के लोग भी;

7 और उन्होंने लूत को बुलाकर उस से पूछा, वे मनुष्य कहां हैं जो आज रात तेरे पास आए हैं? उन्हें हमारे पास बाहर ले आओ, कि हम उन्हें जानें।

8 और लूत उनके पास द्वार से निकलकर उनके पीछे द्वार बन्द करके कहा, हे भाइयो, मैं तुम से बिनती करता हूं, कि ऐसी दुष्टता न करो।

9 उन्होंने उस से कहा, पीछे जा। और वे उससे नाराज़ थे।

10 और वे आपस में कहने लगे, कि यह एक मनुष्य हमारे बीच परदेशी रहने के लिथे आया है, और अब वह अपके आप को न्यायी ठहराएगा; अब हम उनके साथ उससे भी बुरा व्यवहार करेंगे।

11 इसलिथे उन्होंने उस पुरूष से कहा, हम पुरूष और तेरी बेटियां भी पा लेंगे; और हम उनके साथ वैसा ही करेंगे जैसा हमें अच्छा लगेगा।

12 अब यह सदोम की दुष्टता के बाद हुआ।

13 लूत ने कहा, सुन, मेरी दो बेटियां हैं, जो मनुष्य को नहीं जानतीं; मैं तुम से बिनती करता हूं, कि मैं अपके भाइयोंसे बिनती करूं, कि मैं उनको तुम्हारे पास बाहर न ले आऊं; और जो तेरी दृष्टि में भला लगे, उन से न करना;

14 क्योंकि परमेश्वर अपने दास को इस बात में धर्मी नहीं ठहराएगा; इसलिए, मैं अपने भाइयों से केवल एक ही बार यह बिनती करूं कि तुम उन लोगों से कुछ न करना, कि उन्हें मेरे घर में शांति मिले; क्‍योंकि वे मेरी छत की छाया में आ गए।

15 और वे लूत से क्रुद्ध हुए, और द्वार तोड़ने के लिथे निकट आए, परन्तु परमेश्वर के दूतोंने जो पवित्र पुरुष थे, हाथ बढ़ाकर लूत को उनके पास घर में खींच लिया, और द्वार बन्द कर लिया।

16 और उन्होंने छोटे क्या बड़े, क्या अन्धे हुए पुरूषोंको ऐसा मारा, कि वे द्वार पर न आ सके।

17 और वे इतने क्रोधित हुए, कि द्वार को ढूंढ़ने के लिथे थक गए, और न पा सके।

18 और इन पवित्र जनोंने लूत से कहा, क्या यहां तेरे दामादोंऔर अपने बेटे-बेटियोंको छोड़ और कोई है?

19 और उन्होंने लूत को यह आज्ञा दी, कि जो कुछ तेरे पास नगर में है, वही इस स्यान से निकालना, क्योंकि हम इस स्थान को नाश करेंगे;

20 क्‍योंकि उन की दोहाई बड़ी हो गई है, और उनके घिनौने काम यहोवा के साम्हने उठ गए हैं; और यहोवा ने हम को उसको नाश करने के लिथे भेजा है।

21 तब लूत ने निकलकर अपके दामादोंसे, जिन्होंने उसकी बेटियोंको ब्याह लिया या, कहा, उठ, इस स्यान से निकल जा, क्योंकि यहोवा इस नगर को नाश करेगा।

22 परन्तु वह अपके दामादोंको ठट्ठा करनेवाला सा जान पड़ता था।

23 जब भोर हुई, तब स्वर्गदूतोंने लूत को फुर्ती से कहा, उठ, अपक्की पत्नी और अपनी दोनों बेटियोंको जो यहां हैं, ले जा, ऐसा न हो कि तू नगर के अधर्म में भस्म हो जाए।

24 और जब वह लेटे रहा, तब स्वर्गदूतों ने उसका हाथ, और उसकी पत्नी, और उसकी दोनों पुत्रियों का हाथ थाम लिया; यहोवा उन पर दया करता है; और उन्हों ने निकालकर नगर के बाहर धर दिया।

25 और ऐसा हुआ कि जब वे उन्हें विदेश ले आए, तब उन्होंने उन से कहा, अपक्की जान बचाकर भाग जाओ; न पीछे मुड़कर देखना, और न मैदान में रहना; पहाड़ पर भाग जाओ, ऐसा न हो कि तुम भस्म हो जाओ।

26 और लूत ने उन में से एक से कहा, हे मेरे प्रभु, ऐसा नहीं है! अब देख, तेरे दास पर तेरी दृष्टि में अनुग्रह हुआ है, और तू ने अपनी उस करूणा को बढ़ाया है जो तू ने मेरे प्राण को बचानेके लिथे मुझ पर दिखाई है; और मैं पहाड़ पर भाग नहीं सकता, ऐसा न हो कि कोई विपत्ति मुझ पर चढ़ जाए, और मैं मर जाऊं।

27 देखो, यहां एक और नगर है, और वह भाग जाने के निकट है, और वह छोटा है; ओह, मुझे वहां से भाग जाने दे, और यहोवा उसे नाश न करे, और मेरा प्राण जीवित रहेगा।

28 तब स्वर्गदूत ने उस से कहा, सुन, मैं ने इस बात के विषय में भी तुझे ग्रहण किया है, कि इस नगर को, जिसके विषय में तू ने कहा है, ढा न दूंगा; फुर्ती से वहां से भाग निकल, क्योंकि जब तक तू वहां न पहुंच जाए, तब तक मैं कुछ नहीं कर सकता।

29 और उस नगर का नाम सोअर रखा गया। इसलिथे जब लूत सोअर में आया, तब सूर्य पृय्वी पर उदय हुआ।

30 और जब तक लूत सोअर में प्रवेश न कर गया तब तक यहोवा ने सदोम को नाश न किया।

31 और जब लूत सोअर में गया, तब यहोवा ने सदोम और अमोरा पर वर्षा की; क्‍योंकि स्‍वर्गदूतों ने स्‍वर्ग में से गन्‍धक और यहोवा की ओर से आग के लिथे यहोवा का नाम पुकारा है।

32 और इस प्रकार उन्होंने उन नगरोंऔर सारे तराई क्षेत्रों, और नगरोंके सब निवासियों, और जो भूमि पर उग आए थे, उन्हें उलट दिया।

33 परन्तु जब लूत भाग गया, तब उसकी पत्नी ने पीछे से देखा, और वह नमक का खम्भा बन गई।

34 बिहान को इब्राहीम तड़के उठकर उस स्थान को जहां वह यहोवा के साम्हने खड़ा था; और उस ने सदोम और अमोरा की ओर, और अराबा के सारे देश की ओर दृष्टि करके क्या देखा, कि देश का धुंआ भट्टी की नाईं उठ रहा है।

35 और जब परमेश्वर ने तराई के नगरोंको नाश किया, तब परमेश्वर ने इब्राहीम से कहा, कि मैं ने लूत को स्मरण किया है, और उसको ढांप के बीच से निकाल दिया, कि तेरा भाई तब नाश न हो, जब मैं ने उस नगर को ढा दिया, जिसमें तेरा भाई लूत रहता था।

36 और इब्राहीम को शान्ति मिली। और लूत सोअर से निकलकर पहाड़ पर रहने लगा, और अपक्की दोनों बेटियां उसके संग रहने लगी; क्योंकि वह सोअर में रहने से डरता था। और वह अपनी दोनों बेटियों समेत एक गुफा में रहने लगा।

37 और पहिलौठे ने दुष्टता से काम लिया, और छोटे से कहा, हमारा पिता बूढ़ा हो गया है, और पृथ्वी पर हमारा कोई पुरूष नहीं, जो हमारे पास आकर पृय्वी के सब रहनेवालोंकी रीति पर हमारे संग रहे;

38 सो आओ, हम अपके पिता को दाखमधु पिलाएं, और उसके साथ सोएं, कि अपके पिता के वंश की रक्षा करें।

39 और उन्होंने दुष्टता की, और उसी रात उन्होंने अपके पिता को दाखमधु पिलाया; और जेठा भीतर जाकर अपके पिता के पास सो गई; और न वह कब लेटी, और न कब उठी।

40 और दूसरे दिन ऐसा हुआ, कि पहिलौठे ने छोटे से कहा, सुन, मैं कल रात अपके पिता के पास सोता रहा; आओ, हम आज रात उसे भी दाखमधु पिलाएं, और भीतर जाकर उसके साथ सोएं, कि हम अपके पिता के वंश को बचाए रखें।

41 और उस रात भी उन्होंने अपके पिता को दाखमधु पिलाया; और छोटी उठकर उसके संग सो गई, और न वह कब लेटी, और न कब उठी, यह उस ने पहिचान लिया।

42 लूत की दोनों बेटियाँ योंही थीं जिनके पिता से सन्तान उत्पन्‍न हुई।

43 और जेठे के एक पुत्र उत्पन्न हुआ, और उसका नाम मोआब रखा; मोआबियों का पिता वही है जो आज तक है।

44 और छोटी से उसके एक पुत्र भी उत्पन्न हुआ, और उसका नाम बेन-अम्मी रखा; जो बच्चे अम्मोनी हैं उनके पिता; वही जो आज तक हैं।

अध्याय 20

इब्राहीम गरार को जाता है - अब्राहम और सारा को अबीमेलेक ने डांटा।

1 तब इब्राहीम वहां से कूच करके दक्खिन देश को गया, और कादेश और शूर के बीच में रहने लगा, और गरार में रहने लगा।

2 और इब्राहीम ने अपक्की पत्नी सारा के विषय में फिर कहा, वह मेरी बहिन है।

3 और गरार के राजा अबीमेलेक ने भेजकर सारा को ले लिया। परन्तु परमेश्वर रात को स्वप्न में अबीमेलेक के पास आया, और उस से कहा, सुन, तू ने एक ऐसी स्त्री को ले लिया है जो तेरी नहीं है, क्योंकि वह इब्राहीम की पत्नी है।

4 और यहोवा ने उस से कहा, तू उसे इब्राहीम के पास लौटा दे, क्योंकि यदि तू ऐसा न करे तो मर जाएगा।

5 और अबीमेलेक उसके निकट न आया या; क्‍योंकि यहोवा ने उसको दु:ख न दिया था।

6 उस ने कहा, हे प्रभु, क्या तू मुझे और धर्मी जाति को भी घात करेगा? देख, उस ने मुझ से नहीं कहा, वह मेरी बहिन है? और उस ने आप ही कहा, वह मेरा भाई है; और मैं ने अपने मन की खराई और अपने हाथों की निर्दोषता से यह किया है।

7 और परमेश्वर ने स्वप्न में उस से कहा, हां, मैं जानता हूं, कि तू ने अपके मन की खराई से यह किया है; क्योंकि मैं ने भी तुझे अपने विरुद्ध पाप करने से रोक रखा है; इसलिथे मैं ने तुझे उसको छूने को न सहा।

8 सो अब उस पुरूष की पत्नी को उसको फेर दे, क्योंकि वह भविष्यद्वक्ता है, और वह तेरे लिथे प्रार्यना करेगा, और तू जीवित रहेगा; और यदि तू उसे उसे न फेर दे, तो जान ले कि तू निश्चय मर जाएगा; तू और वह सब जो तेरे हैं।

9 बिहान को अबीमेलेक ने तड़के उठकर अपके कर्मचारियोंको बुलाकर ये सब बातें उन से कह सुनाईं; और पुरुष बहुत डरे हुए थे।

10 तब अबीमेलेक ने इब्राहीम को बुलाकर उस से कहा, तू ने हम से क्या किया है? और जिस बात से तू ने मुझ पर और मेरे राज्य पर बड़ा पाप किया है, उस से मैं ने तेरा क्या बिगाड़ा है?

11 तू ने मेरे साथ ऐसे काम किए हैं जो नहीं किए जाने चाहिए। और अबीमेलेक ने इब्राहीम से कहा, तू ने क्या देखा, कि तू ने यह काम किया है?

12 तब इब्राहीम ने कहा, मैं ने निश्चय सोचा, कि इस स्थान में परमेश्वर का भय नहीं, और वे मेरी पत्नी के निमित्त मुझे घात करेंगे;

13 तौभी वह सचमुच मेरी बहिन थी; वह मेरे पिता की बेटी तो थी, पर मेरी माता की बेटी नहीं; और वह मेरी पत्नी बन गई।

14 और ऐसा हुआ कि जब परमेश्वर ने मुझे मेरे पिता के घर से भटका दिया, तब मैं ने उस से कहा, कि जहां जहां जहां हम जाएं वहां अपनी करूणा जो तू मुझ पर दिखाए, वह यही होगी, कि मेरे विषय में कह, कि वह है मेरा भाई।

15 और अबीमेलेक ने भेड़-बकरी, और गाय-बैल, और दास-दासियां लेकर इब्राहीम को दिया, और उसकी पत्नी सारा को उसे लौटा दिया।

16 अबीमेलेक ने कहा, सुन, मेरा देश तेरे साम्हने पड़ा है; जहाँ तुझे अच्छा लगे वहीं रहना।

17 उस ने सारा से कहा, सुन, मैं ने तेरे भाई को चान्दी के एक हजार सिक्के दिए हैं; देख, वह तुझे आंखों का एक ओढ़ना देगा, और वह सब के लिथे एक चिन्ह ठहरेगा, कि तू अपके पति इब्राहीम से फिर न छीनी जाएगी। और इस प्रकार उसे फटकार लगाई गई।

18 तब इब्राहीम ने परमेश्वर से प्रार्यना की; और परमेश्वर ने अबीमेलेक, और उसकी पत्नी, और दासियोंको चंगा किया, और वे उसके सन्तान उत्पन्न हुईं।

19 क्योंकि इब्राहीम की पत्नी सारा के कारण यहोवा ने अबीमेलेक के घराने के सब गर्भ बन्द कर दिए थे।

अध्याय 21

इब्राहीम से पैदा हुआ एक बेटा - इसहाक का नाम - बॉन्डवुमन को निकाल दिया गया - अबीमेलेक के साथ वाचा।)

1 और यहोवा ने सारा के कहने के अनुसार भेंट की, और यहोवा ने सारा से जैसा उस ने अपके दूतोंके मुख से कहा या, वैसा ही किया; क्योंकि सारा गर्भवती हुई और उसके बुढ़ापे में इब्राहीम के एक पुत्र उत्पन्न हुआ, जिस समय परमेश्वर के दूतोंने उस से बातें की थीं।

2 और इब्राहीम ने अपके जो पुत्र उत्पन्न हुआ या, उसका नाम इसहाक रखा, कि वह सारा से उत्पन्न हुआ।

3 और इब्राहीम ने अपके पुत्र इसहाक का खतना किया, वह आठ दिन का या, जैसा परमेश्वर ने उसे आज्ञा दी या।

4 जब इब्राहीम का पुत्र इसहाक हुआ, तब वह सौ वर्ष का या।

5 और सारा ने कहा, परमेश्वर ने मुझे आनन्दित किया है; और जितने मुझे जानते हैं वे सब मेरे साथ आनन्द करेंगे।

6 और उस ने इब्राहीम से कहा, कौन कहता, कि सारा को दूध पिलाना चाहिए? क्‍योंकि मैं बांझ था, परन्‍तु यहोवा ने प्रतिज्ञा की, और मैं ने इब्राहीम के बुढ़ापे में एक पुत्र उत्‍पन्‍न किया।

7 और बालक बड़ा हुआ, और दूध छुड़ाया गया। और जिस दिन इसहाक का दूध छुड़ाया गया, उस दिन इब्राहीम ने बड़ी जेवनार की, और सारा ने मिस्री हाजिरा के पुत्र को, जिसे हाजिरा ने इब्राहीम से उत्पन्न किया या, ठट्ठा करते हुए देखा; और वह परेशान थी।

8 इसलिथे उस ने इब्राहीम से कहा, इस दासी और उसके पुत्र को निकाल दे; क्योंकि इस दासी का पुत्र मेरे पुत्र इसहाक के साथ वारिस न होगा।

9 और यह बात उसके पुत्र के कारण इब्राहीम को बहुत भारी पड़ी।

10 और परमेश्वर ने इब्राहीम से कहा, लड़के, और अपक्की दासी के कारण तेरी दृष्टि में यह कठिन न हो; सारा ने जो कुछ तुझ से कहा है, उस सब में उसकी बात मान; क्योंकि इसहाक में तेरा वंश कहलाएगा।

11 और दासी के पुत्र से भी मैं एक जाति बनाऊंगा, क्योंकि वह तेरा वंश है।

12 बिहान को इब्राहीम तड़के उठा, और रोटी और जल का कटोरा लेकर हाजिरा को दिया, और उस ने बालक को लेकर उस ने उसे विदा किया; और वह चली गई, और बेर्शेबा के जंगल में फिरती रही।

13 और ऐसा हुआ कि पानी बोतल में खर्च हो गया, और उसने बच्चे को झाड़ियों में से एक के नीचे डाल दिया, और वह जाकर बच्चे के साम्हने बैठ गई, एक अच्छे रास्ते में, जैसे वह धनुष के समान हो; क्योंकि उस ने कहा, मैं बालक की मृत्यु को न देखूं।

14 और वह बालक के साम्हने बैठ गई, और ऊंचे शब्द से रोई।

15 और परमेश्वर ने उस लड़के की आवाज सुनी; और यहोवा के दूत ने हाजिरा को स्वर्ग से बुलाकर उस से कहा;

16 हे हाजिरा, तुझे क्या हुआ? मत डर, क्योंकि परमेश्वर ने उस लड़के का शब्द जहां वह लेटा है, सुन लिया है; उठ, उस लड़के को उठाकर अपने हाथ में ले, क्योंकि मैं उस से एक बड़ी जाति बनाऊंगा।

17 और परमेश्वर ने उसकी आंखें खोलीं, और उस ने जल का एक कुआं देखा; और उस ने जाकर उस प्याले में जल भरकर उस लड़के को पिलाया।

18 और परमेश्वर उस लड़के के संग या; और वह बड़ा हुआ, और जंगल में रहने लगा, और धनुर्धर बन गया; और वह अपक्की माता समेत पारान नाम जंगल में रहने लगा।

19 और उस ने अपके एक पत्‍नी को मिस्र देश से ब्याह लिया।

20 उस समय अबीमेलेक और उसके सेनापति पीकोल ने इब्राहीम से कहा, कि जो कुछ तू करता है उस में परमेश्वर तेरे संग रहता है।

21 सो अब यहां मुझ से शपय खा, कि परमेश्वर की सहायता से तू मुझ से, न मेरे पुत्र से, और न मेरे पुत्र के पुत्र से मिथ्या व्यवहार करेगा; परन्तु यह कि जो करूणा मैं ने तुझ पर दिखाई है उसके अनुसार तू मुझ से और जिस देश में तू रहने आया है वैसा ही करना।

22 इब्राहीम ने कहा, मैं शपय खाऊंगा।

23 और इब्राहीम ने अबीमेलेक को ताड़ना दी, क्योंकि अबीमेलेक के सेवकोंने जल के एक कुएं को उठा लिया था।

24 अबीमेलेक ने कहा, तू ने मुझ से न कहा; और मैं नहीं जानता कि यह काम किस ने किया है; और मैं ने अब तक नहीं सुना, कि यह आज तक किया गया है।

25 और इब्राहीम ने भेड़-बकरी और बैल ले कर अबीमेलेक को दिए; और उन दोनों ने वाचा बान्धी।

26 और इब्राहीम ने भेड़-बकरियोंके सात भेड़ के बच्चे अलग रखे।

27 और अबीमेलेक ने इब्राहीम से कहा, तू इन सात बच्चियोंसे क्या करेगा जिन्हें तू ने अलग रखा है?

28 उस ने कहा, सात भेड़ के बच्चे मेरे हाथ में लेना, कि वे मेरे साझी हों, कि मैं ने यह कुआं खुदा है।

29 और उन दोनों ने शपय खाई, इसलिथे उस ने उस स्यान का नाम बेर्शेबा रखा;

30 और इस प्रकार उन्होंने बेर्शेबा में वाचा बान्धी;

31 तब अबीमेलेक और उसके सेनापति पीकोल ने उठकर बेर्शेबा में एक अण्डा लगाया, और वहां यहोवा से प्रार्थना की; और वे पलिश्तियोंके देश को लौट गए।

32 और इब्राहीम ने अनन्त परमेश्वर की उपासना की, और पलिश्तियोंके देश में बहुत दिन तक रहा।

अध्याय 22

इब्राहीम ने इसहाक की पेशकश करने की आज्ञा दी - उसकी इच्छा स्वीकार की - दैवीय हस्तक्षेप से राहत - नाहोर के बच्चों के नाम।

1 इन बातों के बाद ऐसा हुआ कि परमेश्वर ने इब्राहीम की परीक्षा ली और उस से कहा, हे इब्राहीम; और इब्राहीम ने कहा, देख, मैं यहां हूं।

2 और यहोवा ने कहा, अपके पुत्र अपके इकलौते इसहाक को, जिस से तू प्रीति रखता है, ले जाकर मोरिय्याह देश में चला जा; और वहां उसको होमबलि के लिथे उन पहाड़ोंमें से किसी एक पर चढ़ाना, जिसके विषय में मैं तुझे बताऊंगा।

3 बिहान को इब्राहीम तड़के उठा, और अपके गदहे पर काठी कसी, और अपके दो जवानोंको और अपके पुत्र इसहाक को संग ले गया,

4 और होमबलि के लिथे लकड़ी को फांकें; और उठकर उस स्यान को गया जिसके विषय में परमेश्वर ने उस से कहा या।

5 तब तीसरे दिन इब्राहीम ने आंखें उठाकर उस स्थान को दूर से देखा।

6 तब इब्राहीम ने अपके जवानोंसे कहा, तुम गदहे के संग यहीं रहो, और मैं और वह लड़का उधर जाकर दण्डवत् करेंगे, और फिर तुम्हारे पास आएंगे।

7 तब इब्राहीम ने होमबलि की लकड़ी लेकर अपक्की पीठ पर रख दी; और उस ने आग, और एक छुरी, और अपके पुत्र इसहाक को अपके हाथ में लिया; और वे दोनों साथ-साथ चले।

8 तब इसहाक ने अपके पिता इब्राहीम से कहा, हे मेरे पिता! उस ने कहा, हे मेरे पुत्र, मैं यहां हूं।

9 उस ने कहा, आग और लकड़ी को देख; परन्तु होमबलि का मेम्ना कहाँ है?

10 तब इब्राहीम ने कहा, हे मेरे पुत्र, परमेश्वर होमबलि के लिथे एक भेड़ का बच्चा अपके लिथे देगा। सो वे दोनों साथ-साथ चले; और वे उस स्यान पर आए, जिसके विषय में परमेश्वर ने उस से कहा या।

11 और इब्राहीम ने वहां एक वेदी बनाई, और लकड़ियां सजीं, और अपके पुत्र इसहाक को बान्धकर वेदी पर लकड़ी के ऊपर रख दिया।

12 तब इब्राहीम ने हाथ बढ़ाकर छुरी ली, कि अपके पुत्र को घात करे।

13 तब यहोवा के दूत ने उसे स्वर्ग से बुलाकर कहा, हे इब्राहीम! इब्राहीम! और इब्राहीम ने कहा, मैं यहां हूं।

14 तब स्वर्गदूत ने कहा, उस लड़के पर हाथ न रखना, और न उस से कुछ करना;

15 क्‍योंकि अब मैं जान गया हूं, कि तू परमेश्वर का भय मानता है, क्योंकि तू ने अपके पुत्र को, अपके इकलौते इसहाक को अपके पास से नहीं रखा।।

16 और इब्राहीम ने आंखें उठाकर क्या देखा, कि एक घने जंगल के पीछे उसके सींगों से एक मेढ़ा फंसा हुआ है।

17 तब इब्राहीम ने जाकर मेढ़ा लिया, और अपके पुत्र के स्यान पर होमबलि करके उसे चढ़ाया।

18 और इब्राहीम ने उस स्थान का नाम यहोवा यिरे रखा; जैसा आज तक कहा जाता है, कि वह यहोवा के पर्वत पर दिखाई देगा।

19 और यहोवा के दूत ने दूसरी बार इब्राहीम को स्वर्ग में से पुकार कर कहा,

20 यहोवा योंकहता है, कि मैं ने अपक्की अपक्की शपय खाई है, कि तू ने यह काम किया है, और अपके पुत्र को, अपके इकलौते इसहाक को अपके पास से न रखा है;

21 कि मैं तुझे आशीष देकर आशीष दूंगा; और मैं तेरे वंश को आकाश के तारोंके समान और समुद्र के किनारे की बालू की नाईं बढ़ाऊंगा।

22 और तेरा वंश अपके शत्रुओं के फाटक का अधिकारी होगा; और तेरे वंश से पृय्वी की सारी जातियां आशीष पाएंगी; क्योंकि तू ने मेरी बात मानी है।

23 तब इब्राहीम अपके जवानोंके पास लौट आया, और वे उठकर बेर्शेबा को गए; और इब्राहीम बेर्शेबा में रहने लगा।

24 इन बातों के बाद ऐसा हुआ कि इब्राहीम से यह कहा गया,

25 देख, हे मिल्का, उसके तेरे भाई नाहोर के भी बच्चे उत्पन्न हुए; हुज़ उसका जेठा है, और बुज़ उसका भाई है।

26 और कमूएल अराम, केसेद, हासा, बिलदाश, यिदलाप, और बतूएल का पिता हुआ;

27 और बतूएल से रिबका उत्पन्न हुई।

28 ये आठ मिल्का ने इब्राहीम के भाई नाहोर को जन्म दिया; और उसकी रखैल जिसका नाम रूमा या, उस से तेबा, गहम, थाश और माका भी उत्पन्न हुए।

अध्याय 23

सारा की मृत्यु और गाड़ा जाना — एप्रोन के खेत को मोल लेना।

1 और सारा एक सौ सत्ताईस वर्ष की या, और वह मर गई; और इस प्रकार सारा के जीवन के वर्ष समाप्त हो गए।

2 और सारा किर्यतर्बा में मर गई; वही अब कनान देश में हेब्रोन कहलाता है।

3 और इब्राहीम सारा के लिथे विलाप करने, और अपक्की मरी हुई पत्नी के लिथे रोने को आया।

4 तब इब्राहीम अपके मरे हुओं के साम्हने से उठ खड़ा हुआ, और हितियोंसे कहने लगा, कि मैं परदेशी और परदेशी हूं; मुझे अपके साथ एक कब्रगाह का अधिकार दे, कि मैं अपके मुर्दे को अपनी दृष्टि से ओझल कर दूं।

5 तब हित्तियोंने इब्राहीम को उत्तर दिया, कि हे मेरे प्रभु, हमारी सुन; तू हमारे बीच एक पराक्रमी राजकुमार है; हमारी चुनी हुई कब्रों में अपके मरे हुओं को गाड़ देना; हम में से कोई अपक्की कब्र को तेरे पास से न रोकेगा, वरन तू अपके मरे हुओं को गाड़ेगा।

6 और इब्राहीम खड़ा हुआ, और उस देश के लोगों, और हितियोंको दण्डवत् किया; और उस ने उन से यह कहकर बातें कीं,

7 यदि तेरा मन हो कि मैं अपके मरे हुओं को अपके साम्हने से मिट्टी दूं, तो मेरी सुन, और सोहर के पुत्र एप्रोन से मेरे लिथे बिनती करूं, कि मकपेला की वह गुफा जो अपके खेत की छोर पर उसके पास है उसे वह मुझे दे दे;

8 क्‍योंकि उसके पास जितना धन हो, वह उसके पास हो, यदि वह मुझे तुम्‍हारे बीच कब्‍जा करने के स्‍थान के निमित्त मुझे दे दे।

9 और एप्रोन हितवंशियोंके बीच रहने लगा।

10 तब हित्ती एप्रोन ने इब्राहीम को उन सभोंसे जो नगर के फाटकोंसे भीतर गए या, हित की सन्तान के साम्हने यह उत्तर दिया,

11 हे मेरे प्रभु, सुन, और मेरी सुन; जो खेत मैं तुझे देता हूं, और वह गुफा जो उस में है; मैं अपक्की प्रजा के लोगोंके साम्हने तुझे देता हूं; और मैं तुझे देता हूं; इसलिए, अपने मृतकों को दफनाओ।

12 तब इब्राहीम ने उस देश के लोगोंके साम्हने दण्डवत् किया, और उस ने देश के लोगोंके साम्हने एप्रोन से कहा, मैं तुझ से बिनती करता हूं, मेरी सुन;

13 यदि तू उसको मुझ से ले ले, तो मैं तुझे उस खेत के लिथे रुपए दूंगा, और मैं अपके मुर्दे को वहीं मिट्टी दूंगा, परन्तु उसके बदले मैं तुझे दूंगा।

14 तब एप्रोन ने इब्राहीम को उत्तर दिया, कि हे मेरे प्रभु, मेरी सुन; और जो देश तेरे लिथे चार सौ शेकेल चान्दी के लिथे हो; वह मेरे और तुम्हारे बीच क्या होगा? इसलिए अपने मरे हुओं को गाड़ दो।

15 और इब्राहीम ने एप्रोन की बात मानी; और इब्राहीम ने एप्रोन के लिथे उस चान्दी को तौल लिया, जिसका नाम उस ने हितवंशियोंके साम्हने रखा या, वह चार सौ शेकेल चान्दी, जो उस व्यापारी के पास थी।

16 और एप्रोन का खेत जो मकपेला में या, जो मम्रे के साम्हने या; मैदान, और जो गुफा उस में थी, और जितने वृझ मैदान में थे, और जो चारोंओर के सिवाने पर थे, वे सब से पहले इब्राहीम का अधिकार करने के लिथे इब्राहीम के साम्हने निश्चय किए गए थे। जो नगर के फाटक पर गया।

17 इसके बाद इब्राहीम ने अपनी पत्नी सारा को मकपेला के मैदान की उस गुफा में जो मम्रे के साम्हने है मिट्टी दी; वही कनान देश में हेब्रोन कहलाता है।

18 और वह भूमि और गुफा जो उस में थी, इब्राहीम के लिथे हेत के पुत्रोंके लिथे कबर के लिथे नियुक्‍त कर दी गई।

अध्याय 24

इब्राहीम के सेवक की शपथ — इसहाक और रिबका के विवाह और विवाह का इतिहास।

1 और अब इब्राहीम बूढ़ा हो गया था, और वह बूढ़ा हो गया था; और यहोवा ने इब्राहीम को सब बातोंमें आशीष दी या।

2 और इब्राहीम ने अपके घराने के ज्येष्ठ दास से कहा, जो अपके सब कुछ का अधिकारी है; अपना हाथ अपके हाथ के नीचे रख, और मैं तुझ को स्वर्ग के परमेश्वर यहोवा, और पृथ्वी के परमेश्वर के साम्हने यह शपय खिलाऊंगा, कि तू मेरे पुत्र के लिथे कनानियोंकी बेटियोंमें से किसी को ब्याह न लेना। जिनके बीच मैं रहता हूं; परन्तु तू मेरे देश और मेरे कुटुम्ब के पास जाकर मेरे पुत्र इसहाक के लिये एक स्त्री ब्याह लेना।

3 उस दास ने उस से कहा, हो सकता है कि वह स्त्री मेरे पीछे पीछे इस देश में जाने को न चाहे, तब मुझे तेरे पुत्र को उस देश में फिर ले आना चाहिए जहां से तू आया है।

4 इब्राहीम ने उस से कहा, चौकस रहना, कि मेरे पुत्र को फिर वहां न ले आना।

5 स्वर्ग का परमेश्वर यहोवा जिस ने मुझे मेरे पिता के घराने से, और मेरे कुटुम्ब के देश में से ले लिया, और जिस ने मुझ से यह शपय खाई है, कि मैं यह देश तुझे दूंगा;

6 वह अपके दूत को तेरे आगे आगे भेजे, और तू वहां से मेरे पुत्र के लिथे एक स्त्री ब्याह ले।

7 और यदि वह स्त्री तेरे पीछे पीछे चलने को न चाहे, तो तू अपक्की अपक्की शपय से दूर रहना, और मेरे पुत्र को फिर वहां न लाना।

8 और उस दास ने अपके स्‍वामी इब्राहीम के हाथ में हाथ डाला, और उस बात के विषय में उस से शपय खाई।।

9 तब वह दास अपके स्वामी के दस ऊंट लेकर चला गया; क्‍योंकि उसके स्‍वामी की सारी वस्‍तु उसके हाथ में थी।

10 और वह उठकर मेसोपोटामिया को गया, और नाहोर नगर को गया।

11 और जिस समय स्त्रियां जल भरने को निकलती हैं, उस समय उस ने अपके ऊंटोंको नगर के बाहर जल के एक कुएं के पास घुटने टेक दिए।

12 और उस ने कहा, हे मेरे स्वामी इब्राहीम के परमेश्वर यहोवा, मैं आज तुझ से बिनती करता हूं, कि तू मेरे स्वामी इब्राहीम पर कृपा करके मुझे अच्छी गति से भेजे।

13 देखो, मैं जल के कुएं के पास खड़ा हूं, और नगर के पुरूषोंकी बेटियां जल भरने को निकलती हैं;

14 और जिस कन्या से मैं कहूं, कि अपके घड़े को नीचे उतार दे, कि मैं पीऊं; और वह कहेगी, पी ले, और मैं तेरे ऊंटोंको भी पिलाऊंगी; वह वही हो जिसे तू ने अपके दास इसहाक के लिथे ठहराया है; और इस से मैं जान लूंगा कि तू ने मेरे स्वामी पर कृपा की है।

15 और ऐसा हुआ, कि उसके कहने से पहिले, कि रिबका, जो इब्राहीम के भाई नाहोर की पत्नी मिल्का के पुत्र बतूएल से उत्पन्न हुई थी, वह अपके कंधा पर घड़ा लिये हुए निकली।

16 और वह कन्या कुँवारी होने के कारण देखने में अति सुन्दर, जैसी इब्राहीम की दासी ने न कभी देखी थी, और न उसके समान किसी पुरूष ने जाना था; और वह कुएं पर उतर गई, और अपना घड़ा भरकर ऊपर आई।

17 तब वह दास उस से भेंट करने को दौड़ा, और कहा, अपके घड़े में से थोड़ा सा जल पी ले।

18 उस ने कहा, हे मेरे प्रभु, पी ले; और उस ने फुर्ती से अपना घड़ा अपके हाथ पर रखकर उसे पिलाया।

19 और जब उस ने उसे पिला दिया, तब उस ने कहा, मैं तेरे ऊंटोंके लिथे भी तब तक पिलाऊंगी, जब तक वे पी न लें।

20 और वह फुर्ती करके अपना घड़ा हौद में उखाड कर, और भरने के लिथे फिर कुएं की ओर दौड़ी, और उसके सब ऊंटोंके लिथे खींची।

21 और वह पुरूष उस पर अचम्भा करके चुप रहा, और मन ही मन सोचता रहा, कि यहोवा ने उसकी यात्रा को सुफल किया है कि नहीं।

22 और जब ऊंट पी चुके थे, तब उस पुरूष ने आधा शेकेल तौल का एक सोने का कान का कान, और दस शेकेल तौल के सोने के दो कंगन ले कर कहा, तू किस की बेटी है? मुझे बता, मैं तुझ से प्रार्थना करता हूं; और क्या तेरे पिता के घर में हमारे ठहरने की जगह है?

23 और उस ने उस से कहा, मैं मिल्का के पुत्र बतूएल की बेटी हूं, जिस से नाहोर उत्पन्न हुआ।

24 उस ने उस से और कहा, हमारे पास भूसा, और चारागाह, और रहने को स्थान दोनों है।

25 और उस ने सिर झुकाकर यहोवा को दण्डवत किया।

26 उस ने कहा, मेरे स्वामी इब्राहीम का परमेश्वर यहोवा धन्य है, जिस ने मेरे स्वामी को अपक्की करूणा और सच्चाई से निराश नहीं किया; और जब मैं मार्ग में था, तब यहोवा मुझे मेरे स्वामी के भाइयोंके घर ले गया।

27 तब वह कन्या दौड़कर घर के पास गई, और अपक्की माता को ये बातें बता दी।

28 और रिबका का एक भाई था, जिसका नाम लाबान था; और लाबान दौड़कर उस मनुष्य के पास कुएं की ओर गया।

29 और ऐसा हुआ कि जब उस ने अपक्की बहिन के हाथोंमें बालियां, और कंगन देखे, और अपक्की बहिन रिबका का यह वचन सुना, कि उस पुरूष ने मुझ से ऐसा कहा या, तब मैं उस पुरूष के पास गया, और क्या देखा, कि वह ऊँटों के पास कुएँ पर खड़ा था।

30 उस ने कहा, यहोवा के धन्य हो, भीतर आ; तू क्यों खड़ा है? क्योंकि मैं ने घर और ऊंटोंके लिथे स्थान तैयार किया है।

31 और वह आदमी घर में आया।

32 और उस ने अपके ऊँटोंका बोझ उतार दिया, और ऊँटोंके लिथे भूसा और चारागाह, और अपके पांव धोने के लिथे जल, और अपके साय के पांवोंको दिया।

33 और उसके साम्हने खाने को रखा गया; परन्तु उस ने कहा, जब तक मैं अपना काम न बता दूं तब तक मैं कुछ न खाऊंगा।

34 तब लाबान ने कहा, कहो। उस ने कहा, मैं इब्राहीम का दास हूं;

35 और यहोवा ने मेरे स्वामी को बहुत आशीष दी है, और वह महान हो गया है, और उस ने उसे भेड़-बकरी, गाय-बैल, और चांदी, और सोना दिया है; और दास, और दासियां, और ऊंट, और गदहे।

36 और मेरे स्वामी की पत्नी सारा के बुढ़ापे में मेरे स्वामी के एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और अपना सब कुछ उसी को दे दिया है।

37 और मेरे स्वामी ने मुझे यह शपय खिलाई, कि जिस कनानियोंके देश में मैं रहता हूं, उन में से मेरे पुत्र के लिथे ब्याह न लेना;

38 परन्तु मेरे पिता के घराने और मेरे कुटुम्बियोंके पास जाकर मेरे पुत्र के लिथे एक स्त्री ब्याह करना।

39 और मैं ने अपके स्‍वामी से कहा, कदाचित वह स्त्री मेरे पीछे न हो ले।

40 उस ने मुझ से कहा, यहोवा, जिसके साम्हने मैं चलता हूं, अपके दूत को तेरे संग भेजेगा, और वह तेरा मार्ग सुफल करेगा;

41 और मेरे पुत्र के लिथे मेरे कुटुम्ब, और मेरे पिता के घराने से एक स्त्री ब्याह लेना; तब तू मेरी शपय से मुक्‍त होगा।

42 जब तू मेरे कुटुम्ब के पास आए, और जब वे तुझे मेरे पुत्र के लिथे ब्याह न दें, तब तो तू मेरी शपय से मुकर जाना।

43 और मैं आज के दिन उस कुएं के पास आकर कहने लगा, हे मेरे स्वामी इब्राहीम के परमेश्वर यहोवा, यदि तू मेरे मार्ग में जिस पर मैं जाता हूं, अब सफल होता है;

44 देख, मैं जल के कुएं के पास खड़ा हूं; और ऐसा होगा, कि जब कुँवारी जल भरने को निकले, और मैं उस से कहे, अपके घड़े में से थोड़ा सा जल मुझे पिला दे;

45 और यदि वह मुझ से कहे, कि तू दोनों पी ले, और मैं तेरे ऊंटोंके लिथे भी भरूंगा; यह वही है जिसे यहोवा ने मेरे स्वामी के पुत्र के लिये ठहराया है।

46 और इससे पहिले कि मैं अपके मन में बातें करता या, कि रिबका अपके कंधा पर घड़ा लिये निकली या, और कुएं के पास जाकर जल भरती है।

47 मैं ने उस से कहा, मुझे पीने दे, मैं तुझ से बिनती करता हूं;

48 तब उस ने फुर्ती से अपके घड़े को कन्धे पर से उतार कर कहा, पी ले, और मैं तेरे ऊंटोंको भी पिलाऊंगी; सो मैं ने पिया, और उस ने ऊंटोंको भी पिलाया।

49 और मैं ने उस से पूछा, तू किस की बेटी है?

50 और उस ने कहा, बतूएल की बेटी, जो नाहोर का पुत्र था, जिस से मिल्का ने उसको उत्पन्न किया।

51 और मैं ने उसे बालियां दीं, कि वह उसके कानोंमें लगाएं, और कंगन उसके हाथोंमें लगाएं।

52 और मैं ने सिर झुकाकर यहोवा को दण्डवत् किया, और अपने स्वामी इब्राहीम के परमेश्वर यहोवा को धन्य कहा, जिस ने मुझे ठीक मार्ग से अपने स्वामी के भाई की बेटी को अपके पुत्र के पास ले जाने का मार्ग दिखाया।

53 और अब, यदि तू मेरे स्वामी से प्रीति और सच्‍चाई करे, तो मुझ से कह; और यदि नहीं, तो मुझे बताओ; कि मैं दहिनी ओर या बायें मुड़ूं।

54 तब लाबान और बतूएल ने उत्तर दिया, कि यह बात यहोवा की ओर से है; हम तुझ से बुरा या भला नहीं बोल सकते।

55 सुन, रिबका तेरे साम्हने है, उसे लेकर जा, और वह अपके स्वामी के पुत्र की पत्नी हो, जैसा यहोवा ने कहा है।

56 और ऐसा हुआ, कि जब इब्राहीम के दास ने ये बातें सुनीं, तब उस ने भूमि पर दण्डवत् करके यहोवा की उपासना की।

57 और उस दास ने चान्दी के जेवर, और सोने के जेवर, और वस्त्र निकालकर रिबका को दिए। उस ने उसके भाई और उसकी माता को भी बहुमूल्य वस्तुएं दीं।

58 और वह और उसके पुरूष जो उसके संग थे, खाया-पीया, और रात भर वहीं रहे।

59 बिहान को वे उठकर कहने लगे, मुझे मेरे स्वामी के पास विदा कर।

60 और उसके भाई और उसकी माता ने कहा, वह कन्या हमारे संग दस दिन तक रहे; उसके बाद वह जाएगी।

61 और उस ने उन से कहा, यहोवा ने मेरे मार्ग में भलाई की है, यह देखकर मुझे न रोक; मुझे विदा कर, कि मैं अपके स्वामी के पास जाऊं।

62 उन्होंने कहा, हम उस कन्या को बुलाकर उसके मुंह से पूछेंगे।

63 और उन्होंने रिबका को बुलवाकर उस से कहा, क्या तू इस मनुष्य के संग चलेगी?

64 उस ने कहा, मैं जाऊंगी। और उन्होंने अपक्की बहिन रिबका, और उसकी धाई, और इब्राहीम के दास, और उसके जनोंको विदा किया।।

65 और उन्होंने रिबका को आशीर्वाद दिया, और उस से कहा, हे हमारी बहिन, तू लाखों की धन्य है; और तेरा वंश उन से बैरियोंके फाटक का अधिकारी हो जाए।

66 और रिबका और अपक्की कन्याएं उठीं, और वे ऊंटोंपर सवार होकर उस पुरूष के पीछे हो लीं; और वह सेवक रिबका को ले कर चला गया।

67 और इसहाक लहैरोई कुएं के मार्ग से निकला; क्योंकि वह दक्षिण देश में रहता था।

68 और इसहाक दिन के समय मैदान में ध्यान करने को निकला; और उस ने आंखें उठाकर क्या देखा, कि ऊंट आ रहे हैं।

69 और रिबका ने आंखें उठाकर इसहाक को देखकर ऊँट पर से प्रकाश किया; क्‍योंकि उस ने दासी से कहा, यह कौन पुरूष है जो हम से भेंट करने को मैदान में टहलता है?

70 और उस दास ने कहा, यह मेरा स्वामी है; इसलिए उसने परदा लिया और अपने आप को ढक लिया।

71 और उस दास ने इसहाक को जो कुछ उस ने किया या, वह सब बता दिया।

72 और इसहाक उसे अपक्की माता सारा के डेरे में ले गया, और रिबका को ब्याह लिया, और वह उसकी पत्नी हो गई; और वह उससे प्यार करता था।

73 और इसहाक को अपक्की माता की मृत्यु के पश्‍चात् शान्ति मिली।

अध्याय 25

इब्राहीम ने कतूरा से विवाह किया - उसकी मृत्यु - इश्माएल की पीढ़ी - उसकी मृत्यु - एसाव और याकूब का जन्म - एसाव ने अपना पहिलौठा अधिकार बेच दिया।

1 तब इब्राहीम ने फिर एक ब्याह ब्याह लिया, और उसका नाम कतूरा था।

2 और उस से जिम्रान, योक्षान, मेदान, मिद्यान, इश्बाक और शूआ उत्पन्न हुए।

3 और योक्षान से शेबा और ददान उत्पन्न हुए। और ददान के पुत्र अशूरीम, लेतुशीम, और लुम्मीम थे।

4 और मिद्यान के पुत्र; एपा, एपेर, हनोक, अबीदा, एलदा। ये सब कतूरा की सन्तान थे।

5 और इब्राहीम ने अपना सब कुछ इसहाक को दे दिया।

6 परन्तु इब्राहीम की रखेलियोंके पुत्रोंको जो इब्राहीम की या, तब इब्राहीम ने भेंट देकर अपके पुत्र इसहाक के पास से, जब तक वह पूर्व की ओर रहता या, पूर्व देश में भेज दिया।

7 और इब्राहीम के जीवन के जितने वर्ष वह जीया, वह एक सौ पन्द्रह वर्ष है।

8 तब इब्राहीम ने भूत को त्याग दिया, और बुढ़ापे में मर गया, अर्यात्‌ बूढ़ा, और वरन पूरा हो गया; और अपके लोगोंमें इकट्ठा हो गया।

9 और उसके पुत्र इसहाक और इश्माएल ने उसे मकपेला की गुफा में, हित्ती सोहर के पुत्र एप्रोन के खेत में, जो मम्रे के साम्हने है, मिट्टी दी;

10 वह खेत जिसे इब्राहीम ने हित के पुत्रों से मोल लिया; वहाँ इब्राहीम और उसकी पत्नी सारा को मिट्टी दी गई।

11 और इब्राहीम की मृत्यु के बाद, परमेश्वर ने उसके पुत्र इसहाक को आशीर्वाद दिया, और इसहाक ल-है-रोई कुएं के पास रहता था।

12 अब इब्राहीम के पुत्र इश्माएल के वंश ये हैं, जिन्हें सारा की दासी हाजिरा मिस्री इब्राहीम से उत्पन्न हुई;

13 और इश्माएल के पुत्रों के नाम उनकी पीढ़ी पीढ़ी के अनुसार ये हैं; इश्माएल का जेठा नबाजोत; और केदार, और अदबील, और मिबसाम।

14 और मिश्मा, दूमा, और मस्सा।

15 हदर, तेमा, यतूर, नपीश, और केदमा;

16 इश्माएल के पुत्र ये हुए, और उनके नाम अपके नगर, और गढ़ोंके अनुसार ये हैं; बारह हाकिम अपनी-अपनी जाति के अनुसार।

17 और इश्माएल के जीवन के वर्ष की गिनती एक सौ सैंतीस वर्ष है; और उस ने भूत को त्याग दिया, और मर गया, और अपके लोगोंमें जा मिला।

18 और वे हवीला से शूर तक, जो मिस्र के साम्हने है, जैसे तू अश्शूर की ओर जाता है, रहने लगे; और वह अपके सब भाइयोंके साम्हने मर गया।

19 और इब्राहीम के पुत्र इसहाक के वंश ये हैं; इब्राहीम से इसहाक उत्पन्न हुआ;

20 और जब इसहाक ने रिबका को ब्याह लिया, तब वह चालीस वर्ष का या, जो पदनराम के अरामी बतूएल की बेटी, और अरामी लाबान की बहिन थी।

21 और इसहाक ने अपक्की पत्नी के लिथे यहोवा से बिनती की, कि उसके बच्चे उत्पन्न हों, क्योंकि वह बांझ थी। और यहोवा ने उस से बिनती की, और उसकी पत्नी रिबका गर्भवती हुई।

22 और उसके गर्भ में बच्चे आपस में लड़ते रहे; और उस ने कहा, यदि मैं गर्भवती हूं, तो मेरे साथ ऐसा क्यों है? और वह यहोवा से पूछने गई।

23 और यहोवा ने उस से कहा, तेरी कोख में दो जातियां हैं, और तेरी कोख में से दो जातियां अलग हो जाएंगी; और एक प्रजा अन्य लोगों से अधिक शक्तिशाली होगी; और बड़ा छोटे की सेवा करेगा।

24 और जब उसके प्रसव के दिन पूरे हुए, तो क्या देखा, कि उसके गर्भ में जुड़वां बच्चे थे।

25 और पहिला सब कुछ लाल रंग का निकला, जो बालों के वस्त्र की नाईं लाल निकला; और उन्होंने उसका नाम एसाव रखा।

26 इसके बाद उसका भाई निकल आया, और उसका हाथ एसाव की एड़ी पर था; और उसका नाम याकूब रखा गया; और जब इसहाक ने उन्हें जन्म दिया तब वह साठ वर्ष का या।

27 और लड़के बढ़े; और एसाव एक चतुर शिकारी और खेत का मनुष्य था; और याकूब एक सादा मनुष्य था, जो तंबूओं में रहता या।

28 और इसहाक एसाव से प्रीति रखता या, क्योंकि उस ने उसके अहेर में से कुछ खाया था; परन्तु रिबका याकूब से प्रेम रखती थी।

29 और याकूब ने कुटीर का सोता; और एसाव मैदान से निकला, और वह मूर्छित हो गया;

30 तब एसाव ने याकूब से कहा, उसी लाल लोटे में से मुझे खिला; क्योंकि मैं बेहोश हूँ; इसलिए उसका नाम एदोम रखा गया।

31 याकूब ने कहा, अपके पहिलौठे का अधिकार आज के दिन मुझे बेच दे।

32 एसाव ने कहा, सुन, मैं मरने पर हूं; और इस जन्मसिद्ध अधिकार से मुझे क्या लाभ होगा?

33 याकूब ने कहा, आज के दिन मुझ से शपय खा; और उस ने उस से शपय खाई; और उसने अपना पहिलौठा अधिकार याकूब को बेच दिया।

34 तब याकूब ने एसाव को रोटी और मसूर की दाल दी; और वह खाया पीया, और उठा, और चला गया। इस प्रकार एसाव ने अपने पहिलौठे अधिकार को तुच्छ जाना।

अध्याय 26

इसहाक गरार को जाता है - भगवान उसे आशीर्वाद देता है - वह अपनी पत्नी से इनकार करता है - एसाव शादी करता है।

1 और उस देश में अकाल पड़ा, और पहिला अकाल जो इब्राहीम के दिनोंमें था। और इसहाक पलिश्तियोंके राजा अबीमेलेक के पास गरार को गया।

2 तब यहोवा ने उसे दर्शन देकर कहा, मिस्र में न उतर; उस देश में रहो जिसके विषय में मैं तुझे बताऊंगा।

3 इस देश में रह, और मैं तेरे संग रहूंगा, और तुझे आशीष दूंगा; क्योंकि ये सब देश मैं तुझे और तेरे वंश को दूंगा, और जो शपय मैं ने तेरे पिता इब्राहीम से खाई थी, उसे मैं पूरा करूंगा;

4 और मैं तेरे वंश को आकाश के तारोंके नाईं गुणा करूंगा, और ये सब देश तेरे वंश को दूंगा; और तेरे वंश से पृय्वी की सारी जातियां आशीष पाएंगी;

5 क्‍योंकि इब्राहीम ने मेरी बात मानी, और मेरी आज्ञा, मेरी आज्ञाएं, मेरी विधियां, और मेरी व्‍यवस्‍था मानी।

6 और इसहाक गरार में रहने लगा।

7 और उस स्यान के लोगोंने उस से उस की पत्नी के विषय में पूछा; उस ने कहा, वह मेरी बहिन है; क्योंकि वह कहने से डरता था, कि वह मेरी पत्नी में है; कहीं ऐसा न हो कि रिबका को पकड़ने के लिथे उस स्यान के लोग उसे मार डालें; क्योंकि वह देखने में निष्पक्ष थी।

8 और जब वह वहां बहुत दिन रहा, तब पलिश्तियोंके राजा अबीमेलेक ने खिड़की में से झाककर क्या देखा, कि इसहाक अपक्की पत्नी रिबका के संग खेल रहा या।

9 तब अबीमेलेक ने इसहाक को बुलवाकर कहा, सुन, निश्चय तेरी पत्नी रिबका है; और तू ने क्‍योंकर कहा कि वह तेरी बहिन है? इसहाक ने उस से कहा, मैं ने यह इसलिये कहा, क्योंकि मुझे इस बात का भय था कि कहीं मैं उसके लिथे मर न जाऊं।

10 अबीमेलेक ने कहा, तू ने हम से यह क्या किया है? हो सकता है कि लोगों में से कोई तेरी पत्नी के साथ हल्के से कुकर्म करे, और तू हम पर दोष लगाए।

11 और अबीमेलेक ने अपक्की सारी प्रजा को आज्ञा दी, कि जो कोई इस पुरूष वा उसकी पत्नी को चाहे वह निश्चय मार डाला जाए।

12 तब इसहाक ने उस देश में बोया, और उसी वर्ष सौ गुणा पाया; और यहोवा ने उसे आशीष दी।

13 और वह पुरूष बड़ा हुआ, और आगे बढ़ता गया, और बहुत बड़ा होता गया;

14 क्योंकि उसके पास भेड़-बकरी, और गाय-बैल, और दासोंका बड़ा भण्डार था; और पलिश्ती उस से डाह करने लगे।

15 क्‍योंकि जितने कुएं उसके पिता इब्राहीम के दिनोंमें उसके पिता के कर्मचारियोंने खोदे थे, उन सभोंको पलिश्तियोंने रोककर मिट्टी से भर दिया था।

16 तब अबीमेलेक ने इसहाक से कहा, हमारे पास से चला जा; क्योंकि तू हम से बहुत अधिक शक्तिशाली है।

17 तब इसहाक वहां से चला गया, और गरार नाम तराई में अपना तम्बू खड़ा किया, और वहीं रहने लगा।

18 और इसहाक ने जल के वे कुएं फिर खोदे, जो उन्होंने उसके पिता इब्राहीम के दिनोंमें खोदे थे; क्‍योंकि इब्राहीम के मरने के पश्‍चात् पलिश्तियोंने उन्‍हें रोक दिया या, और उस ने उनके नाम उन्हीं के नाम पर रखे, जिनके नाम से उसके पिता ने उनको पुकारा था।

19 और इसहाक के सेवकोंने तराई में खुदाई की, और वहां सोते के जल का एक कुआं पाया।

20 और गरार के चरवाहे ने इसहाक के चरवाहोंसे यह कहकर यत्न किया, कि जल हमारा है; और उस ने उस कुएं का नाम एसेक रखा; क्योंकि उन्होंने उसके साथ संघर्ष किया।

21 और उन्होंने एक और कुआं खोदा, और उसके लिये भी यत्न किया; और उस ने उसका नाम सीतना रखा।

22 और उस ने वहां से कूच करके एक और कुआं खुदवाया; और इसके लिए उन्होंने प्रयास नहीं किया; और उस ने उसका नाम रहोबोत रखा; और उस ने कहा, अब तो यहोवा ने हमारे लिथे स्थान ठहराया है, और हम इस देश में फूले-फलेंगे।

23 और वह वहां से बेर्शेबा को गया।

24 और उसी रात यहोवा ने उसे दर्शन देकर कहा, मैं तेरे पिता इब्राहीम का परमेश्वर हूं; मत डर, क्योंकि मैं तेरे संग हूं, और अपके दास इब्राहीम के निमित्त तुझे आशीष दूंगा, और तेरे वंश को बढ़ाऊंगा।

25 और उस ने वहां एक वेदी बनाई, और यहोवा से प्रार्यना की, और वहां अपना तम्बू खड़ा किया; और वहाँ इसहाक के सेवकों ने एक कुआँ खोदा।

26 तब अबीमेलेक गरार से उसके पास गया, और उसका एक मित्र अहुज्जत, और उसका सेनापति पीकोल था।

27 इसहाक ने उन से कहा, तुम ने मुझ से बैर देखकर मेरे पास क्यों आकर मुझे अपके पास से विदा किया है?

28 उन्होंने कहा, हम ने निश्चय देखा, कि यहोवा तेरे संग रहता है; और हम ने कहा, हम को और तेरे बीच में भी एक शपथ खाई जाए, और हम तुझ से वाचा बान्धें;

29 कि जिस प्रकार हम ने तुझ को स्पर्श नहीं किया, और जैसा हम ने भलाई के सिवा कुछ भी तुझ से किया है, वैसा ही तू हमें हानि न पहुंचाएगा, और तुझे कुशल से विदा किया है; अब तू यहोवा का धन्य है।

30 और उस ने उनके लिये जेवनार की, और उन्होंने खाया-पीया।

31 और बिहान को वे पहिले उठकर आपस में शपय खाई; और इसहाक ने उनको विदा किया, और वे कुशल से उसके पास से चले गए।

32 और उसी दिन ऐसा हुआ, कि इसहाक के सेवकोंने आकर उस कुएं के विषय में जो उन्होंने खुदवाया था, कह सुनाया, और उस से कहा, हम को जल मिला है।

33 और उस ने उसका नाम शेबा रखा; इस कारण उस नगर का नाम आज तक बेर्शेबा है।

34 और एसाव चालीस वर्ष का या, जब उस ने हित्ती बेरी की बेटी यहूदीत, और हित्ती एलोन की बेटी बाशेमत को ब्याह लिया;

35 जो इसहाक और रिबका के मन का शोक था।

अध्याय 27

युक्ति से याकूब आशीष प्राप्त करता है।

1 और ऐसा हुआ, कि जब इसहाक बूढ़ा हुआ, और उसकी आंखें ऐसी धुंधली पड़ गईं, कि वह देख न सका, तब उस ने अपके ज्येष्ठ पुत्र एसाव को बुलाकर उस से कहा, हे मेरे पुत्र; और उस ने उस से कहा, देख, मैं यहां हूं।

2 उस ने कहा, सुन, मैं बूढ़ा हो गया हूं, मैं अपक्की मृत्यु का दिन नहीं जानता;

3 सो अब अपके हथियार, तरकश और धनुष लेकर मैदान में जा, और मेरे लिये अहेर ले जा;

4 और मेरे प्रिय के समान स्वादिष्ट मांस बनाकर मेरे पास ले आओ, कि मैं खाऊं; कि मेरी आत्मा मरने से पहले तुझे आशीर्वाद दे।

5 और जब इसहाक ने अपके पुत्र एसाव से बातें की, तब रिबका ने सुना। और एसाव अहेर का अहेर करने, और उसे लाने को मैदान में गया।

6 तब रिबका ने अपके पुत्र याकूब से कहा, सुन, मैं ने तेरे पिता को तेरे भाई एसाव से यह कहते सुना,

7 मेरे लिये अय्याश ले आओ, और मेरे लिये स्वादिष्ट मांस बनाओ, कि मैं खाऊं, और अपक्की मृत्यु से पहिले यहोवा के साम्हने तुझे आशीष दूं।

8 सो अब हे मेरे पुत्र, जो आज्ञा मैं तुझे देता हूं, उसके अनुसार मेरी बात मान।

9 अब भेड़-बकरियों के पास जा, और वहां से मुझे दो अच्छे बकरियोंके बच्चोंको ले आ; और मैं तेरे पिता के लिथे उसके प्रिय के साम्हने उन को सुगन्धित मांस बनाऊंगा;

10 और उसको अपके पिता के पास ले जाना, कि वह खाए, और मरने से पहिले तुझे आशीष दे।

11 तब याकूब ने अपक्की माता रिबका से कहा, सुन, मेरा भाई एसाव रोंय पुरूष है, और मैं निर्मल मनुष्य हूं;

12 मेरे पिता साहस के साथ मुझे महसूस करेंगे, और मैं उसे धोखेबाज के रूप में देखूंगा; और मैं अपने ऊपर शाप लाऊंगा, आशीष नहीं।

13 उस की माता ने उस से कहा, हे मेरे पुत्र, तेरा श्राप मुझ पर हो; केवल मेरी बात मानो, और मेरे पास जाकर उन्हें ले आओ।

14 तब वह जाकर अपक्की माता के पास ले गया; और उसकी माता ने उसके पिता के प्रेम के समान स्वादिष्ट मांस बनाया।

15 और रिबका ने अपके ज्येष्ठ पुत्र एसाव के अच्छे वस्त्र जो उसके संग भवन में थे, लेकर अपके छोटे पुत्र याकूब को पहिना दिए;

16 और उसने बकरियोंके बच्चोंकी खाल उसके हाथोंपर, और उसके चिकने गरदन पर लगाई;

17 और उस ने स्वादिष्ट मांस और रोटी, जो उस ने तैयार की या, अपके पुत्र याकूब के हाथ में कर दी।

18 और वह अपके पिता के पास आकर कहने लगा, हे मेरे पिता; उस ने कहा, मैं यहां हूं; हे मेरे पुत्र, तू कौन है?

19 याकूब ने अपके पिता से कहा, मैं तेरा जेठा एसाव हूं; जैसा तू ने मुझ से बुरा किया, वैसा ही मैं ने किया है; उठ, मैं तुझ से प्रार्थना करता हूं, बैठ और मेरे अहेर में से खा, कि तेरा प्राण मुझे आशीष दे।

20 इसहाक ने अपके पुत्र से कहा, हे मेरे पुत्र, तू ने उसे इतनी जल्दी कैसे पा लिया? उस ने कहा, क्योंकि तेरा परमेश्वर यहोवा उसको मेरे पास ले आया है।

21 इसहाक ने याकूब से कहा, हे मेरे पुत्र, निकट आ, कि मैं तुझे अनुभव करूं, कि तू मेरा पुत्र एसाव ही है वा न हो।

22 और याकूब अपके पिता इसहाक के पास गया; और उस ने उसको छूकर कहा, शब्द तो याकूब का है, परन्तु हाथ एसाव के हाथ हैं।

23 और उस ने उसे न पहिचाना, क्योंकि उसके हाथ उसके भाई एसाव के हाथों के समान रोंथे थे; इसलिए उसने उसे आशीर्वाद दिया।

24 उस ने कहा, क्या तू मेरा पुत्र एसाव है? और उसने कहा, मैं हूं।

25 और उस ने कहा, उसको मेरे पास ले आ, कि मैं अपके पुत्र के अहेर में से खाऊंगा, कि मेरा प्राण तुझे आशीर्वाद दे। और वह उसे उसके पास ले आया, और उसने खाया; और वह उसके लिये दाखमधु ले आया, और उसने पिया।

26 उसके पिता इसहाक ने उस से कहा, हे मेरे पुत्र, निकट आ, और मुझे चूम।

27 और उस ने निकट आकर उसे चूमा; और उस ने अपके वस्त्रोंकी सुगन्ध पाकर उसे आशीर्वाद दिया, और कहा, देख, मेरे पुत्र की सुगन्ध उस खेत की सी सुगन्ध है जिस पर यहोवा ने आशीष दी है;

28 इसलिथे परमेश्वर तुझे आकाश की ओस, और पृय्वी की चर्बी, और बहुत सारा अन्न और दाखमधु दे;

29 लोग तेरी उपासना करें, और जातियां तुझे दण्डवत् करें; अपके भाइयोंके ऊपर प्रभु हो, और अपक्की माता के पुत्र तुझे दण्डवत करें; जो कोई तुझे शाप दे वह शापित हो, और जो तुझे आशीर्वाद दे वह धन्य हो।

30 और जैसे ही इसहाक ने याकूब को आशीर्वाद दिया, और याकूब अपके पिता इसहाक के साम्हने से दुर्लभ ही निकला या, कि उसका भाई एसाव अपके अहेर करके भीतर आ गया।

31 और वह भी स्वादिष्ट मांस बनाकर अपके पिता के पास ले आया या, और अपके पिता से कहा, मेरा पिता उठकर अपके पुत्र के अहेर में से खा, जिस से तेरा मन मुझे आशीष दे।

32 उसके पिता इसहाक ने उस से कहा, तू कौन है? उस ने कहा, मैं तेरा पुत्र, और तेरा जेठा एसाव हूं।

33 और इसहाक बहुत कांप उठा, और कहा, कौन? वह कहाँ है जो अहेर करके मेरे पास ले आया है, और मैं ने तेरे आने से पहिले सब कुछ खाकर उसे आशीष दी है? हाँ, और वह आशीषित होगा।

34 जब एसाव ने अपके पिता की बातें सुनीं, तब वह बड़ी और बड़ी कटु पुकार के साथ पुकारा, और अपके पिता से कहा, हे मेरे पिता, मुझे भी आशीष दे।

35 और उस ने कहा, तेरा भाई सूक्ष्मता से आया, और तेरी आशीष ले लिया है।

36 उस ने कहा, क्या उसका नाम याकूब ठीक नहीं? क्‍योंकि उस ने मुझे दो बार दबा रखा है; उसने मेरा जन्मसिद्ध अधिकार छीन लिया; और देखो, अब उस ने मेरी आशीष ले ली है। और उस ने कहा, क्या तू ने मेरे लिथे आशीष नहीं रखा है?

37 इसहाक ने एसाव से कहा, सुन, मैं ने उसको तेरा स्वामी ठहराया है, और उसके सब भाइयोंको मैं ने उसके दास कर दिया है; और मैं ने अन्न और दाखमधु देकर उसको स्थिर किया है; हे मेरे पुत्र, अब मैं तुझ से क्या करूं?

38 एसाव ने अपके पिता से कहा, हे मेरे पिता, क्या तेरे पास केवल एक ही आशीष है? हे मेरे पिता, मुझे भी आशीर्वाद दे। तब एसाव ऊँचे शब्द से रोया।

39 उसके पिता इसहाक ने उस से कहा, सुन, तेरा निवास पृय्वी की चर्बी और ऊपर से आकाश की ओस ठहरेगा;

40 और तू अपक्की तलवार से जीवित रहेगा, और अपके भाई की उपासना करेगा; और जब तू प्रभुता करेगा, तब अपके गले पर से उसका जूआ तोड़ डालेगा।

41 और एसाव याकूब से उस आशीष के कारण बैर रखता था जिस से उसके पिता ने उसको आशीष दी थी; और एसाव ने मन ही मन कहा, मेरे पिता के शोक के दिन निकट हैं; तब मैं अपके भाई याकूब को घात करूंगा।

42 और उसके बड़े पुत्र एसाव की ये बातें रिबका से कही गईं; और उस ने अपने छोटे पुत्र याकूब को बुलवा भेजा, और उस से कहा, सुन, तेरा भाई एसाव तुझे छूकर शान्ति देता है, और तुझे मार डालने की नीयत करता है।

43 सो अब हे मेरे पुत्र, मेरी बात मान; और उठ, अपके भाई लाबान के पास हारान को भाग जा;

44 और जब तक तेरे भाई का जलजलाहट थम न जाए, तब तक उसके पास कुछ दिन रहना;

45 जब तक तेरे भाई का कोप तुझ पर से दूर न हो जाए, और जो काम तू ने उस से किया है उसे वह भूल जाए; तब मैं भेजकर तुझे वहां से ले आऊंगा; मैं भी तुम दोनों से एक ही दिन में क्यों वंचित रहूँ?

46 तब रिबका ने इसहाक से कहा, हेत की बेटियोंके कारण मैं अपके प्राण से थक गई हूं; यदि याकूब हित की पुत्रियों में से ऐसी जो उस देश की बेटियों में से हैं, ब्याह ले, तो मेरा जीवन क्या करेगा?

अध्याय 28

इसहाक याकूब को आशीर्वाद देता है - एसाव महलत से शादी करता है - याकूब की सीढ़ी का दर्शन - बेत-एल का पत्थर - याकूब की मन्नत।

1 तब इसहाक ने याकूब को बुलाकर आशीर्वाद दिया, और आज्ञा दी, कि तू कनानियोंमें से किसी को ब्याह न लेना।

2 उठकर पदन-अराम को अपके पिता बतूएल के घर जाना; और वहां से अपके मामा लाबान की बेटियोंमें से एक ब्याह ब्याह लेना।

3 और सर्वशक्‍तिमान परमेश्वर तुझे आशीष दे, और फूले-फले, और बहुत बढ़ाए, कि तू लोगोंकी भीड़ हो जाए;

4 और इब्राहीम की आशीष तुझे, और अपके वंश को जो तेरे संग रहे हैं, दे; कि जिस देश में तू परदेशी है, और जिसे परमेश्वर ने इब्राहीम को दिया है, उस में तू उसका अधिकारी हो जाए।

5 और इसहाक ने याकूब को विदा किया; और वह पदनराम को अरामी बतूएल के पुत्र लाबान के पास गया, जो याकूब और एसाव की माता रिबका का भाई था।

6 जब एसाव ने देखा, कि इसहाक ने याकूब को आशीर्वाद दिया है, और उसे पद्दनराम भेज दिया है, कि वहां से उसकी ब्याह करे; और उस ने उसको आशीर्वाद देकर यह आज्ञा दी, कि तू कनानियोंमें से किसी को ब्याह न लेना;

7 और याकूब अपके पिता और अपक्की माता की बात मानकर पदनराम को चला गया;

8 और एसाव ने देखा, कि कनान की बेटियां अपके पिता इसहाक को प्रसन्‍न नहीं करतीं;

9 तब एसाव इश्माएल के पास गया, और जो स्त्रियां उस से यीं, जो इश्माएल इब्राहीम के पुत्र और नबाजोत की बहिन महलत थीं, अपक्की पत्नी होने के लिथे ब्याह लिया।

10 और याकूब बेर्शेबा से निकलकर हारान को गया।

11 और वह एक स्थान पर प्रकाश डाला, और रात भर वहीं पड़ा रहा, क्योंकि सूर्य अस्त हो गया था; और उस ने उस स्यान के पत्यरोंमें से लेकर अपके तकियोंके लिथे धर दिया, और उस स्यान में सोने को लेट गया।

12 और उस ने स्वप्न देखा, कि एक सीढ़ी पृय्वी पर खड़ी हुई है, और उसकी चोटी आकाश तक पहुंच गई है; और देखो, परमेश्वर के दूत उस पर चढ़ते और उतरते हैं।

13 और देखो, यहोवा उसके ऊपर खड़ा होकर कहने लगा, मैं तेरे पिता इब्राहीम का परमेश्वर यहोवा, और इसहाक का परमेश्वर हूं; जिस देश में तू रहता है उसको मैं तुझे और तेरे वंश को दूंगा;

14 और तेरा वंश पृय्वी की मिट्टी के समान होगा; और पच्छिम, पूरब, उत्तर, दक्खिन तक फैलना; और तुझ में और तेरे वंश से पृय्वी के सब कुल आशीष पाएंगे

15 और सुन, मैं तेरे संग रहूंगा, और जहां कहीं तू जाएगा वहां तेरी रक्षा करूंगा, और तुझे इस देश में फिर ले आऊंगा; क्योंकि जो कुछ मैं ने तुझ से कहा है, उसे तब तक पूरा न कर लूं, तब तक मैं तुझे न छोडूंगा।

16 और याकूब नींद से जाग उठा, और कहने लगा, निश्चय यहोवा इस स्यान में है; और मैं यह नहीं जानता था।

17 और वह डर गया, और कहा, यह स्थान कैसा भयानक है! यह और कोई नहीं वरन परमेश्वर का भवन है, और यह स्वर्ग का द्वार है।

18 बिहान को याक़ूब तड़के उठा, और अपक्की तकियोंके लिथे पत्यर ले कर खम्भे के लिथे खड़ा किया, और उसके ऊपर तेल उँडेल दिया।

19 और उस ने उस स्थान का नाम बेतेल रखा; परन्तु पहिले उस नगर का नाम लूज रखा गया।

20 और याकूब ने यह मन्नत मानी, कि यदि परमेश्वर मेरे संग रहे, और इस रीति से मेरी रक्षा करे, कि मैं जाता हूं, और खाने को रोटी, और पहिनने के लिथे वस्त्र दूंगा,

21 इसलिथे कि मैं कुशल से अपके पिता के घर लौट आऊं; तब यहोवा मेरा परमेश्वर होगा;

22 और इस पत्यर का जो स्यान मैं ने खम्भे के लिथे ठहराया है वह परमेश्वर के भवन का स्यान हो; और जो कुछ तू मुझे देगा उसका दसवां अंश मैं निश्चय तुझे दूंगा।

अध्याय 29

याकूब हारान के पास आता है - याकूब राहेल के लिए वाचा रखता है - वह लिआ के साथ धोखा दिया जाता है - वह राहेल से शादी करता है।

1 तब याकूब अपनी यात्रा पर चला, और पूर्व के लोगों के देश में आया।

2 और उस ने दृष्टि की, और क्या देखा, कि मैदान में एक कुआं है, क्या उसके पास भेड़-बकरियोंके तीन भेड़-बकरियां पड़ी हैं; क्योंकि उन्होंने उस कुएं में से भेड़-बकरियोंको सींचा; और एक बड़ा पत्थर कुएं के मुंह पर था।

3 और सब भेड़-बकरियां वहीं इकट्ठी हो गईं; और उन्होंने पत्यर को कुएं के मुंह पर से लुढ़काया, और भेड़-बकरियोंको सींचा, और पत्यर को उसके स्थान पर फिर कुएं के मुंह पर लगा दिया।

4 तब याकूब ने उन से कहा, हे मेरे भाइयो, तुम कहां के हो? और उन्होंने कहा, हारान से।

5 उस ने उन से कहा, क्या तुम नाहोर के पुत्र लाबान को जानते हो? उन्होंने कहा, हम उसे जानते हैं।

6 उस ने उन से कहा, क्या वह ठीक है? उन्होंने कहा, वह ठीक है; और देखो, राहेल, उसकी बेटी भेड़-बकरियोंके संग आ रही है।

7 उस ने कहा, देखो, अभी दिन बहुत है, और न यह समय है, कि पशु इकट्ठे किए जाएं; भेड़ों को पानी पिला, और जाकर उन्हें चरा।

8 और उन्होंने कहा, जब तक सब भेड़-बकरियां इकट्ठी न हो जाएं, और पत्यर कुएं के मुंह पर से लुढ़क न जाए, तब तक हम ऐसा नहीं कर सकते; फिर हम भेड़ को पानी देते हैं।

9 और जब वह उन से बातें कर ही रहा था, तब राहेल अपके पिता की भेड़-बकरियोंके संग आई; क्योंकि उसने उन्हें रखा।

10 और जब याकूब ने अपके मामा लाबान की बेटी राहेल, और अपक्की माता लाबान की भेड़-बकरियोंको देखा, तब याकूब ने निकट जाकर कुएं के मुंह पर से पत्यर लुढ़काकर अपक्की माता लाबान की भेड़-बकरियोंको पिलाया भाई।

11 तब याकूब ने राहेल को चूमा, और ऊंचे शब्द से रोया।

12 तब याकूब ने राहेल से कहा, कि वह उसके पिता का भाई है, और वह रिबका का पुत्र है; और उसने दौड़कर अपने पिता को बताया।

13 और जब लाबान ने अपक्की बहिन याकूब का समाचार सुना, तब वह उस से भेंट करने को दौड़ा, और उसको गले लगाकर चूमा, और अपके घर ले आया। और उसने लाबान को ये सब बातें कहीं।

14 तब लाबान ने उस से कहा, निश्चय तू ही मेरी हड्डी और मांस है। और वह उसके साथ एक महीने का स्थान रहा।

15 तब लाबान ने याकूब से कहा, तू मेरा भाई है, तो क्या तू व्यर्थ मेरी उपासना करना चाहता है? मुझे बताओ, तुम्हारी मजदूरी क्या होगी?

16 और लाबान के दो बेटियां हुईं; बड़ी का नाम लिआ, और छोटी का नाम राहेल था।

17 लिआ: कोमल आंखों वाली थी; परन्तु राहेल सुन्दर और कृपालु थी।

18 और याकूब राहेल से प्रीति रखता या; और कहा, मैं तेरी छोटी बेटी राहेल के लिथे सात वर्ष तेरी सेवा करूंगा।

19 तब लाबान ने कहा, यह अच्छा है कि मैं उसे तुझे दे दूं, कि मैं उसे किसी दूसरे को दे दूं; मेरा साथ दो।

20 और याकूब ने राहेल के लिथे सात वर्ष सेवा की; और वे उसे उस प्रीति के लिथे थोड़े ही दिनोंमें मालूम हुए।

21 और याकूब ने लाबान से कहा, मेरी पत्नी मुझे दे कि मैं जाकर उसे ले जाऊं, क्योंकि तेरी सेवा के मेरे दिन पूरे हो गए हैं।

22 तब लाबान ने उसे याकूब को दिया, और उस स्थान के सब पुरूषोंको इकट्ठी करके जेवनार की।

23 और सांफ को वह अपक्की बेटी लिआ: को लेकर याकूब के पास ले गया, और वह भीतर जाकर उसके संग सो गई।

24 और लाबान ने अपक्की बेटी लिआ: को अपक्की दासी जिल्पा को उसके लिथे दासी होने के लिथे दिया।

25 बिहान को देखो, वह लिआ: है; और उस ने लाबान से कहा, तू ने मुझ से यह क्या किया है? क्या मैं ने तेरे संग राहेल की सेवा नहीं की? फिर तू ने मुझे क्यों बहकाया?

26 तब लाबान ने कहा, हमारे देश में ऐसा न किया जाए, कि छोटे को पहिलौठोंके साम्हने दिया जाए।

27 उसका सप्ताह पूरा कर, और जो सेवा तू मेरे साथ और सात वर्ष तक करेगा, उसके लिये हम यह भी तुझे देंगे।

28 और याकूब ने वैसा ही किया, और उसका सप्ताह पूरा किया; और उस ने अपक्की बेटी राहेल को भी उसको ब्याह दिया।

29 और लाबान ने अपक्की दासी राहेल को अपक्की दासी बिल्हा को ब्याह दिया, कि वह उसकी दासी हो।

30 और वह भीतर जाकर राहेल के संग सो गया, और वह लिआ: से भी अधिक राहेल से प्रीति रखता या, और सात वर्ष और लाबान के साथ सेवा करता रहा।।

31 जब यहोवा ने देखा, कि लिआ: से बैर है, तब उस ने उसकी कोख खोल दी; परन्तु राहेल बांझ थी।

32 और लिआ: गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और उसने उसका नाम रूबेन रखा; क्योंकि उस ने कहा, निश्चय यहोवा ने मेरे दु:ख पर दृष्टि की है; इसलिए अब मेरा पति मुझ से प्रेम करेगा।

33 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और कहा, यहोवा ने सुन लिया है, कि मुझ से बैर है, इसलिथे उस ने यह पुत्र भी मुझे दिया है; और उसने उसका नाम शिमोन रखा।

34 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और कहा, अब की बार मेरा पति मुझ से मिल जाएगा, क्योंकि मैं ने उसके तीन पुत्र उत्‍पन्‍न किए हैं; इसलिए उसका नाम लेवी रखा गया।

35 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और उस ने कहा, अब मैं यहोवा की स्तुति करूंगी; इसलिए उसने उसका नाम यहूदा रखा; और असर छोड़ दिया।

अध्याय 30

राहेल ने अपनी दासी याकूब को दी - लिआ ने अपनी दासी दी - राहेल ने यूसुफ को - याकूब की नीति को जन्म दिया।

1 जब राहेल ने देखा, कि उस से याकूब उत्पन्न नहीं हुआ, तब राहेल अपक्की बहिन से डाह करने लगी; और याकूब से कहा, मुझे सन्तान दो, नहीं तो मैं मर जाऊंगा।

2 और याकूब का कोप राहेल पर भड़क उठा; और उस ने कहा, क्या मैं परमेश्वर के स्थान पर हूं, जिस ने तुझ से गर्भ का फल रोक रखा है?

3 उस ने कहा, मेरी लौंडी बिल्हा को देख, भीतर जाकर उसके साथ सो; और वह मेरे घुटनों के बल जनेगी, कि उस से मेरे भी बच्चे हों।

4 और उस ने अपक्की दासी बिल्हा को अपक्की पत्नी को ब्याह दिया; और याकूब जाकर उसके संग सो गया।

5 और बिल्हा गर्भवती हुई, और याकूब के एक पुत्र उत्पन्न हुआ।

6 राहेल ने कहा, परमेश्वर ने मेरा न्याय किया है, और मेरी बात भी सुनी है, और मुझे एक पुत्र दिया है; इसलिए उसने उसका नाम दान रखा।

7 और राहेल की लौंडी बिल्हा फिर गर्भवती हुई, और याकूब से एक दूसरा पुत्र उत्पन्न हुआ।

8 राहेल ने कहा, मैं ने अपक्की बहिन से बड़ा मल्लयुद्ध किया है, और मैं जीत गई हूं; और उसने उसका नाम नप्ताली रखा।

9 जब लिआ: ने देखा कि वह गर्भवती हो गई है, तब उस ने अपक्की लौंडी जिल्पा को लेकर याकूब को ब्याह दिया।

10 और लिआ: की दासी जिल्पा से याकूब के एक पुत्र उत्पन्न हुआ।

11 लिआ: ने कहा, एक दल आता है; और उसने उसका नाम गाद रखा।

12 और लिआ: की दासी जिल्पा से याकूब का एक दूसरा पुत्र उत्पन्न हुआ।

13 लिआ: ने कहा, मैं धन्य हूं, क्योंकि बेटियां मुझे धन्य कहेंगी; और उसने उसका नाम आशेर रखा।

14 और रूबेन गेहूँ कटने के दिनोंमें जाकर मैदान में दूदाफल पाकर अपक्की माता लिआ: के पास ले आया। तब राहेल ने लिआ: से कहा, अपके पुत्र के दूदाफलोंमें से मुझे दे।

15 और उस ने उस से कहा, क्या यह छोटी बात है कि तू ने मेरे पति को ले लिया है? और क्या तू मेरे पुत्र के दूदाफलोंको भी छीन लेगा? राहेल ने कहा, इसलिथे वह आज रात तेरे पुत्र के दूदाफलोंके लिथे तेरे संग सोएगा।

16 और सांफ को याकूब मैदान से निकला, और लिआ: उस से भेंट करने को निकली, और कहा, तू भीतर आकर मेरे संग सोएगा; क्योंकि निश्चय मैं ने अपके पुत्र के दूदाफल देकर तुझे किराए पर लिया है। और वह उस रात उसके साथ लेटा था।

17 और परमेश्वर ने लिआ: की सुनी, और वह गर्भवती हुई, और याकूब से पांचवां पुत्र उत्पन्न हुआ।

18 लिआ: ने कहा, परमेश्वर ने मुझे मेरी मजदूरी दी है, क्योंकि मैं ने अपक्की लौंडी को अपके पति को दे दिया है; और उसने उसका नाम इस्साकार रखा।

19 और लिआ: फिर गर्भवती हुई, और याकूब से छठा पुत्र उत्‍पन्‍न हुआ।

20 लिआ: ने कहा, परमेश्वर ने मुझे अच्छा दहेज दिया है; अब मेरा पति मेरे संग रहेगा, क्योंकि उसके छ: पुत्र उत्पन्न हुए हैं; और उसने उसका नाम जबूलून रखा।

21 और उसके बाद उसके एक बेटी हुई, और उसका नाम दीना रखा।

22 और परमेश्वर ने राहेल की सुधि ली, और परमेश्वर ने उसकी सुनकर उसकी कोख खोल दी।

23 और वह गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और कहा, परमेश्वर ने मेरी नामधराई दूर की है;

24 और उसने उसका नाम यूसुफ रखा; और कहा, यहोवा मेरे लिथे एक और पुत्र उत्पन्न करेगा।

25 जब राहेल ने यूसुफ को जन्म दिया, तब याकूब ने लाबान से कहा, मुझे विदा कर, कि मैं अपके स्यान और अपके देश को जाऊं।

26 मेरी पत्नियां और मेरे लड़केबाल जिनके लिथे मैं ने तेरी उपासना की है, मुझे दे दे, और मुझे जाने दे; क्योंकि जो सेवा मैं ने तुझ से की है, वह तू जानता है।

27 तब लाबान ने उस से कहा, यदि तेरी कृपा मुझ पर हो, तो ठहर; क्योंकि मैं ने अनुभव से सीखा है, कि यहोवा ने तेरे निमित्त मुझे आशीष दी है।

28 उस ने कहा, अपनी मजदूरी मुझे दे, और मैं उसे दूंगा।

29 उस ने उस से कहा, तू जानता है कि मैं ने तेरी कैसी सेवा की है, और तेरे पशु मेरे संग कैसे रहते थे।

30 क्‍योंकि मेरे आने से पहिले तेरे पास जो कुछ था वह छोटा था, और अब बढ़कर बहुत हो गया है; और मेरे आने से यहोवा ने तुझे आशीष दी है; और अब मैं अपके घर की भी व्यवस्था कब करूं?

31 उस ने कहा, मैं तुझे क्या दूं? याकूब ने कहा, तू मुझे कुछ न देना; यदि तू मेरे लिथे यह काम करे, तो मैं फिर चराऊंगा, और तेरी भेड़-बकरियोंकी रखवाली करूंगा।

32 मैं आज तेरी सारी भेड़-बकरियोंमें से होकर निकलूंगा, और उन में से सब धब्बेदार और चितकबरे पशु, और भेड़-बकरियोंमें से सब भूरे रंग के पशु, और बकरियोंके बीच के सब चित्तीवालेऔर चित्तीवालेको दूर कर दूंगा; और उनमें से मेरा किराया होगा।

33 इस प्रकार मेरा धर्म आनेवाले समय में मेरी ओर से उत्तर देगा, जब वह तेरे साम्हने मेरी मजदूरी की भेंट चढ़ेगा; बकरियों में से जितने धब्बेदार और धब्बेदार न हों, और भेड़ों में से जितने भूरे हों, वे सब मेरे संग चुराए हुए समझे जाएं।

34 तब लाबान ने कहा, सुन, मैं तेरे वचन के अनुसार होता।

35 और उस ने उसी दिन धारीवाले और चित्तीदार बकरियोंको, और सब धब्बेदार और चित्तीदार बकरियोंको, और जितनोंके कुछ सफेद और भेड़-बकरियोंमें से सब भूरे रंग के थे, उन सब को हटाकर उनके हाथ में कर दिया। उसके बेटों की।

36 और उस ने अपने और याकूब के बीच में तीन दिन का मार्ग ठहराया; और याकूब ने लाबान की और भेड़-बकरियोंको चराया।

37 और याकूब ने उसके लिये चिनार की हरी छड़ें, और हेज़ेल और शाहबलूत के पेड़ ले लिए; और उन में श्वेत धारियां डालीं, और जो लट्ठोंमें था, वह श्वेत दिखाई दिया।

38 और जब भेड़-बकरियां पीने को आए, तब उस ने उन लाठियोंको, जो उस ने भेड़-बकरियोंके साम्हने गटरोंमें गटरोंमें रखीं, कि जब वे पीने को आए तब वे गर्भवती हों।

39 और भेड़-बकरियां लाठी के साम्हने गर्भवती हुईं, और धारीवाले, चित्तीवाले, और चित्तीवाले पशु उत्पन्न किए।

40 और याकूब ने भेड़-बकरियोंको अलग किया, और भेड़-बकरियोंके मुख कड़ियोंकी ओर, और लाबान की भेड़-बकरियोंके सब भूरे रंग के भी किए; और अपक्की भेड़-बकरियोंको अलग रखा, और लाबान के पशुओं के लिथे न रखा।

41 और ऐसा हुआ कि जब-जब बलवन्त पशु गर्भवती हुए, तब तक याकूब ने गदहोंमें बेंतोंको पशुओं की आंखोंके साम्हने रखा, कि वे छड़ोंके बीच गर्भवती हों।

42 परन्तु जब पशु निर्बल हो गए, तब उस ने उन्हें भीतर न रखा; इस प्रकार निर्बल लाबान के, और बलवान याकूब के थे।

43 और वह मनुष्य बहुत बढ़ गया, और उसके पास बहुत से पशु, और दासियां, और दास, और ऊंट, और गदहे हो गए।

अध्याय 31

याकूब चुपके से चला जाता है—लाबान उसका पीछा करता है—गलीद की वाचा।

1 और उसने लाबान के पुत्रों की ये बातें सुनीं, कि याकूब ने हमारे पिता का सब कुछ ले लिया है; और जो कुछ हमारे पिता का था, उस ने यह सारी महिमा पाई है।

2 और याकूब ने लाबान का मुंह देखा, और क्या देखा, कि वह पहिले की नाई उसकी ओर नहीं रहा।

3 और यहोवा ने याकूब से कहा, अपके पितरोंके देश और अपके कुटुम्ब को लौट जा; और मैं तेरे संग रहूंगा।

4 तब याकूब ने राहेल और लिआ: को अपक्की भेड़-बकरियोंके पास मैदान में बुलवा भेजा,

5 और उन से कहा, मैं ने तुम्हारे पिता का मुंह देखा है, कि वह मेरी ओर पहिले के समान नहीं रहा; परन्तु मेरे पिता का परमेश्वर मेरे साथ रहा है।

6 और तुम जानते हो, कि मैं ने अपक्की सारी शक्ति से तुम्हारे पिता की सेवा की है।

7 और तेरे पिता ने मुझे धोखा दिया, और मेरी मजदूरी को दस बार बदला है; परन्तु परमेश्वर ने उसे सहा, कि वह मेरी हानि न करे।

8 यदि उस ने योंकहा, कि चित्तीवाले तेरी मजदूरी ठहरेंगे; तब सब पशु नंगे चित्तीवाले; और उस ने योंकहा, कि लट्ठा तेरा भाड़ा ठहरेगा; फिर सभी मवेशियों को नंगे कर दिया।

9 इस प्रकार परमेश्वर ने तुम्हारे पिता के पशुओं को ले कर मुझे दे दिया है।

10 और जब भेड़-बकरियां गर्भवती हुई, तब मैं ने आंखें उठाकर स्वप्न में देखा, कि जो मेढ़े पशुओं पर उछलते हैं, वे धारीवाले, चित्तीवाले, और भुरभुरे थे।

11 और परमेश्वर के दूत ने स्वप्न में मुझ से कहा, हे याकूब; और मैं ने कहा, मैं यहां हूं।

12 उस ने कहा, आंखें उठाकर देख, जितने मेढ़े पशुओं पर चढ़ते हैं, वे सब धारीवाले, चित्तीवाले, और भुरभुरे हैं; क्योंकि जो कुछ लाबान तुझ से करता है वह सब मैं ने देखा है।

13 मैं उस बेतेल का परमेश्वर हूं, जिस में तू ने उस खम्भे का अभिषेक किया, और जहां तू ने मेरे लिथे मन्नत मानी या; अब उठ, इस देश से निकलकर अपके अपके कुटुम्ब के देश को लौट जा।

14 राहेल और लिआ: ने उस से कहा, क्या हमारे पिता के घराने में अब भी हमारा कुछ भाग वा भाग है?

15 क्या हम उस में परदेशी नहीं गिने गए? क्‍योंकि उस ने हम को बेच डाला, और हमारे रुपए को भी भस्म कर डाला है।

16 क्योंकि जो धन परमेश्वर ने हमारे पिता से लिया है, वह हमारा और हमारे बच्चों का है; अब तो जो कुछ परमेश्वर ने तुझ से कहा है, वही कर।

17 तब याकूब ने उठकर अपके पुत्रोंऔर पत्नियोंको ऊंटोंपर बिठाया;

18 और अपके अपके पिता इसहाक के पास कनान देश में जाने के लिथे अपके सब गाय-बैल, और जो कुछ उसको मिला था, अर्यात् अपके जो पशु पद्दनराम में प्राप्त हुए थे, वह सब ले गया।

19 और लाबान अपक्की भेड़-बकरियोंका ऊन कतरने को गया; और राहेल ने अपके पिता की मूरतोंको चुरा लिया या।

20 और याकूब ने अरामी लाबान को अनजाने में चुरा लिया, कि उस ने उस से न कहा, कि वह भाग गया है।

21 सो वह अपना सब कुछ लेकर भाग गया; और वह उठकर महानद के पार गया, और अपना मुंह गिलाद पर्वत की ओर किया।

22 और तीसरे दिन लाबान को यह समाचार मिला, कि याकूब भाग गया है।

23 और वह अपके भाइयोंको अपके संग ले गया, और सात दिन तक उसका पीछा करता रहा; और वे उसे गिलाद पर्वत पर ले गए।

24 और परमेश्वर ने रात को स्वप्न में अरामी लाबान के पास आकर उस से कहा, चौकस रहना, कि तू याकूब से भला वा बुरा न बोलना।

25 तब लाबान ने याकूब को पकड़ लिया। याकूब ने अपना तम्बू पर्वत पर खड़ा किया था; और लाबान ने अपके भाइयोंके संग गिलाद के पहाड़ पर डेरे खड़े किए।।

26 तब लाबान ने याकूब से कहा, तू ने ऐसा क्या किया है, कि तू ने अनजाने में ही मेरा चुरा लिया, और मेरी बेटियोंको तलवार से बन्धुआई की नाईं उठा ले गया?

27 इस कारण तू चुपके से भाग गया, और मेरे पास से चुरा ले गया; और क्या मुझे नहीं बताया, कि मैं ने तुझे आनन्द, और गीत, और ताबड़, और वीणा बजाते हुए विदा किया होता?

28 और क्या मुझे अपके बेटे-बेटियोंको चूमने की आज्ञा नहीं दी? तू ने अब ऐसा करके मूर्खता का काम किया है।

29 तुझे हानि पहुंचाना मेरे हाथ में है; परन्तु तुम्हारे पिता के परमेश्वर ने कल रात मुझ से कहा, चौकस रहना, कि तू याकूब से न तो भला और न बुरा कहना।

30 और अब, यदि तू चाहता है, कि तू अपने पिता के घराने की लालसा करे, तौभी तू ने मेरे देवताओं को क्यों चुराया है?

31 और याकूब ने लाबान से कहा, मैं डर गया या; क्‍योंकि मैं ने कहा, तू अपक्की बेटियोंको बलपूर्वक मुझ से ले लेगा।

32 जिस किसी के पास तू अपके देवता पाए, वह जीवित न रहने पाए; हमारे भाइयों के साम्हने तू यह जान लेना कि तेरा मेरे पास क्या है, और उसे अपके पास ले जाना। क्योंकि याकूब नहीं जानता था कि राहेल ने उन्हें चुरा लिया है।

33 और लाबान याकूब के डेरे में, और लिआ: के डेरे में, और दो दासियोंके डेरे में गया; परन्तु वह उन्हें नहीं मिला। तब वह लिआ: के डेरे से निकलकर राहेल के डेरे में गया।

34 और राहेल ने मूरतोंको लेकर ऊंट के सामान में रख दिया, और उन पर बैठ गई। और लाबान ने सारे तम्बू में खोजबीन की, परन्तु उन्हें न पाया।

35 और उस ने अपके पिता से कहा, मेरे प्रभु को ऐसा न हो कि मैं तेरे साम्हने उठ न सकूं; क्योंकि स्त्रियों का रिवाज मुझ पर है। और उसने खोजा, लेकिन छवियों को नहीं मिला।

36 और याकूब का क्रोध भड़क उठा, और उसने लाबान को कूट लिया; और याकूब ने उत्तर देकर लाबान से कहा, मेरा अपराध क्या है? मेरा पाप क्या है, कि तू ने मेरे पीछे इतनी गंभीरता से पीछा किया है?

37 जब तू ने मेरे सब सामान की पड़ताल की, तो अपके सब घरेलू सामान में से क्या पाया? इसे मेरे भाइयों और अपने भाइयों के साम्हने यहां रख, कि वे हम दोनों के बीच में न्याय करें।

38 मैं तेरे संग रहे बीस वर्ष से हूं; तेरी भेड़-बकरियों और तेरी बकरियों ने अपने बच्चे नहीं डाले, और मैं ने तेरी भेड़-बकरियों के मेढ़ों को नहीं खाया।

39 जो पशु फाड़े गए थे, वे मैं तेरे पास न ले आया; मैंने इसका नुकसान उठाया; चाहे दिन को चोरी हो, वा रात को चोरी हो, क्या तू ने मेरे हाथ से उसकी मांग की है?

40 मैं इस प्रकार था; दिन में अकाल ने मुझे भस्म कर दिया, और रात को पाला; और मेरी आंखों से मेरी नींद उड़ गई।

41 मैं तेरे भवन में ऐसे बीस वर्ष रहा हूं; मैं ने तेरी दोनों पुत्रियोंके लिथे चौदह वर्ष, और तेरे पशुओं के लिथे छ:वर्ष तेरी सेवा की; और तू ने मेरी मजदूरी को दस बार बदला है।

42 यदि मेरे पिता का परमेश्वर, इब्राहीम का परमेश्वर और इसहाक का भय मेरे संग रहता या, तो निश्चय तू ने मुझे अब खाली ही विदा किया होता। परमेश्वर ने मेरे दु:ख और मेरे हाथों के परिश्रम को देखा, और कल रात तुझे डांटा।

43 लाबान ने याकूब से कहा, ये बेटियाँ मेरी बेटियाँ हैं, और ये बच्चे मेरे बच्चे हैं, और ये पशु मेरे पशु हैं, और जो कुछ तू देखता है वह मेरा है; और मैं आज के दिन इन अपक्की बेटियों, वा उनके सन्तानोंसे जो उन्होंने उत्पन्न की हैं, क्या कर सकता हूं?

44 सो अब आओ, हम मैं और तू एक वाचा बान्धें; और वह मेरे और तेरे बीच साक्षी ठहरे।

45 और याकूब ने एक पत्यर ले कर खम्भे के लिथे खड़ा किया।

46 तब याकूब ने अपके भाइयोंसे कहा, पत्यर बटोर लो; और उन्होंने पत्थर लेकर ढेर बनाया; और उन्होंने वहीं ढेर पर भोजन किया।

47 और लाबान ने उसका नाम यगरसहदुता रखा; परन्तु याकूब ने उसका नाम गलीद रखा।

48 तब लाबान ने कहा, यह ढेर आज के दिन मेरे और तेरे बीच में साक्षी है। इसलिए उसका नाम गलीद रखा गया,

49 और मिस्पा; क्योंकि उस ने कहा, जब हम एक दूसरे से दूर रहें, तब यहोवा मेरे और तेरे बीच में जागता रहे।

50 मेरी बेटियोंको दु:ख देना, वा मेरी बेटियोंको छोड़ और ब्याही ब्याह ले जाना, तो कोई हमारे संग न रहेगा; देखो, परमेश्वर मेरे और तुम्हारे बीच साक्षी है।

51 तब लाबान ने याकूब से कहा, इस ढेर को देख, और इस खम्भे को देख, जिसे मैं ने अपने और तेरे बीच में खड़ा किया है;

52 यह ढेर साक्षी है, और यह खम्भा इस बात का साझी है, कि मैं इस ढेर को तेरे पास पार न करूंगा, और तू इस ढेर और इस खम्भे के ऊपर से किसी की हानि न होने देना।

53 इब्राहीम का परमेश्वर, और नाहोर का परमेश्वर, जो उनके पिता का परमेश्वर है, हमारे बीच न्याय करें। और याकूब ने अपके पिता इसहाक के भय से शपय खाई।

54 तब याकूब ने पर्वत पर बलि चढ़ाई, और अपके भाइयोंको रोटी खाने के लिथे बुलाया; और उन्होंने रोटी खाई, और सारी रात पहाड़ पर रहे।

55 और बिहान को बिहान को लाबान ने उठकर अपके बेटे बेटियोंको चूमा, और उनको आशीर्वाद दिया; और लाबान चला गया, और अपके स्यान को लौट गया।

अध्याय 32

याकूब का दर्शन—वह एसाव को भेंट भेजता है—वह पनीएल में एक दूत से मल्लयुद्ध करता है—वह इस्राएल कहलाता है।

1 और याकूब अपने मार्ग पर चला, और परमेश्वर के दूत उस से मिले।

2 और याकूब ने उन्हें देखकर कहा, यह तो परमेश्वर की सेना है; और उस ने उस स्थान का नाम महनैम रखा।

3 और याकूब ने अपके भाई एसाव के पास सेईर देश में जो एदोम का देश है, अपके आगे दूत भेजे।

4 और उस ने उनको आज्ञा दी, कि तुम मेरे प्रभु एसाव से यों कहना; तेरा दास याकूब यों कहता है, मैं लाबान के संग परदेशी होकर अब तक वहीं रहा;

5 और मेरे पास बैल, और गदहे, भेड़-बकरी, और दास, और दासियां हैं; और मैं ने अपके प्रभु से कहने को भेजा है, कि तेरे अनुग्रह की दृष्टि मुझ पर हो।

6 तब दूतों ने याकूब के पास लौटकर कहा, हम तो तेरे भाई एसाव के पास आए हैं, और वह भी तेरे संग चार सौ पुरूषों समेत तुझ से भेंट करने को आया है।

7 तब याकूब बहुत डर गया और व्याकुल हो गया; और उसने लोगों को विभाजित किया कि

उसके संग, और भेड़-बकरियां, और गाय-बैल, और ऊंट दो खेमे में थे;

8 और कहा, यदि एसाव एक दल के पास आकर उसे मारे, तो दूसरा दल जो बचा हो वह बच निकलेगा।

9 तब याकूब ने कहा, हे मेरे पिता इब्राहीम के परमेश्वर, और मेरे पिता इसहाक के परमेश्वर, जिस यहोवा ने मुझ से कहा है, अपके देश और अपक्की कुटुम्ब को लौट जा, और मैं तेरा भला करूंगा;

10 जो कुछ तू ने अपके दास को दिखाया है, उस सब में जो कुछ तू ने अपके दास को दिखाया है उस में से मैं छोटी सी भी दया के योग्य नहीं हूं; क्योंकि मैं अपनी लाठी समेत इस यरदन के पार गया हूं; और अब मैं दो बैंड बन गया हूं।

11 मुझे अपके भाई एसाव के हाथ से छुड़ा ले; क्योंकि मैं उस से डरता हूं, कहीं ऐसा न हो कि वह आकर मुझे और माताओं को और बालकोंको मार डाले।

12 और तू ने कहा, मैं निश्चय तेरा भला करूंगा, और तेरे वंश को समुद्र की बालू के समान कर दूंगा, जिसकी गिनती बहुतायत से नहीं की जा सकती।

13 और उसी रात वह वहीं ठहर गया; और जो कुछ उसके हाथ में आया, उस में से अपके भाई एसाव के लिथे भेंट ले ली;

14 दो सौ बकरियां और बीस बकरे, दो सौ भेड़ और बीस मेढ़े,

15 और उनके बत्तखों समेत तीस दुधारू ऊंट, चालीस गायें और दस बैल, बीस गदहियां, और दस बछड़े।

16 और उस ने अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके वश म कर िदया; और अपके दासोंसे कहा, मेरे साम्हने से आगे निकल, और गाड़ी और कूचियोंके बीच में एक स्थान बना।

17 और उस ने सबसे बड़े को यह आज्ञा दी, कि जब मेरा भाई एसाव तुझ से मिले, और तुझ से पूछे, कि तू किस का है? और तुम कहाँ जाते हो? और ये तेरे साम्हने किसके हैं?

18 और तू कहना, वे तेरे दास याकूब के हैं; यह भेंट मेरे प्रभु एसाव के पास भेजी गई है; और देखो, वह भी हमारे पीछे है।

19 और उस ने दूसरे तीसरे को, और झुण्ड के पीछे चलनेवालोंको यह आज्ञा दी, कि जब तुम एसाव को पाओ तब उस से इसी प्रकार बात करना।

20 और तुम यह भी कहना, सुन, तेरा दास याकूब हमारे पीछे पीछे है। क्योंकि उस ने कहा था, कि जो भेंट अपके साम्हने है, उसके द्वारा मैं उसको प्रसन्न करूंगा, और उसके बाद मैं उसका दर्शन करूंगा; peradventure वह मुझे स्वीकार करेगा।

21 तब भेंट उसके साम्हने पार गई; और खुद उस रात कंपनी में दर्ज किया।

22 और उस रात को वह उठा, और अपक्की दोनोंपत्नियों, और अपक्की दो दासियों, और अपने ग्यारह पुत्रोंको ब्याह करके यब्बोक के पार चला गया।

23 और उस ने उनको ले कर नाले के ऊपर भेज दिया, और अपक्की अपक्की अपक्की अपक्की बातें कह सुनाया।

24 और याकूब अकेला रह गया; और एक मनुष्य उस से पहिले पहिले तक मल्लयुद्ध करता रहा।

25 और जब उस ने देखा, कि मैं उस पर प्रबल नहीं होता, तब उस ने उसकी जांघ की नोक को छूआ; और जब याकूब उस से मल्लयुद्ध कर रहा था, तब उसकी जांघ का जोड़ टूट गया या।

26 उस ने कहा, मुझे जाने दे, क्योंकि दिन ढलता है। उस ने कहा, मैं तुझे जाने न दूंगा, जब तक तू मुझे आशीर्वाद न दे।

27 उस ने उस से कहा, तेरा नाम क्या है? और उस ने कहा, हे याकूब।

28 उस ने कहा, तेरा नाम फिर याकूब नहीं, वरन इस्राएल रखा जाएगा; क्योंकि तू प्रधान की नाईं परमेश्वर और मनुष्योंके साय सामर्थ रखता है, और प्रबल होता है।

29 तब याकूब ने उस से पूछकर कहा, हे अपके नाम, मुझ से कह, मैं तुझ से बिनती करता हूं। उस ने कहा, तू मेरा नाम क्योंकर पूछता है? और वहाँ उसे आशीर्वाद दिया।

30 और याकूब ने उस स्थान का नाम पनीएल रखा; क्योंकि मैं ने परमेश्वर को आमने-सामने देखा है, और मेरा प्राण बच गया है।

31 और जब वह पनूएल के पार गया, तब सूर्य उस पर चढ़ गया, और वह उसकी जांघ पर टिका रहा।

32 इस कारण इस्त्राएलियोंने सिकुड़ी हुई जंघा में से जो जांघ की खोखली पर रहती है, उसका फल आज तक नहीं खाया; क्‍योंकि उस ने याकूब की जाँघ की खोखली नस को, जो सिकुड़ी हुई थी, छुआ था।

अध्याय 33

याकूब और एसाव की कृपा उनकी बैठक में - याकूब ने एल-एलोहे-इस्राएल नामक एक वेदी का निर्माण किया।

1 तब याकूब ने आंखें उठाकर क्या देखा, कि एसाव, और उसके संग चार सौ पुरुष आए हैं। और उसने बच्चों को लिआ:, और राहेल, और दो दासियों तक बांट दिया।

2 और उस ने दासियोंऔर उनके लड़केबालोंको सबसे आगे रखा, और लिआ: और उसके लड़केबालोंको पीछे, और राहेल और यूसुफ को सबसे पीछे रखा।

3 और वह उनके साम्हने पार गया, और अपके भाई के निकट आने तक सात बार भूमि पर दण्डवत किया।

4 तब एसाव उस से भेंट करने को दौड़ा, और उसको गले से लगा कर गले से लगा कर चूमा; और वे रो पड़े।

5 और उस ने आंखें उठाकर स्त्रियों और बालकोंको देखा, और कहा, वे कौन हैं जो तेरे संग हैं? और उस ने कहा, जो सन्तान परमेश्वर ने तेरे दास पर अनुग्रह करके दी है।

6 तब वे दासियां अपके लड़केबालोंसमेत समीप आईं, और उन्होंने दण्डवत् की।

7 और लिआ: अपके बालकोंके संग समीप जाकर दण्‍डवत्‌ की; और उसके बाद यूसुफ और राहेल निकट आए, और उन्होंने दण्डवत की।

8 उस ने कहा, इन सब कूचियोंसे जो मैं मिला हूं, तेरा क्या अर्थ है? उस ने कहा, ये मेरे प्रभु की दृष्टि में अनुग्रह पाने के लिथे हैं।

9 एसाव ने कहा, हे मेरे भाई, मेरे पास बहुत है; जो तेरे पास है उसे अपने पास रख।

10 याकूब ने कहा, नहीं, मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि यदि तेरे अनुग्रह की दृष्टि मुझ पर हो, तो मेरा भेंट मेरे हाथ से ग्रहण कर; क्योंकि मैं ने तेरा मुख इसलिथे देखा है, मानो मैं ने परमेश्वर का मुख देखा है, और तू मुझ से प्रसन्न हुआ है।

11 मेरी उस आशीष को जो तुझ पर लाई गई है, ले ले; क्योंकि परमेश्वर ने मुझ पर अनुग्रह किया है, और मेरे पास बहुत है। और उस ने उस से बिनती की, और वह ले लिया।

12 उस ने कहा, हम यात्रा करें, और चलें, और मैं तेरे आगे आगे चलूंगा।

13 उस ने उस से कहा, मेरा प्रभु जानता है, कि बच्चे कोमल हैं, और भेड़-बकरियां और गाय-बैल मेरे साथ हैं; और यदि मनुष्य एक दिन उन से आगे निकल जाएं, तो सब भेड़-बकरियां मर जाएंगी।

14 हे मेरे प्रभु, मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि अपके दास के साम्हने पार हो जाए; और जब तक मैं अपके प्रभु के पास सेईर को न आ जाऊं, तब तक मैं उन पशुओं की नाईं जो मेरे आगे आगे चलेंगे, और बालकोंके साम्हने धीरज से चलेगा।

15 एसाव ने कहा, मैं अपके संगी लोगोंमें से कुछ को तेरे पास छोड़ दूं। और उसने कहा, इसकी क्या आवश्यकता है? मुझे अपने प्रभु की दृष्टि में अनुग्रह प्राप्त करने दो।

16 तब एसाव उसी दिन सेईर को लौट गया।

17 तब याकूब ने सुक्कोत को कूच करके उसके लिये एक भवन बनाया, और उसके पशुओं के लिथे झोंपड़ियां बनाईं; इसलिए उस स्थान का नाम सुक्कोत पड़ा।

18 और जब याकूब पदन-अराम से आया, तब याकूब कनान देश के शकेम नगर के शालेम में पहुंचा; और अपना तम्बू नगर के साम्हने खड़ा किया।

19 और उस ने एक खेत का एक भाग मोल लिया, जिस में उस ने अपके तम्बू को शकेम के पिता हमोर की सन्तान के हाथ में सौ रुपयोंमें मोल लिया था।

20 और उस ने वहां एक वेदी बनाई, और उसका नाम एल-एलोहे-इस्राएल रखा।

अध्याय 34

शकेम के द्वारा दीना को तबाह किया जाता है - शकेमियों का खतना - याकूब के पुत्रों ने उन्हें मार डाला, और उनके शहर को लूट लिया - याकूब ने शिमोन और लेवी को फटकार लगाई।

1 और लिआ: की बेटी दीना, जो उसके याकूब से उत्पन्न हुई, उस देश की बेटियोंको देखने को निकली।

2 और उस देश के प्रधान हिव्वी हमोर के पुत्र शकेम ने उसे देखा, और उसे ले जाकर उसके साथ कुकर्म किया, और उसे अशुद्ध किया।

3 और उसका मन याकूब की बेटी दीना से लगा रहा, और वह उस कन्या से प्रीति रखता या, और उस कन्या से प्रीति करने लगा।

4 तब शकेम ने अपके पिता हमोर से कहा, इस कन्या को मुझे ब्याह ले आ।

5 और याकूब ने सुना, कि उस ने अपक्की बेटी दीना को अशुद्ध किया है; अब उसके पुत्र अपके पशुओं समेत मैदान में थे; और याकूब उनके आने तक चुप रहा।

6 और शकेम का पिता हमोर उस से भेंट करने को याकूब के पास गया।

7 और याकूब के पुत्र यह सुनकर मैदान में से निकल आए; और वे लोग उदास हुए, और वे बहुत क्रोधित हुए, क्योंकि उस ने याकूब की बेटी के साथ कुकर्म करके इस्राएल में मूर्खता की थी; कौन सा काम नहीं करना चाहिए।

8 और हमोर ने उन से कहा, मेरे पुत्र शकेम का मन तेरी बेटी के लिथे तरस रहा है; मैं प्रार्थना करता हूं कि आप उसे पत्नी को दे दें।

9 और हम से ब्याह करना, और अपक्की बेटियां हमें ब्याह देना, और हमारी बेटियां अपके लिथे ब्याह करना।

10 और तुम हमारे संग निवास करना; और देश तेरे साम्हने रहे; उस में बसना और व्यापार करना, और उस में अपनी संपत्ति प्राप्त करना।

11 तब शकेम ने अपके पिता और भाइयोंसे कहा, तेरी दृष्टि में मुझ पर अनुग्रह हो, और जो तू मुझ से कहेगा वह मैं दूंगा।

12 मुझ से इतना अधिक दहेज और भेंट कभी न मांगो, और जैसा तुम मुझ से कहोगे वैसा ही मैं दूंगा; परन्तु वह कन्या मुझे पत्नी को दे दो।

13 और याकूब के पुत्रोंने शकेम और उसके पिता हमोर को छल से उत्तर दिया, और कहा, कि उस ने उनकी बहिन दीना को अशुद्ध किया है;

14 और उन्होंने उन से कहा, हम यह काम नहीं कर सकते, कि अपक्की बहिन को खतनाहीन को ब्याह दें; क्योंकि यह हमारी निन्दा थी;

15 परन्तु हम इसी में तुम से सहमत होंगे; यदि तुम हमारे समान हो, कि तुम में से हर एक पुरूष का खतना हो;

16 तब हम अपक्की बेटियां तुझे ब्याह देंगे, और तेरी बेटियां अपके पास ले जाएंगे, और हम तेरे संग रहेंगे, और हम एक ही जाति के हो जाएंगे।

17 परन्तु यदि तुम खतना कराने के लिथे हमारी न माने; तब हम अपक्की बेटी को लेकर चले जाएंगे।

18 और उनकी बातों से हमोर और हमोर के पुत्र शकेम प्रसन्न हुए।

19 और उस जवान ने उस काम को करने से टाल दिया, क्योंकि वह याकूब की बेटी से प्रसन्न था; और वह अपके पिता के सारे घराने से अधिक प्रतिष्ठित या।

20 और हमोर और उसका पुत्र शकेम अपके अपके अपके नगर के फाटक पर जाकर अपके अपके नगर के पुरूषोंसे यह कहने लगे,

21 ये मनुष्य हम से मेल मिलाप रखते हैं; इसलिथे वे उस देश में रहें, और उस में व्यापार करें; भूमि के लिए, देखो, यह उनके लिए काफी बड़ा है; हम उनकी बेटियाँ ब्याह करके अपने पास ब्याह लें, और उन्हें अपनी बेटियाँ ब्याह दें।

22 यदि हम में से हर एक पुरूष का खतना किया जाए, जैसा कि खतना किया गया है, तो केवल इसी से वे मनुष्य हमारे साथ रहने के लिथे एक ही प्रजा होने की हामी भरेंगे।

23 क्या उनके गाय-बैल, उनका माल, और उनका सब पशु हमारा न हो जाएगा? केवल हम उन से सहमत हों, और वे हमारे साथ रहेंगे।

24 और हमोर और उसके पुत्र शकेम की सब बातें सुनीं जो उसके नगर के फाटक से निकलती थीं; और जितने पुरूष अपके नगर के फाटक से निकलते थे, उन सभोंका खतना हुआ।

25 और तीसरे दिन ऐसा हुआ, कि जब वे व्याकुल हुए, तब याकूब के दो पुत्र शिमोन और लेवी, जो दीना के भाई थे, अपक्की अपक्की तलवार लेकर नगर पर चढ़ाई करके सब पुरूषोंको घात किया।

26 और हमोर और उसके पुत्र शकेम को उन्होंने तलवार से घात किया, और दीना को शकेम के घर से निकाल ले गए, और निकल गए।

27 याकूब के पुत्रों ने मारे हुओं पर चढ़ाई की, और नगर को लूट लिया, क्योंकि उन्होंने उनकी बहिन को अशुद्ध किया था।

28 उन्होंने अपक्की भेड़-बकरी, गाय-बैल, गदहे, और जो कुछ नगर में था, और जो कुछ मैदान में था, उसे ले लिया।

29 और उनकी सारी दौलत, और उनके सब बाल-बच्चों, और उनकी पत्नियोंको बन्धुआई में ले लिया, और जो कुछ घर में था वह सब लूट लिया।

30 तब याकूब ने शिमोन और लेवी से कहा, तुम ने देश के निवासियोंके बीच, और कनानियोंऔर परिज्जियोंके बीच में मुझे बदबू देने के लिथे मुझे परेशान किया है; और मैं गिने हुए होकर मेरे साम्हने इकट्ठे होकर मुझे घात करेगा; और मैं और मेरा घराना नाश हो जाएगा।

31 उन्होंने कहा, क्या वह हमारी बहिन के साथ वैश्या के समान व्यवहार करे?

अध्याय 35

परमेश्वर ने याकूब को बेतेल को भेजा - वह अपने मूरतों के घर को शुद्ध करता है - वह बेतेल में एक वेदी बनाता है - परमेश्वर ने याकूब को बेतेल में आशीर्वाद दिया - राहेल की मृत्यु हो गई - रूबेन बिल्हा के साथ झूठ बोल रहा है - याकूब के पुत्र - याकूब इसहाक के पास आया। हेब्रेन - इसहाक की मृत्यु।

1 और परमेश्वर ने याकूब से कहा, उठ, बेतेल को चढ़, और वहीं बसा; और वहां परमेश्वर के लिथे एक वेदी बनाना, जो अपके भाई एसाव के साम्हने से भागते समय तुझे दिखाई दी थी।

2 तब याकूब ने अपके घराने से, और जितने अपके संगी थे उन से कहा, अपके बीच के पराए देवताओं को दूर कर, और शुद्ध हो, और अपके अपके वस्त्र बदल ले;

3 और हम उठकर बेतेल को जाएं; और मैं वहां परमेश्वर के लिये एक वेदी बनाऊंगा, जिस ने मेरे संकट के दिन मेरी सुन ली, और जिस मार्ग में मैं चला या, उस में मेरे संग रहा।

4 और जितने पराए देवता उनके हाथ में थे, और जितने बाल उनके कानोंमें थे, वे सब उन्होंने याकूब को दिए; और याकूब ने उनको उस बांजवृझ के तले जो शकेम के पास था छिपा रखा।

5 और उन्होंने कूच किया; और उनके चारोंओर के नगरोंपर परमेश्वर का भय छा गया, और उन्होंने याकूब के पुत्रोंका पीछा न किया।

6 तब याकूब लूज के पास आया, जो कनान देश में है, अर्थात् बेतेल, और वह सब लोग जो उसके संग थे।

7 और उस ने वहां एक वेदी बनाई, और उस स्थान का नाम एल-बेत-एल रखा; क्योंकि जब वह अपके भाई के साम्हने से भागा या, तब परमेश्वर उसे वहीं दिखाई दिया

8 और दबोरा रिबका की धाई मर गई, और वह बेतेल के नीचे एक बांजवृझ के तले मिट्टी दी गई; और उसका नाम एलोनबकूत रखा गया।

9 और जब याकूब पद्दनराम से निकला, तब परमेश्वर ने उसे फिर दर्शन देकर आशीष दी।

10 और परमेश्वर ने उस से कहा, तेरा नाम याकूब है; तेरा नाम फिर याकूब नहीं रखा जाएगा, परन्तु इस्राएल तेरा नाम होगा; और उसने अपना नाम इस्राएल रखा।

11 और परमेश्वर ने उस से कहा, मैं सर्वशक्तिमान परमेश्वर हूं; फलदायी और गुणा करना; तुझ में से एक जाति और जातियां मण्डली होंगी, और राजा तेरी कमर में से निकलेंगे;

12 और जो देश मैं ने इब्राहीम और इसहाक को दिया, वह मैं तुझे दूंगा, और तेरे बाद तेरे वंश को मैं दूंगा।

13 और जिस स्यान में उस ने उस से बातें की वहां परमेश्वर उसके पास से चढ़ गया।

14 और याकूब ने जिस स्यान में उस से बातें की या, उस में एक पत्यर का भी खम्भा खड़ा किया; और उस ने उस पर अर्घ उंडेल दिया, और उस पर तेल उँडेल दिया।

15 और याकूब ने उस स्थान का नाम जिस में परमेश्वर ने उस से बातें की या, उसका नाम बेतेल रखा।

16 और वे बेतेल से कूच करके गए; और एप्रात को आने का मार्ग थोडा ही था; और राहेल आगे बढ़ती गई, और उसे कठिन परिश्रम करना पड़ा।

17 जब वह कठिन परिश्रम में थी, तब दाई ने उस से कहा, मत डर; तेरा यह पुत्र भी होगा।

18 और जब उसका प्राण निकल रहा या, वह मर गई, तब उस ने उसका नाम बेनोनी रखा; परन्तु उसके पिता ने उसका नाम बिन्यामीन रखा।

19 और राहेल मर गई, और एप्रात के मार्ग में जो बेतलेहेम है, मिट्टी दी गई।

20 और याकूब ने उसकी कब्र पर एक खम्भा खड़ा किया; राहेल की कब्र का वही खम्भा आज तक है।

21 तब इस्राएल ने कूच करके अपना तम्बू एदार के गुम्मट के आगे फैला दिया।

22 और जब इस्राएल उस देश में रहने लगा, तब रूबेन जाकर अपके पिता की रखेली बिल्हा के संग कुकर्म करने लगा; और इस्राएल ने यह सुना। याकूब के पुत्र बारह हुए;

23 लिआ: के पुत्र; याकूब का जेठा रूबेन, और शिमोन, लेवी, यहूदा, इस्साकार, और जबूलून;

24 राहेल के पुत्र; यूसुफ, और बिन्यामीन;

25 और राहेल की दासी बिल्हा के पुत्र; दान, और नप्ताली;

26 और लिआ: की दासी जिल्पा के पुत्र; गाद, और आशेर। याकूब के ये पुत्र हुए, जो पदन-अराम में उससे उत्पन्न हुए।

27 और याकूब अपके पिता इसहाक के पास मम्रे के पास अर्बा नगर में आया, जो हेब्रोन है, जहां इब्राहीम और इसहाक परदेशी हुए थे।

28 और इसहाक की अवस्या एक सौ अस्सी वर्ष की हुई।

29 और इसहाक ने भूत को त्याग दिया, और मर गया, और वह बूढ़ा और बहुत बूढ़ा होकर अपक्की प्रजा के पास जा मिला; और उसके पुत्र एसाव और याकूब ने उसको मिट्टी दी।

अध्याय 36

एसाव की तीन पत्नियाँ - उसके पुत्र।

1 एसाव जो एदोम कहलाता है, उसके वंश ये हैं।

2 एसाव ने अपक्की कनानियोंमें से ब्याह ब्याह लिया; आदा, हित्ती एलोन की बेटी, और अहोलीबामा जो हिव्वी सिबोन की बेटी अना की बेटी थी;

3 और बाशेमत इश्माएल की बेटी, जो नबाजोत की बहिन थी।

4 और आदा से एसाव एलीपज उत्पन्न हुआ; और बाशेमत से रूएल उत्पन्न हुआ;

5 और अहोलीबामा से यूश, यालाम, और कोरह उत्पन्न हुए; एसाव के ये पुत्र हुए, जो कनान देश में उस से उत्पन्न हुए।

6 और एसाव ने अपक्की पत्नियों, और अपके पुत्रों, और अपक्की बेटियों, और अपके घराने के सब जनों, और अपक्की गाय-बैल, और अपके सब पशुओं, और अपक्की सारी सम्पत्ति को, जो उसे कनान देश में मिली थी, ब्याह लिया; और अपने भाई याकूब के सम्मुख से देश में चला गया।

7 क्‍योंकि उनकी दौलत उस से कहीं अधिक थी, कि वे इकट्ठे रहें; और जिस देश में वे परदेशी थे, उनके पशुओं के कारण उन्हें सहन न कर सका।

8 इस प्रकार एसाव सेईर पर्वत पर रहने लगा; एसाव एदोम है।

9 और सेईर पहाड़ पर एदोमियोंके पिता एसाव के वंश ये हैं;

10 एसाव के पुत्रों के नाम ये हैं; एसाव की पत्नी आदा का पुत्र एलीपज, और एसाव की पत्नी बाशमत का पुत्र रूएल।

11 और एलीपज के पुत्र तेमान, ओमर, सपो, गताम और कनज थे।

12 और एसाव के पुत्र एलीपज की रखैल तिम्ना या; और उस से एलीपज अमालेक उत्पन्न हुआ; अदा एसाव की पत्नी के ये पुत्र हुए।

13 और रूएल के पुत्र ये हैं; नहत, जेरह, शम्मा, मिज्जा; बाशेमत एसाव की पत्नी के ये पुत्र हुए।

14 और अहोलीबामा के ये पुत्र हुए, जो एसाव की पत्नी अना की बेटी और सिबोन की बेटी थी; और उस से एसाव यूश, यालाम, और कोरह उत्पन्न हुए।

15 एसाव के वंश के प्रधान ये थे; एसाव के जेठा एलीपज के पुत्र; ड्यूक तेमन, ड्यूक उमर, ड्यूक ज़ेफो, ड्यूक केनाज़,

16 ड्यूक कोरह, ड्यूक गतम, और ड्यूक अमालेक; एदोम के देश में एलीपज से जो प्रधान आए थे वे ये हैं; ये आदा के पुत्र थे।

17 और एसाव के पुत्र रूएल के ये पुत्र हुए; प्रधान नहत, प्रधान जेरह, प्रधान शम्मा, प्रधान मिज्जा; एदोम देश में रूएल के वंश के प्रधान ये ही हैं; बाशेमत एसाव की पत्नी के ये पुत्र हुए।

18 और एसाव की पत्नी अहोलीबामा के ये पुत्र हुए; ड्यूक यूश, ड्यूक यालाम, ड्यूक कोरह; एसाव की पत्नी अना की बेटी अहोलीबामा के वंश के प्रधान ये ही थे।

19 एसाव के पुत्र एदोम थे ही थे, और उनके प्रधान ये ही थे।

20 होरी सेईर के पुत्र ये थे, जो उस देश में रहते या; लोतान, शोबाल, सिबोन, अना,

21 और दीशोन, एसेर, और दीशान; एदोम देश में सेईर की सन्तान होरीवंशियों के प्रधान ये हैं।

22 और लोतान के पुत्र होरी और हेमाम थे; और लोतान की बहन तिम्ना थी।

23 और शोबाल के ये थे; अल्वान, मानहत, एबाल, शपो, और ओनाम।

24 और सिबोन की सन्तान ये हैं; अयाह और अना दोनों; यह वह था जिस ने अपके पिता सिबोन की गदहियोंको चराते समय जंगल में खच्चरोंको पाया था, वह अना था।

25 और अना के ये थे; दीशोन और अना की बेटी अबोलीबामा।

26 और दीशोन की सन्तान ये हैं; हेमदान, एशबान, यित्रान, और करान।

27 एसेर की सन्तान ये हैं; बिल्हान, और जावन, और अकान।

28 दीशान की सन्तान ये हैं; उज़, और अरन।

29 होरीवंशियोंमें से जो प्रधान आए, वे ये ही हैं; प्रधान लोतान, प्रधान शोबाल, प्रधान सिबोन, प्रधान अना,

30 ड्यूक दीशोन, ड्यूक एसेर, ड्यूक दीशान; सेईर देश में होरी के प्रधानोंमें से जो प्रधान आए थे वे ये ही हैं।

31 और एदोम देश में इस्त्राएलियों पर किसी राजा के राज्य करने से पहिले वे राजा राज्य करते थे।

32 और बोर का पुत्र बेला एदोम में राज्य करने लगा; और उसके नगर का नाम दिन्हाबा था।

33 और बेला मर गया, और बोस्रा के जेरह का पुत्र योबाब उसके स्थान पर राज्य करने लगा।

34 और योबाब मर गया, और तेमानी देश का हूशाम उसके स्थान पर राज्य करने लगा।

35 और हूशाम के मरने पर, बदद का पुत्र हदद, जिस ने मोआब के मैदान में मिद्यानियोंको मारा या, उसके स्थान पर राज्य करने लगा; और उसके नगर का नाम अवीत था।

36 और हदद मर गया, और मसरेका का सम्ला उसके स्थान पर राज्य करने लगा।

37 और सम्ला मर गया, और महानद के किनारे रहोबोत का शाऊल उसके स्थान पर राज्य करने लगा।

38 और शाऊल मर गया, और अकबोर का पुत्र बाल्हानान उसके स्थान पर राज्य करने लगा।

39 और अकबोर का पुत्र बाल्हानान मर गया, और हदर उसके स्थान पर राज्य करने लगा; और उसके नगर का नाम पऊ था; और उसकी पत्नी का नाम महेतबेल था, जो मेज़हाब की बेटी मत्रेद की बेटी थी।

40 और एसाव के जो प्रधान अपके कुलोंऔर स्यानोंके अनुसार उनके नाम से आए, उनके नाम ये हैं; प्रधान तिम्ना, प्रधान अल्वा, प्रधान यितत,

41 ड्यूक अहोलीबामा, ड्यूक एला, ड्यूक पिनोन,

42 ड्यूक केनाज़, ड्यूक तेमन, ड्यूक मिब्ज़ार,

43 ड्यूक मगदील, ड्यूक ईराम; एदोम के अधिपति ये ही उनके निज देश में उनके निवास स्थान के अनुसार होंगे; वह एदोमियों का पिता एसाव है।

अध्याय 37

यूसुफ अपके भाइयोंसे बैर रखता था—उसके दो स्वप्न—इश्माएलियोंके हाथ बिक गए—वह पोतीपर के हाथ बेच दिया गया।

1 और याकूब उस देश में जहां उसका पिता परदेशी या, कनान देश में रहने लगा।

2 और याकूब के वंश का इतिहास यह है। यूसुफ सत्रह वर्ष का होकर अपके भाइयोंके संग भेड़-बकरियोंको चरा रहा या; और वह लड़का बिल्हा के पुत्रों, और जिल्पा के पुत्रोंके संग, जो उसके पिता की पत्नियोंके संग या; और यूसुफ अपके पिता के पास उनकी बुराई का समाचार ले आया।

3 इस्राएल यूसुफ को अपक्की सब सन्तान से अधिक प्रीति रखता या, क्योंकि वह उसके बुढ़ापे का पुत्र या; और उस ने उसके लिये अनेक रंगों का अंगरखा बनवाया।

4 और जब उसके भाइयोंने देखा, कि उनका पिता उस से उसके सब भाइयोंसे अधिक प्रीति रखता है, तब वे उस से बैर करने लगे, और उस से मेल से बात न कर सके।

5 और यूसुफ ने एक स्वप्न देखा, और अपके भाइयोंने उसका वर्णन किया; और वे उस से और भी अधिक बैर करने लगे।

6 उस ने उन से कहा, सुन, यह स्वप्न जो मैं ने देखा है, सुन;

7 क्योंकि देखो, हम मैदान में पूले बान्धे हुए थे, और देखो, मेरा पूला उठकर सीधा खड़ा हो गया; और देखो, तुम्हारे पूले चारोंओर खड़े हैं, और मेरे पूले को दण्डवत् किए हैं।

8 उसके भाइयोंने उस से कहा, क्या तू सचमुच हम पर राज्य करेगा? वा क्या तू सचमुच हम पर प्रभुता करेगा? और वे उसके स्वप्नों और उसकी बातों के कारण उस से और भी अधिक बैर रखने लगे।

9 और उस ने एक और स्वप्न देखा, और अपके भाइयोंको बताया, कि देख, मैं ने और भी स्वप्न देखा है; और देखो, सूर्य और चन्द्रमा और ग्यारह तारों ने मुझे दण्डवत् किया।

10 और यह बात उस ने अपके पिता और अपके भाइयोंसे कह दी; और उसके पिता ने उसे डांटकर कहा, यह क्या स्वप्न है जो तू ने देखा है? क्या मैं और तेरी माता और तेरे भाई सचमुच तेरे साम्हने भूमि पर दण्डवत् करने आएंगे?

11 और उसके भाई उस से डाह करने लगे; परन्तु उसके पिता ने यह कहावत मानी।

12 और उसके भाई शकेम में अपके पिता की भेड़-बकरियोंको चराने को गए।

13 तब इस्राएल ने यूसुफ से कहा, क्या तेरे भाई शकेम में भेड़-बकरियोंको चराते नहीं हैं? आओ, और मैं तुम्हें उनके पास भेजूंगा। उस ने उस से कहा, मैं यहां हूं।

14 उस ने उस से कहा, जा, मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि देख, कि तेरे भाइयोंऔर भेड़-बकरियोंकी भलाई है या नहीं; और मुझे फिर से शब्द लाओ। तब उस ने उसको हेब्रोन की तराई से भेज दिया, और वह शकेम को आया।

15 और एक मनुष्य ने उसे पाकर क्या देखा, वह मैदान में भटक रहा है; और उस ने उस से पूछा, तू क्या चाहता है?

16 उस ने कहा, मैं अपके भाइयोंको ढूंढ़ता हूं; मुझ से कह, कि मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि वे अपक्की भेड़-बकरियोंको कहां चराएं।

17 उस ने कहा, वे यहां से चले गए हैं; क्योंकि मैं ने उन्हें यह कहते सुना, कि हम दोतान को चलें। और यूसुफ अपके भाइयोंके पीछे पीछे चला, और उन्हें दोतान में पाया।

18 और जब उन्होंने उसे दूर से देखा, तब उसके निकट आने से पहिले ही, उन्होंने उसके घात की साजिश रची।

19 वे आपस में कहने लगे, सुन, यह स्वप्न देखने वाला आ रहा है।

20 सो अब आओ, हम उसको घात करके किसी गड़हे में डाल दें, और हम कहेंगे, कि किसी दुष्ट पशु ने उसे खा लिया है; और हम देखेंगे कि उसके स्वप्नों का क्या होगा।

21 यह सुनकर रूबेन ने उसको उनके हाथ से छुड़ाया; और कहा, हम उसे मार न डालें।

22 रूबेन ने उन से कहा, लोहू मत बहाओ, वरन उसे जंगल के इस गड़हे में डाल दो, और उस पर हाथ न रखना; कि वह उसे उनके हाथ से छुड़ाए, और फिर उसके पिता के हाथ में कर दे।

23 जब यूसुफ अपके भाइयोंके पास पहुंचा, तब उन्होंने यूसुफ को उसका अंगरखा, जो उसके पहिए बहुत रंग का अंगरखा था, उतार दिया;

24 और उन्होंने उसे पकड़कर गड़हे में डाल दिया; और गड्ढा खाली था, उस में पानी न था।

25 और वे रोटी खाने बैठ गए; और उन्होंने आंखें उठाकर क्या देखा, कि इश्माएलियोंका एक दल गिलाद से आया है, और उनके ऊंट सुगन्धद्रव्य, बाम, और गन्धरस लिये हुए हैं, और उसको मिस्र में ले जाने को जा रहे हैं।

26 तब यहूदा ने अपके भाइयोंसे कहा, यदि हम अपके भाई को घात करके उसका लोहू छिपाएं, तो क्या लाभ?

27 आओ, हम उसे इश्माएलियोंके हाथ बेच दें, और उस पर अपना हाथ न रखें; क्योंकि वह हमारा भाई और हमारा मांस है; और उसके भाई संतुष्ट थे।

28 तब मिद्यानियोंके व्यापारियोंके पास से होकर निकला; और उन्होंने यूसुफ को खींचकर उस गड़हे में से उठा लिया, और यूसुफ को इश्माएलियोंके हाथ चांदी के बीस टुकड़े करके बेच दिया; और वे यूसुफ को मिस्र में ले आए।

29 और रूबेन गड़हे में लौट गया; और देखो, यूसुफ गड़हे में नहीं था; और उसने अपने कपड़े किराए पर लिए।

30 और वह अपके भाइयोंके पास लौटकर कहने लगा, कि बालक नहीं है; और मैं, किधर जाऊं?

31 और उन्होंने यूसुफ का अंगरखा लेकर एक बकरे को घात किया, और उस अंगरखे को लोहू में डुबा दिया;

32 और उन्होंने बहुत रंग का अंगरखा भेजकर अपके पिता के पास पहुंचा दिया; और कहा, यह हम को मिला है; अब जान लो कि यह तेरे पुत्र का कोट है या नहीं।

33 और उस ने यह जानकर कहा, यह तो मेरे पुत्र का अंगरखा है; एक दुष्ट पशु ने उसे खा लिया है; यूसुफ निस्संदेह टुकड़ों में किराए पर है।

34 और याकूब ने अपके वस्त्र फाड़े, और कमर में टाट पहिनाया, और अपके पुत्र के लिथे बहुत दिन तक विलाप करता रहा।।

35 और उसके सब बेटे और सब बेटियां उसको शान्ति देने को उठ खड़े हुए; परन्तु उसने शान्ति पाने से इन्कार किया; और उस ने कहा, मैं अपके पुत्र विलाप करने के लिथे कब्र में उतरूंगा। इस प्रकार उसके पिता उसके लिए रो पड़े।

36 और मिद्यानियोंने उसको मिस्र में फिरौन के हाकिम और जल्लादोंके प्रधान पोतीपर के हाथ बेच दिया।

अध्याय 38

एर, ओनान और शेला का जन्म - एर ने तामार से शादी की - उसने यहूदा को धोखा दिया।

1 उस समय ऐसा हुआ, कि यहूदा अपके भाइयोंके पास से चला गया, और अदुल्लामवासी बन गया, जिसका नाम हीरा था।

2 और यहूदा ने वहां शूआ नाम एक कनानी की एक बेटी को देखा; और वह उसे ले गया, और भीतर जाकर उसके साथ सो गया।

3 और वह गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और उसने अपना नाम एर रखा।

4 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और उसने उसका नाम ओनान रखा।

5 और वह फिर गर्भवती हुई, और उसके एक पुत्र उत्पन्न हुआ; और उसका नाम शेला रखा; और वह कजीब में था, जब उस ने उसको जन्म दिया।

6 और यहूदा ने अपके जेठे एर के लिथे एक पत्‍नी ब्याह ली, जिसका नाम तामार था।

7 और यहूदा का जेठा एर यहोवा की दृष्टि में दुष्ट या; और यहोवा ने उसे मार डाला।

8 तब यहूदा ने ओनान से कहा, जाकर अपके भाई की पत्नी को ब्याह कर, और अपके भाई के लिथे वंश बढ़ा।

9 और ओनान जानता था, कि उसका वंश उसका नहीं होगा; और ऐसा हुआ कि जब उस ने अपके भाई की पत्नी को ब्याह लिया, तो उस से कुकर्म न करना, ऐसा न हो कि वह अपके भाई के लिथे वंश उत्पन्‍न करे।

10 और जो काम उस ने किया, उस से यहोवा अप्रसन्न हुआ; इसलिए उसने उसे भी मार डाला।

11 तब यहूदा ने अपक्की बहू तामार से कहा, जब तक मेरा पुत्र शेला बड़ा न हो जाए, तब तक अपके पिता के घर में विधवा रहना; क्योंकि उस ने कहा, ऐसा न हो कि वह भी अपके भाइयोंकी नाई मर जाए। और तामार जाकर अपके पिता के घर में रहने लगी।

12 और समय के बीतने पर यहूदा की पत्नी शूआह की बेटी मर गई; और यहूदा को शान्ति मिली, और वह अपके अपके मित्र हीरा अदुल्लामवासी समेत तिम्नाथ को अपके भेड़-बकरियोंका ऊन कतरने के लिथे चढ़ गया।

13 और तामार को यह समाचार मिला, कि तेरा ससुर अपनी भेड़-बकरियोंका ऊन कतरने को तिम्नात को जाता है।

14 और उस ने अपक्की विधवा के वस्त्र उतार दिए, और उसे परदे से ढांप लिया, और अपने आप को लपेट लिया, और एक खुले स्थान पर बैठ गई, जो तिम्नाथ के मार्ग में है; क्‍योंकि उस ने देखा, कि शेला बड़ी हो गई, और उस से उसकी ब्याह न हुई।

15 जब यहूदा ने उसे देखा, तो उस ने उसे वेश्या समझी; क्योंकि उसने अपना चेहरा ढक रखा था।

16 तब वह मार्ग में उसकी ओर फिरा, और कहा, जा, मैं तुझ से बिनती करूं, कि मैं भीतर आकर तेरे संग सोऊं; (क्योंकि वह नहीं जानता था, कि वह उसकी बहू है;) और उस ने कहा, तू मुझे क्या देगा, कि तू भीतर आकर मेरे संग सोए?

17 उस ने कहा, मैं तुझे भेड़-बकरियोंमें से एक बालक भेजूंगा। और उस ने कहा, जब तक तू उसे न भेजे, तब तक क्या तू मुझे बन्धक देगा?

18 उस ने कहा, मैं तुझे क्या बन्धक दूं? और उस ने कहा, तेरी मुहर, और तेरे कंगन, और तेरी लाठी जो तेरे हाथ में है। और उस ने उसे दिया, और भीतर आकर उसके पास सो गया, और वह उसके द्वारा गर्भवती हुई।

19 तब वह उठकर चली गई, और अपके परदे से ओढ़कर अपक्की विधवा के वस्त्र पहिन ली।

20 और यहूदा ने अपके मित्र अदुल्लामवासी के हाथ से बालक को उस स्त्री के हाथ से अपक्की बन्धक लेने के लिथे भेज दिया; लेकिन उसने उसे नहीं पाया।

21 तब उस ने उस स्यान के मनुष्योंसे पूछा, कि वह वेश्या कहां है, जो मार्ग के किनारे खुली रहती थी? और उन्होंने कहा, इस स्यान में कोई वेश्‍या नहीं थी।

22 और वह यहूदा को लौट गया, और कहा, मैं उसे नहीं पा सकता; और उस स्यान के लोगोंने भी कहा, कि इस स्यान में कोई वेश्‍या नहीं थी।

23 यहूदा ने कहा, वह उसे अपके पास ले जाए, ऐसा न हो कि हम लज्जित हों; देख, मैं ने इस बालक को भेजा, और तू ने उसे नहीं पाया।

24 और लगभग तीन महीने के बाद यहूदा को यह समाचार मिला, कि तेरी बहू तामार ने व्यभिचार किया है; और देखो, वह व्यभिचार से गर्भवती है। तब यहूदा ने कहा, उसे बाहर ले आ, और वह जल जाए।

25 जब वह उत्पन्न हुई, तब उसने अपने ससुर के पास कहला भेजा, कि जिस पुरूष के ये हैं मोल ले, क्या मैं गर्भवती हूं; और उस ने कहा, देख, मैं तुझ से बिनती करती हूं, कि ये चितौनियां, कंगन, और लाठी किसके हैं।

26 तब यहूदा ने उन को मान कर कहा, वह मुझ से अधिक धर्मी ठहरी है; क्योंकि मैं ने उसे अपके पुत्र शेला को नहीं दिया। और वह उसे फिर से नहीं जानता था।

27 और उसके कष्ट के समय ऐसा हुआ, कि देखो, उसके गर्भ में जुड़वां बच्चे थे।

28 और ऐसा हुआ कि जब वह लहूलुहान हो गई, तब उस ने अपना हाथ बढ़ाया; और दाई ने लाल रंग का एक धागा लेकर उसके हाथ में कहा, पहिले यह निकला।

29 और ऐसा हुआ कि जब उसने अपना हाथ बढ़ाया, तो क्या देखा, कि उसका भाई निकल आया है; और उस ने कहा, तू कैसे टूटा है? यह उल्लंघन तुम पर हो; इसलिए उसका नाम फ़ारेज़ रखा गया।

30 और उसके बाद उसका भाई निकला, जिसके हाथ में लाल रंग का धागा था; और उसका नाम जराह रखा गया।

अध्याय 39

यूसुफ पोतीपर के घर में आगे बढ़ा - उसे कारागार में डाल दिया गया।

1 और यूसुफ मिस्र में पहुंचा दिया गया; और फिरौन के हाकिम पोतीपर ने, जो जल्लादोंके प्रधान, मिस्री या, इश्माएलियोंके हाथ से उसको मोल लिया, जो उसको वहां नीचे ले आए थे।

2 और यहोवा यूसुफ के संग या, और वह धनवान या; और वह अपके स्वामी मिस्री के घर में या।

3 और उसके स्वामी ने देखा, कि यहोवा उसके संग है, और जो कुछ उस ने किया उसको यहोवा ने उसके हाथ में किया है।

4 और यूसुफ को उस पर अनुग्रह हुआ, और वह उसकी उपासना करने लगा; और उस ने उसको अपके घर का, और अपना सब कुछ अपके हाथ में दे दिया।

5 और जब से उस ने अपके अपके घर का, वरन अपक्की सब सम्पत्ति का अधिकारी ठहराया, तब से यहोवा ने यूसुफ के कारण उस मिस्री के घराने पर आशीष दी; और जो कुछ उसका घर और मैदान में था उस पर यहोवा की आशीष बनी रहे।

6 और अपना सब कुछ यूसुफ के हाथ में छोड़ दिया; और जो रोटी उस ने खाई, उसके सिवा वह कुछ न जानता या। और यूसुफ एक भला और नेक था।

7 इन बातों के बाद ऐसा हुआ कि उसके स्वामी की पत्नी ने यूसुफ पर दृष्टि डाली; और उस ने कहा, मेरे साथ सो।

8 परन्तु उस ने इन्कार किया, और अपके स्वामी की पत्नी से कहा, देख, मेरा स्वामी नहीं जानता कि मेरे संग घर में क्या है, और अपना सब कुछ उस ने मेरे हाथ कर दिया है;

9 इस भवन में मुझ से बड़ा कोई नहीं; और उस ने तुझ को छोड़ मुझ से कुछ भी न रखा, क्योंकि तू उसकी पत्नी है; फिर मैं यह बड़ी दुष्टता करके परमेश्वर के विरुद्ध पाप क्योंकर करूं?

10 और ऐसा हुआ कि जब वह प्रतिदिन यूसुफ से बातें करती या, कि उस ने उसकी न सुनी, कि उसके पास लेट जाए, वा उसके संग रहे।

11 लगभग इसी समय यूसुफ अपके काम करने के लिथे भवन में गया; और उस में घर का कोई पुरूष न था।

12 और उस ने उसको उसके वस्त्र से पकड़कर कहा, मेरे संग सो; और वह अपना वस्त्र उसके हाथ में छोड़कर भाग गया, और उसे निकाल लिया।

13 और ऐसा हुआ कि जब उसने देखा, कि वह अपके वस्त्र उसके हाथ में छोड़कर भाग गई है,

14 तब उस ने अपके घर के पुरूषोंको बुलाकर उन से कहा, देखो, वह एक इब्री को हमारे पास ठट्ठा करने के लिथे हमारे पास ले आया है; वह मेरे पास सोने के लिथे मेरे पास आया, और मैं ऊंचे शब्द से पुकारा;

15 और ऐसा हुआ कि जब उस ने सुना, कि मैं ने ऊंचे शब्द से पुकारा, तब वह अपना वस्त्र मेरे पास छोड़ भागा, और उसे निकाल लिया।

16 और जब तक उसका स्वामी घर न आए, तब तक वह अपके वस्त्र अपके पास रखे रही।।

17 और उस ने उस से ये बातें कहीं, कि जिस इब्री दास को तू हमारे पास ले आया है, वह मेरा ठट्ठा करने के लिथे मेरे पास आया है;

18 और ऐसा हुआ कि जब मैं ने ऊंचे शब्द से चिल्लाकर पुकारा, कि वह अपना वस्त्र मेरे पास छोड़ कर भाग गया।

19 और जब उसके स्वामी ने अपक्की पत्नी की ये बातें सुनीं, जो उस ने उस से कहा या, कि तेरे दास ने मुझ से ऐसा ही किया या; कि उसका क्रोध भड़क उठा।

20 और यूसुफ के स्वामी ने उसको पकड़कर बन्दीगृह में, जहां राजा के बन्धुए थे, डाल दिया; और वह वहाँ कारागार में था।

21 परन्तु यहोवा यूसुफ के संग रहा, और उस पर दया की, और बन्दीगृह के रक्षक की दृष्टि में उस पर अनुग्रह किया।

22 और बन्दीगृह के रक्षक ने उन सब बन्दियोंको जो बन्दीगृह में थे, यूसुफ के हाथ में कर दिया; और जो कुछ उन्होंने वहां किया, वही उसका अध्यक्ष था।

23 बन्दीगृह के रक्षक ने किसी वस्तु की ओर दृष्टि न की जो उसके हाथ में थी; क्योंकि यहोवा उसके संग था, और जो कुछ उस ने किया, यहोवा ने उसको सुफल किया।

अध्याय 40

फिरौन का बटलर और पकाने वाला - यूसुफ उनके सपनों की व्याख्या करता है।

1 इन बातों के पश्‍चात् मिस्र के राजा के बटानेवाले और उसके पकानेवाले ने अपके प्रभु मिस्र के राजा को ठेस पहुंचाई या।

2 और फिरौन अपके दो हाकिमोंपर, अर्थात् बटानेवालोंके प्रधानों, और पकानेवालोंके प्रधानोंपर क्रोधित हुआ।।

3 और उस ने उनको जल्लादोंके प्रधान के भवन के बन्दीगृह में, जिस स्थान पर यूसुफ बन्धा हुआ या, उस बन्दीगृह में रखा।

4 और जल्लादोंके प्रधान ने उन से यूसुफ को आज्ञा दी, और उस ने उनकी उपासना की; और उन्होंने वार्ड में एक मौसम जारी रखा।

5 और उन्होंने उन दोनों को एक स्वप्न देखा, अर्थात् एक एक रात में अपके अपके अपके अपके स्वप्न के अनुसार मिस्र के राजा के बटानेवाले और पकानेहारे, जो बन्दीगृह में बन्धे हुए थे, अपना-अपना स्वप्न देखा।

6 बिहान को यूसुफ उनके पास भीतर गया, और उन पर दृष्टि करके क्या देखा, कि वे उदास हैं।

7 और उस ने फिरौन के उन हाकिमोंसे जो उसके साथ उसके स्वामी के भवन की चौकियोंमें थे, पूछा, कि आज तुम इतने उदास क्योंहोते हो?

8 उन्होंने उस से कहा, हम ने एक स्वप्न देखा है, और उसका कोई व्याख्या करनेवाला नहीं। और यूसुफ ने उन से कहा, क्या व्याख्याएं परमेश्वर की नहीं हैं? मुझे उन्हें बताओ, मैं तुमसे प्रार्थना करता हूँ।

9 और प्रधान बटलर ने अपना स्वप्न यूसुफ को बताया, और उस से कहा, मेरे स्वप्न में क्या देख, मेरे साम्हने एक दाखलता है;

10 और दाखलता में तीन डालियां थीं; और मानो उस में कलियां निकलीं, और उसके फूल खिल उठे; और उसके गुच्छों से पके अंगूर निकले;

11 और फिरौन का कटोरा मेरे हाथ में था; और मैं ने अंगूरों को लेकर फिरौन के प्याले में दबा दिया, और वह कटोरा फिरौन के हाथ में कर दिया।

12 यूसुफ ने उस से कहा, इसका अर्थ यह है; तीन शाखाएं तीन दिन हैं;

13 तौभी तीन दिन के भीतर फिरौन तेरा सिर ऊंचा करके तुझे अपके स्यान में फेर दे; और फिरौन का कटोरा उसके हाथ में देना, जैसा उस पहिली रीति के अनुसार जब तू उसका बटलर था।

14 परन्तु जब तेरा भला हो, तब मुझ पर विचार कर, और मुझ पर कृपा करके फिरौन से मेरी चर्चा कर, और मुझे इस भवन से निकाल ले आ;

15 क्योंकि वास्तव में मैं इब्रानियोंके देश में से चुरा लिया गया हूं; और यहां भी मैं ने ऐसा कुछ नहीं किया, कि वे मुझे अखाड़े में डाल दें।

16 जब पकानेहारों के प्रधान ने देखा, कि उसका फल अच्छा है, तब उस ने यूसुफ से कहा, मैं भी स्वप्न में था, और क्या देखा, कि मेरे सिर पर सफेदी की तीन टोकरियां हैं;

17 और सबसे ऊपर की टोकरी में फिरौन के लिथे सब प्रकार के पके हुए मांस रखे थे; और पक्षियों ने उन्हें मेरे सिर पर की टोकरी में से खा लिया।

18 यूसुफ ने उत्तर देकर कहा, इसका अर्थ यह है; तीन टोकरियाँ तीन दिन की हैं;

19 तौभी तीन दिन के भीतर फिरौन तेरा सिर तुझ पर से उठाकर वृझ पर लटकाएगा; और पक्षी तेरा मांस तुझ में से खा जाएंगे।

20 और तीसरे दिन, जो फिरौन का जन्मदिन था, उस ने अपके सब कर्मचारियोंके लिथे जेवनार की; और उस ने अपने कर्मचारियोंमें बटलर और पकानेहारोंके प्रधान का सिर ऊंचा किया।

21 और उस ने मुख्य बटलर को फिर से उसके बटलर का काम दे दिया; और उस ने कटोरा फिरौन के हाथ में कर दिया;

22 परन्तु उसने पकानेवाले के प्रधान को फाँसी पर चढ़ा दिया; जैसा कि यूसुफ ने उन्हें समझा था।

23 तौभी बटाने के प्रधान ने यूसुफ को स्मरण न किया, वरन उसे भूल गया।

अध्याय 41

फिरौन के दो स्वप्न—यूसुफ ने फिरौन को सम्मति दी—मनश्शे और एप्रैम।

1 पूरे दो वर्ष के बीतने पर फिरौन ने जो स्वप्न देखा, वह हुआ; और देखो, वह नदी के किनारे खड़ा है।

2 और क्या देखा, कि नदी में से सात सुहावनी गायें और मोटी-मोटी गायें निकलीं; और उन्होंने घास के मैदान में भोजन किया।

3 और देखो, उनके पीछे सात और गायें महानद में से निकलीं, जो कुटिल और दुबली थीं; और दूसरी गायों के पास नदी के किनारे खड़ा हो गया।

4 और दुबली और दुबली गायों ने उन सात सुहावनी और मोटी गायों को खा लिया। सो फिरौन जाग उठा।

5 और वह सो गया और दूसरी बार स्वप्न देखा; और क्या देखा, कि एक ही डंठल पर सात अच्छी बालियां निकलीं, जो अच्छी और अच्छी थीं।

6 और देखो, उनके पीछे सात पतले बाल और पुरवाई फूंक मारी गई।

7 और उन सात पतले कानों ने सात रैंक और भरे हुए कानों को खा लिया। तब फिरौन जाग उठा, और क्या देखा, कि वह स्वप्न है।

8 बिहान को ऐसा हुआ कि उसका मन व्याकुल हो उठा; और उस ने मिस्र के सब जादूगरों, और सब पण्डितोंको बुलवा भेजा, और बुलवा भेजा; और फिरौन ने उन्हें अपना स्वप्न बताया; परन्‍तु फिरौन को उनका अर्थ बताने वाला कोई न था।

9 तब बटाने वाले प्रधान ने फिरौन से कहा, मुझे अपके दोष आज के दिन स्मरण आते हैं;

10 फिरौन अपके कर्मचारियोंसे क्रोधित हुआ, और मुझे और पकानेहारोंके प्रधान को जल्लादोंके घराने के प्रधान के हाथ में कर दिया;

11 और हम ने एक ही रात में स्वप्न देखा, मैं और वह; हम ने प्रत्येक मनुष्य को उसके स्वप्न के अर्थ के अनुसार स्वप्न देखा।

12 और हमारे संग एक जवान इब्री या, जो जल्लादोंके प्रधान का दास या; और हम ने उस से कहा, और उस ने हम को हमारे स्वप्नोंका अर्थ बताया; हर एक को उस ने अपने स्वप्न के अनुसार व्याख्या की।

13 और जैसा उस ने हम से समझा, वैसा ही हुआ; मुझे वह मेरे कार्यालय में बहाल कर दिया, और वह उसे फांसी पर लटका दिया।

14 तब फिरौन ने यूसुफ को बुलवा भेजा, और वे उसे फुर्ती से काल कोठरी से बाहर ले आए; और उस ने अपने बाल मुंड़ावाए, और अपने वस्त्र पहिने हुए, और फिरौन के पास आ गया।

15 फिरौन ने यूसुफ से कहा, मैं ने एक स्वप्न देखा है, और उसका फल देनेवाला कोई नहीं; और मैं ने तेरे विषय में यह कहते सुना है, कि तू स्वप्न का अर्थ समझ सकता है।

16 यूसुफ ने फिरौन को उत्तर दिया, कि यह मुझ में नहीं है; परमेश्वर फिरौन को शान्ति का उत्तर देगा।

17 फिरौन ने यूसुफ से कहा, अपके स्वप्न में देख, मैं महानद के तट पर खड़ा हुआ हूं;

18 और देखो, महानद में से सात मोटी-मोटी और सुहावनी गायें निकलीं; और वे घास के मैदान में भोजन करते थे;

19 और देखो, उनके पीछे और सात गायें निकलीं, जो कंगाल, और बहुत दुबली और दुबली दुबली थीं, जैसी कि मैं ने सारे मिस्र देश में बुराई के लिये कभी न देखी;

20 और दुबली गायों ने पहिली सात मोटी गायें खा लीं;

21 और जब उन्होंने उनको खा लिया, तब यह न मालूम होता था कि उन्होंने उन्हें खा लिया है; लेकिन वे अभी भी बदकिस्मत थे, जैसा कि शुरुआत में था। तो मैं जाग गया।

22 और मैं ने स्वप्न में देखा, कि एक ही डंठल के सात अच्छे और भरे हुए सात बाल निकले;

23 और देखो, उनके पीछे सात बाल सूख गए, पतले और पुरवाई से फट गए;

24 और पतली बाल उन सातोंभली कानोंको खा गए; और यह मैं ने जादूगरों से कहा; परन्तु ऐसा कोई न था जो मुझे यह बता सके।

25 यूसुफ ने फिरौन से कहा, फिरौन का स्वप्न एक ही है; परमेश्वर ने फिरौन को दिखाया कि वह क्या करने जा रहा है।

26 वे सात अच्छी गायें सात वर्ष की हैं; और वे सात अच्छी बालें सात वर्ष की हैं; सपना एक है।

27 और उनके बाद जो सात दुबली और दुबली गायें निकलीं, वे सात वर्ष की हैं; और पुरवाई से फूंकी हुई सात बालियां सात वर्ष के लिये अकाल ठहरेंगी।

28 जो बात मैं ने फिरौन से कही है वह यह है; परमेश्वर जो करने जा रहा है, वह फिरौन को दिखाता है।

29 देखो, सारे मिस्र देश में सात वर्ष के बड़े बहुतायत से पाए जाते हैं;

30 और उनके बाद सात वर्ष का अकाल पड़ेगा; और मिस्र देश में सब कुछ भुला दिया जाएगा; और अकाल देश को भस्म कर देगा;

31 और उस अकाल के कारण उस देश में बहुतायत का पता न चलेगा; क्‍योंकि वह अति दु:खद होगा।

32 और फिरौन के लिये यह स्वप्न दुगना हो गया; यह इसलिए है क्योंकि यह बात परमेश्वर द्वारा स्थापित की गई है, और परमेश्वर शीघ्र ही इसे पूरा करेगा।

33 सो अब फिरौन एक बुद्धिमान और बुद्धिमान पुरूष को देख कर मिस्र देश पर अधिकारी ठहराए।

34 फिरौन ऐसा ही करे, और देश पर अधिकारी ठहराए, और सातोंवर्ष भर में मिस्र देश के पांचवें भाग पर अधिकार करे।

35 और जितने अच्छे वर्ष आनेवाले हैं, उन सभोंको वे बटोर लें, और अन्न फिरौन के हाथ में रखे, और अन्न नगरोंमें रखे।

36 और वह अन्न उस देश के लिये रखा जाए, जो उस अकाल के सात वर्ष के लिये रखा जाए, जो मिस्र देश में होगा; कि देश अकाल से नाश न हो।

37 और यह बात फिरौन और उसके सब कर्मचारियोंकी दृष्टि में अच्छी थी।

38 तब फिरौन ने अपके दासोंसे कहा, क्या हम को ऐसा कोई ऐसा पुरूष, जिस में परमेश्वर का आत्मा है, मिल सकता है?

39 फिरौन ने यूसुफ से कहा, परमेश्वर ने जो यह सब तुझे दिखाया है, उस में तेरे तुल्य बुद्धिमान और बुद्धिमान कोई नहीं;

40 तू मेरे भवन का अधिकारी होगा, और मेरी सारी प्रजा तेरे वचन के अनुसार प्रभुता करेगी; केवल सिंहासन में ही मैं तुझ से बड़ा रहूंगा।

41 फिरौन ने यूसुफ से कहा, सुन, मैं ने तुझे सारे मिस्र देश पर अधिकारी ठहरा दिया है।

42 तब फिरौन ने अपके हाथ से अँगूठी उतारकर यूसुफ के हाथ में पहिनी, और उसे उत्तम मलमल का पहिरावा पहिनाया, और उसके गले में सोने की जंजीर बान्धी;

43 और उस ने उसको अपके दूसरे रय पर सवार कराया; और वे उसके साम्हने चिल्लाए, घुटने टेके; और उस ने उसको मिस्र देश के सारे देश का अधिकारी ठहराया।

44 तब फिरौन ने यूसुफ से कहा, फिरौन मैं हूं, और सारे मिस्र देश में कोई तेरे बिना हाथ पांव न उठाएगा।

45 और फिरौन ने यूसुफ का नाम जपनाथपनेह रखा; और उसे ओन के याजक पोतीपेरा की बेटी आसनत को ब्याह दिया। और यूसुफ सारे मिस्र देश के ऊपर से निकल गया।

46 जब यूसुफ मिस्र के राजा फिरौन के साम्हने खड़ा हुआ, तब वह तीस वर्ष का या। और यूसुफ फिरौन के साम्हने से निकलकर सारे मिस्र देश में चला गया।

47 और पृय्वी के बहुतायत सात वर्षोंमें मुट्ठी भर पृय्वी उत्पन्न हुई।

48 और उस ने उन सात वर्ष की सारी अन्नवस्तु जो मिस्र देश में थी, बटोरकर नगरोंमें रखी; उस ने मैदान का भोजन जो सब नगरोंके चारोंओर था, उसी में रखा।

49 और यूसुफ ने अन्न को समुद्र की बालू के समान बहुत बटोर लिया, जब तक कि वह गिनती न छोड़े; क्योंकि वह बिना नंबर का था।

50 और अकाल के वर्ष के आने से पहिले यूसुफ के दो पुत्र उत्पन्न हुए; जो ओन के याजक पोतीपेरा की बेटी आसनत से उत्पन्न हुई थी।

51 और यूसुफ ने जेठे का नाम मनश्शे रखा; क्योंकि परमेश्वर ने कहा, उस ने मुझे मेरा सब परिश्रम, और मेरे पिता का सारा घराना भूला दिया है।

52 और दूसरे का नाम उस ने एप्रैम रखा; क्योंकि परमेश्वर ने मुझे मेरे दु:ख के देश में फलदायी ठहराया है।

53 और मिस्र देश में बहुतायत के सात वर्ष पूरे हुए।

54 और यूसुफ के कहने के अनुसार वे सात वर्ष के अभाव के होने लगे; और सब देशों में अकाल पड़ गया; परन्तु मिस्र के सारे देश में रोटी थी।

55 और जब मिस्र का सारा देश भूखा हो गया, तब लोगोंने फिरौन की दोहाई दी, कि वह रोटी मांगे; और फिरौन ने सब मिस्रियोंसे कहा, यूसुफ के पास जाओ; वह तुमसे क्या कहता है, करो।

56 और अकाल सारी पृय्वी पर छा गया; और यूसुफ ने सब भण्डार खोलकर मिस्रियोंके हाथ बेच दिया; और मिस्र देश में अकाल पड़ गया।

57 और सब देश मिस्र में अन्न मोल लेने के लिथे यूसुफ के पास आए; क्योंकि अकाल सब देशों में इतना भयानक था।

अध्याय 42

याकूब ने अपने दसों पुत्रों को मिस्र में अन्न मोल लेने को भेजा, वे यूसुफ के द्वारा बन्धुआई में हैं।

1 जब याकूब ने देखा, कि मिस्र में अन्न है, तब याकूब ने अपके पुत्रोंसे कहा, तुम एक दूसरे की ओर क्यों देखते हो?

2 उस ने कहा, सुन, मैं ने सुना है, कि मिस्र में अन्न है; वहां से उतर कर हमारे लिथे मोल ले लेना; कि हम जीवित रहें, मरें नहीं।

3 और यूसुफ के दस भाई अन्न मोल लेने को मिस्र देश गए।

4 परन्तु यूसुफ के भाई बिन्यामीन को याकूब ने अपके भाइयोंके संग न भेजा; क्‍योंकि उस ने कहा, ऐसा न हो कि उस पर अनर्थकारी विपत्ति आ पड़े।

5 और इस्राएली जो आए थे, उन से अन्न मोल लेने को आए; क्योंकि कनान देश में अकाल था।

6 और यूसुफ देश का अधिपति था, और वह देश के सब लोगोंको बेचा करता या; और यूसुफ के भाई आकर उसके साम्हने भूमि की ओर मुंह करके दण्डवत करने लगे।

7 तब यूसुफ ने अपके भाइयोंको देखा, और उनको पहिचान लिया, तौभी उन से पराया हो गया, और उन से कठोर बातें की; और उस ने उन से कहा, तुम कहां से आए हो? उन्होंने कहा, कनान देश से अन्न मोल लेने को।

8 और यूसुफ अपके भाइयोंको तो जानता था, परन्तु वे उसे न जानते थे।

9 और यूसुफ ने उन स्वप्नोंको जो उस ने उनके विषय में देखे थे स्मरण करके उन से कहा, तुम भेदिए हो; तुम इस देश की नग्नता देखने आए हो।

10 और उन्होंने उस से कहा, हे मेरे प्रभु, नहीं, परन्तु तेरे दास अन्न मोल लेने को आए हैं।

11 हम सब एक ही के पुत्र हैं; हम सच्चे आदमी हैं; तेरे दास भेदिए नहीं हैं।

12 उस ने उन से कहा, नहीं, परन्तु तुम देश की नग्नता देखने आए हो।

13 और उन्होंने कहा, कनान देश में तेरे दास बारह भाई हैं; और देखो, सबसे छोटा आज के दिन हमारे पिता के पास है, और एक नहीं है।

14 यूसुफ ने उन से कहा, जो मैं ने तुम से कहा, वह यह है, कि तुम भेदिए हो;

15 इस से तुम सिद्ध हो जाओगे; फिरौन के जीवन के द्वारा तुम आगे न जाना, जब तक कि तुम्हारा छोटा भाई यहां न आए।

16 अप में से एक को भेज, और वह अपके भाई को बुलवा ले, और तुम बन्दीगृह में रखे जाओगे, कि तेरी बातें सिद्ध हों, कि क्या तुझ में सच्चाई है; नहीं तो फिरौन के प्राण के द्वारा निश्चय तुम भेदिए हो।

17 और उस ने उन सभोंको तीन दिन तक इकट्ठी करके कोठरी में रखा।

18 तीसरे दिन यूसुफ ने उन से कहा, यह करो, और जीवित रहो; क्योंकि मैं परमेश्वर का भय मानता हूं;

19 यदि तुम सच्चे मनुष्य हो, तो अपके भाइयोंमें से एक अपके बन्दीगृह के घर में बन्धुआ हो; जा, अपके अपके घरानोंके अकाल के लिथे अन्न ले आ;

20 परन्तु अपके छोटे भाई को मेरे पास ले आओ; इस प्रकार तुम्हारे वचन सत्य हो जाएंगे, और तुम न मरोगे। और उन्होंने ऐसा किया।

21 और वे आपस में कहने लगे, कि अपके भाई के विषय में हम नि:सन्देह दोषी हैं, कि जब उस ने हम से बिनती की, तब हम ने उसके प्राण का संकट देखा, और उसकी न सुनी; इसलिए यह संकट हम पर आया है।

22 रूबेन ने उन को उत्तर दिया, कि मैं ने तुम से यह नहीं कहा, कि बालक के विरुद्ध पाप न करना; और तुम नहीं सुनोगे? इसलिए, देखो, उसके खून की भी आवश्यकता है।

23 और वे नहीं जानते थे, कि यूसुफ उन्हें समझता है; क्योंकि उस ने उन से दुभाषिए के द्वारा बातें कीं।

24 और वह उन से फिरकर रोने लगा; और फिर उनके पास लौटकर उन से बातें की, और उन से शिमोन को ले कर उनके साम्हने बान्धा।

25 तब यूसुफ ने आज्ञा दी, कि उनके बोरोंमें अन्न भरकर अपके अपके का रुपया उसके बोरे में फेर दे, और मार्ग के लिथे उनको भोजन दे; और उसने उनके साथ ऐसा किया।

26 और वे अपके गदहोंको अन्न से लता, और वहां से चल दिए।

27 और जब उन में से एक ने अपके गदहे को सराय में चराई देने के लिथे अपके बोरे को खोला, तब उस ने अपके रुपए का भेद लिया; क्‍योंकि देखो, वह उसके बोरे के मुंह में था।

28 और उस ने अपके भाइयोंसे कहा, मेरा रुपया फिर मिल गया; और देखो, वह मेरे बोरे में भी है; और उनका मन उदास हो गया, और वे डरकर आपस में कहने लगे, कि परमेश्वर ने हम से यह क्या किया है?

29 और वे अपके पिता याकूब के पास कनान देश में आए; और जो कुछ उन पर गिर पड़ा, वह सब उस को बता दिया; कह रही है,

30 उस मनुष्य ने जो देश का स्वामी है, हम से कठोर बातें कीं, और हम को देश के भेदिए समझ लिया।

31 और हम ने उस से कहा, हम तो सच्चे मनुष्य हैं; हम कोई जासूस नहीं हैं;

32 हम बारह भाई अपने पिता की सन्तान हैं; एक नहीं है, और सबसे छोटा आज के दिन कनान देश में हमारे पिता के पास है।

33 और उस देश के स्वामी ने हम से कहा, मैं इसी से जानूंगा, कि तुम सच्चे मनुष्य हो; अपके भाइयोंमें से एक को यहां मेरे पास छोड़, और अपके घराने के अकाल के लिथे भोजन ले, और चला जा;

34 और अपके छोटे भाई को मेरे पास ले आओ; तब मैं जान लूंगा कि तुम भेदिए नहीं हो परन्तु सच्चे मनुष्य हो; इस प्रकार मैं तेरे भाई को तुझे छुड़ाऊंगा, और तू देश में व्यापार करेगा।

35 और जब वे अपने अपने बोरे खाली कर रहे थे, तो क्या देखा, कि एक एक के बोरे में रुपयोंकी गट्ठी है; और जब वे और उनके पिता दोनों ने रुपयों की गठरी को देखा, तो वे डर गए।

36 और उनके पिता याकूब ने उन से कहा, तुम ने मेरे पुत्रोंको खो दिया है; यूसुफ नहीं है, और शिमोन नहीं है, और तुम बिन्यामीन को दूर ले जाओगे; ये सब बातें मेरे विरुद्ध हैं।

37 तब रूबेन ने अपके पिता से कहा, यदि मैं उसको तेरे पास न ले आऊं, तो मेरे दोनोंपुत्रोंको घात कर; उसे मेरे हाथ में कर दे, और मैं उसे फिर तेरे पास ले आऊंगा।

38 उस ने कहा, मेरा पुत्र तेरे संग न जाने पाएगा; क्‍योंकि उसका भाई मर गया, और वह अकेला रह गया है; जिस मार्ग में तुम जाते हो उस में यदि कोई विपत्ति आ पड़े, तो मेरे भूरे बालों को शोक के साथ अधोलोक में गिरा देना।

अध्याय 43

यूसुफ अपने भाइयों को जेवनार बनाता है।

1 और देश में अकाल पड़ा।

2 और ऐसा हुआ कि जब वे अन्न खा चुके, जिसे वे मिस्र से ले आए थे, तब उनके पिता ने उन से कहा, जा, हमारे लिये थोड़ी सी रोटी मोल ले।

3 और यहूदा ने उस से कहा, उस मनुष्य ने हम से यह कहकर विरोध किया, कि जब तक तेरा भाई तेरे संग न रहे, तब तक तुम मेरा दर्शन न पाओगे।

4 यदि तू हमारे भाई को हमारे संग भेजे, तो हम जाकर तेरे लिये भोजन मोल लेंगे;

5 परन्तु यदि तू उसे न भेजे, तो हम न उतरेंगे; क्योंकि उस ने हम से कहा, जब तक तेरा भाई अपके संग न रहे, तब तक तुम मेरे दर्शन न पाओगे।

6 इस्त्राएल ने कहा, तुम ने मुझ से ऐसा बुरा बर्ताव क्योंकर किया, कि उस पुरूष से कहो, कि क्या तुम्हारा कोई और भी भाई है?

7 उन्होंने कहा, उस ने हम से सीधे हमारी दशा और हमारे कुटुम्ब के विषय में पूछा, क्या तेरा पिता अब तक जीवित है? क्या तुम्हारे पास एक और भाई है? और हम ने उसे इन बातोंके अनुसार ही बता दिया; क्या हम निश्चय जान सकते थे कि वह कहेगा, अपके भाई को नीचे ले आ?

8 तब यहूदा ने अपके पिता इस्राएल से कहा, उस लड़के को मेरे संग भेज, तब हम उठकर जाएंगे; कि हम और तुम दोनों, और हमारे बाल-बालक भी जीवित रहें, और न मरें।

9 मैं उसके लिये निश्चिन्त रहूंगा; तू मेरे हाथ से उसकी मांग करेगा; यदि मैं उसे तेरे पास न लाकर तेरे साम्हने खड़ा करूं, तो वह दोष सदा के लिथे मुझ पर लगे रहे।

10 क्‍योंकि यदि हम देर न करते, तो निश्चय ही अब हम दूसरी बार लौट आए हैं।

11 और उनके पिता इस्राएल ने उन से कहा, यदि अभी ऐसा ही हो, तो यह करो; अपने पात्र में देश के उत्तम से उत्तम फल ले लो, और उस मनुष्य को भेंट, थोड़ा सा बाम, और थोड़ा सा मधु, सुगन्धि और गन्धरस, मेवा और बादाम ले जाना;

12 और अपके हाथ में दुगना धन ले लो; और जो रुपया तुम्हारे बोरों के मुंह में फिर लाया गया था, उसे फिर अपने हाथ में ले लो; peradventure यह एक निरीक्षण था।

13 अपके भाई को भी लेकर उस पुरूष के पास फिर जा;

14 और सर्वशक्तिमान परमेश्वर उस मनुष्य के साम्हने तुम पर दया करे, कि वह तुम्हारे दूसरे भाई और बिन्यामीन को विदा करे। यदि मैं अपने बच्चों से विमुख हूँ, तो मैं शोकित हूँ।

15 और उन पुरूषोंने उस भेंट को ले लिया, और अपके हाथ में बिन्यामीन को दूना रूपया ले लिया; और उठकर मिस्र को गया, और यूसुफ के साम्हने खड़ा हुआ।

16 और जब यूसुफ ने उनके साथ बिन्यामीन को देखा, तब उस ने अपके घराने के हाकिम से कहा, इन मनुष्योंको घर ले जाकर घात करके तैयार करना; क्योंकि ये लोग दोपहर को मेरे साथ भोजन करेंगे।

17 और उस पुरूष ने यूसुफ की आज्ञा के अनुसार किया; और वह पुरूष उन पुरूषोंको यूसुफ के घर में ले गया।

18 और वे पुरूष डर गए, क्योंकि वे यूसुफ के घर में लाए गए थे; और वे कहने लगे, जो रुपया हमारे बोरोंमें पहिले पहिले फेर दिया गया था, उसी के कारण हम भीतर लाए गए हैं; कि वह हमारे विरुद्ध अवसर ढूंढ़कर हम पर गिरे, और हम को दास और गदहे समझकर ले जाए।

19 और वे यूसुफ के घराने के भण्डारी के पास आकर भवन के द्वार पर उस से बातें करने लगे,

20 और कहा, हे श्रीमान, हम पहिले पहिले ही भोजन मोल लेने को आए हैं;

21 और जब हम सराय में पहुंचे, तब हम ने अपने बोरे खोले, और क्या देखा, कि एक एक मनुष्य का रुपया उसके बोरे के मुंह पर, और हमारा सारा रुपया भर गया है; और हम उसे फिर अपने हाथ में ले आए हैं।

22 और अन्न मोल लेने के लिथे हम ने और रुपए अपके हाथ में लाए हैं; हम यह नहीं बता सकते कि हमारे बोरे में पैसा किसने डाला।

23 उस ने कहा, तुझे शान्ति मिले, मत डर; तेरे परमेश्वर और तेरे पिता के परमेश्वर ने तेरे बोरोंमें तुझे धन दिया है; मेरे पास तुम्हारा पैसा था। और वह शिमोन को उनके पास बाहर ले आया।

24 तब वह पुरूष उन पुरूषोंको यूसुफ के घर में ले गया, और उन्हें जल पिलाया, और उन्होंने अपने पांव धोए; और उस ने उनके गदहोंको चिमटा दिया।

25 और दोपहर को उन्होंने यूसुफ के साम्हने भेंट तैयार की; क्‍योंकि उन्‍होंने सुना है कि उन्‍हें वहां रोटी खानी है।

26 और जब यूसुफ घर आया, तब वे भेंट जो अपके हाथ में थी उसको घर में ले आए, और अपके आप को भूमि पर दण्डवत किया।

27 और उस ने उन से उनका कुशल हाल पूछा, और कहा, क्या तुम्हारा पिता ठीक है, वह बूढ़ा जिसकी चर्चा तुम ने की थी? क्या वह अभी तक जीवित है?

28 उन्होंने उत्तर दिया, तेरा दास हमारा पिता स्वस्थ है, वह अब तक जीवित है। और उन्होंने सिर झुकाकर दण्डवत् किया।

29 तब उस ने आंखें उठाकर अपके मामा बिन्यामीन को देखा, और कहा, क्या यह तेरा छोटा भाई है, जिसके विषय में तू ने मुझ से कहा या? उस ने कहा, हे मेरे पुत्र, परमेश्वर तुझ पर अनुग्रह करे।

30 और यूसुफ ने फुर्ती से किया; क्योंकि उसके पेट में उसके भाई की लालसा थी; और वह ढूंढ़ रहा था कि कहां रोऊं; और वह अपक्की कोठरी में गया, और वहां रोया।

31 तब वह मुंह धोकर निकल गया, और ठहरकर कहा, रोटी परोस।

32 और वे उसके लिथे अपके अपके लिथे, और अपके अपके अपके लिथे, और मिस्रियोंके लिथे जो उसके साथ भोजन करते थे, अपके अपके साय चढ़ाई; क्योंकि मिस्री इब्रियों के संग रोटी न खाएंगे; क्योंकि वह मिस्रियोंके लिथे घृणित है।

33 और वे उसके साम्हने बैठ गए, अर्थात जेठा उसके पहिलौठे के अधिकार के अनुसार, और सबसे छोटा उसके जवानी के अनुसार; और वे पुरूष एक दूसरे को अचम्भा करते थे।

34 और उस ने अपके साम्हने से उनके पास मेस ले कर उनके पास भेज दिया; परन्तु बिन्यामीन का मेस उन से पांच गुणा अधिक था। और उन्होंने पिया, और उसके साथ आनन्द किया।

अध्याय 44

जोसेफ की नीति।

1 और उस ने अपके घर के भण्डारी को यह आज्ञा दी, कि मनुष्योंके बोरोंमें जितना वह ले जा सके, भर दे, और एक एक जन का रुपया उसके बोरे के मुंह में डाल दे,

2 और मेरा कटोरा चान्दी का कटोरा छोटे के बोरे के मुंह पर, और उसके अन्न के रुपए रख दे। और उस ने यूसुफ की कही हुई बात के अनुसार किया।

3 भोर होते ही वे पुरूष अपके गदहे समेत विदा हो गए।

4 और जब वे नगर से निकल गए या, और अभी दूर न थे तब यूसुफ ने अपके भण्डारी से कहा, उठ, उन मनुष्योंके पीछे हो ले; और जब तू उन्हें पकड़ ले, तब उन से कहना, कि तुम ने भलाई के बदले बुराई क्योंकी?

5 क्या यह वही नहीं है जिसमें मेरा प्रभु पीता है, और इसी से वह भविष्यद्वाणी करता है? तुम ने ऐसा करके बुरा किया है।

6 और उस ने उन्हें पकड़ लिया, और वही बातें उन से कही।

7 और उन्होंने उस से कहा, मेरे प्रभु ये बातें क्यों कहते हैं? परमेश्वर न करे कि तेरे दास इस काम के अनुसार करें;

8 देखो, वह रुपया जो हम ने अपने बोरोंके मुंह में पाया, वह कनान देश में तेरे पास फिर ले आया; फिर हम तेरे स्वामी के घर में से सोने की सोने की कली कैसे चुरा लें?

9 तेरे दासों में से जिस किसी के पास वह मिले वह मर जाए, और हम भी अपके प्रभु के दास ठहरेंगे।

10 उस ने कहा, अब तेरी बातोंके अनुसार हो; जिस के पास वह मिले वह मेरा दास हो; और तुम निर्दोष ठहरोगे।

11 तब उन्होंने फुर्ती से अपके अपके बोरे को भूमि पर उतार दिया, और अपके अपके अपके बोरे को खोल दिया।

12 तब उस ने ढूंढ़कर बड़े से आरम्भ किया, और छोटे से छोटा छोड़ दिया; और कटोरा बिन्यामीन के बोरे में मिला।

13 तब उन्होंने अपके अपके वस्त्र फाड़े, और अपके अपके गदहे को बटोरा, और नगर को लौट गए।

14 और यहूदा और उसके भाई यूसुफ के घर आए; क्योंकि वह अब तक वहीं था; और वे उसके साम्हने भूमि पर गिर पड़े।

15 यूसुफ ने उन से कहा, तुम ने यह क्या काम किया है? क्या तुम नहीं जानते थे कि ऐसा आदमी जिसे मैं निश्चित रूप से ईश्वरीय कर सकता हूं?

16 और यहूदा ने कहा, हम अपके प्रभु से क्या कहें? हम क्या बोलें या हम खुद को कैसे साफ करेंगे? परमेश्वर ने तेरे दासोंके अधर्म का पता लगाया है; देख, हम दोनों अपने प्रभु के दास हैं, और वह भी जिसके पास कटोरा है।

17 उस ने कहा, परमेश्वर न करे कि मैं ऐसा करूं; परन्तु जिस मनुष्य के हाथ में कटोरा मिले वह मेरा दास हो; और तू कुशल से अपके पिता के पास अपके लिथे उठा।

18 तब यहूदा उसके पास आकर कहने लगा, हे मेरे प्रभु, अपके दास अपके प्रभु से एक बात कह, और तेरा कोप अपके दास पर न भड़के; क्योंकि तू फिरौन के समान है।

19 मेरे प्रभु ने अपके दासोंसे पूछा, तेरा कोई पिता वा भाई है?

20 और हम ने अपके प्रभु से कहा, हमारा एक पिता, और एक बूढ़ा, और उसके बुढ़ापे का एक बालक, एक छोटा सा है; और उसका भाई मर गया, और वह अपक्की माता के पास अकेला रह गया, और उसका पिता उस से प्रीति रखता है।

21 तब तू ने अपके दासोंसे कहा, उसको मेरे पास नीचे ले आ, कि मैं उस पर अपनी दृष्टि रखूं।

22 और हम ने अपके प्रभु से कहा, वह लड़का अपके पिता को छोड़ नहीं सकता; क्‍योंकि यदि वह अपके पिता को छोड़ दे, तो उसका पिता मर जाएगा।

23 और तू ने अपके दासोंसे कहा, जब तक तेरा छोटा भाई अपके संग न आए, तब तक मेरा मुख फिर न देखने पाएगा।

24 और ऐसा हुआ कि जब हम तेरे दास अपके पिता के पास पहुंचे, तब हम ने अपके प्रभु की बातें उसको बता दीं।

25 हमारे पिता ने कहा, फिर जा, और हमारे लिये थोड़ा सा भोजन मोल ले।

26 हम ने कहा, हम उतर नहीं सकते; यदि हमारा छोटा भाई हमारे संग रहे, तो क्या हम उतरेंगे; क्योंकि जब तक हमारा छोटा भाई हमारे संग न रहे, तब तक हम उस मनुष्य के साम्हने न देख पाएंगे।

27 और तेरे दास मेरे पिता ने हम से कहा, तुम जानते हो, कि मेरी पत्नी से मेरे दो पुत्र उत्पन्न हुए;

28 और वह मेरे पास से निकल गया, और मैं ने कहा, निश्चय वह टुकड़े-टुकड़े हो गया है; और मैंने उसे तब से नहीं देखा:

29 और यदि तुम इसे भी मुझ से ले लो, और उस पर विपत्ति आ पड़े, तो मेरे भूरे बालोंको शोक के साथ अधोलोक में गिरा देना।

30 सो अब जब मैं अपके पिता अपके दास तेरे दास के पास आऊं, और वह लड़का हमारे संग न रहे; यह देखकर कि उसका जीवन बालक के जीवन में बंधा हुआ है;

31 जब वह देखे, कि वह लड़का हमारे संग नहीं है, तब वह मर जाएगा; और तेरे दास अपके दास हमारे पिता के पक्के बाल अधर में डाल देंगे।

32 क्योंकि तेरा दास उस लड़के के लिथे अपके पिता के लिथे यह कहकर पक्की हो गया, कि यदि मैं उसको तेरे पास न लाऊं, तो अपके पिता का दोष सदा अपके पिता पर लगा रहूंगा।

33 इसलिथे अब मैं तुझ से बिनती करता हूं, कि तेरा दास उस लड़के के बदले मेरे प्रभु के दास बने रहे; और उस लड़के को अपके भाइयोंके संग ऊपर जाने दे।

34 क्‍योंकि मैं अपके पिता के पास क्‍योंकर जाऊं, और वह लड़का मेरे संग न रहे? कहीं ऐसा न हो कि मैं उस विपत्ति को देखूं जो मेरे पिता पर पड़ेगी।

अध्याय 45

यूसुफ अपने भाइयों के बारे में जाना जाता है - वह अपने पिता के लिए भेजता है - याकूब समाचार के साथ पुनर्जीवित होता है।

1 तब यूसुफ उन सभोंके साम्हने जो उसके पास खड़े थे, ठहर न सका; और वह चिल्लाया, हर एक को मेरे पास से निकल जाने दे। और उसके साय कोई पुरूष न खड़ा रहा, जब तक यूसुफ ने अपके भाइयोंके साम्हने अपने को प्रगट किया।

2 और वह ऊँचे स्वर से रोया; और मिस्रियों और फिरौन के घराने ने सुना।

3 तब यूसुफ ने अपके भाइयोंसे कहा, मैं यूसुफ हूं; क्या मेरे पिता अभी तक जीवित हैं? और उसके भाई उसे उत्तर न दे सके; क्योंकि वे उसके साम्हने व्याकुल थे।

4 तब यूसुफ ने अपके भाइयोंसे कहा, मेरे निकट आ, मैं तुझ से बिनती करता हूं। और वे पास आ गए। उस ने कहा, मैं तेरा भाई यूसुफ हूं, जिसे तुम ने मिस्र को बेच डाला था।

5 इसलिथे अब तुम उदास न हो, और न इस से क्रोधित हो, कि तुम ने मुझे यहां बेच डाला; क्योंकि परमेश्वर ने मुझे तुम्हारे आगे जीवन की रक्षा के लिथे भेजा है।

6 क्योंकि देश में दो वर्ष से अकाल पड़ा है; तौभी पांच वर्ष ऐसे होते हैं, जिन में न तो उपज होगी, और न कटनी होगी।

7 और परमेश्वर ने मुझे तेरे आगे आगे भेज दिया, कि पृय्वी पर तेरे वंश की रक्षा करूं, और तेरे प्राणोंके बड़े छुटकारे के द्वारा उद्धार करूं।

8 सो अब मुझे यहां भेजने वाले तुम नहीं, परन्तु परमेश्वर थे; और उस ने मुझे फिरौन का पिता, और उसके सारे घर का स्वामी, और सारे मिस्र देश में प्रधान ठहराया है।

9 फुर्ती से मेरे पिता के पास जाकर उस से कहना, तेरा पुत्र यूसुफ यों कहता है, परमेश्वर ने मुझे सारे मिस्र का स्वामी ठहराया है; मेरे पास नीचे आओ, रुको मत;

10 और तू गोशेन देश में रहना, और अपक्की सन्तान, और अपक्की सन्तान, और भेड़-बकरी, गाय-बैल, और जो कुछ तेरा है, सब मेरे निकट रहना;

11 और मैं वहीं तेरा पालन-पोषण करूंगा; क्योंकि अब भी पांच वर्ष का अकाल है; ऐसा न हो कि तू और तेरा घराना, और जो कुछ तेरा है वह सब कंगाल हो जाए।

12 और देखो, तेरी आंखें और मेरे भाई बिन्यामीन की आंखें देखती हैं, कि वह मेरा मुंह है जो तुझ से बातें करता है।

13 और तुम मेरे पिता को मिस्र में मेरे सारे वैभव का, और जो कुछ तुम ने देखा है उस सब के विषय में बताना; और तुम फुर्ती से मेरे पिता को यहां ले आना।

14 और वह अपके भाई बिन्यामीन के गले से लिपट कर रोने लगा; और बिन्यामीन उसके गले से लिपट कर रोया।

15 फिर उस ने अपके सब भाइयोंको चूमा, और उन पर रोया; और उसके बाद उसके भाइयोंने उस से बातें कीं।

16 और उसकी कीर्ति फिरौन के घराने में यह कहते हुए सुनाई दी, कि यूसुफ के भाई आ गए हैं; और इस से फिरौन और उसके कर्मचारी प्रसन्न हुए।

17 फिरौन ने यूसुफ से कहा, अपके भाइयोंसे कह, कि यह करो; अपके पशुओं को लाद कर कनान देश में ले चल;

18 और अपके पिता और अपके घरानोंको लेकर मेरे पास आओ; और मैं मिस्र देश की भलाई तुझे दूंगा, और तू उस देश की चरबी खाएगा।

19 अब तू ने यह आज्ञा दी है, कि यह करो; अपके बालबच्चोंऔर पत्नियोंके लिथे मिस्र देश से गाडिय़ां ले, और अपके पिता को ले आ, और आ।

20 और अपके सामान पर ध्यान न देना; क्योंकि मिस्र देश की सारी भलाई तेरी ही है।

21 और इस्राएलियोंने वैसा ही किया; और यूसुफ ने फिरौन की आज्ञा के अनुसार उन्हें गाडिय़ां दी, और मार्ग के लिथे भोजन दिया।

22 उस ने उन सभोंको अपके अपके अपके अपके अपके अपके वस्त्र दिए; परन्तु बिन्यामीन को उस ने चान्दी के तीन सौ टुकड़े, और पांच जोड़े वस्त्र दिए।

23 और उस ने अपके पिता के पास इस रीति से दूत भेजे; दस गदहे मिस्र की उत्तम वस्तुओं से लदी हुई हैं, और दस गदहे उसके पिता के लिये मार्ग में अन्न, रोटी और मांस से लदी हुई हैं।

24 तब उस ने अपके भाइयोंको विदा किया, और वे चले गए; और उस ने उन से कहा, देखो, कहीं तुम मार्ग में न पड़ो।

25 और वे मिस्र से निकलकर कनान देश में अपके पिता याकूब के पास आए,

26 और उस से कहा, यूसुफ अब तक जीवित है, और वह सारे मिस्र देश का अधिपति है। और याकूब का मन मूर्छित हो गया, क्योंकि उस ने उन की प्रतीति न की।

27 और यूसुफ की सब बातें जो उस ने उन से कही थीं, वे सब उस को बता दीं; और जब उस ने उन गाडिय़ों को देखा, जिन्हें यूसुफ ने अपके ढोने के लिथे भेजा या, तब उनके पिता याकूब का प्राण फिर गया।

28 इस्राएल ने कहा, बस; मेरा पुत्र यूसुफ अब तक जीवित है; मरने से पहले मैं जाकर उसे देख लूंगा।

अध्याय 46

याकूब को शान्ति मिलती है — वह मिस्र में जाता है — अपने परिवार की संख्या — राहेल को केवल याकूब की पत्नी कहा जाता है — यूसुफ याकूब से मिलता है।

1 तब इस्राएल अपना सब कुछ लेकर अपके अपके पिता इसहाक के परमेश्वर के लिथे अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके परमेश्वर के लिथे अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके परमेश्वर के लिथे बलबबबय करके बेर्शेबा को आ।

2 और परमेश्वर ने रात के दर्शन में इस्राएल से कहा, हे याकूब, हे याकूब। उस ने कहा, मैं यहां हूं।

3 उस ने कहा, मैं तेरे पिता का परमेश्वर परमेश्वर हूं; मिस्र में न जाने का डर; क्योंकि मैं वहां तुझ से एक बड़ी जाति बनाऊंगा।

4 मैं तेरे संग मिस्र को चलूंगा; और मैं निश्चय तुझे फिर उठाऊंगा; और यूसुफ अपना हाथ तेरी आंखों पर रखे।

5 और याकूब बेर्शेबा से उठा; और इस्त्राएलियोंने अपके पिता याकूब, और अपके बालबच्चों, और अपक्की पत्नियोंको उन गाडिय़ोंपर जो फिरौन ने उसे ले जाने को भेजी या, ले गए।

6 तब वे अपक्की अपक्की गाय-बैल, और अपक्की अपक्की संपत्ति, जो कनान देश में उन्हें मिली या, ले कर मिस्र में आए;

7 उसके बेटे, और उसके बेटे-बेटे, और उसकी बेटियां, और उसके बेटे-बेटियां, और उसका सब वंश अपके संग मिस्र में ले आए।

8 और जो इस्राएली मिस्र में आए, उनके नाम ये हैं, अर्थात् याकूब और उसके पुत्र; रूबेन, याकूब का जेठा।

9 और रूबेन के पुत्रा; हनोक, और फल्लू, और हेस्रोन, और कर्म्मी।

10 और शिमोन के पुत्र; यमूएल, यामीन, ओहद, याकीन, और सोहर, और एक कनानी स्त्री का पुत्र शाऊल।

11 और लेवी के पुत्र; गेर्शोन, कहात और मरारी।

12 और यहूदा के पुत्र; एर, ओनान, शेला, फिरेस, और जराह; परन्तु एर और ओनान कनान देश में मर गए। और फिरेस का पुत्र हेस्रोन और हामूल थे।

13 और इस्साकार के पुत्र; तोला, फुवा, अय्यूब, और शिम्रोन।

14 और जबूलून के पुत्र; सेरेद, एलोन, और यहलील।

15 लिआ: के ये पुत्र हुए, जो उस ने पद्दनराम में याकूब से और उसकी बेटी दीना को उत्‍पन्‍न किया; उसके पुत्रों और पुत्रियों के सब जीव तैंतीस थे।

16 और गाद की सन्तान; सिप्योन, हग्गी, शूनी, एसबोन, एरी, अरोदी, और अरेली।

17 और आशेर के पुत्र; यिम्ना, यिशुआ, इसुई, बरीआ, और उनकी बहिन सेरा; और बरीआ के पुत्र; हेबेर, और मल्कील।

18 जिल्पा के ये पुत्र हुए, जिन्हें लाबान ने अपक्की बेटी लिआ: को दिया या; और याकूब से उसके सोलह जीव उत्‍पन्‍न हुए।

19 राहेल याकूब की पत्नी के पुत्रा; जोसेफ और बेंजामिन।

20 और मिस्र देश में यूसुफ से मनश्शे और एप्रैम उत्पन्न हुए, जो ओन के याजक पोतीपेरा की बेटी आसनत से उत्पन्न हुए।।

21 और बिन्यामीन के पुत्र बेला, बेकेर, अशबेल, गेरा, नामान, एही, रोश, मुप्पीम, हुप्पीम और अर्द थे।

22 राहेल के जो पुत्र उत्पन्न हुए वे ये हैं; सभी आत्माएं चौदह थीं।

23 और दान के पुत्र; हुशिम।

24 और नप्ताली के पुत्रा; यहजील, गूनी, याजेर, और शिल्लेम।

25 बिल्हा के जो पुत्र लाबान ने अपक्की बेटी राहेल को दिए थे वे ये हैं, और उस से याकूब के उत्पन्न हुए; सभी आत्माएं सात थीं।

26 याकूब के पुत्रों की पत्नियों को छोड़ जितने जीव याकूब के संग मिस्र में आए, वे सब साठ छ: जीव थे;

27 और यूसुफ के जो पुत्र मिस्र में उत्पन्न हुए, वे दो प्राणी थे; याकूब के घराने के जितने जीव मिस्र में आए, वे सब साठ दस थे।

28 और उस ने यहूदा को अपके आगे यूसुफ के पास भेज दिया, कि उसका मुख गोशेन की ओर करे; और वे गोशेन देश में आए।

29 तब यूसुफ ने अपना रथ तैयार किया, और अपके पिता इस्राएल से भेंट करने के लिथे गोशेन को गया, और अपके आप को उसके साम्हने उपस्थित हुआ; और वह उसके गले के बल गिर पड़ा, और बहुत देर तक उसके गले से लिपट कर रोता रहा।

30 तब इस्राएल ने यूसुफ से कहा, अब मैं मर गया, क्योंकि मैं ने तेरा मुख देखा है, क्योंकि तू अब तक जीवित है।

31 तब यूसुफ ने अपके भाइयोंऔर अपके पिता के घराने से कहा, मैं जाकर फिरौन को यह दिखाऊंगा, कि मेरे भाई और अपके पिता के घराने जो कनान देश में थे, मेरे पास आए हैं;

32 और वे पुरूष चरवाहे हैं, क्योंकि उनका काम पशुओं का चराना है; और वे अपक्की भेड़-बकरी, गाय-बैल, और अपना सब कुछ ले आए हैं।

33 और जब फिरौन तुझे बुलाकर कहे, तेरा काम क्या है?

34 और तुम यह कहना, कि हम, वरन हमारे पुरखा भी, हम, और हमारे पुरखा, हम से लेकर अब तक अपके दासोंके लिथे पशुओं का व्यापार करते आए हैं; कि तुम गोशेन देश में बसे रहो; क्‍योंकि सब चरवाहा मिस्रियोंके लिथे घृणित ठहरता है।

अध्याय 47

यूसुफ ने अपने पांच भाइयों और अपने पिता को फिरौन के सामने पेश किया - याकूब की उम्र - उसने यूसुफ को अपने पिता के साथ दफनाने की शपथ दिलाई।

1 तब यूसुफ ने आकर फिरौन से कहा, मेरा पिता और मेरे भाई, और उनकी भेड़-बकरियां, और गाय-बैल, और जो कुछ उनका है, वे सब कनान देश से निकल आए हैं; और देखो, वे गोशेन देश में हैं।

2 और उस ने अपके कुछ भाइयोंमें से पांच पुरूषोंको लेकर फिरौन के साम्हने दिया।

3 फिरौन ने अपके भाइयोंसे कहा, तेरा काम क्या है? और उन्होंने फिरौन से कहा, हम और हमारे पुरखा भी तेरे दास चरवाहे हैं।

4 उन्होंने फिरौन से और कहा, हम तो देश में परदेशी रहने के लिथे आए हैं; क्योंकि तेरे दासोंके पास भेड़-बकरियोंके लिथे कुछ चारा नहीं; क्योंकि कनान देश में अकाल पड़ा है; इसलिथे अब हम तुझ से बिनती करते हैं, कि तेरे दास गोशेन देश में रहें।

5 और फिरौन ने यूसुफ से कहा, तेरा पिता और तेरे भाई तेरे पास आए हैं;

6 मिस्र देश तेरे साम्हने है; देश के उत्तम भाग में अपके पिता और भाइयोंको बसा देना; वे गोशेन देश में रहें; और यदि तू उन में से किसी काम करनेवाले को जानता हो, तो उन्हें मेरे पशुओं पर प्रधान ठहरा।

7 तब यूसुफ ने अपके पिता याकूब को बुलवाकर फिरौन के साम्हने खड़ा किया; और याकूब ने फिरौन को आशीर्वाद दिया।

8 फिरौन ने याकूब से कहा, तेरी आयु क्या है?

9 याकूब ने फिरौन से कहा, मेरी यात्रा के वर्ष एक सौ तीस वर्ष के हैं; मेरे जीवन के वर्षों के दिन थोड़े और बुरे हुए हैं, और मेरे पुरखाओं की तीर्थ यात्रा के दिनों में उनके जीवन के दिन पूरे नहीं हुए।

10 और याकूब फिरौन को आशीर्वाद देकर फिरौन के साम्हने से निकल गया।

11 और यूसुफ ने अपके पिता और भाइयोंको रखा, और फिरौन की आज्ञा के अनुसार मिस्र देश के अच्छे से अच्छे देश में, जो रामसेस का देश है, उनका अधिकार उन्हें दे दिया।

12 और यूसुफ ने अपके पिता, और अपके भाइयों, और अपके पिता के सारे घराने का, अपके कुलोंके अनुसार रोटियोंसे पालन किया।

13 और सारे देश में रोटी न थी; क्योंकि अकाल बहुत भयंकर था, और मिस्र देश और कनान का सारा देश अकाल के कारण मूर्छित हो गया।

14 और यूसुफ ने मिस्र देश और कनान देश में जितने रुपए मोल लिए थे, उन सभोंको यूसुफ ने बटोर लिया; और यूसुफ रुपये को फिरौन के घर ले आया।

15 और जब मिस्र और कनान देश में रुपया न रहा, तब सब मिस्री यूसुफ के पास आकर कहने लगे, कि हमें रोटी दे; हम तेरे साम्हने क्यों मरें? पैसे के लिए विफल।

16 यूसुफ ने कहा, अपके पशु दो; और यदि रुपया न हो जाए, तो मैं तेरे पशुओं के लिथे तुझे दूंगा।

17 और वे अपके पशु यूसुफ के पास ले आए; और यूसुफ ने उन्हें घोड़ों, और भेड़-बकरियों, और गाय-बैलों, और गदहों के बदले में रोटी दी; और उस ने उस वर्ष के सब पशुओं के लिथे उनको रोटी खिलाई।

18 जब वह वर्ष पूरा हुआ, तब वे दूसरे वर्ष उसके पास आकर कहने लगे, कि हम अपके प्रभु से यह न छिपाएंगे, कि हमारा रुपया किस रीति से व्यय हुआ है; मेरे प्रभु के पास हमारे गाय-बैल भी हैं; मेरे प्रभु के साम्हने कुछ नहीं बचा, वरन हमारे शरीर और हमारे देश;

19 क्‍यों हम और अपके देश दोनों तेरी आंखोंके साम्हने मरें? हमें और हमारे देश को रोटी के लिथे मोल ले लेना, और हम और हमारा देश फिरौन के दास हो जाएंगे; और हमें बीज दे, कि हम जीवित रहें, और न मरें, ऐसा न हो कि देश उजाड़ हो जाए।

20 और यूसुफ ने मिस्र के सारे देश को फिरौन के लिथे मोल लिया; क्योंकि अकाल के कारण मिस्रियों ने अपके अपके खेत को बेच डाला; इस प्रकार भूमि फिरौन की हो गई।

21 और प्रजा के लिथे उस ने उनको मिस्र देश के सिवाने के एक छोर से ले कर दूसरे छोर तक नगरोंमें पहुंचा दिया।

22 केवल याजकों के देश को उस ने मोल नहीं लिया; क्योंकि याजकों ने फिरौन की ओर से उनको एक भाग दिया या, और उनका जो भाग फिरौन ने उन्हें दिया, वह खाया; इसलिए उन्होंने अपनी जमीन नहीं बेची।

23 तब यूसुफ ने लोगोंसे कहा, सुन, मैं ने आज के दिन तुझे और तेरे देश को फिरौन के लिथे मोल लिया है; देखो, तुम्हारे लिथे बीज यहां है, और तुम देश को बोओगे।

24 और वृद्धि में ऐसा होगा कि पांचवां भाग फिरौन को देना, और चार भाग मैदान के बीज, और अपके भोजन, और अपके घरानोंके लिथे, और खाने के लिथे अपके हो जाना। अपने छोटों के लिए।

25 उन्होंने कहा, तू ने हमारा प्राण बचाया है; हम अपके प्रभु के साम्हने अनुग्रह पाएं, और हम फिरौन के दास ठहरेंगे।

26 और यूसुफ ने मिस्र देश के विषय में यह नियम ठहराया, कि पांचवां भाग फिरौन का हो; केवल याजकों की भूमि को छोड़, जो फिरौन की नहीं हुई।

27 और इस्राएल मिस्र देश में गोशेन देश में रहने लगा; और उस में उनकी सम्पत्ति हो गई, और वे बढ़ते गए, और बहुत बढ़ते गए।

28 और याकूब मिस्र देश में सत्रह वर्ष जीवित रहा; इस प्रकार याकूब की पूरी आयु एक सौ सैंतालीस वर्ष की हुई।

29 और वह समय निकट आया, कि इस्राएल को मरना होगा; और उस ने अपके पुत्र यूसुफ को बुलाकर उस से कहा, यदि तेरे अनुग्रह की दृष्टि मुझ पर हो, तो अपना हाथ मेरी जांघ के नीचे रख, और मुझ से प्रीति और सच्चाई से व्यवहार कर; मिस्र में मुझे मिट्टी न देना;

30 परन्तु मैं अपके पुरखाओं के संग सोऊंगा, और तू मुझे मिस्र से निकाल ले जाएगा, और उनके कब्रिस्तान में मिट्टी देना। उस ने कहा, जैसा तू ने कहा है, मैं वैसा ही करूंगा।

31 उस ने कहा, मुझ से शपथ खा। और उस ने उस से शपय खाई। और इस्राएल ने अपने आप को बिस्तर के सिर पर झुकाया।

अध्याय 48

यूसुफ अपने बीमार पिता के पास जाता है - याकूब एप्रैम और मनश्शे को आशीर्वाद देता है - वह कनान में उनके लौटने की भविष्यवाणी करता है।

1 इन बातों के पश्‍चात् यूसुफ को यह समाचार मिला, कि सुन, तेरा पिता रोगी है; और वह अपके दो पुत्रों, मनश्शे और एप्रैम को संग ले गया।

2 और याकूब को यह समाचार मिला, कि देख, तेरा पुत्र यूसुफ तेरे पास आ रहा है; और इस्राएल ने अपने आप को दृढ़ किया, और खाट पर बैठ गया।

3 याकूब ने यूसुफ से कहा, कनान देश के लूज में सर्वशक्तिमान परमेश्वर ने मुझे दर्शन देकर आशीष दी,

4 और मुझ से कहा, देख, मैं तुझे फुलाऊंगा, और तुझे बढ़ाऊंगा, यहोवा की यही वाणी है, और तुझ से बहुत लोग बनाऊंगा; और यह देश तेरे बाद तेरे वंश को सदा की निज भूमि के लिथे दे देगा।

5 और अब तेरे दोनों पुत्रोंमें से एप्रैम और मनश्शे, जो मेरे मिस्र देश में तेरे पास आने से पहिले तुझ से उत्पन्न हुए थे; देखो, वे मेरे हैं, और मेरे पितरोंका परमेश्वर उन पर आशीष देगा; रूबेन और शिमोन की नाईं वे भी आशीष पाएंगे, क्योंकि वे मेरे हैं; इस कारण वे मेरे नाम से पुकारे जाएंगे। (इसलिये वे इस्राएल कहलाते थे।)

6 और जो तेरा वंश उनके बाद उत्पन्न होगा वह तेरा ही ठहरे, और उनके निज भाग में गोत्रोंमें उनके भाइयोंके नाम पर रखा जाएगा; इसलिए वे मनश्शे और एप्रैम के गोत्र कहलाए।

7 याकूब ने यूसुफ से कहा, जब कनान देश के लूज में मेरे पितरोंका परमेश्वर मुझ को दिखाई दिया; उस ने मुझ से शपय खाई, कि वह मुझे, और मेरे वंश को, देश को सदा की निज भूमि देगा।

8 इसलिथे, हे मेरे पुत्र, उस ने तुझे अपके दास होने के लिथे उठाकर, मेरे घर को मृत्यु से बचाने के लिथे मुझे आशीष दी है;

9 अपके भाइयोंको अपनी प्रजा को उस देश में भयंकर अकाल से छुड़ाकर; इस कारण तेरे पितरों का परमेश्वर तुझे और तेरी कमर के फल को आशीष देगा, कि वे तेरे भाइयोंके ऊपर, और तेरे पिता के घराने के ऊपर आशीष पाएं;

10 क्योंकि तू प्रबल हो गया है, और तेरे पिता के घराने ने तेरे साम्हने दण्डवत की है, जैसा तुझे दिखाया गया था, जब तक कि तू अपके भाइयोंके द्वारा मिस्र में बिक न जाए; इस कारण तेरे भाई पीढ़ी से पीढ़ी तक तुझे दण्डवत करते रहेंगे, और तेरी कमर का फल युगानुयुग बना रहेगा;

11 क्योंकि तू मेरी प्रजा के लिथे ज्योति ठहरेगा, कि उन्हें उनकी बन्धुआई के दिनोंमें बन्धन से छुड़ाएगा; और जब वे पाप में दण्डवत् किए जाएं, तब उनका उद्धार करें।

12 और इसलिथे जब मैं पदान से आया, तब राहेल कनान देश में मेरे पास उसी मार्ग में मर गई, जिस में हम एप्रात को आने में थोड़ा ही दूर थे; और मैं ने उसको वहीं एप्रात के मार्ग में मिट्टी दी; वही बेथलहम कहलाता है।

13 तब इस्राएल ने यूसुफ के पुत्रोंको देखकर कहा, ये कौन हैं?

14 यूसुफ ने अपके पिता से कहा, वे मेरे पुत्र हैं, जिन्हें परमेश्वर ने मुझे इस देश में दिया है।

15 उस ने कहा, उनको मेरे पास ले आ, और मैं उन्हें आशीष दूंगा।

16 इस्त्राएल की आंखें युगोंसे ऐसी धुंधली पड़ गईं, कि वह चंगा न कर सका। और वह उन्हें अपने पास ले आया; और उस ने उन्हें चूमा, और उन्हें गले लगाया।

17 तब इस्राएल ने यूसुफ से कहा, मैं ने तेरे मुख का दर्शन करने का विचार न किया था; और देखो, परमेश्वर ने मुझे तेरा वंश भी दिखाया है।

18 और यूसुफ उनको अपके घुटनोंके बीच से निकाल ले आया, और अपके मुंह के बल भूमि पर दण्डवत् किया।

19 तब यूसुफ ने उन दोनोंको, अर्यात् एप्रैम को अपके दहिने हाथ से इस्राएल के बायें हाथ की ओर, और मनश्शे को अपके बाएं हाथ से इस्राएल के दहिने हाथ की ओर ले जाकर अपके पास ले लिया।

20 तब इस्राएल ने अपना दहिना हाथ बढ़ाकर एप्रैम के सिर पर जो छोटा या, और अपना बायां हाथ मनश्शे के सिर पर रखा, और उसके हाथ चतुराई से चलाए; क्योंकि मनश्शे जेठा था।

21 और उस ने यूसुफ को आशीर्वाद देकर कहा, हे परमेश्वर, जिस के साम्हने मेरे पुरखा इब्राहीम और इसहाक चलते थे, वह परमेश्वर जिस ने मुझे जीवन भर आज तक खिलाया है।

22 जिस दूत ने मुझे सब विपत्तियों से छुड़ाया, वह लड़कों को आशीष दे; और उन पर मेरा नाम और मेरे पुरखाओं का नाम इब्राहीम और इसहाक रखा जाए; और वे पृय्वी के बीच में बहुतायत में विकसित हों।

23 जब यूसुफ ने देखा, कि उसके पिता ने अपना दहिना हाथ एप्रैम के सिर पर रखा है, तब वह उसे अप्रसन्न हुआ; और उस ने अपके पिता का हाथ बढ़ाकर एप्रैम के सिर पर से मनश्शे के सिर तक कर दिया।

24 तब यूसुफ ने अपके पिता से कहा, हे मेरे पिता, ऐसा नहीं; इसके लिए पहलौठा है; अपना दाहिना हाथ उसके सिर पर रख।

25 और उसके पिता ने इन्कार करके कहा, हे मेरे पुत्र, मैं यह जानता हूं; वह भी प्रजा हो जाएगा, और वह भी महान होगा; परन्तु उसका छोटा भाई उस से बड़ा होगा, और उसका वंश बहुत सी जातियोंका हो जाएगा।

26 और उस ने उस दिन उन्हें यह कहकर आशीष दी, कि इस्राएल तुझ में यह कहकर आशीष देगा, कि परमेश्वर तुझे एप्रैम और मनश्शे के समान करे; और उस ने एप्रैम को मनश्शे के साम्हने खड़ा किया।

27 तब इस्राएल ने यूसुफ से कहा, सुन, मैं मर गया; परन्तु परमेश्वर तेरे संग रहेगा, और तुझे तेरे पितरोंके देश में फिर ले आएगा।

28 और जो भाग मैं ने अपक्की तलवार और धनुष से एमोरियोंके हाथ से छीन लिया, वह मैं ने तेरे भाइयोंसे अधिक तुझे दिया है।

अध्याय 49

याकूब अपने पुत्रों को आशीर्वाद देता है - वह मर जाता है।

1 तब याकूब ने अपके पुत्रोंको बुलाकर कहा, अपके अपके आप को इकट्ठी करो, कि मैं तुम से कहूं कि अंत के दिनोंमें तुम पर क्या क्या घटित होगा।

2 हे याकूब के पुत्रों, इकट्ठे होकर सुनो; और अपने पिता इस्राएल की सुनो।

3 रूबेन, तू मेरा पहलौठा, और मेरा पराक्रम, और मेरे बल का आदि है, और तू ही प्रताप, और पराक्रम का प्रताप है;

4 जल के समान अस्थिर, तू श्रेष्ठ नहीं होगा; क्योंकि तू अपके पिता की खाट पर चढ़ गया; तब तू ने उसे अशुद्ध किया; वह मेरे सोफे पर गया।

5 शिमोन और लेवी भाई हैं; उनके आवासों में क्रूरता के साधन हैं।

6 हे मेरे प्राण, तू उनके भेद में न आना; हे मेरे आदर, उनकी मण्डली के लिथे एक न हो; क्‍योंकि उन्हों ने अपके क्रोध में एक मनुष्य को घात किया, और अपक्की इच्छा से शहरपनाह खोद दी।

7 उनका कोप शापित हो, क्योंकि वह प्रचण्ड था; और उनका कोप, क्योंकि वह क्रूर था; मैं उन्हें याकूब में बांटूंगा, और इस्राएल में तितर-बितर करूंगा।

8 यहूदा, तू वह है जिसकी तेरे भाई स्तुति करेंगे; तेरा हाथ तेरे शत्रुओं के गले में रहेगा; तेरे पिता की सन्तान तेरे साम्हने दण्डवत् करेगी।

9 यहूदा सिंह की भेड़ का बच्चा है; हे मेरे पुत्र, अहेर में से तू उठ गया है; वह झुक गया, वह सिंह की नाईं बैठा, और बूढ़े सिंह की नाईं उसे कौन उठाएगा?

10 जब तक शीलो न आए, तब तक यहूदा में से राजदण्ड न छूटेगा, और न उसके पांवोंके बीच से कोई व्यवस्या देनेवाला हटेगा; और लोगों की भीड़ उसी के लिथे होगी।

11 अपके बछेड़े को दाखलता से, और गदहे के बच्चे को उत्तम दाखलता से बान्धा; उस ने अपके वस्त्र दाखमधु से, और अपके वस्त्र अंगूरोंके लोहू से धोए;

12 उसकी आंखें दाखमधु से लाल, और उसके दांत दूध से सफेद हों।

13 जबूलून समुद्र के गढ़ में निवास करेगा; और जहाजों का ठिकाना होगा; और उसका सिवाना सीदोन तक हो।

14 इस्साकार बलवन्त गदहा है, जो दो बोझों के बीच बैठा रहता है;

15 और उस ने देखा, कि विश्राम अच्छा है, और देश मनभावन है; और सहने के लिथे कंधा झुका, और भेंट के लिथे दास हो गया।

16 दान अपने लोगों का न्याय इस्राएल के गोत्रों में से एक के समान करेगा।

17 दान मार्ग का सर्प, और मार्ग में ऐसा योजक होगा, जो घोड़े की एड़ी को ऐसा डसता है, कि उसका सवार पीछे की ओर गिर जाए।

18 हे यहोवा, मैं तेरे उद्धार की बाट जोहता आया हूं।

19 गाद, एक दल उस पर चढ़ाई करेगा; परन्तु वह अन्त में विजयी होगा।

20 और आशेर में से उसकी रोटी मोटी हो, और वह राजसी लज्जा उत्पन्न करे।

21 नप्‍ताली एक खुला हुआ हिस्‍सा है; वह अच्छे शब्द देता है।

22 यूसुफ फलवन्त डाली है, वरन कुएं के पास की डाली भी डाली जाती है; जिसकी शाखाएँ दीवार पर दौड़ती हैं;

23 धनुर्धारियों ने उस पर बड़ा शोक किया, और उस पर गोलियां चलाईं, और उस से बैर रखा,

24 परन्तु उसका धनुष दृढ़ बना रहा, और उसके हाथ याकूब के पराक्रमी परमेश्वर के हाथ से दृढ़ किए गए; (वहां से चरवाहा, इस्राएल का पत्थर है;)

25 तेरे पिता के परमेश्वर की ओर से जो तेरी सहायता करेगा; और उस सर्वशक्तिमान की ओर से, जो तुझे ऊपर आकाश की, और नीचे की गहिरी की आशीषोंसे, और छाती और गर्भ की आशीषोंसे आशीष देगा;

26 तेरे पिता की आशीषें मेरे पुरखाओं की आशीषों से बढ़कर सदा की पहाड़ियों की छोर तक प्रबल हुई हैं; वे यूसुफ के सिर पर हों, और उसके सिर के मुकुट पर जो उसके भाइयों से अलग था।

27 बिन्यामीन भेड़िये की नाईं फाड़ा करेगा; बिहान को वह अहेर खाएगा, और रात को लूट को बांट लेगा।

28 ये सब इस्राएल के बारह गोत्र हैं; और यह यह है कि उनके पिता ने उन से कहा, और उन्हें आशीर्वाद दिया; हर एक ने अपनी-अपनी आशीष के अनुसार उन्हें आशीर्वाद दिया।

29 और उस ने उनको आज्ञा दी, और उन से कहा, मैं अपक्की प्रजा के लिथे मिलनेवाला हूं; मुझे मेरे पुरखाओं के संग उस गुफा में मिट्टी देना जो हित्ती एप्रोन के खेत में है,

30 उस गुफा में जो मकपेला के मैदान में है, जो मम्रे के साम्हने है, कनान देश में है, जिसे इब्राहीम ने हित्ती एप्रोन के खेत से मोल लिया, कि वह कबर का स्थान हो।

31 वहां उन्होंने इब्राहीम और उसकी पत्नी सारा को मिट्टी दी; वहाँ उन्होंने इसहाक और उसकी पत्नी रिबका को मिट्टी दी; और वहीं मैं ने लिआ: को मिट्टी दी।

32 मैदान और उस में की गुफा का मोल हेत के वंश से मोल लिया गया।

33 और जब याकूब अपके पुत्रोंको आज्ञा दे चुका, तब वह अपके पांव खाट पर चढ़ा, और प्रेत को छोड़ दिया, और अपके लोगोंमें जा मिला।

अध्याय 50

याकूब के लिए शोक - अंतिम संस्कार - यूसुफ अपने भाइयों को दिलासा देता है - वह भविष्यवाणी करता है - वह मर जाता है।

1 तब यूसुफ अपके पिता के मुंह के बल गिरकर उस पर रोया, और उसको चूमा।

2 और यूसुफ ने अपके सेवकोंको वैद्योंको आज्ञा दी, कि उसके पिता के सुगन्धद्रव्य में लिप्त हो; और वैद्योंने इस्राएलियोंके लिथे सुगन्धित किए।

3 और उसके चालीस दिन पूरे हुए; क्‍योंकि उन के दिन ऐसे ही पूरे हुए हैं, जिन में श्‍लेष्‍मांकित किया गया है; और मिस्री उसके लिये साठ दिन तक विलाप करते रहे।

4 और जब उसके शोक के दिन बीत गए, तब यूसुफ ने फिरौन के घराने से कहा, यदि अब मुझ पर तेरी दृष्टि पर अनुग्रह हो, तो फिरौन से कह, कि मैं तुझ से बिनती करता हूं,

5 मेरे पिता ने मुझे यह कहकर शपय खिलाई, कि मैं मर गया; मेरी कब्र में जो मैं ने कनान देश में अपने लिये खोदी है, वही मुझे मिट्टी देना। सो अब मुझे चढ़ाई करने दे, और अपके पिता को मिट्टी दे, तब मैं फिर आऊंगा।

6 फिरौन ने कहा, जा, और अपके पिता को उस शपय के अनुसार मिट्टी दे, जिस की उस ने तुझ से शपय खाई है।

7 और यूसुफ अपके पिता को मिट्टी देने को गया; और उसके संग फिरौन के सब कर्मचारी, और उसके घराने के पुरनिये, और मिस्र देश के सब पुरनिये चढ़ गए,

8 और यूसुफ का सारा घराना, और उसके भाई, और उसके पिता का घराना; वे केवल अपने बाल-बच्चों, और भेड़-बकरियों, और गाय-बैलों को ही गोशेन देश में छोड़ गए।

9 और उसके संग रथ और सवार भी चढ़ गए; और यह एक बहुत बड़ी कंपनी थी।

10 और वे अताद के खलिहान तक पहुंचे, जो यरदन के पार है; और वहां तेरा बड़ा और बहुत बड़ा विलाप हुआ; और उस ने अपके पिता के लिथे सात दिन तक विलाप किया।

11 और उस देश के रहनेवालोंने अर्यात् कनानियोंने अताद की भूमि पर विलाप देखकर कहा, यह तो मिस्रियोंके लिथे बड़ा शोक है; इस कारण उसका नाम हाबिल-मिस्रैम पड़ा, जो यरदन के पार है।

12 और उसके पुत्रों ने उस से वैसा ही किया जैसा उस ने उन को आज्ञा दी या;

13 क्‍योंकि उसके पुत्र उसे कनान देश में ले गए, और मकपेला के मैदान की उस गुफा में मिट्टी दी गई, जिसे इब्राहीम ने हित्ती एप्रोन के मम्रे के साम्हने मोल लेने के लिथे उस खेत के साथ मोल लिया था।

14 और यूसुफ अपके भाइयों समेत अपके पिता को मिट्टी देने के लिथे उसके सब संग मिस्र को लौट गया।

15 और जब यूसुफ के भाइयोंने देखा, कि उनका पिता मर गया है, तब वे कहने लगे, कि यूसुफ हम से बैर करने का साहस करेगा, और जो बुराई हम ने उस से की है, उन सभोंका वह हम से बदला भी लेगा।

16 और उन्होंने यूसुफ के पास यह कहला भेजा, कि तेरे पिता ने मरने से पहिले यह आज्ञा दी थी,

17 तब तुम यूसुफ से कहना, कि अपके भाइयोंके अपराध और उनके पाप को क्षमा कर; क्योंकि उन्होंने तुझ से बुराई की है; और अब हम तुझ से बिनती करते हैं, अपके पिता के परमेश्वर के दासोंका अपराध क्षमा कर। और जब वे उस से बातें कर रहे थे, तब यूसुफ रो पड़ा।

18 और उसके भाई भी जाकर उसके साम्हने गिर पड़े; और उन्होंने कहा, सुन, हम तेरे दास हैं।

19 यूसुफ ने उन से कहा, मत डर; क्योंकि क्या मैं परमेश्वर के स्थान पर हूं?

20 परन्‍तु तुम ने तो मेरे विरुद्ध बुरा सोचा; परन्‍तु परमेश्‍वर का अर्थ भलाई से था, कि आज के दिन बहुत से लोगों को जीवित बचाए।

21 सो अब तुम मत डरो; मैं तुम्हारा और तुम्हारे छोटों का पोषण करूंगा। और उस ने उनको शान्ति दी, और उन से प्रीति की बातें की।

22 और यूसुफ अपके पिता के घराने समेत मिस्र में रहने लगा; और यूसुफ एक सौ दस वर्ष जीवित रहा।

23 और यूसुफ ने एप्रैम की तीसरी पीढ़ी के बच्चों को देखा; और मनश्शे के पुत्र माकीर की सन्तान भी यूसुफ के घुटनों के बल पक्की हुई।

24 तब यूसुफ ने अपके भाइयोंसे कहा, मैं मरकर अपके पितरोंके पास चला जाता हूं; और मैं आनन्द से अपक्की कब्र पर जाता हूं। मेरे पिता याकूब का परमेश्वर तेरे संग रहे, कि तेरे दासत्व के दिनोंमें तुझे दु:ख से छुड़ाए; क्योंकि यहोवा ने मेरी सुधि ली है, और मैं ने यहोवा की यह प्रतिज्ञा पाई है, कि मेरी कमर के फल में से यहोवा परमेश्वर मेरी कमर में से एक धर्मी डाली उत्पन्न करेगा; और तेरे लिये जिसे मेरे पिता याकूब ने इस्राएल का नाम भविष्यद्वक्ता रखा है; (मसीहा नहीं जो शीलो कहलाता है;) और यह भविष्यद्वक्ता तेरे दासत्व के दिनों में मेरी प्रजा को मिस्र से छुड़ाएगा।

25 और ऐसा होगा कि वे फिर तितर-बितर हो जाएंगे; और एक डाली तोड़कर दूर देश में पहुंचाई जाएगी; तौभी जब मसीह आएगा तब वे यहोवा की वाचाओं में स्मरण की जाएंगी; क्योंकि वह उन पर अन्तिम दिनों में सामर्थ के आत्मा के द्वारा प्रगट होगा; और उन्हें अन्धकार से निकालकर उजियाले में ले आएगा; छिपे हुए अँधेरे से, और कैद से आज़ादी की ओर।

26 मेरा परमेश्वर यहोवा एक द्रष्टा खड़ा करेगा, जो मेरी कमर के फल का उत्तम ददर्शी ठहरेगा।

27 मेरे पुरखाओं का परमेश्वर यहोवा मुझ से यों कहता है, कि मैं तेरी कमर के फल में से एक उत्तम ददर्शी उत्पन्न करूंगा, और वह तेरी कमर के फल में बहुत बड़ा ठहरेगा; और मैं उस को आज्ञा दूंगा, कि वह अपके भाईयोंके लिथे तेरी उपज का काम करे।

28 और जो वाचाएं मैं ने तेरे पुरखाओं से बान्धी हैं, उन को वह उन को बताएगा; और जिस काम की आज्ञा मैं उसे दूं वह वही करेगा।

29 और मैं उसको अपक्की दृष्टि में बड़ा करूंगा, क्योंकि वह मेरा काम करेगा; और वह उसके समान महान होगा, जिसके विषय में मैं ने कहा है, कि हे इस्राएल के घराने, अपक्की प्रजा को मिस्र देश से छुड़ाने के लिथे मैं तेरे पास खड़ा करूंगा; मैं अपनी प्रजा को मिस्र देश से छुड़ाने के लिथे एक दशीं खड़ा करूंगा; और वह मूसा कहलाएगा। और वह इसी नाम से जानेगा कि वह तेरे घराने का है; क्योंकि वह राजा की बेटी द्वारा पाला जाएगा, और उसका पुत्र कहलाएगा।

30 और फिर मैं तेरी कमर के फल में से एक दशीं को खड़ा करूंगा, और उसे अपके वचन को तेरी सन्तान तक पहुंचाने का अधिकार दूंगा; और न केवल मेरे वचन को पूरा करने के लिए, यहोवा की यही वाणी है, परन्तु उन्हें मेरे वचन के प्रति आश्वस्त करने के लिए, जो अंत के दिनों में उनके बीच पहले ही निकल चुका होगा;

31 इसलिथे तेरी कमर का फल लिखे, और यहूदा की कमर का फल लिखे; और जो तेरी कमर के फल से लिखा जाएगा, और वह भी जो यहूदा की कमर के फल से लिखा जाएगा, वह सब मिलकर झूठे धर्मसिद्धान्तों के टलने, और विवाद करने, और उनके बीच मेल स्थापित करने तक बढ़ जाएगा। तेरी कमर का फल, और अन्त के दिनों में उन्हें उनके पुरखाओं का ज्ञान कराना; और मेरी वाचाओं के ज्ञान के लिए भी, यहोवा की यही वाणी है।

32 और वह निर्बलता में से उस समय बलवन्त हो जाएगा, जब मेरा काम मेरी सारी प्रजा के बीच में हो जाएगा, जो उन्हें, जो इस्राएल के घराने के हैं, अन्त के दिनों में फेर देंगे।

33 और उस दशीं को मैं आशीष दूंगा, और जो उसको नाश करना चाहते हैं, वे लज्जित होंगे; क्योंकि यह वचन मैं तुझे देता हूं; क्योंकि मैं पीढ़ी से पीढ़ी तक तुझे स्मरण करता रहूंगा; और उसका नाम यूसुफ रखा जाएगा, और वह उसके पिता के नाम पर होगा; और वह तुम्हारे समान होगा; क्योंकि जो कुछ यहोवा अपके हाथ से निकलेगा वह मेरी प्रजा का उद्धार करेगा।

34 और यहोवा ने यूसुफ से शपय खाकर कहा, कि वह अपके वंश को सदा सुरक्षित रखेगा, और कहा, कि मैं मूसा को जिलाऊंगा, और उसके हाथ में लाठी होगी, और वह मेरी प्रजा को इकट्ठी करेगा, और वह उनकी अगुवाई झुण्ड की नाई करेगा, और वह लाल समुद्र के जल को अपनी लाठी से मारेगा।

35 और वह न्याय करेगा, और यहोवा का वचन लिखेगा। और वह बहुत सी बातें न कहेगा, क्योंकि मैं अपके ही हाथ की उँगली से उसे अपनी व्यवस्या लिखूंगा। और मैं उसके लिथे एक प्रवक्ता ठहराऊंगा, और उसका नाम हारून होगा।

36 और जैसा मैं ने शपय खाई है, वैसा ही अन्तिम दिनोंमें भी तुझ से किया जाएगा। इसलिथे यूसुफ ने अपके भाइयोंसे कहा, परमेश्वर निश्चय तेरी सुधि लेगा, और तुझे इस देश से निकालकर उस देश में पहुंचा देगा, जिसकी उस ने इब्राहीम, और इसहाक और याकूब से शपय खाई थी।

37 और यूसुफ ने अपके भाइयोंसे और भी बहुत सी बातें पक्की की, और इस्त्राएलियोंसे यह शपय खाई, कि परमेश्वर निश्चय तेरी सुधि लेगा, और तुम मेरी हड्डियोंको वहां से उठा ले जाओगे।

38 सो यूसुफ एक सौ दस वर्ष का होकर मर गया; और उन्होंने उसका सुगन्धा लिया, और उसको मिस्र में एक ताबूत में रखा; और इस्त्राएलियोंके द्वारा उसको गाड़े जाने से बचाया गया, कि वह उठाकर अपके पिता के संग कब्र में रखा जाए। और इस प्रकार उन्होंने उस शपय को स्मरण किया जो उन्होंने उस से खाई थी।

शास्त्र पुस्तकालय:

खोज युक्ति

एक शब्द टाइप करें या पूरे वाक्यांश को खोजने के लिए उद्धरणों का उपयोग करें (उदाहरण के लिए "भगवान के लिए दुनिया को इतना प्यार करता था")।

scripture

अतिरिक्त संसाधनों के लिए, कृपया हमारे देखें सदस्य संसाधन पृष्ठ।